Erotica Story with pics (incest adult)

  • You need a minimum of 50 Posts to be able to send private messages to other users.
  • Register or Login to get rid of annoying pop-ads.

rohnny4545

Well-Known Member
Messages
6,126
Reaction score
16,110
Points
159
हर मर्द की दिली ख्वाहिश होती है कि वह किसी औरत को पेशाब करते हुए देखें ऐसी ही ख्वाहिश अमित के मन में भी पनप रही थी वह अपनी बुआ के प्रति पूरी तरह से आकर्षित था दिन-रात कल्पना में ही वह अपनी बुआ के वस्त्र को उतारकर उसे नग्न करता था और उसके साथ कल्पना में ही संभोग करके अपने हाथ से ही अपना लंड हिला कर पानी निकाल देता था... उसकी बुआ अपने भतीजे की इस हरकत से बिल्कुल अनजान थी...
ऐसे ही 1 दिन गर्मी के समय में अमित और उसकी बुआ छत पर सो रहे थे।आधी रात के समय अमित के कानों में सीटी की आवाज सुनाई देते ही वह नींद से जाग गया लेकिन उसे समझ में नहीं आ रहा था कि सीटी की आवाज आ कहां से रही है और वह अपनी नजरों को छत के ऊपर चारों तरफ घुमाने लगा तो उसकी नजरों ने जो नजारा देखा उसे देखकर वह एकदम दंग हो गया वह क्षण भर में ही उत्तेजना के परम शिखर पर पहुंच गया ‌। उसके बिस्तर से तकरीबन 5 फीट की दूरी पर ही उसकी बुआ अपनी सलवार खोल कर अपनी बड़ी-बड़ी गोल गोल गांड दिखाते हुए पेशाब कर रही थी उसे समझते देर नहीं लगी कि उसके कानों में जो सीटी की मधुर आवाज भेज रही है वह उसकी बुआ की रसीली बुर से आ रही है ...

अमित एकदम मदहोश होने लगा


आखिरकार उसके बस में कुछ नहीं था उसकी आंखों के सामने नजारा ही इतना काम उत्तेजना से भरा हुआ था कि वह अपनी उत्तेजना को रोक नहीं पा रहा था और उसके पिज्जा में मैं उसका लंड पूरी तरह से खड़ा हो गया..


उसकी बुआ यह सबसे बेखबर हुआ मूत्र विसर्जन करने में लगी रही उसे यह बात का अंदाजा भी नहीं था कि पीछे से उसकी बड़ी-बड़ी गाड़ी उसका भतीजा देख रहे हैं और उसकी बड़ी बड़ी गांड देखते हुए अपने लंड को हिला रहा...

कुछ ही देर में अपनी बुआ की बड़ी-बड़ी गांड देखते हुए अमित झड गया

 
Last edited:

rohnny4545

Well-Known Member
Messages
6,126
Reaction score
16,110
Points
159
.... बरसात की रात.


सुमन तकरीबन 40 वर्षीय औरत थी... बेहद खूबसूरत और गठीला बदन होने की वजह से सुमन की उम्र लगभग 30 32 के करीबी लगती थी. वह ऑफिस में काम करती थी ऐसे ही एक दिन वो तैयार होकर अपनी ऑफिस गई..




सुमन बला की खूबसूरत लगती थी जब वह सड़क पर चलती थीतब उसकी मटकती हुई गांड देखकर ना जाने कितनों का लंड खड़ा हो जाता था। ... ऑफिस से छूटते समय हल्की हल्की बारिश होने लगी और वह जल्दी-जल्दी अपने घर पहुंच गई लगभग अंधेरा हो चुका था... जब वह घर पहुंची तो बारिश का जोर पड़ चुका था और तभी उसके पति का फोन आया कि आज वह घर पर नहीं आ पाएगा...सुमन जल्दी-जल्दी खाना बनाने लगे क्योंकि उसका बेटा घर पर ही था... बारिश की वजह से सुमन के बदन में काम भावना जागरूक होने लगी। .
उसे इस बात का पता था कि उसका बेटा चोरी छुपे उसके बदन को निहारता है और आज तन बदन में काम भावना को ज्यादा ही प्रबल हो रही थी इसलिए वह अपनी प्यास बुझाने की मन में ठान कर अपने बेटे के कमरे में गई और उस समय उसके बदन पर केवल ब्लाउज और पेटीकोट ही था जिसे देखकर उसका बेटा हतप्रभ रह गया उसे समझ में नहीं आ रहा था कि वह क्या करें क्योंकि उसकी आंखों के सामने उसकी मां केवल ब्लाउज और पेटीकोट में ही थी जिसे देखकर वह उत्तेजित होने लगा।
काम भावना के अधीन होकर सुमन अपने बेटे की आंखों के सामने ही अपने पेटीकोट को धीरे-धीरे ऊपर की तरफ उठाने लगे।


थोड़ी ही देर में उसका बेटा समझ गया कि उसे अब क्या करना है इसलिए वह भी अपने दोनों हाथ आगे बढ़ा कर अपनी मां की पेटीकोट को कमर तक उठा कर उसकी बड़ी बड़ी गांड को अपने हाथों से दबाना शुरू कर दिया।


थोड़ी ही देर में वह अपनी मां की पेटीकोट को उतार कर उसके घुटनों तक कर दिया।अपनी मां की बड़ी बड़ी गांड देखकर वह एकदम उत्तेजित हो गया सुमन को भी अपने बेटे की इस हरकत पर बेहद उत्तेजना का अनुभव हो रहा था।



अपने बेटे का मोटा तगड़ा खड़ा लंड देखकर वह काम वासना के अधीन होकर सुमन झुक गई और अपने बेटे की लैंड को मुंह में लेकर चूसना शुरू कर दिया।


सुमन पूरी तरह से नंगी हो चुकी थी उसका बेटा उसे अपनी बाहों में लेकर उसके अंगों से खेलना शुरू कर दिया।


सुमन अपने बेटे के मोटे तगड़े लंड को देखकर पागल हो जा रही थी वह बार-बार उसे अपने मुंह में लेकर उसे लॉलीपॉप की तरह चूस रही थी।

देखते ही देखते सुमन अपनी दोनों टांगे फैला कर अपने बेटे के लंड पर बैठ गए जिससे उसके बेटे का मोटा लंड उसकी रसीली बुर के अंदर तक घुस गया


वह लगातार अपने बेटे के लैंड की सवारी कर रही थी उसे बहुत मजा आ रहा था पूरा कमरा बरसात की रिमझिम में गर्म सिसकारी से गूंज रथीी

 
Last edited:

rohnny4545

Well-Known Member
Messages
6,126
Reaction score
16,110
Points
159
Uuuffff kya najaara tha jab meri dost ki mummy mere liye aise ghutno k bal bethkar apni badi badi gaand dikha rahi thi..

..
Or apni Saree utaarkar duniya ki sabse khubsurat gaand dikhane lagi..

 
Top

Dear User!

We found that you are blocking the display of ads on our site.

Please add it to the exception list or disable AdBlock.

Our materials are provided for FREE and the only revenue is advertising.

Thank you for understanding!