★☆★ XForum | Ultimate Story Contest 2022 ~ Entry Thread ★☆★

  • You need a minimum of 50 Posts to be able to send private messages to other users.
  • Register or Login to get rid of annoying pop-ads.
Status
Not open for further replies.

Golu_nd

Proud INDIAN 🇮🇳
Messages
1,616
Reaction score
4,804
Points
143
“ Crazy Class Reunion ”

I was going through some mail one afternoon when I came across an invitation.

I opened it up to see what it was and noticed that it was an invitation for my 10-year high school class reunion.

It was going to be held at a fancy hotel so that anyone who drank too much could book a room and spend the night.

As I read it, I couldn't believe it had been 10 years since high school already. I sat on the couch and looked it over while thinking back to the old days.

I wondered what had happened to some of my friends and was considering actually going. I figured it would be nice to run in to a few people and see how things have been with them.

I decided that I would talk to my husband about it when he got home and see how he felt about going. A few hours later he arrived from work and we eventually sat down at the dinner table to eat.

As we ate, we discussed our day at work. I eventually bought up the topic of the class reunion and quickly noticed that he had no interest in going. I was a bit di sappointed because I had wanted to go to catch up with a few of my friends.

We sat and talked about it and he told me that he really wouldn't feel comfortable attending it because he would know anybody there.

I knew how he felt and realized he would be out of place but at the same time I really wanted to go. As we discussed it, he suggested asking one of my close friends whom I graduated with and see if she was going.

I smiled as he brought up the idea and realized that I could probably convince her to go and the two of us could catch up with our old friends.

I finished up with dinner and eventually gave her a call. After some chatter, I bought up the topic of the invitation and she said she had gotten one as well.

I asked her what she thought about going together and she was all for it. We ended up deciding that we would go and enjoy ourselves while catching up with our old classmates and it was probably a pretty good idea if we booked a room together so we could both drink and neither one of us would have to worry about driving.

I told her it sounded like a great plan and after some more chatter we eventually got off the phone.

I then told my husband about our plan and he seemed relieved that he wouldn't have to go.

I on the other hand was very excited because I really look forward to catching up with my friends.

A few weeks went by and it got closer and closer to the reunion date.

A few days before, I went out and did a little shopping so that I can have something nice to wear. I ended up buying a nice dress that ran down to my knees and showed just a little bit of cleavage.

I wanted to show off a little bit, but not too much. I bought everything that I needed and was ready for the weekend.

The following Friday night was the date of the reunion. I finished up at work and headed home to shower and get ready. Once I had showered, I headed into my bedroom to get dressed.

I put my dress on and loved the way that it looked on me. It bought out a lot of my curves and I was very happy. I finished up getting ready and made my way into the living room to wait for my ride.

My friend eventually arrived and after telling my husband that I was leaving, we were on our way. The hotel wasn't too far away so we made pretty good time. Once we arrived, we checked in at the front desk and headed up to our room.

Once we were in the room, we put the finishing touches on our makeup and then decided to head down to the lounge for the reunion.

The two of us walked into the reunion and I immediately noticed some heads turning to check us out.

That made me feel good because I knew I still had it after all this time. We walked in and made our way to the bar to grab a couple of drinks.

Once we had our drinks in hand, we made our way around the lounge and began to mingle with some of our old friends.

We made our way through the lounge and eventually ran into a group of guys that we had hung out with a lot during our school years.

There were six of them sitting at a table, having a few beers when we walked up.

They all looked up and were surprised to see us but quickly got up to greet us. After we all greeted each other, we joined them at the table and began to chat.

The eight of us ended up spending the next hour or so catching up on old times while enjoying a few more drinks.

Eventually some of the guys suggested we all hit the dance floor and everyone agreed. We were all in a pretty good mood by now after having drank plenty of alcohol.

We all made our way out onto the dance floor and began to move to the music.

As we danced, a few other female classmates came over and joined us and before we know it everyone was on the dance floor having a great time.

We ended up spending most of the night dancing with one another while taking the occasional break to hit the bar for a few more drinks.

As the night went on, I found myself feeling thankful that we had booked the room because there was definitely no way I would be able to drive home that night.


I was feeling pretty tipsy and mellowed but at the same time I felt great.

I was enjoying myself and letting loose, which was something I hadn't done in a very long time.

I usually didn't dance with other guys, but since my husband wasn't here and I was pretty drunk, I was having the time of my life.

The guys all took turns dancing with me, making sure to rub up against me as often as they could.

On occasion I could feel hard cocks rubbing against my ass as I danced with different guys but it didn't bother me. It was nice to know that I could still turn someone on.

I continued to enjoy the night and allowed the guys to grind up against me as much as they wanted.

My friend was dancing a few feet away from me and was pretty much doing the same thing so you could say we were both having an awesome time.

The hours and drinks flew by and before we knew it, it was almost midnight.

A couple of us stumbled off the dance floor, back to the table to grab our drinks.

While we enjoyed them, one of the guys asked my friend and I if we wanted to come hang out with them for a little while longer.

My friend quickly accepted the offer because she had been all over one of the guys out on the dance floor. Not wanting to be the party pooper, I also agreed to go hang out.

Had I been sober, I probably wouldn't have gone but being drunk, I wasn't really thinking straight. I figured I would go up and hang out with them for a bit and eventually just make my way back to my room to pass out.

Three of the guys grabbed their things and began to make their way out of the lounge area.

My friend and I followed them and we were soon in an elevator on the way up to the room.

The elevator arrived up on the fifth floor within a few minutes and the five of us stumbled out of it and began making our way down the hall towards their room. Once we reached the room, one of the guys unlocked it and we all headed inside.

Once inside, I noticed a doorway off to the right side of the room and the door was wide open. It turned out that the guys had rented the rooms side-by-side and could access each other's room via the doorway.


We all headed into the one room and spread out on the beds.

I was sitting at the foot of the first bed when one of the guys got up and went into the small fridge that was in the room.

He pulled out a bottle of Bacardi and asked who wanted to take a shot. Of course my friend jumped up right away and said she wanted one and before I knew it, everyone had a shot glass in their hand.

After a toast,
we all took the shots and of course it went right through me. As we hung out, one of the guys turned on a small radio that was on the nightstand, and we all began to dance in the room.

While I danced, the room began spinning around me and that's when I realized that I was pretty far-gone.

Not being one to ruin the night, I continued dancing and even found myself drinking some more.

At one point the guys were pouring shots and I actually grabbed the bottle and began drinking from it.

The guys watched as I did and they all loved it. We went on for the next hour or so, dancing around in the room and eventually finishing the bottle of Bacardi.

As I was dancing with one of the guys, he got in pretty close to me. I didn't even bother to try and stop him as he grabbed me by the hips and swung me around.

He began dancing behind me, grinding his crotch up against my ass. I could feel his hard on through his pants as it rubbed against my dress.

We danced like this for a few minutes before he ran his hands from my hips down to the end of my dress, where he began rubbing my thighs.

I just continued dancing and enjoying the attention as his fingers slowly rubbed my thighs while working their way higher and higher.


After a few seconds of doing this, he had my dress bunched up in his hands. I couldn't believe I was allowing him to do this but I really didn't have the strength to fight him off either.

As I took a quick look around, I noticed his friend was sitting on the bed watching and enjoying while my friend had disappeared into the other room with the guy that she had been all over.

I realized at this point that I was losing all control of the situation and wondered what I had gotten myself into.

He continued dancing with me and his hands eventually went from my upper thighs, up my sides and were soon cupping my tits through my dress.

I still offered no resistance in my drunken haze and soon felt him unzipping the back of my dress.

Once he had unzipped it completely, he pulled the straps aside and address fell down to the floor, leaving me standing there in my bra and panties.

Of course they didn't stay on very long, as he quickly worked them off as well and I was now completely naked. Without saying a word, he grabbed me by the hand and led me over to the bed.

We stood at the foot of the bed and he began to undo his pants and dropped them to the floor along with his boxers, revealing his hard cock to me.

It was probably about 8 or 9 inches long and reasonably thick. He then climbed onto the bed, laid on his back and motioned me over.

I climbed onto the bed on all fours and found myself reaching for his cock.

Without hesitation I began stroking it before planting my lips on the tip and slowly took inch by inch of his hard cock into my mouth.

I wrapped my lips around it tightly and began to deep throat as much as I could, causing him to moan out in pleasure.

I took my time and slowly began bobbing up and down on his cock while he laid back and enjoyed.

After about a minute or so, I noticed his friend get up and I guess the image of me completely naked on all fours sucking a cock was too much for him as he quickly took off all his clothes.

I knew there was really no turning back now and I was about to be involved in something that I swore I would never do.


I continued sucking on the first guys cock as the second guy walked over to the bed once he was completely naked.

He got onto the bed and positioned himself behind me as I parted my legs for him. He reached down and began rubbing my pussy with his index finger and slowly slid it into my pussy.

He began fingering me, causing me to get wet and excited. Once I was wet enough, he pulled his finger out and replaced it with the tip of his cock.

Without saying anything, he easily and quickly penetrated my pussy, sliding a good 9 inches of his hard cock inside of me.

I continued bobbing up and down on the first guys cock as the second guy grabbed me by the hips and began to slowly thrust his cock in and out of my pussy.

I couldn't believe I was allowing all this to happen. I was supposed to be the happy go lucky conservative wife would never even think about straying behind her husband's back and here I was in between two former classmates, with one cock pumping in and out of my pussy while I sucked on the other one.

It's amazing the effects of alcohol could have on someone's judgment. Of course at the moment I didn't care about any of that.

I was drunk and horny and just needed to get fucked and knew that these guys would give me just that.

The second guy picked up his pace and began to pump his cock in and out of my pussy a bit harder.

I did my best to continue sucking on the first guys cock as I got hammered. As he pumped my pussy, I could feel myself building towards an orgasm and hoped that he wouldn’t stop.


He continued pumping me and within a minute or so I began to cum very hard. I had wave after wave of orgasmic bliss shoot through my body and I let out a very loud moan as I came all over his cock.

He noticed me cumming and began to hammer me even harder. Within seconds he let out a loud grunt and without warning, began pumping his hot seed deep into my pussy.

He continued to thrust as he shot wave after wave of his cum deep inside of me. Once he was done, he pulled his cock out of me and climbed off the bed.

I went back to sucking the first guys cock as the second guy walked off to the bathroom.

As I sucked on his cock, I made sure to work his balls with my lips and tongue and knew he was enjoying it by the moans coming from his mouth.

I decided that sucking his cock wasn't enough for me. I needed to feel him inside of me as well and took it out of my mouth.

He looked up at me and smiled as I began to straddle him. He held his cock straight up as I lowered myself onto it and it easily penetrated my cum soaked pussy.


I lowered myself onto his cock until he was completely buried inside of me. I then began to raise and lower myself on his cock as he reached up and played with my tits.

I took my time at first, allowing him to enjoy the feel of my pussy wrapped around his cock.

Little by little I began to pick up the pace as he sat up and took my nipples into his mouth. After a few minutes of doing this, I put him back down onto the bed and began to ride him as hard as I could.

He grabbed me by the hips and guided me and within seconds I began to cum again. I came all over his cock as I continued bouncing up and down on it. Within a minute of me cumming, he let out a loud moan and began to pump his seed into my pussy as well.

I continued riding him until I had milked his cock out every drop.

Once he was done,
I climbed off of him and onto the bed where I laid there as I tried to catch my breath.

Once I had caught my breath,
I sat up on the bed just in time to see the second guy walking over towards me with his hard cock in hand.
It was just the beginning of a very interesting night for me…!
 

Dungeon Master

Guess the Celebrity challenge, Read Scoop for more
Staff member
Moderator
Messages
12,790
Reaction score
9,150
Points
143
***Breaker of chains : Rise of New Era***

c510339562d1cabfda42e86b88da2680.jpg


Amawas ki Kaali Andheri raat thi aur na jaane aaj baadal kuch jyada hi gurraa rahe the, shayad kuch kahna chah rahe the, par humesha ki trah aaj bhi unki sunne waala koi nahi tha. Par door ek sunsaan kile ke tahkhaane me ek shaksh zarur kisi se kuch sunna chah raha tha………………..





Shaksh- Bata de, murakh mujhe jo janna hai, kab tak aise hi bediyo me sadta rahega, apni saari jawani aise hi nikaalega kya. Mujhe de de jo main maang raha hu, aisho aaram ki zindagi de dunga tujhe…..



Kaidi ko koi hosh nahi tha, uske dono hatho me bel bandi hui thi, jo uske hatho ko baandte hue uske kaara ghar ke beecho beech chat par bandhi hui thi, uske haatho par bel ki jakdan se gehre laal-neele nishan ho chuke the, uska sharir zakhmo se aur kale neele nishano se bhara hua tha, ye saaf tha kaidi ko bahut waqt tak trah trah peeda di gyi thi.

Isi peeda ki wajah se use use shaksh ki baate dhundli sunaai de rahi thi, uski aankhe aadhi khuli thi, use lag raha tha wo ek sapna dekh raha hai, uski kale bade baal khulkhar uske chehre par faile hue the, uski aankhe uske baalo me se rah rahkar jhaank rahi thi. Uski aankhe dard aur km neend ki wajah se srukh laal thi, chehre par ek bhi shikand nahi thi, badi kaali daadhi se uska chehra ek khukhaar sher jaisa lag raha tha, isi beej lagataar us shaksh ki aawaj se uske kaano tak rah rahkar pahuch rahi thi.



Kaidi aisi sthiti me bhi data hua tha, aur na jaane kyu uska mann aaj khush tha, aur shaksh ki baate sunkar uske sukhe hotho par halki muskan aa gyi. Jo us shaksh se dekh li.



Shaksh- ab kya rah gya hai teri zindagi me hasne ke lie, tu yaha bediyo me sad raha hai, jaanwaro se bhi bat trr zindagi jee raha hai, teri saari zindagi mere hatho me hai, teri bahan aadhi paagal ho chuki hai, teri maa lambi neend so rahi hai, tere baap ko tune khud us din maar dia tha. Kuch hi dino me teri behan 20 saal ki ho jaaegi, tab poore 2 saal ho jaaenge tujhe is kaid khaane me. Mujhe de de jo mujhe chahiye aur fir jee lena apni zindagi.



Kaidi apni behan ke baare me sunte hi uske andar se na jaane kaise shakti aa jaati hai, aur wo zor se dahaad ke bolta hai, aur poore tahkhaane me aawaj goonj jaati hai, bhaari bhaari bedio se badhe hote hue bhi aisa lagta hai wo abhi chut kar us shaksh ki gardan pakad lega. Uska poora sharir hil uth ta hai

Kaidi- nahi dunga tujhe kuch bhi, khaali hath jaaega tu humesha yaha se, ek din main yaha se nikal kar teri gardan ko apne hatho se tod dunga, aur tere khoon ki ghoot piyunga. Apni kaali jubaan se meri behan ka zikar na karna kabi, warna teri ruh ko anantkaal tak apna gulaam banaunga.



Shaksh (haste hue)- dekh raha hu, teri hekdi abhi gyi nahi hai. Jaildar se kahunga teri hawa tight karega, jis din tu tutega, us din mujhe tu sab kuch bata dega, ek na ek din tujhse main uglwa hi lunga sab



Kaida (gurraate hue)- chala jaa, tu yaha se, isse pahle main tujhe aur is jaildaar ko aur is poore tehkhaane ko tabah kar du, aaaaahhhhhhhh………

Shaksh (shaintaani hasi haste hue)- koshish to karke dekho kya hota hai.

Kaidi ki aawaj ek dum bhaari kisi jaanwar jaisi ho jaati hai, uske baal hawa me uthne lagte hai uske hath bade hone lagte hai….par jaise hi uski shakti badhne lagti hai. Wo bedia safed Roshni se jal uthti hai, aur wo kaidi dard se tadapne lagta hai.



Kaidi- aaah DARK MAGE…….tujhe ek din yaha se nikalkar mout ke ghaat utaar dunga..aaaaaahhhh



Dark Mage (apna kaala jaadui staff ghumaata hai)- jab tak mujhe jo chahiye tun ahi deta, tu yahi rahega………aaram se soja abhi..mere paaltu….hahahahaaaaaa

Dark Mage jaadu karke use sula deta hai.

DM- jaildaaaar, mere paaltu ka dhyaan rakho, jyada hi jangli ho raha hai, main dobara aaunga tab tak ye seedha ho jaaana chahiye.



Jail daar- ji sarkaar.

Dark mage apne kale choge me chehre ko dhak kar bahar nikal gya, baahr uska kaal dragon uska wait kar raha tha. Wo uspar baithkar apne mehal me chala gya.



Idhar kothary me jaildaar ne, kaidi ko 4 gaaliyan di aur wapas apni gasth par chala gaya…..

Kaidi abhi tak behosh tha, thodi der me hosh me wo wapis aaata hai, dekhata hai ki dark mage jaa chuka hai aur wo waise hi kaidkhaane me bediyo se bandha hua latka hua hai. Uske dono baaju dard kar rahe hai, aur uska poora sharir jaise aag me jal raha tha.



Kaidi sochne lagta hai, kaise usne apne laalach ke chalte, apni poori zindagi tabah kar li, kaise uska bhara poora pariwaar usne apni hi hatho se khatam kar dia, aur jo dard uske dil me hai wo in sab bediyo ke dard se dard se, dark mage ke julm se badh kar bhi jyada hai. Dark mage usko itna tabah nahi kar sakta jitna usne khud ko kar lia tha. Kaidi sochne lagta hai jaise kal hi baat thi……



2 saal pahle Backstory……



Dunia ke paas ab samay kum bacha hua tha, is dunia ka sooraj khatam hone wala tha, bus 10-15 saalo me saari dharti ki uraja, ped poude, jeev jantu, poora jaadu bhi jo ki sooraj ki uraja se tha, khatam hone waale the. Aise waha ke Rajkumar DUNGEON MASTER ne ek tarkeeb nikaali jisse poori dunia bach sakti thi, aur fir se sukh shaanti wapis aa sakti thi. Par uske lie uske akele ke paas itni shakti nahi thi. Aur isme waha ke raja Mahamahim jadugar aur uske mantri raajkumar dungeon master ke plan ko support nahi kar rahe the. Aise me ek baar aakhri koshish karte hue Dungeon Master ne Apne pita ke aur sab mantrio ke aage apna plan vistaar me batakari sabko raaji karne ki sochi……….

Mantrimandal sabha :



Dungeon Master: Mahamahim, humare paas aur koi upaae nahi hai, agar humne kuch nahi kiya to dharti kuch saalo me khatam ho jaaegi, is dharti pe Jeevan ka vinaash ho jaaega.

Mahamahim: jaise har chiz ka shuruwaat hoti hia, har chiz ka ant bhi zaruri hai, yahi prakarti ka niyam hai, hume isse chedchaad nahi karni chahiye

Dungeon Master: Par iska matlab aap apne raajay praja aur pariwaar ka ant dekh sakte hai ? kya ek raja hone ke naate aapka dharam nahi banata ki apni praja aur raaj ko bachae

Mahamahim: Kitne hazar saalo se hum apni praja aur raaj ko kaayam karte aa rahe hai, apne shatruo se aur najaane kine vinaashkaari sankato se humne apne raajya ki Raksha kari hai, parantu ab jab Jeevan savaym hi khatam hone jaa raha hai, sristi ka virod sawayam param shakti ka virod hai, ye to honi hai honi ko koi nahi taal sakta, agar sampooran vinash niyati ke anusaar hona hai to hume dharam ki raah par chalte hue isko swikaar kar lena chahiye.

1 Mantri: maharaja bilkul sahi kah rahe hai, prakarti hi pram shakti hai (sab mantrimandal ne sath me bola)

Dungeon Master
: kya prakarti ne khud hi hume sochne aur samjhe ki shakti aur khud ke bachav ki shakati nahi di hai, kya humaara faraz nahi banata ki agar prakarti aur is dharti ko bachaane ka agar koi tarika hai hum us par amal kare, kya humari shakti aur soch khud prakarti ka hissa nahi hai. Kya hume apne ghar ko bacchane ka koi mool adhikaar nahi hai.



Mahamahim: tum apne sawarth ke lie, aur maout ke darr se aisa bol rahe ho, tumhe andaza nahi hai ki zindagi aur mout ek hi hisse ke do pahlu hu. Tum bus aane waale samay ko lekar darr rahe ho, parantu parakarti ne hume jo shakti di hai, Jeevan dan dia hai to hume prakarti ka dia jaane wale amar ant bhi manjoor hona chahiye. Hum prakarti ke niyamo ka aadar sammaan karte hue apni maryaada par challenge. Yahi humamara tumhare majamahim ka, raajkul ka, faisala hai. Sannnn staff ki aawaj (mahamahim ne apni staff ko zameen par jor se maarte hue kaha….)

Dungeon master: panratu…..

Mahamahim (gusse se): aakhri faisla hai……(staff zameen par maarte hai, poori sabha me safed rohni fail jaati hai)

Poora mantri mandal chaaplusi karte hue bolte hai- jai ho mahamahim ki jai ho….





Us din Dungeon master waha se sir jhukhaaye chala jaata hai, parantu use uske upar apne samaj, apne ghar bar apni janta ko bachane ka bhaar mahsoos hota tha, use lagta tha jab uske paas sabkuch thik karne ki vidya hai to, ek raata hai, to kyu wo ruk raha tha.



Aakhri usne mahamahim, apne pita, ki aagya ko na maante hue, sab kuch apnne haath me lene ki sochi, is sab ke lie uske paas itni shakti nahi thi, poore samraajy me sabse takatwar mahamahim hi tha. Isilie usne apni maa aur behan ko apni baat samjhaate hue apni aur kar lia.



Rani maa, dungeon master ki maa, usse bahut pyaar karti thi, wo apne bete ke lie, apne pariwaar ko bachane ke lie kuch bhi kar sakti thi, use bhi apne bete ke upar naaj tha ki uski vidya ki wajah se poori duniya bach jaaegi.



Doosri traf, Twin-Flame, dungeon master ki behan, beshak apne bhai se bahut pyaar karti thi, parantu wo apne pita ki laadli thi unse se bahut pyar karti thi, par wo apne pariwar ko, janta ko, khona nahi chahti thi, use bhi apne bhai ke plan jo ki zindagi ko bachane aur kaayam karne ka tha, par bharosa tha. Apne pita aur bhai me se kisi ek ko chunne ki kasamkash uske lie bahut muskil thi, kyu ki wo bachpan se hi Bi-polar thi, jiske rahte uska savbhav kabhi kabhi bahut dayadil, naramdil aur komal par kabi kabi bahut khuni-bhayanak aur nirdayi ho jaati thi, uska aadha sharir kabhi kabhi aag jaisa ja luth ta tha, kabi kabi barf jaisa ban jaata tha…uske paas anokkhi shaktiya thi, wo bhi bahut shaktishali thi.. Par jaise taise wo maan gyi aur tino mahal aur raajya se door ek puraani khandar me jaakar vidhi ko poora karne ka plan banaya.



Tino, Dungeon Master ke Dragon Drogon ke upar baith kar Andheri raat me udkar khandar me pahuch gye. Drogon pure Mystical kingdom me sabse shaktishaali mythical creature tha, wo dungeon master ke sath hi bada hua tha, dono ke beech ek atut rista tha, wo dungeon ka poori trah se wafadaar tha, wo gehre laal rang ka dragon tha, jo ki bade bade seharo, parvato ko apni aag se khatam karne ki shakti rakhta tha. Wo 100 foot lamba dragon tha, matlab ki badi badi building uske saamne choti lagti thi. Par kamal ki baat ye thi ki mythical creature hone ki wajah se wo apna size kum jyada kar sakta tha, jyada tar wo apne aap ko ek ghode ya hathi ke size tak hi rakhta tha, kabi kabi ek chote se chipkali jaisa bhi, jisse wo dungeon master ke gale ya kandhe par khelta rahta tha.



Tino, Andheri raat me khandar me pahuchte hai, drogon apna size chota karke wahi pe raat ki neend poori karne lagta hai.



Dungeon master: maa main vidhi shuru karta hu, aap dono ko ko vidhi me saamil hona hoga, uske beech hum tino apni shaktiyo ko kendrit karte hue vidhi ko poora karna padega.

Rani maa- thik hai beta, tum jaldi karo, tumhare pita se koi baat nahi chipti, vidhi ko jaldi poora karna hoga, agar wo aa gye to vidhi poori nahi hogi

Twin-flame- ha bhai, tum vidhi shuru karo, tab tak main bahar pahra deti hu.



Vidhi ke anusar, tino ki shaktio ko ek hona tha jiske rahte, ek apar shakti ki wajah se dungeon master dusri dunia ka portal khol deta, aur waha ki urja se apni dunia ke surya ko thik kar dega.



Dungeon master vidhi shuru karta hai, rani maa vidhi ke kaary me hath bataati hai, raani maa ke paas “foresight” ki power thi, wo kuch samay tak future me dekh sakti thi, wo dekhti hai ki mahamahim apne mythical creature FlameWings par baith kar khandar ki tarf aa rahe hai, aur uske sath kingdom ka sabse takatwar samurai jo ki raajgaddi ke lie bahut loyal tha, wo bhi aa raha hai.



Raani maa- beta jaldi karo, tumhare pita ji aa rahe hai, unko pata lag gya hai, aur wo yaha aayenge to sab kuch tahas mahas kar denge, shayad hume maar bhi de, tumhe unke gusse ka pata hai.

Dungeon master: maa par vidhi to abhi aadhi hui hai, mere paas shakti nahi hai ki akele main is vidhi ko poora kar paau

Rani maa- beta main tumhe apni poori shakti de deti hu, aur tumhari behan bhi apni shakti tumhe de degi, isse tum vidhi poori kar lena, aur main tab tak tumhare pita ko sambhal lungi.

Dungeon master: maa tum agar apni shakti mujhe de dogi to tum uske bina tumhari soul urja unbalance ho jaayegi, tum bahut kamjor ho jaaogi, aur aapki umar bhi jyada hai, pata nahi kya hoga, main ye risk nahi le sakta.

Rani maa- jyada der ki baat nahi hai, vidhi poori hone ke baad tum mujhe meri shakti wapis kar dena. Baaki baato ka samay nahi hai, ujawal bhavishy ke lie itna risk to lena padega, Beti jaldi andar aao….(rani maa twin flame ko aawaj deti hai)

Twin-flame ko apni maa ki ghabraayi hui aawaj sunai deti hai, wo daud kar andar jaati hai.

Twin-flame- kya hua maa ?

Rani maa- beti baato ka samay nahi hai, tumhare pita is traf aa rahe hai, hume apni shaktiya tumhare bhai ko deni hongi.




Twin-flame : thik hai maa, jaisa aap kahe.

Dungeon Master taiyaar ho jaata hai, dono maa-beti apni shakti dungeon master ko dene lagti hai.

Rani-maa hawa me dono hath ghumati hai, aur apni shakti dungeon master ko de deti hai : (Dance of souls)

Twin-flame apna jaadu karti hai, (ice age), aur uski shakti dungeon master ke andar chali jaati hai.

Maa-beti, dono ki shakti milne ke baad dungeon master ki shakti badh jaati hai, uske aankho me se halki halki aag ki lapte nikalne lagti hai, aur uska pahna hua choga apna rang badalkar laal ho jaata hai.

Idhar rani-maa jaise hi apni shakti dungeon master ko deti hai, uske sharir me ek dum se spast roop se dikhne waali kamjori aa jaati hai, aur uske baal jaise safed ho jaate hai. Par twin-flame ki umar abhi kum thi isilie us par jyada asar nahi hua. Uska dimagi santulan thoda bigad ho gya tha

Rani-maa- samay na gawao ab, jaldi se vidhi ko poora karo, beti tum mere sath bahar aao.

Twin-flame (hosh sambhalte hue)- aasha karti hu aap kaamyaab honge bhaiya.

Dungeon master (smile karte hue): bilkul meri behna.



Dono maa beti, khandar ke bahar pahuch jaati hai, aur mahamahim ka intezaar karti hai, idhar dungeon master ne shakti milne ke baad vidhi ki gati ko tej kar dia tha.



Mahamahim apne firephoneix (Flamewings) ke upar baith ke aa raha hota hai, jiske sath Demon samurai bhi hota hai, ab rani maa aur twin-flame dono ko mahamahim flamewings ko dekh sakte the.

Rani-maa aur twin-flame, dono ko darr lag raha tha, dono hi mahamahim ki shaktio ki aage bahut kamjor thi. Par fir bhi rani-maa ko umeed thi ki wo mahamahim ko kaise bhi karke waha rok lengi. Twin-flame bahut hi pareshan thi, uska dimag fata jaa raha tha, wo apne pita ka saamna nahi karna chahti thi, uske dimag me ajeeb sa pagalpan chaata jaa raha tha.

Twin-flame ka sir ghumne lagta hai, aur wo apne sir ko jor jor se ghumaane lagti hai, uske baal poore khul kar bikhar jaate hai, aur wo ajeeb si hasi hasne lagati hai, jise sunkar rani maa chintit hokar puchti hai, kya hua beti thik to ho.



Twin-flame (ajib si hasi haste hue)- aaee Bhudia tu apna kaam kar na, yaha sab marne waale hai, mout ka taandav hone waala hai, mains sabko jala kar raakh kar dungi.

Rani-maa samjh jaati hai ki twin-flame ka dusra roop bahar aa gya hai, aur wo ab jo bhi saamne hoga usko maar daalegi.

Wo apne aap ko sambhal leti hai, apni shaktiya dungeon master ko dene ke baad wo thodi kamjor ho gyi thi, use maalum tha wo aise condition me jyada ladd nahi paaegi. Wo bus kuch bhi karke thoda samay nikaalna chahti thi, jisse dungeon master vidhi ko poora kar le.

Dungeon master ke pas shakti thi, to usne sabse pahle khandar ke chaaro aur ek surakha kawach ka mantra padh kar ek jaadui ghera bana dia, jiske andar aana kaafi muskil tha.

Mahamahim flamewings ke upar se dekhta hai ki uski beti aur uski patni khandar ke bahar khade hai aur wo samj jaata hai ki uska beta bhi andar hai aur kuch galat hone waala hai.

Wo demon samurai ke sath tha, dono khandar ke paas jaake utar jaate hai, Mahamahim bina kisi ladai ke maamle ko rafa dafa karna chahta tha, par shyad usko bhi andaza tha aisa hona namunkin hai. Demon samurai chup chaap mahamhim ke sath khada tha, use pata tha ye raj gharane ka matter hai, wo mahamahim ki aagya ke bina kuch bhi nahi karega.

Mahamahim- maharani tumse ye ummeed nahi thi hume, aapne raajgaddi ke hukum ka ullaghan kiya hai.

Rani-maa- humne apne baccho ka sath dia hai, aur apni janta ke hit ke lie socha hai, jo aap nahi kar paae, aapne jaha mirtyu ko apna liya hai, wahi humne Jeevan ko gale se lagaya hai, hum apne pariwar aur janta ko aise marne nahi denge

Mahamahim- aap putra moh me andhi ho gyi ho maharani, aap ko sahi galat ki samajh nahi rahi.

Rani-maa- sahi galat ki samajh janam dene waali sirf, Jeevan ko shuru karne waali sirf maa hi samjh sakti hai. Huamri samajh sahi raah par hai maharaja aap hi bhatak gye hai.

Mahamahim samjh jaata hai, raani-maa se baat karke kuch nahi hoga, wo apni putri twin-flame ki aur dekh kar kahta hai.

Mahamahim (uski aawaj me dukh aur disappointment thi): beti tum bhi apne pita ke khilaaf ho gyi ho, hume ye dekh kar bahut dukh hua hai.

Twin-flame jo ki raani-maa aur mahamahim ki baato par dhyan nahi de rahi thi, wo paagal hokar apna aaapa kho chuki thi, usne mahamahim ki baat ka ajeeb si bhaari aawaj me bus ek hi shabd me jawaab dia- Maroge……

Aur ye bol kar twin-flame jaadu ghere ke bilkul samne kood padi thi, jaise ki wo humle ke lie taiyar thi. Idhar mahamahim bhi samjh gya tha ki uski beti ka dusra savbhaav baahar aa gya hai, ab wo khukhaar ho gyi hai usse baat karne ka kuch faaeda nahi. Wo Demon samurai ko order deta hai.

Mahamahim: samurai aage badho aur jaadu ghere ko tod do…

Demon samurai: jo aagya mahamahim



Demon samurai attack karte hue: (Demon slash), apni talwar ko hawa me ghumaata hua apna attack taiyar karta hai, dekhte hi dekhte uski talwaar black ho jaati hai, aur kaali talwar ko jor se jaadui ghere ke upar maarta hai, ek badi kaali parchaai hawa ko kaat ti hui, ghere par padti hai. Aur ghera thoda kamjor ho jaata hai….





Idhar khandar ke andar dungeon master apni vidhi ko poora karne hi vaala hota hai, jab use demon samurai ka attack feel hota hai, use pata lagta hai uske paas jyada waqt nahi hai, wo apni poori shakti se. vidhi ko jaise taise poori kar deta hai, uski saanse chad jaata hai, uske sharir ki nashe fool jaati hai, uski chaati me saans lena bhaari ho raha tha, par use pata ki vidhi kitni zaruri hai isilie wo rooka nahi. Aur jaise hi vidhi poori hui, dusri dunia ka portal khul jaata hai. Jo ki khandar ki theek upar hota hai. Jaise hi wo portal khulta hai, aasman beech me fat jaata hai, aur raani-maa, mahamahim, twin flame aur demon samurai sab aasman ki aur dekhte hai. Mahamahim ko jis baat kar dar wahi ho gya, use laga ki ghor anarth hone waala hai.

Mahamhim: jaldi karo samurai.

Demon samurai mahamahim ki traf dekhta hai, aur apni gardan se haa me ishaara karta hai, aur ek bada attack karta hai (Dance of dark angel) is attack ke sath demon samurai ki black sword se bahut saare dark shadow attacks lagataar jaadui ghere par padne lagte hai. Aur ghera ek dum se toot jaata hai.



Ghere ke tut te hi, dungeon master ko pata lag jaata hai, parantu tab tak wo dusri duniya, jo ki ek multiverse ki hazaro dhartio me ek aur dharti thi, ke suraj se shakti lena shuru kar deta hai.

Mahamahim dekhta hai ki aasman me khule portal me se urja nikal rahi hai aur khandar ke andar jaa rahi hai, use pata chal jaata hai ki dungeon master urja khich raha hai. Mahamahim ko jaldi hi kuch karna tha, nahi to bahut der ho jaati.



Mahamahim khandar ki aur kadam badhaata hi hai ki, twin-flame attack kar deti hai. (Hell fire….) charo aur aag fail jaati hai, par mahamhim ki shakti ke aage twin flame kuch bhi nahi thi, wo aag ko apni chadi ghumar kar, apne staff ki uraja se sokh leta hai.

Mahamahim: bus beti bahut hua, hume jaane do

Raani-maa: aap kahi nahi jaa sakte, rani maa attack karti hai (soul lock): jisse mahamhim ki soul aur rani-maa ki soul aapas me lock ho jaati hai.



Mahamahim: rani-sahiba bus kijie, aap galat kar rahi hai.

Rani-maa: sahi galat ka samay nikal chuka hai..aahhhh



Rani maa ki shakti kum thi isilie wo struggle kar rahi thi, par use pata thi ki use kuch hi der ke lie mahamahim ko rokna hai.

Idhar mahamahim ne samurai ko ishara kia, demon samurai aage badhkar twin-flame ko sambhalne ke lie taiyaar hua. Demon samurai ne apni talwar ki urja apne next attack se badha di, uski talwar ab kaali hokar usme ajib se laal aag jal uthi thi.



Par itne me hi, aasman me se khule portal me se kisi jaanwar ki guraane ki uchi aawaj aati hai


Graarrrrrr Graarrrrrr raarrrrrrr

Sab upar dekhne lagte hai, ek kale rang ka bada dragon apne muh se aag nikaalta hua portal me se is dunia me aa raha tha, jaise hi wo portal me se poora nikala usne jaise poore khandar ko apne wings ke niche le lia, poora khandar andhere me dhoob gya. Fir ek dum dragon ne apne muh se aag faiki (Volcono fire)



Par jaise hi aisa hua, mahamahim ne rani-maa ka attach ek dum se tod dia apne jaadu se ek ghera bana lia aur dragon ki aag se sabse bacha lia. Par mahamhim ke jaadui ghere ke aas paas ki jagah sab jal uth ti hai. Wo uchi uchi lapto me kuch nahi dikh raha tha.

Rani-maa apni foresight ki power use karti hai, use pata lag jaata hai kya hone wala hai, wo xforum-communication se mahamahim ko usi waqt sab bata deti hai. Par jaise hi wo ye karti hai uski shakti khatam ho jaati hai aur wo behosh ho jaati hai.

Twin-flame ye dekhti hai aur wo samajti hai ki mahamahim ne rani-maa ko maar dia hai, wo mahamahim ki traf attack karne ke lie aage badhati hui daud padti hai, aur hawa me kood kar attack karne ko hoti hai ki mid-air me hi mahamahim apni shakti ka prayog karte hue twin-flame ki shaktiya cheen lete hai aur use behosh kar dete hai.

Mahamahim demon samurai ko jaldi se ek xforum-communicate karte hue Sandesh bhejta hai, aur demon samurai jaldi se rani-maa aur twin-flame ko dono kandho par uthakar dragon ki aag ke beech se khandar se door ghane jungle me le jaata hai. Wo samaj jaata hai ki kuch bada galat hone wala hai.



Jaise hi aag thodi kum hoti hai, dragon apne wings se hawa ko tej karte hueaag ko kum kar deta hai, black dragon ke attach se khandar ke andar vidhi ko poora kar rahe hai dungeon master ka link dusri dunia ki urja se toot jaata hai, aur wo jaldi se apne dragon ko taiyaar kar leta hai, dungeon master ka fire dragon Drogon apne bade poore roop me aa jaata hai, aur fire phoenix flamewings bhi apna size bada kar leta hai aur dono black dragon se ladne ke lie taiyar ho jaate hai.



Itne me ek aawaj poore aasman me goonj uthi hai, jo ki black dragon par baithe ek shaksh ki thi, aur wo koi aur nahi DARK MAGE tha

DARK MAGE: is duniya ke vaasiyo tumhara naya raja aa gya, tumhari sukh shaanti ke lie yahi sahi hoga ki tum humari shakti ke ghutne tek do, warna anjaam bhukto aur mout ko gale lagao, hahahaha (pagal ki trah haste hue)

Mahamahim aur dungeon master dono khandar ke bahar hote hai, bade bade dragons ke wings se hawa tej chal rahi thi.

Mahamahim: beta, abhi ke lie aapsi baato ko bhul jaao, ye shaksh humari dunia kaisi bhi ho uspar kabja karne aaya hai aur iske iraade shaitaani lag rahe hai.

Dungeon Master: pita ji aap thik kah rahe ho, aisa hi lagta hai.

Dark Mage apne black dragon se utar kar niche aa jaata hai, aur mahamahim aur dungeon master usko dekh rahe the, dono kaano kaan chokanne the, aur kisi bi waqt hone wale humle ke lie taiyar. Jab wo dhyan se dekhte hai to dono shock ho jaate hai.

Dark Mage: to is poore saamraayja ke raja tum ho buddhe.

Dungeon master: tameez se baat karo, tumhe nahi pata tum kisse baat kar raha hu

Dark mage: jitni ijjat ek gulam ko milni chahiye utni mil rahi hai, aur dekho to humari shakal milti hai par fir bhi tujhe dekhkar mujhe kitni ghinn aa rahi hai. Tumhari zindagi abhi tak vyarth thi, ab tumhare Jeevan ka ek hi maksad meri seva, apne raja ke aage juko. (dark mage apna kaala staff zameen par maarta)



Dark mage ki shakal dungeon master se milti thi, par bus ye fark tha ki wo ek jaalim dunia ko khatam karne wala, laalchi insaan tha. Aur dungeon master life ko save karna chahta tha, dayadil thi, sabke hit ke lie sochne waala.

Mahamhim: tumhare lie accha hoga tum jaha se aaye ho, aur tumhare jo bhi iraade hai unko lekar apni dunia me wapis chale jaao. Isi me tumhari aur sabki balai hai.



Dark mage ab unke chaaro aur chalte hue baat karne lagta hai, : tum mujhe apne pita ki yaad dilaato ho, wo bhi aise hi badi badi baate kiya karte the jinka koi matlab nahi tha, mujhe humesha lagta tha unka dimag kharab hai, isilie mujhe unse nafrat thi. Aaahhhhhhhh (dark mage attack kar deta hai)…

Iske sath hi ladai shuru ho jaati hai dungeon master ka fire dragon drogon aur sath me mahamahim ka flamewings aur dark mage ke dragon ke sath ladne lag jaate hai.



Mahamahim us attack se bache hue apne staff se dusra humla karte hai, aur dark mage us attack ko apne staff se absorb kar leta hai.

Dungeon master bhi ladai me saamil ho jaata hai, wo attack karta hai to uske attacks ko dark mage apne baaye hath se rok deta hai aur uske upar attack kar deta hai.



Mahamahim aur dungeon master dono samaj jaate hai ki dark mage bahut jyada powerful hai, usko aise nahi hara sakte hai.

Idhar dark mage samjh jaata hai ki mahamahim jyada powerful hai par dungeon master ke andar ladne ke badiya gur hai. Wo soch leta hai use kya karna hai.



Dark mage ek bada attack karta hai : apne anjaam ke taiyaar ho jaao (Darkness of dark side of moon) jisse ek bada kaala energy ka gola dungeon master ki traf jaa padta hai.

Isse dungeon master rokne ki koshish karta hai (first ray of sun) apne attack se, ek badi light ki beam uske staff se nikalti hai aur dark mage ki energy ball se takra jaati hai. Par dark mage ka energy ball bahut shakti shalli tha. Mahamhim ko bhi us attack ko rokne ke lie dungeon master ke paas jaana pada.



Par jaise hi mahamhim dungeon master ke paas jaane ke lie aage badhta tha, dark mage isi chiz ka intezaar kar Raha tha. Dark mage ne apne staff se ek energy ball aur banayi aur mamahim ko usme kaid kar lia.

Dark mage: buddhe bahut chappar chappar kar li tune, tera kaam khatam ho gya ab. Ab is dunia ko teri zarurat nahi hai.

Dungeon master : pita ji, nahi!!!!!!!!!!!!!!!!!!

Dungeon master ka attack bada ho jaata ho jaata hai, aur wo badi koshish karke dark mage ki badi energy ball ko piche push karke aasman me fenk deta hai.

Par tab tak dark mage mahamhim ko apne energy ball me kaid karke aasman me khule hue dusri dunia ke portal me fenk deta hai, uske piche piche dungeon master ka dragon and flamewings dono hi portal me chale jaate hai, aur jaise hi dark mage aisa karta hai, wo portal band ho jaata hai.

Dungeon master : main tujhe jaan se maar dunga (fire of thousand suns) dungeon master attack karne ki shuruwaat karta hai. Par isse pahle hi dark mage dungeon master ke piche teleport hokar usko apni energy beam se hit kar deta hai….aur dungeon master wahi behosh ho jaata hai.

Aur jab aankh khulti hai to dungeon master apne aap ko kaidi paata hai, wo bhi usi khandar ke tahkhaane me. Wo jaadui bedio se bandha hua tha.

Dark mage: ab tu mera gulaam hai mera kaidi hai, aur jab tak tu mujhe dusri duniayao ke portal khol ke dega, taaki main sab par jaake unpar raaj kar saku.

Dungeon master: mere pita ji kaha hai, tune kya kiya unke sath haramzaade.

Dark mage: us buddhe ko bhul jaa ab tu, ab tu bus meri seva karega, mujhe pujega

Dungeon master: hahahahaha, abe saale tujhe kon pujeja tujhe koi nahi jaanta idhar, tu kon hai, ye dunia khatam hone wali hai, isilie maine dusri dunia ka portal khola tha, aur ab tu is marti dunia ka raja banna chahta hai, jab yaha ke logo ko pata lagega ki mahamahim nahi rahe, unka bharosa bilkul uth jaaega, aur aise bhi koi bhi unke saamne aaya to usko wo jalakar maar denge

Dark mage: abe choti akal ke chuze, baap chala gya to kya hua beta to zinda hai, main raaj karunga ab teri ghatiya shakal hai mere paas, par fir bhi tujse accha dikhta hu, aur teri maa aur behan bhi zinda hongi is dunia me kahi, unhe dhund kar tere saamne unko maar dunga.

Dungeon master apni maa aur behan ka name sunta he ghabra gya: nahi unko kuch mat karna, nahi to main tujhe jaan se maar dunga.

Dark mage: agar unki sehmati chahta hai to mujhe dusri dunia ke portal kholne ki vidhi bata de, main tujhe chod dunga.

Dungeon master: aisa kabi nahi hoga, main usse pahle mar jaaunga

Dark mage: to marr saale idhar hi, saddta rah suvar ki trah….jab tak tu mujhe bataega nahi tu idhar hi kutte ki trah kaid rahega………….





Ab in sab baato ko 2 saal ho chuke the………


Dungeon master bedio me bandha hua apne aap ko kos raha tha, kyu usne wo plan socha ab uski wajah se agar kaise bhi karke ye dunia bach bhi jaae to dark mage is dunia par raaj karega aur apne zulamo se tabahi faila dega. Uski wajah se uski maa nahi rahi thi, uske pariwar ke kisi bhi member ko uski khabar nahi thi. Wo akela tanha bus apni aakhri saanse gin kar maut ka intezar kar raha tha. Uske dil me dard aur aag thi, jisse ya to wo khud ya fir dark mage dono me se ek ko jalana chahta tha.

Is dark mage shahi gharane me madira aur aurto ke beech ayaashi kar raha tha, mantri mandal bhi Rajkumar ke is roop ko dekhkar taajuub me the. Mahamahim ke jaane ke baad dark mage, jiska chehra hoobhu dungeon master se milta tha, raja ban gya tha. Mahamhim ki mirtryu ki khabar khud black samurai sabi mantrio ko di thi, sabko ye pata tha mahamahim dunia ko bachane ke lie ek vidhi ka aagman karte hue maut ko gale laga lia.

Idhar twin-flame pita ki maut ke baad bahut khookhar ho gyi thi, uske nirdayi roop ne uske dimag par kabja kar lia tha, use apne pita ki mirtyu aur us raat ki koi baat yaad nahi thi dark mage ne uski nirdayita ko dekhte hue use raaj darbaar sambhalne ke lie de dia tha, wo dark mage ka right hand ban gyi thi sab mantri usse darte the, aur wo jo bhi mantri uske khilaaf bolta twin-soul usko ya to maar deti ya fir usko maar maar ke mantri mandal se bahar kar deti.

Idhar 2 saal se demon samurai mahamahim ke raaj ko dil me dabae hue tha, aur raani-maa jo ki 2 saal se neend me so rahi thi, wo aaj amawas ka kaali raat ko jaag uthne waali thi, ye amaawas ki raat koi maamuli raat nahi thi, ye wo raat hai jisme sabi jaadugraniyo ki shaktiya 1000 guna badh jaati hai, aur aaj twin-flame ka janamdin tha, wo ab yuvaawastha me paripakh hone jaa rahi thi, aur iske sath hi use apne bi-polar character par poora poora control milne waala tha.

Jaise hi amawas ka kaali raat sabse Ghani hoti hai, raani-maa ki 2 saal se jaadui neend toot jaati hai. Wo beshak jaadui neend me so rahi thi, par usko apne aas pas ho rahi sab baato ka gyaan tha, uski neend jaise hi khulti hai to jaise poore raajya me jaadui lehar daud jaati hai, uski aankho me gusse aur dard ke aasu hote hai, jo na chahkar bhi uski aankho se nikal kar bah uthte hai, use apne pati ke sacrifice, apne bete ke bandhi hone ka aur apni beti ka maansik utpeedan, aur apne raajya ke logo ka dukh mahsoos ho raha hota hai. Par use pata tha abhi aasu bahane ka waqt nahi hai.

Same chiz, twin-flame ke sath bhi hui thi, use aisa lagta hai ki jaise wo ek gehri neend sa jaag uthi hai. Use sabse pahle us raat ki baate yaad aati hai, kaise wo, uska bhai aur maa ladai ke lie taiyaar ho rahe the aur uske pita ne usko behosh kar dia tha, aur fir usko 2 saal ke daruan uske doosre roop ke kiye hue bure kaam yaad aate hai, usko bahut gehra dard mehasus hota hai. Aur uski aankho me se aasu beh uthte hai.

Dark mage apni raat ki aiyaashiyo ko poora karke chain ki neend so raha tha, use in sab chizo ki bhanak bhi nahi thi.

Par itne lambe samay se chal raha ghinona atyachaar band hone waala tha.

Twin-flame apne kamre me roti Hui subak subak kar aasu Baha rahi thi, ki acchnak uske kamre ka darwaaja khula hai aur raani-maa daakhil ho jaati hai. Twin-flame apni najre uthakar apni maa ki traf dekhti hai Wo daud kar apni maa ke kadmo me gir jaati hai aur uski kamar ke charo aur hath daalkar rone lagati hai. Raani-maa apni beti ke Sundar chehre ki aur dekhti hai aur uske chehre par giri baalo ki lat ko uske kaan pe piche karke bolti hai

Raani-maa: bus beti, ab sab thik ho jaaega

Twin-flame (apne sir ko apni maa ke hath par dabate hue kahti hai) : par kaise maa, batao kaise thik hoga

Twin-flame ki aawaj me beinteihaa dard tha, jiska koi ant nahi tha.

Raani-maa: beti jaldi chalo, main tumhe samjhaati hu.

Raani-maa aur twin-flame dono, jaldi se jaha dungeon master kaid tha usi khandar ki aur chal padi. Raani-maa apne jaadu se khud ko aur twin-flame ko andrishy kar deti hai. Aur jab dono khandar pahuchate hai, to waha ke jyadtar pahredaar raat ko neend so rahe hote hai par fir bhi raani-maa khandar ke sabi pahredaaro aur jaildaar ko bhi apne jaadu se gehri need Sula deti hai, raat abhi kuch hi der me khtam hone wali thi, subah ki pahli Kiran nikalne ko thi.

Dungeon master bedio me bndha hua tha, uska chehra badi daadhi aur ghane bade baalo se bhara hua tha, uska bada majboot sharir bade bade choto aur nishano ke baad bhi kathor aur shaktishaali maloom hota tha, wo bhi bedio se Bandha halki jhapi le raha tha, parantu jaise hi usne kadmo ki aahat suni to usse bada achambha hua, uski aankho me aasu jhalak aaye the, kyu wo jaan gya tha ki ye koi nahi uski maa ke kadmo ki aawaj thi.

Kadmo ki aawaj jaldi se uske kaaragrah ki aur badh rahi thi. Sath me ek shaksh aur tha, jiske pair ki jutiya aawaj kar rahi thi.

Dungeon master se intezaar sehan nahi hota hai, uske man ki utsukta itni badh jaati aur uske chanchal man se, jo ki 2 saal se dukh aur dard se tadap raha tha, aawaj nikal uth ti hai.

Dungeon master: MAA!!!!

Raani-maa aur
twin-flame,
bhag kar uski karagrah ki aur jaate hai. Tino ka milan hota hai

Raani-maa: beta

Twin-flame: bhaiyaa

Raani-maa apne jaadu se karagrah ki salaakhe gaayab kar deti hai aur jhat se dungeon master ki bedia bhi gayab kar deti hai, dungeon master, jo ki do saal se dhang se chala bhi nahi tha, maa aur behan ko dekh kar unko aur bhag uthta hai.

Aur us kaale khandhar ke ek chote se karagrah me, ek maa aur dono bacche fir se ek ho jaate hai.

Tino thodi der tak rote hue, ek dusre ko kuch der tak gale lagaaye rakhte hai, fir thodi der me raani-maa dungeon master ke sir par hath rakh kar uske baalon ko sehlaati hai aur uske chehre ko pakad kar kahti hai. Beta tumhare papa ko wapis laane ka samay ho gya hai. Waqt aa gya hai ki poora pariwar wapis ek ho jaae.

Dungeon master: kaise maa, aap kya kah rahi hai.

Raani-maa: beta tumhare pita ko pahle hi pata tha ki kuch bura home wala hai, jaise hi dark mage is dharti par aaya to uski Shakti dekh kar unhe pata chal gaya tha use haraana naamunkin hai, par shayad kaali-poornima ke din, jo ki aaj hai, usko haraaya Jaa sakta hai, kyu ki meri Shakti wapis aur kaafi jyada ho chuki hai, aur twin-flame ki shakti ne yuva awasta ke baad pooran roop le lia hai. Ye ab pahle se kai guna shaktishaali ho gyi hai, aur isne apni bi-polar character par bhi kabu kar lia hai. Aur black samurai mehal me rahkar dark mage ki chokidaari kar raha hai, kuch bhi hone se pahle wo hume aagah kar dega, beta ab jaldi karo

Dungeon Master apni choti behan, twin-flame ki traf dekhta hai, use apni behan par bada naaz aur pyaar aata hai, dusri traf twin-flame jo ki pichhle do saal me kaafi badal gyi thi, uska sharir aur shakti dono hi kaafi taakatwar ho chuke the uske baal khule hue the, sunahre rang ke. Aur kapde bhi sunhare ho gye the, jo ki ak badi jaadugarni ki nishani thi

Dungeon master: maa main samjh gya. Thik hai. Par meri staff mere paas nahi hai.

Raani-maa mantra padhti thi, aur dungeon master ko pahle se bhi shaktishaali staff de deti hai. Dungeon jab staff ko apne hath me leta to usko apne sharir me pahle se bhi kai guna jyada shakti ka aabhaas hota hai

Dungeon Master: ye to pahle se bhi jyada shaktishaali staff hai

Raani-maa: ha beta iski zarurat padegi, ab jaldi se vidhi shuru karte hai.



Dungeon master ne jaldi se wahi vidhi shuru kar di, aur fir se aakash me ghor ghane baadal chaane lage aur bijli chamakne lagi, us dunia ke jaadu me jaise hi jaadui halchal honi shuru hui ki dark mage ki neend khul jaati hai, daaru aur nangi aurto ke beech wo apne Shahi kamre me tha, us kamre ka pahra black samurai aur khud Shahi senapati de rahe the.

Dark mage dhyan laga kar apni shakti se pata kar leta hai ki dungeon master ko kisi ne aajad kar dia hai (jaadui bedia dark mage ki thi, usi ki wajah se)

Dark mage andar se hi cheekh uthta hai: senapati, jaldi se sena ko taiyar karo.

Senapati aur black samurai, dono bahar se hi aawajj lagate hai, kya hua huzoor sab thik to hai.

Dark mage apne kapdo ko muskil se lapete hue bahar aata hai, saaf dikh raha tha ki wo niche se bilkul nanga hai

Dark mage: raajya ke bahar koi kaala jaadu kar raha hai, jo humare raajya aur is dunia ke lie khatra hai, jaldi se sena ko taiyaar karo. Tab tak black samurai tum humare sath chalo.

Dark mage ka plan tha ki wo sabse pahle jaake dungeon master ko aajad karne walo ko maar de, aur black samurai ek Shahi gaddi ka rakhwala jisko sab maante hai uski aakho me apni image positive bana le, taaki baad me poori sena aur raajya uske sath ho jaae. Jisse wo dungeon master ko bura aadmi, ek behrupiya karaar kar sake.

Dark mage aur black samurai, dark mage ke black dragon pe baithkar usi khandhar ki aur udd padte hai, Shahi sena kuch hi der me waha pahuchne waali thi. Isi beech black samurai ne telepathy se raani-maa ko message bhej dia tha ki dark mage ko pata chal gya hai.

Idhar dungeon master portal ko jaise hi kholta hai, use us portal me se drogon (fire dragon ), flamewings (fire phoenix) aate dikhte hai, aur flamewings par sawaar use apne pita mahamahim najar aate hai.

Drogon aur dungeon master ka rista bahut attoot tha, drogon bahut emotional ho gya tha, uski aankho se aasu (jo ki chote chote fire ke gole the) tapak rahe the. Sabse pahle drogon hi chota hokar, dungeon master ki traf udd padta hai aur uske poore badan par lipatt jaata hai, aur apni lambi jeeb se uske poore sharir ko chaatne lagta hai, dungeon master bhi drogon se gale lagkar bhavuk ho jaata hai, wo bhi haste haste drogon ko gale lagata hai. Drogon wooo, wooohhh grooorrr ki aawaje nikaal raha tha, isi beech dono ka pyaar dekh ke raani-maa aur twin-flame hass rahe the.

Dungeon master: bus bus, drogon, maine bhi bahut yaad kiya tujhe.

Flamewings zameen par jaise hi utarta hai aur Mahamahim flamewings se utar kar mudkar apne pariwar ko dekhte hai, raani-maa, twin-flame aur dungeon master sab mahamahim ki or daud padte hai. Sab ek dusre ko gale lagaate hai.

Dungeon Master - pita ji Hume maaf kar dijie, sab humari galti hai, humaari wajah se ye sab hua, hume Sikh mil gyi hai, aap sahi the.

Raani-maa, twin-flame, dungeon master sab chok jaate hai : KYAA!!!!

Mahamahim: Haa bete, hum galat the, tum aur tumhari maa sahi the. Tum sabse, pariwar se, apne raajya se, apne logo se itne din door rahkar hume ahasaas hua zindagi kya hai, pariwar kya hai. Aur ise surakhshit rakhna kyu zaruri hai. Sabse jyada maine apne pariwar se milne waali khushi, apne baccho ko yaad kiya, kaise tum bachpan me haste khelte the.

Twin-flame: sach papa

Mahamahim: ha meri bitiya (mahamahim twin-flame ko apni aur kheech kar uske maathe ko chum leta hai, aur twin-flame ke aankho se hata saaf karta hai)

Twin-flame: maine bhi aapko bahut Miss Kiya.

Dungeon master: accha, tu to 2 saal se Hell roop me thi, tujhe kya pata hai

Twin-flame: hell roop me zarur thi par mere angel roop ko bhi sab pata tha, ab dono ko kabi bhi control kar sakti hu.

Dungeon master: Ha dekh raha hu teri shakti kaafi badh gyi hai, pita ji main dekh raha hu aap ki shakti bhi badh gyi hai. Aap to pahle se do guna shaktishaali ho gye hai.

Mahamahim: beta us dunia ka sooraj humare sooraj se jawaan hai shaktishaali hai, isilie waha ka jaadu bhi shaktishaali hai, dark mage isi wajah se itna shaktishaali hai.

Dungeon master: par ab hum sabki shakti badh gyi hai, ab hum use Hara denge.

Drogon beech me : grroor rooore grrrooor (jaise wo bhi ladne ke lie bilkul taiyaar tha)



Flamewings apne pankh zor zor se fadfada kar apni sehmati de raha tha.

Mahamahim: bilkul hum is baar use Hara denge, chahe hume kuch bhi karna pade, par wo bahut hi hoshiyaar aur zaalim hai, hume use Kum nahi samjhna chahiye. Beta tumhari shakti sooraj se aati hai, tum doosri dunia ke sooraj se apni shakti badha lo, tumhe iski zarurat padegi.aur baaki sab taiyar ho jaao dark mage aata hi hoga

Dungeon master: ji pita jee main samjh gya.

Dungeon Apni urja bhadhaane lagta hai, par itne me hi dark mage waha aa jaata hai.

Dark mage aur demon samurai, dono black dragon par baithe hote hai,

Dark mage aur demon samurai, dragon se utarte hai, black dragon apni power dikhaate hue apne nostrils se aag fenk raha hai aur chinghaad raha tha. Aur isi beech mahamahim black samurai ko telepathy se message kar deta hai.

Dark mage jab dekhta hai ki mahamahim wapis aa gya hai to wo samjh jaata hai ki black samurai ke aage ab koi story nahi bana paaega. Aur isi beech demon samurai ek second ke andar apni talwar se dark mage ki gardan Par waar karta hai.

Dark mage ki gardan talwaar se cut jaati hai, aur sir dhad se alag ho jaata hai, dark mage ka sir door jaakar gir jaata hai aur dhad ke ghutne zameed par gir jaate hai aur waha laash ban kar uski gardan se skhoon banhne lagta hai. Demon samurai ko lagta hai ki dark mage mar gya, aur raani-maa, aur baaki logo ko bhi ek pal ka sukoon milta hai

Par.

.

.

.

.

.

Achanak se hasne ki aawaj aati hai, to pata lagta hai.Dark mage ka kata hua sar door pada hai hota hai, aur usme se hasne ki aawaj aa rahi hoti hai.

Aur fir dhad aur sir dono dhua ban ke udd jaate hai, aur aasman me se hasne ki aawaj aane lagti hai.



Demon samurai, raani-maa, dungeon master, mahamahim aur twin-flame sab hairaan ho jaate hai.

Dark mage, black dragon ke kaan me chupa hota hai aur wo apna roop bada karke insaan ke size me aa jaata hai.

Dark mage: mujhe pahle hi is black samurai par shak tha, par main iska dimag kabi padh nahi paaya kyu ki ye apna dimag humesha shant rakhta tha. Koi nahi, ab jab Buddha gang wapas aa gyi hai, thode log jyada ho gye to kya hua, khoon jyada Baha dunga, aisa pahli baar to ho nahi Raha, hahahahahah (paagal ki tarah haste hue)

Mahamahim: tumhara khel khatam hua dark mage, agar apni jaan pyaari hai to apni dunia me wapis chale jaao.

Dark mage: buddhe mujhe Gyan dena band kar, teri sehat ke lie thik nahi hai. Us dunia me jaakar kya karunga waha ab mere lie kuch nahi hai, ye dunia ran birangi hai, acchi ladkia hai idhar. Aur tu to rah ke aaya hai udhar tujhe pata hai

Mahamahim: mujhe pata hai isilie main is dunia me tujhe kabi nahi rahne dunga, tu khooni darinda hai, jiske koi ussool mariyaada nahi, tu ek jallad hai ek taakat ka pyaasa aadmi hai tu. Tere jaisa aadmi raaj gaddi par nahi, jail me hona chahiye, bedia me bandha hua.

Dark mage: buddhe lagta hai tere Dil me bahut pyaar ban gya hai mere lie, koi nahi jyada der Zinda nahi rahega tu, tere dil ko teri chaati se nikaal kar uska khoon tere dono baccho ko pilaaunga.

Dungeon master: pita ji, aisa kya kiya tha isne us dunia me

Mahamahim: is haiwaan ne apne hi poore pariwaar ka katal kar dia tha, aur uski saari shaktiya chura Li thi, aur waha zabardasti raaja ban gya tha. Jab main waha gya to log hairaan ho gye aur jab maine unhe bataya ki main doosri dunia se aaya Hu to unhone mujhe iska kaala ghinona raaj bataya, maine waha 2 saal iske kaale raaj se ubharne me un logo ki sewa kari aur madad Kari.

Dungeon master, raani-maa, twin-flame, black samurai sab ye baate sun kar chounk gye, unhe apne kaano par wiswaas nahi ho raha tha

Dungeon master: Chee, koi insaan Aisa bhi ho sakta hai, itna neech gira hua.

Dark mage, pagal jaise haste hue: hahahahaha, tum jaise chote dimaag waalo ko kya pata hai. Pariwar, pyaar aur riste ye sab kamjor dimag ke insaan karte hai, ye sab aadmi ko baandh dete hai, kamjor kar dete hai, andar se khokhla bana dete hai. Aazaadi ka matlab in sab se mukht hokar hi aadmi ko samjh aata hai, jab maine apni maa, behan aur baap ko maara to unki cheenkho ko sunkar jaise aaatma mukht hi gyi, waise aazaadi mujhe kabi feel nahi hui thi. Main aazad ho gya tha, aur azaadi ke baad mujhe pata chala ki zindagi ka asli matlab aazad hokar hi samjh aata hai, aur rules me rahkar aadmi ka dimag kamjor ho jaata hai, aadmi machine ban jaata hai apne aap ko bhul jaata hai. Aur main ab sabko ye sikhaane yaha aaya tha, aur is chuze ko kaha tha ki mujhe bhi aise portal khol kar de taaki dusri dunia me jaakar sabko main ye sikhaau. Par shyad pahle mujhee tum sab ko maarkar is chuze ko samjhana padega ye. Hahahahaha hahaha (pagal ki hasi haste hue)



Dark mage apne aap ko 5 clones me divide kar leta hai. Uski urja se poora aasman kaala ho gya tha.

Dungeon master dark Mage ki aisi ghatiya ghinoni baate sunkar bahut gusse me aa gya hai, uska paara aasman Chu raha tha.

Dungeon master: apni bakwaas band kar, tu aaj Zinda nahi bachegi, tu kisi dunia ke kaabil nahi hai, tere sharir ka koi bhi hissa Zinda nahi rahna chahiye, tujhe jala kar khaak kar dunga main.

Dungeon master ek dum se attack kar deta hai (fire of raging sun): ek bada aag ka gola 5 clones ki traf teji se badh uthta hai.

Dark mage ka ek clone (shadow of moon) attack karta hai aur magic ki ek black ball dungeon master ke aatcck ko rokk deti hai.

Mahamahim: beta isne apne pariwar ki shaktiya sokh li thi, isilie iske paas humari sabki milakar shaktiya hai, isilie isko sab mil kar hi Hara sakte hai.

Dungeon master ka gussa aasman Chu raha tha, wo bahut garam ho gya tha.

Dungeon master: thik hai pita jee, par isse sirf main maarunga.

Dungeon master: aaaaahhhhhhhhh!!!!

Dungeon master ke guuse ki wajah se uraja bahut badh gyi thi, uski staff ka magic bahut strong Ho gyi thi, ki uska rang aur dungeon master ke kapde golden rang ke ho gye the.

Mahamahim: sab taiyaar ho jaao.

Dark ke sabi clones ke paas raani-maa, twin-flame, dungeon master aur Mahamahim jaisi shaktiya thi.

Twin-flame (ice age): ek barf ki strike karti hai, aur poori dharti zam jaati hai, par dark mage apne attack (fire of raging sun) jo ki dungeon master ka attack tha usse ice age attack ko rok deta hai.

Demon samurai: (Song of devil) attack karta hai, par dark mage flame ki sword bana kar usko rokk leta hai. Aur teleport hokar piche se uski kamar par waar karta hai.

Demon samurai : aaahhhh!!!!

Raani-maa jab ye dekhta to wo waha aakar demon samurai ki madad karti hai

Raani-maa: apne mind se ek badi chattan uthakar dark mage ki traf maarti hai, par dark mage ka clone usko bhi Tod deta hai.

Mahamahim: dark mage ki asli urja ko mehasoos karo, uski asli uraja waale sharir par waar karo, clone se ladne ka koi faaeda nahi.

Dark mage : buddhe Tera dimag bahut jyada chalta hai, tujhe pahle khatam karta hu.

Dungeon master teleport hokar dark mage ke piche chala jaata hai: aur uski gardan pakad leta hai, aur bolta hai

Dungeon master: teri haisiyat nahi hai unse baat karne ki, tu gandagi ka keeda hai.

Dark mage ki gardan dungeon master ne dabochi Hui thi, aur dark mage ke pair hawa me the.

Dark mage haste hue: hahaha, ha aise hi paagalpan ki limits ko cross kar do, kitna accha hai na ye, aazad ho jaao

Dungeon master attack karta hai (solar shine) aur dark mage ke clone ko attack hot hota hai aur clone zameen me Dass kar blast ho jaata hai.

Aise hi dungeon master baaki ke clones ko bhi attack se khatam kar deta hai. Par asli dark mage chupa hua tha. Asli dark mage ne khud ko adrishya kar lia tha aur wo chip kar mahamahim ke piche chala jaata hai. Aur jaise hi piche se dark mage attack karne waala hota hai.



Mahamahim: kaayar humesha chip kar hi waar karte hai

Ye bolkar mahamahim apne staff se energy beam se dark mage par attack kar deta hai.

Dark mage: aaaaahhhhhhhhh

Dark mage ke kandhe par mahamahim ki energy beam lag jaati hai.

Dark mage: lagta hai ghee tedhi ungli se nikaalna padega.

Dark mage apne clones ko wapis bula leta hai, aur apna final attack shuru karta hai.

Dark mage apni is dunia ko alvida kah do tum ab :hahahahaha (Darkness of Black hole)

Dark mage ka attack itna shaktishaali tha ki uske chaaro ki light khatam ho gyi thi, khandhar ke chaaro aur bus andhera hi chaa gya tha, ek badi kaali energy ball jiska size ek paravat ke jitna tha, dark mage ne dungeon master ki taraf fenk di.



Dungeon master: main aisa nahi hone dunga, main kisi ko kuch nahi hone dunga.

Dungeon master apna counter attack karta hai, (Fire of raging sun)

Par dungeon master ka attack usko rok nahi paaya, tabhi raani-maa aur twin-flame Dungeon master ke paas teleport ho gye.

Raani-maa ne attack kiya (angelic shine of souls) aur twin-flame ne sath dete hue (Holy fire) attack kiya.

Par muskil se dark mage ka itna bada bhari attack ruk Raha tha.

Dark mage : hahahahahah, tumhari dunia me sab kamjor hai, aur tum aur tumhari kamjor dunia ko khatam karke main nayi dunia banaunga.

Mahamahim bhi dungeon master ke paas me teleport Ho jaata hai.

Mahamahim: aisa kabi nahi hoga, teri kaali kartute aaj tere sath khatam hongi.

Mahamahim attack karta hai. (Feirce light!!!!)

Mahamahim ke attack ke baad ek dum se energy ball wapis dark mage ki traf jaane lagta hai.

Itne me hi waha shaahi sena aa jaati hai, aur senapati dekhta hai ki dark mage se poora Shahi pariwar lad raha hai.

Aur wo sena ko wahi rukne ka aadesh deta hai.

Dark mage ka black dragon bhi drogon aur flamewings ke attacks nahi Bach paa raha tha.

Drogon ne apne panjo ko black dragon ke wings ko pakad liya tha aur uski gardan par jor se kaat liya tha, jisse kaafi saara khoon aur Maas drogon ne kaat liya tha. Saamne se black dragon ki chaati par flamewings me bhaari fire 🔥 wala attack kar dia. Iske sath hi black dragon zameen par Jaa gira

Idhar jab dark mage dekhta hai ki uska dragon kuch nahi kar paa raha hai aur uska energy ball uski taraf badh raha hai. Usne ek aur ghinoni chaal chali.

Dark mage: ye dragon bhi kisi kaam ka nahi nikla, sab mujhe akele hi karna padega, aur dekho to janta bhi aayi hai tamasha dekhne

Dark mage ne apni shakti badhane ki Sochi, dark mage ne apne black dragon ki urja kheechni shuru kar di, aur sath me poori sena se bhi kaale magic se urja khichni shuru kar di, aur jab laga ki urja kaafi ho gyi hai. Dark mage apna attack kar dia, apne magic se wapis badi kaali energy ball Push kar dia.

Is baar to uska attack badi hi tezi se dharti ki aur badh raha tha aur Mahamahim, dungeon master bhi mil kar kuch nahi kar paa rahe the.

Dungeon master: iska attack to bahut powerful hai pita ji, hume aur zor lagana padega.

Raani-maa: beta mujhe tumpar bharosa hai, tumhe is attack ko khatam karna hoga.

Twin-flame: bhaiya, main aapke sath hu.

Mahamahim: beta, iski shakti beshak jyada hai, par humare pariwar ke aapsi pyar ki shakti ko koi nahi hra shakta. Ab waqt aa gya hai, tum is pariwar ke mukhiya Bano, tum sambhalo sab.

Dungeon master: pita ji aap ye kya kah rahe, main kuch samjha nahi.

Mahamahim: tum sab samjh jaaoge, tumhari maa aur behan ka dhyan rakhna.

Ye kahte hi, mahamahim dungeon master, raani-maa aur twin-flame ko energy ball se door teleport kar deta hai.

Iske sath hi mahamahim, black energy ball ko apne andhar sokh leta hai, aur Mahamahim aasman me teleport ho jaata hai, jaise bahut bada dhamaka hota hai, poore aasman me light hi light ho jaati hai.

Aur jaise chote chote jugnu ki baarish si hone lagti hai, aur wo baarish dungeon master ke upar girne lagti hai.

Dungeon master: Pitaa ji!!!!!!!!! Nahi!!!!.

Dungeon master, zameen par ghunt tek kar ro raha hota hai.

Dark mage: hahahahahah, buddhe ka time aa gya tha, ek gya ab 3 baaki hai. Dark mage lagataar has raha tha

Dungeon master se ab bardaash se bahar ho jaata hai, wo gusse se aag babula ho jaata hai.

Use ek dum se apne pita ki aawaj sunai deti hai, ab mahamahim magical realm me tha

Mahamahim: beta ab sab tum par hai, meri saari shakti, buddhi aur takat tumhare anadar hai, tum sab kuch kar sakte ho, jo kabi main nahi kar saka, muje tum par naaj hai beta.Main humesha tumhare sath hu

Dungeon master: pita ji, main aapki legacy ko dil se laga kar rakhunga, aur koshish karunga ki sahi raste par chalta rahu.

Mahamahim: mujhe tum par bharosa hai beta, ab jaao is dunia ko bachao.



Dungeon master: tera khel aaj hi khatam karta hu main dark mage.

Dark mage dekhta hai ki dungeon master ki power kai guna badh chuki hai, use pata nahi chal paa raha tha ki wo kitna taakatwar hai, dungeon master ki shakti teji se badh rahi thi.

Dungeon master: tu dekh ab.

Dungeon master apne dher saare clones bana kar hawa me dark mage ko chaaro aur se gher leta hai

Dark mage ki hasi ruk jaati hai, wo Darr jaata hai, aur ghum ghum kar dekhne lagta hai

Dungeon master: tujhe bedio se, bandhano se dar lagta hai na. To ye le

Dungeon master magic se saare clones se dark mage ko magic bedio me kaid kar leta hai.

Dark mage ab har jagah se bedio se Bandha tha, aur hawa me tair raha tha.

Senapati, raani-maa, twin-flame, demon samurai aur Shahi sena, ye sab dekh rahi thi.

Ab dungeon master ke paas apaar shakti thi aur Mahamahim ki saari buddhi thi.

Dungeon master ne kai saare dusri dunia ke portal khol die. Aur waha ke sooraj urja lene laga hai.

Dungeon master: tujhe pyaar aur pariwar ki taakat nahi pata, dekh ye hai taakat pariwar ki(FIRE...OF…THOUSAND…..SUNS!!!!)



Dark mage: NAHI!!!!!!?!!!

fire-breathing-dragon-gif-12.gif

Ek badi fire Baal bedio me bandhe hue dark mage se jaakar takaraati hai, aur dark Wahi bhasam ho jaata hai, bedio se dungeon master dark mage ka magic apne andar shokh leta hai.



Iske sath hi dungeon master ladai Jeet leta hai, dark mage ke atyachaar aur jurm se sabko chutkaara milta hai, dungeon master ka pariwar, uska dragon drogon fir se harmony me apna jeevan shuru karte hai.

Dungeon master apni knowledge ka upyog karte hue, dusri dunia ke sooraj se apni dunia ko thik kar leta hai. Mahamahim ki yaad rakhte hue, wo apni behan ko dark mage ki dunia ko sambhalne bhej deta hai.Aur raani-maa raaj gharana sambhaalti haai, demon samurai humesha ki tarah raajgaddi ki pahredaaro karta hai.



Aur Dungeon Master aasha karta hai ki magical realm me balance bana rahe, Parr aap jab dusri duniao se ched chaad karte hai to sab kuch sahi kaise rah sakta hai, parr wo kahani kabi baad me.



Abhi ke lie…..



The End….

 

LaMujer

Divine
Messages
9,961
Reaction score
8,924
Points
143

This Shall Too Pass...
"

"This shall too pass, This shall too pass"


I kept murmuring while I held onto the pendant I wore all the time, it was the last thread attaching me to my mother.


I have witnessed a lot of cold nights, battled through so many storms, life has thrown me a number of hardships but never have I ever encountered such an atrocity.


Am I being melodramatic again? Maybe!


I got curled up into a ball under the fancy cosy blanket which provided no comfort to my aching heart.


"You should handle the situation wisely"


I remembered what my friend Sujata told me this afternoon, she made it sound so easy. But I don't know why, is it my small town girl ethics or my mother's "be a good girl" conditioning that I couldn't accept the fact that Aman, my partner, was cheating on me, and be okay with it.


I was devastated!


And every time I shared it with a Delhiite, they either normalised it, or encouraged me to do the same with him.


But I couldn't.


Maybe with someone else, in some other relationship, but not in this one. With Aman I have taken a leap of faith. I created a life around him because he was everything I have ever wanted.


But was it love?


"No, it is the idea of love, you don't love him, you just love the fantasy you are creating around him, and fantasies are never real!"


The wise words from my mother stabbed me in the heart. The disappointment in her eyes spoke it all. She always criticized my taste in men and when I told her that I was moving in with Aman and we will be in a live-in relationship, she won and proved her point.



I still remember her last look, she held my hand firmly and slipped her pendent in my hand and whispered,


"This shall too pass!"


I never looked back, even in her last statement she wanted me to get over Aman and I couldn't even stand the idea of it.


But don't know why I wore the pendent in a gold chain and in the past 4 years whenever it felt like life is beating me down, I held the pendent and murmured,


"This shall too pass, This shall too pass!"



But last April, it all started, and even my mother's magic spell couldn't save me from the impact.


It started slow, in a silent creeping way. Me and Aman moved to a new apartment, a better one. We started making wedding plans and the best thing, Aman was totally invested in it.


Aman! Well he was not a very emotional kind of person. He looked for logics and potential returns in every situation. He was someone who always kept a door open to walk out of any relationship or situation which did not serve him well. But this time he really wanted to get married.


"See maa, I have made him fall in love with me, I made this relationship work!" I won the battle I continuously fought in my mind with my mother and her beliefs.


But then we met her, Mrs. Padma Iyer. She was our neighbour. The first time we met her was at our housewarming party. She was with her husband who seemed like a nice fellow, he was in his late 40s and brought a wave of laughter every time he cracked a dad joke.


Padma was in her early 40s. She seemed normal to me at first. But then I noticed, her eye contact, her eventual subtle body gestures to expose her deep cleavage hidden behind her kanjivaram, she kept chewing something and curved her lips sexily whenever anyone passed her a compliment. She was pretty and also carried herself nicely.


But why should I give her a damn, until I noticed her extra hip swings in front of Aman. And I was taken by surprise when I saw Aman gawking at her.


First time in so many years I saw him nervous while she checked him out from top to bottom and offered a drink, almost blatantly in front of me. Aman was polite but she made her mark on me. I never felt so powerless in my own home.


I tried to shake it off. I thought about talking about it with Aman, but I knew he would discard my allegations in a moment and prove me wrong in every way possible, after all he was a lawyer, a damn good one. "


"




I sighed heavily as I experienced a sharp pain in my head as I recalled all those memories I wanted to forget.


"It's okay, have some water"


I opened my eyes, Neeraj was holding glass in front of me. I looked at him and my tears rolled down my cheeks. I was still holding my mother's pendant in my hand and kept murmuring "This shall too pass"


I took the glass from Neeraj's hand and gulped the water.


"I'll brew some tea"


I nodded my head and Neeraj got busy with his tea set.


Life seems so uncertain at this point, it's been just two months I have separated from Aman but all the wounds still seem so fresh.


"Here, have it"


I was lost in my thoughts when Neeraj handed me a warm cup.


"It's ok, we have made some progress, it's enough for the first day, we can do the rest in the next session"


Neeraj sipped his tea, his lips were curved in the most charming smile I have ever seen. I also tried to force a smile on my face.


I finished my cup and expressed my gratitude for being so supportive in my healing journey.


I unlocked my apartment, Sujata was still not home. I went to the kitchen, tried to eat but couldn't, lately I have been so much in my head that all I want is to lie down on my bed and be alone.


The day I collapsed in the office, was the acme of my sufferings. In the hospital I was told by the doctor that I was pregnant and had acute depression. I was told that my mental health can cause serious issues for my child and everything went gibberish after that, I zoned out, and detached from everything real and present around me.


I went to my apartment, I knew Aman was not home, I packed my stuff and moved in with my cousin brother and her wife. They were kind enough to give me shelter while I hunted for a new place to live.


All of that was not because I was a mother and I wanted to take care of my baby, I was even thinking about abortion and kept my pregnancy a secret from everyone.


A few days later Sujata offered me to stay with her, she had a nice place and wanted me to be her roommate. I was honestly dumbstruck by her offer, she never seemed like the helping kind. But I took the offer anyway. Since then I have been living with her.


Aman! Well, he took the easy way out. He didn't even contact me. No phone calls, no text, no follow up. Nothing! Puff! Just gone.


But I was stuck in my past, I relived every moment of shame and guilt over and over again in my mind like an endless cycle.


I remember the first night after the party. I was rubbing lotion on my shoulder. I could sense the sexual tension in Aman's body language. He glared at my breasts like a hungry beast. Honestly I enjoyed it.


That day he devoured my pussy, I was surprised by his cunnilingus skills, it was not very common for him to go down on me. The way he played with my clits and kept swiping his tongue up and down, I couldn't hold myself too long.


He didn't waste a moment after it, then and there, on the dressing table he ripped off my panty, spread my knees and put his length inside. He thrusted me up, and with every thrust he became wilder. He cupped my neck and started choking me lightly and by the time he was finished with me I was lightheaded.


It was the first time. But I knew I was not the person in his mind. He wanted to fuck Padma like this, but he couldn't so he fucked me.


After that day I became a tissue paper for him, he became horny often and fucked me like a brainless peice of meat, like a personal slut he owned.


And I let it happen…



I was sexually deprived. Even the kinkiness of staying together without a wedlock couldn't spark the bed anymore. So when Padma entered our life I let it happen.


First I thought it was just harmless banter. She often visited our home with a pot of her extra spicy sambar. Aman seemed to be in love with that. But then she visited in my absence. I knew but I did nothing to stop it.


Aman kept on fucking me hardcore. But after every session I was getting buried under my own guilt. The guilt of letting another woman freely seduce my man so I could enjoy the sex in bed.


For how long?


I knew Aman was eager to fuck her. I saw him clicking his dick pics to send her. I knew they were sexting. It was just a matter of time he was going to fuck her.


It became so intense and so quick and soon grew out of my control.


One Sunday, I was feverish and pretending to sleep when I heard them talk and what I heard made me sick to the stomach.


"Ahhh press harder Aman" Padma moaned


"For how long you are going to starve me Padma, let me fuck you today" Aman's voice was deep and full of anticipation.


I bit my own tongue so hard to keep my cries inside my mouth. They were just there in the living room making out while I was lying sick in the bedroom.


"You know the rule Aman, if you want to fuck me, you have to share your wife too, transactions doesn't work one way, you know that"


It was the first time I zoned out, I felt like falling into my own headspace.


"You know, my hubby is so into virgin asses and your wife makes him drool every time she walks past him.


So next time, when we meet, make your wife ready for a good fuck, otherwise, THIS is over!"



I heard footsteps departing and a heavy silence filled the apartment. For a brief moment I thought it was over, Aman can cheat but he will never share.


I heard footsteps coming towards the room. Aman entered and closed the door behind him. I sensed him opening a drawer. He sat beside me, put a hand inside the blanket and started rubbing my back.


In a few moments he climbed on me, I was wearing a tank top and shorts. I heard him breathing heavily, he came on top of me, without any warning or foreplay he flipped me back, lifted up my hips and ripped off my shorts and panties.


Before I could say anything he penetrated his cock inside me and started fucking. I was not ready, I was not wet, I was actually dry from hearing that conversation. I struggled beneath him, and urged him to let me go. But then my body kept responding, I grew warm, sultry, wet and inviting as he pounded me raw. My screams turned into moans and why not, after all he was my man.


My mind somehow tricked me into believing that he was jealous, he wanted to claim me, he was done cheating on me and wanted to make things right.


But that sunny bright thought turned into a nightmare as he pulled his cock out and started transferring my juices in my ass.



"I own you bitch, I own your ass, I own your every hole, and I will be the one who fucks your ass FIRST!"


Without delaying a moment he pressed his cock in my butthole, I struggled and refused, the pain was unbearable. He started playing with my clits, my body was so used to responding to his touch that I grew softer in just a moment, he pressed his cock hard and kept repeating it.


I was trapped in the cycle of sanity and insanity, his words "I fuck your ass first" kept ringing in my ears. It means he was ready to share me, taking my virgin ass was a necessary ritual.


No matter how much I wanted to resist, I went down the spiral of pain and pleasure, and zoned out again as he started in and out. The physical pain only added to my pussy juices. I wanted to scream, push him out, make a scene, but all I could do was moan in a way that he became addicted to it. He knew exactly how to play with my body, he knew me so well, he made me come so hard that I also became confused!


Do I like it?


He put one of his feet on my head and pushed me hard in the mattress, he grabbed both of my hands behind me thrusted hard, my whole body ached but out of nowhere I came crashing with an orgasm again, this time I cried out loud but couldn't ignore the wave of bliss my pussy was generating, after a few moments he came too, and as soon as he was finished he left the room, left the house, and didn't came home until I was gone to the office the next day.


I could still feel myself in that moment, in that body, one hole filled with his cum and another with my own juices, sore breasts and red hot nipples, and a lump of emotions in my throat. A tornado of guilt and shame generated right in the middle of my chest and engulfed me, I just sobbed silently, the whole night.


I don't remember how I reached office that day, I just remember the thought popping in my head that it was just the beginning, next will be Mr.Iyer and then there will be a next and a next, and a next…


"Let me talk to her once Sujata"


I came out of my thoughts and tears came rolling down my eyes, it's him, he came back, he came back for me. I was surprised to see how my mood changed from hating him to the urge to hug him and kiss him.


"She doesn't want to talk to you or see your face Aman, you have done enough damage now leave her ALONE!" I heard Sujata arguing in my favor.


"Yeah bro leave, unless you want me to beat the shit out of you"


UGH! It's him again, Sujata's annoying boyfriend! Vinay!


I came out of my room and stood in the living room, I saw Aman and Vinay staring at each other, Aman noticed me and tried to come towards me, Vinay blocked his way and a vile argument started. I made eye contact with Sujata and signalled her to make Vinay stop. She did so.


I stepped out of the apartment and closed the door behind me, I stood there in the hallway with Aman. He was drunk, which was not very normal for him.


Looking at him I realised I didn't want to go back to him, it was just the idea of the life I had which was alluring, and he was a big part of it.


But not anymore, he wanted to hug me but I took a step back, he tried to touch my face and I looked the other way with disgust. I wanted to slap him, but I just sobbed. We stood there in awkward silence. He seemed ashamed but didn't say anything.


After a while which felt like eternity, He took my hand forcefully and held it on his chest,


"If you ever need anything, any help, I want you to know, that I am here and I always will be"


As soon as he finished his speech he bolted down the stairs and disappeared.


That's it? All he had to say that he was here, to help me? No apologies, no remorse? After ghosting me for two months all I got was a friendly speech! I was furious and wanted to spat on his mouth for being such a bastard.


I turned to the stairs to follow him down, I was so ready to make a scene, but then I saw Neeraj peeking from his door, yes he was Sujata's neighbour. He raised his eyebrow in the most charming way possible and automatically I started breathing deeply, I knew he wanted me to let go of my anger, my pain, my need to hurt him and myself, and that's what I did, or he did, just by existing, just by making the eye contact at the right time, at the exact moment, just when I needed.


I nodded my head slightly, he smiled at me, the most comforting smile I have ever seen. I turned around and went straight to my room. Vinay kept babbling and Sujata tried to comfort me but I paid no attention. I was grateful that they are letting me stay.


I sat in the corner of my bed and hugged myself. I tried to concentrate on Neeraj and his smile. I don't know how it was the only comfort I had right now.


I have met Neeraj here and there whenever I visited Sujata. He was her neighbour for two years or so. He is a psychiatrist and had a reputation in his field. When my doctor told me to get therapy for my mental issues I was highly reluctant. How could I face all of those moments again, I was afraid of Aman and I was afraid of myself.



For most of my sessions I just sat there, Neeraj also sat there. He let the silence fall but never made it awkward. For some sessions I just sat there and cried, for some we both stared out of the window, mostly we sipped tea together, I don't know what he gave me but it was very calming.


Today was the first instance when I spoke. It felt good. My life right now was a dark room and he was the candle, so calm and pure, yet whenever I looked in his eyes I saw fire, a fire which could melt every obstacle in his way.


I liked him, and he liked me too. He was my psychiatrist and I was his patient. I shouldn't feel this way towards him. Maybe I was just depending on him, maybe I was just lonely, I just couldn't believe that I felt that way for someone too soon. I felt like betraying myself. So I tried to pull back my feelings, but every time I do that a string so strong binds me with him.


He accepted me when I couldn't accept myself. I paid him for the treatment but still his warmth was priceless. It melted all my bits and broken pieces, and I was becoming whole again. He gave me a new perspective of life and I was ready to keep my baby.



Two things happened after Aman visited, he kept texting bullshit that I didn't pay much attention and Vinay started really acting up.


Vinay was just another spoiled brat who created a scene out of no reason, like why pizza was taking a bit longer or why cricketers were not playing in a particular match and so on.


I didn't care at first but then his scenes became drunken scenes. His body language grew violent and I sensed he was hitting Sujata. He started showing up even when Sujata was not at home, sometimes drunk and sometimes sober. Worst part, he insisted on waiting inside.


I kept myself locked most of the time or went out for a walk if the time was right. One night I finished a session with Neeraj and came back home. He had a flight to catch, and was going for a conference in Bangalore.


I was just opening the front door, when I noticed it was already open. I could hear Vinay barking on phone on some stupid topic, I peeked inside the room to look for Sujata but she wasn't home. I looked at my wrist watch and it was 10 pm. I couldn't go out for a walk at this time, so I went inside and planned to get locked in my room.


"You, tell me where Sujata is, right now!"


As soon as I entered, Vinay started to bark at me. I was already annoyed and was in no mood to entertain him.


"I don't know" I said and started to walk past him.


"What do you think you are going, tell me where Sujata is or I'll slit your throat right now"


With all my surprise Vinay grabbed my elbow and dragged me towards him. He had a knife in his hand, his eyes were bloody red, his rage shattered all the self confidence I have been building and I was shivering again.


"I know you are also a whore just like her, so tell me where she is or I'll start scaring your face"


Vinay touched his knife on my face, the cold touch of metal only worsened my panic.


"I really don't know Vinay, Please let me go '' A teardrop rolled down my cheeks.


But Vinay was in no mood, I don't know what made him so angry and out of the blue why he was targeting me but he kept pressing his blade on my cheek and soon I felt a sharp sting, with the corner of my eye I saw a thin stream of blood running on my cheek. I gasped and screamed in pain.


I couldn't take it anymore. I tried to push him aside but he was a strong guy. I kept struggling, I don't know how I gathered the strength to use my other hand and grabbed a vase and hit his head. He stumbled and left my hand, the blow was not that strong and he recovered soon, but in that small instance I ran as fast as I could. I knew I couldn't get out of the apartment because he was blocking the way, so I locked myself inside my room.


For eight long minutes, I kept calling all the possible numbers I could imagine saving me from this calamity. Vinay kept banging on my door, calling me names, giving me threats. So I did what I never wanted to do.


I called Aman!


He picked up, I think I mumbled "Please Save Me" I was experiencing breathlessness due to panic and passed out.


I don't know who came first, my landlord, my cousin, Sujata or Aman. I just know when I opened my eyes, Aman was there, he was frantically calling my name. He had tears in his eyes, I have never seen tears in his eyes, I was relieved. I hated him for so long, but at this moment I can't, the idea of love came rushing and I submitted. Forgiveness is the strongest virtue of a woman, and so I did forgive him.




I frantically bit my nails as I was waiting for the most important text of my life. The tick tock of the old clock of my mother's house just added to my palpitation.


It's been one year since that incident. The incident which changed the whole equation of my and Aman's relationship.


My pregnancy got revealed when I was taken to the hospital for treatment. Aman immediately proposed and I said yes!


The blanket of safety and security I experienced in his arms after facing such an adverse situation, I couldn't say no. He seemed like a changed man. His eyes sparkled with tears of joy. He kissed my forehead so many times and asked for forgiveness. He had a look on his face which I always wanted to see, He was in love!


We soon got married! Moved to a new house and started preparing a room for our new family member. Life was blissful.


I am happy, or maybe I should say, I appear to be happy.


I am in love with Aman, or maybe I should say, I appear to be madly in love with Aman.


But the thing is once you touch depression, you are never the same anymore. With depression comes a blessing in the disguise of a boon.


"Overthinking!"


I first started mulling when Sujata asked me to move in with her, her benevolent nature was a whole 180, and after Aman I trusted no one.


One night when she passed out due to over drinking, I accessed her phone, I knew her password was her birth date. She never cared much about her privacy and all.


At first I found nothing suspicious, but then I noticed she had a contact name: "❤️❤️❤️", I searched for Vinay and she had a separate contact on his name.


I found chatting with her lovey dovey in the WA. It took me just one look to figure out who he was. The chatting style, the stoic gestures, the locations where he wanted to hook up with Sujata, all pointed to one person,



AMAN!


I didn't panic that day, I felt intrigued. Aman cheating on me was old news. So I started paying more attention. I noticed the bond Sujata had with Vinay was just a show. They had absolutely no compassion at all. He was more like his bodyguard.


Soon I discovered why I was sharing an apartment with Aman's mistress. Apparently he was cheating on me for almost three years now. Aman was all set to leave me for her. The wedding plans, the new apartment was just a trap to tell me "It's not working anymore"



Stupid stupid me!


Padma's chapter actually prolonged my stay in his life. He enjoyed making me pose as his whore, whom he could use however he wanted.


Me moving out was a bonus for him, but then somehow Aman got a hold on my pregnancy news.


In the first year of our relationship, I came to know why Aman was so reluctant to marry. He had some fertility issues, along with a heart condition. I knew he visited a doctor once in a while in Bangalore and was on medication for both. He wanted a child, I knew all along. Apparently his pills were working, when I lost track of my contraceptive amidst the whole "Padma" chaos I became pregnant.


Aman saw a golden opportunity, and wanted to win me back, so he somehow tricked Sujata to work for him, and keep me with her. I let them fool me.


I couldn't make sense about Vinay's presence though, but the attack solved my query. Aman became my knight in shining Armor. He saved me and I was supposed to be awed.


But I wasn't!


But still I went with him that day, I took him back and let him play whatever game he planned with such preciseness. I knew what he was capable of, I could never win a legal battle with him. If I refused to go with him, with all the contacts he had, I won't be surprised if he kidnaps me someday, makes me disappear and chains me to a dungeon until I deliver his baby.


I knew Aman wanted the child but he didn't want me. He saw me unfit to be the mother of his child, I crossed him by moving out, I could cross him again. I sensed him planning to get rid of me.


So I had to do something!


I knew I was safe until I had my baby inside me. Aman was skeptical at first but still he brought my loving wife act. He put me on surveillance by a nurse constantly watching me.


I had to think harder to figure a way out and Aman himself gave me one.


A man like Aman had many enemies, I just had to search for the right one.


A year back Aman won a case. A member of a politically influential family was accused of killing a son of a well known Pharma company. Quite a high profile case it was. Aman was in the favor of the political family and the Pharma company owner had always held a bitter grudge.


I reached out to him with the help of my Mother's old driver. All I had to do was give him the information about Aman's health conditions. Aman ordered his meds online. The bottle of his pills were replicated and was filled with some other drug and as a loving wife I had to take care of the Unboxing so he could never doubt. He pretended like those were just collagen boosters or vitamins.


I was 6 months pregnant when his new medication started. I saw his health deteriorating, bit by bit by bit. He suffered from high blood pressure, palpitations, occasional chest pains, sleeplessness and so on. The more his sexual power weakened, the more he panicked. But he hid it all very well. He couldn't leave the town due to the pandemic but he consulted his doctor, but no matter what he ordered, he received the wrong meds.


It's been 1 month since my son is born. Today I am visiting my mother. I need to remove myself from the house, so he can book an escort for his personal pleasure.


The escort was already trained with specific instructions. He is been taking a sexual stimulant lately and the escort was advised to overdose him with it so his over excitement and palpillations will lead to an heart attack.


Aman will be killed by his own health conditions. A perfect plan of a perfect murder.


In the meantime my phone chimed with a notification, "It's done"


I immediately deleted the text. A rush of chill ran through my spine. A had a long road ahead. I have to behave normal for the rest of the day and buy them time to clean up the crime scene, switch the medicines and get rid of any possible evidence.


I had to go back to my house the next day , discover the body, call his doctor, and pose like a devastated widow. Some law and order men have already been bribed to take care of legalities.


I don't know how I gathered the strength to do all of these. I slept with a man for months who wanted to snatch my baby and wanted me dead, a complete sociopathic criminal! But whenever I was in doubt I thought about my baby, his future, my future, I would never let a man like Aman be his father, he may have his genes but will never have his shadow.




So whenever my heart sank, I had doubts, I felt nervous, I held my pendent and whispered the wise words,


This shall too pass!
 

Rawat@7

Bad Is Never Good Until Worse Happens.
Messages
544
Reaction score
931
Points
93
TRANSIT


Note: This story was inspired by my recent days in college and it’s straight from my heart. The humour in the story were planned as dark(black) comedies, which was inspired by my conversation with friends and this time, I relied more on comedies when scripting the story. Instead of making this as a drama, I wanted to try something new and opted to turn this as a black comedy romance story...


PSG COLLEGE OF ARTS AND SCIENCE:

DECEMBER 11, 2021:


After living in the lockdown period of two months and spending time in online classes, the third-year college students are having their physical exams in PSG College of Arts and Science. Due to the first and second waves of the Covid-19 pandemic, the entire class went online.

The students entered the college and the exams are held for all the departments in the college. To know the progress of studies by students, the college dean goes all over the class and reaches Room Number 319, which is B.Com(Accounting and Finance)- B Section.

Seeing the students, he asked them: “How the study is going on?”

“Ok sir,” said Vijey Abinesh, a guy who is white-looking, have god-fear in his face and is reading his books sincerely. Nearing the other students, he asked one of them: “Which is the most interesting period?”

“Games period, sir,” said Sanjay Kumar, one of the class students.

“Fine. Which is most boring?”

“Exam sir,” said Swetha Varshini and Shruthiga, who were hearing him.

“Oh really. Then please suggest how to make the exam more interesting.”

The whole class is silent. Then, Sai Adhithya raised his hand.

“Yes, my boy.”

“Sir, T-20 cricket emerged as the test cricket started becoming boring. We can take some idea from T 20 cricket to make the exam more interesting” said Sai Adhithya.

“Very good. Please elaborate!” said the College dean.

“Following are my suggestions:

1.) First 45 minutes of the 3-hour exam will be power play…There will be no invigilator in the class during this period.

2.) After power play, during the next 45 minutes, there will be something like over restriction. This means the invigilator cannot enter the class more than 4 times. During each entry, he cannot spend more than 2 minutes in the class.

3.) If the above restriction is flouted, there will be a free hit. This means he has to dictate one answer to the whole class.

4.) After every one hour, there will be strategic time out of 5 minutes. During this time the students can discuss amongst themselves.

5.) And the last one is most interesting. After every 30 minutes, girls from the adjacent girl's school will come into the exam hall and perform like cheerleaders. Hearing all these things, the college dean dials KMCH hospitals and asked for a bed to admit himself and he leaves the class.

After a few minutes, as the teacher is opening her laptop, she hears someone asking permission: “May I come in mam?”

Seeing him, she said: “Yes Akhil. Get in. Why so late?”

“Delay due to traffic mam,” said Akhil and he gets inside the class, sitting on the bench. Before starting to read for his exams, he mutes his phone and forbids each and every disturbance surrounding him, so that he could start his reading without any disturbances.



A FEW HOURS LATER, 9:00 AM:

Since the time is almost 9:00 AM, Vijey Abinesh comes near to Akhil, reminding him: “Akhil. See what’s the time da. Our exam is almost to start by now.”

Seeing his phone, Akhil gets everything ready and goes to his nearby hall, sitting on the bench steadily. While writing the exams, he notices a few students passing the exam papers and copying, which he ignores.

In his mind, he thinks: “Will the guys copy the exams bypassing the papers also?” When writing, he turns back to his friend Janaarth and asked for the answers of objectives, to which he says: 1, 2 and 3 options by showcasing his hands.




A FEW HOURS LATER:

A few hours after the exams at 11:30 AM, Akhil submits the exam paper to the invigilator followed by Vijey Abinesh and both of them takes their respective bags. When going, Vijey takes a turn to the left side direction, while Akhil takes a right turn towards the steps.

As he is moving forward, Abinesh said to him louder: “Akhil. I am going for a nearby class to register my name for music class da. So, you wait in the parking lot, with your KTM bike ready.”

Akhil nods his head and while going, he receives a call from his friend Sanjay, who asked him to come for the class all of a sudden. When going there, he sees a few group of students seeing a papers and asked them: “What’s this da?”

“It’s a story da, written by our classmate Nisha. I wanted you to classify this story’s genre. As she told it’s under crime genre. Looks not so” said Shruthiga, his classmate. Akhil’s brow tightened and his eyes turned red. Yet, he patiently reads the paper and remains silent for five minutes.

Nisha arrives to the place and Akhil said them: “The story starts with an plenty of action sequences da. In addition, it’s fast-paced and have lots of twists and turns, moving like a cliffhanger. So, it’s under the genre of thriller.” Hearing this, she becomes furious and asked him: “As though you are a famous story writer, you are classifying this. I have an experience of three years as a book reader, excellence in academic career and article writing. But, without these things, how can you classify my work. Who asked you to do this man?”

Deeply offended by her words, Akhil replied her: “Intelligence has nothing to do with the passing of examinations. Intelligence is the spontaneous perception which makes one strong and free. Not being arrogant and over confident.” Staring at Sanjay, he moves out from the place, watched by Abinesh, who have just then arrived and asked Sanjay: “What happened da? Why is he going angrily?”

“Ah! We didn’t take him to watch Pushpa: The Rise Part 1 in the theater it seems. That’s why he is going heartbroken” said Sanjay and Rithik, to which Prithvi Raj replied: “The film itself is a rehash of KGF: Chapter 1 and Rangasthalam da.”

“Big joke da. It’s a big joke” said Swetha and Shruthiga.

Abinesh laughed and showcased the Instagram post, which tagged actor Soori and actress Rashmika Mandanna, both of whom were mocked as: “Pushpa’s husband(Soori)” and “Pushpa’s wife(Rashmika).”

“Have you heard this song from that film da? O Saami and Oo Solriyaa, Oo Oo Solriyaa?” asked Sanjay Kumar, to which Abinesh said: “Yet to see that da. Many said that, it’s because of Samantha this film is still running in the theatre.”

However, he remembers the question which he was to ask his friends and asked them: “Ok. Jokes apart. Why is he leaving angrily da?”

“Who da?” asked Thilip, as they have forgot
everything, almost.

“Akhil da” said Abinesh, to which Jotsna said, “Hey! Who is he da. Speaking like a street dog.”

“You are only speaking like a street dog, now. He have came to ask about this only, at first. But, deviated from the topic, due to the start of movie discussion” said Mathivanan.

Sanjay explains the entire scenario, where Nisha have insulted Akhil and hearing this, a furious Abinesh takes her along with him to the parking lot asking her, “How long you know Akhil?”

“During the start of Third semester” said Nisha, who is actually donning the hairstyle, that boys used to. Hearing this, he tells her, “I know him very well, since 9th grade. Both of us are having respective backstories in our life.”

FEW YEARS BACK:

I was born in a conservative Brahmin background. My father Balaji is a renowned businessman in Erode district. We lived in a joint family and my mother was pregnant six months, with my sister Tryambha in her womb.

Our thoughts and feelings are stereotyped and automatic. We learn a few subjects, gather some information, and then try to pass it on to other people. Likewise, my father too became a stereotype person, that often lead to a conflict between him and my mother.

As the conflict turned into fights and worse problems, my mother divorced him and took me under her custody. Since, I hated my father. From then, the one who have supported me were: “My mother, My loving younger sister and My friends.” I developed a passion for music, when I was studying 6th grade and practiced the music.

Until 9th grade, I doesn’t find anyone, who understood my pains and sufferings. But, in the mid-period of 9th grade, I got one good friend and he is Akhil.




PRESENT:

“Ok. What about your friend Akhil? He too hates his father?”

Smiling at her, he says: “No. He hates his mother and the family. While, he still more worships his father as a teacher and god.”

“Is he alive or dead?” asked Nisha, to which he replied: “He is dead. But, Akhil still more can’t believe that, his father died and have lost his way in the middle.”

Abinesh tells her, “In my life, if my father was the enemy, in Akhil’s life, his mother is the solo enemy. Since childhood days, she insulted him and showed love and affection to her other relatives invoking hatred in his mind. He have suffered a lot due to his mother and relatives. Facing the child abuse at an very young age, his father divorced his wife, taking Akhil under his custody and living a happier life.”

Angered by this, Nisha said: “Not all mother are bad Abinesh. Akhil is doing a mistake.”

“Too late Nisha. His mother realized her mistakes too late. Since, a sudden caste violence and caste riots before two years due to the Pollachi Rape Incidents, have killed their entire family due to the bombs thrown by the rioters.” Abinesh said and hearing this, she tells: “It’s all Karma, that plays a vital role in the life of human beings, Abinesh. I heard, you have made Akhil to stay in your house. May I know why?”

Thinking for a second, Abinesh said an incident before few months ago, which have made him so close with Akhil.

Abinesh’s sister Tryambha was studying her 11th grade in Suguna International school of Coimbatore district and during such time, few people from Scheduled caste were brainwashing school children and college students, frequently. One among such group succeeded in brainwashing Tryambha and were planning to rape the poor girl in a park.

Abinesh asked Akhil to go and pick up his sister back to his house and he finds her talking with a guy from SC, which he videotaped. Seeing this, Tryambha fearfully went near him and asked, “Brother. What are you doing? Please stop the video.”

“In this age, do you need love?” asked Akhil, to which the guy said: “It’s their wish. They do. Who are you to ask this man?” Angered, he started to thrash up the guy left and right. When Tryambha intervened to stop the fight, he pushed her asides and continued to beat up the guy black and blue, watched by many.

He says, “If an innocent girl is caught, will you all take her for granted da? Why are you spoiling the life of school children da?” Unable to bear the beatings, he decides not to wide up the conflict in order to go out of the parking lot and pledged, “I hereafter, would see each and every girl as my own sister and won’t trap them in the name of love. It’s a promise.” Hearing this, Tryambha slapped him right and left, in front of everyone and went along with Akhil, who said her: “In this age, it’s all an infatuation Tryambha. It’s not love. If your brother hears about this, will he feel happy or your mother, who have lots of affection with you, will be happier? Did you think about them? I have a good father. While you have a good brother and doting mother. Don’t ever trouble them in your life, at any time ma.” She apologized to him and Akhil informed Abinesh about the event, that happened in a nearby park, who thanked him for this saying, “I am indebted to you the whole life da buddy.” The duo hugs and Akhil tied a Rakhi in Abinesh’s left hand, implying their undying friendship.



PRESENT:

Nisha asked him: “Ok. It’s all good. But, what’s the link between this and his writing career, I asked you?”

Abinesh thinks a while and tells her, “I have shared the storymirror link with you in Whatsapp. Go a glance and additionally, meet my friend Sanjith tomorrow to know more about Akhil.” Abinesh leaves the college, as it’s time already.



THREE DAYS LATER:

DECEMBER 16, 2021:


Three days later, after finishing their final exam by 12:30 PM, Nisha meets Abinesh again. After Akhil leaves in his bike, she asked Abinesh: “Is Akhil one of the prolific storywriters? It’s unbelievable. I don’t know who was his source of inspiration?”

Laughing a while he says, “It was me. He saw me an inspiration to write stories and I think Sanjith could have told you about his Short film, based on 2008 Bangalore serial blasts?”

“Yeah, Yeah!” Nisha exclaimed. She slowly asked him, “Then, why did he stopped writing?”

“All because of our society and me myself. Since, Akhil saved my sister, the SC’s head, a politician leader vowed for revenge. Because, many people from other party mocked and created memes against him. As a retribution, they staged an accident and killed Akhil’s father. Additionally, an one-year old girl, whom Akhil considers as his own sister was unexpectedly killed in a road accident, along with her grandmother. These two incidents left him dejected and he slowly slipped to the path of self-destruction. I tried to change him, but in vain.”

“Self-Destruction means?” asked Nisha.



“Self destructive path means, not as you think like cigarette smoking or alcoholism. He drank Fanta, 7 up and became a mere bookworm. Additionally, to forget the incidents, he grew up large number of beard around him and stayed along with me, until he finished his studies” said Abinesh, to which Nisha is extremely shocked. She apologized to Akhil, the next day for her harsh words.

Two days later, Sai Adhithya, Akhil and Abinesh’s close friend is coming along with his friend Rajiv, who tells: “Hey. Atmosphere is so nice da. See the place da. Full of girls.”

“Then go and sleep in the center of the college with your bed sheet da” said Nikhil, their Telugu classmate from Nellore, Andhra Pradesh.

“I have stopped telling you the story right. Rajiv. After you bear a child, you would went on to womanize several women. Such a playboy guy you are in this story, you know. Then, you become serial killer, etc.” As he is telling this, Rajiv showcased his hands and said: “Please don’t say this da. Please. I will stop it. Enough.” They laughed and entered inside the class.

Adhithya is surprised to see his friend Akhil, with a shaved look, with a back to bang for fulfilling his dreams and surprised by this, he asked Abinesh: “What a sudden change! Is he really, our Akhil da?”

“Is your eyes blind da? He is our Akhil only” said Sanjay and Abinesh revealed: “I only changed him before three days da. Was unable to see him in the path of self-destruction and the grief inside him. That’s why explained him the quotes from Bhagavad Gita. He understood the importance of life, not because of me. But, because of one of our teachers.” Abinesh said and seeing this, Adhithya asked: “What’s that quote da buddy?”

“Human Life is full of battles- Fight your way, stand your ground. Because everyone is a masterpiece” said Abinesh to which, Rajiv said: “I thought, you told something regarding sex, love and retching da.”

“At this time also, you are exciting with thoughts of sexual desires ah, Gopi?” asked Sharan, to which Adhithya said, “That is why I bomb people.”

Akhil gets ready to meet his head in the short film department and gets his script Undercover approved by the head director, who is impressed with his story and assured him to finalize the casting.

The same time, as a girl is passing towards Rishivaran, he tells her: “Even if it’s a graveyard I would put a window and look at your face.”

Akhil said him: “Olvaran. Even if it’s a roll, don’t you think about the logic da.” Hearing this, Abinesh recited in joy saying, “Akhil. Finally, you have made us to laugh da.”



“Yeah. It’s a Olympic race or a competition you see. Shut up, go and do your other jobs man. Idiots” said Sundar Raman, one of the guys.

Adhithya said, “I think, he have became a pale shadow after being busy with CA Inter exams.” Abinesh and Akhil said him, “You, me and I too are writing CA Inter exams in July 2022 da. Have you forgot?”

“Oh, is it? Then, I will go and register in YS Academy da” said Adhithya and he goes in a hurry burry mode.

“Hey. They said this for fun da. Idiot” said Sanjay to which Akhil said, “Leave da. At least, he is trying to do his work with sincerity.”

“Already his head is full of dandruff da. If he applies for Inter, then he have to lose all his hairs” said Swetha.

“Then, no girls would come forward to marry him, telling he have lost his hair” said Rajiv, tightening his hands and laughing. Hearing this, an another guy in the class, Shaik Sulaiman said: “You continue to speak like this itself. You would die, one day.”

The latter sees a message from Deepika, one of his friend in B.Com(Banking and Insurance) in the Whatsapp: “Kiss or hug me.”

“What? Message is coming like this” said Abinesh, seeing it in a state of shock. While, Akhil gets a call from Krishnaraj sir, after which he leaves to meet him. The same time, Abinesh goes to meet her.

Krishnaraj sir is one of the prominent professor in PSG College of Arts and Science. Though being a strict person considering discipline as important, he have mentored and trained a number of students in his career, motivating and inspiring them.

He have attended various number of sessions in Sri Krishna college of arts and science and several other sessions of UPSC and TNPSC exams, motivating the aspiring students. Since, Abinesh was unable to convince Akhil, he approached Krishnaraj sir, who called him up to his room and asked his problems, to which Akhil bursts out in tears and reveals each and every mishaps, that have happened in his life.

Hearing this, Krishnaraj sir thinks for a while and said: “Life is beautiful, Akhil. There are lots of ups and downs in our path. As your father died, you wished you should go in the path of self-destruction. Then, no one can live in this world. All have to die. In addition, for the death of one year old girl, you don’t have to grieve like this. Since, death is unexpected. It have to come one day in the life of human beings. If not convinced still, you go to some place as per your wish and see the life of human beings. You could realize the importance of life.”

At present, Akhil is planning to go for Chalakkudy waterfalls and Kerala, exploring various kinds of people in the place, where he have planned to shoot a short film, with the finalized casting. He have asked for three days grace leave, despite the ten days Semester leave, to which his tutor Prakash sir and Krishnaraj sir permits so that he can complete the short film telling him, “All the very best Akhil.”

When going, Nisha asked Akhil: “Akhil. May I also accompany your journey?” He accepts and they both shake hands. With few Visual communication students in their respective bikes, Akhil travels in his bike, supported by Abinesh(who comes in his own bike) and Nisha sits in the bike of Akhil.

In Chalakkudy, Akhil learns from Abinesh that: “He have accepted Deepika’s love and is so happy that, Deepika loved him so much deep.” Akhil smiled at him and congratulated.

During their journey to Chalakkudy, Akhil realized that, “Nisha is really a talented girl, writing good stories” and he decides to make her write the screenplay of his short-film. At the time of the team’s visit to Idukki dam in Kerala, Nisha and Akhil have some qualitative time to talk with each other. As Abinesh is with Deepika and the other people near Thommankuthu waterfalls.

Nisha tells him: “Akhil. Do you know why am I donning this type of a hair style?”

Thinking for a while, Akhil replied her: “I don’t know exactly. During the second year, I have saw you reading some books, taking good lectures and being a brilliant student. Further, I have learned about your continuous illness. However, don’t know why you have donned this type of hairstyle. It’s usual as per my guess. Since, Christina mam too is donning this type of hairstyle only.”

Laughing upon hearing this, Nisha said to him: “Yeah. But, not because of that. It’s because of Cancer.” Nisha said and further revealed that, “She have survived from cancer.”

Extremely shocked, Akhil asked her: “Wasn’t you worried or feared about cancer, Nisha?”

“In seeking comfort, we generally find a quiet corner in life where there is a minimum of
conflict, and then we are afraid to step out of that seclusion. This fear of life, this fear of struggle and of new experience, kills in us the spirit of adventure; our whole upbringing and education have to think contrary to the established pattern of society, falsely respectful authority and tradition.” Nisha said to him.

Akhil asked her to take him to the people, who are fighting with Cancer in Kerala, to which she gladly accepts. With the help of other crew members, he goes to Trivandrum.

Going there, Nisha showcases people suffering from Liver Cancer, Mouth Cancer, Blood cancer and Stage-IV Cancer. He tells to Akhil, Deepthi and Abinesh: “Cancer patients experienced many symptoms that affected their quality of life. There is a need to develop interventions for effective management of symptoms that will empower the patients to have a greater sense of control over their illness and treatment and to improve the quality of life.”

Seeing the people’s difficult to even drink a drop of water, Abinesh feels sad and Akhil’s eyes are filled with tears. Since, Cancer is the main health issue in the community across the world. Globally, cancer is one of the most common causes for morbidity and mortality. Now, Akhil realizes the importance of life, as told by Krishnaraj sir and henceforth, he throws away the Seven Up, Sprite and Fanta bottles asides, thus giving up these bad habits also.

Love blossoms between Nisha and Akhil, during the beautiful journey of these people to Palakkad. Some of the crew members of Akhil gives degrading commentary about Nisha, which leaves her heartbroken and she slips into depression. However, he consoled her and comforts her.

However, still more not convinced, she walks on the rainy road and Akhil goes behind her calling, “Nisha…Nisha.”

Taking a jacket to cover them, Akhil shares a kiss with Nisha and he holds her in his arms, coming towards his house, where she kisses him and the duo ends up making love and spending one night together. Afterwards, the crew goes to Mazhampuzha dam, completing the shooting there too and the editing was successfully completed by Sai Adhithya(who joined off late, during the journey).

The guys return to Coimbatore, where the short film is submitted by Akhil. Abinesh’s songs such as The Life Theme, Friendship Anthem, KTM: The Adventure ride and True Love becomes popular with the students.

Akhil meets Nisha and thanks to her for motivating and inspiring him and she too thanked him. Akhil tells: “Nisha. I love you so much.”

Emotional, Nisha hugged him in tears and they embrace each other.

While hugging, Nisha asked him: “As I fight more with you, you won’t leave me la?”

“In your love, there isn’t much anger. You mental” said Akhil to which Nisha said: “Love you.”

“Love you too.” Adhithya now states: “That’s why I prefer to be single in my life.”

“But, I prefer to go and mingle with girls. Because, our atmosphere is so good and super” said Rajiv, to which Adhithya begged him: “Have you started again ah da? I plead with you. Change your dialogue. I am unable to hear this repeated dialogue.”

Abinesh laughed at this and when marching towards the class with Akhil, Deepthi, Adhithya, Rajiv and Nisha, Sanjay rushed towards them and stopped.

“Why are you coming like this da? Any problems?” asked Adhithya, to which Sanjay happily tells: “Buddy. Due to Demicron and Omicron virus, there’s a discussion to keep our exams and classes online it seems da.”

“Let the virus spread without any disease. Let our online classes continue forever” said Kathirvel, one of the class students, who have come along with Sanjay.

“Oh! I am going to miss girls” said Rajiv.

“We are all worried about our future. While you are worrying for girls. Is it needed now Rajiv?” asked Janaarth(another classmate and friend of Sanjay), laughing.

“Anyways, to god’s luck, our classes be conducted through offline mode only. Pray to god and leave everything in god’s hands” said Sai Adhithya and they get inside the class as it’s too late.




EPILOGUE:

When one travels around the world, one notices to what an extraordinary degree human nature is the same, whether in India or America, in Europe or Australia. This is especially true in colleges and universities. We are turning out, as if through a mould, a type of human being, whose chief interest is to find security, to become somebody important, or to have a good time with as little as possible. Because, this world is a transit, where we learn so many things, through experimentation, research and planning.
 

Rawat@7

Bad Is Never Good Until Worse Happens.
Messages
544
Reaction score
931
Points
93
"__THE UNDYING LOVE__"


(An untold story of Pure and Eternal Love)



Note: This is a fictional work, set in the accounts 2018 Kerala Floods and is also an intense love story, set in Tamilnadu and Kerala states respectively. I did research for six months, in order to write this story and wrote minimum of 10 drafts. The story is a spiritual sequel to my successful romantic-drama Shatabdi: The Journey of Love, which was my debut story in the storymirror. Additionally, the films like James Cameron's Titanic and Abhishek's Kedarnath made me think and I wrote this story eventually...



UTTARAKHAND JUNCTION:

10:30 PM:


As the time is 10:30 PM, the Shatabdi express, which has reached Uttrakhand Junction, starts and is going towards Hyderabad Junction. While the train is going, someone in the door of the train is crying out aloud and is seemingly upset, closing his face. Upon seeing this, a man, who was sleeping in a lower berth inside, gets up. The man looks like an Indian Army officer, who is wearing a blue shirt and red pants, with a titanic watch in his left hand. His eyes are cool, sharp and blue colored. His face looks like a shining Ganges river. He reaches the man and touches his shoulder asking him: "What happened brother? Why are you sitting and crying here?"

The young man, seemingly around 25 to 28 years of age, with his black eyes replied him: "Don't I have a freedom to cry also sir." After pausing a while he tells: "Lord Krishna said: Love wins all and further told to love everyone. But, none realizes the importance of love. This world is cheating us in the name of love."

Upon hearing this, the man asked him: "What is your name man?"

"I am Gaius, from Haryana sir. Going to Warrangal, back to my work" said the guy and he further asked for the name of this 26-year old young man. He tells him, "Myself, I am Ashwin Ramachandran, coming from Coimbatore district of Tamilnadu."

Ashwin now asked to the young man, "Gaius. Have you ever saw films, with love story?" The man initially silent replies: "Yes bro. I have seen Titanic recently and Kedarnath." Ashwin now tells him, "In both these films, the respective directors tried to showcase a love, that's set in the ocean and floods. But, in real life, we have various kinds of challenges." Shortly to say: "Our life is full of conflicts. In order to face the conflicts, you have to fight the way and stand your ground."

The duo sits in the seat and Gaius asked him: "Brother. Have you loved anyone in your life? I mean, any love stories in your life?"

Silent for a while, Ashwin tells: "True love is free from expectation, anger, and any other emotion; it involves an only act of giving, void of any expectation or null feeling. Krishna taught us the same in Mahabharata; he quoted, "He who has no attachments can really love others, for his love is pure and divine. My love story is very different."

(The story is now explained from Ashwin's point of view to make the subject more clear.)


FEW MONTHS BACK:

MEENAKSHIPURAM, COIMBATORE DISTRICT:


When one travels around the world, one notices to what an extraordinary degree human nature is the same, whether in India or America, in Europe or Australia. This is especially true in colleges and universities. We are turning out, as if through a mould, a type of human being whose chief interest is to find security, to become somebody important, or to have a good time with as little thought as possible. I was raised up by my father Ramachandran.

After my birth, my mother died due to pregnancy complications. I wasn't even told how she looks or how she smiles. Hence, I have drawn an imaginary photo of my mom and used to see it, whenever I am upset. My father was working as a Major in Indian Army, during the Kargil war. He lost one of his legs, during the war in Kashmir borders, thus been handicapped for life long.

Yet my father doesn't lost his hope and had motivated me saying, "My son. What is the significance of life? What are we living to achieve distinction, to get a better job, to be more efficient, to have wider domination over others, then our lives will be shallow and empty. If we are being educated only to be scientists, to be scholars wedded to books, or specialists addicted to knowledge, then we shall be contributing to the destruction and misery of the world." I was just eight years old, when he was telling this to me. Yet, I understood and realized the seriousness of his words.

Though being 8-years old, I decided to reinvent myself. My father taught me about Bhagavad Gita- as it is, Ramayana and Mahabharata, telling me: "My son. Our Hinduism still lives. That's because, we have these three sacred books explaining about our traditional culture and importance of life." Not only those words, but also the books have gave me a great impact.

Bhagavad Gita consisted of eighteen chapters. Each of them tells us how to live a life and how to follow ethics. Mahabharata though, had so many sub-chapters and stories, I liked Arjuna and Karna. Because Arjuna was focused in his work and aim. Likewise, I just focused on my aim to become a successful guy in my life.


GDR COLLEGE OF ARTS AND SCIENCE:

2016:


Years passed as such and I joined GDR College of Arts and Science. I had close friends: Madhu Varshini and Sai Adhithya. Madhu Varshini is my neighborhood. Her life is different when compared to me. When she was three years old, an accident injection made her autistic, already been suffering from ADHD. Her mother Anisha took care of her and for six years, she struggled with her and made her to recover completely.

But, it's not meant that, she is a good mother. A good mother means not just to take care of a daughter. But, have so many responsibilities such as: Taking care of family, father, etc. This lady however picks up fight with her father Narayanan, who was working in a SPB Company, where Brahmin dominance is higher and he have to adjust the problems in the company. Because, they gives due importance to the Brahmins. Due to the fight turning aggressive, they eventually divorced and this eventually forced him to give them his half of his forest property, to which she intended.

This left her mentally disturbed and turns fragile. Yet, her father guides her saying: "Blessed is human birth, even the dwellers in heaven desire this birth, for true knowledge and pure Love may be attained only by a human being. But of all I could name, verily love is the highest. Love & devotion that make one forgetful of everything else, Love that unites everyone."

As she is my neighbor, I used to play cricket and football with her. My father and her father are close friends since childhood days. We both shared a close bond and friendship. Though Adhithya was my close friend, he doesn't understood my pain at times. While, Madhu Varshini, been affected since her childhood, understood his pain and always supported me on various occasions in the school and colleges.

During my school days, many used to mock and tease Madhu Varshini, just because she is loose-talking and innocent. And in addition, doesn't get angered. One day, due to these torturous brute by one of my friend in 10th standard at Erode(I too was studying in the same school staying in the hostel), she tried to commit suicide.

However, I stopped her and said: "Committing suicide is a sin and crime Varshini. There are challenges and battles in our life. You have to fight against it."

"We must distinguish between the personal and the individual. The personal is the accidental; and by the accidental I mean the circumstances of birth, the environment in which we happen to have been brought up, with its nationalism, superstitions, class distinctions and prejudices. The personal or accidental is but momentary, though that moment may last a lifetime; and as the accidental, the momentary, it leads to perversion of thought and the inculcation of self-defensive fears. All of us have been trained by education and environment to seek personal gain and security, and to fight for ourselves. Though we cover it over with pleasant phrases, we have been educated for various professions within a system which is based on exploitation and acquisitive fear. Such a training must inevitably bring confusion and misery to ourselves and to the world, for it creates in each individual those psychological barriers which separate and hold him apart from others." These words had inspired Madhu Varshini and she formed a schedule for her studies. Knowing her weakness, she did yoga practices, exercises
and prayers without any medication in order to keep her psychological weakness controlled. She scored good marks and studied well.

Education is not merely a matter of training the mind. Training makes for efficiency, but it does not bring about completeness. A mind that has merely been trained is the continuation of the past, and such a mind can never discover the new. That is why, to find out what is right education, we will have to inquire into the whole significance of living. After 10th also, we were in the contact. Because, both of us studied in the same school for our higher secondary education in 11th and 12th. Even Sai Adhithya was in the same school. We both grew as close friends, during these times and Sai Adhithya slowly understood his mistakes. Madhu Varshini aimed to become a doctor.

She worked hard and studied well, determined to become a cardiologist. At present, we are second-year college student and our education is completely different here, compared to schools. To most of us, the meaning of life as a whole is not of primary importance, and our education emphasizes secondary values, merely making us proficient in some branch of knowledge. Though knowledge and efficiency are necessary, to lay chief emphasis on them only leads to conflict and confusion.

PRESENT:

"Brother. You have went backward in your life story" said Gaius, to which Ashwin asked him: "How much have I went backwards?"

"Too backward bro" said Gaius. Ashwin thinks for a while about his college days and now he tells, "Education helped me to understand about my efficiency and talent. While, practical lessons helped me to learn the reality of the present world."

2016:

I supported Madhu Varshini so well, in my college helping her by giving books, introducing her to some known doctors and lecturers with the help of my father and giving her some inspirations and motivations. In the process, I slowly fell in love with her and loved one sided, which I didn't reveal to her. But, instead, I have expressed those things in my diary.

During her birthday on 26 September 2017, I asked her: "Madhu Varshini. Do you believe in love?"

"Yes Ashwin. I once believed that Love conquers all. But, now I understand well that, Love separates everyone so easily." I realized that, the impact of her mother's separation and her selfish attitude is still deep in her heart. The sorrows aren't so easy for her to forget. As a human psychology student, I very well know about this.

Now, I had got another friend called Yazhini. She is a Brahmin girl coming from R.S.Puram of Coimbatore district. We both had met co-incidentally in the class. I grew close to her, after interrogating about exams and studies, getting materials for my works. During such time, I learnt that, "Her mother died off in heart attack, due to which she didn't grew with mother's affection. Her father and elder sister is everything to her." However, insisted by Sai Adhithya, I maintained distance from her. Since, as per his views, "Madhu Varshini is developing some possessiveness in her heart, seeing their close bonding and Ashwin's avoidance." However, on one occasion, I met Madhu Varshini in her home, she invited me for a dinner, prepared by her during the absence of her father. Since, it was my birthday. Madhu is wearing red-color sari.

During that time, I went through her diary called, "Pliers(Idukki): The memorable Journey of my life." She have mentioned about the marvelous journey of love since her childhood. Through diagram and provoking messages, she have told: "How she realized the greatness of her father, cruelty of her mother and the family. Additionally, she mentioned my name and my father, citing us to be a source of inspiration and motivation for her to become successful."

I felt emotional and tears filled into my eyes. Wiping off my tears, I went towards her and she gave me a gift. Surprised, I asked her: "What's this Madhu?"

With some joy in her face and a fabulous smile, she replied to me: "It's something special for you Ashwin. I have brought this for you. It is Titanic watch."

"What's the purpose of this watch Madhu?" As he is telling this, she tells, "Hush. Be quiet for five minutes." She turns off the power in her room and tells, "5, 4, 3, 2, 1. Go." She keeps the birthday cake and lights the candle. Afterward, Ashwin slowly nears Madhu and she tells him, "Ashwin. I love you da."

He is stunned for a second and doesn't know what to reply her. But, she tells him: "I know that, you would be shocked da. Since childhood, you supported me a lot. Even when Adhithya scolded you and panned, you supported me and later on, he too gave me support. But, I realized that, you have been helping me out of love and affection. I started to understand, how pure love is. However, I feared you could not be able to take care of me. That's why I didn't propose my love." Ashwin feels emotional and runs to hug her.

Now, tears filling Madhu's eyes, she asked him: "Ashwin. You shouldn't leave me anytime at any situation da. You have to support me and stay with me. Will you do it da?"

"I would always be there with you Madhu. It's my promise" said Ashwin.

Love is relative. It could mean sex to some; kissing to others and a whole lot of foreplay
yet to others. But, the one thing that stays true to all these three is that love is an art. A well-performed, indulgent form of art that can only be mastered by the innate feeling of it all. Emotional or purely physical is another debate altogether.

After a while, I gave her a diamond necklace, which I am wearing since childhood days as insisted by my father, so that I could not remember about my mother. I tied it in the neck of Madhu. She asked me, "Why is this necklace da Ashwin?"

"Whenever you remember about me, this necklace would stay with you Madhu. Because, I don't know whether I could spend some qualitative time with you, once I am in Indian Army." I stopped for a while and asked her, "Ok. Why did you wear this Titanic watch in my hand?"

She told me, "So that, you won't tell a lie as well as that, you will not indulge in fights." Yes. I fought with my college mate Sanjay Krishna, a black-sheep, who always behaves like a rowdy in our class. Madhu was mocked by him. I tolerated his antics. But, I wasn't able to tolerate his tortures to Madhu and angrily hit him, warning not to intervene with her.

That day she told me: "Are you mad Ashwin? Crazily fighting with him."

"He is crossing his limit Madhu. That's why I gave him this trigger warning!" said Ashwin. For this, she told me: "Ashwin. These kinds of disturbances are common in our life. You should try to adjust it. But, shouldn't become like them. Try to control this next time."

At present, I accidentally touched Madhu's arms lightly. Leaning his hands, I slowly took my hands out, shivering. Madhu stared at me and gave a light slap. Then, she laughed and I leaned her a bit more, touching her cheek. Looking at her eyes, I told her: "Madhu. Today, you are looking beautiful." She feels emotional and shy.

Nearing me, the pretty-queen kissed me softly in my lips. I lingered her and pulled away her sari little. Madhu saw me and leaned in. Kissing her again, I lingered my lips. I holded Madhu by the waist and took a lead to bedroom. She comes closer to him. Gently holding her in my arms, I trailed a finger down her back, feeling the fabric of her dress on my skin. Running my fingers through her hair, I trailed a finger along her jawline, holding her chin up to me. Taking my own time, I lingered and kissed her more, now passionately. She realized, "I wanted her." And she too realized, "She is wanted." Right there, Right then. Slowly I removed her dress, like sculpting a statute. Teaching her to break free. She unbuttoned my shirt and took her own time to remove my dresses. While, I never stopped kissing her and lingered on her lips. After this I gently stroke the nape of her neck and kissed her neck. We both slept together, with the help of a blanket, to hide our naked body.

When you are in bed with a woman you are creating art- a poem, a song, a story, or a painting. You are creating energy and movement that makes even the disbelieving woman believe; the atheist convert and the angered calm their nerves.

ONE YEAR LATER, MARCH 2017:

One year passed now. Yazhini went for her internship program to Ernakulam, where she is selected by a famous Medical Institution. Madhu too was selected by the same medical institution. While, I and Sai Adhithya were selected for Indian Army, two days prior to the duo's selection. During the third year, when Yazhini proposed her love, I rejected her stating: "I am just a friend to her" and further stated my love with Madhu Varshini.

This girl felt jealous and incensed by anger and possessiveness, she falsely tells Madhu Varshini(before going for Internship) the reality about my Indian Army stating: "Madhu. Ashwin thinks that, he could be able to survive in the Indian Army. But, you know? It's very difficult to survive there in the amidst of mist, snowfall and fogs. And fighting with enemy troops also becomes difficult." Yazhini used Madhu's weakness such as possessiveness, emotion and short-temperedness to add a few more words to get her angered. Telling about his father's paralysis in Indian Army, which she very well knew.

Madhu came to meet me and said, "What Yazhini told is truth ah, Ashwin?"

Sai Adhithya blinks and tells her, "You are his close friend, since childhood days. Doesn't you know about Indian Army and it's life ma?"

However, Madhu demanded an answer from me, which I agreed and she quarrels with me asking: "Then, why did you told me that, 'I won't leave you and would stay forever. That's why did you gave me this necklace ah?'"

She cried saying this and accused me of betraying her. Adhithya tries to solve the issues and console her. But, is stopped by me. During the conflicts, Yazhini suddenly regains her sense and realizes, "How she did a mistake blind folded and tried to console Madhu." But, she is adamant and came near to me asking: "Madhu. I would be happier in Indian Army. You too will be happy with me."

"You won't be alive if you are in Indian Army da. Your father lost his leg during his period in the Indian Army. I don't want to send you also and lose your own life, Ashwin. Please don't go there Ashwin." She said emotionally and cried out, with tears flowing from her eyes.

"Madhu. I want you. But, I also want Indian Army."

"It's impossible Ashwin. Choose one? Me or Indian Army! Don't tell me you want both. God won't give two chances in life, as mentioned in Bhagavad Gita. Me or Indian Army. Just one straight answer." Madhu Varshini demanded answers from him.

With a heavy heart and being watched by Sai Adhithya, Yazhini, I went near to Madhu Varshini and told her: "I'm answerable to you and my father in this world. It's not for my mom or Sai Adhithya and not for my family. You and my father is everything to me. I won't do the things which make you both feel sad. Today you are asking me to decide you or this one. It's hard for me without you Madhu. But, it's impossible for me to live without Indian Army."

Looked by my friends Sai Adhithya, Yazhini
and a tearful Madhu Varshini, I additionally told her, "I am asking you with your on me. Forget me for the happiness of my father Madhu. I am supposed to bring back my father's happiness back by joining Army. So, I am ready to loose our love for his happiness. Please Madhu. You'll get the best."

Emotional, she told me in tears: "I will leave my best here. I am mad about what you will do from our childhood. Everything. I felt, I got this one at least in my life, though I lost some important moments in my life. At last this one too have got an abrupt end. The other things give some pain too. But this is more painful. Much more painful. All the best da!"

After a while, I turned to Adhithya and told, "Buddy. It's time for our train da." While, Madhu goes along with Yazhini. In the train, Adhithya consoled me. But, for both of us, it's not easy to forget the memorable moments and loving days since our childhood life. Days passed and I became Major in Indian Army. With Adhithya and me in Special forces, we did several missions solving border skirmishes and rescuing people. Yet, I felt something missing in my life. Then, Adhithya advised me to meet Madhu and speak with her, taking some days of leaves in the army, after one years of our service. Yazhini, with whom I am still more in contact, afforded to help me and she herself wanted to solve the problems, created by her.

Not only Adhithya, even my father advised me to explore the world and seek my inner peace, so that I could know what this journey is telling me to do. His words were primary to me.


PRESENT:

Gaius is really shocked to hear this love story and he tells, "Brother. What a great love story in your life! Even I didn't experience this kind of a heartbreaking trauma."

Ashwin however tells him, "How Madhu Varshini suffered several trauma like this, being an ADHD patient. She was almost to lose her morality, self-respect and self-esteem, being mocked by several of her friends. But, he supported her and didn't even let her to feel the inferiority and superiority complex."

Gaius tells him that, "He would sooner solve all his problems and bids him a farewell." Since, Hyderabad junction is to arrive sooner and the duo part ways.


TWO DAYS LATER:

KOTTAYAM JUNCTION, 3:30 AM:

5 JUNE 2018:

Two days later, Yazhini, now a renowned psychologist in the medical center of Idukki, comes to Kottayam Junction, waiting for Ashwin's arrival. She phones him and asked, "Where is the train coming now Ashwin?"

"The train is to arrive at Kottayam almost Yazhini" said Ashwin, to which she nods her head and the Shatabdi Express reaches Kottayam at 4:00 AM. He gets out of the train in the junction and meets Yazhini, 50 meters away from his compartment. Having no time for chatter, he goes along with her in the car and she feels surprised to see the changed looks of Ashwin and his changed mannerisms.

Back to home, he asked Yazhini: "How is Madhu Varshini Yazhini?"

Silent for a while, she replied him: "She had not changed Ashwin. Still stubborn. She felt angered whenever I tried to speak about you. Recently, her father died in his sleep."

Feeling shocked, Ashwin asked her: "Why didn't you inform this girl?"

"I tried to call you. But, that time, your network was out of coverage. Her anger increased and she thought, you deliberately avoided her." However, Ashwin explained his position and duty in Indian Army, during that time to rescue a few people, who were held hostage by the terrorists. Ashwin contacts his father and tells, "I have came to Kottayam dad."

He asked him to take care and tells, "I wanted to hear the news that, Madhu have accepted you da." The old man said, holding his stick in the left hand and phone on the left ear. Ashwin smiles, hearing this. The next day, having finished the morning exercise, he tries to meet Madhu Varshini(now a neurologist in the same hospital of Yazhini) in her flat, where Yazhini stayed with her, before few days ago. However, Madhu refuses to talk with him and instead tells him harshly, "Our love have ended before one years, Ashwin. We doesn't have anything to be spoken now, actually."



Hurt by her words deeply, Ashwin returns heartbroken coming to Sri Krishna temple of Idukki, accompanied by Yazhini. She tells him: "I was reason for everything Ashwin. I tried to solve this in various occasions. But she never obeyed and additionally doesn't give up her ego. That's the main reason, she is refusing to talk."



"I hope that she would cool down and accept me one day, Yazhini" said Ashwin, to which she smiled in pain. After he leaves, she cries out emotionally seeing his photo. Meanwhile, Kerala Weather report reports to the government, "There would be incessant rains in Kerala from 12 July 2018." There was left a red alert to 14 districts of Kerala and scientists predicted that, the flood would be the worst in Kerala after "the great floods of 99" during the 1924 period. Yazhini, concerned by the news, begs Ashwin to go from Idukki back to Kashmir.



However, he refuses and is stubborn in staying at Idukki to convince Madhu Varshini. Days later, rains start to downpour heavier in Kerala and due to this, many people are forced to stay inside their house and a total lockdown is enforced in the state. Due to circumstances, Madhu Varshini stays in the house of Ashwin and Yazhini. Since, her apartment people ran away from the place, after being rumoured about snakes entering inside the house.



She stays stick in her decision to avoid Ashwin. For one month, the three stays in the house, surrounded by the waters. Ashwin contacts Sai Adhithya who tells him, "Buddy. I am now coming to Idukki da. Indian Army is planning to rescue the people, affected by floods."



Idukki dam reaches full the next day and the district is given a red alert. As the river floods severely, people are trapped in the water and situation goes worst.



Being instructed by ISRO the Cabinet Secretary, senior officers of Defence Services, NDRF, NDMA and secretaries of Civilian Ministries conducted meetings with Kerala Chief Secretary. Following the decisions taken during these meetings, the Centre launched massive rescue and relief operations. In one of the largest rescue operations 40 helicopters, 31 aircraft, 182 teams for rescue, 18 medical teams of defence forces, 90 teams of NDRF and 3 companies of Central Armed Police Forces were pressed into service along with over 500 boats and necessary rescue equipments.



The same time, the water level somewhat goes down in Yazhini's house and the road sides. So the three make their way to the other side of a one way path, that leads to a temple, where Periyar river is in it's full flow. Seeing a child and a woman trapped in the steps of the Periyar River, Ashwin and Madhu Varshini rushes to rescue both of them and stands near Lord Vishnu there.



Sai Adhithya and the Indian Army sees them as they wave hands towards the sky. Madhu Varshini sends Ashwin and the duo, whom she and Ashwin saved. Then, she sees three more people stuck inside the temple and plans to rescue them. She prepares to go herself after sending them. Now, Madhu have realized her mistakes and tears flows in her eyes.



"Madhu. I need you. Please come by catching this thread Madhu. Please Madhu." Ashwin shouted and cried. Unable to see him crying, Adhithya too begged her to come using the thread, telling that: "They could adjust the seats in helicopter."



However, there is no space for her in the helicopter, which she tells them and additionally tells: "Ashwin. This is my last words to you. Not only Army can save the lives of people. But, doctors too would be able to save people as it is our regular duty, as per the medical ethics. Reward or punishment for any action merely strengthens self-centredness. Action for the sake of another, in the name of the country or of God, leads to fear, and fear cannot be the basis for right action. If we would help a child to be considerate of others, we should not use love as a bribe, but take the time and have the patience to explain the ways of consideration. But, I didn't have the patience to listen your words. As a henceforth, my death is the punishment. I have never sacrificed or adjusted since my childhood days. But, now I am sacrificing my life for the sake of two people's goodness." As Ashwin cried and screamed at Madhu, she smiles at him recalling about their memorable days, spent together before the ground below Madhu crumbles her into the full-flooded Periyar river, killing her instantly. Ashwin breaks down and cried out aloud shouting Madhu's name, as she had been carried away by the raging river.




SIX MONTHS LATER:



COIMBATORE JUNCTION:



Six months after these events, Ashwin decides to go back for Indian Army, to recover from the heartbreaking trauma of Madhu's death, having nothing much to do after losing his only beloved love. While going towards the junction, he recalls the words of Madhu during the floods and realizes that, "She have meant her sacrifice for Yazhini's love" and returns to meet Yazhini, who have been transferred to KMCH Hospitals.



Ashwin rushes to Yazhini's house and sees her father to whom he asked, "Uncle. Where's Yazhini?" Her sister stares at him and tells, "She is in her room only." He rushes to her room and sees her crying and sitting sad with the diary. He slowly goes near to her and calls her.



Yazhini looks like, someone so close to her have called her and sees Ashwin. She feels happier, with tears going off from her eyes and she tells, "Ashwin. Have you came? When did you come here? How is Madhu? Is she fine?"



Ashwin didn't reply anything, glaring at her sadly. While Yazhini realized that, "Madhu have died during the floods" and she wasn't in her own senses. She apologized to Ashwin for creating problems between them and tells, "I loved you truly Ashwin. Eventhough you don't accept my love, it would never die. It lives forever in my heart."



However, Ashwin proposed to her and she is surprised to this. He said in tears, "I realized what Madhu meant during the flood itself. Her sacrifice is for your's sake...to support for your undying love. She have got to know about your love from the diary, where you have expressed your feelings. I doesn't want to insult her sacrifice and your endless love, that you have for me. I love you Yazhini. Love you so much."



Yazhini embraces him in tears and they both share a hug. Supported by her father and sister, she walks along with Ashwin in the roads, holding his hands. While, a reflection of Madhu Varshini smiles at them.



EPILOGUE:

Our thinking capability is second to very fewer beings that exist on Earth today. Our human intellect allows us to think and love beyond the capacity of other sentient beings. Our consciousness helps us judge right and wrong and love unconditionally, forgive, carry empathy, and so forth; our evolutionary development allows us to love and become enlightened like none. Thus, Krishna spoke these words in Mahabharata, "Blessed is a human birth, even the dwellers in heaven desire this birth, for true knowledge and pure love may be attained only by a human being."
 

randeep

New Member
Messages
15
Reaction score
24
Points
3
नए रिश्ते

रात के 8:30 बजे का समय हुआ था और राज नई दिल्ली रेलवे स्टेशन के प्लेटफार्म नंबर ४ की तरफ दौड़ रहा था, वो दिल्ली अक्सर अपने कारोबार के सिलसिले में आता रहता था पर आज एक क्लाइंट के साथ काफी समय लग गया था और देहरादून की लास्ट ट्रैन ८:२० पर स्टेशन से रवाना हो चुकी थी। ३२ साल का थका हारा राज हाँफते हुए वंही बेंच पर बैठ गया और मन ही मन अपने क्लाइंट को कोसने लगा। तभी उसके फ़ोन की घंटी बजी उसने जेब से फ़ोन निकला और स्क्रीन पर देखा तो सुमन का नाम था। राज के परिवार में सुमन उसकी पत्नी, माँ वसुधा और ३ साल का बेटा विशु ही थे जिनके इर्द गिर्द उसकी पूरी ज़िंदगी घूमती थी।

राज ने कॉल पिक किया और सुमन को बता दिया के उसकी ट्रैन मिस हो गयी है। सुमन ने चिंता भरे स्वर में पूछा "अब कैसे करोगे ?" राज ने उसे चिंता न करने को कहा और बोला के वो बस से आ जायेगा। पर दूसरी तरफ से फ़ोन को वसुधा ने ले लिया और उसे हिदायत दी के इतनी रात में सफर करने की कोई ज़रूरत नहीं है वो गुडगाँव में Richa के यंहा रुक जाए और सुबह वापस आ जाए। राज ने थोड़ी देर अपनी माँ का विरोध किया पर फिर सुमन ने भी उसे वंही रुकने का बोला तो उसे उनकी बात माननि पड़ी।

ऋचा राज की सगी बहन थी जो राज से उम्र में २ साल छोटी थी, ऋचा की शादी 3 साल पहले देहरादून में विनोद से हुई थी। विनोद गुडगाँव की एक रियल एस्टेट company में जॉब करता था और यही पर किराये के फ्लैट में रहता था। राज और विनोद की (ऋचा की शादी के दौरान) किसी बात को लेकर अनबन हो गयी थी इसीलिए राज विनोद और ऋचा दोनों से ही दुरी बनाये हुए था।

राज अभी इस उधेड़ बुन में था के वो ऋचा को कॉल करे या न करे, बड़े असमंजस की स्थिति में वो फ़ोन में ऋचा का नंबर सर्च करने लगा के तभी उसके फ़ोन की घंटी बजी, उसने देखा तो ऋचा का ही कॉल था। उसने कॉल रिसीव किया और फ़ोन को कान से लगाया "हेलो" उधर से ऋचा की आवाज़ आयी "हेलो, भैया कँहा हो अभी?", राज ने उत्तर दिया "अभी तो नई दिल्ली रेलवे स्टेशन पर हूँ", ऋचा "ठीक है, मैं एड्रेस सेंड कर रही हूँ आप ऑटो या टैक्सी लेके यंहा आ जाओ", राज ने थोड़ा झिझकते हुए कहा "अरे मैं मैनेज कर लूंगा, तू परेशां मत हो", उधर से ऋचा ने डाँटते हुए कहा "ज़ादा होशियार मत बनो, चुप चाप इधर चले आओ" राज ने कुछ कहने को मुंह खोला ही था के उधर से फिर ऋचा की आवाज़ आयी "मुझे कुछ और नहीं सुन ना, आप यंहा आ रहे हो बस, नहीं तो मैं माँ को कॉल कर रही हूँ " राज़ ने उसकी बात सुनी और हँसते हुए जवाब दिया "ठीक है ठीक है, आता हु, माँ को कॉल मत करना " उधर से ऋचा बोली "ओके , जल्दी आओ, वेट कर रही हूँ " और फिर कॉल कट हो गयी। राज़ बेंच से खड़ा हुआ और उसने अपना बैग उठा कर कंधे पर डाला, तभी फ़ोन ने बीप किया उसने फ़ोन चेक किया तो ऋचा का व्हाट्सअप था उसने लोकेशन भेजी थी और नीचे पूरा पता भी लिखा था।

सुमन और वसुधा जानती थी के राज ऋचा को कॉल नहीं करेगा इसीलिए वसुधा ने ही ऋचा को कॉल कर दिया था। ऋचा की शादी के समय विनोद और उसके घरवालों से दहेज़ को लेकर हुई अनबन को राज अभी तक भुला नहीं था। ऐसा सुमन और वसुधा को लगता था पर राज और विनोद में कभी कभी फ़ोन पर फॉर्मल बातें होती रहती थी। जिसका उन्हें पता नहीं था।

रात के 9 बज चुके थे, ऑटो दिल्ली की सड़कों पर दौड़ रहा था. राज ऑटो में बैठा अपने और ऋचा के बारे में सोच रहा था। कितना खूबसूरत रिश्ता था उन दोनों भाई बहन का शादी से पहले, शायद ही कोई ऐसा समय गुज़रा हो जब वो घर गया हो और ऋचा क लिए गिफ्ट ना ले गया हो। कितनी फ़िक्र करती थी वो उसकी, कैसे उसने अपनी सारी सेविंग्स राज को दे दी थी जब वो जॉब के लिए स्ट्रगल कर रहा था। कितना प्यार करता था वो ऋचा से और कितनी घटिया हरकत कर बैठा था उसके साथ जिसने इस पवित्र रिश्ते को ख़त्म सा कर दिया था। आज तक राज इसी ग्लानि में जी रहा था, उसने कई बार प्रयास किया के ऋचा के पैर पकड़ कर माफ़ी मांगे पर कभी इतना साहस ना जुटा पाया।

7 साल पहले -

राज उस वक्त दिल्ली में एक mnc में जॉब कर रहा था और अच्छी खासी सैलरी ले रहा था, जिस से उसके तीन जन के परिवार का खर्च अच्छे से चल रहा था। ऋचा उस वक्त 23 की थी और अपनी पोस्ट ग्रेजुएशन पूरी कर चुकी थी, वो govt जॉब की तैयारी में लगी रहती थी। एक exam के सिलसिले में उसे दिल्ली आना पड़ा तो वो राज के पास उसके रूम पर रुकी हुई थी। राज उसके आने से बहुत खुश था। उस वक्त तक राज की कोई गर्लफ्रेंड नहीं थी, जो अब तक एक गर्लफ्रेंड बनी थी वो देहरादून में ही ऋचा की ही एक सहेली थी जिसे राज कई बार चोद चूका था। ऋचा को इस बारे में कुछ पता नहीं था। 25 साल का राज यूँ तो देखने में 6 feet का कसरती जिस्म का मालिक था और देखने में किसी मॉडल से कम नहीं लगता था, उसे अपने ऑफिस में एक लड़की पसंद आयी तो थी पर वो पहले से ही किसी और के साथ रिलेशन में थी। राज अपनी जिस्मानी संतुष्टि के लिए इंटरनेट पर पोर्न, एडल्ट स्टोरीज सर्च करके खुद को संतुष्ट कर लिया करता था।

आज ऋचा का पेपर था वो सुबह जल्दी उठ के तैयार हो गयी थी और उसने राज को भी जल्दी उठा दिया था। राज बाथरूम में नाहा कर अपने आप को टॉवल से पौंछ रहा था के तभी उसकी नज़र सामने हेंगर पर टंगी ऋचा की ब्रा पर गयी, ना चाहते हुए भी राज का हाथ उसे उठाने को आगे बड़ चला। क्रीम कलर की पैडेड ब्रा को राज़ अपने हाथ में लेकर देखने लगा। पीछे लगे टैग पर उसकी नज़र पड़ी, उसने उसे करीब लाके देखा उसपर ब्रा का साइज 34C लिखा था। राज का मुंह खुला का खुला रह गया और अनायास ही उसके मुंह से निकल गया "wow " , वो मन ही मन ऋचा के साइज और उसकी ख़ूबसूरती की तारीफ करने लगा। वासना के वशीभूत होकर उसने उस ब्रा के कप को अपने गालों पर लगा लिया और उनकी खुशबू को सूंघने का प्रयास करने लगा। उस ब्रा से किसी टेलकम पाउडर की भीनी भीनी खुशबू आ रही थी। राज ने देखा उसका ६ इंच का लंड पूरी तरह से अकड़ के खड़ा हो चूका था और उसका आधा सुपाड़ा खाल से बहार झाँक रहा था। उसने बहुत सी कहानियां भाई बहन के सम्बन्धो पर पड़ी थी पर उसके जीवन में पहली बार ऐसा संयोग हो रहा था जंहा वो अपनी बहन की ब्रा को देख के ही इतना उतावला हो गया था।

उसने ऋचा की ब्रा को अपने लंड पर लपेटा और धीरे धीरे लंड की चमड़ी को आगे पीछे करने लगा, उसकी आँखे बंद होने लगी और उसकी कल्पनाओ में ऋचा की बड़ी बड़ी चूचियां उसे हिलती दिखाई देने लगी, थोड़ी देर के प्रयास से ही उसके लंड में ऐठन होने लगी और उसने एक जोरदार पिचकारी मार के सारा वीर्य उड़ेल दिया , फर्श के जिस कोने पर वीर्य की धार गिरी वंहा ऋचा की गीली panty पड़ी थी जिस पर जाकर उसका वीर्य गिरा और panty को सान गया। वीर्य की कुछ बूंदे ऋचा की ब्रा को भी गीला कर गयी थी, जब राज को होश आया तो उसे बहुत आत्मगिलानी हुई और वो खुद को कोसने लगा। तभी बहार से ऋचा की आवाज़ आयी "कितनी देर लगाओगे भैया, जल्दी आओ नाश्ता तैयार है", राज ने घबराहट में बोला "आ..आ..आ रहा हूँ"

राज ने जल्दी से ऋचा की ब्रा से अपने वीर्य को हाथ से साफ़ किया पर वीर्य के निशाँ अब भी वंहा मौजूद थे, थोड़ी देर में ये सूख जायेंगे सोचकर उसने ब्रा वापस से टांग दी , पर panty को उसने ऐसे ही छोड़ दिया और खुद को साफ़ कर के बहार आ गया।

राज कपडे पहन के तैयार हुआ तो ऋचा उसे नाश्ता देके बाथरूम में चली गयी। उधर राज भगवन से अपनी खैर मांग रहा था के इसे कुछ पता ना चले। थोड़ी देर में ऋचा वापस आयी तो उसके हाथ में धुले हुए ब्रा और panty थे उसने एक नज़र राज की तरफ देखा, दोनों की नज़र मिली और राज ने अपनी नज़रें नीचे कर ली, ऋचा बिना कुछ कहे बालकनी की तरफ बड़ गयी।

राज ये तो जान चूका था के ऋचा समझ चुकी है पर इग्नोर कर रही है, उसे अपने ऊपर गुस्सा और तरस दोनों आ रहा था।

दोपहर १२ बजे ऋचा का पेपर छूटा तो राज उसे बाइक पे लेकर वापस आ रहा था, ऋचा राज से चिपक के बैठी थी जबकि सुबह उसे सेण्टर छोडने जाते वक्त उसने थोड़ा गैप बना के रखा था। ऋचा की 34C की बड़ी बड़ी सुडोल चूचियां राज को अपनी कमर पे किसी स्पंज की तरह फील हो रही थी और वो उनका आनंद ले रहा था।

ऋचा ने राज को पीछे बैठे हुए कहा "भैया, भूख लगी है"

राज ने जवाब दिया "बता क्या खायेगी"

ऋचा "कुछ भी खिला दो"

राज "चल फिर मॉल में चलते है, जो मन करे खा लेना"

थोड़ी देर बाद दोनों ने पसिफ़िक मॉल के अंदर एक रेस्टोरेंट में खाना खाया और फॉर्मल सी बाते की , फिर बहार निकले तो ऋचा फिल्म देखने की ज़िद्द करने लगी, राज मना करने लगा के इधर सब इंग्लिश मूवीज लगी हैं तुझे समझ नहीं आएँगी, ऋचा राज से लड़ने लगी "मिस्टर MA किया है मैंने इंग्लिश से, तुमसे ज़ादा समझती हूँ " फिर राज उसे चिढ़ाने लगा "इन मूवीज में इंग्लिश डायलॉग्स बहुत फ़ास्ट होते हैं तेरी समझ नहीं आएंगे " ऋचा फिर रिक्वेस्ट करने लगी "भाई प्लीज़ दिखा दो ना, कल तो में वापस चली ही जाउंगी", राज को उसपे दया आयी और वो ऋचा को साथ लेके टिकट काउंटर की तरफ बड़ गया।

दोनों भाई बहन थिएटर में पास पास बैठ कर फिल्म देख रहे थे, ये एक इंग्लिश थ्रिलर फिल्म थी। कुछ समय बीतने के बाद फिल्म में एक बोल्ड सीन आया जिसमे लड़का अपने से उम्र में बड़ी एक महिला को स्मूच करने लगा और थोड़ी देर में उसके कपडे खोलने लगा , राज के लिए बड़ी विचित्र सी स्थिति थी , अगले ही सीन में उस लड़के ने महिला के बूब्स को दोनों हाथों में दबोच लिया और महिला का जिस्म अकड़ने लगा। राज अपने आपको थोड़ा असहज महसूस करने लगा, यही स्थिति शायद ऋचा की भी रही होगी। अभी वो बोल्ड सीन जारी था, लड़का और वो अधेड़ महिला बिस्तर में एक दूसरे को kiss कर रहे थे, तभी ऋचा ने अपना सर राज के कंधे पर रख दिया और अपने दोनों हाथों से उसकी बाजू को पकड़ लिया, राज ने उसके लिए जगह बनाते हुए अपना बांया हाथ उठा के ऋचा के बांये कंधे पर रख दिया। दोनों की आँखे स्क्रीन पर चल रहे दृश्य पर टिकी थी, दोनों भाई बहन थोड़ा असहज थे। कुछ बोलने की किसी में हिम्मत नहीं थी। अब स्क्रीन पर लड़का उस महिला के ऊपर छाया हुआ था और धीरे धीरे चादर के अंदर से अपनी कमर को हिला रहा था, महिला की बड़ी बड़ी सुडोल चूचियां पूर्णयता नग्न थी। न चाहते हुए भी राज के लंड में उफान आने लगा था। उसने धीरे से ऋचा के कंधे को दबा दिया, जिसपर ऋचा की कोई प्रितिक्रिया नहीं हुई। थोड़ी देर बाद वो सीन तो ख़त्म हो गया पर राज के मन को व्याकुल कर गया। ऋचा अभी भी राज के कंधे पर सर टिकाये फिल्म देख रही थी, राज का बांया हाथ अब ऋचा के कंधे से होता हुआ ठीक उसकी चूचियों के उभार से ठीक ऊपर झूल रहा था। थोड़ी देर बाद ही फिल्म में दूसरा सीन आया जिसमे उस लड़के ने उस महिला को कंही पर अकेले में पकड़ लिया और उसकी जीन्स के बटन खोल के उसकी panty के अंदर हाथ डाल दिया, राज ने धीरे से ऋचा के सीने पर अपनी उंगलिया फिरा दी, अब उस लड़के ने उस महिला को उल्टा किया और पीछे से धक्के मारने लगा , तभी ऋचा ने अपनी चूचियों के उभार से ठीक ऊपर सीने पर घूम रही राज की उँगलियों को अपने हाथ से पकड़ लिया और उसके हाथ को अपने हाथ में दबा के खींच कर पकड़ के बैठ गयी, अब राज की कलाई ठीक ऋचा की दायीं चूची के ऊपर से उसे दबा रही थी। राज को बड़ा अच्छा सा फील हो रहा था, उसके लंड में तनाव बढ़ने लगा था। ऋचा पूरी फिल्म में राज के हाथ को वैसे ही पकड़ कर बैठी रही, जब फिल्म ख़त्म होने को आयी तो ऋचा ने राज का हाथ छोड़ दिया पर राज ने हाथ हटाया नहीं। उस वक्त राज के मन में ऋचा को लेके सैकड़ों सवाल चल रहे थे , उसे कुछ समझ नहीं आ रहा था। पर जब दिमाग पर शैतान हावी हो तो इंसान की एक नहीं चलती। राज के साथ भी ऐसा ही हुआ, उसने अपना हाथ ऋचा के ऊपर से हटाते हुए ऋचा की दांयी चूची को धीरे से दबा दिया और हाथ हटा लिया। ये सब एक छड़ में हुआ, ऋचा ने एक नज़र राज की तरफ देखा पर राज स्क्रीन की तरफ ही देख रहा था उसने ऐसा शो किया जैसे कुछ हुआ ही न हो। पर मन ही मन राज को बहुत अच्छा लग रहा था ऋचा की चूची की कठोरता उसे अभी भी अपनी हथेली पर महसूस हो रही थी।

फिल्म ख़त्म हुई और वो दोनों वापस आ गए, फिल्म और थिएटर में हुए वाकये पर किसी ने कोई बात नहीं की थी।

रात के ११ बज चुके थे उसे अगले दिन ऋचा को घर छोड़ने भी जाना था, पर उसे अभी भी नींद नहीं आ रही थी। वो बस ऋचा और उसकी ख़ूबसूरती के बारे में ही सोच रहा था। उसने करवट बदली और अपने से थोड़ी दूर फर्श पर बिस्तर लगा के सो रही ऋचा को गौर से देखने लगा , कमरे में उस समय एक जीरो वाट का नीला बल्ब जल रहा था जिसकी पर्याप्त रौशनी में सब कुछ दिखाई दे रहा था। उस वक्त ऋचा राज की तरफ पीठ कर के सोई थी, उसने एक सफ़ेद सलवार और क्रीम कलर का टाइट फिटिंग का कुरता पहना हुआ था। राज की नज़रें ऋचा की सुडोल गांड के उभारों पर घूम रही थी, वो मन ही मन उसकी गांड के साइज के बारे में सोचने लगा, 36 नहीं 34 तो कम से कम होगा ही। फिर कुर्ते की बैक से झांकती ऋचा की गोरी नंगी पीठ पर नज़र पड़ते ही राज के लंड में तनाव आने लगा और धीरे धीरे वो अपने हाथ से अपने लंड को सहलाने लगा।

कहते हैं जब वासना अपने चरम पर हो तब सब मर्यादाएं,रिश्ते, सही गलत की परख सब धरे के धरे रह जाते हैं और वही होता है जो वासना के उठते ज्वर को मंज़ूर होता है।

उस रात भी कुछ ऐसा ही हुआ, जाने कब राज ऋचा के बिस्तर तक पहुँच गया और उसने ऋचा के एक एक कर कब सब कपडे नोच डाले उसे पता ही नहीं चला। उसे याद भी नहीं के ऋचा ने उसका विरोध किया या नहीं किया, उसे तो बस इतना याद है के वो पूर्णयता नग्न अवस्था में ऋचा की नंगी चूचियों को चूस रहा था और दूसरे हाथ से उसकी चूत को मसल रहा था फिर उसने ऋचा की टाँगे फैला दी और उनके बीच में आ गया। पसीने से लथपत राज अपने लंड को ऋचा की चूत पर रगड़ने लगा, उस वक्त ऋचा किसी ज़िंदा लाश की तरह से पड़ी थी जिसमे किसी प्रकार की कोई हल चल न थी। राज ने अपना लंड ऋचा की चूत के छेद पर टिकाया और एक नज़र ऋचा की तरफ देखा, ऋचा की आँखे खुली थी और आंसुओं की धार निरंतर उसके कानो की तरफ बह रही थी। और यही पर राज को अपराध बोध हुआ, वो उठ कर घुटनो पर बैठ गया। पाप पुण्य और वासना का अंतर्दवंद उसके दिमाग में चलने लगा। ऋचा के नंगे जिस्म को देखकर उस से अभी भी खुद पर काबू नहीं हो रहा था, वो बैठे बैठे ही अपने लंड को ज़ोर ज़ोर से मुठयाने लगा। कुछ सेकंड में ही उसके लंड ने वीर्य की बौछार सी कर दी जो ऋचा के सीने, पेट और उसकी चूत को भिगो गयी।

अब वो नंगा ही ऋचा की बगल में लेटा था और अपने इस कुकृत्य पर बहुत आत्मगिलानी महसूस कर रहा था। उसने अपने कपडे पहने और ऋचा को कंधे से पकड़ के झकझोरा। ऋचा अभी भी उसी नग्न अवस्था में लेटी हुई थी, एक दम बेजान सी।

राज का वीर्य अभी भी ऋचा के जिस्म पे जंहा तंहा बिखरा पड़ा था और उसके जिस्म से इधर उधर बह रहा था। राज ने अपनी टी शर्ट से वीर्य को साफ़ किया फिर उसकी चूत की तरफ साफ़ करने लगा तो ऋचा ने उसके हाथ से टी शर्ट छीन ली और नंगी ही उठ के बाथरूम में चली गयी।

राज वापस आके अपने बिस्तर में लेट गया, उसके दिमाग में आंधी सी चल रही थी, वो बार बार खुद को कोस रहा था। अपनी सफाई में कहने के लिए उसके पास कुछ नहीं था। बाथरूम से पानी के गिरने की आवाज़ आ रही थी, राज की आँखों से आंसू बह रहे थे, उसने जो कलंक रिश्तों पर लगाया था अब उसकी कोई भरपाई नहीं थी।

ऋचा बाथरूम से बहार आयी तो राज ने अपना मुंह दूसरी तरफ फेर लिया, अब उसके अंदर हिम्मत नहीं थी ऋचा का सामना करने की। काफी देर बीतने के बाद ऋचा ने राज का हाथ पकड़ के उठाया "मुझे पता है तुम जाग रहे हो" ऋचा ने कहा। राज उठ कर बिस्तर पर बैठ गया और सर नीचे झुका लिया, ऋचा ने खड़े खड़े ही पूछा "सिर्फ एक सवाल करना है ", राज ने "हम्म" में जवाब दिया पर सर नीचे ही झुकाये रहा। ऋचा ने अपने आंसू पोंछते हुए पूछा "आखिर क्यों? क्यों किया ऐसा मेरे साथ ", राज खामोश रहा थोड़ी देर, एक सन्नाटा सा पसरा रहा दोनों के बीच। ऋचा ने फिरसे पूछा "जवाब दो", अब राज को कुछ कुछ समझ नहीं आ रहा था क्या कहे, उसने थोड़ी हिम्मत जुटा के एक सांस में बोल दिया "I love you ऋचा"। ऋचा ने फिरसे कुछ कहना चाहा पर राज ने उसे टोक ते हुए कहा "प्लीज, और कुछ मत कहना" "मेरे अंदर हिम्मत नहीं है और कुछ बोलने की " और राज फुट फुट कर रोने लगा।

ऋचा ने भी आगे कुछ नहीं पूछा और वापस अपने बिस्तर पे जाके लेट गयी।

उस रात के बाद से उनके सम्बन्ध फिर कभी पहले जैसे नहीं रहे, घर में माँ के सामने तो दोनों थोड़ा बहुत बात कर लिया करते पर अकेले में कभी कोई बात नहीं करते। हालाँकि राखी और भाई दूज के त्यौहार दोनों भाई बहन हमेशा की तरह मानते रहे पर पहले जैसी कोई बात न रही, न ऋचा कोई मन पसंद का गिफ्ट मांगती न राज उसके साथ कोई शैतेनी करता। फिर भी राज उसकी ज़रूरत के हिसाब से उसे गफ्ट देता रहता।

समय बिता और दोनों की शादी हो गयी दोनों ही अपनी अपनी लाइफ में मशगूल हो गए। ऋचा की शादी के बाद तो राज ने जैसे बिलकुल ही उस से सम्बन्ध ख़त्म कर लिए थे।

Present Day -

राज ने door bell बजायी, कुछ सेकंड बाद ऋचा ने दरवाज़ा खोला, राज ने ऋचा को देखा, ५'५" की ऋचा एक वाइट टीशर्ट और स्काई ब्लू कलर का पजामा पहने दरवाज़े पर खड़ी थी। ऋचा ने दरवाज़ा पूरा खोलते हुए राज को अनादर आने को कहा, राज ने एक स्माइल दी फिर ऋचा को छोटा सा एक हग किया। ऋचा ने राज का बैग लिया और एक रूम में जाके रख दिया। पीछे पीछे राज भी उसी रूम में चला गया और उसने ऋचा से पूछा "विनोद कँहा है?", ऋचा ने पलट ते हुए जवाब दिया "वो आने वाले होंगे ऑफिस से, आप फ्रेश हो जाओ में खाना लगाती हूँ ", राज़ ने हैरत से पूछा "इतनी लेट तक ऑफिस में रहता है?" ऋचा ने थोड़ा मायूस होते हुए जवाब दिया "हम्म, बता रहे थे ऑफिस में कोई पार्टी है आज" "वो तो खाना खा कर आएंगे, आप फ्रेश हो जाओ में कपडे लाती हूँ चेंज कर लेना"।

राज फ्रेश होकर बाथरूम से बहार निकला तो देखा bed पर एक टीशर्ट और शार्ट रखा है, ये शायद विनोद के कपडे थे जो ऋचा राज के लिए रख गयी थी क्यूंकि राज अपने साथ कोई और कपडे नहीं लाया था। राज ने कपडे पहने और रूम से बहार ड्राइंग रूम में आ गया जंहा पर एक तरफ dinning टेबल थी, जिसपर ऋचा खाना लगा रही थी। ऋचा ने राज की तरफ देखा और कहा "आ जाओ भैया, खाना लग गया है" ल

राज ने चेयर बहार खींचते हुए पूछा "तूने खा लिया ?" "नहीं, अभी नहीं, आप खा लो मैं खा लुंगी बाद में "।

राज ने दीवार पर टंगी घडी की तरफ देखा जो 10:55 का समय बता रही थी, "पागल है क्या, देख क्या टाइम हुआ है, कब तक भूखी रहेगी उस के लिए" राज ने डाँट ते हुए ऋचा से कहा। ऋचा ने स्माइल किया और फिर थोड़ा मायूसी भरे स्वर में बोली "मेरी तो आदत है भैया, आप खाओ में खा लुंगी बाद में" , राज ने फिर से डांटते हुए कहा "ज़ादा बन मत, चुप चाप बैठ और खाना खा, नहीं तो मैं भी नहीं खाऊंगा "। मजबूरन ऋचा को राज के साथ बैठ कर खाना पड़ा।

अभी वो लोग खाना खा ही रहे थे की door bell बजी, ऋचा उठ कर जाने को हुई पर राज ने रोक दिया "तू बैठ मैं खोलता हूँ "। राज ने जाके दरवाज़ा खोला तो सामने विनोद को सहारा दिए दो लोग और खड़े थे। उनमे से एक ने पूछा "भाभी जी कँहा हैं?" राज ने दरवाज़ा पूरा खोल दिया सामने बैठी ऋचा ने देखा तो वो भागती हुई आई और पूछा "क्या हुआ भैया?" "क्या हुआ इन्हे?", वो दोनों लड़के विनोद को अंदर लाने लगे, उनमे से एक ने कहा "कुछ नहीं हुआ है भाभी जी, बस आज विनोद सर कुछ ज़ादा पी गए, सुबह तक ठीक हो जायेंगे" कह कर उन्होंने वनोद को वंही सोफे पैर लेटा दिया। "अच्छा हम चलते हैं भाभी जी, नमस्ते " कह कर दोनों लड़के फ्लैट से बहार चले गए और राज ने दरवाज़ा बंद कर लिया।

राज ने अपना खाना ख़त्म किया फिर सोफे पर पड़े विनोद को उठाने की कोशिश की पर विनोद बेसुध सा पड़ा सोया हुआ था। ऋचा किचन में बर्तन धो रही थी, राज किचन में चला गया और ऋचा से पूछने लगा "कब से पी रहा है ये इतनी ?" ऋचा ने एक नज़र राज पर डाली फिर बर्तन धोते हुए बोली "ये तो आये दिन का काम है इनका, कभी कभी इतनी ज़ादा पी लेते हैं के कोई न कोई उठा के घर लता है "। राज वापस जाके अपने रूम में bed पर लेट गया, और लाइट ऑफ कर ली। रूम का गेट उसने खुला ही रखा था, बहार ड्राइंग रूम में सोफे पर सोया विनोद उसे वंहा से साफ़ दिखाई दे रहा था। थोड़ी देर में ऋचा आके विनोद को हिलाने डुलाने लगी पर विनोद ने कोई ठोस प्रतिक्रिया नहीं दी, ऋचा की पीठ उस वक्त राज के रूम की तरफ थी और विनोद को जगाने के क्रम में झुकने के कारण उसके पाजामे से उसकी गांड का उभार राज को अच्छे से दिख रहा था। ऋचा की गांड अब पहले से भी ज़ादा बड़ी लग रही थी उसे। राज फिर से ऋचा की खूबसूरती को ऊपर से नीचे तक निहारने लगा, उसके लंड में फिरसे तनाव आने लगा था। ऋचा अब नीचे बैठ कर विनोद के जूते खोल रही थी, बैठने के कारण उसकी गांड और भी ज़ादा फ़ैल गयी थी। राज ने एक बार शार्ट के ऊपर से अपने लंड को मसला फिर सारे ख़यालों को दिमाग से झटकते हुए अपने कमरे में बनी बालकनी में चला गया।

थोड़ी देर में ऋचा विनोद को सोफे पर सीधा सुला के राज के कमरे में आयी। राज को बालकनी में देख कर वो उसके पास आके खड़ी हो गयी और नीचे ज़मीन की गहराई नापने लगी। थोड़ी देर दोनों के बीच ख़ामोशी रही फिर राज ने ही ख़ामोशी को तोड़ते हुए पूछा "और सुना कैसा चल रहा है सब ?" ऋचा ने एक नज़र राज की तरफ देखा फिर नज़र सामने दूसरी बिल्डिंग की तरफ करते हुए बोली "देख तो रहे हो आप, ऐसे ही चल रहा है "

राज ने फिर से दूसरा सवाल किया "इसे समझती क्यों नहीं, इतना पीना ठीक नहीं "

ऋचा ने एक फीकी सी मुस्कान देते हुए कहा "समझती तो बहुत हूँ, पर मेरी मानता कौन है?"

फिर थोड़ी देर के लिए दोनों के बीच सन्नाटा सा पसर गया, राज बालकनी से कमरे के अंदर जाते हुए बोला "चल अब काफी टाइम हो गया, सो जा जाके"

ऋचा भी राज के पीछे पीछे कमरे में आ गयी, राज बिस्तर पर बैठ गया, ऋचा कमरे से बाहर जाते हुए धीमी आवाज़ में बोली "मुझे लगा था आप बात करोगे मुझसे"

राज को एक पल के लिए ऋचा पर तरस सा आया और उसने आवाज़ दी "ऋचा "

ऋचा दरवाज़े पर ठिठक गयी और राज की तरफ देखने लगी, राज ने इशारे से उसे अपने पास बिस्तर पर बैठने को कहा। ऋचा ने एक नज़र बाहर ड्राइंग रूम में सो रहे विनोद पर डाली फिर राज के पास जाके बिस्तर पर बैठ गयी।

राज ने अपना हाथ आगे बढ़ाकर उसका हाथ अपने दोनों हाथों के बीच थाम लिया और बोला "अब कर क्या बात करनी है? "

राज को न तो अब किसी प्रकार का डर था, न कोई आत्मगिलानी थी, ऋचा ने राज की आँखों में देखा और फिर नज़रे नीचे कर के सवाल किया "वो सब क्यों किया था भैया ?" राज को उस से शायद इसी सवाल की उम्मीद थी, उसने एक गहरी सांस ली और कहा "मैंने तुझे बताया तो था "। ऋचा ने फिरसे राज की आँखों में झाँका "हाँ बताया तो था, पर ऐसे कौन करता है, अपनी सगी बहन के साथ? " राज उसके सवाल के जवाब खोजने लगा, ऋचा ने फिर से दूसरा सवाल दाग दिया "आप उस दिन मेरा रेप करने वाले थे? है न " राज को अब कुछ जवाब समझ नहीं आ रहा था, उसने अपनी गर्दन नीचे झुका ली और बस इतना ही उसके मुंह से निकला "हम्म"। फिर थोड़ी देर ख़ामोशी रही दोनों के बीच, और ख़ामोशी को फिर ऋचा ने ही तोडा "फिर रुक क्यों गए थे?" राज की आँखों से आंसू की एक धार बह निकली और उसने ऋचा की तरफ देखते हुए कहा "पता नहीं, कैसे रुक गया"। ऋचा ने अपना हाथ आगे बड़ा के राज के आंसू पोंछे, "मेरा मकसद आपको तकलीफ पहुँचाना नहीं था "

ऋचा ने कहा।

राज ने सहमति में गर्दन हिलायी , थोड़ी देर बाद ऋचा bed से उठकर खड़ी हुई और पूछा, "अच्छा, एक आखरी सवाल?" राज ने चौंकते हुए ऋचा की तरफ देखा, ऋचा का एक हाथ अब भी राज के हाथ में था , "क्या अब भी मुझसे वैसा ही प्यार करते हो?"

राज ने ऋचा की आँखों में देखा और थोड़ी देर देखने के बाद हाँ में अपनी गर्दन हिलायी।

ऋचा दोबारा से राज के पास बैठ गयी और उसकी आँखों में देखते हुए बोली "आपने इतनी दुरी क्यों बना के रखी मुझसे?" राज ने एक नज़र ऋचा को देखा फिर छत्त की तरफ मुंह कर के बोला "कभी इतनी हिम्मत ही नहीं जुटा पाया के तुझसे बात करूँ, बहुत शर्मसार था अपने ऊपर"। कुछ सेकंड फिरसे दोनों के बीच ख़ामोशी छा गयी। राज ने ख़ामोशी को तोड़ते हुए एक गहरी सांस छोड़ते हुए कहा "I am sorry ऋचा"। ऋचा ने राज की आँखों से बह रहे आंसुओं को पोंछा और कहा "it's o.k, भाई", थोड़ी देर दोनों भाई बहन ऐसे ही बैठे रहे।

ऋचा ने बिस्तर से उठ ते हुए कहा "मैंने तो आपको बहुत पहले ही माफ़ कर दिया था", राज हैरत से ऋचा की और देखने लगा। ऋचा ने राज से अपना हाथ छुड़ाया और "गुड नाईट" बोल के दरवाज़े के तरफ बढ़ने लगी, राज ने पीछे से पुकारा "ऋचा"।

ऋचा दरवाज़े तक पहुँच चुकी थी, राज की आवाज़ सुन के वंही रुक गयी, उसने पीछे मुड़ के देखा तो राज बिस्तर से उठ के उसके पास आ रहा था। राज ने ऋचा के करीब आके उसे अपने आलिंगन में ले लिया और धीमे से उसके कान में बोला "मैं आज भी तुझसे बहुत प्यार करता हूँ"।

ऋचा ने भी राज को कस के अपनी बांहो में भींच लिया। राज ने ऋचा की गर्दन को चूम लिया, ऋचा के मुंह से सिसकारी निकल गयी और उसने राज के बालों को अपनी उँगलियों में भींच लिया। अब राज का खुद के ऊपर काबू न रहा और वो ऋचा को बेतहाशा चूमने लगा, कभी गर्दन कभी उसके कंधे को, कभी उसके सीने के ऊपरी भाग को।

ऋचा ने कमरे का दरवाज़ा भिड़ा दिया और राज ऋचा को लेकर बिस्तर पर गिर गया, उसने एक ही झटके में ऋचा की टीशर्ट को ऊपर किया और उसके पेट पर चुम्बनों की झड़ी लगा दी, उस वक्त ऋचा का धड़ बेड पर था और टाँगे फर्श पर लटक रही थी और राज फर्श पर घुटनो के बल बैठा ऋचा के पेट को चुम रहा था और अपने दोनों हाथों से ऋचा की बड़ी बड़ी चूचियों को ब्रा के ऊपर से दबा के उनकी कठोरता का जायज़ा ले रहा था। ऋचा बस सिसकारियों पर सिसकारियां ले रही थी, आज वो सारी मर्यादाएं तोड़ के राज का साथ दे रही थी। राज ने एक झटके में ऋचा की ब्रा को पकड़ के ऊपर सरका दिया और ऋचा की बड़ी बड़ी चूचियां झूलती हुई बहार आ गयी। राज ने बिना देर किये उसकी दायीं चूची को मुंह में भर लिया और किसी छोटे बच्चे की तरह चूसने लगा, ऋचा को जब राज के मुंह की गर्माहट का एहसास अपनी चूची पर हुआ तो उसके मुंह से "आह " निकल गयी और उसने राज के सर को अपने हाथों से ज़ोर से अपनी चूची पर दबा लिया। राज दूसरे हाथ से अपनी बहन की बांयी चूची को ज़ोर ज़ोर से दबा रहा था और ऋचा बस "आह" "आह" कर रही थी। अब राज ने देर न करते हुए एक झटके में ऋचा का पजामा panty सहित घुटनो तक सरका दिया और अपना शार्ट भी आनन फानन में उतार फेंका। राज तुरंत ही वापस ऋचा के ऊपर छा गया, राज का लंड किसी लोहे की रोड की तरह सख्त हो चूका था और अब वो ऋचा की चूत पर घर्षण कर रहा था। राज और ऋचा की नज़रें मिली और राज ने धीरे से पूछा "डाल दूँ?" ऋचा ने आँखे बंद कर के अपनी सहमति दे दी, राज ने नीचे की तरफ हाथ ले जाके लंड को उसकी चूत पर सेट किया फिर ऋचा के होठों को अपनी होठों में भर लिया और कमर को एक झटका दिया, आधा लंड सरक के ऋचा की चूत में समां गया। ऋचा के मुंह से एक ज़ोरदार सिसकारी फूटी "आह" और उसने फिर से राज के होठों को अपनी होठों के बीच दबा लिया और उनका रसपान करने लगी। राज ऋचा के होठों को चूसते हुए अपनी कमर को आगे पीछे करने लगा, आज उसे बहुत मज़ा आ रहा था, जैसे कोई मुंह मांगी मुराद पूरी हो गयी हो। राज ने अब अपनी स्पीड बड़ाई और साथ ही ऋचा के होठों से आज़ाद होके उसकी बांयी चूची के निप्पल को अपनी मुंह में भर के चूसने लगा। ऋचा ने एक नज़र घुमा के दरवाज़े की तरफ देखा, दरवाज़े की थोड़ी सी ओट से सामने ड्राइंग रूम के सोफे पर विनोद अभी भी बेसुध सा पड़ा सो रहा था। राज ज़ोर ज़ोर से ऋचा की चूत में धक्के मार रहा था, ऋचा की चूत उसे सुमन की चूत से कंही ज़ादा टाइट लग रही थी। कुछ मिनट के बाद राज पागलों की तरह धक्के मारने लगा और ऋचा अपनी कमर को उठा उठा के उसका साथ देने लगी। ऋचा को अपनी अंदर कुछ टूटता सा महसूस हुआ, उसकी कमर अकड़ गयी और उसने राज की कमर को ज़ोर से भींच लिया, तभी राज के लंड से एक ज्वालामुखी सा फूटा और उसने वीर्य से ऋचा की चूत को भर दिया। दोनों भाई बहन एक दूसरे के ऊपर पड़े हांफ रहे थे। कुछ सेकंड बाद राज ऋचा के ऊपर से हट के उसकी बगल में लेट गया और अपनी साँसों को दुरुस्त करने की कोशिश करने लगा। ऋचा की चूत से राज का वीर्य बहार निकल के बेडशीट को भिगो रहा था। अचानक बहार कुछ आहट हुई, ऋचा और राज तुरंत बिस्तर छोड़ के खड़े हो गए, ऋचा ने जल्दी से अपने कपडे पहने और बहार चली गयी, राज अभी भी अपना अंडरवियर ढूंढ़ने में लगा था।

बहार जाके ऋचा ने देखा तो विनोद सोफे से नीचे लुढ़का पड़ा था, थोड़ी देर में राज ने पीछे से आके विनोद को सहारा दिया और उसे ऋचा के बैडरूम में ले जाके लेटा दिया। राज ने ऋचा को फिर से पकड़ के किस करना चाहा पर ऋचा ने विनोद के डर से उसे रोक दिया। राज वापस आके अपने कमरे में सो गया।

अगले दिन राज को बस स्टैंड तक छोड़ने विनोद खुद आया था, इसीलिए उसकी ऋचा से कोई ख़ास बात न हो पायी थी। बस में विंडो सीट पर बैठा राज बहार खेतो में खिले सरसों के फूलों को देख रहा था, उसके जीवन में भी जैसे कोई नयी बहार आयी थी, पतझड़ के बाद कुछ नए रिश्तों ने जन्म लिया था।

THE END
 

Kingpin

we've all got secrets ...
Staff member
Sectional Moderator
Messages
3,658
Reaction score
5,501
Points
143
Best Buddy

“Yaar…..Jass.! Shaadi hi toh hai na …karlungi tujse….”

“ meine toh nhi kaha esey…..”

“Meine kab kaha Tum keh rahe ho….!...mein hi keh rahi hu…. dekho hum dono ache friend Hein..Tum mere best buddy ho..hum ek dusre ko samjhte hain acche se…or mujhe pta hai tum muje like krte ho…hehehe….so shaadi v kr lenge.. …abhi college life enjoy kro ghumo firo ladkiyon k saath maje lo…yaar….gf banalo ek adh…..!

Thik hai Maan Li tumhari baat…..pr enjoy tum kro girl school se aai ho first year b college ka girls college mein lagaya hai…abb yahan aai ho maze karlo…bf bnalo…hum toh sath Hein …jbb dunia se dil ubh gya toh aa jana laut k…. mein samne hi khada hunga tere liye…..meine smile di…

“Accha bf bnalu…or fir sex v kr lu toh…..toh tumare andar ka mard toh nhi hurt hoga.”

“Agar last mein mujhe tum jaisi ladki puri life k liye mile toh muje kya lena…puri life kabhi tumhari azadi pe bandish nahi launga kabhi ..”
Vese v agar zindgi ko kuch or manzoor hua toh……………..!

“Hmmm agar life ne humey milne na diya toh v hum best buddy toh rahenge hi .. promise…”

“or mein tujhe apne se bandh kr b nhi rakhunga..tumey meri taraf se puri azaadi milegi…!”

“Chlo shodo v kya baatein lekr Beth gaye hum …. Poonam ne kaha..”

Ji haan mein or Poonam do month pehle hi mile the ..lekin hum ek dusre k itne kareeb aagye jaise janmo k sathi hon….humari pasand na pasand itni milti thi k kabhi kabhi muje yeh sab Karishma hi lgta. mein uske Ishq mein din-ba-din pagal hota ja raha tha.Upar se uski bala ki khubsurati..jheel c neeli ankhen gora rang.sense of humour.perfect thi voh..main hr pal usko khush rakhna cha Raha tha. uski Han mein Han milana meri aadat bn gai thi…humare dipartments alagh hone k bawajood hum pura pura din college mein ek sath bitate the.

Abhi tak ladkiyon mein rahne Kaarn uski ladkon se baatein krne mein alag hi dilchaspi thi mein kabi use rokta nhi tha shyad muje uspe Bharosa hi boht tha.or vese bhi mein sochta tha ki jitna mein usey rokunga who utna hi iss k liye utsuk hogi ..yehi Insan ka subav hai..mere dost or uske touch mein jo ladke the sabke sath full jamti thi uski.. ..Mera sochna tha ..agar voh mere sath rehne ko sochegi toh uska khudka mind set hona chahiye iss k liye .or mein usse apne sath bandh kar nhi rakhna chahta tha…

Ravi Jo uske classmate ka dost tha dikhne mein kuch khas nhi tha lekin Poonam uske sath kuch jyada hi chitchat krne lgi thi muje thoda ajeeb b lga lekin uss se pehle hi woh bol padi ek din… “esey Matt dekho kuch nhi hai…arrey tum mere best buddy ho…!”

“Pr mein kabi tumhe kisi aur k pass jane se rokunga b nhi..”

“Teri Kasam esa kuch nhi”……or jal rahi hai tumhari……….hehehe…..

Din beet te Gaye Poonam or Ravi ek dusre ke or kareeb ho jatey hein..aaj kal hum mein thori bohot anban hone lagi pr hum phir v ek- sath the ..ek din usne muje Ravi k sahmne kaha… “yaar mein or Ravi ik dusre ko like krne lage Hein..pr tumne kaha tha tum muje nhi rokoge or hr jagah meri support kroge. tum mere best buddy Jo ho…!”

Mere panvo tale se jameen khiski dil toota ..kyuki kuch b ho lekin mein Poonam ko bohot chahta tha…esey mein uss se dur bhi nhi ho skta tha…
humari ek din ladai v ho gai..lekin Poonam ne dubara khud mujhe bula liya..pr ab Humare beech Ravi v tha mujhe jaln hoti lekin shyad pyaar k aagey uski dosti jyada majboot thi …woh apne pyar k aagey hamesha humari dosti ko pehl deti……...ik din Poonam ne Ravi ke kisi dost se online video call krli isse unme ladai ho rahi thi mein vahan pahuncha.

Poonam mujhe boli “buddy ise samja yr ye mujpe shakk kr raha ha..yr isko mene kaha ki end mein shaadi issi se karungi..!

Yeh sunte muje who batein yaad aai jo hum mein hui thi..mein flashback mein chala gya tha …Poonam ke jhatkne se vapas present mein aaya…. “Mr kidhar kho gye yr mere sabse kareeb tum ho.. samjao isse..”

Me- o.. Haan haan..Yar Ravi tum Poonam ke character pr Shaq nhi kr skte..ladko se milne julne se yeh Galt toh nhi ho skti…jab tumse mili thi toh mene kabhi isse galt nhi kaha....

“Haan yr buddy ye samjta nhi..tum to great ho man..……”

Kuch dino baad meri Ravi se kuch behas ho gai .usne mujhe kaha ki mein Poonam ko like krta hu tabhi mein iss se jalta hu..mene kaha like toh krta hu lekin mein majboori ka rishta nhi rakhna chahta…Tumhe mujse problem ho skti hai pr Muje Poonam or meri dosti pe bharosa hai..
us din k baad Ravi ne mere or Poonam k vich diwar khadi krdi lekin Poonam fir v mujse milti rehti.. Ravi iss se jalne laga..uska kehna tha ki mein abhi v Poonam se shadi k sapne dekhta hu…yeh sach v tha pr mein un dono ke rishte ko kharab nhi karna chahta tha yeh meri andruni feelings thi… pr Ravi ki inn baaton mein akar Poonam mujse naraaz ho gai..mene Poonam ko bohot samjhaya ki mein unke relation ko kharab nhi karna chahta. lekin uski ankhon pr Ravi ke pyar ka parda chda hua tha..meine chupp rehna thik smja…
uske baad hamara milna kam ho gea par hum chatting pr baat kr lete the. Humari dosti hi kuch azeeb thi hum ek dusre se door nhi reh skte the..meine Ravi se last time kaha tha ki kya pta kall tum v Poonam k sath na raho pr mein ek dost k natey hamesha uske sath hunga ..or kisi ladke ko agar koi ladki apna best friend kehti hai toh smjhna us ladki k liye us ladke k mayine boht hein...apne dooston ke jhund mein se agar woh kehti hai ki tum mujhe ache se samjhte ho or tum hi mere best friend ho toh yeh bohot badi baat hai..mujhe iss pr fakr hai ki Poonam meri dosti ko pyaar se badkr mahatav deti hai.yeh gf bf vale masle se bohot aagey ki baat hai..
or time aaney pe yahi hua Ravi ki jgah koi or aa gya mein vahin apni jgah tha ….kyuki dosti ki jagah pyaar nhi le skta.

Poonam ke who lafaz “Tum mere best buddy ho” aaj v sach hein…. Humaari dosti pehle se v strong hai..


Toh dosto meine choti c kosis ki hai..iss contest mein hissa lene ke liye...hindi mein grammar or vocab thodi weak hai... lafzon ki v kami thi...vese bhi sex story likhna asan hai ..non erotic mein bohot kuch dekhna padta hai....sabhi tarah k reviews ka intezar rahega
 

Mahi Maurya

Dil Se Dil Tak
Prime
Messages
15,391
Reaction score
34,340
Points
173

✳️✳️❇️ साजिश ❇️✳️✳️
🍁🌼🍁🌼💖🌼🍁🌼🍁
Prefix- Suspence, Thriller
रचनाकार- Mahi Maurya

(6989 शब्द)

💢💢💢💢💢💢💢💢


IMG-20220224-123815

दृश्य-1

रीतिका खन्ना..... एक जानी मानी सामाजिक कार्यकर्ता और पत्रकार। आज उनके घर के बाहर भारी संख्या में लोग एकत्रित हुए थे। मीडियाकर्मी का जमवाड़ा लगा हुआ था वहाँ पर। तभी पुलिस और एंबुलेंस का तेज सायरन सुनकर भीड़ तितर-बितर हो उन्हें आगे जाने का रास्ता देती है। पुलिसवाले गाड़ी से धड़धड़ाते हुए नीचे उतरते हैं और साथ में ही डॉक्टर के साथ स्वास्थ्यकर्मी भी एंबुलेंस से नीचे उतरते हैं।

जैसे ही पुलिस कमिश्नर अग्नेय त्रिपाठी अपनी गाड़ी से नीचे उतरते हैं। मीडियाकर्मियों की भारी भीड़ ने उन्हें घेर लिया।

सर। क्या आप बता सकते हैं कि रीतिका खन्ना की हत्या में किसका हाथ हो सकता है। एक पत्रकार ने अग्नेय त्रिपाठी से पूछा।

अग्नेय त्रिपाठी ने अपने सिर को जुंबिश दी और मुँह में भरे पान को जमीन पर थूकते हुए कहा।

देखिए हम तो अभी अभी यहाँ पर आएँ हैं। आप सब तो हमसे पहले ही यहाँ पर मौजूद हैं। तो आपसब ही बताइए कि रीतिका खन्ना की हत्या में किसका हाथ है।

कमिश्नर त्रिपाठी की बात सुनकर सभी पत्रकार एक दूसरे को देखने लगे। तभी एक दूसरे पत्रकार ने कहा।

सर, हत्यारे का पता लगाना तो पुलिस का काम है। हमारा काम हो सच्चाई को जनता तक पहुँचाना।

तो हमें अभी अपनी छानबीन करने दीजिए आप। अभी तो हम नहीं बता सकते कि इसमें किसका हाथ है लेकिन इतना विश्वास जरूर दिलाते हैं कि बहुत ही जल्द हत्यारा हमारी गिरफ्त में होगा। तो कृपा करके आप लोग मुझे अंदर जाने दीजिए।

इतना कहकर कमिश्नर त्रिपाठी वारदात की जगह चले गए जहाँ पर रीतिका खन्ना की लाश सोफे पर पड़ी हुई थी।

बाहर एक रिपोर्टर दूसरे रिपोर्टर से- पता नहीं कैसा आदमी है ये। इसे कमिश्नर किसने बना दिया। इसे देखकर तो शहंशाह फिल्म के अमिताभ बच्चन के किरदार की याद आती है।

सही कहा तुमने। पता नहीं ये कमिश्नर जैसे उच्च पद पर कैसे पहुँच गया जबकि ये उसके योग्य ही नहीं। दूसरे पत्रकार ने कहा।

अंदर कमिश्नर त्रिपाठी लाश के चारों ओर घूम रहे थे। उनकी आँखें किसी गिद्ध की मानिंद अपने शिकार की तलाश कर रही थी। उन्होंने लाश का बारीकी से मुआयना किया। माथे के आर-पार हो चुकी गोली के अलावा लाश के शरीर पर चोट का कोई निशान न था।

तभी उनकी आँखें एक जगह अटक गई, लेकिन उन्होंने कोई प्रतिक्रिया नहीं दी। उन्होंने जाँच के लिए भेजे गए क्राइम विभाग के दोनों अफसरों चैतन्य और आदित्य ठकराल को जल्दी से लाख का पंचनामा कर पोस्टमार्टम के लिए भेजने को कहा और रसोईघर की तरफ चले गए। फ्रिज से पानी पीने के बाद वो बाहर चले गए।

अब तक घर के बाहर प्रवेश निषिद्ध के फीते लग चुके थे। कुछ देर बाद चैतन्य और आदित्य भी बाहर आ गए।

यार चैतन्य हमने इतने सारे केस हल किए हैं। तुम्हें नहीं लगता कि ये केस कुछ हटके हैं। गाड़ी चलाते हुए आदित्य ने कहा।

मैं भी यही सोच रहा हूँ कि जिसने भी ये हत्या ही होगी वो रीतिका खन्ना का करीबी रहा होगा। वरना इतने कारगर तरीके से हत्या को अंजाम नहीं दिया जा सकता था। न ही कातिल ने कोई सबूत छोड़ा है न ही फिंगरप्रिंट न ही कोई अन्य निशान। ऊपर से गोली भी आरपार हो कर गायब हो गई। चैतन्य ने गंभीरता से कहा।

भाई दुनिया में आजतक कोई अपराधी पैदा नहीं हुआ है जो सबूत न छोड़ा हो। बस हमें थोड़ी बारीकी से जाँच करनी होगी। आदित्य ने कहा।

लेकिन एक बात मुझे अभी भी समझ में नहीं आई। चैतन्य ने गाड़ी एक कैफे के सामने रोकते हुए कहा।

कौन सी बात। दोनों कैफे में जाकर बैठ गए और कॉपी का ऑर्डर देने के बाद सिगरेट का कश लगाते हुए आदित्य ने कहा।

यही कि रीतिका के पास अकूत संपत्ति के साथ ऐशोआराम के सारे साधन मौजूद थे फिर उसने किसी से रुपए उधार क्यों लिया था। चैतन्य ने कहा।

क्या? ये तुम्हें किसने बताया। आदित्य ने चौकते हुए कहा।

यार मैं भी तेरी तरह ही स्पेशल इनवेस्टीगेशन विंग का अधिकारी हूँ। चैतन्य ने कॉफी पीते हुए कहा।

तुम्हें कैसे पता चला। आदित्य ने हैरान परेशान होते हुए कहा।

तुम्हें इतना हैरान परेशान होने की कोई जरूरत नहीं है। मुझे सुबूत ढूँढते हुए कूड़ेदान में कुछ कागज मिले थे जिसमें कुछ लिखा तो नहीं था, लेकिन जब मैंने उसे लाल रोशनी में स्कैन किया तो उन पर डॉलर का चिह्न मिला। तभी मैं समझ गया कि भारत में रहकर रीतिका का रुपयों के बजाय डॉलर से संबंध होना किसी गहरी साजिश का हिस्सा है। मैं वो कागज अपने साथ में लाया हूँ। ले तू भी देख। चैतन्य ने आदित्य को कागज पकड़ाते हुए कहा।

आदित्य ने कागज लेकर लाइटर जलाकर कागज के नीचे किया तो उसे भी चैतन्य का शक सही प्रतीत हुआ क्योंकि डॉलर के चिह्न के नीचे कुछ रकम लिखी हुई थी, लेकिन रीतिका ने ये रकम किसी को दी थी या किसी से उधार ली थी ये कहना मुश्किल था।

क्या हुआ आदित्य। कुछ समझ में आया कि ये डॉलर वाली पहेली क्या है। चैतन्य ने कहा।

आदित्य की आँखें अभी भी कागज को ही देख रही थी। डॉलर चिह्न के पहले तीन अंकों की संख्या लिखी थी और उसके पहले क्या लिखा था ये समझ में नहीं आ रहा था।

नहीं भाई। इसे लैब भेजना पड़ेगा जाँच के लिए। आदित्य ने कागज वापस चैतन्य को देते हुए कहा।

तो चलो लैब ही चलते हैं।

इतना कहकर चैतन्य आदित्य के साथ जैसे ही उठा उसी समय एक शख्स, जिसके काले रंग की लंबी ओवरकोट और लाल रंग की टोपी पहन रखी थी सामने आया और वह कागज का टुकड़ा चैतन्य के हाथ से झपटकर भागने लगा। जब तक दोनों कुछ समझ पाते तब तक वो शख्स एक गली में दाखिल हो चुका था। पीछे पीछे आदित्य भी उस गली में पहुँचा, लेकिन तब तक वह शख्स गायब हो चुका था।

तभी वहाँ से सायरन बजाती हुई पुलिस की कई गाड़ियाँ गुजरी। जिसमें कमिश्नर त्रिपाठी की भी गाड़ी थी। आदित्य को देखकर कमिश्नर ने गाड़ी पीछे लेते हुए कहा।

क्या हुआ ऑफीसर्स। यहाँ क्या कर रहे हो आप।

कुछ नहीं सर एक चोर मेरी कुछ चीजें लेकर भागा था। उसी के पीछे पीछे मैं यहाँ आया था, लेकिन वो कम्बख्त पता नहीं कहाँ गायब हो गया। आदित्य ने कहा।

अगर आप कहें तो मैं कुछ पुलिसवालों को आपकी मदद के लिए भेज दूँ। कमिश्नर त्रिपाठी ने कहा।

नहीं सर आप कष्ट न करें। आदित्य ने मुस्कुराते हुए कहा तब तक चैतन्य भी वहाँ पर आ गया। उसके आते ही आदित्य से पूछा।

वह आदमी कहाँ गया आदित्य।

पता नहीं कहाँ गायब हो गया। चलो चलते हैं। देर हो रही है हमें ऑफिस भी पहुँचना है। आदित्य के इतना कहने के बाद दोनो गाड़ी पर बैठे और चले गए। कमिश्नर त्रिपाठी भी वहाँ से चले गए।

दृश्य- 2
एक बहुत बड़ा सा हॉल। हॉल के बीचों बीच एक गोलाकार मेज के चारो तरफ लगी कुर्सियों पर दो लोग बैठे हुए थे। एक शख्स ने गिलास में शराब डालते हुए कहा।

बाल बाल बच गए सर आज। वरना ये क्राइम विभाग वाले तो पीछे ही पड़ गए थे।

बात तो तुम्हारी सही है। ये क्राइम ब्रांच वाले आजकल कुछ ज्यादा ही तेजी दिखा रहे हैं। आज अगर वो कागज फोरेंसिक लैब चला जाता तो मेरे ऊपर शक उठना लाजिमी भी था। वो तो ठीक समय पर पता चल गया और मैंने तुम्हें भेज दिया वरना मेरे साथ साथ तुम भी सलाखों के पीछे होते। दूसरे शख्स ने कहा।

इसीलिए कहता हूँ कि कोई भी सबूत मत छोड़ो। आज हमलोग फँसते फँसते बचे हैं। माफ करना सर, परंतु इस कागज के टुकड़े में ऐसा क्या है जो मुझे इसे अपनी जान हथेली पर रखकर उनसे छीनकर लाना पड़ा। पहले शख्स ने कहा।

तुम अभी चैतन्य और आदित्य को जानते नहीं हो। वे बेस्ट ऑफिसर्स हैं क्राइम डिपार्टमेंट के। जब भी कोई जटिल केस सामने आता है विभाग उन्ही को चुनता है उसे सुलझाने के लिए। विशेष रूप से उस चैतन्य को। वह बहुत साहसी और कुशाग्र बुद्धि वाला प्राणी है। तुम्ही दिमाग लगाओ कि चैतन्य की नजर कूड़ेदान में कैसे गई। और तो और कूड़ेदान के इतने कागजों में उसकी नजर इसी कागज पर कैसे पड़ी। दूसरे व्यक्ति ने कहा।

ये तो सोचने वाली बात है। मेरा ध्यान ही इस बात पर नहीं गया। पहले शख्स ने आँखें सिकोड़ते हुए कहा।

अगर तुम्हारी बुद्धि इतनी ही तेज होती तो तुम चैतन्य नहीं बन जाते। ये देखो। इतना कहकर दूसरे शख्स ने एक हाथ से उस कागज के टुकड़े को खोला और दूसरे हाथ से लाइटर जलाते हुए कहा।

अरे बाप रे बाप। ये तो मैने सोचा ही नहीं था।

उस कागज में डॉलर का निशान साफ दिखाई पड़ रहा था, लेकिन उसके पहले का अंक साफ नहीं था।

सर मुझे लगता है कि उन्हें पता नहीं चला होगा कि कितनी रकम लिखी गई है। पहले व्यक्ति ने शराब पीते हुए कहा।

मैंने कहा न कि अभी तुम उन दोनों को नहीं जानते। तुम सोच रहे हो कि इस कागज के टुकड़े को उनसे छीनकर तुमने बहुत बड़ा तीर मार लिया है, लेकिन तुम्हें इसकी भनक भी नहीं कि दोनों ने तुम्हें बेवकूफ बनाया। दूसरे शख्स ने सर्द लहजे में कहा।

ये क्या कह रहे हैं आप सर, लेकिन कैसे। पहले शख्स ने कहा।

तुम्हें क्या लगता है कि तुम उनसे कोई चीज छीनकर सुरक्षित भाग सकते हो? बिना किसी व्यवधान के तुम यहाँ तक पहुँच सकते हो? क्या तुम उन दोनो से ज्यादा चालाक हो? तुम उनसे ज्यादा तेज भाग सकते हो? इन सारे सवालों का जवाब है नहीं। दूसरे शख्स ने आगे कहा।

तुम गलत कागज का टुकड़ा लेकर आए हो। अर्थात् उन्होंने जानबूझकर ये टुकड़ा छिन जाने दिया। अब तुम यहाँ से जल्दी से निकलो मैं भी कुछ देर में आता हूँ।

जी सर। ये कहते हुए पहला शख्स वहाँ से निकल गया और दूसरा व्यक्ति अपना दिमाग चलाने लगा।

दृश्य-3
क्राइम विभाग के कार्यालय में आदित्य अपनी कुरसी पर बैठा लैपटॉप में कुछ देख रहा था।

क्या देख रहे हो आदित्य? चैतन्य मूँगफली चबाते हुए उसके केबिन में आते हुए बोला।

कुछ नहीं यार एक फिल्म देख रहा हूँ। घर में देख नहीं पाता हूँ तो सोचा यहीं पर देख लूँ। आदित्य ने लैपटॉप से नजरें हटाते हुए कहा।

अच्छा में भी तो देखूँ कि कौन सी फिल्म देख रहे हो? इतना कहकर जैसे ही चैतन्य ने लैपटॉप सरकाया। आदित्य ने झट से उसके हाथ से मूँगफली छीन ली और आराम से छीलकर खाने लगा।

चैतन्य ने उसे घूरकर देखा और अचानक मुस्कुराते हुए लैपटॉप में देखने लगा। दरअसल आदित्य कोई फिल्म नहीं बल्कि आगे की योजना का खाका तैयार कर रहा था।

यार आदित्य। मुझे एक बात समझ में नहीं आ रही है कि ये आखिर किस तरह की पहेली है जो इस डायरी में बनाई गई है। ये कहते हुए चैतन्य ने अपने जेब से एक छोटी सी डायरी निकाली और टेबल पर ऱख दी। फिर आदित्य ने अपनी जेब से कागज का असली टुकड़ा निकाला और डायरी के उस फटे हुए पेज से मिलाया और जोड़कर आगे पीछे देखने लगा, लेकिन वो टुकड़ा डायरी का था नही नहीं।

डायरी के एक पेज पर एक पहेली लिखी हुई थी।


हर घर में हम रहते हैं। लड़ते झगड़ते रहते हैं।
हमपे कहावत बनती है। दादी बाबा कहते हैं।


आखिर ये किसने लिखी होगी और इसका अर्थ क्या निकलता है? चैतन्य की नजरें सोंच वाली मुद्रा में सिकुड़ती चली गई।

देखो भाई मेरा साफ-साफ मानना है कि रीतिका खन्ना की मौत की वजह उसकी अकूत संपत्ति रही होगी। किसी अपने ने ही उसकी सम्पत्ति के लिए उसकी हत्या की होगी।

अब तुम ये कोई नई बात नहीं बता रहे हो। इतना तो सभी जानते हैं कि रीतिका खन्ना की मौत की वजह उसकी संपत्ति है। पर हत्या किसने की है प्रश्न ये है? लेकिन पहले इस पहेली को सुलझाना आवश्यक है। चैतन्य ने गंभीर होते हुए कहा।

तो चलो इस पहेली को सुलझाते हैं।

हाँ तो पहली पंक्ति है।


हर घर में हम रहते हैं। लड़ते झगड़ते रहते हैं।

इसका कुछ भी मतलब हो सकता है।

दूसरी पंक्ति है।


हमपे कहावत बनती है। दादी बाबा कहते हैं।

दूसरी पंक्ति में कहावत का जिक्र है।अगर दोनों पंक्तियों को साथ में जोड़कर देखें तो चूहा बिल्ली हो सकता है। क्योंकि ये हर घर में रहते हैं और इन्हीं पर कहावत कही गई है।

अर्थात् चूहा बिल्ली।

लेकिन संकेत अक्सर अंग्रजी में ही होते हैं। इसलिए इसका मतलब हो सकता है।

RAT CAT

आखिर हत्यारे ने ऐसा क्यों लिखा? आदित्य ने पहेली को अपने हिसाब से सुलझाने के बाद कहा।

लग तो यही रहा है, लेकिन वह चाहे पाताल में छुप जाए लेकिन हमसे नहीं बच सकता। चैतन्य ने सर्द लहजे में कहा।

तो अब हमें क्या करना चाहिए। आदित्य ने कहा।

मेरे हिसाब से हमें एक बार फिर से रीतिका खन्ना के घर जाकर कत्ल की जगह की बारीकी से जाँच करनी चाहिए।

हम्म्म्म्म। चैतन्य के जवाब पर आदित्य ने बस इतना ही कहा।

दृश्य-4
जूतों की आवाज से कई कुत्ते एक साथ भौंकने लगे। अंधेरे में दो शख्स धीरे-धीरे चोर नजरों से इधर-उधर देखते हुए रीतिका खन्ना के घर के पिछले हिस्से में पहुँच गए।

दोनों ने चारदीवारी फाँदी और दबे पाँव अंदर दाखिल हो गए। एक कमरे की खिड़की में लगी चौकोर काँच के टुकड़े को हटाया और कमरे में घुस गए और वहाँ पहुँचने की कोशिश करने लगे जहाँ पर रीतिका खन्ना की हत्या हुई थी।

उनके आने से पहले ही वहाँ पर दो लोग मौजूद थे। तभी दोनों की नजर दरवाजे पर पड़ी जहाँ से अभी अभी दो परछाई दिखी थी उन्हें। दोनों शख्स यह देखकर चौंक गए। एक ने अपनी टार्च की रोशनी बुझाई और धीरे धीरे दरवाजे की तरफ खिसकने लगा। दोनों व्यक्तियों के चेहरे पर पसीने की बूँदे नजर आने लगी।

पहले व्यक्ति दरवाजे की ओट से बाहर की ओर झाँका और दरवाजे की ओट से टार्च अचानक से जलाई जिससे बाहर वाले कमरे में रोशनी फैल गई, लेकिन कमरे में कोई नजर नहीं आया। फिर वह कमरे में वापस आ गया।

तभी दूसरे कमरे में कुछ आहट सुनाई दी। दूसरे शख्स ने टॉर्च बंद की और दरवाजे को पास पहुँचकर बाहर की तरफ झाँकने लगा। जब उसे बाहर कोई नजर नहीं आया तो वो कमरे से बाहर निकल गया। बेहद सतर्कता के साथ आगे बढ़ते हुए वो सोफे तक पहुँचा ही था कि आदित्य ने पीछे से उसे दबोच लिया। उसकी गर्दन अब आदित्य के कब्जे में थी।

कौन हो तुम? आदित्य की कैद में छटपटाते हुए उस व्यक्ति ने कहा।

पहले तुम बताओ कि तुम कौन हो? आदित्य ने पूछा।

वो व्यक्ति शारीरिक रूप से बल में आदित्यसे किसी भी मामले में कम नहीं था। इसलिए आदित्य जितनी अपनी पकड़ मजबूत करने को कोशिश करता। वह व्यक्ति अपनी पूरी ताकत से उसकी पकड़ से छूटने की कोशिश करता।

तभी उस व्यक्ति के टॉर्च के पिछले हिस्से से आदित्य के माथे पर भरपूर वार किया। दर्द के कारण आदित्य की पकड़ ढीली पड़ी तो उस शख्स ने अपने आपको आजाद करते हुए टॉर्च की रोशनी आदित्य के चेहरे पर डाली तो वह चौंक गया। वह लगभग दौड़ते अपने साथी को कुछ इशारा किया और उसी रास्ते बाहर निकल गए जिस रास्ते से वो अंदर आए थे।

आदित्य के सिर से खून निकल रहा था। साथ में दर्द भी हो रहा था। उसने दर्द के कारण अपना सिर पकड़ा हुआ था। आदित्य जो कुछ तलाश कर रहा था वो अभी तक उसे नहीं मिला। अचानक उसकी नजर एक चीज पर पड़ी जो भाग चुके शख्स की जेब से गिरी थी। आदित्य ने वो चीज उठाई और अपनी जेब में रख ली।

फिर वो उस कमरे में आया जहाँ पर रीतिका खन्ना की हत्या हुई थी। तभी उस कमरे में चैतन्य एक लैपटॉप के साथ प्रवेश करते हुए बोला।

क्या हुआ आदित्य, तुम्हारे सिर पर ये चोट कैसी?

कुछ नहीं यार। अँधेरे में दरवाजे से टकरा गया था, लेकिन तुम कहाँ रह गए थे। बड़ी देर लगा दी तुमने। आदित्य ने बड़ी सफाई से झूठ बोल दिया।

मैं तो रीतिका खन्ना के कार्यालय में चला गया था उसका लौपटॉप ढूँढ़ने। इसमें हमें कई महत्त्वपूर्ण जानकारी मिल सकती है। अब हमें यहाँ से निकलना चाहिए ताकि पहरा दे रहे पुलिसवालों को कोई शक न हो। चैतन्य ने कहा।

फिर दोनों जिस रास्ते से आए थे। उसी रास्ते से बाहर चले गए। वो दोनों पुलिस की नजर में नहीं आना चाहते थे, लेकिन आवारा कुत्तों के भौंकने से पुलिस वालों का ध्यान उनकी तरफ चला गया।

वो देखो, पिछली गली से कोई भाग रहा है। पकड़ो उन्हें। इस आवाज के साथ ही वहाँ अफरा-तफरी मच गई। दोनों दौड़कर दूर खड़ी कार में जाकर बैठ गए।

सर क्या आपने दो लोगों को इधर से भागते हुए देखा है। क्राइम विभाग की गाड़ी देखकर एक पुलिसकर्मी ने चैतन्य से पूछा।

हाँ। अभी अभी दो लोग उधर भागते हुए गए हैं। चैतन्य ने उन्हें उँगली से इशारा करते हुए कहा।

सारे पुलिसवाले उसी दिशा में निकल गए। चैतन्य को लग रहा था कि उसने झूठ बोलकर अपने आपको बचाया है, लेकिन चैतन्य को ये नहीं पता था कि रीतिका खन्ना के घर से जो दो शख्स भागे थे वो उसी तरफ गए थे। जिनमें से एक के साथ आदित्य की झड़प हुई थी और उसी झड़प में आदित्य के सिर पर चोट लगी थी।

दृश्य-5
क्राइम विभाग की फोरेंसिक लेबोरेटरी। आदित्य और चैतन्य अपने केबिन में बैठकर रीतिका खन्ना का लैपटॉप खंगालने में लगे थे। लगभग चार घंटे के अथक प्रयास और एक्सपर्ट टेक्नीशियन की मदद से जो जानकारी सामने आई वो सचमुच में बहुत चौकाने वाली थी।

अरे बाप रे बाप। ये तो किसी अतंर्राष्ट्रीय रैकेट का हिस्सा जान पड़ता है। आदित्य ने आश्चर्य जताते हुए कहा।

उसकी आँखों में एक अनजाना सा खौफ़ नजर आ रहा था। दरअसल लैपटॉप में कुछ ऐसी जानकारी भी थी कि वो पुलिसवाला होकर भी डर रहा था।


लैपटॉप से जो बातें खुलकर सामने आई वो इस प्रकार थी।

रीतिका खन्ना ने सबसे पहले अपना कैरियर बिजनेस में आजमाया, चूंकि उसके पापा खुद एक सफल व्यवसायी थे तो वो अपने पापा के काम में हाथ बँटाती थी। धीरे-धीरे उसने एक लड़के से दोस्ती कर ली जो उसके कॉलेज का सहपाठी हुआ करता था।

नाम था सुयस।

सुयस ने बिजनेस में अभी नया नया कदम रखा था। उसने अपने बिजनेस को बढ़ाने के लिए रीतिका का सहारा लिया। रीतिका की वित्तीय मदद से सुयस अपने बिजनेस में तरक्की करता चला गया और रीतिका उसके प्यार में पागल होती चली गई।

लेकिन कुछ दिन बाद सुयस ने अपना नाता रीतिका से तोड़ लिया और अपना बिजनेस समेटकर कहीं दूर चला गया। सुयस के प्यार में पागल रीतिका ये सदमा सह न सकी और उसका मानसिक संतुलन बिगड़ गया।

उसके बाद रीतिका का मन बिजनेस में नही लगा। उसने किसी अन्य फील्ड में नाम कमाने का सोचा। पढ़ी लिखी तो थी ही वो तो उसने पत्रकारिता का रास्ता अपनाया।

कुछ सालों की कड़ी मेहनत के बल पर वह एक जानी-मानी पत्रकार बन गई।

लेकिन उसका इस तरह से अचानक कत्ल हो जाना संदेह पैदा करता था। ऊपर से डायरी के माध्यम से रैट कैट जैसे शब्द का इस्तेमाल करना।

इसका जवाब ढूँढना बहुत जरूरी था।

क्या हुआ चैतन्य। आदित्य ने गंभीर होते हुए कहा। अब हमें क्या करना चाहिए।

कुछ नहीं। अब कातिल को पकड़ने के लिए इस रैट कैट शब्द का पोस्टमार्टम करना ही पड़ेगा।

मतलब। चैतन्य की बात सुनकर आदित्य ने कहा।

मतलब कि अब एक एक अक्षर को जोड़-तोड़ कर हमें कातिल तक पहुँचना होगा। चैतन्य ने सुर्ख लहजे में कहा।

मतलब अब होगी लड़ाई RAT CAT की। आदित्य ने बात पूरी की।

लगता तो ऐसे ही है। कहता हुआ चैतन्य ने एक रहस्यमयी मुस्कान अपने चेहरे पर बिखेरी।

तो शुरू करते हैं फिर। आदित्य ने कहा।

फिर चैतन्य ने डायरी से एक पन्ना फाड़ा और कागज पर लिखा।

RAT CAT

R से रीतिका.. नहीं हो सकता क्या।

आदित्य ने सवालिया नजरों से चैतन्य की तरफ देखा।

आगे बताओ। चैतन्य ने मुस्कुराते हुए कहा तो आदित्य सकपका गया।

दोनों काफी देर सोचते रहे पर कोई हल न निकला। दोपहर से शाम हो गई। आदित्य ने घर के लिए विदा ली। उसका दिमाग बहुत तेजी से चल रहा था। अचानक से उसे कुछ याद आया और उसने तेजी से अपनी गाड़ी यूँ टर्न लेकर कार्यालय की तरफ मोड़ दी। कार्यालय परिसर में चैतन्य खड़ा था। आदित्य को देखते ही वो बोल पड़ा- क्या हुआ आदित्य तुम वापस क्यों लौट आए।

तुम ऊपर चलो बताता हूँ। मुझे कुछ याद आया है। ऊपर पहुँचकर आदित्य ने रीतिका की डायरी फिर से खोली और बोला।

हमने शायद ठीक से पढ़ा नहीं। उसने इस पहेली का हल स्वयं दे दिया है। ये देखो।

इस तरह आदित्य ने डायरी के एक कोने पर
आर डॉट फिर ए डॉट फिर टी डॉट लिखा फिर एक स्पेश देकर सी डाट फिर ए डाट फिर टी डाट लिखा।

R.A.T. C.A.T.

इसमें लिखे गए अक्षरों के बीच के बिंदुओं पर हमने ध्यान ही नहीं दिया।
अर्थात पहला शब्द RAT न होकर R.A.T. है और CAT न होकर C.A.T. है। इसका मतलब तो कुछ और ही निकल रहा है।

इसका मतलब मैं तुम्हें बताता हूँ। कहते हुए कमिश्नर अग्नेय त्रिपाठी ने कैबिन में कदम रखा।

अरे सर आप कब आए और ये आपकी गरदन को क्या हुआ। कमिश्नर की गरदन पर लगी गद्देदार पट्टी को देखकर चैतन्य ने पूछा।

कुछ नहीं बस रात में सोते हुए गरदन अकड़ गई थी। कमिश्नर त्रिपाठी ने गरदन पर हाथ फेरते हुए कहा।

इसके पहले कोई कुछ समझ पाता। कमिश्नर ने एक पुलिसवाले को इशारा किया। उसने झट से आदित्य के हाथों में हथकड़ी पहना दी। आदित्य उसे आश्चर्य से देखने लगा तो कमिश्नर ने कहा।

तुम्हें रीतिका खन्ना की हत्या के जुर्म में गिरफ्तार किया जाता है।

ये सुनकर आदित्य के साथ-साथ चैतन्य भी चौंक गया।

ये आप क्या कह रहे हैं सर। चैतन्य ने चौकते हुए कहा।

मैं ठीक कह रहा हूँ। कमिश्नर ने अपने वाक्य को चबाते हुए कहा।

लेकिन आपके पास कुछ तो सुबूत होगा न जिसके आधार पर आप आदित्य को गिरफ्तार कर रहे हैं। चैतन्य ने कहा।

हाँ है न। क्यों मिस्टर सुयस।

क्या... सुयस वो भी आदित्य..। चैतन्य ने चौकते हुए कहा।

हाँ मिस्टर चैतन्य। सुयस ही आपका दोस्त आदित्य है। कमिश्नर ने कहा।

ये आप इतने विश्वास के साथ कैसे कह सकते हैं। चैतन्य ने हैरानी से पूछा।

मेरी बात का विश्वास न हो तो आप खुद पूछ सकते हैं। कमिश्नर ने विश्वास के साथ कहा।

कुछ देर के लिए चैतन्य का सिर चकरा गया।

कुछ समझ में आया मिस्टर चैतन्य। कमिश्नर की इस आवाज के बाद चैतन्य ने कमिश्नर की तरफ देखा।

ये अकाडमिक ट्रस्ट चलाने वाले कोई और नहीं आपके दोस्त आदित्य ही हैं। जिससे दस वर्ष पहले रीतिका खन्ना जुड़ी हुई थी। कमिश्नर अग्नेय ने मुस्कान चेहरे पर लाते हुए कहा।

तुम लोग जिस R.A.T. C.A.T. द्वारा हत्या की गुत्थी सुलझाने का प्रयास कर रहे हो उसमें अंतिम के दो अक्षर A और T आदित्य ठकराल ही बनते हैं। जिस R.A.T. की बात तुम लोग सुलझा रहे हो वो और कुछ नहीं बल्कि रीतिका अकाडमिक ट्रस्ट ही है।

इस बात पर आदित्य और चैतन्य दोनों चौंक गए।

तो इससे कहाँ साबित हो जाता है कि आदित्य ने ही रीतिका खन्ना का कत्ल किया है। चैतन्य ने कहा।

मैं ये कहाँ कह रहा हूँ कि आदित्य ने ही रीतिका खन्ना का कत्ल किया है। पर इसके और रीतिका के पुराने संबंधों और बिजनेस के आधार पर शक तो जाता ही है और मैं शक के आधार पर ही इसे गिरफ्तार कर रहा हूँ। आप प्लीज सहयोग करें। कमिश्नर ने कहा।

सर मुझे अब भी विश्वास नहीं हो रहा है कि आदित्य हत्या जैसा घिनौना काम कर सकता है।

पैसा कुछ भी करवा सकता है मिस्टर आदित्य। कमिश्नर ने मुस्कान बिखेरते हुए कहा।

मुझे विश्वास ही नहीं होता कि आदित्य ने मेरे साथ-साथ पूरे विभाग को इतना बड़ा धोखा दिया है। आप इसे यहाँ से ले जाइए। चैतन्य ने मुट्ठी भींजते हुए कहा।

सर अगर आपकी अनुमति हो तो मैं चैतन्य से कुछ देर बात कर सकता हूँ। आदित्य ने कमिश्नर से कहा।

ठीक है... पर थोड़ी देर के लिए। कमिश्नर ने जहरीली मुस्कान के साथ कहा और पुलिसवालों के साथ वहाँ से बाहर निकल गए।

ये कमिश्नर क्या कह रहे हैं तुम्हारे बारे में। ये कैसे हो सकता है कि तुम्हारा रिश्ता रीतिका से रहा हो और तुमने मुझे बताया भी नहीं। तुमने मेरे साथ-साथ पूरे विभाग को बदनाम किया है। चैतन्य ने गुस्से से कहा।

हाँ ये सच है। लेकिन कुछ और भी बातें हैं जो मैं तुम्हें बताना चाहता हूँ। आदित्य ने चैतन्य के कन्धे पर हाथ रखते हुए कहा।

मुझे तुम्हारी कोई बात नहीं सुननी।
पहले मेरी बात तो सुन लो।

मैंने कहा न कि मुझे तुम्हारी कोई बात नहीं सुननी। चैतन्य ने गुस्से से बिफरते हुए कहा।

थक हारकर कुछ देर बाद आदित्य बाहर आकर गाड़ी में बैठ गया। कमिश्नर ने गाड़ी थाने की तरफ बढ़ा दी।

दृश्य-6
अदालत का दृश्य। चारों तरफ खचाखच भीड़। पाँव रखने को भी जगह नहीं बची थी। आज रीतिका हत्या केस की सुनवाई थी। जज साहब के केस की कार्रवाई शुरू करने के आदेश के बाद दो पुलिसवाले आदित्य को लेकर आए और कठघरे में खड़ा कर दिया। केस की कार्रवाई शुरू हुई पब्लिक प्रोसिक्यूटर ने अपनी दलील पेश करते हुए कहा।

मीलार्ड। ये जो शख्स कठघरे में खड़ा है। यह एक ऐसा मुजरिम है जिसने रीतिका खन्ना की बेरहमी से हत्या की है सिर्फ उसकी संपत्ति हथियाने के लिए। ऐसे हत्यारे को किसी भी सूरत में माफ नहीं किया जाना चाहिए।

आई आब्जेक्ट योर ऑनर...। आदित्य के वकील ने पब्लिक प्रोसिक्यूटर की बात को काटते हुए कहा- बिना किसी ठोस सबूत या गवाह के आप ये कैसे कह सकते हैं कि मेरे मुवक्किल ने रीतिका खन्ना की हत्या की है।

सुबूत हैं जज साहब....। अगर आपकी अनुमति हो तो मैं कुछ सवाल आदित्य से पूछना चाहता हूँ। पीपी(पब्लिक प्रोसिक्यूटर) ने कहा।

अनुमति है। जज साहब ने कहा।

पीपी- आदित्य साहब। क्या आप बता सकते हैं कि आप रीतिका खन्ना को कब से जानते हैं।

आदित्य- पिछले दो सालों से।

पीपी- परंतु आपने तो अपने पुलिस बयान में ये बताया है कि आप रीतिका खन्ना को पिछले दस वर्षों से जानते हैं।

आदित्य- हाँ ये भी सत्य है।

पीपी- ये किस तरह का सत्य है जज साहब। यहाँ अदालत में कुछ और बयान दे रहे हैं और पुलिस को कुछ और।

आदित्य- हाँ यही सत्य है। ये बात सही है कि मैं रीतिका को दस साल पहले मिला था। मैंने उस समय एक नया व्यवसाय शुरू किया था आयात-निर्यात का। मेरे पास पूँजी की कमी थी तो मैंने रीतिका से मदद माँगी। चूँकि मैं और रीतिका कॉलेज में साथ-साथ पढ़े थे तो उसने मेरी मदद की। मेरा पूरा ध्यान अपने कारोबार पर था। मैंने अथक परिश्रम से अपनी कंपनी खड़ी की। उसके पैसे मैंने वापस कर दिए।

रीतिका एक साइको थी जिसे अपने किसी भी काम को जूनून के रूप में लेने की आदत थी। पता नहीं वह कब मुझे पसंद करने लगी मुझे पता ही नहीं चला। इसी बीच मैंने एक संस्था खोली जो गरीब और असहाय बच्चों को शिक्षा देने का काम करती थी। मेरा देखा-देखी उसने भी एक ट्रस्ट बना लिया। चूँकि उसके पास पैसों की कमी थी नहीं। उसकी ट्रस्ट चल निकली। देश-विदेश की नामी-गिरामी कई शैक्षणिक संस्थाएँ उससे जुड़ गई।

अकूत संपत्ति होने के बावजूद उसने सामाजिक कार्यों की आड़ में उसने गलत काम करने शुरू कर दिए। उसने एक बार मुझे विदेशी बैंक के सीईओ से मिलवाया और खाता खुलवाने के लिए कहा तो मैंने मना कर दिया।

मैं अपने देश की मदद करना चाहता था न कि किसी विदेशी बैंक से मिलकर गलत काम। इसके लिए वो मुझपर दबाव बनाने लगी। मैने उसे समझाने की कोशिश की लेकिन सब व्यर्थ। मैं उसके पागलपन को जानता था।

हद तो तब हो गई जब उसने मुझे धमकी देनी शुरू कर दी कि अगर मैंने उसकी बात नहीं मानी तो वो मेरे सारे धन्धे को चौपट कर देगी और मेरी संस्था को मिलने वाले अनुदान को भी बंद करवा देगी।

मैं अपनी खुद्दारी के साथ कोई समझौता नहीं करना चाहता था। इसलिए मैंने सारे कारोबार और शैक्षणिक संस्था बंद कर दिया और इस शहर में चला आया। कड़ी मेहनत के बाद मैंने पुलिस फोर्स जॉइन कर लिया और अंततः क्राइम विभाग।

यही मेरी कहानी थी मीलॉर्ड। ये सही है कि मेरे रीतिका के साथ पुराने ताल्लुकात रहे हैं। लेकिन मैने उसका खून नहीं किया। भला मैं उसका खून क्यों करूँगा।

पीपी- उसकी संपत्ति हड़पने के लिए। सारे शहर को पता है कि उसके पास अकूत संपत्ति थी और आपके पुराने ताल्लुकात भी थे उससे और आपसे बेहतर उसके सारे राज कौन जान सकता है।

संबंध तो कमिश्नर साहब से भी रहे हैं सर अगर आपकी अनुमति हो तो मैं कमिश्नर अग्नेय त्रिपाठी से कुछ सवाल पूछना चाहता हूँ। आदित्य के वकील शशांक मनोहर ने कहा।

अनुमति मिलने के बाद पुलिस कमिश्नर अग्नेय त्रिपाठी कठगरे में आकर खड़े हो गए और गीता पर हाथ रखकर सच बोलने की सौगन्ध खाई।

शशांक- कमिश्नर साहब। मैं आपसे कुछ सवाल करना चाहता हूँ उम्मीद है कि आप सच बोलेंगे।

कमिश्नर- (मुस्कुराकर) जी जरूर।

शशांक- आपसे जानना चाहता हूँ कि आप रीतिका खन्ना को कब से जानते थे।

कमिश्नर- (हिचकिचाते हुए) ये कैसा सवाल है। जाहिर सी बात है कि जब से मेरी पोस्टिंग कमिश्नर के पद पर हुई है तब से।

शशांक- (मुस्कुराते हुए) ठीक से याद कीजिए सर।

कमिश्नर- (हिचकिचाते हुए) मुझे अच्छी तरह से याद है।

शशांक- तो फिर ये क्या है।

शशांक ने एक फोटो कमिश्नर को देखते हुए जज साहब की तरफ बढ़ा दी। सारे रूम में सन्नाटा छा गया। सबकी धड़कने बढ़ गई कि आखिर उस फोटो में क्या है।

जज साहब- (फोटो देखते हुए) मिस्टर त्रिपाठी। आप तो कह रहे हैं कि आप रीतिका खन्ना से इस शहर में आने के बात मिले थे। पर इस फोटो में तो आप रीतिका खन्ना के साथ दिख रहे हैं और आपके नाम के आगे एसपी लिखा दिख रहा है।

कमिश्नर- (सकपकाते हुए) मुझे नहीं पता कि ये फोटो इन्हें कहाँ से मिली और कैसे मिली। हो सकता है कि तस्वीर के साथ कुछ छेड़छाड़ की गई हो। पर इससे कहाँ साबित होता है कि मैंने ही रीतिका का कत्ल किया है। ये भी हो सकता है कि किसी पार्टी में ये तस्वीर खीची गई हो जिसमें हम दोनों की तस्वीर साथ में आ गई हो।

शशांक- (मुस्कुराते हुए) जी जज साहब ये हो सकता है कि तस्वीर के साथ छेड़खानी की गई हो। ये भी हो सकता है कि इत्तेफाक से दोनों लोगों की तस्वीर साथ में आ गई हो। लेकिन इसे कैसे झुठला सकेंगे कमिश्नर साहब।

इतना कहते हुए शशांक ने एक वीडियो कैसेट जज साहब की ओर बढ़ाया और अदालत में दिखाने का आग्रह किया। अदालत में वीडियो को दिखाया गया। जिसमें साथ-साथ दिखाई-सुनाई दे रहा था कि कमिश्नर हँस-हँस कर रीतिका खन्ना से बातें कर रहे थे। जज साहब ने कमिश्नर की ओर देखते हुए कहा।

जज साहब- मिस्टर त्रिपाठी आपने अदालत से झूठ बोलकर अदालत की तौहीन की है। अदालत में झूठ बोलने के एवज में आपको सजा भी हो सकती है।

जज साहब की बात सुनकर कमिश्नर का चेहरा उतर गया। उन्होने हाथ जोड़ते हुए कहा।

कमिश्नर- मीलॉर्ड। मुझे इस बात के लिए माफ कर दिया जाए कि मैंने रीतिका खन्ना से मिलने की बात छुपाई, पर मैं ये भी कहना चाहूँगा कि सिर्फ बात कर लेने या मिलने से ये साबित नहीं होता कि मैंने ही रीतिका की हत्या की है।

पीपी- आई ऑब्जेक्ट योर हॉनर.. जज साहब मेरे मुवक्किल को जबरन इस केस में घसीटा जा रहा है। उन्हें फँसाने की कोशिश की जा रही है। कल को अगर मेरे या आपके साथ भी रीतिका खन्ना की जान-पहचान निकल आई तो क्या मुझे या आपको भी रीतिका खन्ना का हत्यारा घोषित कर दिया जाएगा।

शशांक- नहीं जज साहब मैं ये नहीं कह रहा हूँ कि सिर्फ जान-पहचान होना ही हत्यारा साबित करता है किसी को। इस बिना पर तो मेरे मुवक्किल भी हत्यारे साबित नहीं होते। लेकिन अभी भी मेरे कुछ और सबूत हैं जो इन्हें गुनहगार साबित करते हैं।

मैं अदालत में इनके एक पुराने साथी और मददगार मिस्टर चतुर मिश्रा जी को बुलाना चाहता हूँ। जो इनके सहकर्मी हैं।

इजाजत मिलने के बाद मिस्टर चतुर को दूसरे कठघरे में बुलाया गया। शशांक ने उन्हें कसम दिलाई।

शशांक- मिस्टर चतुर मैं कुछ कहूँ या आप खुद ही सच्चाई बताएँगे।

चतुर- जज साहब। मुझे जितनी जानकारी है मैं सब सच-सच बताने के लिए तैयार हूँ।

हाँ मैंने कमिश्नर साहब का सहयोग किया है। चूँकि ये मेरे सीनियर थे तो मुझे इनकी मदद करनी पड़ी। मैंने इनके कहने पर आदित्य से एक कागज का टुकड़ा छीनकर भागा था पर मुझे पता नहीं था कि उस कागज के टुकड़े में क्या था। मैं बस इतना ही जानता हूँ कि मैंने जो भी किया इनके अंडर में रहने की एवज में किया।

ठीक है आप जा सकते हैं। कहकर शशांक ने चैतन्य को बुलाने की इजाजत माँगी। कुछ देर में चैतन्य कठघरे में था। शशांक ने उसे शपत दिलाई।

शशांक- सर क्या आप बता सकते हैं कि उस कागज में क्या लिखा था।

चैतन्य- जज साहब मैं उस कागज के बारे में कुछ कहने से पहले कुछ और बताना चाहता हूँ। रीतिका मर्डर के बाद मुझे और आदित्य को उस केस को सुलझाने का काम सौंपा गया था। जिस समय रीतिका के लाश का पंचनामा तैयार किया जा रहा था उस समय वहाँ पर कमिश्नर साहब भी मौजूद थे।

मुझे वहाँ पर दो चीजें मिली थी। कूड़ेदान में वो कागज का टुकड़ा और एक डायरी जिसमें किसी ने रीतिका की हत्या की गुत्थी सुलझाने के लिए हमारे लिए एक चैलेंज छोड़ा था। जिसपर लिखा था

R.A.T. C.A.T.

मैने और आदित्य ने इस गुत्थी को सुलझाने में बहुत मेहनत की और एक-एक अक्षर की बारीकी से जाँच की।

R का अर्थ रीतिका

A.T. का अर्थ था अकाडमिक ट्रस्ट, लेकिन CAT का अर्थ नहीं मिल पाया था। हम किसी ठोस नतीजे तक पहुँचे भी नहीं थे कि अचानक कमिश्नर साहब वहाँ पहुँच गए। कमिश्नर साहब ने कहा कि अतिंम के दो अक्षर A.T. का मतलब कहीं आदित्य ठकराल तो नहीं।

तब हमारे दिमाग में किसी का नाम फिट करने की बात कौंधी, चूँकि डायरी का हम दोनो के अलावा किसी को नहीं पता था। फिर इन्हें R.A.T. C.A.T. के बारे में किसने बताया। जिसके कारण हमारा शक इनके ऊपर गया। मुझे तो लगता है कि

C. का अर्थ चतुर है और

A.T. का अर्थ अग्नेय त्रिपाठी है।

मतलब ये डायरी अग्नेय त्रिपाठी की ही चाल हो सकती है।

अब आते हैं उस कागज के टुकड़े पर। उस कागज के टुकड़े पर हमें कुछ लिखी हुई राशि के चिह्न नजर आए। हमने इंफ्रा रेड तकनीक की सहायता से देखा तो पता चला कि उसमें 100 मिलियन डॉलर के लेनदेन का जिक्र था।

इतनी बड़ी रकम आखिर किसके साथ लेन-देन कर सकती है रीतिका। इसी की जानकारी लेने हम रात को दोबारा रीतिका के घर गए। जहाँ कमिश्नर साहब और चतुर जी पहले से मौजूद थे।

जहाँ रीतिका की हत्या हुई थी उसके बगल वाले कमरे में आदित्य की कमिश्नर साहब के साथ झड़प भी हुई थी। कमिश्नर साहब को पता ही नहीं चला की इस झड़प में कब रीतिका की पार्टी वाली तस्वीर नीचे गिर गई जिसमें इनकी फोटो भी थी। शायह वही हासिल करने के लिए ये वहाँ पर गए थे।

जिस कागज के टुकड़े पर 100 मिलियन डॉलर का हिसाब-किताब था उसके असली कागज की तलाश में कल रात मैं कमिश्नर साहब के घर गया था तो गद्दे के नीचे मुझे वो असली कागज मिला। जिसमें लिखावट कमिश्नर साहब की है। जिससे ये क्लीयर हो गया कि रीतिका और कमिश्नर साहब के बीच 100 मिलियन डॉलर का लेनदेन हुआ है। अब उन्होंने रीतिका की हत्या क्यों की ये तो वही बता सकते हैं?

पूरे कमरे में सन्नाटा छा गया। सभी साँसे थामे बैठे थे। केस कभी आदित्य की तरफ मुड़ता तो कभी कमिश्नर की तरफ। कभी कातिल आदित्य लगता तो कभी कमिश्नर।

आई ऑब्जेस्ट योर हॉनर..। पता नहीं त्रिपाठी सर से क्या दुश्मनी है क्राइम विभाग वालों की जो उन्हें फँसाना चाहते हैं। पर इतना जरूर है कि वे कमिश्नर साहब को एक फर्जी केस बनाकर, झूठे गवाह और सबूत पेश कर जानबूझकर कातिल साबित करने चाह रहे हैं। पब्लिक प्रोसिक्यूटर ने उठते हुए कहा।

ये आप किस बिनाह पर कह सकते हैं। क्या आपके पास कोई सुबूत है। जज साहब ने प्रोसिक्यूटर से कहा तो वकील ने मुस्कुराते हुए कहा।

पीपी- है जज साहब। एक ठोस वजह है। अभी चैतन्य जी ने कहा कि इनके पास दो सबूत हैं। एक वह कागज का टुकड़ा और दूसरी वह डायरी। जिसपर इनका कहना है कि इस डायरी के माध्यम से कमिश्नर साहब ने इनको चैलेंज किया और उस 100 मिलियन डॉलर वाले कागज पर लिखी लिखावट उनकी ही है जो उनके गद्दे के नीचे से निकली थी।

फिर तो दोनो लिखावट मिलानी चाहिए। इसलिए मेरी दरख्वास्त है कि किसी राइटिंग एक्सपर्ट को बुलाकर कागज, डायरी और कमिश्नर साहब तथा आदित्य की लिखाई का मिलान किया जाए।

जज साहब ने ध्यान से कुछ देर सोचा और किसी राइटिंग एक्सपर्ट को बुलाने का कह मध्यान्तर बाद कार्रवाई जारी रखने का कहकर अपनी जगह से उठ गए। सभी लोगों में कानाफूसी होने लगी। कमिश्नर और आदित्य को पुलिस ने अपनी गिरफ्त में ले लिया।

लगभग एक घंटे बाद सुनवाई फिर से शुरू हो गई। कोर्ट रूम शांत था। सामने ही एक राइटिंग एक्सपर्ट बड़े ही ध्यान से सभी लिखावट का मिलान कर रहा था। उसने अपनी रिपोर्ट बनाई और जज साहब को थमा दिया। खामोशी से रिपोर्ट देखने के बाद जज साहब ने फैसला सुनाया।

जज साहब- तमाम सबूतों, गवाहों और राइटिंग एक्सपर्ट के किए गए जाँच के आधार पर अदालत इस निष्कर्ष पर पहुँची है कि मिस्टर आदित्य ने ही रीतिका खन्ना की हत्या की है। इसलिए उन्हें दफा 302 के तहत उम्रकैद की सजा सुनाई जाती है।

पुलिस कमिश्नर त्रिपाठी को रीतिका की हत्या की साजिश रचने, हत्या का प्रयाश करने और उनकी संपत्ति हड़पने की साजिश में पाँच साल की सजा दी जाती है और सरकार को ये आदेश देती है कि उनकी बेनामी और अवैध संपत्ति को जब्त करे एवं समिति द्वारा इसकी जाँच करवाए। रीतिका खन्ना की हत्या आदित्य ने क्यों की इसका खुलासा वह स्वयं करेंगे।

जज साहब के फैसले के बाद वहाँ एक भूचाल सा आ गया। लोग कानाफूसी करने लगे।

इधर आदित्य कटघरे में खड़ा था। उसे विश्वास नहीं हो रहा था कि इतनी सफाई से सबकुछ करने के बाद भी वह पकड़ा जाएगा। लेकिन कातिल कितना भी चालाक क्यों न हो कोई-न-कोई सुराग जरूर छोड़ देता है। काश वो अतिउत्साह में वो डायरी वहाँ पर नहीं छोड़ता तो आज वह नहीं बल्कि कमिश्नर त्रिपाठी को उम्र कैद होती।

जज साहब...। मैं अपना गुनाह कबूल करता हूँ।

कहानी तब शुरू होती है जब मैंने अपना छोटा सा आयात-निर्यात का व्यवसाय शुरू किया था। बिजनेस में नया होने के कारण मेरी मदद रीतिका खन्ना ने की। जब मेरा बिजनेस चल निकला तो मैंने उसके पैसे वापस कर दिए। मैंने एक अकाडमी खोली जो गरीब और कमजोर बच्चों को शिक्षा देने का काम करती थी। देखा-देखी रीतिका ने भी एक अकाडमी खोल दी। रीतिका एक साइको थी जो मुझे प्यार के नाम पर जबरन शादी के लिए दबाव डालने लगी।

मेरे लाख समझाने के बाद भी वो नहीं मानी बल्कि मुझे ब्लैकमेल करने लगी। मेरी दोस्ती को प्यार का नाम देने लगी। मेरी अकाडमी के विरुद्ध वो अपने पैसे और ताकत का इस्तेमाल करने लगी। उस समय कमिश्नर साहब वहाँ के एसपी हुआ करते थे। जो बहुत ही कड़क पुलिस अधिकारी थे। मेरी उनकी जान-पहचान नहीं थी, बस पार्टियों में कभी-कभी मिलना हो जाता था। बाद में पता चला कि उनके संबंध कई अंतर्राष्ट्रीय अपराधियों के गिरोह से था।

रीतिका की मनमानी के कारण मैंने अपना व्यवसाय बंद करने की कोशिश की तो उसने यहाँ भी अपना अड़ंगा लगा दिया और मुझसे शादी के लिए दबाव डालने लगी। मेरे इनकार करने पर उसने मेरे खिलाफ कई तरह के आरोप लगाए और मुझे झूठे केस में फँसा दिया। मेरी माँ ये सदमा न सह सकी और उनकी हृदयघात से मौत हो गई।

उस समय चैतन्य ने मेरा साथ दिया और केस रफा-दफा करवाया। मैं उसके साथ इस शहर चला आया और अथक मेहनत से पुलिस फोर्स जॉइन किया और फिर क्राइम विभाग का बेस्ट ऑफीसर बना।

पर दुर्भाग्य ने मेरा पीछा नहीं छोड़ा और अरसे बाद एक केस के सिलसिले में मेरी मुलाकात फिर रीतिका से हो गई जो सामाजिक कार्यकर्ता और पत्रकार बन चुकी थी। उसके बाद उसकी मनमानी फिर से शुरू हो गई। एसपी त्रिपाठी अब कमिश्नर बन चुके थे और एक अलग रुतबा था उनका अब।

उनके पास इतना पैसा कहाँ से और कैसै आया ये पूछने की हिम्मत डिपार्टमेंट को नहीं थी। पता नहीं क्यों ये जानने के बाद कि रीतिका और कमिश्नर के बीच अवैध ताल्लुकात हैं, इसी रीतिका की वजह से मेरी माँ की मौत हुई। इसी वजह से मुझे अपना शहर छोड़ना पड़ा, मुझे उसकी जान लेने के लिए मजबूर कर दिया।

मेरी योजना तब पूरी होती हुई नजर आई जब शराब के नशे में मिस्टर चतुर ने ये बताया कि कमिश्नर रीतिका की संपत्ति हड़पने के लिए उसे मारने वाले हैं। मैंने पुलिस को गुमराह करने के लिए वो पहेली लिखी और डायरी रखने जब रीतिका के घर गया तो वहाँ किसी बात को लेकर रीतिका और कमिश्नर के बीच बहस हो रही थी। बहस इतनी बढ़ गई की कमिश्नर ने बंदूक निकाल ली और गोली चला दी। लेकिन उनका निशाना चूक गया ठीक उसी समय मैंने साइलेंसर लगी बंदूक से उसपर गोली चला दी।

कमिश्नर को लगा कि उनकी गोली लगी है रीतिका को तो वो उसकी लाश का मुआयना करने लगे। मैंने डायरी चुपचाप टेबल के दराज में डाल दी और छुप गया। डायरी कमिश्नर ने भी देखा लेकिन किसी काम का न जानकर वहीं छोड़ दिया और जिस कागज पैड पर 100 डॉलर की डील हुई थी उसे फाड़ लिया। लेकिन गलती से उसके तीन पेज फट गए तो दो पेज को कमिश्नर ने मोड़कर कूड़ेदान में डाल दिया।

चैतन्य मेरा बहुत अच्छा मित्र है, लेकिन उसका इसमें कोई हाथ नहीं है। सारा गुनाह मेरा है। मैंने मेरी जिंदगी बरबाद करने वाली, मेरी माँ की कातिल को बदले की भावनावश मारने का प्लान बनाया।

पूरा कोर्ट रूम गहरे सन्नाटे में डूब गया। चैतन्य भावनाशून्य होकर एक टक आदित्य को देखे जा रहा था।

लोगों की समझ में नहीं आ रहा था कि गुनहगार कौन है? क्या रीतिका अपनी मौत की जिम्मेदार खुद है? क्या आदित्य ने रीतिका की हत्या करके सही किया? यही एक विचारणीय प्रश्न था जिसे सारे लोगों को सोचना था।

1645679009435

समाप्त
 

Aagasthya

Wreck everyone and leave..
Staff member
Sectional Moderator
Messages
15,715
Reaction score
6,937
Points
143
...Woh bhi kya din thee...

Jab barrish hoti thi to kaagaz ki naav tairaane chale jaate thee.. hawaayi jahaaz bana kee apne aap poora Ghar mein udaate thee.. dusro kee Ghar ki ghanti Baja ke fauran bhaag jaate thee.. aada paada kisne paada karke accuse declare kr diya karte thee.. 5 baje dragon ball , Aur 5:30 baje Pokemon aaya karta thaa T.V pee..superhero mein apna Wolverine hi thaa hamesha see favourite..
Tab Shak lak boom-boom ki magic pencil hee apni dream hua karti thi..
Tab zindagi bohot hee simple aur haseen hua karti thi..Raja mantri chor sipaahi kheelne kaa ekk alag saa addiction hua karta tha..T.V shows bhi Pahele bade kamaal ke aate thee.. cartoon bhi dekho tab kee kitne hasaate the..jiska bat uski batting hoti thi..chupan-chupaayi mein pukam hua karta tha..Thoda saa udaas hone pee choclate mil jaati thi aur school jaane se pahle 5 ₹ milnee pe duniya Jeet Li jaati thi..
Ekk pal mee shaitan aur dusre hi pal mein masoom hoo jaate thee...Hum uss time Malik thee apni marzi kee. Jahan sab logg zindagi ki buraayiyan kr rahe hote thee wahi hum ghar-2 khelne mein busy thee.
Agar apna birthday hoo toh Best friend ko 4 toffies aur classmates ko 2 uss din sab pata chal jaata tha kon-2 h apna asli dost.
Fevicol ungliyon pee giraake uskee sookh jaane ke baad compas see uska operation kiya karte the..
Uss time apni cycle pee baithke aaj puree 10 gharo ki ghantiyon ko Baja kr bhaagne hai yahi ekk lautaa mission hua karta tha.
Aur apni Omnitrix pehen kee bilkul Ben 10 wali feel aati thi..Undertaker 3 baar mar chuka h..yeh baat bhi tab Maan li jaati thi..Yeh woh umar thi jaha pee agar ladka ladki kee saath baithaa diya jaata hoo too usse punishment Maan liya jaata tha..
Agar kuch atpata kr doo toh haww jii puppy shame kr ke bejjati maari jaati thi..
Bol pencil, Teri shaadi cancel iss sharrarat mee bhi bada maza aata tha..bol ekk tere kacche mein cake..kuch yeh kah kr phir badla liya jaata tha..
16 parchi dhapp hone ki khushi badi alag hoti thi..
Ekk woh jamaana tha jab card mein John Cena ki rank no. one hua karti thi..aur raat me sofe pe sote the..aur phir jagna bed pee hota tha..samajh hee nahi aata tha ye aisaa jaadu rooz-2 kaise hota tha..Abba bolne see friendship ho jaati thi aur katti bolne see breakup..
Class see nikal kee race lagaate thee ki kaun pahele pahunchata h washroom tak..
Ajeeb-2 baato pe vishwas kr lete thee..aur ekk baar sar takrane see kaala kutta kaat leta hai isliye Jaan kr dusri baar bhi takkar maar lete thee...
Vidya kasam kisi koo dee doo too matter aur baatein dono hi serious hone lag jaati thi..
Garmiyon mee pipe see cooler mee paani bharte waqt khud bhi naha liya karte thee..
Pipe ke muh ko ungli see band kr kee apne liye ekk choti sii barrish bana liya karte thee. Zyada demand nahi hoti thi apni bas ekk achha saa pencil box bahutt tha humare liye...
Khaoo piyo aur soyo koi kuch nahi kehta tha..kyonki tab nadaniyan karna hi humari job hua karti thi.
Tab lagta thaa yeh gaane filmo mee khud ussi waqt gayee jaa rahe hain..samajh nahi aata tha ki itnee jaldi-2 inke kapde kaise badle diye jaa rahe hai..
Chutti ki bell bajti thi aur uske baad ekk haath me
O'Yes aur dusre haath mee fruitchill hua karti thi..
Tab kee samay me pubg wagira nahi tha yaar contra kaa level 2 karna hee mushkil hota tha..kadi dhoop mee jab ghar mee sab soo jaate thee tab hum bahar khelne nikalte thee...tab undino Humpee garmi kaa koi asar nahi hota tha..Yaa too tab hum zindagi jeena dhang see aur achhe see jaante thee..
Naa kamaane ki tension aur naa zamaane kaa dhukh..bass mauj bhari zindagi thi..ab ehsaas hota hai bachpan mee bade hone ki soch apni sabse galat ekk zidd hua karti thi..Aaj lagta h bachpan mein laut jaye..Tab lagta tha thakab jawaan hoo Jaye. Aaj jimmedaariyan hain tab khilkaariyan sunn ke sotee the..Ab apni hi kahaaniyon pr rote hain. Pahele to hr din tyohaar saa lagta thaa..Aur ab khush hone ke liye tyohaar chahiye hota hai..Tab sab kuch suljha saa tha koi uljhan nahi thi...dil mein kevel dhadkan thi koi tadpan Nahi thi..Tab Baste kaa wazan zyada tha aur sar pee boj halka saa..
Aur aaj baste khali ho gye h..lekin dimag bilkul bhara saa..bohot sukoon mein waqt beetaya maaza aaya Zindagi kaa..pahle Takeshi's castle dekhte the..pogo pee aur D*sn*y pee Art Attack kaa intezar rehta tha...
Javed jefree see alag pyaar rehta tha. Aur Mr. Bean T.V pe kam aur dil mee jayada rehtaa tha..
Aaj kal ka bachpan bachho ka yeh phone vegereh pe nikal raha hai..Main bhagwaan kaa shukraguzaar hu ki Mera apna bachpan-bachpan jaisa guzra hai...



Toh bachpan mee naa stationary kee items dekh kee meri ankhon mee aisi chamak aa jaati thi.. Naa...kii bass...puchho Matt..
Khair mere uss time kee favourite colours thee pencil colours ,
Ye joo pencil colours ka dabba naa bilkul zindagi kee jaisaa hi hota hai..usme saare rang hote hai..jisme see kuch rang Hume bahut pasand hote hai , Aur kuch bilkul hee naa pasand hote hai, jab mai chotta thaa..Toh apne pencil colours ke dabbe mee see white colour ko nikal ke aisee phankk deta thaa..naa...jaise ki koi apni zindagi see kisi insaan koo bedakhal kr deta hoo, kaafi casually..
Tumhee yaad hai bachpan me hum voo games khela karte thee like :-
Chor police , khoo-khoo , pithuu , kabadi , barff paani , Maram pitti..Aur cricket off course...yaar..

To yee kahani meri nahi hai, Tumhari hai aur agar abhi aap ko iss baat pee yakin nahi aata too iss kahani kee anth tak yakin ho hi jayega...
To dopeher ke karib 12 baje rahe the , Dev Nagar Aur Bapaa Nagar ke Tamaam logo see ground kacha kach bhara hua tha saamne Taraf thee Dev Nagar ke 11 players aur iss taraf thee humare muhalle ke 11 launde , Bachha thaa sirf 1 over Aur run banaane the 15
Crease pee maujud thee hum sharma khandaan kee 2 Roshan chirag Rishu Sharma aur Alok Sharma..
Yaani ki monu bhaiya aur mai , kabiliyat aur record ke hisab see bhaiyaa team ke captain thee.. Aur mai Extra...
Haa..dekho yaar ab kya hee judge karoge aur shandar.. Aur yee hota bhi h naa. Ekk Ghar me doo bachhe hote h too ekk ko meetha pasand hota h , to dusre koo namkin pasand hota hai, vaise hee..
Thii Yeh humari jodi..jaise ki Mere ko literature pasand hai , Aur vahi bhaiyaa ko sports, To humari jodi kuch Kapil Dev Aur Kabir Dass jaisi thi..
Jisme unkee ekk haath me balla thaa Aur vahi mere ekk haath me kalam thii.. Aur saamne bowling kr raha tha Manpreet Thapa 18 saal ka Punjab kaa naujawaan jiski tezz raftaar ki wajah see usee Dev nagar Express kaa darjaa Dee diya gya tha..
Usse clean bowled karne kaa naa sirf kewal shauk thaa balki usii ki bhukkh bhi thi , uski iss speed see itnaa Darr lagtaa thaa Naa..itnaa dar lagta tha Naa..
Ki Agar uski koi bhi tezz raftaar gendd kisi aadhe thedhee aang pee padd gyi naa , too beta aage aane wali nasloo pee sawal uthnee lagg jaayenge..
Aur Ye match bhi too jeetna tha , kyonki Jeet gye naa to bas..
Aur agar harr gye , to yaar joo apne muhalle ki joo voo sadak hoti hai naa..
Haa..wahi Joo apne baap ki hoti hai.. Naa ..Toh uspee itni respect nahi milegi yaar. Aur phir Manpreet Thapa nee bowling kaa ishara kiya aur usne kaha.. Right arm full pase over the wicket phir bowling karne ke liye apna run-up lena chalu kiya. Voo jaise daudd kee aa raha raha tha naa toh aisaa lag raha thaa Naa ki koi rajdhani express kaa koi engine chal ke aa raha hoo, Aur crease pee thee apne bhaiyaa jaise hee bowl aai bhaiyaa nee turrant apne balle ki madad see bowl dhakeli cover ki taraf Aur mujhe kaha ki Aaluu 2 run bhaag... Haa mere ghar kaa naam Aaluu hai , mujhe lagtaa hai..naa ki joo apne yee maa baap hote hai naa voo..pet names issi liye rakhte h taaki bhare jamaane me hum... U know naa..
Varnaa ekk naam see.. naa.. Apni zindagi bade aaram see kaati jaa sakti hai..Khair unhone kaha ki
Aaluu... Bhaag.. aur sala mere andarr see awajj aai bhaag kachar bhaag..
Mai kisi tarah bhaag kee 2 run Lee kee crease pee paunctaa hu..
Aur issi baat ki jhunjhulahat thapa ke chahere pee saaf nazar aa rahi thi ab pata thaa joo agli bowl aane wali h naa.. uspe sarwanash aur intekam..dono ekk sath likha hua tha..
Aur iss ekk bowl ke baad ab bowl bachi h 5.. Aur run banaane h 13 Manpreet ne doobara apna run-up lena chalu kiya..
Iss baar gendd ki raftaar aur bhi tezz aur ankho me gussa aur bhi jayada..Aur usne jaise hi bowl daali bhaiyaa nee seedha uss bowl pee chakka laga diya..
Aur mujhe pass bula ke kaha sunn idhar aa jara..
Ye joo crowd me naa mujhe kritika Bakshi dikhai Dee rahi hai..bada khush hoo Rahi hai tere run banaane pee case kya hai..batauu kya papa ko...
Phir maine kaha suniyee crowd me naa mujhe khushi didi bhi dikhai Dee rahi hai... Aur iss baar joo aap ne chakka lagaya hai naa unke sirr ke upar see..
Aur uss taraf Joo bat dikhaya hai...naa..
Aur mai itnaa bol ke chupp ho gya..
Phir Unhone kaha ki jaa udhar Jaa ke chup chap khada hoo Jaa...
Maine apni batissi dikhayi aur wapas Jaa ke waha khada ho gya..
Main Aisa kuch bolna nahi chahta tha lekin ab bhaiya ladki ko beech me Lee hi aye the too mujhe bhi Lana hi pada..
Warna Mera Aisa koi intention nahi tha Aisa kuch bolne kaa..

Khair iss romantic owkward conversation kee baad ab bowl bacchi h 4 aur run bannane h 7..
Aur hamari virodhi team iss baar koi nayi ranneeti discuss kr rahi thi...Aur bhaiyaa apne gloves tight kr raha thaa..Aur jaise hi Manpreet ne iss baar bowl daali..Aur voo bowl ho gyi bhaiyaa see miss..
Manpreet aadhe pitch tak chal kr aya aur kaha ki kyon Ram aur Lakhan.. bowl nahi dikh rahi hai kya..
Too Yee ab tak naa maidaan me khel chal raha tha..
Par ab honi thi Jung..
I mean tum ekk hee ghar kee doo bade mardoo kaa ego ekk saath hurt kr kee yunn sabutt too nahi jaa sakte naa..

( Ekk baar ko khyaal aya ki issi bat see thapee ko maar-2 ke uski khopdi khol deta duu..lekin saamne dekha too sala bhaiyaa bhi vahi thaa.. agar mai aisaa kuch karta toh vo Ghar pee papa ko bata deta aur phir Mera baap mere ko hi kutt deta...too ye plan drop kr diya)

Aur iss dot bowl ke baad bowl bachi h 3 aur run banaane h 7.. Manpreet ne dobaara apna run-up lena chalu kiya.. Aur bhaiyaa bhi apna stance Lee raha thaa...
Aur jaise hi bowl aai bhaiya nee apne bat ki madad see usse gap ki taraf dhakela aur mujhe kaha bhaag..
Mai bhaag ke 1 run liya..aur tabhi kisi nee Durr see bowl wicket ke taraf throw kr ke maari.. Aur bowl ho gyi ower throw..
Aur bhaiyaa ne kaha dekh kya raha h doobara bhaag....
Mai jaise hi bhaag ke apni wicket ki taraf paunchaa aur phir palat kee dekha.. Toh dekha bhaiyaa ki killi udd chuki thi..
Aur bhaiyaa ho chuka tha run out..maidaan me ekdum see hatasha aur nirashaa ke badal umad pade thee..
Aur maidaan me sab hatash aur nirash baithee hue thee..aur sirf uss ground me kuch virodhi team ke samarthak aur khud virodhi team hee khush nazar aa rahi thi..
Aur phir bhaiya mere pass aya aur kaha kii sunn sambhal lenaa..

( Aaji l*nd mera aisaa mai boltaa agar bhaiyaa ki jagah agar koi aur hota too issi liye nahi bola)

sambhal lenaa..kitna zimmedari bhara sabd hota hai naa..
Aur agar aap kaa koi bada bhai yaa badi behen hai too actually aap ko zimmedari sabd kaa asal matalab kabhi samajh hi nahi aa sakta..kyon ki ghar kee saare zimmedari wale hisse kaa Kamm usse jaate thee aur saare majdoori wale hisse kee kaam mujhee.. Mummy hum dono ko bazar bhi bhejti thi Naa..Toh paise usse deti thi aur Thailaa mujhe deti thi..
Baaki agar voo kabhi bahar Jaa Raha hoo..Toh uski T-shirt iron kr dena..uski bike saaf kr dene..
Ye sab waqt ke fasloo nee mujhee yee sab kaam soup hee diye thee.. Khair ab iss bowl ke saath bowl bachi h 2 aur run banaane h 6. Aur batting karne aa raha h cheeni. Humari team kaa sabse Chhota Khiladi umar mee bhi aur hunar mee bhi. Uskaa asal naam kuch aur hee thaa..lekin uski choti-2 ankho ke chalte usse humne cheeni-2 kah ke bulaana suru kr diya tha..
Jab voo batting karne aa raha thaa too Usse sab ne bass ekk hee baat kahi thi ki chuu aur bhaag..
Cheeni nee waisa hi kiya jab bowl aai too usne bas apne bat see usse thoda touch kiya jisse voo thodi Durr chali gyi aur maukee koo dekhte hue apni choti-2 tangoo see bhagtaa hua dusri taraf chala gya.. Aur ab bas ekk bowl bachi thi aur mai thaa crease pee aur run banaane thee 5.
Sala kamaal hoti h naa kuch jungee jinmee maaat nahi hoti..
Isi koo dekhte hue yaa too karo yaa too maro Vali istithi thi.. Bahubali dekhi hai aap sab nee. Bahubali mee mujhe woo wala seen yaad aa raha tha jab bahubali jaate-2 Kumar Verma ko khanjar deta hai aur kahtaa hai ki samay har ekk kayar koo ekk surveer banne kaa mauka deta hai. Aur yee sann wahi hai.. croud mee baithi meri muhabbat , Aur muhalle ki izzat Aur bhaiyaa kee wicket kaa badla yee teeno cheeze mere dimaag mee naa ekk saath daud rahi thi..
Manpreet kee mann subee bilkul saaf hoo chuke thee usse bhi pata thaa voo match lagbhag Jeet chuka hai.. voo bass humari bachhi kuchi umeedo koo nistee naabutt karne me laga hua thaa..
Manpreet nee doobara run-up lena chalu kiya iss baar thodi aur kutill smile kee saath..
Mai bhi bilkul tayaar thaa..Ab sala joo bhi hoga dekha jayega bc..Aur usne jaise hi bowl daali maine balla aage kiyaa aur bass yee kahani itni sii hai
Kyon...kyon ki agar maine aap ko bata diya uss ekk bowl pee kya hua...
Toh aap issee mera koi puraana afsaanaa samajh ke bhul jayenge
Aur maine waise bhi kaha thaa Naa yee kahani aap ki hai Khair Apni-2 kahaniyon mee toh aap sab abtak Jeet bhi chuke honge
Aur kritika ke papa see man off the match bhi mil chuka hoga..
Toh yee zindagi bhi Naa kuch.. Naa kuch..cricket jaisi hi hoti hai naa jisme kab koi musibat bownser ke jaise aati hai too koi gugli ke jaise par tum..Tum crease pee datte rehnaa.. Aur aisi paari khel ke jaana ki tumhare chale jaane ke baad bhi..
Logg khade hoo ke taliyaaa bajaate rahe...


The End..
 

Mahi Maurya

Dil Se Dil Tak
Prime
Messages
15,391
Reaction score
34,340
Points
173

🍁🍁🌼कर्मों का फल🌼🍁🍁
✳️✳️✳️✳️❇️❇️✳️✳️✳️✳️

Prefix- Non-Erotica
रचनाकार- Mahi Maurya
(6995 शब्द)

💢💢💢💢💖💢💢💢💢


रात का समय था। मैं अपने कमरे में लेटा सोने की कोशिश कर रहा था, लेकिन मुझे नींद नहीं आ रही थी। ये मेरे साथ आज पहली बार नहीं हो रहा, बल्कि पिछले कई सालों से होता आ रहा था। ऐसा लगता था जैसे नींद ने मेरी आँखों से अपना रिश्ता तोड़ लिया हो

तभी मुझे जतिन के कमरे से अंतरा और जतिन की आवाज़ आने लगी।
जतिन मेरा बेटा और अंतरा मेरी बहू है। जिनकी 3 वर्ष पहले शादी हुई थी। अभी उनको कोई संतान नहीं है। मेरी बहू अंतरा सर्वगुण सम्पन्न स्त्री है। उसके अंदर वो हर गुण मौजूद हैं जो एक पत्नी, बहू, बेटी और माँ में मौजूद होने चाहिए।

कुल मिलाकर अंतरा मेरी पत्नी पूजा पर गई है।
अंतरा को पूजा की कॉर्बनकॉपी कह सकते हैं गुणों के मामले में। पूजा में भी वो सारे गुण मौजूद थे जो एक पति और सास-ससुर को चाहिए। लेकिन मैं बहुत ही बसदनसीब इंसान हूँ जिसने कभी भी उसके गुणों की कद्र नहीं की।।

कुछ देर में अंतरा और जतिन की आवाज़ तेज़ होने लगी। कुछ ही देर में कमरे से मार-पीट की आवाज आने के साथ-साथ अंतरा के सिसकने की भी आवाज़ आने लगी। अंतरा और जतिन की शादी के लगभग डेढ़ साल के बाद ये रोज की बात हो गई थी।

मुझे ये सब बहुत खराब लगता था और गुस्सा भी बहुत आता था, लेकिन मैं जतिन को समझाने के अलावा चाहकर भी कुछ नहीं कर सकता था। मैं आज भी अपने कमरे से निकला और बेटे-बहू के कमरे के पास पहुंचकर तेज़ आवाज़ में कहा।

मैं- ये सब क्या है जतिन। तुम ऐसे कैसे बहू पर हाथ उठा सकते हो। तुम्हारा रोज का यही काम हो गया है। बाहर का पूरा गुस्सा तुम रोज आकर बहू पर उतरते हो। तुम्हें शर्म नहीं आती ऐसी घिनौनी हरकत करते हुए।।

मेरी आवाज सुनकर मेरा बेटा कमरे का दरवाजा खोलकर बाहर आया और मुझपर चिल्लाते हुए बोला।

जतिन- आपसे मैंने कितनी बार कहा है कि आप अपने काम से काम रखा करिए। मेरे मामले में टांग अड़ाने की कोई जरूरत नहीं है। अंतरा मेरी पत्नी है मैं उसके साथ चाहे जो करूँ आप कौन होते हैं मुझे रोकने वाले।

मैं- (गुस्से से) मैं कौन होता हूँ? मैं तुम्हारा बाप हूँ। तुम्हें गलत करने से रोकना मेरा फर्ज है। तुम बहू पर इतना अत्याचार करते हो। तुम्हें शर्म नहीं आती। इतनी अच्छी, सुशील, संस्कारी और रूपवान पत्नी तुम्हें चिराग लेकर ढूंढने से भी नहीं मिलेगी, लेकिन तुम्हें उसकी कद्र ही नहीं है। सुधर जाओ बेटा नहीं तो कहीं ऐसा न हो कि बाद में तुम्हें बहुत पछताना पड़े।

जतिन- आप अपने ज्ञान का पिटारा अपने पास रखिए। मुझे आपकी इन बकवास बातों में कोई दिलचस्पी नहीं है। और क्या बोल रहे हैं आप। आप बाप हैं मेरे। हाहाहाहा। मेरे बाप हैं।

कभी बाप होने का फर्ज निभाया है अपने। कभी मुझे अपना बेटा माना है। हर समय मुझे रोकते टोकते रहते हैं। अगर आप सच में मेरे बाप होते तो मुझे किसी काम के लिए रोकते नहीं। इसलिए अपना ये झूठा प्यार का नाटक मेरे सामने मत करिए। मेरा कोई बाप नहीं है। मेरी सिर्फ माँ थी जो अब इस दुनिया में नहीं है।। समझे आप।

मैं जतिन का दो टूक जवाब सुनकर कोई जवाब नहीं दे पाया, क्योंकि उसके दिलो-दिमाग में बचपन से उसकी माँ ने जो कुछ मेरे बारे में जहर घोला था वो अब अपनी चरम पर पहुंच चुका था इसलिए मेरी कही गई किसी भी बात को वो कभी मानता नहीं था। उसकी बात सुनकर मैंने उससे कहा।

मैं- ठीक है तुम मुझे अपना बाप नहीं मानते। मैं तुम्हारे लिए कुछ भी नहीं हूँ, लेकिन जिसको तुम रोज प्रताड़ित करते हो, जिसको तुम रोज मारते हो। वो तो तुम्हारी अपनी है। तुम्हारी पत्नी है। तुम्हारी अर्धांगिनी है। तुम उसके साथ जानवरों वाला व्यवहार कैसे कर सकते हो।

जतिन- (गुस्से में) उससे आपको कोई मतलब नहीं होना चाहिए। वो मेरी पत्नी है। मैं उसे चाहे मारूँ या प्यार करूँ। आप होते हैं हैं मेरे और अंतरा के बीच बोलने वाले। इसलिए आप हमारे मामले में घुसना बन्द कर दीजिए नहीं तो आपके लिए अच्छा नहीं होगा।

मुझे कुछ भी कहने से पहले जरा एक बार अपनी गिरेबान में झांककर देखिए पापा उसके बाद मुझे अपने प्रवचन दीजिएगा। अब जाकर चुपचाप सो जाइये। मुझे भी आपकी इन पकाऊ बातों से नींद आने लगी है।

इतना कहकर जतिन ने मेरे मुंह पर दरवाजा बन्द कर दिया। मैं अवाक होकर अपने मुंह पर बन्द हुए दरवाजे को कुछ देर देखता रहा, फिर निराश, हताश सा अपने कमरे में आ गया और बिस्तर पर लेटकर अपनी आंखें बंद कर ली।

मेरी आँखों की कोर से आँसू निकलकर तकिए को भिगोने लगे। ये रोज का काम हो गया था। मैं ऐसे ही रोज अपने बेटे को समझाने जाता और उसकी खरी-खोटी सुनकर वापस अपने कमरे में चला आता और लेटकर आंसू बहाने लगता। ऐसा नहीं है कि मैं जतिन की बात सुनकर रोने लगता। अपने लिए रोना तो मैंने कब का छोड़ दिया था।

ये आंसू तो मेरी आँखों मे मेरी बहू अंतरा के लिए अनायास ही निकल पड़ते थे, क्योंकि वो जितनी गुणवान और संस्कारी थी उस हिसाब से वो बहुत अच्छा पति और बहुत अच्छे परिवार की हकदार थी, लेकिन उसकी किस्मत में मेरे निर्दयी बेटे का साथ लिखा था जिसे मैं बदल नहीं सकता था। मैं मजबूर था।

यही सब सोचते हुए कब मेरी आँख लग गई पता ही नहीं चला। रात देर से सोने के कारण मेरी आँख देर से खुली। मैंने उठकर नित्यक्रिया से फुरसत होने के पश्चात स्नान किया और हाल में आकर बैठ गया। जतिन घर में नहीं था वो अपने काम पर चला गया था।

थोड़ी देर बाद बहू ने मुझे चाय और नाश्ता लाकर दिया। मैंने उसकी तरफ देखा तो वो एकदम बुझी सी लग रही थी। उसे इस हालत में देखकर मेरे दिल में एक हूक सी उठी। जो मुझे बिल्कुल भी बर्दाश्त नहीं हो रही थी। बहू की सूजी आंखें और शरीर पर पड़े नीले निशान देख कर मेरा दिल कराह उठता है। मैं कसमसा उठता हूं। पर मैं इतना ज्यादा मजबूर था कि कुछ कर नहीं कर सकता था।

काश अगर आज पूजा होती तो वो जतिन को जरूर समझाती और उसे वो कभी न बनने देती जो आज जतिन बन चुका है। पर पूजा को तो मैंने अपनी ही गलतियों के कारण खो दिया था।

यही सब सोचते-सोचते मेरे दिमाग की नसें फटने लगी। मैं अपने आप से भाग जाना चाहता था, लेकिन नहीं भाग सकता था, क्योंकि नियति द्वारा मेरे लिए सजा तय की जा चुकी थी और वो सज़ा ये थी कि मैं पछतावे की आग में धीरे-धीरे जलूँ और तिल-तिल कर मरूँ।

यही सब सोचकर मेरी आँखों से आंसू बहने लगे। जिसे अंतरा ने देख लिया और वो जान गई कि मैं किसलिए रो रहा हूँ तो वो मेरे पास बैठ गई और बोली।

अंतरा- पापा। ये सब क्या है। आप फिर से रो रहे हैं। मैंने आपसे कितनी बार कहा है कि आप जब रोते हैं तो मुझे बिल्कुल भी अच्छा नहीं लगता। आपको तो पता है कि मैं आपसे कितना प्यार करती हूँ और आपकी आंखों में आंसू नहीं देख सकती। आपने वादा किया था कि आप फिर नहीं रोएंगे, लेकिन आज आपने फिर से अपना वादा तोड़ दिया। जाइए मैं आपसे बात नहीं करती।

इतना कहकर अंतरा मुंह फुलाकर अपना चेहरा दूसरी तरफ करके बैठ गई। अंतरा ऐसे ही करती थी, जब कभी उसकी हालत देखकर मेरी आँखों मे आंसू निकलने लगते थे तो वो ऐसे ही मुझसे रूठ जाया करती थी। मैंने उसे मनाते हुए कहा।

मैं- बेटी। मैं क्या करूँ। मुझसे तुम्हारा ये दुःख और तुम्हारी ये हालात देखी नहीं जाती। तुम्हें इस हालत में देखकर मुझे बहुत तकलीफ होती है। मैं तुम्हारे लिए बहुत कुछ करना चाहता हूँ बेटी, लेकिन मैं इतना मजबूर हूँ कि देखने के अलावा मैं कुछ कर नहीं पा रहा हूँ।

मैं तुम्हारा गुनाहगार हूँ बेटी। मेरे कारण ही तुम्हें ये दुःख और तकलीफ झेलनी पड़ती हैं। मैं न कभी एक अच्छा पति बन पाया और न ही एक अच्छा बाप। हो सके तो मुझे माफ़ कर देना।

इतना कहकर मैंने उसके सामने अपना हाथ जोड़ लिए तो उसने तुरंत मेरे हाथ को अपने हाथों से पकड़कर नीचे किया और न में गर्दन हिलाते हुए बोली।।

अंतरा- ये क्या कर रहे हैं आप पापा। मेरे सामने आप हाथ जोड़कर मुझे लज्जित मत कीजिए। आप हमसे बड़े हैं और बड़ों का हाथ हमेशा छोटों को आशीर्वाद देने के लिए उठना चाहिए न कि उनके सामने हाथ जोड़ने के लिए और किसने कह दिया कि आप एक अच्छे पापा नहीं हैं।

आप दुनिया के सबसे अच्छे पापा हैं। जब मैं पांच साल की थी तभी मेरे पापा हम सबको छोड़कर इस दुनिया से चले गए। तब से मैं अपने पापा के प्यार के लिए हमेशा तरसती रही, लेकिन जब से मैं इस घर में आई हूँ आपने मुझे वो प्यार दिया है जो शायद मेरे अपने पापा भी मुझे नहीं दे पाते। मुझे आपसे पता चला कि पापा का प्यार क्या होता है।

आप ऐसे बात-बात पर आंसू मत बहाया करिए। आप जब मेरे सिर पर प्यार से अपना हाथ फेरते हैं न तो मेरा सारा दुःख-दर्द पल भर में छू-मंतर हो जाता है। इसलिए आप अपने आपको दोष मत दीजिए। मेरी किस्मत में जो लिखा था वो मुझे मिला, इसमें न आप कुछ कर सकते हैं न मैं कुछ कर सकती हूँ।

इतना कहकर अंतरा मुझे देखने लगी। उसकी बात सुनकर मैं किसी सोच में डूब गया और अपने मन में सोचने लगा।

मैं- तुम सच मे बहुत भोली हो बहू। तुम मुझ जैसे घटिया और नीच इंसान को इतना मान सम्मान देती हो। मुझे इतना अच्छा मानती हो। लेकिन मैं इस मान-सम्मान का हकदार नहीं हूँ बेटी। जिस दिन तुम्हें मेरी सच्चाई पता चलेगी उस दिन तुम मुझसे नफरत करने लगोगी। वैसे भी मैंने जो पाप किया है उसके लिए मैं किसी के प्यार और सम्मान का हकदार नहीं हूँ।।

किस सोच में डूब गए हैं पापा- अचानक से अंतरा की आवाज़ सुनकर मैं वर्तमान में वापस आया और बात को बदलते हुए कहा।

मैं- मेरा नाश्ता हो गया है बहू मैं बाजार की तरफ जा रहा हूँ, तुम्हें कुछ चाहिए तो बता दो मैं आते वक्त लेते आऊंगा।।

अंतरा- हां पापा चाहिए न।। आप मेरे लिए समोसा लेते आइयेगा। मुझे बहुत पसंद है।

मैं- क्या बेटी। तुम कुछ और नहीं मंगा सकती हो क्या। हमेशा समोसा ही मंगाती हो।

अंतरा- जो मुझे पसंद है वो मैंने बता दिया है पापा। अगर आपको कुछ और पसन्द हो तो अपनी पसंद का लेते आइयेगा।

मैं- ठीक है बेटी मैं लेता आऊंगा।

इतना कहकर मैं तेज़ी से अपने कमरे की तरफ भागा। मैं और ज्यादा देर अंतरा का सामना नहीं कर सकता था, क्योंकि वो मुझे इतना मान-सम्मान और प्यार देती थी कि मुझे अपने आपसे नफरत होने लगती थी। मैं अपने पापों के बोझ के कारण आत्मग्लानि में जलने लगता हूँ। खुद को बहुत छोटा महसूस करने लगता हूँ और सोचता हूँ कि क्या मैं उस इज़्ज़त का हकदार हूँ जो अंतरा मुझे देती है।।

अपने कमरे में आकर मैंने अपने कपड़े पहने और घर से बाहर निकल गया मैं घर से बाहर ये सोचकर निकला कि शायद कुछ देर बाहर रहने के बाद मेरा मन थोड़ा बहल जाएगा, लेकिन बाहर निकलते ही मेरा मन अतीत के गलियारों में भटकने लगा और मैं अतीत की गहराइयों में खो गया।

*********

मैं जगदीश प्रसाद। बचपन से ही बहुत ही होशियार और कुशाग्र बुद्धि का मालिक था। अच्छा खासा व्यक्तित्व था मेरा। एक लड़की को जो चाहिए होता है लड़कों में वो सबकुछ था मेरे पास। सुंदर से सुंदर लड़की एक नजर मुझे देखकर मेरे बारे में जरूर सोचती होगी ऐसा मेरा मानना था।

मेरे घर में मम्मी पापा और एक बड़ी बहन थी। सभी मुझसे बहुत प्यार करते थे।

घर में पैसों की कोई कमी थी नहीं क्योंकि मेरे बाबा मेरे पापा के लिए बहुत संपत्ति छोड़कर गए थे। खेती बाड़ी भी बहुत थी इसलिए पैसे की कभी तंगी नहीं हुई।। सबकुछ बहुत बढिया चल रहा था। लेकिन किसकी किस्मत में क्या लिखा है ये किसी को पता नहीं रहता।

मैं हमेशा से लड़कियों को सम्मान और आदर की दृष्टि से देखता था, लेकिन मेरी सोच में बदलाव तब आया जब मैंने एमबीए में अपना दाखिला लिया। वहां मेरी दोस्ती कुछ ऐसे लड़कों से हुई जिन्होंने मेरी जिंदगी की दिशा और दशा दोनों बदलकर रख दी।

लोग कहते हैं कि संगत का असर जरूर पड़ता है। ये बात सही है और मेरे मामले में ये बात 101 फीसदी लागू होती है। मेरी दोस्ती ऐसे लड़कों से हुई जो बहुत ही अय्यास और लड़कीबाज़ थे। मैं उनका साथ छोड़ना चाहता था लेकिन छोड़ नहीं पाया। अब इसके पीछे की वजह क्या थी ये मुझे नहीं पता।

चूंकि मैं गांव से शहर एमबीए करने के लिए आया था और वहां की चकाचौंध और लड़कियों को देखकर और अपने दोस्तों की संगत में पड़कर मेरा मन भी लड़कियों के प्रति बदलने लगा।

रही सही कसर एक दिन तब पूरी हो गई जब मैं अपने उन्हीं दोस्तों के साथ एक लड़की के साथ हमबिस्तर हो गया। एक बार मुझे लड़की का जो चस्का लगा तो फिर मैं इसमें डूबता चला गया। पहले जहां मैं लड़कियों के चेहरे से नीचे नहीं देखता था। अब आलम ये हो गया था कि मैं अब लड़कियों का चेहरा बाद में देखता था उसके उरोज कर टांगों के बीच मेरी नजर पहले जाती थी।।

बीतते वक्त के साथ मेरा ये नशा बढ़ता गया और मैं भी अपने दोस्तों की तरह अय्यास और लड़कीबाज़ हो गया। इसके बावजूद मेरी पढ़ाई में कोई कमी नहीं आई और में हमेशा की तरह चारो वर्ष अच्छे अंकों से परीक्षा उत्तीर्ण की।।

पढ़ाई खत्म होने के बाद मैंने अपना खुद का व्यवसाय शुरू किया। जिसमें लड़कियों को रखने की प्रथम प्राथमिकता दी मैंने। मेरे शौक आसानी से पूरे होने लगे। मेरी कंपनी में आने वाली अधिकतर लड़कियों के साथ मेरे संबंध बनने लगे। जो लड़की मेरी बात नहीं मानती थी उसे मैं नौकरी से निकाल देता था।

जिस बात को मैं अपने घरवालों से छुपाना चाह रहा था आखिर वो बात उन्हें पता चल ही गई। उस दिन पापा ने मुझे बहुत मारा और माँ ने खूब खरी खोटी सुनाई मुझे। मैं भले ही अय्याश हो गया था लेकिन मैंने अपने माँ बाप के साथ आज तक कोई बदतमीज़ी नहीं कि थी और न ही कभी उन्हें पलटकर कोई जवाब दिया था।

लोग कहते हैं न कि अगर बेटा गलत रास्ते पर चल निकले तो उसकी नाक में नकेल डाल देनी चाहिए जिससे वो सुधर जाता है। मेरे माँ बाप ने भी मुझे सही रास्ते पर लाने के लिए मेरी शादी बिना मेरी मर्जी के तय कर दी। जिसका मैंने विरोध किया लेकिन उनके आगे मेरी एक न चली।

जिस लड़की से मेरी शादी तय हुई उसका नाम पूजा था और वो अपने नाम के अनुरूप ही पूजनीय भी थी। उसकी सुंदरता के सामने अप्सरा भी शर्मा जाएं। साथ में वो सर्वगुण सम्पन्न लड़की थी। वो एक गरीब परिवार की थी जिसके माता पिता नहीं थे। एक बड़ा भाई था जो शराबी था, इसलिए उसने तुरंत ये रिश्ता मान लिया।

लेकिन ये शादी मुझे मेरी आजादी पर ग्रहण के समान लग रही थी जिसके कारण मैं पूजा के ऊपर गुस्सा था और इन सबका कुसूरवार उसे मान रहा था, मुझे ये लगता था कि अगर वो इस रिश्ते के लिए मना कर देती तो मुझे शादी नहीं करनी पड़ती।

और इसी बात का गुस्सा मैंने सुहागरात वाली रात उसपर निकाला जब मैं एक जानवर बनकर उसके साथ पेश आया। मैंने सुहागरात वाली रात उसका बलात्कार किया। वो रोती रही, चिल्लाती रही और छोड़ने के लिए गिड़गिड़ाती रही लेकिन मैंने उसपर कोई रहम नहीं दिखाया। मैं उसके मुंह मे कपड़ा ठूंसकर उसके साथ अपनी मनमानी करता रहा।

मुझे उसके दुःख दर्द से कोई मतलब नहीं था। उसने इस बारे में सुबह मम्मी को कुछ नहीं बताया तो मैं और भी ज्यादा शेर हो गया। फिर उसके साथ ये हर रात होने लगा। जिसे शायद उसने अपनी किस्मत समझकर स्वीकार कर लिया था।

मैं भले ही उसके साथ जानवर की तरह पेश आता था लेकिन इसके बावजूद भी वो मेरे माँ बाप को अपने माँ बाप की तरह सम्मान और आदर देती थी। मेरे माँ बाप बहुत खुश थे कि उन्हें ऐसी संस्कारों वाली बहू मिली है। अगर कभी मेरी माँ उसे उदास देखकर पूछ भी लेती थी तो पूजा बात को टाल जाती थी।

शादी के एक माह के अंदर ही पूजा गर्भवती हो गई। मुझे वैसे भी उससे कोई मतलब नहीं था। मेरी अय्याशियां बाहर भी चलती रही। साल भर के अंदर मैं बाप बन गया था। मुझे पूजा से भले ही स्नेह नहीं था लेकिन बेटा होने के बाद मुझे अपने बेटे से लगाव जरूर हो गया था।

ऐसे ही वक्त का पहिया चलता रहा है मेरी शादी को 4 वर्ष पूरे हो गए। इन चार वर्षों में शायद ही कोई दिन रहा होगा जब मैंने पूजा से प्रेम से बात की होगी। उसे स्नेह किया होगा। मैं रात को उसके साथ अपनी हवस मिटाने के लिए ही सोता था। एक दो बार उसने मुझसे शिकायत भी की थी, लेकिन मैंने उसकी बात सुनने के बजाय उस पर हाथ उठा दिया था।

एक बार पूजा फिर से गर्भवती हुई। गर्भावस्था के चौथे महीने की बात है मैं अपनी अय्याशी मनाने एक लड़की के साथ होटल जा रहा था, उसी समय पूजा भी किसी काम से बाहर आई हुई थी, उसने मुझे किसी लड़की के साथ देखा तो उसने मेरा पीछा किया और मुझे होटल में लड़की के साथ रंगरेलियाँ मनाते हुए पकड़ लिया।

वो वहां से रोती हुई चली गई। उसे मेरे ऊपर शक तो था लेकिन उसने कभी मुझसे इस बारे में नहीं पूछा था लेकिन आज अपनी आंखों से देखने के बाद वो ये सब बर्दास्त नहीं कर पाई और घर जाकर मेरी मम्मी को सबकुछ बता दिया। मेरी मम्मी तो ये सुनकर अवाक रह गई, क्योंकि उन्हें लगता था कि मैं सुधर चुका हूँ।

रात को जब मैं घर लौटा तो पूजा ने मुझसे आज की घटना के बारे में पूछा। कुछ देर में बात इतनी बढ़ गई कि मुझे हद से ज्यादा गुस्सा आ गया और मैं उसे मारने लगा।

मर्द जात में यही कमजोरी होती है। जब उन्हें अपनी सच्चाई साबित करने का मौका नहीं मिलता या उन्हें अहम को ठेस पहुंचती है तो वो अपनी असली औकात पर आ जाते हैं।

मेरे साथ भी यही हुआ। मुझे ये कतई बर्दास्त नहीं हुआ कि मेरे सामने मुंह न खोलने वाली आज मुझसे जुबान लड़ा रही है। मैं उसे मरते हुए चिल्लाया।

मैं- मुझ से जबान लड़ाती है। तेरी हिम्मत कैसे हुई मुझसे इस तरह से बात करने की। आज मैं तुझे छोडूंगा नहीं।

पूजा- आह…प्लीज मत मारो मुझे, मेरे बच्चे को लग जाएगी, दया करो. मैं ने आखिर किया क्या है। बाहर रंगरेलियाँ तुम मनाओ और पूछने पर अपनी औकात दिखा रहे हो। मैं पूछती हूँ क्या कमी है मेरे प्यार में, क्या कमी है मुझमें जो तुम बाहर मुंह मरते फिरते हो। तुम सच में मर्द ही हो न।

बस पूजा का इतना कहना था कि मेरा पौरुष्व जाग उठा और मैं उसे बेतहासा मारने लगा। मैं इतना वहसी हो चुका था कि मैं ये भी भूल गया था कि पूजा 4 माह की गर्भवती है। वो लगातार चीख रही थी। वो अपने कोख में पल रहे बच्चे पर आंच नहीं आने देना चाहती थी. इसलिए हर संभव प्रयास कर रही थी बचने का।

लेकिन मैं कम क्रूर नहीं था. जब इससे भी मेरा मन नहीं भरा तो उसे बालों से पकड़ते हुए घसीट कर हाल में ले आया और अपनी बैल्ट निकाल ली. बैल्ट का पहला वार होते ही उसकी जोरों की चीख खामोशी में तबदील होती चली गई. वह बेहोश हो चुकी थी. तब तक मेरी माँ भी हाल में आ चुकी थी। उन्होंने मुझे उससे अलग करते हुए गुस्से से कहा।

माँ- पागल हो गया है क्या जगदीश। अरे उस के पेट में तेरी औलाद है। अगर उसे कुछ हो गया तो?

मैं- तो फिर कह देना इससे कि मैं भाड़े पर लड़कियां लाऊं या बियर बार जाऊं या कुछ और करूँ। यह मेरी अम्मा बनने की कोशिश न करे वरना अगली बार जान से मार दूंगा इसे मैं।

कहते हुए मैंने अपने 3 साल के नन्हे जतिन को धक्का दिया। जो अपनी मां को मार खाते देख सहमा हुआ-सा एक तरफ खड़ा था. फिर गाड़ी उठाई और निकल पड़ा अपनी आवारगी की राह पर।

उस पूरी रात मैं नशे में चूर रहा और एक लड़की की बाहों में पड़ा रहा। सुबह के लगभग 6 बज रहे होंगे कि पापा के एक कॉल ने मेरे शराब का सारा नशा उतार दिया।

पापा- जगदीश कहां है तू कब से फोन लगा रहा हूं। पूजा ने फांसी लगा ली है। तुरंत आ घर।

जैसे-तैसे घर मैं पहुंचा तो हताश पापा सिर पर हाथ धरे अंदर सीढि़यों पर बैठे थे और मां नन्हे जतिन को चुप कराने की बेहिसाब कोशिशें कर रही थी।

अपने बैडरूम का नजारा देख मेरी सांसें रुक सी गईं। बेजान पूजा पंखे से लटकी हुई थी। मुझे काटो तो खून नहीं। मैंने तो कभी सपने में भी नहीं सोचा था कि ऐसा कुछ भी हो सकता है। मां-पापा को समझ नहीं आ रहा था कि क्या किया जाए।

पूजा ने अपने साथ अपनी कोख में पल रहे मेरे अंश को भी खत्म कर लिया था। पर इतने खौफनाक माहौल में भी मेरा शातिर दिमाग काम कर रहा था। इधर-उधर खूब ढूंढ़ने के बाद भी पूजा की लिखी कोई आखिरी चिट्ठी मुझे नहीं मिली।

चूंकि पूजा अब मर चुकी थी और जतिन को भी संभालना था, इसलिए पुलिस को देने के लिए हमने एक ही बयान को बार-बार दोहराया कि मां की बीमारी के चलते उसे मायके जाने से मना किया तो जिद व गुस्से में आ कर उसने आत्महत्या कर ली. वैसे भी मेरी मां का सीधापन पूरी कालोनी में मशहूर था, जिस का फायदा मुझे इस केस में बहुत मिला।

कुछ दिन मुझे जरूर लॉकअप में रहना पड़ा, लेकिन बाद में सब को दे दिला कर इस मामले को खत्म करने में हम ने सफलता पाई, क्योंकि पूजा के मायके में उस की खैर-खबर लेने वाला एक शराबी भाई ही था जिसे अपनी बहन को इंसाफ दिलाने में कोई खास रुचि न थी।

थोड़ी परेशानी से ही सही, लेकिन कुछ समय के बाद केस रफा-दफा हो गया और मैं बाहर आ गया। इस भयानक घटना के बाद होना तो यह चाहिए था कि मैं पश्चाताप की आग में जलता और अपने गुनाहों और कुकर्मों के लिए पूजा से माफी मांगता, पर मेरे जैसा आशिकमिजाज व्यक्ति ऐसे समय में भी कहां चुप बैठने वाला था।

जेल से बाहर आने के बाद मेरी अय्याशियां फिर शुरू हो गई। अब तो पूजा भी नहीं थी तो मैं छुट्टा साँड़ हो गया था। इस बीच मेरी रासलीला मेरे एक दोस्त की बहन लिली के साथ शुरू हो गई।

लिली का साथ मुझे खूब भाने लगा। क्योंकि वह भी मेरी तरह बिंदास थी साथ मे खूबसूरत भी थी। पूजा की मौत के साल भर के भीतर ही हमने शादी कर ली। शादी के कुछ दिनों बाद मुझे पता चला कि वो चलते पुर्जे की लड़की है। मैं शेर था तो वो सवा शेर थी।

बदतमीजी, आवारगी, बदचलनी आदि दुर्गुणों में वह मुझ से कहीं बढ़ कर निकली. मेरी परेशानियों की शुरुआत उस दिन शुरू हुई जिस दिन मैंने पूजा समझ कर उस पर पहली बार हाथ उठाया। मेरे उठे हाथ को हवा में ही थाम उस ने ऐसा मरोड़ा कि मेरे मुंह से आह निकल गई। उस के बाद मैं कभी उस पर हाथ उठाने की हिम्मत न कर पाया।

घर के बाहर बनी पुलिया पर आस-पास के आवारा लड़कों के साथ बैठी वह सिगरेट के कश लगाती जब-तब कालोनी के लोगों को नजर आती। अपने दोस्तों के साथ कार में बाहर घूमने जाना उस का प्रिय शगल था। रात को वह शराब के नशे में धुत हो घर आती और सो जाती। अब हमारी बदनामी भी कॉलोनी में होने लगी।

मैं ने उसे अपने झांसे में लेने की कई नाकाम कोशिशें कीं, लेकिन हर बार उस ने मेरे वार का ऐसा प्रतिवार किया कि मैं बौखला जाता। उसने साफ शब्दों में मुझे चेतावनी दी कि अगर मैंने उस से उलझने की कोशिश की तो वह मुझे मरवा देगी या ऐसे केस में फंसाएगी कि मेरी जिंदगी बरबाद हो जाएगी। मैं उस के गदर से तभी तक बचा रहता जब तक कि उस के कामों में हस्तक्षेप न करता।

लेकिन उसने एक काम अच्छा किया जो उसने जतिन को अपने बेटे की तरह प्यार दिया। ऐसा मुझे लगता था। लेकिन सच्चाई तो इसके बिकुल उलट थी। वो जतिन को अपने नक्शेकदम पर चलाना चाहती थी और जातिन भी दिन रात मम्मी मम्मी कहकर उसके आगे पीछे घूमता रहता था।

कहते हैं न कि इंसान जो बोता है वो काटकर जाता है। अपनी करनी का फल सभी जरूर भुगतते हैं। सभी के पापों का घड़ा जरूर भरता है। तो मेरे पापों का घड़ा भी भर चुका था वो भी बहुत जल्दी।

तो मैंने प्रकृति के न्याय के तहत वह काटा, जो मैंने बोया था। घर की पूरी सत्ता पर मेरी जगह वह काबिज हो चुकी थी। शादी के सालभर के भीतर दबाव बना कर उसने पापा से हमारे घर को भी अपने नाम करवा लिया और फिर मेरे मम्मी पापा को घर से निकाल दिया और ये मकान बेचकर एक बहुत ही पॉश इलाके ने दूसरा मकान ले लिया।

मेरे मम्मी-पापा मेरी बहन यानी अपनी बेटी के घर में रहने को मजबूर थे। यह सब मेरी ही कारगुजारियों की अति थी जो आज सब-कुछ मेरे हाथ से मुट्ठी से निकली रेत की मानिंद फिसल चुका था और मैं चाहकर भी कुछ नहीं कर सकता था।

अपना मकान बिकने से हैरान-परेशान पापा इस सदमे को न सह पाए और हृदयघात का शिकार हो महीनेभर में ही चल बसे। उन के जाने के बाद मेरी मां बिलकुल अकेली हो गईं। प्रकृति मेरे कर्मों की इतनी जल्दी और ऐसी सजा देगी मुझे मालूम न था।

नए घर में शिफ्ट होने के बाद भी उस के क्रियाकलाप में कोई खास अंतर नहीं आया। इस बीच 5 साल के हो चुके जतिन को उस ने पूरी तरह अपने अधिकार में ले लिया. उस के सान्निध्य में पलता-बढ़ता जतिन भी उस के नक्शेकदम पर चल पड़ा। जतिन मेरी बात कभी नहीं सुनता था। लिली उसे मेरी बारे में जो बताती गई वो उसे ही सत्य मानता गया।

पढ़ाई-लिखाई से उसका खास वास्ता था नहीं। जैसे-तैसे 12वीं कर उस ने छोटा-मोटा बिजनैस कर लिया और अपनी जिंदगी पूरी तरह से उसी के हवाले कर दी। उन दोनों के सामने मेरी हैसियत वैसे भी कुछ नहीं थी। किसी समय अपनी मन-मरजी का मालिक मैं आजकल उनके हाथ की कठपुतली बन बस उन के रहमो-करम पर जिंदा था।

मेरे कर्मों की मुझे सजा मिल रही थी। अब मुझे पूजा के साथ किये हुए हर जुल्मोसितम याद आने लगे। अब मैं पश्चाताप की आग में जलने लगा। रोज मैं अपने गुनाहों की माफी पूजा से मांगने लगा। उससे वापस लौट आने के लिए गिड़गिड़ाने लगा। लेकिन तब तक बहुत देर हो चुकी थी। रोज नई नई लड़की की बाहों में अपनी रात रंगीन करने वाला मैं जगदीश अब लड़की जात से नफरत करने लगा।

इसी रफ्तार से जिंदगी चलती रही। मैंने जो बोया था वो तो मैं काट रहा था, लेकिन लिली ने जो बोया उसको मुझसे भी ज्यादा भयानक दंड मिला, एक दिन पता चला कि लिली एक भयानक बीमारी एड्स की चपेट में आ गई है। इस बीमारी के कारण वो अब गुमसुम रहने लगी अब घर की सत्ता मेरे बेटे जतिन के हाथों में आ गई।

हालांकि इसका मेरे लिए कोई खास मतलब नहीं था। हाँ जतिन की शादी होने पर उस की पत्नी अंतरा के आने से अलबत्ता मुझे कुछ राहत जरूर मिली, क्योंकि मेरी बहू भी पूजा जैसी ही एक नेकदिल इंसान थी। फिर भी उसकी चिंता मुझे दिन-रात खाए जाती थी।

अंतरा लिली की सेवा जी-जान से करती और जतिन को खुश करने की पूरी कोशिश भी। पर जिसकी रगों में मेरे जैसे गिरे और नीच इंसान का लहू बह रहा हो। उसे भला किसी की अच्छाई की कीमत का क्या पता चलता। साल-भर पहले लिली ने अपनी आखिरी सांस ली। उस वक्त सच में मन से जैसे एक बोझ उतर गया और मेरा जीवन थोड़ा आसान हो गया।

इस बीच जतिन के अत्याचार अंतरा के प्रति बढ़ते जा रहे थे। लगभग रोज रात में जतिन अंतरा को पीटता और हर सुबह अपने चेहरे व शरीर की सूजन छिपाने की भरसक कोशिश करते हुए वह फिर से अपने काम पर लग जाती। कल रात भी जतिन ने उस पर अपना गुस्सा निकाला था।

**********

मुझे समझ नहीं आता था कि आखिर वह ये सब क्यों सहती है। क्यों नहीं वह जतिन को मुंहतोड़ जवाब देती। आखिर उस की क्या मजबूरी है? तमाम बातें मेरे दिमाग में लगातार चलती रहती। मेरा मन उस के लिए इसलिए भी परेशान रहता क्योंकि इतना सबकुछ सह कर भी वह मेरा बहुत ध्यान रखती थी। कभी-कभी मैं सोच में पड़ जाता कि आखिर औरत एक ही समय में इतनी मजबूत और मजबूर कैसे हो सकती है?

ऐसे वक्त पर मुझे पूजा की बहुत याद आती। अपने 4 वर्षों के वैवाहिक जीवन में मैं ने एक पल भी उसे सुकून का नहीं दिया. शादी की पहली रात जब सजी हुई वह छुईमुई सी मेरे कमरे में दाखिल हुई थी, तो मैं ने पलभर में उसे बिस्तर पर घसीट कर उस के शरीर से खेलते हुए अपनी कामवासना शांत की थी। यही सोचकर मैं अपने आपसे घृणा करने लगता।

काश उस वक्त उसके रूप सौंदर्य को प्यार भरी नजरों से कुछ देर निहारा होता। तारीफ के दो बोल बोले होते तो वह खुशी से अपना सर्वस्व मुझे सौंप देती। उस घर में आखिर वह मेरे लिए ही तो आई थी, पर मेरे लिए तो उस समय प्यार की परिभाषा शारीरिक भूख से ही हो कर गुजरती थी। उस दौरान निकली उस की दर्दभरी चीखों को मैं ने अपनी जीत समझ कर उसका मुंह कपड़े से बंदकर अपनी मनमानी की थी।

वह रातों में मेरे दिल बहलाने का साधनमात्र थी इसलिए मुझे ऐसा करने का हक था आखिर मैं मर्द जो था। मेरी इसी सोच और दम्भ ने मुझे कभी इंसान नहीं बनने दिया।।

काश उस समय प्रकृति मुझे थोड़ी-सी सद्बुद्धि देती।

मैंने उसे चैन से एक सांस न लेने दी। अपनी गंदी हरकतों से सदा उस का दिल दुखाया। उस की जिंदगी को मैं ने वक्त से पहले खत्म कर दिया।

उस दिन उस ने आत्महत्या भी तो मेरे कारण ही की थी। क्योंकि उसे मेरे नाजायज संबंधों के बारे में पता चल गया था और उस की गलती सिर्फ इतनी थी कि इस बारे में मुझ से वह पूछ बैठी थी। बदले में मैंने जीभर कर उस की धुनाई की थी। ये सब पुरानी यादें दिमाग में घूमती रहीं और कब मैं घर लौट आया पता ही नहीं चला।

पापा, जब आप बाजार गए थे। उस वक्त बुआजी आई थीं। थोड़ी देर बैठीं। फिर आप के लिए यह लिफाफा दे कर चली गईं। बाजार से आते ही अंतरा ने तुरंत मुझे एक लिफाफा पकड़ाया।

ठीक है बेटा। मैंने समोसा उसे देकर लिफाफा खोला। उस में एक छोटी सी पर्ची और करीने से तह किया हुआ एक खत रखा था। पर्ची पर लिखा था।

मां के जाने के सालों बाद आज उन की पुरानी संदूक खोली तो यह खत उस में मिला। तुम्हारे नाम का है सो तुम्हें देने आई थी। ये मेरी बहन की लिखावट थी। सालों पहले मुझे यह खत किस ने लिखा होगा यह सोचते हुए मैं अपने कमरे में आकर कांपते हाथों से मैंने खत खोलकर पढ़ना शुरू किया।


‘‘प्रिय जगदीश


‘‘वैसे तो तुमने मुझे कई बार मारा है, पर मैं हमेशा यह सोच कर सब सहती चली गई कि जैसे भी हो, तुम मेरे तो हो. कभी तुम्हें मेरी कद्र होगी। कभी तुम मुझसे प्रेम से बात करोगे। यही सोचकर मैं तुम्हारे साथ रहती रही।

परंतु कल जब तुम्हारे इतने सारे नाजायज संबंधों का पता चला तो मेरे धैर्य का बांध टूट गया। हर रात तुम मेरे शरीर से खेलते रहे हर दिन मुझ पर हाथ उठाते रहे, लेकिन मन में एक संतोष था कि इस दुखभरी जिंदगी में भी एक रिश्ता तो कम से कम मेरे पास है, लेकिन जब पता चला कि यह रिश्ता, रिश्ता न हो कर एक कलंक है तो इस कलंक के साथ मैं नहीं जी सकती।

सोचती थी कभी तो तुम्हारे दिल में अपने लिए प्यार जगा लूंगी, लेकिन अब सारी उम्मीदें खत्म हो चुकी हैं। मायके में भी तो कोई नहीं है जिसे मेरे जीने-मरने से कोई सरोकार हो। मैं अपनी व्यथा न ही किसी से बांट सकती हूं और न ही उसे सह पा रही हूं। तुम्हीं बताओ फिर कैसे जिऊँ मैं, किसके लिए जिऊँ।

मेरे बाद मेरे बच्चे की दुर्गति न हो, इसलिए अपनी कोख का अंश अपने साथ लिए जा रही हूँ। मासूम जतिन को मारने की हिम्मत नहीं जुटा पाई। खुश रहो तुम। कम से कम जतिन को एक बेहतर इंसान बनाना। जाने से पहले एक बात तुम से जरूर कहना चाहूंगी। मैं तुम से बहुत प्यार करती हूं बहुत ज्यादा प्यार करती हूँ।

‘‘तुम्हारी चाहत के इंतजार में पल-पल मरती…तुम्हारी पूजा।’’


पूरा पत्र आंसुओं से गीला हो चुका था। जी चाह रहा था कि मैं चिल्ला-चिल्ला कर रो पडूँ। पूजा माफ कर दो मुझ पापी को।

मैं इंसान कहलाने के काबिल नहीं हूँ तो तुम्हारे प्यार के काबिल भला क्या बनूंगा।

हे ईश्वर मेरी पूजा को लौटा दे मुझे। मैं उस के पैर पकड़ कर अपने गुनाहों की माफी तो मांग लूंगा उससे।

लेकिन कहते हैं न कि अब पछताए होत क्या, जब चिडि़या चुग गई खेत.

मैं काफी देर तक अपने बिस्तर पर बैठा रोता रहा। जब भावनाओं का ज्वार थमा तो कुछ हलका महसूस हुआ।

शायद मां को पूजा का यह पत्र मिला हो और मुझे बचाने की खातिर यह पत्र उन्होंने अपने पास छिपा कर रख लिया हो। यह उन्हीं के प्यार का साया तो था कि इतना घिनौना जुर्म करने के बाद भी मैं बच गया। उन्होंने मुझे कालकोठरी की भयानक सजा से तो बचा लिया, परंतु मेरे कर्मों की सजा तो नियति से मुझे मिलनी ही थी और वह किसी भी बहाने से मुझे मिल कर रही।

पर अब सब-कुछ भुला कर पूजा की वही पंक्ति मेरे मन में बार-बार आ रही थी
‘‘कम से कम जतिन को एक बेहतर इंसान बनाना।’’ अंतरा के मायके में भी तो उस की बुजुर्ग मां और छोटी बहन के अलावा कोई नहीं है। हो सकता है इसलिए वह भी पूजा की तरह मजबूर हो। पर अब मैं मजबूर नहीं बनूंगा।

कुछ सोच कर मैं उठ खड़ा हुआ, अपने चेहरे को साफ किया और अंतरा को आवाज दी।

‘‘जी पापा,’’ कहते हुए अंतरा मेरे सामने मौजूद थी।

बहुत देर तक मैं उसे सब-कुछ समझाता रहा और वह आंखें फाड़-फाड़ कर मुझे हैरत से देखती रही। शायद उसे विश्वास ही नहीं हो रहा था कि जतिन का पिता होने के बावजूद मैं उसका दर्द कैसे महसूस कर रहा हूं या उसे यह समझ नहीं आ रहा था कि अचानक मैं यह क्या और क्यों कर रहा हूं। क्योंकि वह मासूम तो मेरी हकीकत से हमेशा अनजान थी। पहले तो वह इसके लिए तैयार नहीं हो रही थी, लेकिन बहुत समझाने, मिन्नत करने और अपनी कसम देने के बाद वह तैयार हुई।

पास के पुलिस स्टेशन पहुंच कर मैंने अपनी बहू पर हो रहे अत्याचार की धारा के अंतर्गत बेटे जतिन के खिलाफ रिपोर्ट दर्ज कराई। मेरे कहने पर अंतरा ने अपने शरीर पर जख्मों के निशान उन्हें दिखाए, जिससे केस पुख्ता हो गया। जतिन को सही राह पर लाने का एक यही तरीका मुझे कारगर लगा। क्योंकि सिर्फ मेरे समझाने भर से बात उस के पल्ले नहीं पड़ेगी। पुलिस, कानून और सजा का खौफ ही अब उसे सही रास्ते पर ला सकता था।

पूजा के चिट्ठी में कहे शब्दों के अनुसार मैं उसे रिश्तों की इज्जत करना सिखाऊंगा और एक अच्छा इंसान बनाऊंगा, ताकि फिर कोई पूजा किसी जगदीश के अत्याचारों से त्रस्त हो कर आत्महत्या करने को मजबूर न हो। ऑटो में वापसी के समय अंतरा के सिर पर मैं ने स्नेह से हाथ फेरा. उस की आंखों में अब खौफ की जगह अब सुकून नजर आ रहा था. यह देख मैंने राहत की सांस ली।

मैंने तो उसे सुधरने के लिए पुलिस की मदद ली थी और पुलिस ने अपना काम भी कर दिया था। उसे जेल में एक हफ्ता रखकर उसकी अच्छे से खातिरदारी भी की, लेकिन जतिन के ऊपर इसका उल्टा असर पड़ा। जिस दिन वो जेल से घर वापस आया। वो बहुत गुस्से में था और उसने आते ही अंतरा के ऊपर हाथ उठा दिया।

मैंने बीच बचाव करने की कोशिश की तो आज वो हो गया जो इतने दिनों में पहली बार हुआ था। आज जतिन ने मेरे ऊपर भी हाथ उठा दिया।

मैं चाहे जैसा भी था। लिली ने जतिन को मेरे बारे में चाहे जो भी बताया हो। लेकिन नितिन ने आजतक ऐसा नहीं किया था।

जतिन और अंतरा के मामले में हस्तक्षेप करने पर वो केवल मेरे ऊपर चिल्लाता था। भला-बुरा कहता था, लेकिन उसने कभी मुझपर हाथ नहीं उठाया था।

मुझपर हाथ उठाता देख अंतरा भी बिफर पड़ी और उसने घर में रखी लाठी उठाकर जतिन को मारना शुरू कर दिया। अंतरा बहुत ज्यादा गुस्से में लग रही थी। जतिन अंतरा का ये रूप देखकर सहम गया और घर से बाहर चला गया।।

हम ससुर और बहू अपना अपना सिर पकड़कर हॉल में बैठे हुए थे। हमने क्या सोचा था और क्या हो गया। जतिन को गए हुए अभी एक घंटे हुए थे कि तभी अंतर का मोबाइल बजने लगा। उसने अपना मोबाइल उठाकर कान में लगाया। फिर एक चीख के साथ उसका मोबाइल उसके हाथों से छूटकर नीचे गिर पड़ा।

मैंने भी हड़बड़ाते हुए अंतरा से पूछा।

मैं- क्या हुआ बेटी। तुम ऐसे चीखी क्यों।

अंतरा- (रोते हुए) पापा अभी ........ अस्पताल से फ़ोन था। जतिन का एक्सीडेंट हो गया है और वो अस्पताल में है। जिसने उसे अस्पताल पहुंचाया है उसी ने फ़ोन किया था।

मैं- (चौकते हुए) क्या? एक्सीडेंट। हमें अभी अस्पताल चलना होगा।

मैं तुरंत अंतरा के साथ अस्पताल पहुंच गया जहां पर मेरे बेटे की भर्ती किया गया था। मैंने उस व्यक्ति को धन्यवाद दिया जिसने जतिन को अस्पताल पहुंचाया था। डॉक्टर से मिलने के बाद पता चला कि उस एक्सीडेंट में जतिन का एक पैर टूट गया है साथ में उसके सारे शरीर मे बहुत चोटें आई थी। जिसे ठीक होने में बहुत समय लगेगा।

हम दोनों को वहां देखकर जतिन कुछ नहीं बोला। अंतरा मेरे पास खड़ी आंसू बहा रही थी। 5 दिन अस्पताल में रहने के बाद मैं जतिन को लेकर घर आया। अंतरा पूरे मन से जतिन की सेवा करने में जुट गई।

पहले तो जतिन अपने पौरुष्व के अभिमान में न मुझसे बात करता था और न ही अंतरा से, लेकिन धीरे धीरे अंतरा की अपने लिए ऐसी सेवा भावना देखकर उसका हृदय परिवर्तित होने लगा। अब वो अंतर से धीरे धीरे बात करने लगा।।

वो मुझसे भी बात करना लगा था। पुलिस में रिपोर्ट दर्ज करवाने के बाद उसका हम लोगों के लिए जो गुस्सा था अब वो खत्म हो गया था। मैं भी कई दिन से जतिन से बात करने की फिराक में था, एक दिन अच्छा मौका देखकर मैने जतिन से बात की।।

मैं- अब किसी तबियत है तुम्हारी जतिन।

जतिन- अब ठीक है पापा थोड़ा बहुत चलने फिरने भी लगा हूँ अब। ये सब अंतरा की मेहनत का फल है जो मै इतनी जल्दी ठीक हो रहा हूँ।

मैं- मुझे अंतरा के बारे में ही तुमसे बात करनी है बेटा। तुम अंतरा के साथ जो कुछ भी कर रहे हो वो बिल्कुल भी अच्छा नहीं है। तुम्हें बिल्कुल भी अंदाजा नहीं है कि तुम्हारे इतने जुल्म सहने के बाद वो तुम्हारे साथ अभी भी क्यों रह रही है। क्योंकि वो तुमसे बहुत प्यार करती है।

उसके संस्कार ऐसे हैं कि तुम्हारे इतने जुल्म सहने के बाद भी वो तुमसे शिकायत नहीं करती। अभी भी कुछ नहीं बिगड़ा है बेटा तुम अंतरा को सच्चे दिल से अपना लो। नहीं तो मेरी तरह तुम्हें भी पछताने के अलावा और कुछ नहीं मिलेगा।

तुम्हें नहीं पता जिस दिन से तुम्हारा एक्सीडेंट हुआ है वो बहुत रोती है। तुम्हारे सामने वो भले ही खुद को मजबूत दिखाती है लेकिन अंदर से वो बहुत टूट चुकी है। ऊपर से तुम्हारी बेरुखी उसे पल पल मार रही है। जितना अत्याचार तुमने उसपर किए हैं अगर उसकी जगह कोई और लड़की होती तो या तो वो घर छोड़कर चली जाती या फिर तुम्हें तुम्हारी ही भाषा मे जवाब देती।

लेकिन उसने कभी भी ऐसा नहीं किया। अगर तुम्हें इस बात का गुस्सा है कि उसने तुम्हारे खिलाफ पुलिस में शिकायर दर्ज कराई है तो तुम्हारा गुस्सा निराधार है। वो शिकायत मैंने दर्ज करवाई है और अपनी कसम देकर मैं उसे अपने साथ ले गया था।

इतनी सुशील और संस्कारी पत्नी बहुत किस्मत वालों को मिलती है बेटा। मैंने जो गलती की मैं नहीं चाहता कि तुम भी वही गलती करो। अभी भी वक्त है सुधर जाओ। नहीं तो तुमसे बदनसीब इंसान दुनिया में कोई नहीं होगा।

लगभग डेढ़ से दो महीने से अपने लिए अंतरा की सेवा और त्याग को देखकर अब जतिन को हर भूल और हर एक जुल्म जो उसने अंतरा के साथ किए थे उसका एहसास हो चुका था, लेकिन शायद वो अपने किये पर शर्मिंदा था इसलिए वो बात नहीं कर पा रहा था। मेरी बातों को सुनकर उसे जैसे हौसला मिल गया था। उसने मेरा हाथ अपने हाथों में लिया और रोते हुए कहा।

जतिन- पापा मुझे माफ़ कर दीजिए जो मैंने आजतक आपके और अंतरा के साथ किया। मुझे अपनी गलती का एहसास है जिसके लिए मैं आपसे माफी मांगता हूं। मैं जानता हूँ कि मैंने जो किया है वो माफी के काबिल नहीं है लेकिन हो सके तो मुझे माफ़ कर देना।।

उसकी बात सुनकर मैंने उसे गले लगा लिया। आज कितने सालों बाद मेरे दिल को सुकून मिला था। ये सुकून इस बात का था कि पूजा की आखिरी इच्छा को शायद मैंने पूरा कर दिया था जो उसने आपके खत में लिखी थी।

जतिन ने अपने किए हर सितम के लिए अंतरा से हाथ जोड़कर माफी मांगी। अंतरा जो जतिन के उस प्यार के लिए कब से तरस रही थी। उसने भी जतिन को माफ कर दिया।


मुद्दतों बाद हमारे घर मे फिर से खुशहाली लौट आई थी। हम खुशी खुशी अपना जीवन बिताने लगे।
समाप्त
 
Status
Not open for further replies.
Top

Dear User!

We found that you are blocking the display of ads on our site.

Please add it to the exception list or disable AdBlock.

Our materials are provided for FREE and the only revenue is advertising.

Thank you for understanding!