Fantasy The great demon system

  • You need a minimum of 50 Posts to be able to send private messages to other users.
  • Register or Login to get rid of annoying pop-ads.

chodu baba "¿"

-
Banned
Messages
115
Reaction score
248
Points
43

chodu baba "¿"

-
Banned
Messages
115
Reaction score
248
Points
43

chodu baba "¿"

-
Banned
Messages
115
Reaction score
248
Points
43
Chapter 5 system


आलोक अपनी परीक्षा समाप्त करने के बाद गुप के साथ लाइन में खड़ा होने के लिए वापस चला गया। उसके खराब promance के कारण पूरा समूह उस पर हंस रहा था। केवल एक लड़की को छोड़कर वो थी शीतल । वह समूह वो अकेली थी जो समझती थी कि उसके परिणाम वास्तव में कितने प्रभावशाली थे।

वही आलोक आ कर सीधा उसको अपना आप को घूरता हुआ पाया।

तो बाकी सब को हंसना बंद करने के लिया वो सीधा शीतल के बगल खड़ा हो गया जो उन सब में सबसे पॉवरफूल थी।

images





आलोक और शीतल को देख कर सब की गांड़ जल गई।

अब सब चुप थे।
अब आयुष ने बोलना शुरू किया।

यह परीक्षा केवल एक formality थी और realty में आवश्यक भी नहीं थी। मैं आपको अभी एक घड़ी दूंगा जो आपको हर समय अपने पास रखनी चाहिए। यह घड़ी आपके पूरे शरीर का analyze कर सकती है और आपकी पावर लेवल रैंक और आप की location और जिंदा है या नही ये बताएगा।

फिर वो कहता है आज के लिया इतना ज्ञान पेलना काफी है । कर्फ्यू 12 बजे है तब तक आपका जहा मन हो वहा गांड़ मरवा सकते है।

या तो हॉस्टल देख लो या बाहर घूम लो।

कुछ टाइम में आपकी वॉच में रूम नंबर आ जाएगा।


उसके बाद सब अपना में बिजी हो गए और आलोक ने सोचा बाहर को घूमने का फैसला किया नए परिवेश को समझने और खाने के लिया वो जा ही रहा था की उसको किसी ने बुलाया।

आलोक डर गया ।

तब उसने देखा सामने वाला अनिकेत है।

अनिकेत ने कहा मैं तुमरे साथ चलू मैं शहर का कोना कोना जानता हूं और तुमारी मदद भीं कर दूंगा।

क्या आपको कोई दिकत है अगर मैं कुछ दोस्तों को साथ लाऊं? वे रास्ते में हमसे मिलेंगे।", अनिकेत ने पूछा कि उसकी मुस्कान और भी चौड़ी हो गई है।

"एन-एन-एन- नहीं, बेशक मुझे कोई दिकत नहीं है।", आलोक ने घबराते हुए हकलाते हुए कहा।
आलोक ने मन में सोचा कि मेरी गांड़ तो नही मार देंगे।


"ठीक है तो चलते हैं!" स्कूल के गेट की ओर चलते हुए अनिकेत ने कहा।

इसने आलोक को रोमांचित कर दिया, लेकिन साथ ही साथ नर्वस भी। उसका कभी कोई दोस्त नहीं था, इसलिए वह अपने जीवन में कभी भी लोगों के साथ नहीं रहता था। अब, उसके पास आखिरकार दोस्त बनाने का मौका था।

लेकिन ये भी एक छलावा था और आलोक जब तक ये बाद समझता तब तक काफी देर हो चुकी थी।

वो अनिकेत के जाल में फस गया वो उसको वहा ले कर गया जहा नमन और उसका ग्रुप पहले से था और वहा जाते ही आलोक को मार कर बेहोश कर दिया क्यों की आलोक ने पहले से ही अपनी skill यूज कर ली थी।

और वो अब और नी उसे कर सकता था।

फिर जब उसको होश आया तो उसने देखा उसको बहोत बेरहमी से मारा गया है।

फिर नमन पास आया और कहा वो चैन मुझेको दे दो वर्ना हाल मौत से भी बुरा होगा।।

फिर उसने आलोक की सारी उंगली तोड़ी और फिर अपना ग्रुप के healer से उसको ठीक करवाया और थी पीड़ा उसको बार बार उठानी पड़ी।


लेकिन वो नमन के ग्रुप के 6 लोगो की पावर dek लिया 930, 970, 1710, 1520, 1850, और 2510 उनके पास 2 F रैंक, 3 E रैंक और 1 D रैंक था। आलोक ये देख कर और उदास हो गया ।

5 मिनट तक लगातार पिटाई के बाद वे रुके और स्थिति का जायजा लिया। आलोक की 2 पसलियां टूटी थीं और पूरे शरीर पर चोट के निशान थे। लेकिन इसके बाद भी उसने झुकने से इंकार कर दिया।

नमन इसको 10 बार दोहराने के बाद, उन सभी को उनकी घड़ियों से एक ही संदेश मिला।

"अब 11:30 बजे हैं, अपने छात्रावास के बाहर के सभी छात्रों को अभी वहां जाने की सलाह दी जाती है। यदि आप दोपहर 12:00 बजे तक अपने छात्रावास में नहीं हैं, तो कड़ी सजा दी जाएगी।"

"भाड़ में जाओ! तुम उस चेन को क्यों नहीं छोड़ रहे हो! इसमें में इतना महत्वपूर्ण क्या है कि आप इन सारी पीड़ा को सहन कर रहें है?" आलोक को चेहरे पर मुक्का मारते ही नमन चिल्लाया।


तुम कभी नहीं समझोगे। यह चेन मेरी सबसे बेशकीमती संपत्ति है, यही केवल एक चीज है जो मेरे मृत माता-पिता को याद करने के लिऐ है। मुझे संदेह है कि यह हार वैसे भी ज्यादा नही बिकेगा।", आलोक ने सास लेते हुए कहा।

नमन अब गुस्सा हो गया उसके फेस से धुआं निकलने लगा।

आलोक ने कहा मांदरचोद दग जाएगा क्या।

इसके नमन इतना गुस्सा था की उसने एक बार मैं चैन को पकड़ कर फेक दिया और कहा ये मेरा टाइम kharb करने के लिऐ।

नमन ने उसकी चैन को कदम से दबाने जा रहा था की आलोक ने कहा नही और उसमें जितनी ताकत थी वो लगाकर चल पड़ा रेंगते हुआ।

लेकिन तभी फिर से किसी ने उसको पीछे से वार किया।

लेकिन तब तक आलोक का हाथ चैन तक आ गया को उसके मोम डैड छोड़ कर गए थे।

इससे पहले की वो बेहोश होता उसके सामने एक संदेश आया। जो उसके अंदर से आ रहा था।

<Demon system activating>

1%

23%

69%

100%

<System activated>

<Host recognised>

और फिर उसने एक शांत और प्यारी लड़की की आवाज सुनी

"नमस्कार आलोक। मैं आपकी new demon system हूं, और मैं आपके सभी goals को पूरा करने में आपकी हेल्प करुंगी।"

बेहोश होने से पहले उसने ये word सुने। अब वो confused हो कर गाली दे कर बेहोश हो गया।

 

Rohit1988

Active Member
Messages
1,514
Reaction score
5,080
Points
143
Chapter 5 system


आलोक अपनी परीक्षा समाप्त करने के बाद गुप के साथ लाइन में खड़ा होने के लिए वापस चला गया। उसके खराब promance के कारण पूरा समूह उस पर हंस रहा था। केवल एक लड़की को छोड़कर वो थी शीतल । वह समूह वो अकेली थी जो समझती थी कि उसके परिणाम वास्तव में कितने प्रभावशाली थे।

वही आलोक आ कर सीधा उसको अपना आप को घूरता हुआ पाया।

तो बाकी सब को हंसना बंद करने के लिया वो सीधा शीतल के बगल खड़ा हो गया जो उन सब में सबसे पॉवरफूल थी।

images





आलोक और शीतल को देख कर सब की गांड़ जल गई।

अब सब चुप थे।
अब आयुष ने बोलना शुरू किया।

यह परीक्षा केवल एक formality थी और realty में आवश्यक भी नहीं थी। मैं आपको अभी एक घड़ी दूंगा जो आपको हर समय अपने पास रखनी चाहिए। यह घड़ी आपके पूरे शरीर का analyze कर सकती है और आपकी पावर लेवल रैंक और आप की location और जिंदा है या नही ये बताएगा।

फिर वो कहता है आज के लिया इतना ज्ञान पेलना काफी है । कर्फ्यू 12 बजे है तब तक आपका जहा मन हो वहा गांड़ मरवा सकते है।

या तो हॉस्टल देख लो या बाहर घूम लो।

कुछ टाइम में आपकी वॉच में रूम नंबर आ जाएगा।


उसके बाद सब अपना में बिजी हो गए और आलोक ने सोचा बाहर को घूमने का फैसला किया नए परिवेश को समझने और खाने के लिया वो जा ही रहा था की उसको किसी ने बुलाया।

आलोक डर गया ।

तब उसने देखा सामने वाला अनिकेत है।

अनिकेत ने कहा मैं तुमरे साथ चलू मैं शहर का कोना कोना जानता हूं और तुमारी मदद भीं कर दूंगा।

क्या आपको कोई दिकत है अगर मैं कुछ दोस्तों को साथ लाऊं? वे रास्ते में हमसे मिलेंगे।", अनिकेत ने पूछा कि उसकी मुस्कान और भी चौड़ी हो गई है।

"एन-एन-एन- नहीं, बेशक मुझे कोई दिकत नहीं है।", आलोक ने घबराते हुए हकलाते हुए कहा।
आलोक ने मन में सोचा कि मेरी गांड़ तो नही मार देंगे।


"ठीक है तो चलते हैं!" स्कूल के गेट की ओर चलते हुए अनिकेत ने कहा।

इसने आलोक को रोमांचित कर दिया, लेकिन साथ ही साथ नर्वस भी। उसका कभी कोई दोस्त नहीं था, इसलिए वह अपने जीवन में कभी भी लोगों के साथ नहीं रहता था। अब, उसके पास आखिरकार दोस्त बनाने का मौका था।

लेकिन ये भी एक छलावा था और आलोक जब तक ये बाद समझता तब तक काफी देर हो चुकी थी।

वो अनिकेत के जाल में फस गया वो उसको वहा ले कर गया जहा नमन और उसका ग्रुप पहले से था और वहा जाते ही आलोक को मार कर बेहोश कर दिया क्यों की आलोक ने पहले से ही अपनी skill यूज कर ली थी।

और वो अब और नी उसे कर सकता था।

फिर जब उसको होश आया तो उसने देखा उसको बहोत बेरहमी से मारा गया है।

फिर नमन पास आया और कहा वो चैन मुझेको दे दो वर्ना हाल मौत से भी बुरा होगा।।

फिर उसने आलोक की सारी उंगली तोड़ी और फिर अपना ग्रुप के healer से उसको ठीक करवाया और थी पीड़ा उसको बार बार उठानी पड़ी।


लेकिन वो नमन के ग्रुप के 6 लोगो की पावर dek लिया 930, 970, 1710, 1520, 1850, और 2510 उनके पास 2 F रैंक, 3 E रैंक और 1 D रैंक था। आलोक ये देख कर और उदास हो गया ।

5 मिनट तक लगातार पिटाई के बाद वे रुके और स्थिति का जायजा लिया। आलोक की 2 पसलियां टूटी थीं और पूरे शरीर पर चोट के निशान थे। लेकिन इसके बाद भी उसने झुकने से इंकार कर दिया।

नमन इसको 10 बार दोहराने के बाद, उन सभी को उनकी घड़ियों से एक ही संदेश मिला।

"अब 11:30 बजे हैं, अपने छात्रावास के बाहर के सभी छात्रों को अभी वहां जाने की सलाह दी जाती है। यदि आप दोपहर 12:00 बजे तक अपने छात्रावास में नहीं हैं, तो कड़ी सजा दी जाएगी।"

"भाड़ में जाओ! तुम उस चेन को क्यों नहीं छोड़ रहे हो! इसमें में इतना महत्वपूर्ण क्या है कि आप इन सारी पीड़ा को सहन कर रहें है?" आलोक को चेहरे पर मुक्का मारते ही नमन चिल्लाया।


तुम कभी नहीं समझोगे। यह चेन मेरी सबसे बेशकीमती संपत्ति है, यही केवल एक चीज है जो मेरे मृत माता-पिता को याद करने के लिऐ है। मुझे संदेह है कि यह हार वैसे भी ज्यादा नही बिकेगा।", आलोक ने सास लेते हुए कहा।

नमन अब गुस्सा हो गया उसके फेस से धुआं निकलने लगा।

आलोक ने कहा मांदरचोद दग जाएगा क्या।

इसके नमन इतना गुस्सा था की उसने एक बार मैं चैन को पकड़ कर फेक दिया और कहा ये मेरा टाइम kharb करने के लिऐ।

नमन ने उसकी चैन को कदम से दबाने जा रहा था की आलोक ने कहा नही और उसमें जितनी ताकत थी वो लगाकर चल पड़ा रेंगते हुआ।

लेकिन तभी फिर से किसी ने उसको पीछे से वार किया।

लेकिन तब तक आलोक का हाथ चैन तक आ गया को उसके मोम डैड छोड़ कर गए थे।

इससे पहले की वो बेहोश होता उसके सामने एक संदेश आया। जो उसके अंदर से आ रहा था।

<Demon system activating>

1%

23%

69%

100%

<System activated>

<Host recognised>

और फिर उसने एक शांत और प्यारी लड़की की आवाज सुनी

"नमस्कार आलोक। मैं आपकी new demon system हूं, और मैं आपके सभी goals को पूरा करने में आपकी हेल्प करुंगी।"

बेहोश होने से पहले उसने ये word सुने। अब वो confused हो कर गाली दे कर बेहोश हो गया।




Fantastic update bro mast story hai likhte raho
 
Top

Dear User!

We found that you are blocking the display of ads on our site.

Please add it to the exception list or disable AdBlock.

Our materials are provided for FREE and the only revenue is advertising.

Thank you for understanding!