Erotica Story with pics (incest adult)

  • You need a minimum of 50 Posts to be able to send private messages to other users.
  • Register or Login to get rid of annoying pop-ads.

rohnny4545

Well-Known Member
Messages
5,826
Reaction score
15,240
Points
159
Hi guys.. start to New thread for u.. I hope u like that..


shaadi k do saal baad rahul ki didi ghar wapis aa rahi thi uska badan or jyada gadraa gaya tha..badi badi chuchi badi badi gand dekhkar hi kisika bhi lund khada ho jaye


1603620127-picsay
Apne Pati se vah bilkul bhi Khush nahi thi.. kyunki vah use theek se chhod nahin pata tha,,,sasural mein mujhe Apne bhai ke mote tagdd land ki bahut yad aati thi
raat ko khana khane ke bad Rahul ko Apne kamre mein bula kar dekhte hi dekhte apne bhai ke kapdon ki sath Apne kapde utaar kar ekadam nangi ho gai,,, donon do saal Baad milenge the isliye ek dusre ki humko se pagalo ki tarah khelne lage..


1603620212-picsay


Rahul ki didi ekadam mast ho gai,, uski garam Jawani Pani chhodane lagi,,, vah bistar par baith kar apni badi badi gaand apne bhai ke samne parosh di.. Rahul 2 saal baad apni bahan ke nange Jism Ko dekh raha tha,,, isliye vah ekadam madhosh hone Laga,,,,



1603620162-picsay


Rahul piche se apne mote tagde lind ko apni bahan ki gand par ragadne Laga



1603620802-picsay


lekin Rahul Aaj apni bahan ki gand maarna chahta tha...



1603620858-picsay

aur dekhte hi dekhte piche se Rahul apni bahan ki Gand mein apna pura land dal Diya..



1603620900-picsay
 
Last edited:

rohnny4545

Well-Known Member
Messages
5,826
Reaction score
15,240
Points
159
पार्टी की थकान....
शोभा अपने बेटे रोहन को लेकर अपनी सहेली की शादी की वर्षगांठ की पार्टी में गई हुई थी बहुत ही अच्छी सहेली होने के नाते शोभा अपनी सहेली की पार्टी में उसकी खूब मदद कर रही थी मेहमानों को खाना खिलाना उनकी देखरेख हर काम में हाथ बटा रही थी और रोहन भी अपनी मां का साथ दे रहा था.. पार्टी से लौटते लौटते देर हो गई और रात के करीब 1:30 बजे वह लोग अपने घर पहुंचे... दोनों थक कर चूर हो चुके थे रोहन बेड पर बैठा हुआ था... वह भी काफी थक चुका था लेकिन उसकी नजर जैसे ही सामने शीशे के लग पड़ी तो वह दंग रह गया उसकी मां उसकी आंखों के सामने यह कि करके अपने कपड़े उतार रहे थे देखते ही देखते हैं उसके सामने उसकी मां केवल पेंटी पर ही खड़ी थी जो कि अपने खूबसूरत बदन को आईने में देखकर मंद मंद मुस्कुरा रही थी...रोहन को तो अपनी आंखों पर विश्वास ही नहीं हो रहा था कि वह क्या देख रहा है..उसकी मां जानबूझकर अपने बेटे के सामने अपने कपड़े उतार रही थी.. क्योंकि उसकी सहेली ने बात बाद में उसे कहती थी कि आज की रात भर अपने पति के लंड से भरपूर मजा लेगी पर यह बात सुनकर उसके बदन में खुमारी छाने लगी थी... घर में केवल शोभा और उसका बेटा रोहा नहीं रहते थे पति तो कब से उसे छोड़कर किसी दूसरी औरत से शादी कर लिया था तब से वह प्यासी ही थी लेकिन आज अपनी सहेली की बात सुनकर उसके मन में भी कुछ कुछ हो रहा था और वह देखते ही देखते अपने बेटे के सामने अपने सारे कपड़े उतार कर एकदम नंगी हो गई....
5e5a39e893db7.jpg

तू भी थक गया होगा रोहन अपने कपड़े उतार कर फ्रेश हो जा. । रोहन अपनी नंगी मां को देखने में शर्म आ रहा था लेकिन चोरी छुपे देख ले रहा था उसके बदन में आग लगी हुई थी उसका लंड खड़ा हो चुका था वह उठकर जाने लगा कि तभी उसकी मां बोली कि यहीं पर बदल ले और तू आज मेरे साथ ही सो जाना...अपनी मां की बात सुनकर वो एकदम दंग रह गया उसे समझ में नहीं आ रहा था कि उसकी मां यह क्या कह रही है लेकिन रोहन पूरी तरह से जवान हो चुका था और अपनी मां के नंगे बदन को देखकर उसके मन में भी कुछ कुछ हो रहा था और वह भी हिम्मत दिखाते हुए अपनी मां के सामने ही अपने कपड़े उतारना शुरू कर दिया देखते देखते हो अभी अपनी मां की आंखों के सामने एकदम नंगा हो गया और वह अपने खड़े लंड को अपनी मां की नजरों से बचाने की बिल्कुल भी कोशिश नहीं कर रहा था और शोभा अपने बेटे के खड़े लंड को देखकर एकदम उत्तेजित हो गई थी उसकी बुर फूली हुई कचोरी की तरह लगने लगी थी।
अब तो एकदम जवान हो गया है शो(जानबूझकर एकदम बेशर्मी दिखाते भी अपनी बेटी के खड़े लंड को पकड़कर हल्के से हिलाते हुए बाथरूम की तरफ जाने लगी।) तो बिस्तर पर चल में पेशाब करके आती हूं।
(इतना सुनते ही रोहन के तन बदन में आग लग गई उसे उम्मीद नहीं थी कि उसकी मां उसे इस तरह की बात करेगी लेकिन अपनी मां की बात सुनकर उसे लगने लगा था कि आज की रात हसीन होने वाली है और वह अंदर ही अंदर खुश होने लगा।)
पेशाब करके तुरंत शोभा अपने बिस्तर पर आ गई और अपनी दोनों टांगे फैलाकर पीठ के बल लेट गई और अपने बेटे की तरफ देखते हुए अपनी कचोरी जैसी फूली हुई अपनी बुर को अपनी हथेली से मसलने लगी...यह देखकर रोहन एकदम जोश में आ गया वह भी पूरी तरह से नंगा था उसका लंड एकदम खड़ा था वह अपनी मां को इस तरह की हरकत करते हुए देख कर बोला।

यह क्या कर रही हो मम्मी...

बेटा मेरी बुर में खुजली हो रही है जरा मेरे पास आकर इसे अपनी उंगली से खुजला देना..
इतना सुनते ही रोहन एकदम खुश हो गया और वह तुरंत बिस्तर पर चढ़कर अपनी उंगली से अपनी मां की बुर की गुलाबी पत्तियों को स्पर्श करने लगा . अपने बेटे के हाथ का स्पर्श पाते ही शोभा एकदम मदहोश होने लगी....
........ ... शोभा अपने बेटे की उंगलियोंं के स्पर्श से एकदम गर्म होने लगी थी उसकी बुर मोटे लंड केेे लिए तड़प रही थी। जो कि उसके बेटे के पास बहुत हीीीी मजबूत और मोटाा लंड था जिसेेेेेेेेे देखते ही उसकी बुर में से पानी निकलनासे मेंेे शुरू हो गया था दोनोंंं पागल होने लगे शुभम फुर्तीी दिखाते हुए जल्दद ही अपनी मां की दोनों टांगों के बीच आ गया और दोनोंंं हाथों से
अपनी मां की मजबूत गोल गोल चुचियों को पकड़ कर दबाना शुरू कर दिया।


जिस तरह से रोहन अपनी मां के बदन से खेल रहा था उसे से शोभा पूरी तरह से गर्म हो चुकी थी और अब उसकी बुर मोटे लंड के लिए तड़प रही थी इसलिए वह खुद अपने बेटे को उसके लंड को उसकी बुर में डालने के लिए बोली अपनी मां के मुंह से इस तरह की बातें और खुद खुला आमंत्रण सुनकर उसे स्वीकार करने के लिए उपाय एकदम उतावला हो गया और तुरंत अपने मोटे तगड़े लंड को अपनी मां की रसीली बुर में डालकर उसे चोदना शुरु कर दिया।


बरसों के बाद शोभा किसी लंड को अपनी बुरके गहराई में महसूस कर रही थी। पूरे कमरे में शोभा की गर्म सिस कार्यों की आवाज गूंज रही थी उसे यकीन ही नहीं हो रहा था कि उसका बेटा इतनी जबरदस्त चुदाई कर सकता है सुबह अपने बेटे के हर धक्के का भरपूर आनंद ले रही थी। रोहन भी अपनी मां की कसम हुई बुर में लंड डालकर एकदम मस्त हुए जा रहा था।
5e5a3aa81e6a3.jpg

रोहन अपनी मां की मदमस्त बुर पाकर एकदम मदहोश हुए जा रहा था वह लगातार अपनी मां की बड़ी बड़ी गांड पकड़कर धक्के पर धक्के लगा रहा था और जवाब में शोभा भी नीचे से अपनी कमर ऊपर उछाल उछाल कर अपने बेटे के हौसले को बढ़ा रही थी।


रोहन के हर धक्के के साथ शोभा के मुंह से सिसकारी निकल जा रही थी। ऐसा कोई भी आसान नहीं था जो दोनों ने बिस्तर पर ना आजमाया हो पहली बार में ही दोनों कामसूत्र के सारे आसन आजमा ले रहे थे और हरा सन में मस्त हुए जा रहे थे


आखिरकार जबरदस्त घमासान चुदाई के बाद दोनों एक साथ झड़ गए ‌।
 
Last edited:

rohnny4545

Well-Known Member
Messages
5,826
Reaction score
15,240
Points
159
आहहहहहहहह से आहा तक

मैं जिस स्कूल में पढ़ता था वहां मेरी एक टीचर थी जो कि इंग्लिश पढ़ाती थी बहुत ही खूबसूरत जब भी कभी वह मुझसे बात करती थी पढ़ाई के मामले में तो मुझे ना जाने क्या होने लगता था धीरे-धीरे मुझे पता चला कि वह भी मेरी तरफ आकर्षित है इसलिए एक बहाने से वह मुझे इंग्लिश का ट्यूशन पढ़ाने के लिए अपने घर बुलाने लगी..... एक दिन ऐसे ही मैं उनके घर ट्यूशन पढ़ने गया तो घर पर कोई नहीं था घर में प्रवेश करते ही मैंने देखा कि टीचर सिर्फ ब्लाउज और पेटीकोट पर थी। और आश्चर्य वाली बात यह थी कि इससे हाल में मेरी मौजूदगी में वहां बिना शर्माए कपड़े चेंज कर रही थी।मैं शर्म के मारे वहां से जाने को हुआ तो वह मुझे रोते हुए बोली।

मैं तुझे क्या खराब लगती हूं।

नहीं मैम आप तो बहुत खूबसूरत हो।

तो ऐसे जा क्यों रहा है।...(ऐसा कहते हुए वह मेरे करीब आई और मेरे गले में अपनी दोनों बाहें डाल दी मेरी सांसे ऊपर नीचे हो गई मेरी तन बदन में उत्तेजना बढ़ने लगी मुझे तो समझ में नहीं आ रहा था कि मैं क्या करूं एक खूबसूरत औरत इस तरह से मुझे अपनी बाहों में भरे हुए हैं और मैं ऐसे ही शांत रहू भला यह कैसे हो सकता था .. मैडम के बदन में से उठ रही माता खुशबू मेरे होश उड़ा रही थी और मैं भी तुरंत उन्हें अपनी बाहों में भर लिया.... मैडम एकदम मदहोश हुए जा रही थी.....मैं थोड़ी हिम्मत दिखाते हुए उन्हें अपनी बाहों में भरकर ब्लाउज के ऊपर से ही उनकी बड़ी बड़ी चूचियों को दबाना शुरू कर दिया जिससे उसके मुख से सिसकारी की आवाज आने लगी...



... बा

हम दोनों एक दूसरे को अपनी बाहों में लेकर एक दूसरे के अंगों से खेलना शुरू कर दिए और देखते ही देखते मैडम ने मेरे बदन से और मैंने मैडम के बदन से सारे वस्त्र उतारकर एकदम नंगी कर दिया

उनकी बड़ी-बड़ी चूचियां किसी पपीते की तरह लग रही थी जिसे मुंह में भर कर पीने की बहुत इच्छा हो रही थी और जैसे कि मैडम मेरे मन की बात समझ ली हो खुद ही वह मेरा मुंह अपनी चूची पर रख कर उसे पीने के लिए उकसा रही थी मैं एकदम मस्त में जा रहा था टीचर एक हाथ से मेरे लंड को पकड़ कर हिला रही थी। मैडम के नरम नरम उंगलियों के स्पर्श से मेरी हालत खराब हो जा रही थी और देखते ही देखते मैडम मेरे मोटे खड़े लंड को मुंह में लेकर चूसना शुरू कर दी


...मैडम का यह रूप देखकर मैं एकदम दंग रह गया था मुझे तो यकीन ही नहीं हो रहा था कि यह हमारी इंग्लिश कि मैं में मेरी आंखों के सामने एकदम नग्न अवस्था में वह काम देवी लग रही थी। मैडम की नंगी बड़ी बड़ी गांड देखकर मेरा लंड पूरी तरह से खड़ा हो गया था और उसी लंड को मैडम अपनी बुर में लेने के लिए पूरी तरह से तैयार थी इसलिए वह मेरे सामने अपनी बड़ी बड़ी गांड उठाकर घुटनों के बल बैठ गई। मैं तो मैडम की बड़ी बड़ी गांड देखकर एकदम पागल हुए जा रहा था और अगले ही पल में


..
मैडम की बड़ी बड़ी गांड को देखकर एकदम मस्त हो गया और अपने दोनों हाथों से मेडम की टांग ऊपर की तरफ उठाकर अपने मोटे तगड़े लंड को उनकी बुर में डालकर चोदना शुरू कर दिया मेरे मोटे लंड की वजह से मैडम को दर्द का अनुभव हो रहा था तभी तो उनके मुंह से कराने की आवाज आ रही थी लेकिन थोड़ी ही देर में वह मेरे मोटे लंड से मज़े लेने लगी

..मुझे तो अपनी किस्मत पर यकीन ही नहीं हो रहा था कि इतनी खूबसूरत औरत को चोदने को मिलेगा मेरा लंड इस समय पूरी तरह से मैडम की चूत में फंसा हुआ था मेरे मोटे लंड से मैडम को बहुत मजा आ रहा था मेरा हर एक धक्का वह मस्ती के साथ झेल रही थी। मैडम की बड़ी-बड़ी गोल गोल गाना देखकर मेरी उत्तेजना निरंतर बढ़ती जा रही थी। मैं रह रह कर अपने लंड को बाहर निकाल लेता और उस लंड को मैडम की गांड पर पटकना शुरू कर देता जिससे मैडम को भी मजा आ रहा था।

...एक बार फिर से मैंने अपने मोटे लंड को मैडम की बुर में डाल दिया और उनकी बड़ी बड़ी गांड पकड़ कर चोदना शुरू कर दिया पढ़ने तो आया था मैं यहां ट्यूशन लेकिन मैडम मुझे चुदाई के विषय में ज्ञान देना शुरू कर दीजो कि मेरे लिए सोने पर सुहागा जैसा था मैं तो केवल मैडम के करीब रहने के लिए ही उनसे ट्यूशन पढ़ रहा था लेकिन मुझे तो यहां मैडम अपनी खूबसूरत बदन को सौंप दी थी मैं मस्त हुए जा रहा था मेरे हर धक्के के साथ मैडम भी मस्त हो रही थी


...
हम दोनों पसीने से तरबतर हो चुके थे हालांकि पंखा अपनी फुल स्पीड में चल रहा था लेकिन मैडम के बदन की गर्मी पूरे बदन में गर्मी फैला रही थी मैडम एक बार फिर सेघुटनों के बल बैठकर अपनी बड़ी बड़ी गांड को ऊपर की तरफ उठा दी और मैं इस बार फिर से उनके अंदर समा गया तकरीबन 35 40 मिनट की घमासान जुदाई के बाद हम दोनों एक साथ झड़ गए

 
Last edited:

rohnny4545

Well-Known Member
Messages
5,826
Reaction score
15,240
Points
159
ऑफिस की चुदाई....

यह क्या है तुम्हारा तो खड़ा हो गया...
क्या करूं मेरी जान तुम्हारी नंगी गांड देखते हैं इसका हाल बुरा हो जाता है।

लेकिन मैं तुम्हें कितनी बार कहीं हूं कि ऑफिस में मुझे मत बुलाया करो।

तो इसमें क्या हो गया मेरी जान ऑफिस में यह बुलाने का तो तुम्हें तनख्वाह देता हूं।

लेकिन पूरा वसूल भी तो कर लेते हैं।।
क्या करूं इसमें मेरा कोई कसूर नहीं है तुम्हारी मदमस्त जवानी का कसूर है तुम्हें देखते ही मुझे ना जाने क्या होने लगता है।

चलो बहाने मत बनाओ

मैं बहाना नहीं बना रहा हूं...चलो जल्दी करो अपनी मत मस्त गोरी गोरी गांड दिखाओ ताकि मेरा लंड पूरी तरह से टनटना जाए....


... लो देख लो तुम तो ना जाने क्यों मेरी गांड के दीवाने हो गए हो..

मेरी जान तुम्हारी गांड लाखों में एक है आज तक मैंने किसी लड़की की इस तरह की मदमस्त गोरी गोरी गोल गोल गांड नहीं देखा तभी तो मैं तुम्हारा आशिक हो गया हूं। अब पेंटी तो उतार दो।

अरे रुको तो तुम्हें तो जरा भी सब्र नहीं होता।
..
लो अब देख लो इसके बिना तुम्हें रहा नहीं जाता ना मेरा बुरा हाल कर के रखी है ठीक से आराम भी नहीं करने देती।

मेरी जान तुम आराम करो बस इसे मुझे सौंप दो।

तो ले लो तुम्हें रोका किसने है ‌।

बस मेरी जान टेबल पकड़कर थोड़ा सा झुक जाओ मेरा लंड पूरा तैयार है तुम्हारी चूत में जाने के लिए।

आराम से करना पागल मत हो जाना ‌।

मेरी जान मैं आराम से ही करूंगा अब थोड़ा झुक जाओ।

हेलो बस झुक गई इतना काफी है ना।

बस बस मेरी जान इतने से तो मुझे जन्नत का मजा मिल जाएगा।


..ऊफफफफफ तुम्हाराााााााा तो बहुत मोटा लग रहा रह लगटाा

 
Last edited:

rohnny4545

Well-Known Member
Messages
5,826
Reaction score
15,240
Points
159
..... मुझे तो अपनी आंखों पर बिल्कुल भी भरोसा नहीं हुआ जब मैं खिड़की से अंदर झांक कर अंदर का नजारा देखा। चाची बिस्तर पर अपने ब्लाउज के बटन खोल कर अपने बड़े-बड़े चुचियों को दिखा रही थी मेरे तो होश ही उड़ गए जिंदगी में पहली बार मैंने किसी औरत की नंगी चूचियों को देखा था।और वैसे भी चाची की दोनों चूचियां नारंगी की तरह गोल गोल दी उन्हें देखते ही मेरा लंड खड़ा होने लगा.... वह अपनी दोनों चुचियों को किसी को दिखा रही थी कमरे में उनके सिवा कोई और भी था लेकिन मुझे ठीक से दिखाई नहीं दे रहा था कि वह कौन था...

...
लेकिन मैं एकदम से चौंक गया जब वह अपने बेटे का नाम पुकारते हुए धीरे-धीरे आगे की तरफ बढ़ रही थी और मेरे देखते ही देखते उन्होंने अपने ही बेटे के खड़े लंड को पकड़ कर उसे हाथ में लेकर सहलाना शुरू कर दी....मुझे तो अपनी आंखों पर भरोसा ही नहीं हो रहा था कि वह कैसे अपने बेटे के लंड को अपने हाथ में पकड़ कर हिला रही है...
.....
हैरान कर देने वाली बात यह थी कि उनका बेटा भी मजे ले कर अपनी मम्मी से अपना लंड हीलवा रहा था।।..... दोनों काफी जोश में नजर आ रहे थे चाची अपने बेटे के लंड को बड़ी मादक अदाओं के साथ हिला रही थी उसे बहुत मजा आ रहा था और उसके बेटे को भी मस्ती चढ़ी हुई थी इसलिए वह नीचे से अपनी कमर को हिला दे रहा था..मुझे तो अपनी कहानी पर बिल्कुल भी भरोसा नहीं हो रहा था जब उसका बेटा यह कह रहा था कि।

और जोर से हिला मम्मी और जोर से मेरा निकलने वाला है।


....
चाची एकदम मस्ती के साथ अपनी बेटे के खड़े लंड से खेल रही थी उसे हिलाते हुएउसके सुपाड़े को अपने चेहरे से रगड़ रही थी यह सब देखकर मेरे खुद का लंड खड़ा हो गया था और मैं उसे पेंट से बाहर निकालकर हिलाना शुरू कर दिया था। देखते ही देखते हैं चाची ने अपनी गरम हथेलियों का कमाल दिखाते हुए अपनी बेटे के लंड का पानी निकाल दिया और मेरा भी निकल गया

 
Last edited:

rohnny4545

Well-Known Member
Messages
5,826
Reaction score
15,240
Points
159
दोस्त की मम्मी का फोटो सेशन......

मेरा दोस्त जब से अपनी मां से मिलाया था तब से मैं उसका दीवाना हो गया था और मैं जब कभी भी उसकी मां से मिलता था तो उसकी खूबसूरती की तारीफ कर देता था जिससे वह काफी खुश होती थी ऐसे ही मजाक मजाक में में उनसे कहा कि आंटी आप एकदम हीरोइन की तरह लगती हो एक बार मेरे कैमरे से अपना सेक्सी फोटो सेशन करवाओ तुम्हें बहुत पसंद आएगा.... मेरी बात सुनकर वो थोड़ा सोच में पड़ गई और बोली...

नहीं ऐसा नहीं हो सकता मेरे फोटो वगैरा मेरा बेटा देख लिया तो....

कोई नहीं देखेगा आंटी आप बस हां बोल दो.... बाकी मैं सब संभाल लूंगा...

लेकिन फोटो लेंगे कहां पर...

यही तुम्हारे घर और कहां...

लेकिन मेरा बेटा वह रहेगा घर पर तो कैसे हो सकेगा.. ।

आंटी आप चिंता बिल्कुल मत करो तुम्हारे बेटे को नई नई मूवी देखने का बहुत शौक है मैं उसे मूवी देखने भेज दूंगा उसके बाद मैं तुम्हारे घर पर आकर तुम्हारा ऐसा फोटो डूंगा की आप देखती रह जाओगी.....

सब कुछ तय हो गया और मैं उसके घर पर पहुंचा तो हुआ एकदम तैयार बैठी थी....

पहला ही पहुंच मैंने आंटी को उनकी साड़ी थोड़ा सा नीचे बांधने के लिए कहा जिससे टांगों के ऊपरी जोड़ की हल्की लकीर नजर आए और मेरे बोलने के मुताबिक ही आंटी मान गई.... मैं इस पोज में एक क्लिक किया और एक बेहतरीन पिक्चर कैमरे में कैद हो गई जिसे देख कर आंटी भी खुश हो गई....मैं उन्हें पहुंच बनाने के बहाने उनके बदन के हारे किससे को अपने हाथों से स्पर्श करने लगा था....

...
मुझे यकीन हो गया कि आंटी मेरे कहने के मुताबिक हर काम करने को तैयार हो जाएगी इसलिए मैं आंटी को परखने के लिए थोड़ा सेक्सी अंदाज वाला फोटो लेना चाहता था इसलिए बोला आंटी आप थोड़ा सा अपने हाथों से अपनी साड़ी को ऊपर घुटने तक उठाओ..

मेरी बात सुनकर पहले तो वह निकाल कर दी लेकिन फिर मान गई और एक और बेहतरीन पिक्चर मेरे कैमरे में कैद हो गई जिसमें आंटी की चिकनी टांगें नजर आ रही थी।
..
इतना तो मैं जानता था कि आंटी के पति घर से महीनों दूर रहते हैं इसलिए जानता था आंटी अंदर ही अंदर प्यासी है मैं उनकी खूबसूरती की तारीफ करते हुए साड़ी को और ऊपर उठाते उठाते इतना उठवा दिया कि आंटी की रसीली मद भरी बुर नजर आने लगी....आंटी की टांगों के बीच की उस पतली दरार को देखकर में एकदम मदहोश होने लगा और कांपते हाथों से क्लिक करके एक और बेहतरीन पिक्चर अपने कैमरे में कैद कर लिया....

...
आंटी की उत्तेजना उनके चेहरे पर साफ नजर आ रही थी जिस तरह से मैं उन्हें पोज बनाने को बोल रहा था वह बेहिचक पोज बना रही थी... ऐसा लग रहा था कि जैसे आंटी को अपनी बुर मुझे दिखाने में मजा आ रहा हो इसलिए तो वह बड़े आराम से अपनी बुर के दर्शन करा रही थी।

...
आंटी की रसीली मधुर रस से भरी हुई बुर्के दर्शन में करके धन्य हो गया था मेरे दोस्त की मां इस उम्र में भी इतनी सेक्सी हो कि मुझे यकीन नहीं हो रहा था लेकिन अपनी आंखों से देखने के बाद मुझे अपने आंखों पर ही भरोसा नहीं हो रहा था तेजा में में मेरा लंड पूरी तरह से खड़ा था। उसके बाद में आंटी की गांड देखने का इच्छुक हो गया था क्योंकि घर में आते जाते पीछे से उनकी मटक तेरी गांड देखकर अपने लंड को मसल दे रहा था और आज मौका बहुत अच्छा था उनकी नंगी गांड देखने के लिए इसलिए मैं आंटी से पीछे घूम जाने के लिए बोला और आंटी जैसे कि मेरे कहने का मतलब को अच्छी तरह से समझ गई इस तरह से अपनी साड़ी को कमर तक उठा कर मुझे घूम कर अपनी बड़ी-बड़ी खरबूजे जैसी गोल-गोल गांड दिखाने लगी जिसे देखकर मैं एकदम सम्मोहित हो गया मेरी उंगली के क्लिक से एक और पिक्चर मेरेकैमरा मैं कैद हो गया।

....
इसके बाद में आंटी की बेहतरीन हर अदा में पिक्चर लिया एक भी पिक्चर ऐसी नहीं थी जो पसंद ना आई हो हर एक पिक्चर में आंटी की मदहोश जवानी झलक रही थी।

...
मैं ऐसी ऐसी पिक्चर ले रहा था कि जिसे देखने के बाद आंटी को खुद पर विश्वास नहीं हो रहा था कि पिक्चर में कैद की हुई खूबसूरत बदन उनकी है।
...
आंटी जब अपने ब्लाउज का एक बटन खोलकर अपनी गोल-गोल चूचियां मुझे दिखाई तो मैं दंग रह गया मेरा हाथ खुद-ब-खुद मेरे लंड पर पहुंच गया और उंगली से क्लिक करके मैंने आंटी के एक नग्न खरबूजे को अपने कैमरे में कैद कर लिया।
...
आंटी हर तरफ से मुझे अपने फड़फड़ा ते हुए कबूतर को दिखा रही थी।
....
ऐसा लग रहा था कि मानो वह मुझे इशारे ही इशारे में अपनी चूची पीने का संदेश दे रही है।
 
Last edited:

rohnny4545

Well-Known Member
Messages
5,826
Reaction score
15,240
Points
159
होली के रंग अपनों के संग....

मम्मी आज कितनी बेशर्म होकर होली खेल रही थी अपने देवर के साथ... चाचा तो दोनों हाथों में रंग लगाकर मम्मी की चूचियां जोर-जोर से रंग लगाने के बहाने पकड़ कर मसल दे रहे थे मम्मी भी मजे ले रही थी मतलब ज मम्मी का चक्कर चाचा के साथतभी तो चाचा रंग लगाने के बहाने मम्मी को एकदम नंगी कर दिए थे और मम्मी भी बिल्कुल भी ऐतराज नहीं कर रही थी बल्कि उनसे चिपक चिपक कर कैसे उनके पजामे में हाथ डालकर रंग लगाने के बहाने चाचा का लंड पकड़ कर मसल रही थी। जरूर दोनों के बीच कुछ ना कुछ चक्कर है तभी तो पापा के बाहर होने के बावजूद भी मम्मी को जरा भी फर्क नहीं पड़ता...(अमित अपनी मम्मी को इस कदर नंगी होकर अपने चाचा के साथ बेशर्म वाली होली खेलता हुआ देखकर एकदम गरम हो चुका था जिस तरह से उसका चाचा उसे धीरे-धीरे करके रंग लगाने के बहाने उसकी मम्मी की साड़ी उतार कर एकदम नंगी किया था वह सब नजारा अमित के लंड को पूरी तरह से खड़ा कर चुका था.... अमित यह भी जानता था कि उसके चाचा ने बहाने से उसे ढेर सारी भांग पिला दिया था जिससे उसकी मम्मी को जरा भी होश नहीं था। अमित अपनी मम्मी के नंगे बदन को देखकर पूरी तरह से उत्तेजित हो गया था और वहां होली खेलने के बाद शाम को अपनी मां को ढूंढता हुआ घर के पीछे की तरफ जा पहुंच गया जहां पर उसकी मां एकदम नंगी होकर नहा रही थी एक बार फिर से अपनी मां को नग्न अवस्था में देखकर अमित का लंड बौखल आने लगा....उसे समझ में नहीं आ रहा था कि क्या करें क्या ना करें लेकिन इतना जरूर पता था कि उसकी मां भांग पी हुई थी और जिसकी वजह से अभी भी वह नशे की हालत में थी यह देखकर उसके शैतानी दिमाग में हलचल होने लगी।... वह पीछे से जाकर अपनी मां की गर्दन पर चुंबन करने लगा और उसकी मां यह समझ रही थी कि उसका देवर उसे चूम रहा है इसलिए बोली. ‌

क्या कर रहे हो देवर जी मुझे ठीक से नहा तो लेने दो तुम्हारा हर लगाया हुआ रंग मेरी बुर से छूट नहीं रहा है...

अपनी मां के मुंह से इस तरह की एकदम गंदी खुली बातें सुनकर अमित का लंड पर जाने में ठोकर मारने लगा उससे रहा नहीं जा रहा था।






...
भाभी तुम्हारे नंगे बदन को देख कर मुझसे रहा नहीं जा रहा है तुम्हारी बड़ी बड़ी चूचियां मेरे होश उड़ा रही हैं।

वह देवर जी तुम मेरे पीछे इतना पागल हो गए हो... कि मुझे ठीक से नहाने भी नहीं दे रहे हो..
(नशे की हालत में अमित की मां अपने बेटे की आवाज को पहचान नहीं पा रही थी उसे ऐसा ही लग रहा था कि उसका देवर है..)

नहीं मैं ऐसे नहीं मानूंगा मैं आज तुम्हारी बुर में अपनी लंड की पिचकारी डालकर तुम्हारे साथ होली खेलूंगा....(अमित अपनी मां की मदहोश कर देने वाले मदमस्त जवानी को देखकर पागल हो जा रहा था और अपनी मां से खुले शब्दों में बात कर रहा था क्योंकि उसे पता चल गया था कि नशे की हालत में उसकी मां बिल्कुल भी नहीं है और उसकी आवाज के साथ साथ उसे भी अपना देवर समझ रहे हैं इसलिए वह इस मौके को हाथ से जाने नहीं देना चाहता था लगातार अपनी मां की चुचियों को दबाने की वजह से उसकी मा एकदम उत्तेजित होने लगी और अपने बेटे को देवर समझकर उसका साथ देते हुए खड़ी हो गई और अपनी बड़ी-बड़ी गोल-गोल गांड उसकी तरफ दिखाकर उसे लालचाने लगी... उसकी मां जिस तरह से अपनी बड़ी बड़ी गांड उसे दिखा रही थी वह समझ गया कि उसका काम बन गया है...


...
amit ki maa ekadam madhoshi ke aalam mein apne hi bete ko apna devar samajhkar... उसे अपनी गुलाबी बुर को अपने दोनों हाथों से खोलकर उसे दिखा रही थी आज पहली बार अमित अपनी मां की रसीली बुर के दर्शन कर रहा था वह पागल हो जा रहा था पजामे मैं उसकालंड पूरी तरह से खड़ा था...


....
अब अमित से रहा नहीं जा रहा था और वह तुरंत अपनी मां की गांड के पीछे जाकर एक हाथ से अपना लंड पकड़ कर उसे अपनी मां की गुलाबी बुर पर रखकर हल्का सा धक्का दिया और गीली बुर के अंदर अमित का मोटा तगड़ा लंड सर सराता हुआ अंदर घुस गया पहली बार हमीद किसी औरत की बुर में अपना लंड डाल रहा था और वह भी उसकी मा ही थी।
अमित को सब कुछ सपना सा लग रहा था और अमित की मां एक नौजवान मोटे तगड़े लंड को पाकर एकदम उत्तेजित हो गई थी और वह खुद अपनी बड़ी बड़ी गांड को पीछे की तरफ ठैल रही थी।
अमित जोर जोर से अपनी मां की बुर में लंड पेल रहा था। वह काफी उत्तेजित था। अमित की मां अपने बेटे को अपना देवर समझकर उसे उकसा रही थी और जोर जोर से धक्के लगाने के लिए और अपनी मां की बात सुनकर अमित की कमर किसी मशीन की तरह चल रही थी।

...
अमित अपनी पोजीशन बदलते हुए आमने सामने होकर अपनी मां की एक टांग ऊपर की तरफ उठाकर उसकी बुर में एक बार फिर लंड पेल दिया और तब तक चोदता रहा जब तक उसका पानी ना निकल गया होली के दिन अमित बहुत खुश था क्योंकि आज की होली उसके लिए खुशहाली और उसके जीवन में बदलाव लेकर आई थी।

 
Last edited:

rohnny4545

Well-Known Member
Messages
5,826
Reaction score
15,240
Points
159
जीजा के साथ मस्ती।

जीजा जी मैं अच्छी तरह से जानती हूं कि तुम चोरी चोरी मेरी गांड देखा करते हो क्या खास लगती है तुम्हें मेरी गांड में। जबकि दीदी कि मुझसे बेहतरीन और खूबसूरत गांड है।

रोमा तुम्हारी दीदी की गांड कैसी भी हो लेकिन मुझे तुम्हारी गांड बहुत खूबसूरत लगती है मैं धन्य हो जाऊंगा अगर तुम मुझे अपनी गांड खोल कर उसके दर्शन करा दो तो।

जीजा जी अगर ऐसी बात है तो लो मैं तुम्हें अपनी सलवार खोल कर अपनी गांड दिखा देती हूं।

लो जी भर कर देख लेना फिर मत कहना कि शादी में तुम्हारी सेवा नहीं की ‌


...
रोमा अपने जीजा को अपनी सलवार की डोरी खोल कर सलवार नीचे करके अपनी बड़ी बड़ी गांड दिखाने लगी जिसे देखकर रोमा का जीजा पागल हो जा रहा था उसकी आंखों में चमक साफ नजर आ रही थी ‌
...
अपनी साली की बड़ी-बड़ी गोरी गांड देखकर वह इस कदर पागल हुआ कि उसकी आंखों के सामने अपने सारे कपड़े उतार कर नंगा हो गया रोमा भी अपने जीजा का लंबा खड़ा लंड देखकर उत्तेजित होने लगी और उससे रहा नहीं गया और वह आगे बढ़कर अपने जीजा के लंड को हाथों से पकड़ कर हिलाने लगी।

....
ओहो जीजा तुम्हारा लैंड कितना मोटा और लंबा है इसे देखकर तो मेरे मुंह में पानी आ रहा है।

तो देर किस बात की है मेरी रानी किसी अपने मुंह में लेकर इसे धन्य कर दो।
रोमा का जीजा अपने खड़े लंड को रोमा की कुंवारी बुर पर रगड़ते हुए बोला
...
देखते ही देखते रोमा अपने जीजा के लंड को धीरे-धीरे करके अपने गले तक उतार कर चूसना शुरू कर दिया ऐसा लग रहा था कि जैसे वह लॉलीपॉप चूस रही हो उसे बहुत मजा आ रहा था कुछ देर तक ऐसे ही अपने जीजा का लंड हमें लिए लिए उसका जीजा झड़ गया और वह उसका गर्म लावा बूंद बूंद करके अपने गले के नीचे उतार ले

 
Last edited:

rohnny4545

Well-Known Member
Messages
5,826
Reaction score
15,240
Points
159
.... सुधा का पेशाब करना....

पति के देहांत के बाद सुधा के जीवन में कुछ ऐसे बदलाव आए कि वह अपने बेटे के साथ ही शारीरिक संबंध बनाने लगी जिसमें दोनों की सम्मति थी। दोनों मां बेटी एक दूसरे के साथ पूरा मजा लेते थे दोनों एक दूसरे से अपनी जरूरतों को पूरा करने लगे थे जिसमें दोनों को आनंद आता था ऐसे ही एक दिन वह लोग अपने गांव गए हुए थे और वहां पर चारों तरफ दोपहर का सन्नाटा फैला हुआ था और सुधा को जोरों से पेशाब लगी हुई थी वह पेशाब करना चाह रही थी और उसका बेटा राहुल उसे पेशाब करता हुआ देखना चाहता था। और अपने बेटे की इस ख्वाहिश को पूरा करने के लिए सुधा भी तैयार हो गए और तुरंत अपनी साड़ी को कमर तक उठा कर अपनी मद मस्त गांड जो की पेंटी में कैद थी उसे दिखाने लगी।

..
..वैसे तो राहुल अपनी मां को बहुत बार संपूर्ण नग्न अवस्था में देख चुका था लेकिन इस समय की बात कुछ और थी वह अपनी मां की बड़ी-बड़ी पेंटिंग में कैद गांड को देखकर मस्त होने लगा... और देखते ही देखते सुधा अपने हाथों से अपनी पेंटी पकड़कर नीचे कर दी.

....
राहुल अपनी मां की बड़ी बड़ी गांड देखकर पागल होने लगा...

वैसे भी सुधा बेहद खूबसूरत औरत है जिसे देखकर मोहल्ले के सारे मर्द पागल हो जाते थे...



राहुल अपने मन पर काबू नहीं कर पा रहा था और वहां पैंटी के ऊपर से ही अपनी मां की कचोरी जैसी फूली हुई बुर को सहला रहा था

सुधा भी अपने बेटे के हथेलियों के स्पर्श को अपनी फूली हुई बुर पर महसूस करके मस्त होने लगी।

राहुल अपने चारों तरफ नजर दौड़ा कर यह देखकर निश्चित कर लेना चाह रहा था कि कहीं कोई देख तो नहीं रहा है और चारों तरफ से तसल्ली कर लेने के बाद राहुल अपने हाथ से अपनी मां की पैंटी को थोड़ा सा खींचकर उसकी बालों से भरी हुई बुर को देखकर एकदम उत्तेजित हो गया।

सुधा को बड़े जोरों से पेशाब लगी हुई थी इसलिए वह अपने आप पर बिल्कुल भी नियंत्रण नहीं कर पाई और वहीं बैठ कर पेशाब करने लगी. राहुल तो यह देखकर उत्तेजना से फूला नहीं समा रहा था
...
वह अपनी मां के चारों तरफ घूम घूम कर हमसे पेशाब करते हुए देख रहा था जिससे सुधा को भी बहुत ही ज्यादा उत्तेजना का अनुभव हो रहा था क्या जी

 
Last edited:
Top

Dear User!

We found that you are blocking the display of ads on our site.

Please add it to the exception list or disable AdBlock.

Our materials are provided for FREE and the only revenue is advertising.

Thank you for understanding!