• If you are trying to reset your account password then don't forget to check spam folder in your mailbox. Also Mark it as "not spam" or you won't be able to click on the link.

Incest लुच्ची माँ और हरामी बेटे।

Ek number

Well-Known Member
6,963
15,156
173
हैलो दोस्तो मेरा नाम शिवानी हैं। और मैं एक राईटर हूँ, मैने कुछ बुक्स लिखी हैं जिस जो सेक्स से किसी भी तरहा से सम्बन्धित नहीं है। मैं अपनी बुक्स राईटिंग के लिए कुछ रिसर्च कर रही थी तो मुझे सेक्स स्टोरी के बारे मे पता चला। सुरू मे मुझे यह काफी अजीब लगा कि लोग एसा कुछ लिख रहे हैं और पढ़ रहे हैं। लेकिन धीरे धीरे मुझे भी यह पढ़ना अच्छा लगने लगा। और मैं रोज ये स्टोरी पढ़ने लगी। मुझे खास कर रिस्तो मे सैक्स वाली कहानीया ज्यादा अच्छी लगती है।

मैं अपने बारे में आप को बता दूं कि मेरा नाम शिवानी है। मेरी उम्र 28 साल हैं। मेरी शादी को 6 शाल हो चुके हैं। और मेरा 4 शाल का एक बेटा हैं। सेक्स स्टोरी पढ़ने का मुझ पर यह असर हुआ कि मुझे माँ बेटे से सम्बंधित कहानीयाँ पसन्द आने लगी। मैं अब जब भी अपने पती के साथ सैक्स करती हूँ तो मेरे बेटे के सहामने ही करती हूँ। ये मुझे बहुत मजा देता हैं। मेरा बेटा अभी ज्यादा तो सेक्स के बारे में नहीं जानता है। लेकिन उसे भी मुझे चुद्ते हुए देखने में मजा आता हैं। मेरे पती भी यह इन्जोय करते हैं। मैं जब अपने पती के ऊपर लेट कर धक्के मारती हूँ तो मेरा बेटा पीछे जा कर मेरी गाँड़ देखता हैं। उसे यह बहुत अच्छा लगता हैं। और मुझे भी यह बहुत ही मजा देता हैं।

खैर अब आती हूँ मैं अपनी कहानी की तरफ यह कहनी मेरे दिमाग कि उपज हैं। और माँ बेटो कि कहानी है इस कहानी के पात्र इस परकार हैं।

1-संजय

ये हैं इस परिवार के बड़े इन कि उम्र 40 साल हैं। और एक बिजनेस मैंन हैं। सैक्स के मामले में काफी मजबूत हैं। और काफी खुले विचारों के भी। इन के अपने की औरतों के साथ संबंध है। और पैसा देकर भी कई राते बितातें हैं। वैश्याओ के साथ। जहा तक अपनी पत्नी के साथ संबन्ध की बात है। उसके साथ भी सैक्स काफी अच्छा है। और अपनी पत्नी को भी काफी छूट देते है। यहा तक की अपनी पत्नी को किसी और के साथ सैक्स करते देखने में इन्हें काफी मजा आता हैं। इसी लिए ये अपनी पत्नी के साथ कई बार रात को क्लब जाते हैं शराब पीते हैं। और दूसरें मर्दों के साथ अपनी पत्नी को चुदवाते हैं। जिसमें इनहें और इनकी पत्नी दोनो को ही बहुत मजा आता हैं।

s2_2.jpg

2- सुगंधा

ये हैं संजय कि पत्नी नाम सुगंधा बेहद ही कामुक चंचल और होशयार औरत। दिखने में बला सी खूबसूरत, रंग गोरा लम्बाई 5 फूट 6 ईंच फिगर तो क्या ही गजब का हैं। चुच्ची 38 की कमर 26 की और गांड 38 कि बिल्कुल कसा हुआ शरीर। जितनी दिखने में कामुक उतनी ही अंदर से भी कामुक कोई मर्द इस को नजर भर देख भर ले इस की चूत से पानी आना शुरू हो जाता हैं। मर्दों को रिझाना और अपना अंग प्रदर्शन करना मानो इस का पसंदिदा काम हो। आज तक कई लोगों के साथ सेक्स चुकी हैं। जैसा पहलें बताया कई लोगों के साथ तो अपने पति के साहमने ही चुद चुकी हैं। शराब पीने के बाद तो मानो लण्ड चाहीए ही चाहीए किसी से भी चुद जाए अपने शरीर की आग को ठंडा करने के लिए। कभी कभी जब इस का पती घर पर नहीं होता था तो अपने यारों को घर पर भी बुला लेती थी। जी हा यार को ही नहीं यारों को यानी दो लण्ड एक साथ लेने का भी शोंक रखती हैं। सुगंधा लेकिन अब ऐसा नहीं करती हैं। अब इस के बेटे बड़े हो रहें हैं। इस लिए अब किसी को कम से कम घर तो नहीं बुलाती हैं।
7-21.jpg

3035277_47c630c_320x_.jpg

3- मोहित

ये हैं इन का बड़ा बेटा नाम मोहित माँ बाप के सारे गुण बेटे में कैसे नहीं होंगें। जितना सेक्स माँ और बाप में भरा हुआ ऊतना ही बेटे में भी हैं। हर समय लण्ड खड़ा रहता हैं। किसी ना किसी की चूत मिल जाए बस यही खयाल दिन रात रहता हैं। बड़े चुच्चे और गांण्ड वली औरते खास पसंद हैं। उम्र अभी सिर्फ 19 साल हैं। लेकिन किसी भी तरहा सैक्स के मामले में नौसिखिया नहीं हैं। पोर्न देखना सेक्स स्टोरी पढ़ना फेवरेट काम हैं। एक दो लड़की भी पटा कर चोद चुका हैं। बाप के पास पैसो कि कमी नहीं हैं। तो पैसे दे कर रंडीयो की भी चूत कई बार मार चुके हैं। दोनो भीई मिल कर। लण्ड का साईज 8 ईंच।
images

4-रोहित

ये हैं छोटा बेटा उम्र 18 साल दोनो भाईयों में सिर्फ एक साल का ही अंतर हैं। और हरकतों में भी कोई खास अंतर नहीं हैं। जितना हरामी बड़ा भाई उतना ही बड़ा हरामी छोटा भाई औरतो को चोदने का खास शौकीन किसी भी औरत के छेड़ने में और गांण्ड पर हाथ फेरने में बहुत मजा आता था। ज्यादातर हरकतें दोनों भाई मिल कर ही किया करतें थें लण्ड का साईज 7 ईंच अपने भाई से थोड़ा सा कम लेकिन किसी भी औरत को पागल करने के लिए काफी।
images
Nice start
 

sivani singh

New Member
41
76
19
हैलो दोस्तो मेरा नाम शिवानी हैं। और मैं एक राईटर हूँ, मैने कुछ बुक्स लिखी हैं जिस जो सेक्स से किसी भी तरहा से सम्बन्धित नहीं है। मैं अपनी बुक्स राईटिंग के लिए कुछ रिसर्च कर रही थी तो मुझे सेक्स स्टोरी के बारे मे पता चला। सुरू मे मुझे यह काफी अजीब लगा कि लोग एसा कुछ लिख रहे हैं और पढ़ रहे हैं। लेकिन धीरे धीरे मुझे भी यह पढ़ना अच्छा लगने लगा। और मैं रोज ये स्टोरी पढ़ने लगी। मुझे खास कर रिस्तो मे सैक्स वाली कहानीया ज्यादा अच्छी लगती है।

मैं अपने बारे में आप को बता दूं कि मेरा नाम शिवानी है। मेरी उम्र 28 साल हैं। मेरी शादी को 6 शाल हो चुके हैं। और मेरा 4 शाल का एक बेटा हैं। सेक्स स्टोरी पढ़ने का मुझ पर यह असर हुआ कि मुझे माँ बेटे से सम्बंधित कहानीयाँ पसन्द आने लगी। मैं अब जब भी अपने पती के साथ सैक्स करती हूँ तो मेरे बेटे के सहामने ही करती हूँ। ये मुझे बहुत मजा देता हैं। मेरा बेटा अभी ज्यादा तो सेक्स के बारे में नहीं जानता है। लेकिन उसे भी मुझे चुद्ते हुए देखने में मजा आता हैं। मेरे पती भी यह इन्जोय करते हैं। मैं जब अपने पती के ऊपर लेट कर धक्के मारती हूँ तो मेरा बेटा पीछे जा कर मेरी गाँड़ देखता हैं। उसे यह बहुत अच्छा लगता हैं। और मुझे भी यह बहुत ही मजा देता हैं।

खैर अब आती हूँ मैं अपनी कहानी की तरफ यह कहनी मेरे दिमाग कि उपज हैं। और माँ बेटो कि कहानी है इस कहानी के पात्र इस परकार हैं।

1-संजय

ये हैं इस परिवार के बड़े इन कि उम्र 40 साल हैं। और एक बिजनेस मैंन हैं। सैक्स के मामले में काफी मजबूत हैं। और काफी खुले विचारों के भी। इन के अपने की औरतों के साथ संबंध है। और पैसा देकर भी कई राते बितातें हैं। वैश्याओ के साथ। जहा तक अपनी पत्नी के साथ संबन्ध की बात है। उसके साथ भी सैक्स काफी अच्छा है। और अपनी पत्नी को भी काफी छूट देते है। यहा तक की अपनी पत्नी को किसी और के साथ सैक्स करते देखने में इन्हें काफी मजा आता हैं। इसी लिए ये अपनी पत्नी के साथ कई बार रात को क्लब जाते हैं शराब पीते हैं। और दूसरें मर्दों के साथ अपनी पत्नी को चुदवाते हैं। जिसमें इनहें और इनकी पत्नी दोनो को ही बहुत मजा आता हैं।

s2_2.jpg

2- सुगंधा

ये हैं संजय कि पत्नी नाम सुगंधा बेहद ही कामुक चंचल और होशयार औरत। दिखने में बला सी खूबसूरत, रंग गोरा लम्बाई 5 फूट 6 ईंच फिगर तो क्या ही गजब का हैं। चुच्ची 38 की कमर 26 की और गांड 38 कि बिल्कुल कसा हुआ शरीर। जितनी दिखने में कामुक उतनी ही अंदर से भी कामुक कोई मर्द इस को नजर भर देख भर ले इस की चूत से पानी आना शुरू हो जाता हैं। मर्दों को रिझाना और अपना अंग प्रदर्शन करना मानो इस का पसंदिदा काम हो। आज तक कई लोगों के साथ सेक्स चुकी हैं। जैसा पहलें बताया कई लोगों के साथ तो अपने पति के साहमने ही चुद चुकी हैं। शराब पीने के बाद तो मानो लण्ड चाहीए ही चाहीए किसी से भी चुद जाए अपने शरीर की आग को ठंडा करने के लिए। कभी कभी जब इस का पती घर पर नहीं होता था तो अपने यारों को घर पर भी बुला लेती थी। जी हा यार को ही नहीं यारों को यानी दो लण्ड एक साथ लेने का भी शोंक रखती हैं। सुगंधा लेकिन अब ऐसा नहीं करती हैं। अब इस के बेटे बड़े हो रहें हैं। इस लिए अब किसी को कम से कम घर तो नहीं बुलाती हैं।
7-21.jpg

3035277_47c630c_320x_.jpg

3- मोहित

ये हैं इन का बड़ा बेटा नाम मोहित माँ बाप के सारे गुण बेटे में कैसे नहीं होंगें। जितना सेक्स माँ और बाप में भरा हुआ ऊतना ही बेटे में भी हैं। हर समय लण्ड खड़ा रहता हैं। किसी ना किसी की चूत मिल जाए बस यही खयाल दिन रात रहता हैं। बड़े चुच्चे और गांण्ड वली औरते खास पसंद हैं। उम्र अभी सिर्फ 19 साल हैं। लेकिन किसी भी तरहा सैक्स के मामले में नौसिखिया नहीं हैं। पोर्न देखना सेक्स स्टोरी पढ़ना फेवरेट काम हैं। एक दो लड़की भी पटा कर चोद चुका हैं। बाप के पास पैसो कि कमी नहीं हैं। तो पैसे दे कर रंडीयो की भी चूत कई बार मार चुके हैं। दोनो भीई मिल कर। लण्ड का साईज 8 ईंच।
images

4-रोहित

ये हैं छोटा बेटा उम्र 18 साल दोनो भाईयों में सिर्फ एक साल का ही अंतर हैं। और हरकतों में भी कोई खास अंतर नहीं हैं। जितना हरामी बड़ा भाई उतना ही बड़ा हरामी छोटा भाई औरतो को चोदने का खास शौकीन किसी भी औरत के छेड़ने में और गांण्ड पर हाथ फेरने में बहुत मजा आता था। ज्यादातर हरकतें दोनों भाई मिल कर ही किया करतें थें लण्ड का साईज 7 ईंच अपने भाई से थोड़ा सा कम लेकिन किसी भी औरत को पागल करने के लिए काफी।
images

तो अब शुरू करते हैं। कहानीं कहानीं शुरू होती हैं जब दोनों बेटे बड़े हो रहे थें और सुगंघा और संजय का इस तरफ ज्यादा ध्यन नहीं था ये दोनों अपनी जवानी की मसती में ही चूर थें आए दिन कल्ब में जाना रंगरलिया मनाना शराब पीना और खुल कर सेक्स करना संजय और सुगंधा का मानो रोज का हि काम था। मोहित और रोहित बड़े हो गये हैं। एक कि उम्र 19 तो एक कि 18 हो गयी हैं। दोनों सभी चीजे समझने लगे हैं। यहा तक कि ये तो अपनी उम्र के बाकी बच्चों से चार कदम आगें हैं इसी उम्र तक गर्लफ्रेड़ बनाना सेक्स करना एक दूसरे के साथ अपनी गर्ल फ्रेड़ को शेयर करना ये सब हरकते कर चुके थे। तो सेक्स के मामले में अच्छी खासी डिर्गी प्राप्त कर चुके थे। यहा तक कि पैसे देकर कार्ल गर्स को बुलाकर सेक्स भी कई बार कर चुके हैं। दोनों पैसे कि कमी बाप के पास थी नहीं और दोनों बेटों को मूह मांगे पैसे भी घर से मिल जाया करतें थें। दोनों को ही अधिक उम्र कि औरते आज कल कि पतली दुबली लड़कियो के मुकाबले अधिक पसन्द थी। इस का कारण था उन औरतों को सेक्स में अधिक रूचि होना और दोनों के बड़े बड़े हथियारों को झेल पाना और औरतों के पास बड़ें बड़ें चुच्चे होना और इन दोनों की फेवरेट मोटी गांण्ड का होना। दोनों ही भाई औरतों की गांण्ड के खास दीवाने थे।
तो जीवन के दिन एसे हि कट रहें थें। दोंनो मियाँ बीवी अपनी अइयाशी में चूर थें। और दोनों बेटें भी कहीं ना कहीं सेक्स की तलास में लगें रहतें थे। एक दिन सुगंधा और संजय रात को क्लब में जाने का प्रोगराम बनातें हैं। रोहित और मोहित को कहतें हैं कि बेटा आज हमें किसी पर्टी में रात को बाहर जाना हैं तुम लोग खाना खा कर सो जाना हमें आने में देर हो जाएगीं। ये कोई नयी बात तो नहीं थी लेकिन अब दोनों बेटे अपने माँ बाप की ये हरकतें ज्यादा नोटिश करने लगें थे। जिसका सुगंधा और संजय पर कोई प्रभाव नहीं पड़ता था। रात को सुगंधा लाल रंग के गाउन पहन कर तईयार हो गई। ये गाउन वैसे तो फुल लैन्थ था। और सुगंधा के पैरों तक आ रहा था। लेकिन इस का गला काफी बड़ा था। जिस में सुगंधा के बड़े बड़े चुच्चे काफी हद तक नजर आ रहें थे।
03560f409406530.jpg

जैसे ही सुगंधा तैयार हो कर बाहर आई तो रोहित और मोहित ने उस के बड़ें बड़ें बूब्स देखे। तो रोहित बोला “वाओ माँ यू आर लुकिंग सो गार्जियस” अपने बेटों से इस तरह के कॉमपलिमेंट मिलना सुगंधा के लिए आम बात थी। तो वो भी मुस्कुराकर “थैंक्यू बेटा” बोलकर आगें जाने लगीं। लेकिन जब सुगंधा आगे चली तब इस ड्रेस की असली खासीयत सब ने देखी ये ड्रेस एक पैर से खुली हुई थी जिस से सुगंघा का एक पैर ऊपर तक नंगा दिखाई देता था।
8E8MG6OTPI5HO_lisa-ann-but-i-need-the-video-or-this-session.jpg

ये नजारा देख कर रोहित और मोहित दोनों ने एक दूसरें कि तरफ देखा और दोनों के मूहं से एक साथ निकला “वॉव” इस पर सुगंधा ने तो कोई खास ध्यान नहीं दिया लेकिन संजय यह सब ध्यान से देख रहा था। खैर संजय और सुगंधा घर से निकल गए। गाड़ी में बैठते ही संजय सुगंधा से बोला “लगता हैं हमारे बेटें अब जवान हो हैं।” सुगंधा ने पूछां “क्यो अचानक आज तुमहें ये ख्याल कहा से दिमाग में आ गयां।” तो संजय बोला “तुहें इस ड्रेस में देखकर दोनों कुछ ज्यादा ही खुश नजर आ रहे थें। और जब दोनों ने तुमहारी नंगी टांगे देखी तो दोनों की आखें फटी की फटी रह गयी और दोनों आहों भरने” यह कह कर संजय ने सुगंधा की नंगी टांग पर जांघों के पास हाथ रख कर हलके से दबा दिया। सुगंधा ने इस बात पर ज्यादा ध्यान नहीं दिया और बोली “क्या आप भी मुझे छेड़ने के नये नये बहानों लातें हों। वो दोनों अभी बच्चें हैं। और उन्हें अभी इस सब के बारें में नहीं पता हैं।” संजय यह सुन कर हसतें हुए बोला। “देख लो कहीं एसा ना हो कि तुम दोनों को बच्चें समझती रहों और वो दोनों काण्ड कर जाए।” इस पर दोनों मिया बीवी हसनें लगें और आगें बड़ गयें।

इधर घर पर दोनों भाई माँ बाप के जाते ही टीवी पर ब्लू फिल्म लगा कर देखने लगें। घर पर टीवी एक ही था। ट्राईंग हाल में और टीवी की बड़ी सक्रीन पर पार्न देखने का मौह्का कभी कभी मिलता जो दोनों भाई कभी मिस नहीं करना चाहतें थे। इस उम्र में पार्न देखने का अलग ही मजा होता हैं। दोनों भाई एक मिल्फ स्टार की पार्न देख रहें थें जिसके चुच्ची और गांण्ड काफी बड़े बड़े थे। बिल्कुल उनकी माँ की तरह। ये एक गैंग बैग पर्न थी। जिसमें वो मिल्फ स्टार दो लड़कों के बीच थी और दोनों लड़के उसे मिल कर चोद रहें थे। पार्न देखते हुए रोहित मोहित से बोला

रोहित- भाई माँ और पापा अपने जीवन को कितना इंजाय कर रहें हैं। आए दिन पार्टी करते हैं। शराब पीकर घर आतें हैं। और दोनों खुल कर मजा करतें हैं।

मोहित- खुल कर मजा करतें हैं। मतलब?

रोहित- अरें मतलब माँ के कपड़े बाहर जाते समय कितने मार्डन होते हैं। और आज तो.......

ये कहता हुआ रोहित एक दम से रूक गया।

मोहित- आज तो क्या?

रोहित- अरें कुछ नहीं मैं सोच रहा था पापा मम्मी घर पर नहीं हैं तो क्यो ना आज हम भी दो दो शराब के पैग मार लें। वैसे भी वो लोग तो रात को लेट ही आने वाले हैं।

दोनों भाई कभी कभी ड्रिंक किया करतें थे।

मोहित- कह तो तू ठीक रहा हैं। लेकिन अब लेने जाने का मन नहीं हैं।

रोहित- लेकिन भाई लेने जाने की जरूरत ही क्या हैं। पापा की वाईन की बोतलें रखी हैं। उसी में से मार लेते हैं। पापा के पास वैसे भी इतनी सारी बातल रखी रहती हैं। उनहें कौन सा पता चलने वाला हैं कि कितनी शराब कम है।

मोहित भी इस बात पर सहमत हो जाता हैं। और दोनों भाई वाईन की एक बोतल उठा लाते हैं। और एक एक पैग बना लेते हैं। दोनों एक ही घूंट में अपने अपने पैग खतम कर देते हैं। और कुछ नमकीन खा लेते हैं। दोनों ही शराब के मामले में अभी नौशिखिये ही थें। दोनो पैग पीने के बाद इधर उधर की कुछ बाते करने लगते हैं। फिर मोहित एक पैग और दोनो का बना देता हैं। दोनों भाई वो पैग भी पी जाते हैं। दो पैग पीने के बाद दोनों भाईयों को थोड़ा थोड़ा नशा होने लगता है। फिर मोहित टीवी में सर्च करता हैं। “मिल्फ पार्न इन रैड़ ड्रैस” ये देख कर रोहित को थोड़ी हैरानी होती हैं। और वो मोहित से पूछतहैं।

रोहित- क्या हुआ भाई मिल्फ रैड़ ड्रैस में ऐसा क्या सर्च किया।

मोहित- बस ऐसे ही मन किया तो कर लिया।

दोनों भाई एक पार्न देखने लगें जिसमें एक सेक्सी सी 40 साल की औरत एक रैड़ कर्लर की ड्रेस में थी। और धीरे धीरे अपने कपड़े उतार रही थी। जिसे देख कर दोनों भाईयों के लण्ड बहुत हार्ड हो चुके थें। इसी बीच दोनों भाई एक एक पैग और पी लेते हैं। जिससे तीन तीन पैग हो जाने के कारण अब दोनों को अच्छा खासा नशा भी होने लगा था। तभी रोहित कहता हैं।

रोहित- वैसे भाई रैड़ ड्रैस में लग तो आज माँ भी बहुत सैक्सी रहीं थी।

मोहित रोहित की ये बात सुन कर हँसने लगता हैं। और कहता है। “साले तू माँ के बारे में भी अब ऐसा सोचने लगा है। बहुत बड़ा हरामी हैं तु सच में।”

रोहित- बात तो ऐसे कर रहा हैं। जैसे तूने तो माँ को उस ड्रेस में देखा ही नहीं मैं देख रहा था जब तू भी माँ की नंगी टागों को घूर रहा था।

मोहित हँसते हुए- हाँ देख रहा था लेकिन जो चीज दिखाई देगी उसपर तो नजर जाएगी ही। इस में क्या बुराई हैं।

रोहित- मैने कहाँ कहा कि कुछ बुराई हैं। मैं तो कह रहा था। कि पापा के मजे हैं। जो इतनी सैस्सी वाईफ मिली उन्हें।

मोहित- हाँ ये तो हैं। पापा भी पूरा मजा लेते हैं। माँ के साथ।

रोहित- कैसे?

मोहित-अरें मतलब घूमना फिरना मजे करना शराब पीना और सेक्स भी दबाकर करतें होंगे दोनों।

रोहित- यार अगर मेरी वाईफ एसी सेक्सी होती तो मैं तो रोज जम कर चुदाई किया करता।

मोहित हँसते हुए- साले तुझे सच में नशा हो गया हैं। लगता हैं। माँ के बारें में ऐसी बाते कर रहा हैं।

रोहित- माँ है तो क्या हुआ है तो औरत ही और वो भी इतनी सेक्सी।

मोहित-हाँ यार सेक्सी तो बहुत हैं। सच कहु तो कभी कभी तो मेरा भी लण्ड खड़ा हो जाता हैं माँ को देखकर।

रोहित-हाँ मेरा भी यार, आज लो जब उनकी टाँगे और बूब्स देखे तो देखता ही रह गया। मन कर रहा था अभी कोई औरत मिल जाए चोदने के लिए तो मजा आ जाए।

मोहित- चल बाते बहुत हो गई अब चल कर ये बोतल वापसे अलमीरा में रख आते है जा कर।

दोनों भाई अलमारी में बोतल रखने के लिए जाते हैं अलमारी खोलते हैं। और मोहित अलमारी में तय जगहा पर बोतल रखने लगता हैं। उतने में रोहित अलमारी की एक ट्रार खोल देता है जिसमें उसकी माँ के कुछ पैंटी और ब्राँ रखे हुए थे। दोनों दाई उत्सुक्ता वस उनहे देखने लगतें है हाथ में उठा कर लेकिन दोनो ये देखकर हैरान रह जाते हैं। कि उनमें से एक भी साधारण सी पैंटी ब्राँ नहीं थी। सारी एक से एक स्टाईलिस्ट थी। ज्यादातर तो उस में टांग पैन्टी ही थी। और कुछ बेहद ही सैक्सी ब्राँ भी।
633be6ee47ce1d02e2355239-6-pack-sexy-floral-lace-g-string-thong.jpg
17302119_37192696_1000.jpg

रोहित और मोहित दोनो ही ये सब देख कर हैरान भी बहुत थे और बहुत ही ज्यादा उत्तेजित भी महशूस कर रहे थे। कि ये उनकी सैक्सी माँ पहनती होगी। ये सब देख कर दोनो के लण्ड खड़े हो गये और दोनो भाई उन पैन्टीयो को हाथ में लेकर उनहें चूत के पास आगे वाले हिस्से से अपनी ऊंगलियों से सहलाने लगें और अपने लण्ड को दूसरे हाथ से मसलने लगें। तभी अपने लण्ड को रगड़ते हुए रोहित बोला।

रोहित- भाई क्या ये सब पैंटिया हमारी माँ ही पहनती होगी।

मोहित- और कोई तो यहा आता नहीं हैं इनहें पहन्ने के लिए तो जाहिर सी बात हैं कि यह सब माँ कि ही हैं। लेकिन हैरानी की बात यह हैं कि इनमें से एक भी साधारण या पुरानी स्टाईल की पैंटी नहीं हैं। तो क्या माँ सिर्फ से ही पहनती है। मतलब घर में भी और जब माँ हमारे साथ होती हैं। तो भी क्या वो इन टांग पैंटियों में ही होती हैं।

यह विचार आते ही दोनों भाईयों कि जिसम में एक उत्तेजना सी दौड़ गई और दोनों भाई बड़ी तोजी से आपने अपने लंण्ड़ो को सहलाने लगें।

रोहित- लेकिन माँ तो घर पर ज्यादातर सूट और तंग पाजामी ही पहनती है। क्या उन के नीचे वह इन सैक्सी पैंटी और ब्राँ में होती होंगी। मैंने तो यह सब सिर्फ पॉर्न में ही देखा हैं। मेरी तो हमेशा से इच्छा हैं कि काश मैं किसी औरत को ईन पैंटियों में देखू और फिर उसे खूब दबा कर चोदूं।

मोहित- हाँ यार मन तो मेरा भी बहुत करता हैं। लेकिन क्या कर सकतें हैं असली मजा तो पापा का हैं।

यह कह कर मोहित अपनी माँ कि पैंटी को अपनी नाक के पास लेजाकर सुधने लगा और अपनी माँ कि पैन्टी से आ रही धीमी मगर मादक सुगंध लेने लगा। रोहित ने भी अपने भाई को यह करता देख यही किया और वह भी इस धीमी सुगंध में खो सा गया। तभी उन्हे कुछ मोहित को कुछ होश आया और वह पैंटी को वापस असमारी में रख कर रोहित को भी एसा ही करने को कहा और अलमारी बंद कर के दोनो भाई दो भाई वापस हॉल में आकर बैठ गयें। और फिर से पर्न देखने लगें। दोनों के लण्ड पूरी तरह से फूले हुए थे और दोनों भाई आज पहली बार अपनी ही माँ के ख्यालों में खोए हुए थें।

उधर बार का माहोल भी गरमाया हुआ था सुगंधा और संजय भी अच्छी खासी शराब पी चुके थे। और सुगंधा जो शराब पीने के बाद इतनी ज्यादा कामुख हो जाती थी कि किसी से भी चुदने के लिए तैयार है जाती थी। इस समय बोहत उत्तेजित हो चुकी थी और उसकी चूत भी बहुत गीली हो चुकी थी। वही बार में कुछ जवान लड़के शराब के नशें में नाच रहें थे और उनकी नजर सुगंधा पर ही थी। वो बार सुगंधा की तरफ इसारे किये जा रहे थे। कभी कोई आंख मारता तो कभी कोई उसकी तरफ किस का इसारा करता तो कभी कोई उसकी तरफ देख कर अपने होठों को दातों के नीचे दबा कर उसे अश्लील इसारे किये जा रहा था। सगंधा भी यह सब देख कर उत्तेजित हुए जा रही थी व उनकी हरकतों का जवाब मुस्कुरा कर दे रहीं थी। लेकिन वो ल़ड़के सुगंधा के पास आने की हिम्मत इस लिए नहीं जुटा पा रहें थें। क्योंकि वे जानते थे कि इसके साथ इसका पती भी हैं। संजय भी यह सब देख रहा था। और लड़को की समस्या को भी समझ रहा था। उसे भी इस खेल में हबुत मजा आ रहा था वह धीरे से सुगंधा को छेड़ता हुआ बोला “क्या हुआ लड़कों के पास जाने का मन कर रहा हैं क्या” यह सुन कर सुगंधा थोड़ा सा शरमा गयी लेकिन अपने जिसम की आग से मजबूर होकर बोली। “हाँ कर तो रहा है। लेकिन ये लड़के भी सिर्फ दूर से ही ईशारे किये जा रहें हैं। कोई नजदीक आने की हीम्मत ही नहीं कर रहा हैं।” तो संजय कहता हैं। कि

संजय-ये लड़के शायद मेरे यहा होने की वजह से हिम्मत नहीं जुटा पा रहें हैं। ठीक हैं मैं टायलेट होकर आता हूँ तुम मजे करों और यहां नंगी होकर खड़ी मत हो जाना बार में और भी बहुत शारे लोग हैं।

यह कह कर संजय हसने लगें। सुगंधा भी अपने पती की इस बात पर हंसने लगी और संजय वहां से उठ कर बाथरूम की तरफ जाने लगा। सुगंधा संजय के जाते ही उन लड़को की तरफ देखने लगी और उन्हें अपनी अदाओं से निमंत्रण देने लगीं।
images

यह देखकर ऊन लड़को का जोश भी बहुत बढ़ गया और उन 5 लड़कों में से 2 सुगंधा के पास आए और बड़े प्यार से सुगंधा से बोले “क्या हम आपके साथ ड़ास कर सकतें हैं।” सुगंधा को तो इसी चीज का इनंतजार था। संजय जो यह सब छिप के देख रहा था मन में सोचने लगा साला में जाने के बाद दो मिनट का भी इंतजार नहीं किया टूट पड़ें भेडिये माँस पर। सगंधा जैसे ही उन के साथ ड़ास फ्योल पर गई उन्में से एक लड़के ने बार मैनेजर के बोल कर ड़ांस फ्लोक की लाईटे डिम करा दी। लाईटे डिम कर दी गई लेकिन इतनी भी नहीं कि कोई उन्हें देख ना सकें बस इतनी की सुगंधा का ध्यान अब ज्यादा लाईट होने की वजहा से इधर उधर ना जाए सुगंधा तो पहले से ही नशे में और काम वासना के नशें में थी अब उन लड़कों ने भी देर ना करते हुए सुगंधा को घेर लिया और सब लोग शलो ड़ांस करने लगें। और एक एक कर सुगंथा के शरीर को छूने लगें सुगंधा ने किसी का कोई विरोध नहीं किया यह देख कर उनकी हिम्मत और ज्यादा बढ़ने लगी और एक लड़का सुगंधा के बिल्कुल पीछे चिपक गया और अपना लण्ड सुगंधा की गाण्ड पर रगड़ने लगा और एक लड़का आगे आकर सुगंधा के सीने से अपना सीना चिपका दिया और अपने होठ उसके होठ के बिल्कुल पास ले आया सुगंधा की चुच्ची उसके सीने से दबने लगी और उसकी उसके गाउन के खुले हुए हिस्से में हाथ डालकर उसकी टांगो से लेकर उसकी जांघों को सहलाना शुरू कर दिया। आगे वाले लड़के ने उसको धीरे धीरे होठों पर किस करना शुरू कर दिया यह सब देख माहोल बहुत ही गरम होता जा रहा था। सुगंधा भी अपना सईयम खोती जा रही थी। इसी बीच और लड़के भी अपने आप को काबू में ना रख सकें और सभी सुगंधा को चारो तरफ से घेर कर टच करने लगें। यह सब देखकर संजय को लगा कि यह सब तो सभी लोग देख लेंगे सुगंधा को वो अच्छी तरह से जानता था। उसे पता था कि सुगंधा एक बार गरम हो जाए तो वो कुछ भी नहीं देखेगी कि आस पास और हैं। और क्या चल रहा हैं। तो वह बार के मैनेजर के पास गया जो कि संजय से अच्छी तरह से परिचित था। क्योकि संजय इस क्लब का रेगुलर कस्टमर था और बहुत पैसे वाला भी था। इस लिए बार में उसकी बात खूब चलती थी। वह मैंनेजर से बोला कि ड़ास क्लोर की लाईट कुछ देर के लिए बेद कर दी जाए। मैनेजर बोला सर मैं यह कर तो सकता हूँ लेकिन सिर्फ 5 मिनट के लिए नहीं तो मेरी नौकरी पर बन चाएगी। संजय राजी हो गया और ड़ांनस क्लोर की लाईट 5 मिनट के लिए बंद कर दी गई अब उन 5 लड़को को और उनके बीच दबी सुगंधा को कोई नहीं देख सकता था। इस बात का अहसास होते ही वो पाँचों लड़के आपे के बाहर हो गये और सुगंधा को चारो तरफ से रगड़ने लगे 2 लड़के उसकी चुच्ची दबाने लगें कोई उसकी गाण्ड दबा रहा था तो कोई उसकी टांगो पर हाथ फेर रहा था तभी एक लड़के ने अपना हाथ उसके खुले हुए गाउन में से हाथ डालकर सीधा उसकी पेंटी के ऊपर उसकी चूत पर जा रखा जो कि बहुत गीली हो चुकी थी। गीली पेंटी और चूत का अहशास होते ही वह लड़का धीरे से बोला साली बहुत बड़ी रण्डी हैं। पूरी चीत गीली हो चुकी हैं इस की यह सुनते ही सभी लड़के जोस में आ गयें और बुरी तहर से सुगंधा को नेचने लगें। चुच्ची पे से गाउन खिसका कर उसकी चुच्ची नंगी कर दी गई। पैंटी साईड में कर के चूत में उगंली डाल दी और एक ने पीछे से उसकी गाण्ड में ऊंगली डाल दी। सुगंघा पागल हो गयी थी और जोर जोर से मोन करने लगी लेकिन म्यूजिक की तेज आवाज में इन पाँचो के अलावा कोई उसकी आवाज नहीं सुन सकरता था। तभी अचानक से ड़ांस फ्लोक की एक लाईट जला दी गई लाईट बहुत तेज तो नहीं थी लेकिन उन्हें देख पाने के लिए काफी थी बार के सभी लोग अपने इन्जाय में लगे थे किसी का ध्यान एकदम से उनपर नहीं गयां। लेकिन संजय की नजर वहीं थी उसने यह नजारा देखा उसके होश उड़ गये उसकी पत्नी पाँच लड़कों के बीच लगभग नंगी खड़ी थी कोई उनकी चुच्ची दबा रहा खा कोई उसकी चूत में ऊगंली कर रहा था। तो कोई उसकी गाँड में उगंली डाले हुए था। संजय का भी ये सब देख कर लण्ड तम्बू की तरह तन गया। लेकिन उसने यह सब रोकने में ही समझ दारी समझी। लाईट आने का अहसास होते ही वो लड़के भी सुगंधा से दूर होने लगें और झट पट उसके कपड़े ठीक कर दिए गए तभी संजय भी वहा पहुच गया सभी लड़के संजय को देखकर अलग हो गये और संजय सुगंधा का हाथ पकड़ कर वहा से दोबारा बार टेबल पर ले गया।

सुगंधा को तो बस अब सेक्स चाहीए था। वह संजय से बोली कि क्या हुआ आप मुझे वहा से ऐसे क्या ले आए तो संजय बोला “जानेमन यहा बार में कम से कम 100 से 150 लोग हैं अगर सभी को पता चल गया वहा क्या चल रहा था तो तेरी तो आज चूत का भोषड़ा बना ही देंगे साथ ही बदनामी होगी वो अलग। सुगंधा भी संजय की बात सुनकर कुछ होश में आई और मुस्कुराने लगी। तभी संजय और सुगंधा बार से निकल कर अपनी गाड़ी में गा गये। सुगंधा बहुत गरम थी अपने आप को रोक नहीं पा रही थी गाड़ी मे आते ही अपना गाउन उतार फेंका और अपनी चूत सहलाने लगी। संजय यह देख कर मुस्कुराने लगा। संजय को सुगंधा को सेक्स में तड़पते देखने में बहुत मजा आता था। सुगंधा अब अपना आपा खोती जा रही थी। और उसने अपनी पेंटी भी उतार फेंकी और अपनी चीत में उंगली करने लगी।
busty-lisa-ann-fingers-her-sha.jpg


और थोड़ी ही देर में कार की सीट पर घोड़ी बन गयी औकर अपनी गांड और चूत दोनो संजय की तरफ कर उनमें अपनी ऊगंलीया डालकर संजय को उकसाने लगी।
11439295_aged-woman-fingering-herself-5.jpg

संजय भी यह सब देखकर बहुत उत्तेजित था लेकिन वह जल्द से जल्द घर पहुचना चाहता था तो उसने गाड़ी चलाना शुरू कर दिया और सुगंधा कि इस हालत का मजा लेने लगा गाड़ी के शीशे काले थे तो कोई बाहर से उन्हें देख भी नहीं सकता था। जल्द ही दोनों घर पहुच गये संजय ने सुगंधा को कपड़े पहन्ने को कहा सुगंधा ने अपना गाऊन पहन लिया लेकिन जब वह पैंटी पहन्ने लगी तो संजय ने उस की पैंटी ले ली और उसे बिना पेंटी के ही अंदर जाने को कहा वह भी इस के लिए राजी ही थी।

घर के अन्दर का माहोल यह था कि मोहित और रोहित गाड़ी की आवज सुन कह जल्दी से टीवी बन्द कर के अपने रूप की तरफ भागें और एसे एक्ट करने लगे जैसे कब से सो रहें हो और अपने करमे का गेट थोड़ा सा खोलकर देखने लगें कि माँ पापा किस हालत में घर आए हैं। सुगंधा ने आदर आते ही संजय को पकड़ किया और उसके होठों को बुरी तकह चूमने लगी। संजय भी उसे बुरी तकह चूमने लगा दोनो एक दूसरे में पूरी तरह खो से गये थे। उन्हें बिल्कुल अहसास नहीं था कि वह अपने रूम में नहीं बल की बाहर हाँल में हैं। संजय सुगंधा की गाँड को दबाने लगा और एक हाथ से चुच्ची दबाने लगा सुगंधा भी अपनी चूत संजय के लण्ड पर कपड़ो के उपर से ही रगड़ने लगी। संजय ने तभी सुगंधा को अपनी गोद में उठाया और रूम में ले गया मोहित और रोहित का यह देखकर बुरा हाल था। संजय सुगंधा को रूम में ले जाते समय जो सुगंधा की पैंटी उसके हाथ में थी उसे बाहर हॉल में भूल गया। मोहित कि नजर जैसे ही उस पैटी पर गया वह भाग कर गया और वह पैंटी उठा ली और देखा वह पैंटी पूरी तरह से गीली थी। वो उस पैंटी को सूघने लगा। तभी रोहित ने वह पैंटी मांगी और माँ की चूत के साहमने से उसे चाटने लगा दोनो भाई बारी बारी उस गीली पैंटी को सूघने और चाटने लगे। इसी बीच कमरे में से सुगंधा के चुदने की और जोर जोर से चिल्लाने की और मॉन करने की आवाजे आने लगी। यह सब सुनकर और अपनी माँ की चूत के रस में भीगी पैंटी को सूघते और चाटते हुए दोनो भाई अपने लण्ड पैंट से बाहर निकाल के हिलाने लगे और सुगंघा कि आवाज और तेज होती गयी दोनो भाईयो के हाथ भी अपने अपने लण्ड पर और तेज चलते गये। इसी बीच सुगंधा और संजय झड़ गये और बाहर मोहित और रोहित ने भी लगभग साथ में ही अपना पानी निकाल दिया वासना का एक तूफान शान्त हुआ। दोनों भाई अपने रूम में जाकर सो गये।

आगे की कहानी अगले भाग में यहा तक कि कहानी कैसी लगी जरूर बताना और मैं सैक्स स्टोरी राईटिग में नयी हू कुछ गलती हो जाए तो माफ करना और कुछ स्टोरी के लिए आपके सुझाव हो तो जरूर देना। अगला पार्ट जलद ही।
 
Last edited:
Top