Thriller Yamdoot ki laaparwahi [Action, Thriller, Suspense] (Completed)

  • You need a minimum of 50 Posts to be able to send private messages to other users.
  • Register or Login to get rid of annoying pop-ads.

Mai iske sare updates kis trah du

  • Sabhi ek sath

    Votes: 2 100.0%
  • Har din ek update

    Votes: 0 0.0%

  • Total voters
    2
  • Poll closed .

Mayaviguru

Active Member
Messages
1,090
Reaction score
2,254
Points
144
This story is originally written by Chandan Singh Rathore..around 7-8years ago...i received this story from a friend of mine ...who wanted to post it here...
Before posting this story ..i read it personally...it's a complete story with a nice plot ..and description...i am going to post it here ..so you guys can also enjoy and share your valuable reviews..
Hope you guys like the updates
As i have all the updates...you guys can suggest me in which way i can update..it here

यह कहानी मूल रूप से चंदन सिंह राठौर द्वारा लिखी गई है...लगभग 7-8 साल पहले ... मुझे यह कहानी मेरे एक दोस्त से मिली ... जो इसे यहाँ पोस्ट करना चाहता था।
इस कहानी को पोस्ट करने से पहले .. मैं इसे व्यक्तिगत रूप से पढ़ा हूं ... यह एक अच्छी कहानी के साथ एक पूरी कहानी है ..... मैं इसे यहां पोस्ट करने जा रहा हूं .. आप लोग भी अपनी बहुमूल्य समीक्षाओं का आनंद और साझा कर सकते हैं .. आशा है कि आप लोगों को अपडेट पसंद आएगा जैसा कि मेरे पास सभी अपडेट हैं ... आप लोग मुझे सुझाव दे सकते हैं कि मैं किस तरीके से अपडेट कर सकता हूं..यहां पर

 

Asif khan

Well-Known Member
Messages
6,237
Reaction score
18,474
Points
143
Congreats for new thread
Butt bahi story Hindi main likhna
 

Mayaviguru

Active Member
Messages
1,090
Reaction score
2,254
Points
144
Ajj se chaar ya paanch saal pahale vaigyaanikon kee ek teem ne jameen ke andar aur 27 kilomeetar lambee mahaamasheen bana kar ek prayog karane kee koshish kee thee. vaigyaanikon ka daava tha ki is prthvee par jo mojood vastue hai, unaka 5 % hee hai dekh paate hai, mahasoos kar paate hai. baakee 95 % hamaare aasapaas hone ke baavajood bhee, ham unhen dekh nahin sakate, mahasoos nahin kar sakate. lekin us mahaamasheen ke proyog se un 95 % vastuon par jo rahasy ka jo parda hai, unase parda hat jaega, ham unake baare mein jaan sakenge. lekin vo prayog saphal hone se pahale hee vo mahaamasheen hee fail ho gaee...
main jo kahaanee readers ke saamane pesh kar raha hoon, ye bhee ek sachchee ghatana par aadhaarit hai. is kahaanee ka rahasy ant mein bataaya jaayega, taaki readers mein story padhane ki utsukata banee rahe. aur story pooree hone par us sachee ghatana ka jikr bhee kiya jaayega, jisase ye kahaanee prerit hai.
malooka indastree ke maalik malookadaas ka beta ajay apne company ke maneging director ka padabhaar grhan karane ke baad majadooron ke samaaroh ko sambodhit karate hue bol raha tha.

malooka industries ke karmachaariyon, aur majadoor bhaeeyo, aap sabhee kee mehanat kee badaulat hamaaree company dekhate hee dekhate jojaagadh shahar ki nambar van company ban gaee hai. aap sabhee ka is company ke lie samarpan dekh kar mein aapase vaada karata hoon ki aap sabhee ki chhotee se chhotee takaliph bhee meri takaliph hai. aur iske badale mein aapse ye umeed karata hu ki aap apne mehanat se is company ko tarakkee ke raaste par aage badhaate rahe taaki ham sabhee ka jeevan sahee tareeke se chalata rahe.
majadooro ka samaaroh samaapt hone ke baad malookadaas ka beta ajay apne company ke office ke cabin mein company ke kaam kaaj ke taur tareeke seekh raha tha. usake saath mein usakee patni sheetal bhee maujood thee
company ka ek majadoor jisaka naam bhee ajay hee tha, pichhale teen din se chhuttee par tha. kyonki usake paanch saal ke bete vicky ko bukhaar tha. majadoor ajay ke paas usake ilaaj ke lie ek rupaya bhee nahin tha. Company ke maalik se vah pahale hee advance le chuka tha. ab aur maangane ki usakee himmat nahin ho rahee thi..
lekin dar is baat ka bhee tha, ki agar sahee vakt par bachche ka ilaaj nahin karaaya to bachche ki jaan bhee ja sakatee hai. isliye himmat batoree aur ek baar phir maalik se advance lene ka phaisala kiya. apanee gharvali geeta aur bachche ko saath liya aur chal pada is ummeed mein ki agar maalik ne kuchh madad kar dee to vaheen se seedha hospital ja kar vicky ka ilaaj karaega. vah dabe kadamon se company ke gate mein pravesh karake company ke office mein ja kar muneem se mila.
 

Mayaviguru

Active Member
Messages
1,090
Reaction score
2,254
Points
144
Congreats for new thread
Butt bahi story Hindi main likhna
Bhai originally hindi font ki story hai mai use hinglish mai type kar ke post karne ki soch rha hu but agar aap ise hindi font mai chahte ho to bta do
 

Mayaviguru

Active Member
Messages
1,090
Reaction score
2,254
Points
144
आज से चार या पाँच साल पहले वैज्ञानिकों की एक टीम ने जमीन के अन्दर और 27 किलोमीटर लम्बी महामशीन बना कर एक प्रयोग करने की कोशिश की थी. वैज्ञानिकों का दावा था कि इस पृथ्वी पर जो मोजूद वस्तुए है, उनका 5 % ही है देख पाते है, महसूस कर पाते है. बाकी 95 % हमारे आसपास होने के बावजूद भी, हम उन्हें देख नहीं सकते, महसूस नहीं कर सकते. लेकिन उस महामशीन के प्रोयोग से उन 95 % वस्तुओं पर जो रहस्य का जो पर्दा है, उनसे पर्दा हट जाएगा, हम उनके बारे में जान सकेंगे. लेकिन वो प्रयोग सफल होने से पहले ही वो महामशीन ही फ़ैल हो गई.
मैं जो कहानी पाठको के सामने पेश कर रहा हूँ, ये भी एक सच्ची घटना पर आधारित है. इस कहानी का रहस्य अंत में बताया जायेगा, ताकि पाठको में कहानी पढ़ने कि उत्सुकता बनी रहे. और कहानी पूरी होने पर उस सची घटना का जिक्र भी किया जायेगा, जिससे ये कहानी प्रेरित है.
मलूका इंडस्ट्री के मालिक मलूकदास का बेटा अजय अपनी कंपनी के मेनेजिंग डायरेक्टर का पदभार गृहण करने के बाद मजदूरों के समारोह को संबोधित करते हुए बोल रहा था.
“मलूका इंडस्ट्री के कर्मचारियों, और मजदूर भाईयो, आप सभी की मेहनत की बदौलत हमारी कंपनी देखते ही देखते जोजागढ़ शहर कि नंबर वन कंपनी बन गई है. आप सभी का इस कंपनी के लिए समर्पण देख कर में आपसे वादा करता हूँ कि आप सभी कि छोटी से छोटी तकलीफ भी मेरी तकलीफ है. और इसके बदले में आपसे ये उमीद करता हु कि आप अपनी मेहनत से इस कंपनी को तरक्की के रास्ते पर आगे बढाते रहे ताकि हम सभी का जीवन सही तरीके से चलता रहे.
मजदूरो का समारोह समाप्त होने के बाद मलूकदास का बेटा अजय अपनी कंपनी के ऑफिस के केबिन में कंपनी के काम काज के तौर तरीके सीख रहा था. उसके साथ में उसकी बीवी शीतल भी मौजूद थी
कंपनी का एक मजदूर जिसका नाम भी अजय ही था, पिछले तीन दिन से छुट्टी पर था. क्योंकि उसके पाँच साल के बेटे विकी को बुखार था. मजदूर अजय के पास उसके इलाज के लिए एक रुपया भी नहीं था. कंपनी के मालिक से वह पहले ही एडवांस ले चुका था. अब और माँगने कि उसकी हिम्मत नहीं हो रही थी. लेकिन डर इस बात का भी था, कि अगर सही वक्त पर बच्चे का इलाज नहीं कराया तो बच्चे कि जान भी जा सकती है. इसलिए हिम्मत बटोरी और एक बार फिर मालिक से एडवांस लेने का फैसला किया. अपनी घरवाली गीता और बच्चे को साथ लिया और चल पड़ा इस उम्मीद में कि अगर मालिक ने कुछ मदद कर दी तो वहीँ से सीधा अस्पताल जा कर विकी का इलाज कराएगा. वह दबे कदमों से कंपनी के गेट में प्रवेश करके कंपनी के ऑफिस में जा कर मुनीम से मिला.
 

Mayaviguru

Active Member
Messages
1,090
Reaction score
2,254
Points
144

Mayaviguru

Active Member
Messages
1,090
Reaction score
2,254
Points
144
Top

Dear User!

We found that you are blocking the display of ads on our site.

Please add it to the exception list or disable AdBlock.

Our materials are provided for FREE and the only revenue is advertising.

Thank you for understanding!