Adultery Shaadishuda Bahu Kamini ke Chudai ke Karname

  • You need a minimum of 50 Posts to be able to send private messages to other users.
  • Register or Login to get rid of annoying pop-ads.

HusnKiMallika

Mallika
Messages
816
Reaction score
1,027
Points
124
today coming soon !!!!
💋
💋
💋
💋
💋
💋
💋
💋
💋
💋
💋
💋
💋
💋
 

HusnKiMallika

Mallika
Messages
816
Reaction score
1,027
Points
124
PART 8 - A LESBIAN AFFAIR

एक परिपक्व (mature) महिला थी जो अभी-अभी पड़ोस में आई थी। वह लगभग ४५ की उमर की एक अच्छी तरह से निर्मित महिला थी। जब वह पहली बार पड़ोस में आई थी, तो वह रुक गई थी और मुझसे और मेरे पति से बातचीत की थी।



मेरा मानना है कि ज्यादातर मर्दों के लिए उसकी उपस्थिति नशे की लत थी। मैंने अपने पति को भी उसे घूरते हुए पकड़ा थी। उनके सिर पर घने काले बाल, बड़े, उभरे हुए स्तन और चौड़े कूल्हे थे।



E7337-DC3-5-AA2-4-A07-81-FC-83-FBF6-B5-EAD7


उनके पति एक धनी व्यापारी थे, जो ज़्यादातर घर से बहुत टूर करते थे। उन्हें उस बात से कोई आपत्ति नहीं थी, वह उन आत्मनिर्भर महिलाओं में से एक थी, जो खुद को बहुत ज्यादा व्यस्त रखती थी।



सुबह जब हम अपने जॉगिंग पर निकले थे तब मैं और पति ने उन्हें वहाँ देखा थी। में आश्चर्य से देख रही थी कि उसकी उम्र में भी यह परिपक्व बक्सोम महिला सुबह की जॉगिंग भी करती थी। हम तीनों ने बातचीत की और उन्होंने कहा कि उसका नाम अश्विनी है।


जब मेरे पति एक कॉल अटेंड करने साइड में गए थे। तब अश्विनी जी ने मुझे शाम की चाय के लिए आमंत्रित किया। किसी भी समय आओ वह बोली, पाँच बजे के बाद में आऊँगी तो बेहतर होगा। फिर उन्होंने एक प्यारी सी मुस्कान दी और मेरे हाथ को हल्के से निचोड़ लिया।


मैं एक लड़की हूं और मुझे पता है कि हाथ का ऐसा निचोड़ लेना दोस्ती के रूप से नहीं है , बल्कि इसके पीछे यौन इरादे हैं। मैं यह देखने के लिए उत्साहित और उत्सुक थी कि क्या होने वाला हैं शाम को इस आकर्षित महिला के साथ। मैं भी मुस्कुरा कर हाँ में सिर हिलायी।



मैं शाम के आने का इंतजार कर रही थी। मैंने एक प्यारी सी स्लीवलेस कुर्ती और काफ़ी टाइट लेगिंग पहनी थी। मैं अपने बदन का ज़्यादा प्रदर्शन नहीं करना चाहतीथी क्योंकि आख़िरकार अश्विनी जी एक परिपक्व महिला थी और मेरे शरीर का अनावश्यक प्रदर्शन शायद वहपसंद नहीं करेगी।





99-DE351-F-5-EED-40-B0-B858-59-FF49-A32-D64


जभी मेंने उन्हें बाहर देखा था वह बस सारी में ही होती थी। सलीवलेसस और दीप बैक लेकिन और कुछ ज़्यादा नहीं बदन का प्रदर्शन करती थी Mrs.अश्विनी।


शाम के लगभग 5 बज रहे थे जब मैंने उनके घर के दरवाज़े को खटखटायी। तब एक सुंदर नौकरानी ने दरवाजा खोला था। उन्होंने मुझे ऊपर जाने को कहा। मैडम अभी तैयार हो रही हैं और उन्होंने आपको ऊपर भेजने का निर्देश दिया हैं। यह कहते हुए नौकरानी ठिठक कर मुस्कुराई। मैं सीढ़ियों पर चढ़ गयी और रूम का दरवाजा थोड़ा खुला था और दरवाज़े पर धीरे से खटखटाकर में अंदर प्रवेश करी।




एक शॉवर के प्रभाव से हवा में नमी थी, और श्रीमती अश्विनी एक बड़े लाल तौलिये में लिपटे अपने स्नान कक्ष के बाहर प्रवेश कर गई। तोवेल बड़ा होना ही था, क्योंकि जैसा कि आप जानते हैं कि Mrs.अशविनी एक कामुक और बहुत सुडौल बदन की महिला है!


F1-A55651-9-A3-E-4-BD7-8-E4-A-265055-A0-EFB4



वह उत्साह से मेरे पास आई और मेरे गाल पर किस करी। 'मुझे बहुत खुशी है कि आप मेरे घर आ सकी, मैं बस अपने शॉवर के बाद तैयार होने जा रही हूं, आओ तुममुझे साथ दो। बिना में कुछ बोले , उन्होंने मेरा हाथ थीम लिया और मुझे ड्रेसिंग टेबल पर ले गई, जहां वह एक बड़े आईने के सामने बैठ गयी।



उन्होंने लाल रंग की लिपस्टिक लगाकर और अपने लंबे काले बालों में कंघी करके अपना मेकअप करना शुरू कर दिया। वह एक सेक्सी और कामुक महिला थी, और मैं भी उन्हें करीब से देखने लगी। बार-बार अशविनी जी आईने में मेरी तरफ देखती रही। मैंने देखा कि उसके armpits के नीचे बाल थे।


मुझे यह नजारा अजीब तरह से उत्तेजित करने लगी। आम तौर पर महिलाएं पूरे बदन को चिकनी रखती हैं, लेकिन अश्विनी जी की बाहों के नीचे के इन बालों का नजारा दिलचस्प लगी । अशविनी जी अब अपने कंधों और बाहों पर लोशन लगाने लगी। एक प्यारी आवाज़ से, वह बोली, कामिनी क्या तुम इस लोशन को मेरी पीठ पर रगड़ कर मालिश कर सकोगी।



मैं थोड़ा स्तब्द रह गया थी। एक महिला की नग्न त्वचा को छूने का विचार मुझे काफी बोल्ड लगी। में झिझक रही थी , लेकिन अश्विनी जी आईने में मुझे बहुत करीब से देख रही थी। अब में लोशन को अश्विनी जी के बदन पर लगने लगी। उफ़्फ़्फ़्फ अशविनी जी की त्वचा काफ़ी कोमल और चिकनी थी। मैंने जो संवेदनाएँ महसूस कीं वे विद्युत थीं। मुझे एक महिला की पीठ की मालिश करने का यह कार्य काफ़ी कामुक लगने लगी थी ।

मुझे भी मज्जा आने लगा था तो मैंने अपनी मालिश को जितना हो सके उतना धीमा और कामुक करी, अपने दोनों हाथों से उनके कंधों को गूंथते हुए और उनकी गर्दन की मांसपेशियों में तनाव को कम करके मालिश करने लगी।





Mrs. अश्विनी ने मेरे खिलाफ पीठ थपथपाई और अपना सिर अगल-बगल घूमने लागू और कमुक्ता से कहने लगी 'आह, यह बहुत अच्छा लग रहा है कामिनी। तुम इतनी अच्छी मालिश कर रही हो, इसके वजह से में सारे तनाव से छुटकारा पा रहीहूँ।”



ezgif-com-gif-maker



उन्होंने अपना दाहिना हाथ उठाया और मेरी बाएँ हाथ को निचोड़ते हुए उस पर रख दिया। 'धन्यवाद, मेरी प्रिय, यह aunty वास्तव में आप जो कर रही हैं उसकी सराहना करती हैं।' मैं शरमा गया और वापस हकलायी 'ओह, यह ठीक है। मुझे आपकी मदत करने में खुशी हो रही है...'



अशविनी जी बोली “कामिनी क्या मेरी पीठ की अच्छी तरह से मालिश करोगी। तुम्हारे हाथो में जादू हैं मेरी प्रिय कामिनी”

मुझे अब उनकी और मालिश करनी थी, मेरी चूत में हलचल होने लगी थी।



माइन मेरे हाथ को उनके चारों ओर लिपटे तौलिये के किनारे की ओर धकेल दी।



“कामिनी,' उन्होंने कहा, 'मुझे तुम्हारी मदद करने दो' और इसके साथ ही उन्होंने तौलिया को खोल दिया और उसे अपने कंधों से नीचे अपनी कमर तक जाने दिया। उनकी नंगी पीठ अब उजागर हो गई थी। लेकिन बस उनकी मुलायम पीठ ही नहीं हैंहै जो मेरी नजर में आयी बल्कि, मेरी निगाह उनके बड़े और भारी स्तनों की ओर खींची गई थी जो अब आईने में स्पष्ट रूप से मुझे दिखाई दे रही थी। अश्विनी जी के काफ़ी बड़े स्तन थे , और वे मेरी मालिश की लय में इधर-उधर हिलते झूलते लहरा रहे थे।



फिर से Mrs.अश्विनी ने मेरा तीव्र रूप देखी और मोहक रूप से मुस्कुराई।”'यहाँ, मुझे उस लोशन में से कुछ लगाओ।” उन्होंने अपने बड़े परिपक्व स्तनों में लोशन मालिश करना शुरू कर दिया, उन्हें अपने हाथों में उनके स्तनों को घुमायी, आकृति को महसूस करी, और फिर अपने कठोर निपल्स पर विशेष रूप से ध्यान देकर वहाँ मालिश करने लगी।



ezgif-com-gif-maker-2

अश्विनी जी बोली “तुम देख सकते हैं, प्रिय, आपकी aunty के कंधों में दर्द क्यों होता है। यह इन बड़ी वस्तुओं के हिलने डलने के वजह से है। मैं कभी-कभी तुम जैसे स्तन वाली महिलाओं से ईर्ष्या करती हूं; आपके पास झेलने के लिए यह अतिरिक्त भार नहीं है।”




वह आगे बोलती रही “लेकिन मेरे इन बड़े स्तनों ने, उन्होंने मुझे बहुत वर्षों से बहुत खुशी दी है। मर्द उन्हें प्यार करते हैं, और मेरे पति अभी भी मेरे स्तनों के लिए पागल हैं। लेकिन यह केवल मर्द को आकर्षित करती नहीं हैं , सिर्फ़ मर्द उन्हें प्यार करते नहीं हैं।'

इतना कह कर अशविनी जी मेरे सामने झुक गई और मैंने उनके कंधों की मालिश करना बंद कर दि, बस अपने हाथों को उनके कंधों के दोनों ओर रख दी। अब अपने बड़े स्तन लेकर अशविनी जी मेरे सामने होकर बैठ गयी। जैसे वह मूव्मेंट कर रही थी मेरे सामने टर्न करने के लिए उनके बड़े चूचियाँ हिलने डुलने लगे और मेरी नज़र उनपर मंत्रमुग्ध हो कर टिकी रही।


मुझे ऐसे उनके स्तनों को घूरते देख अशविनी जी मुस्कुरायी और बोली “'महिलाएं भी घूरे करती हैं वहाँ कामिनी जी। आपको आश्चर्य होगी कि मैं कितनी बार महिलाओं को अपने स्तनों को घूरते हुए देखटी हूं।” इतना सुन कर में हड़बड़ा गयी और मेरी नज़र हनके स्तनों से निकाल कर उन्हें देखने लगी।



“कामिनी , तुम महिलाओं पर भी आश्चर्य करेंगे - सम्मानित महिलाएं, विवाहित महिलाएं, उच्च जाति की महिलाएं सब घूरते रहते वहाँ।” और इतना कह कर उन्होंने अपने स्तनों के तरफ़ अपनी आँखों से इशारा करी। में तो काफ़ी शर्मा रही थी उनकी नज़र पर जो अब मेरी भी चूचियों पर टिकी हुयी थी। अशविनी जी आगे बोले “और आप जानते हैं, कामिनी, मुझे उन्हें देखते हुए पकड़ना अच्छा लगता है। मुझे यह जानकर खुशी होती है कि वे मुझे चाहते हैं, कि वे मेरे स्तनों को सहलाना चाहते हैं।'





में शर्मा कर दूसरी तरफ़ मूडी तब फिर उन्होंने फिर से मेरा हाथ थाम लिया और इस बार मुझे उनके सामने घुमाया। “आप देखिए, कामिनी, कि एक महिला का स्पर्श विशेष कैसा होता है। यह सज्जन, अधिक संवेदनशील, मर्दों की तुलना में अधिक धैर्यवान है।”



मैं वैसे इन्हें मर्दों से भी दबवाना पसंद करती हूँ । हाँ, मुझे अच्छा लगता है जब मेरे पति अपने सख्त लंड से मुझे चोदते हैं, लेकिन एक महिला का स्पर्श है जिसकी मुझे अब लालसा होती है। इसलिए मुझ महिलाओं से प्यार करना पसंद है और अब उसकी जरूरत में महसूस करती हूँ!”



अब तो में शरम से लाल ही हुयी थी। अशविनी जी ने मेरे हाथ थामें हुए थे और उन्हें सहलाने लगे थे।


'क्या आप पहले किसी लेस्बीयन (lesbian) से मिली हों, कामिनी?' मैंने अपना ना में सिर हिलाया, में तो इस सवाल से चौंक गयी थी। 'आपके पास शायद ऐसी महिलाएँ आयी है - ऐसी और भी महिलाएं हैं जिनके पास लेस्बीयन (lesbian) इच्छाएं हैं । ऐसी महिलाएँ जिनकी आप कल्पना भी नहीं कर सकती हो। खैर, मैं एक लेस्बीयन बन चुकी हूं। मुझे आशा है कि यह बात आपको परेशान नहीं करेगी” - इस पर उन्होंने मेरा हाथ अपने होठों के तरफ़ उठा कर उन्हें चूमने लगी।





'ज्यादातर महिलाओं की कभी न कभी समलैंगिक(lesbian) इच्छाएं होती हैं। ज्यादातर महिलाओं को दूसरी महिलाएं आकर्षक लगती हैं।' वह अब उठ खड़ी हुई, तौलिया उनकेकामुक सुडोल शरीर को प्रकट करते हुए पूरी तरह से गिर रहा था। 'क्या आप जो नज़ारादेख रहे हैं वह आपको पसंद है, कामिनी?”



मैं डर और इच्छा के मिश्रण से अब थोड़ी कांप रही थी। यह महिला मेरे साथ क्या कर रही थी! मैं उनके घर में बिना सेक्स के विचार के प्रवेश कर गयी थी, और अब मैं उनके शानदार नग्न शरीर के सामने खड़ी थी। उनके हिलने-डुलने वाले चूचियों को देख में बोलने में असमर्थ थी। 'मुझे लगता है कि मैं आपको मेरा बदन पसंद हैं।” अशविनी जी बोली।





“चिंता मत करो, कामिनी, कई विवाहित महिलाओं ने आपकी तरह ऐसी प्रतिक्रिया व्यक्त की है, दूसरी महिला के लिए अपनी इच्छाओं को बताने से डरती है। लेकिन जब वे महिलाएँ मेरी बन गयी थी तब उन्हें इसका पछतावा नहीं हुआ।' इतना कहकर अशविनी जी ने उनकाहाथ उठायी और मेरी गर्दन के पीछे रख दि। अब वह मेरे काफ़ी क़रीब थी 'aunty के पास आओ, मेरे पास वह है जो तुम्हें चाहिए।'

उन्होंने मुझे आगे खींच लिया उनकी तरफ़। उनके स्तन केवल एक इंच दूर थे। हम दोनों जोर-जोर से सांस ले रहे थे। “आओ मुझे छुओ, कामिनी, मेरे भारी स्तनों का भार महसूस करो। मैं तुम्हें अपने प्रिय जैसे प्यार करूंगी”



उन्होंने अपनी आँखें बंद कर लीं और अपनी बाहें अपने सिर के ऊपर उठा लीं। उनके स्तन अब मेरे सामने थे और उनकी निपल्ज़ टन कर खड़ी थी। मैं एक महिला के अपने पहले स्पर्श के लिए उत्सुक, अस्थायी रूप से आगे बढ़ी। मैंने अपने हाथों की हथेलियों से उनकी चूचियों की मालिश करने से पहले, धीरे से अपने हाथों को उनके चूचियों के मांस कीकोमल अंगों पर फेरने लगी। 'यही बात है प्रिये, आंटी के स्तनों से प्यार करो। उनका अन्वेषण करें। वे आपके हैं। उनके साथ खेलो। उफ़्फ़्फ मेरी प्रिये, इधर पास आओ।'

उन्होंने मुझे अपनी बाँहों में ले लिया और मेरे मुँह कोक अपनी ओर दबा लिया। मैं विरोध नहीं करो। हम डोनो अब जोश से एक दूसरे के होठों को चूमने लगे, क्योंकि अब मुझमें भी आग लग गई थी।




ezgif-com-gif-maker-3

उनकी जीभ जल्द ही मेरी मुंह के अंदर गहराई तक जा रही थी। वह मुझमें एक अलग एहसास की खुलासा कर रही थी कुछ ऐसा जो कई वर्षों से मुझमें निष्क्रिय हुआ होगा जिसे मेंने अब तक अंदर दबाए रखी होगी। 'हाँ, आंटी, हाँ, मैंने आपके स्तनों के तरफ़ आज सुबह घूर चुकी हूँ , मैंने आपके कामुक और सुदोल शरीर के बारे में कल्पना की है। मुझे आप एक महिला से प्यार करना सिखाएं, मेरी समलैंगिक(lesbian) कौमार्य (virginity) ले लीजिए। मैं आपकी हूँ, बस आज मैं आपकी हूँ आंटी...”



अश्विनी जी अब मोहक मुस्कान के साथ मुझसे दूर चली गई और धीरे-धीरे बिस्तर की ओर चली गई, वह अब उस पर चढ़ गई और उनके बिस्तर के शानदार तकियों के सामने झुक गई। उनके बड़े स्तन उनके शरीर के दोनों ओर स्वाभाविक रूप से लटके हुए थे और उन्होंने अपनी योनी के घने काले बालों को प्रकट करने के लिए अपने पैरों को अलग करी।



87-A64-DDB-3-F4-A-4371-B28-A-10-F377-F16539



उन्होंने अपनी उंगलियों से खुद के चूत को सहलाने लगी। 'उम्म कामिनी, तुमने मुझे नीचे गीला कर दिया है। तुम अपने पहने हुए कपड़ों को क्यों नहीं उतार देती? आंटी को तुम्हारी सेक्सी जवान बदन को देखने दे, आपकी सेक्सी बदन जो आपके नए लवर को पागल कर रही हैं।.'

अभी भी घबराए हुए, मैंने अपनी कुरती उतार दी और अपनी लेग्गिंग्स को उतरी, और में अब केवल मेरी ब्रा और पैंटी में उनके सामने खड़ी थी।







'यही तो है मेरी जान। अब अपनी ब्रा और पैंटी उतारो - मैं तुम्हारी नग्न बादन को देखना चाहती हूँ।'



जैसा मुझे बताया गया था मैंने वैसा ही करी और जल्द ही अश्विनी जी के सामने नग्न हो गयी। 'सुन्दर अति सुन्दर। अब यहाँ आओ मेरी प्यारी, आंटी की गोद में आओ।'

मैं बिस्तर पर चढ़ गयी और उनके स्वागत के आलिंगन में रेंग गयी। उन्होंने अपने कामुक रूप को दिखाते मुझे अपने बड़े स्तनों के खिलाफ खींच लिया और मुझे अपनी कोमल जाँघों से ढँक दिया। जब उन्होंने मुझे प्यार से और गहराई से होठों पर चूमा और उनका हाथ मेरी मुलायम पीठ पर रख दिया।



“हे 'भगवान, आपने आंटी को इतना गर्म कर दिया है। मुझे आपके युवा शरीर से प्यार है। मैं आप के हर इंच से प्यार करना चाहती हूं। मैं आपको दिखाना चाहती हूं कि एक महिला की जीभ क्या कर सकती है।' मैंने अपना मुँह उनकी ओर रखी और हमारे बीच कामुक चुंबन जारी रही।




, मुझे पहले कभी इस तरह से चूमा नहीं गया था, वह इतनी कोमल चुम्बन थी, वह मेरी ज़रूरतों को इतनी अच्छी तरह जानती थी। अब हम डोनो के स्तनों का आपस में दबने का अहसास, उनके मांसल मांस में मेरे निप्पल, लगभग उतना ही था जितना मैं सहन कर सकतीथी। जैसे ही मेंने उनका हाथ चूमा और उन्होंने वह हाथ मेरी गांड पर टिका दिया और वह मेरि गांड-गाल को ज़ोर से दबाने लगी।



मैं महसूस कर सकती थी की उनकी उँगलियों कीनाखून मेरी गाँड के छेद पर वह सहलाने लगी थी। मैंने उनकी उंगलीयों की अच्छी तरह से मेरी गाँड छेद पर चुबन महसूस करने के किए अपनी गांड को पीछे धकेलते हुए कराह उठी।उन्होंने मेरी इशारे समझ लिये और अपनी उंगलीयों को मेरी गांड के छेद में दबा दी। “अह्ह्ह उफ़्फ़्फ़्फ़्फ़ ऊओईई माँ” में कमुक्ता से कराह उठी।



1-A098-EDE-CF87-4853-9-F99-0-D6153-B85757
 
Last edited:

Mass

Well-Known Member
Messages
3,174
Reaction score
5,387
Points
143
Super hot update Mallika ji...lesbian scene add karke bahut accha kiya. Dhanyawaad.
 

Mr.007

Mr. Hola
Messages
540
Reaction score
791
Points
94
PART 8 - A LESBIAN AFFAIR

एक परिपक्व (mature) महिला थी जो अभी-अभी पड़ोस में आई थी। वह लगभग ४५ की उमर की एक अच्छी तरह से निर्मित महिला थी। जब वह पहली बार पड़ोस में आई थी, तो वह रुक गई थी और मुझसे और मेरे पति से बातचीत की थी।



मेरा मानना है कि ज्यादातर मर्दों के लिए उसकी उपस्थिति नशे की लत थी। मैंने अपने पति को भी उसे घूरते हुए पकड़ा थी। उनके सिर पर घने काले बाल, बड़े, उभरे हुए स्तन और चौड़े कूल्हे थे।



E7337-DC3-5-AA2-4-A07-81-FC-83-FBF6-B5-EAD7


उनके पति एक धनी व्यापारी थे, जो ज़्यादातर घर से बहुत टूर करते थे। उन्हें उस बात से कोई आपत्ति नहीं थी, वह उन आत्मनिर्भर महिलाओं में से एक थी, जो खुद को बहुत ज्यादा व्यस्त रखती थी।



सुबह जब हम अपने जॉगिंग पर निकले थे तब मैं और पति ने उन्हें वहाँ देखा थी। में आश्चर्य से देख रही थी कि उसकी उम्र में भी यह परिपक्व बक्सोम महिला सुबह की जॉगिंग भी करती थी। हम तीनों ने बातचीत की और उन्होंने कहा कि उसका नाम अश्विनी है।


जब मेरे पति एक कॉल अटेंड करने साइड में गए थे। तब अश्विनी जी ने मुझे शाम की चाय के लिए आमंत्रित किया। किसी भी समय आओ वह बोली, पाँच बजे के बाद में आऊँगी तो बेहतर होगा। फिर उन्होंने एक प्यारी सी मुस्कान दी और मेरे हाथ को हल्के से निचोड़ लिया।


मैं एक लड़की हूं और मुझे पता है कि हाथ का ऐसा निचोड़ लेना दोस्ती के रूप से नहीं है , बल्कि इसके पीछे यौन इरादे हैं। मैं यह देखने के लिए उत्साहित और उत्सुक थी कि क्या होने वाला हैं शाम को इस आकर्षित महिला के साथ। मैं भी मुस्कुरा कर हाँ में सिर हिलायी।



मैं शाम के आने का इंतजार कर रही थी। मैंने एक प्यारी सी स्लीवलेस कुर्ती और काफ़ी टाइट लेगिंग पहनी थी। मैं अपने बदन का ज़्यादा प्रदर्शन नहीं करना चाहतीथी क्योंकि आख़िरकार अश्विनी जी एक परिपक्व महिला थी और मेरे शरीर का अनावश्यक प्रदर्शन शायद वहपसंद नहीं करेगी।





99-DE351-F-5-EED-40-B0-B858-59-FF49-A32-D64


जभी मेंने उन्हें बाहर देखा था वह बस सारी में ही होती थी। सलीवलेसस और दीप बैक लेकिन और कुछ ज़्यादा नहीं बदन का प्रदर्शन करती थी Mrs.अश्विनी।


शाम के लगभग 5 बज रहे थे जब मैंने उनके घर के दरवाज़े को खटखटायी। तब एक सुंदर नौकरानी ने दरवाजा खोला था। उन्होंने मुझे ऊपर जाने को कहा। मैडम अभी तैयार हो रही हैं और उन्होंने आपको ऊपर भेजने का निर्देश दिया हैं। यह कहते हुए नौकरानी ठिठक कर मुस्कुराई। मैं सीढ़ियों पर चढ़ गयी और रूम का दरवाजा थोड़ा खुला था और दरवाज़े पर धीरे से खटखटाकर में अंदर प्रवेश करी।




एक शॉवर के प्रभाव से हवा में नमी थी, और श्रीमती अश्विनी एक बड़े लाल तौलिये में लिपटे अपने स्नान कक्ष के बाहर प्रवेश कर गई। तोवेल बड़ा होना ही था, क्योंकि जैसा कि आप जानते हैं कि Mrs.अशविनी एक कामुक और बहुत सुडौल बदन की महिला है!


F1-A55651-9-A3-E-4-BD7-8-E4-A-265055-A0-EFB4



वह उत्साह से मेरे पास आई और मेरे गाल पर किस करी। 'मुझे बहुत खुशी है कि आप मेरे घर आ सकी, मैं बस अपने शॉवर के बाद तैयार होने जा रही हूं, आओ तुममुझे साथ दो। बिना में कुछ बोले , उन्होंने मेरा हाथ थीम लिया और मुझे ड्रेसिंग टेबल पर ले गई, जहां वह एक बड़े आईने के सामने बैठ गयी।



उन्होंने लाल रंग की लिपस्टिक लगाकर और अपने लंबे काले बालों में कंघी करके अपना मेकअप करना शुरू कर दिया। वह एक सेक्सी और कामुक महिला थी, और मैं भी उन्हें करीब से देखने लगी। बार-बार अशविनी जी आईने में मेरी तरफ देखती रही। मैंने देखा कि उसके armpits के नीचे बाल थे।


मुझे यह नजारा अजीब तरह से उत्तेजित करने लगी। आम तौर पर महिलाएं पूरे बदन को चिकनी रखती हैं, लेकिन अश्विनी जी की बाहों के नीचे के इन बालों का नजारा दिलचस्प लगी । अशविनी जी अब अपने कंधों और बाहों पर लोशन लगाने लगी। एक प्यारी आवाज़ से, वह बोली, कामिनी क्या तुम इस लोशन को मेरी पीठ पर रगड़ कर मालिश कर सकोगी।



मैं थोड़ा स्तब्द रह गया थी। एक महिला की नग्न त्वचा को छूने का विचार मुझे काफी बोल्ड लगी। में झिझक रही थी , लेकिन अश्विनी जी आईने में मुझे बहुत करीब से देख रही थी। अब में लोशन को अश्विनी जी के बदन पर लगने लगी। उफ़्फ़्फ़्फ अशविनी जी की त्वचा काफ़ी कोमल और चिकनी थी। मैंने जो संवेदनाएँ महसूस कीं वे विद्युत थीं। मुझे एक महिला की पीठ की मालिश करने का यह कार्य काफ़ी कामुक लगने लगी थी ।

मुझे भी मज्जा आने लगा था तो मैंने अपनी मालिश को जितना हो सके उतना धीमा और कामुक करी, अपने दोनों हाथों से उनके कंधों को गूंथते हुए और उनकी गर्दन की मांसपेशियों में तनाव को कम करके मालिश करने लगी।





Mrs. अश्विनी ने मेरे खिलाफ पीठ थपथपाई और अपना सिर अगल-बगल घूमने लागू और कमुक्ता से कहने लगी 'आह, यह बहुत अच्छा लग रहा है कामिनी। तुम इतनी अच्छी मालिश कर रही हो, इसके वजह से में सारे तनाव से छुटकारा पा रहीहूँ।”



ezgif-com-gif-maker



उन्होंने अपना दाहिना हाथ उठाया और मेरी बाएँ हाथ को निचोड़ते हुए उस पर रख दिया। 'धन्यवाद, मेरी प्रिय, यह aunty वास्तव में आप जो कर रही हैं उसकी सराहना करती हैं।' मैं शरमा गया और वापस हकलायी 'ओह, यह ठीक है। मुझे आपकी मदत करने में खुशी हो रही है...'



अशविनी जी बोली “कामिनी क्या मेरी पीठ की अच्छी तरह से मालिश करोगी। तुम्हारे हाथो में जादू हैं मेरी प्रिय कामिनी”

मुझे अब उनकी और मालिश करनी थी, मेरी चूत में हलचल होने लगी थी।



माइन मेरे हाथ को उनके चारों ओर लिपटे तौलिये के किनारे की ओर धकेल दी।



“कामिनी,' उन्होंने कहा, 'मुझे तुम्हारी मदद करने दो' और इसके साथ ही उन्होंने तौलिया को खोल दिया और उसे अपने कंधों से नीचे अपनी कमर तक जाने दिया। उनकी नंगी पीठ अब उजागर हो गई थी। लेकिन बस उनकी मुलायम पीठ ही नहीं हैंहै जो मेरी नजर में आयी बल्कि, मेरी निगाह उनके बड़े और भारी स्तनों की ओर खींची गई थी जो अब आईने में स्पष्ट रूप से मुझे दिखाई दे रही थी। अश्विनी जी के काफ़ी बड़े स्तन थे , और वे मेरी मालिश की लय में इधर-उधर हिलते झूलते लहरा रहे थे।



फिर से Mrs.अश्विनी ने मेरा तीव्र रूप देखी और मोहक रूप से मुस्कुराई।”'यहाँ, मुझे उस लोशन में से कुछ लगाओ।” उन्होंने अपने बड़े परिपक्व स्तनों में लोशन मालिश करना शुरू कर दिया, उन्हें अपने हाथों में उनके स्तनों को घुमायी, आकृति को महसूस करी, और फिर अपने कठोर निपल्स पर विशेष रूप से ध्यान देकर वहाँ मालिश करने लगी।



ezgif-com-gif-maker-2

अश्विनी जी बोली “तुम देख सकते हैं, प्रिय, आपकी aunty के कंधों में दर्द क्यों होता है। यह इन बड़ी वस्तुओं के हिलने डलने के वजह से है। मैं कभी-कभी तुम जैसे स्तन वाली महिलाओं से ईर्ष्या करती हूं; आपके पास झेलने के लिए यह अतिरिक्त भार नहीं है।”




वह आगे बोलती रही “लेकिन मेरे इन बड़े स्तनों ने, उन्होंने मुझे बहुत वर्षों से बहुत खुशी दी है। मर्द उन्हें प्यार करते हैं, और मेरे पति अभी भी मेरे स्तनों के लिए पागल हैं। लेकिन यह केवल मर्द को आकर्षित करती नहीं हैं , सिर्फ़ मर्द उन्हें प्यार करते नहीं हैं।'

इतना कह कर अशविनी जी मेरे सामने झुक गई और मैंने उनके कंधों की मालिश करना बंद कर दि, बस अपने हाथों को उनके कंधों के दोनों ओर रख दी। अब अपने बड़े स्तन लेकर अशविनी जी मेरे सामने होकर बैठ गयी। जैसे वह मूव्मेंट कर रही थी मेरे सामने टर्न करने के लिए उनके बड़े चूचियाँ हिलने डुलने लगे और मेरी नज़र उनपर मंत्रमुग्ध हो कर टिकी रही।


मुझे ऐसे उनके स्तनों को घूरते देख अशविनी जी मुस्कुरायी और बोली “'महिलाएं भी घूरे करती हैं वहाँ कामिनी जी। आपको आश्चर्य होगी कि मैं कितनी बार महिलाओं को अपने स्तनों को घूरते हुए देखटी हूं।” इतना सुन कर में हड़बड़ा गयी और मेरी नज़र हनके स्तनों से निकाल कर उन्हें देखने लगी।



“कामिनी , तुम महिलाओं पर भी आश्चर्य करेंगे - सम्मानित महिलाएं, विवाहित महिलाएं, उच्च जाति की महिलाएं सब घूरते रहते वहाँ।” और इतना कह कर उन्होंने अपने स्तनों के तरफ़ अपनी आँखों से इशारा करी। में तो काफ़ी शर्मा रही थी उनकी नज़र पर जो अब मेरी भी चूचियों पर टिकी हुयी थी। अशविनी जी आगे बोले “और आप जानते हैं, कामिनी, मुझे उन्हें देखते हुए पकड़ना अच्छा लगता है। मुझे यह जानकर खुशी होती है कि वे मुझे चाहते हैं, कि वे मेरे स्तनों को सहलाना चाहते हैं।'





में शर्मा कर दूसरी तरफ़ मूडी तब फिर उन्होंने फिर से मेरा हाथ थाम लिया और इस बार मुझे उनके सामने घुमाया। “आप देखिए, कामिनी, कि एक महिला का स्पर्श विशेष कैसा होता है। यह सज्जन, अधिक संवेदनशील, मर्दों की तुलना में अधिक धैर्यवान है।”



मैं वैसे इन्हें मर्दों से भी दबवाना पसंद करती हूँ । हाँ, मुझे अच्छा लगता है जब मेरे पति अपने सख्त लंड से मुझे चोदते हैं, लेकिन एक महिला का स्पर्श है जिसकी मुझे अब लालसा होती है। इसलिए मुझ महिलाओं से प्यार करना पसंद है और अब उसकी जरूरत में महसूस करती हूँ!”



अब तो में शरम से लाल ही हुयी थी। अशविनी जी ने मेरे हाथ थामें हुए थे और उन्हें सहलाने लगे थे।


'क्या आप पहले किसी लेस्बीयन (lesbian) से मिली हों, कामिनी?' मैंने अपना ना में सिर हिलाया, में तो इस सवाल से चौंक गयी थी। 'आपके पास शायद ऐसी महिलाएँ आयी है - ऐसी और भी महिलाएं हैं जिनके पास लेस्बीयन (lesbian) इच्छाएं हैं । ऐसी महिलाएँ जिनकी आप कल्पना भी नहीं कर सकती हो। खैर, मैं एक लेस्बीयन बन चुकी हूं। मुझे आशा है कि यह बात आपको परेशान नहीं करेगी” - इस पर उन्होंने मेरा हाथ अपने होठों के तरफ़ उठा कर उन्हें चूमने लगी।





'ज्यादातर महिलाओं की कभी न कभी समलैंगिक(lesbian) इच्छाएं होती हैं। ज्यादातर महिलाओं को दूसरी महिलाएं आकर्षक लगती हैं।' वह अब उठ खड़ी हुई, तौलिया उनकेकामुक सुडोल शरीर को प्रकट करते हुए पूरी तरह से गिर रहा था। 'क्या आप जो नज़ारादेख रहे हैं वह आपको पसंद है, कामिनी?”



मैं डर और इच्छा के मिश्रण से अब थोड़ी कांप रही थी। यह महिला मेरे साथ क्या कर रही थी! मैं उनके घर में बिना सेक्स के विचार के प्रवेश कर गयी थी, और अब मैं उनके शानदार नग्न शरीर के सामने खड़ी थी। उनके हिलने-डुलने वाले चूचियों को देख में बोलने में असमर्थ थी। 'मुझे लगता है कि मैं आपको मेरा बदन पसंद हैं।” अशविनी जी बोली।





“चिंता मत करो, कामिनी, कई विवाहित महिलाओं ने आपकी तरह ऐसी प्रतिक्रिया व्यक्त की है, दूसरी महिला के लिए अपनी इच्छाओं को बताने से डरती है। लेकिन जब वे महिलाएँ मेरी बन गयी थी तब उन्हें इसका पछतावा नहीं हुआ।' इतना कहकर अशविनी जी ने उनकाहाथ उठायी और मेरी गर्दन के पीछे रख दि। अब वह मेरे काफ़ी क़रीब थी 'aunty के पास आओ, मेरे पास वह है जो तुम्हें चाहिए।'

उन्होंने मुझे आगे खींच लिया उनकी तरफ़। उनके स्तन केवल एक इंच दूर थे। हम दोनों जोर-जोर से सांस ले रहे थे। “आओ मुझे छुओ, कामिनी, मेरे भारी स्तनों का भार महसूस करो। मैं तुम्हें अपने प्रिय जैसे प्यार करूंगी”



उन्होंने अपनी आँखें बंद कर लीं और अपनी बाहें अपने सिर के ऊपर उठा लीं। उनके स्तन अब मेरे सामने थे और उनकी निपल्ज़ टन कर खड़ी थी। मैं एक महिला के अपने पहले स्पर्श के लिए उत्सुक, अस्थायी रूप से आगे बढ़ी। मैंने अपने हाथों की हथेलियों से उनकी चूचियों की मालिश करने से पहले, धीरे से अपने हाथों को उनके चूचियों के मांस कीकोमल अंगों पर फेरने लगी। 'यही बात है प्रिये, आंटी के स्तनों से प्यार करो। उनका अन्वेषण करें। वे आपके हैं। उनके साथ खेलो। उफ़्फ़्फ मेरी प्रिये, इधर पास आओ।'

उन्होंने मुझे अपनी बाँहों में ले लिया और मेरे मुँह कोक अपनी ओर दबा लिया। मैं विरोध नहीं करो। हम डोनो अब जोश से एक दूसरे के होठों को चूमने लगे, क्योंकि अब मुझमें भी आग लग गई थी।




ezgif-com-gif-maker-3

उनकी जीभ जल्द ही मेरी मुंह के अंदर गहराई तक जा रही थी। वह मुझमें एक अलग एहसास की खुलासा कर रही थी कुछ ऐसा जो कई वर्षों से मुझमें निष्क्रिय हुआ होगा जिसे मेंने अब तक अंदर दबाए रखी होगी। 'हाँ, आंटी, हाँ, मैंने आपके स्तनों के तरफ़ आज सुबह घूर चुकी हूँ , मैंने आपके कामुक और सुदोल शरीर के बारे में कल्पना की है। मुझे आप एक महिला से प्यार करना सिखाएं, मेरी समलैंगिक(lesbian) कौमार्य (virginity) ले लीजिए। मैं आपकी हूँ, बस आज मैं आपकी हूँ आंटी...”



अश्विनी जी अब मोहक मुस्कान के साथ मुझसे दूर चली गई और धीरे-धीरे बिस्तर की ओर चली गई, वह अब उस पर चढ़ गई और उनके बिस्तर के शानदार तकियों के सामने झुक गई। उनके बड़े स्तन उनके शरीर के दोनों ओर स्वाभाविक रूप से लटके हुए थे और उन्होंने अपनी योनी के घने काले बालों को प्रकट करने के लिए अपने पैरों को अलग करी।



87-A64-DDB-3-F4-A-4371-B28-A-10-F377-F16539



उन्होंने अपनी उंगलियों से खुद के चूत को सहलाने लगी। 'उम्म कामिनी, तुमने मुझे नीचे गीला कर दिया है। तुम अपने पहने हुए कपड़ों को क्यों नहीं उतार देती? आंटी को तुम्हारी सेक्सी जवान बदन को देखने दे, आपकी सेक्सी बदन जो आपके नए लवर को पागल कर रही हैं।.'

अभी भी घबराए हुए, मैंने अपनी कुरती उतार दी और अपनी लेग्गिंग्स को उतरी, और में अब केवल मेरी ब्रा और पैंटी में उनके सामने खड़ी थी।







'यही तो है मेरी जान। अब अपनी ब्रा और पैंटी उतारो - मैं तुम्हारी नग्न बादन को देखना चाहती हूँ।'



जैसा मुझे बताया गया था मैंने वैसा ही करी और जल्द ही अश्विनी जी के सामने नग्न हो गयी। 'सुन्दर अति सुन्दर। अब यहाँ आओ मेरी प्यारी, आंटी की गोद में आओ।'

मैं बिस्तर पर चढ़ गयी और उनके स्वागत के आलिंगन में रेंग गयी। उन्होंने अपने कामुक रूप को दिखाते मुझे अपने बड़े स्तनों के खिलाफ खींच लिया और मुझे अपनी कोमल जाँघों से ढँक दिया। जब उन्होंने मुझे प्यार से और गहराई से होठों पर चूमा और उनका हाथ मेरी मुलायम पीठ पर रख दिया।



“हे 'भगवान, आपने आंटी को इतना गर्म कर दिया है। मुझे आपके युवा शरीर से प्यार है। मैं आप के हर इंच से प्यार करना चाहती हूं। मैं आपको दिखाना चाहती हूं कि एक महिला की जीभ क्या कर सकती है।' मैंने अपना मुँह उनकी ओर रखी और हमारे बीच कामुक चुंबन जारी रही।




, मुझे पहले कभी इस तरह से चूमा नहीं गया था, वह इतनी कोमल चुम्बन थी, वह मेरी ज़रूरतों को इतनी अच्छी तरह जानती थी। अब हम डोनो के स्तनों का आपस में दबने का अहसास, उनके मांसल मांस में मेरे निप्पल, लगभग उतना ही था जितना मैं सहन कर सकतीथी। जैसे ही मेंने उनका हाथ चूमा और उन्होंने वह हाथ मेरी गांड पर टिका दिया और वह मेरि गांड-गाल को ज़ोर से दबाने लगी।



मैं महसूस कर सकती थी की उनकी उँगलियों कीनाखून मेरी गाँड के छेद पर वह सहलाने लगी थी। मैंने उनकी उंगलीयों की अच्छी तरह से मेरी गाँड छेद पर चुबन महसूस करने के किए अपनी गांड को पीछे धकेलते हुए कराह उठी।उन्होंने मेरी इशारे समझ लिये और अपनी उंगलीयों को मेरी गांड के छेद में दबा दी। “अह्ह्ह उफ़्फ़्फ़्फ़्फ़ ऊओईई माँ” में कमुक्ता से कराह उठी।



1-A098-EDE-CF87-4853-9-F99-0-D6153-B85757
Ek or shandaar update keep going well 👍🏻
Bas ek request hai ki please ho sake to lesbian Cuckold scene bhi banao na ek kamini us ke husband or aunty ke sath please
Baki aap ek dum sexy likhte hai waiting for next exiting update
Love You 😍😍😍
 

HusnKiMallika

Mallika
Messages
816
Reaction score
1,027
Points
124
Ek or shandaar update keep going well 👍🏻
Bas ek request hai ki please ho sake to lesbian Cuckold scene bhi banao na ek kamini us ke husband or aunty ke sath please
Baki aap ek dum sexy likhte hai waiting for next exiting update
Love You 😍😍😍
Shukriya … 💋💋💋💋💋💋💋💋💋💋
 
Top

Dear User!

We found that you are blocking the display of ads on our site.

Please add it to the exception list or disable AdBlock.

Our materials are provided for FREE and the only revenue is advertising.

Thank you for understanding!