★☆★ Xforum | Ultimate Story Contest 2020 ~ Entry Thread ★☆★

  • You need a minimum of 50 Posts to be able to send private messages to other users.
  • Register or Login to get rid of annoying pop-ads.
Status
Not open for further replies.

Milan2010

Well-Known Member
Messages
4,305
Reaction score
3,362
Points
143
AMULYA TOHFA

Year : 5020, DOME CITY

Jab garmi ka mausam aata hai toh kya haalat hoti hai yeh hum sab jaante hai, lekin agar garmi me hum peene ke liye paani naa mile toh socha hai hum insaano ka kya haa hoga..?? ab agar mai yeh kahu ki thand ke mausam me bhi sehar ka garmi ke jesa tapmaan ho toh kya hoga..?? yeh toh sochkar hi hume dar lagta hai..lekin dome city me aaj bhi temperature 65 degrees ki paar chala gaya hai..aur tapte suraj ki gamri se bachne ke liye koi paid dur dur tak Dome City ke sadako par nahi dikhayi de raha tha

Sehar ki tuti futi sadako par ekdum sannata pasra hua tha, insaan toh dur ki baat thi..koi parinda tak najar nahi aa raha tha..aur yeh tuti hui sadke garmi me ubal rahi thi..suraj apna prakoop pura taraf se dharti par faila chukka tha

“aaahhhhh, aaaahhhhhh, aaahhhhhhhhhhhhhhhhh ahhhhhhhhhhhh” gehri gehri saanse lete hue ek ladki jameen par rengte hue aage badh rahi thi..uske haath bahut hi joro se kaamp rahe the..aur apni ardh khuli hui aankhe sahare hi voh aage badhne ka prayatna kar rahi thi

Apne niche rahi garam se bhi garam sadak aur upar asmaan se aa rahi suraj ki voh bhayanak kirno se uss ladki ka bura haal tha, garam tapmaan ki se uss ladki ka bura badan pasine se bheeg gaya tha, aur pasine ki vajah se zameen par padi dhul uske sharir se jaa mili thi..lekin fir bhi voh bina haar maane aage badhti rehti hai

Gale me sukhpan aur tapti garmi se ab uski aankhe uska saath chod rahi thi..lekin voh apni manjil se pehle aankhe band nahi karna chahti thi..himmat naa harkar aakhir kaar badi muskil se voh apne mukaam par pahuch gayi thi..ek building ke aad me rahe paani ke naal ke pass voh ese hi rengte hue pahuch jaati hai

Usne bina apni najre upar uthaye apne haath ko uss nal par rakha aur nal ko ghumate hue usne apna chehra thik nal ke niche rakh diya…jab insaan ko pyaas lagne par paani ka nal dikhta hai toh uske hoth paani pee ne ke liye apne aap hi khul jaate hai..yaha bhi iss ladki ke saath yahi hua..uske hoth iss aas me khul jaate hai ki ab use paani peene milega..lekin Dome city ke haalat toh kuch alag hi hai..lekin itni mehnat ke baad bhi uss ladki ko sirf nisraha hi haath lagti hai

Naal ke pura khulne ke baad bhi usme se paani naa aata mehsoos kar voh apni aankhe kholti hai..lekin asmaan me suraj ki garam roshni ki vajah se uski aankhe khulne se pehle hi band ho jaati hai..jiske baad ek choti si paani ki bund uske chehre par tapak ti hai jiske saath hi voh ladki vahi par behosh hokar gir padti hai

2 Years Ago
“abe saaale tu kar kya raha hai..??” ek ladka apne dost ke sar par maarte hue kehta hai jo iss waqt computer ke samne baithe hue kuch dekh raha tha

“bas yahi soch raha hu ki hum apne ghar ko kabhi pehle jesa bana bhi payenge yaa nahi..??” usne kursi par piche tek lagakar angdayi lete hue kaha

“kya matlab hai tera..??” voh dusra ladka bolta hai

“deval, tuje pata hai hamari earth ek waqt par aag ka gola hua karti thi..??”

Deval “haaa janta hu, jab hamare solar system ka janam hua tab pruthvi ek aag ka gola hi thi, par tu yeh kyu puch raha hai..??” ne apne kandhe upar karte hue kaha

“aisa lag raha hai jese hamara atit firse laut aaya hai” usne apne kamre me lage AC ki aur najar daalte hue kaha

Deval “sarthak..tu hamesa yahi sab sochte rehta hai..??”

Sarthak ne apne haath me pehni ek device se AC ki tarah ishara kiya, jiske baad AC ke panel par 25 degree likha hua aagaya, “kuch toh karna hi hoga..agar aisa hi chalta raha toh insano ka vajood hi meet jayega”

Deval “haa mere bhai, mai janta hu..par filhaal toh hum iss waqt kuch nahi kar sakte..atleast agle ek saaal tak toh kuch bhi nahi”

Sarthak chalte hue kamre ki khidhke ke pass jaata hai, aur khidke par lage parde ko apne haatho se hatate hue bahar ki aur dekhne laga
“aur yeh ek saal hi toh nikalna muskil hone vaala hai” voh apne chehre se ishara karte hue kehta hai “yeh dekh raha hai, suna hai ek waqt aisa bhi tha jab humari pruthvi ke mbar ka rang nila hua karta tha..lekin waqt ke saath asmaan ne apna rang badalkar pila kar diya” karib 150th floor ki unchayi se voh upar asmaan ki aur dekh raha tha jo halke peele rang ka dikhayi de raha tha

Deval bhi uske pass aata hai aur bahar dekhte hue “aur yeh sab hamare purvajo ki vajah se hua hai..yeh asmaan hume yeh yaad dilate hai ki insaan ne kabhi kudrat ki kadar nahi ki…hamare ancestors ki laparwahi ka anjam hume bhugatna pad raha hai”

Sarthkar uss parde ko band karte hue vapas uss kursi par aakar baith jaata hai, aur samne screen par chal rahi news ko dekhne laga
News channel par ek AI robot aaj ki khabar suna raha tha, AI “aaj ka temperature 75 degree ke karib pahuch gaya hai, badhti garmi aur paani ki tablets naa hone ke karan aaj 6 logo ne aapni jaan gaayi hai” jiske baad sarthak apni ungli ke ishare se uss screen ko band kar deta hai aur vahi kursi ke headrest par apna sar rakhte hue aankhe band kar deta hai

Deval bhi uss khabar ko sunkar bina kuch bole dusre kamre me chala jaata hai, jaha par ek rectangle shape ki device rakhi hui thi, uss device par rahe kuch buttons ko dabata hai..jiske baad uss machine se kuch tablets bahar nikalkar aati hai jise deval lekar khaa leta hai, aur fir vahi se chillakar kehta hai “sarthak, paani ki tablets khatam ho rahi hai..we need to get some more”

Sarthak vese hi apni aankhe band kiye hue kehta hai “fir toh bura hua..suna hai aaj market me bhi paani ki tablets nahi aayi, aur shayad aane vale agle 2 dino tak yeh tablets nahi mil sakti”

Deval apni aankhe band karte hue gehri saans leta hai apne aap se kehta hai “kaash ke aaj paani hota..kaash aaj bhi baarish ho rahi hoti toh shayad yeh din hume kabhi nahi dekhna padta”

Fir voh chalte hue bahar vale kamre aata hai aur bed par baithte hue kehta hai “tuje kya lagta hai yaar, kya hum kabhi paani ko dekh payenge..??”

Sarthak “haa kyu nahi, humare pass paani ki bahut si tasveere hai”

Deval thoda sa chidte hue bola “mera matlab asal paani se tha, jab se janam liya hai sirf inhi tablet par jinda hu..paani ke baare me sirf kahaniya suni hai”

Sarthak “yaar kitna acha hota na agar aaj baarish ho rahi hoti..hum bhi apne bachpan me kagaj ki naav banav kar paani se khelte, hume bhi naahne milta”

Deval “haa yaar, yeh saala spray daal-daalkar dimaag kharab ho jaata hai, jabse tune yeh bataya hai ki log pehle paani se naahte bhi the”

Tabhi unke room ke bahar kisike aane ki notification aati hai, deval uss notification ko dekhkar apne haath se darwaaze ki taraf ishara karta hai, jiske baad voh darwaaza gayab ho gaya aur bahar se do ladkiya kamre me aati hai

Pehli ladki “yeh kya haalat bana rakhi hai tum dono ne” unn dono ko dekhte hue kehti hai

Deval “kuch nahi aashi, bas paani ke baare me soch rahe the”

Dusri ladki “maine kaha tha Rupal, inn dono ke pass paani ki tablets nahi hogi”

Rupal “yeh dono hai hi nikamme..isiliye humne tablets ko pehle se lekar rakha hai”

Deval “yeh na bhulna ki hum vahi nikaamme hai jo uss sapne ko hakikt me badal ne vaale hai jo aaj har ek insaan dekhta hai”

Aashi “matlab..??”

Deval “humne ek tarika socha hai..agar voh kamiyab hua toh hum bhi paani ka luft utha payenge..paani ko apni aankho se dekh paayenge, use apne chehre par mehsoos kar payenge”

Aashi “impossible, paani ko hum insaan kabhi nahi dekh paayenge”

Rupal “agar maan liya ki hum paani ko dekh payenge, jo ki impossible hai..toh yeh kaam tum dono kese karne vaale ho…??”

Deval “baith jao, sarthak sabkuch bata dega” jiske baad voh dono ladkiya bhi vahi bed par baith jaati hai

Sarthkar apni round chair me ghumte hue aashi ko ek pal ke liye dekhta hai, fir “paani kese aayega yeh jaan ne se pehle hume yeh jaana jaruri hai ki paani ka janam kese hua tha”

Paani..jise hum JAL bhi kehte hai ya kehte the naam toh kahi saare hai..lekin uska udasya sirf ek..JEEVAN, jeevan ki shuruwaat hi paani se hui thi..aur yeh irony hai ki jeevan ka ant bhi paani se hi hoga…Jab paani dharti par aaya..uske baad hi jeevan ki shuruwat hui…aur aaj jab paani khatam ho raha hai toh saath me jeevan ka bhi ant ho raha hai

Kehte hai ki shuruwat me brahmand me pehle kuch nahi tha, sirf ek single point jiske bikharne par hamara universe ka janam hua, jise insaano ne BIGBANG ka naam diya, uske baad jab hamare solar system ka janam hua uss waqt dharti ek aag ka gola hua karti thi

Uss waqt dharti jeene ke laayak nahi thi..yeh bhi kehte hai ki shuruwat me jab brahmand ka nirmaan ho raha tha tab haroj ke kitne hi ulka dharti se takraate the, kitne hi iss aag ke gole me bhasm ho jaate the..kuch waqt ke baad ek mangal grah ke jitna bada asteroid hamari pruthvi se aa takrata hai jis vajah se dharti ka ek bada hissa alag ho gaya..jise insaano ne chand ka naam diya

Uss asteroid ke takrane ki vajah se dharti apne hi axis (aksh) par 23 and half degree juk gayi..lekin iss ghatna ke baad hamri pruthvi ko ek naya janam mila..voh apne hi aksh par ghumna shuru kar deti hai jiske baad pruthvi par din aur raat hone lage

Lekin shuru me din 24 hours ke nahi hue karte the, uss waqt dharti ke apne axis par ghumne ki raftar bahut tej thi jiss vajah se din mehaj 4 ghante ka hua karte the…jese jese waqt badhta gaya vese vese pruthvi ke ghumne ki raftar kam hoti chale gayi..aur din ki avdhidhi hoti gayi, aaj hamara ek din 24 hours ka hota hai..aur aane vaalo 200 million saalo me yeh badhkar 25 hours ka ho jayega..lekin yeh sab jaanna utna jaruri nahi hai

Jab srishti ki rachna ho rahi thi uss waqt space me dust clouds hua karte the..jisme hydrogen aur oxygen ke atoms (kan) maujud rehte the..aur itna toh hum jaante hai ki paani inhi do vastuo se bana hua hai, inn dono particles aapas me judakar paani bante hai..lekin space ke extreme cold temperature ki vajah se voh paani dust particles ke saath judkar ice crystals ban gaye jo ulka ke roop me dharti par aa baraste

Jiske baad dheere dheere karte hue pruthvi thandi ho gayi aur ek naye yug ki shuruwat hue, dharti par sabse pehla jeev paani me bacteria ke roop me janma tha jo waqt saath khud ko vikshit karte rahe aur dheere dheere karte hue duniya me alag alag jeevo ka nirmaan hone laga

Kuch bacterias paani me reh gaye aur kuch paani se baahar jamin par aagaye aur fir shuruwat hui hamare purvajo ki jo waqt ke saath vikshit hokar insaano ke roop me samne aaye..lekin hamesa se yeh haalat nahi the jo aaj hai, insaano ne paani ko dekha bhi tha aur unke saath voh rahe bhi the

Khud ko viksit karte karte insaan ne bahut si chize banayi..gaadiya buses, trains, jets aur bhi bahut kuch banaya jo kabhi indhan se chala karte the, lekin waqt ke saath saath indhan bhi khatam hone laga, tab insaan ne paani ka sahara liya..apne haroj ki jindagi me istemaal me hone vaale upkarno me indhan ke roop me paani ka istemaal hone laga, khud ko khush rakhne ke liye insaan ne jungle ke jungle tabah kar diye..jiske chalte prithvi par baarish kam hoti chali gayi..aur ek waqt aisa aaya ki dharti ne baarish ko dekhna hi band kar diya

baarish hone ke liye bhi toh paid podhe hone chahiye, aur paid podho ke liye paani hona chahiye..lekin aaj toh hamare pass dono mese kuch bhi nahi hai..dharti par keval 7% paid podhe reh gaye hai, duniya ki har ek nadi..har ek taalab sukh chuke hai, saara ice glaciers bhi pighal gaya hai..yaanha tak ki samundar me keval 11% paani bacha hai..aur use laane ke liye haroj hajaro kilometers dur jaana padta hai

Jab insaan ko yeh samaj me aaya ke paani hi jeene ka ek matra tarika hai toh apni technology ka prayog karke yeh water tablets banayi, isme paani ke kuch avsesh toh jarur hai…lekin real paani nahi hai, jinda rehne ke liye paani ki jagah insaano ne inn tablets ka shaara liya

Insaan Aaj ke jitna bebas kabhi nahi hua, jine ke liye hume paani ki tablets leni padti hai..saans lene ke liye yeh machino ke dwara banaya gaya oxygen lena padta hai, aaj pruthvi par iss 10 km diameter ke chote se DOME CITY me kuch gine chune log reh gaye hai
paani ki tablets banane ke liye bhi paani ki jarurat toh padti hi hai..aur insaan aaj itna taqatwar nahi raha ki voh khud chalkar paani le aaye..agar insaan DOME city ke bahar ek kadam bhi rakhta hai toh bahar ki garmi aur pradushit vatavaran se hi mar jayega, isliye hum inn robots ka istemaal karke paani laate hai aur technology ki madad se iss water tablets ko banate hai

250 saal..dharti par aakhri baarish ke hue aaj 250 saal pure ho gaye hai, lekin pehle bhi haalat ache nahi thi..akhri baarish jo keval kuch bundi ki hui thi aur voh bhi mahej 2 minutes ke liye, uss din ke baad hum mese kisine bhi paani ke asli roop ko nahi dekha..atleast apni aankho se toh humne kabhi nahi dekha


Deval “yeh toh paani aur hamari pruthvi ka itihaas tha..lekin isi itihaas me bhi ek sawaal hai..aur vahi sawaal hamara jawab bhi hai”

Rupal “aisa toh kya hai jo sawal bhi hai aur jawab bhi” usne sawaliya bhari najro se dekhte hue pucha

Deval “yahi ki agar dharti aag ka gola thi toh voh paani kese bacha..?? use toh jhal kar bhasm ho jaana chahiye”

Rupal “haa par isska jawab se kya relation” voh dono ladkiya abhi bhi nahi samaj rahi thi

Dharti par paani aane ke liye Ice-crystals sirf ek jariya nahi tha, space me maujud asteroids ek prakaar se minerals hai, jiske andar bhi paani ke avshesh rehte hai, jab yeh asteroids lakho crores ki taadat me dharti par gir rahe the, tab unnme mujud paani bhaamp bankar upar asmaan me jama hone lage jo aage chalkar paani ke baadalo me tabdil hone lage

suraj se naa jyada dur aur naa hi jyada kam duri par hone ki vajah se yeh baadal hamare hi vatavaran me milkar reh gaye jo aage chalkar baarish ke roop me asmaan se vapas dharti par girne lage..lakho saal tak lagatar ho rahi baarish, ulka pind ke roop me aa rahe ice-crystals aur lagatar asteroids ki madad se dharti dheere dheere karte hue thandi padne lag gayi


Aashi “par deval, hamare pass laakho crores saal nahi hai..hum utne saal jinda nahi reh sakte..hume paani ki jarurat aaj hai, insaano ke khatam hone ka baad toh vese bhi paani ki jarurat nahi rahegi”

Sarthak “haa hamare pass itne saal nahi hai, hum sab marne vaale hai..lekin atleast hum iss dharti ko itna toh lauta hi sakte hai jo humne dharti se chhina hai”

Aashi “ab tu yeh naa bolna ki hume dharti par asteroids girane hai”

Sarthak “nahi aashi, hume aisa kuch nahi karna hai, tuje pata hai..itna sab kuch hone ke baad bhi, hamare iss khubsurat dharti ko ek banjar jameen banane ke baad bhi yahi dharti hamari madad karegi”

Aashi “kese sarthak..??”

Deval “itna temperature hone ke bawjood bhi hum jinda reh paa rahe kyu..??”

Aashi “kyunki humne ek dome ke andar khud ko band kar diya hai..taaki yaha jo kuch paid hai unhe hum jinda rakhkar unke oxygen ka istemaal kar sake”

Deval “bilkul sahi kaha, ab sirf yahi koi 300-400 log aaj iss darti par bache hai..hamare pass rahe resources khatam honi ki kagar par hai..lekin hamara atmosphere aaj bhi dharti ke asmaan se bandha hua hai..aaj bhi asmaan me hydrogen atoms helium ke roop me maujud hai, oxygen carbon-dioxide ke roop me maujud hai, hume bas unn hi ki madad se paani ko firse banana hoga”

Aashi “haa jaanti hu..lekin mere kuch samaj me nahi aaraha..??”

Sarthak “hum pure earth par ek saath paani nahi laa sakte..hamari dharti ab puri tarah se ek registan ban chuki hai..temperature 100 degree se bhi paar ho gaya hai..lekin aaj bhi ek jagah esi hai jaha par temperature 35 degree hai..lekin vaha jeene ke liye kuch nahi hai”

Rupal “Antarctica, hamari earth par jo paid bache hai usme se 80% paid sirf vaha maujud hai”

Sarthak “exactly rupal, itne saaalo se jama hua dust..carbon dioxide hi hamari ek aakhri ummid bacha hai, hum antarctica par ek aisa DOME banana jaa rahe hai jaha par paani ke baadalo ko jama kiya jaa sakte hai, yeh dome antarctica ko dharti ke pradusan se bahaye rakhega aur dust particles ki madad se baarish karwaenge…fir ek baar iss dharti ka naya janam hoga..jindagi ki fir ek baar nayi shuruwat hogi”

Aashi chalte hue sarthak ke pass aati hai aur uska haath pakadte hue “yeh tu kese hoga..??”

Sarthak ne aashi ki aankho me dekhte hue kaha “hum ek aisi jung lad rahe hai jisme ab tera mera, tu mai nahi raha..ab waqt aagaya hai hum bankar jeene ka, aur hum bankar hi iss ladayi se ladne hoga”

Aashi fir ek pyaari si smile dete hue sarthak ke gale lag gayi “hum yeh ladayi jarur jeetenge”

Lekin vahi Sarthak ke aankho me kuch chupa hua tha..aur yeh baat uski behen Rupal dekh leti hai “bhai, tu kuch chupa raha hai, haina..??”

Iss sawal ka jawab sarthak nahi de paata, isliye Deval ne rupal ke sawal ka jawab diya “problem yeh hai ki ab hum log yanha par nahi reh sakte, aur pure antartica me dome banne me ek saal ka waqt lag jayega”

Rupal “ise tension lene vaali kya baat hai..i mean hum 1 saal ke baad toh vaha jaa sakte hai”

Sarthak “rupal..yeh itna aasan nahi hai, dome ke banne ke baad usme hum log ek low atmosphere pressure create karenge jiss vajah se bahar ke saare dust particles dome me aa sake”

Aashi “par sarthak, agar dust particles andar trap ho gaye toh hum toh ese hi mar jayenge”

Sarthak “nahi aashi, dome ke saath ek filter laga hoga.jo keval unhi atoms ko andar aane dega jiski hume jarurat hogi, dome banne me ek saal ka samay lagega, aur uske ek saal ke baad hume intezaar karna hoga andar ka vatavarn ke stable hone ka, ek baar vaha baarish shuru ho jaati hai uske baad hi hum vaha par rehne ke liye jaa sakte hai..lekin” voh bolte hue ruk jaata hai

“Lekin kya..??” rupal ne sawaal kiya

Deval “lekin hum sab log ko vanha nahi le jaa sakte, hum sirf 100 log hi vaha jaayenge..aur uske baad hume pehle ke jese ek normal ek saada jeeven bitana hoga..jaha koi AI nahi hoga, koi robot nahi hoga..kuch hoga toh sirf hamara saath aur kuch bhi nahi”

Yeh sunne ke baad vaha kuch der ke liye shanti chaa gayi thi, Aashi “tum dono yeh kab se kar rahe ho..??”

Deval “mai aur sarthak iss par 5 saalo se kaam kar rahe hai..humne tumhe pehle isliye nahi bataya kyunki hum khud sure nahi the ki yeh kese hoga…lekin ab waqt aagaya hai hamare plan ko execute karne ka...sarthak ne already dome banane ka kaam shuru kar diya hai..bas hume do saal ka wait karna hai, uske baad hum yaha se hamesa hamesa ke liye chale jayenge”

Present
Aaj iss sehar me rehna ka Sarthak aur uske dosto ka aakhri din tha, Sarthak ne Antarctica ka dome bana diya tha..aur ab waqt aagaya hai ki insaan hamesa hamesa ke liye iss technology ki duniya ko alwida keh de..sarthak ne seher ke command center me jaakar duniya me maujud har ek AI, har ek robots ko self destruct kar diya..dharti ke chakkar laga rahi har ek artificial satellite aaj tabah hokar duniya ke alag alag hisso me tutkar bikhar gayi

Apna kama khatam karne ke baad Sarthak ne apni aankhe band kari aur khud se baat karne laga “alwida, agar mera experiment kamiyab hota hai toh insaan ka vajood jinda rahega..varna iss duniya se insaan ka aaj ant ho jayega”

Itna kehne ke baad sarthak uss command center se apna jet lekar nikal jaata hai, ki tabhi uski najar raste me ek ladki par padti hai jo uss command center me maujud ek paani ke nal ke pass leti hui hai

Voh apni jet rokkar uss ladki ke pass aata hai aur jab uski nabz dekhi toh sarthak ko samaj ne me der nahi lagi ki yeh ladki paani naa milne ki vajah se behosh hui hai…voh fauran apni jeb se paani ki tablet nikalkar uss ladki ke mooh me rakh deta hai..jiske kuch der ke baad voh ladki ko hosh aajata hai
Sarthak “tum yaha kya kar rahi thi..?? yaha insaano ka aana mana hai”

Voh ladki “jaanti hu sir, lekin aaj yaha par hamara aakhri din hai..aaj ke baad paani milna band ho jayega..kahi log apni marjee se marna pasand kiye the..lekin mai darasal apne bache ke liye paani lene aayi thi..meri saari tablets khatam ho gayi..aur mai apne bache ko khoona nahi chahta..muje laga shayad muje thoda sa paani mil jaayega..kyunki koi bhi muje paani ki tablets dene ko taiyaar nahi hai”

Yeh sunkar sarthak ko bahut hi tejj gussa aata hai, Sarthak uss ladki ki aur dekhkar kehta hai “tum fauran apne bache ko lekar ship par aajao, mai tumhe tablet de dunga” uske baad sarthak teji se apni jet udate hue vaha se nikal jaata hai

Voh apne ghar pahuchkar chalti hui jet se kud jaata hai, aur voh jet aage jaakar ek building se jaa takraya aur ek blast ke sath voh jhal gaya..sarthak gusse se chalte hue apni banayi hui ship ke andar chala jaata hai, aur yeh dekhkar Aashi bhi uske piche piche aajati hai

Aashi ne dekhka ki Sarthak gusse me apne haath ko ship par maar raha hai, voh daudte hue sarthak ke pass jaati hai aur use shant karate hue kehti hai “sarthak, kya kar raha hai tu”

Sarthak “mai galat tha aashi..mai hamesa se galat tha”

Aashi “kis baare me..??” voh thoda dar rahi thi

Sarthak “insaano ko bachane ka koi fayda nahi hai..hume mar hi jaana chahiye”

Aashi “par hua kya hai..kuch toh bata”

Sarthak “chahe maut bhi samne kyu naa aajaye..insaan apna swarth kabhi nahi chodega..uske andar laalach hamesa basti rahegi..sach kahu toh aisa lag raha hai jese insaano ko jinda rehna hi nahi chahiye..yeh duniya sachchi me insaano ke bina hi khubsurat hai”

Aashi “tu aisa kyu bol raha hai..??”

Sarthak ne fir uss ladki ki kahani batayi, jise sunne ke baad aashi kehti hai “sarthak..marna kise pasand hota hai..jab tak hum jinda hai tab tak insaan ke mann me laalach hamesa basti rahegi..pehle paiso ki laalach thi..lekin ab jeene ki laalach hai..aaj paiso ka koi mol nahi reh gaya..lekin khaane peene ki tablelts ka mol unn paiso se bhi jyada ho gaya hai”

Sarthak udas hote hue kehta hai “toh kya kisi ko marne ke liye chod dena chahiye..?? yeh jaante hue bhi ki agar mera plan fail hota hai toh hum sab vese bhi marne vaale hai…toh kyu bas apne aakhri din me bhi ek dusre ke madad karna gunah hai..?? uss choti si nanhi jaan ki parwaah karna galat hai..?? kyu insaan hamesa sirf apne fayde dekhta hai”

Aashi “kyunki hum insaan hai..bhagwan nahi, hum insaano ki soch ko ab badal sakte hai..hum Antarctica jaakar ek nayi soch ko janam de sakte hai…tune hi kaha tha yeh ladayi kisi ek ki nahi hai..hume saath milkar rahenge tabhi iss jung ko jeet paayenge”

Iske baad sarthak kuch nahi bolta, aur kuch der baad antartica jaane ke liye aakhri bache 100 log aajate hai…Sarthak ne sabhi ko ek saath le jaane ke liye ek ship banayi thi..jisme sab baithkar teji se hawa me udte hue nikal jaate hai
City ki dome shields deactivate hote hi voh ship dakshin ki aur jaane ke liye nikal jaati hai, jese jese voh log aage badh rahe the..dharti ka ek bhayank swaroop sabhi logo ke samne aa raha tha..pichle 140 varso se ek bhi insan uss shield se bahar nahi nikla tha..yeh kehna galat nahi hoga ki abhi ship me maujd har ek insaan ka janam issi dome city ke andar hua tha

Dharti puri tarah se sukhkar ek kabristan ban chuki thi…charo taraf sirf aur sirf tuti hui imarate thi..paid podho ko toh jese naamonishan hi iss dharti par se mit gaya tha…jese jese yeh log aage badhte jaa rahe the vese vese unn sabhi ko bhayanak se bhayanak drushya dikhayi dene lagte hai..kahi par uss tuti hui imarat me bhishan aag lagi hui thi toh kahi jagah par logo ki sukhi hui laashe padi thi

Jameen par giri hui badi bai darare iss baat ki gawahi de rahe the ki insaan ne hamari khubsurat se bhi khubsurat duniya ko tabah kar diya hai..paiso aur technology ke moh me insaan iss had tak andha ho gaya tha ki use khud ke astitiva ka bhi khayal naa raha..agar insaan itna lalchi naa hota toh shayad samgra insaan aur hamari dharti ka iss prakar naash nahi hota

Voh jahaj triv gati se badhte hue hind mahasagar me aa pahuchta hai..3000 saal pehla jaha par ek vishalmay sagar hua karta tha voh ab ek sukhi banjar jamin bankar reh gaya hai…kahi jagah par choti toh kahi jagah par badi daaraare dharti ke vinash ki chavi dikha rahi thi…iss viran pade sagar me har ek jeev jantu ke kaankal uss baat ki gawahi de rahe the jo insaano ne unke saath kiya tha

Bahar ke haalat keval news me kabhi kabar dekhe the..lekin aaj voh har ek insaan jo iss jaahaj me the unn sabhi ki yeh drishya dekhkar hi rooh kaamp uthi thi..chahe voh koi bhi insaan ho..aaj sabhi ke aankho me ek samaan aansu aaye the

Karib 4 hours ki jorney ke baad inhe halka halka peele aur neele rang ka kuch dikhayi dene lagta hai, Sarthak thik uss jagah ke upar laakar ship ki speed dheemi kar deta hai, kyunki uss ship me baithe har ek insaan ke liye yeh pehla avsar tha jab voh apni hi aankho se pehli baar paani ko dekh raha tha

Tabhi ek chota bacha apni maa se puchta hai “mumma mumma, yeh kya chiz hai..??”

Iss choti si nanhi jaan ne ek aisa sawal kar diya tha jise sunkar har koi apna chehra niche juka deta tha, tabhi uski maa ne pyaar se uske mathe par haath firate hue kaha “beta, yeh Jal hai”

Bacha “yeh jal kya hota hai mumma”

Itne me hi aashi uss bache ke pass chalte hue aati hai, aur bache ke nanhe nanhe haatho ko apne haatho me lete hue kehti hai “jhal, neer, paani iske kayi saare naam hai, jab aap bade ho jaoge na tab aap khud hi samaj jaoge ki yeh sadharan si chiz nahi hai..yeh toh iss kudrat ka diya hua ek AMULYA TOFHA hai”

Jiske baad uss ship me koi kuch nahi bolta, aur voh chota sa bacha khidki ke seshe mese uss paani ko dekhte rehta hai jo antartica dweep ke charo aur ghera hua tha….karib 10 minutes ke baad voh ship ek jagah par land hoti hai..aur uske land hote hi Sarthak apni samne rahi ek transparent screen par touch karta hai jisse Antarctica ke charo aur dome shield activate ho jaate hai

Ek ek karke sab log ship se baahar aa jate hai, aaj tak insaano ne sirf imarate dekhi thi..lekin aaj yeh sabhi log pehli baar iss jungle ka luft utha rahe the..charo tarah hariyali hi hariyali thi, ek manmohak si khusbu vaha ke vatavaran ko aur bhi madhur bana rahi thi

Tabhi uss chote se bache ko ek ful ka podha dikhta hai, jiske ful par ek choti sa lekin bahut hi pyaari sa titli baithi hui thi..voh uss ful par baithe baithe dheere dheere apne paankhe hawa me lehra rahi thi, aur thik usi waqt vaha par bhi ek thandi se shital lehar sabhi logo ko apne chehre par mehsoos hoti hai..aisa lag raha tha maano voh choti si titli hi iss thandi sudh hawa ko janam de rahi hai

Vaha aaye hue logo me bahut si baate hone lagi, “maine itna khubsurat najara aaje se pehle kabhi nahi dekha” toh koyi keh raha tha “hamare ancestors kitne lucky rahe honge na, jinhone itne khubsurat jungle ko apni aankho se dekha hoga”

Tabhi sarthak ship se sabse akhir me bahaar aata hai aur uss chote se bache ke samne jaakar apne ghutno ke bal baith jaata hai, “aap jante ho yeh kya hai” use bolne me kaafi takleef hone lagti hai

Voh chota bacha naa mein apna sar hilata hai, jise dekhkar sarthak ne uske gaal par pyaar se haath firate hue kehta hai “voh titli hai..ise butterfly bhi kehti hai”

Voh bacha kabhi sarthak ki aur dekhta toh kabhi uss titli ki aur, sirf yahi nahi..vaha maujud har ek vyakti iss jagah ko dekhkar apne andar ek anokhi tagji mehsus kar raha tha
Vahi rupal ne deval ke gale lagte hue kaha “sach me, aisa lag raha hai maano hum swarg me aagaye ho”

Deval “kisi time par log dharti ko hi swarg maana karte the, aaj uss baat par yaakeen ho gaya hai sach me dharti swarg se kam nahi thi”

Aashi ne aankhe band karke upar asmaan ki aur apna chehra kiya, aur apni baanhein khole iss anokhe vatavaran ko apne rom rom me mehsus karne lagti hai, tabhi achanak se uske chehre par kuch thanda sa girta hai, jiske baad voh apni aankhe khol upar ka najara dekhkar uske chehre par khushi ki lehar fail jaati hai

Itne varso tak jisne peele rang ka asmaan dekha tha voh aaj pehli baar halke safed aur halke kaale rang ke badal ko dekh rahi thi, tabhi fir ek baar uske chehre par paani ki ek bund girti hai jisse voh apni aankhe band kar deti hai, uss paani ke ek boond ki thandak uske dil se lekar uske roonh tak pahuch jaati hai

Voh fauran sarthak ko yeh batane ke liye mudti hai ki use sarthak girte hue dikhta hai, voh daudti hui sarthak ke pass jaati hai lekin tab tak bahut hi jyada der ho chuki thi
Aashi ki dhadkan iss waqt bahut teji se daud rahi thi, usne himmat karke sarthak ki nabj dekhi, uski nabj naa chalte hui mehsoos kar voh sarthak ke seene par apna sar rakh deti hai aur uski aankho se aansu beh jaate hai

Deval aur Rupal bhi sarthak ke pass aate hai, rupal ne jab aashi ka chehra uthaya toh aashi apne aansu se bheege hue chehre se naa mein ishara karti hai jise rupal aur deval samaj jaate hai ki aakhir me kya hua hai

Dheere dheere karte yeh baate unn saare logo ko pata chal jaati hai, jisne unhe ek naya jivan diya toh voh ab hamesa ke liye unsab se dur jaa chukka hai, voh chota bacha apne nanhe nanhe haatho se aashi ke chehre par aaye hue aansuo ko hata deta hai, jise dekhkar aashi use kaskar apne seenese laga deti hai aur uski aankho se naa rukne vale aansuo ki dhaara behne lagti hai

Vaha maujud har ek shaks ki aankho me aaj aansu the..sirf insaan hi nahi aaj toh kudrat bhi uss vyakti ke khone par apna dard vyakt kar rahi thi, dheere dheere karte hue uss jungle me tezz baarish shuru ho jaati hai
Sabhi log apni aankhe band kar unke life ki pehli barsaat ko mehsoos karne lagte hai..tezz baarish aur thandi thandi hawa chalne ke baad bhi koi vaha se jaana nahi chahta tha..aur aakhir jaaye hi kyu..??

Jinhone paani ke naam par keval tablets khayi thi, oxygen ke naam par artifical oxygen liya tha..voh kese iss kudrat ke tofho ko chod sakte the…chote se lekar bada, har koi iss paheli baarish ka aanand uthane lagta hai

Deval bhi upar asmaan ki aur dekhte hue kehta hai “sarthak..you did it, tune kar dikhaya mere bhai” itna kehti hi uski aankho se bhi aansu behne lagta hai..lekin baarish ke iss paani me voh aansu kahi ghum ho jaate hai

Rupal bhi apne jeevan sathi Deval ke gale lagkar unki pehli baarsaat ko mehsoos kar rahi thi…aur vahi aashi chehre par ek pyaari si muskaan aur aankho me aansu liye ek tak sarthak ke uss chehre ko dekh rahi thi jispar baarish ki bunde apna jaadu bekhair rahi thi

Jisne paani laane ke liye bina swarth ke kaam kiya voh iss baarish ko dekhe bina hi iss duniya se jaa chukka tha, tabhi voh chota bacha aashi se kehta hai “didi..didi, sarthak bhaiya ne haina, unhone muje….apne haatho se unki…..aakhli paani ki tttablet….muje thilayi thi” uss bachne ne bahut hi masumiyat se apni baat kahi thi..jiska matlab toh voh khud bhi nahi jaanta tha

Aashi ne uss bache ke sar par pyaar se haath firaya aur uski maa ki aur dekhne lagi jo uske samne haath jode khadi hui thi..yeh vahi ladki thi jise Sarthkar ne bachaya tha, aur ship me jaane se pehle apni bachi hui aakhri tablet bhi sarthak ne uss nanhe se bache ko de di thi

Tabhi uss ship mese ek chota sa robot aata hai aur usme se Sarthak ka ek hologram bahar aata hai “agar aap yeh dekh rahe hai toh shayad mai iss duniya se jaa chukka hu, agar mera plan successful hota hai toh maine ek algorithm already set karke rakha hai, bas yeh ek button dabana hai jisse yaha ke jesa same dome dharti ke north pole par acitivate ho jayega…ab insaan ka baaki jagah par naa rehne ke karan dharti firse pehle jese banne ki koshish karegi..aur agar mera plan fail hota hai toh shayad ab insaan ka iss duniya se hamesa hamesa ke liye vajood mit jayega” iske baad voh hologram message band ho jaata hai aur deval ko uss chote se robot me voh button dikh jaata hai

Deval apni nam aankho se uss button ko daba deta hai aur uske baad voh robot apne aap hi band ho jaata hai

THE END
 

Lucky lerka

Active Member
Messages
655
Reaction score
789
Points
93
Tital...... Dil Ki Tarap

Writer....... Lucky Boy
Hi dosto ma is consent per apni stroy laker aya hun abi eid khatam howi he ramzan bhi khatam howa to bhot jaldi ma meri story per update dena wala hun maine ap sab ke liya ye story likh rha hun umeed he passand ai gi ap sab ko

ye ye ak ase larke ki story he jo jo pyar ke liya bhot tarap a he aur ye ak sachi story he jo ma likhne jha rha hun yha

ak larka tha jo apni life ko bhot achi bna na chata tha per qismat sath nhi de rahi thi phir wo apni mahnat per laga rha per achnak se use ak larki se pyar hota he jo us ko pata nhi tha ye bigri howi larki he

lerka us ke liya pagal ho gya aur us ke liya family ki bat na mani ur us ke sath rishta kar liya jab rishta ho gya tab larke ko us ke bare ma pata lage ne laga ka wo kasy larki

per usi doran us larke ko ak aur larki se pyar hota he jo khud bhi us larke se pyar karti thi aur sab man bat dono larkiya apas ma bhot achi dost thi (jis se rishta howa wo larki 1 aur dosry larki 2 ) larka dono ke sath ache se rah rha tha pyar bhi kar rha the time bhi de rha tha yun hy ak saal nikal gya larka dono se is qader jur gya ke dono larkio ma us ki jan basti thi

phir ak din larki2 mujhe se milne ai aur us se bat howi

larki2..... Suno na mukhe kisi aur se pyar ho gya he aur tumara rishta ho gya he to tum mujhe bhool jao

Larka...... Ase kasa bhool jao pyar kiya he maine tum bol rahi ho bhool jao

larki..... Tumara rishta howa para he wo bhi meri best friend ke sath aur ma use doka nhi de sakti aur mera maa baap bhi nhi mane ge to ab mujhe tum msg mat karna ok ab tere mera koi rishta nhi

us ke bad wo larki2 chali gay larke ki jan us ke sath jur gay thi per larka ab kuch nhi kar sakta tha phir us ne larki 1 se dil laga na shuro kiya to pata chala ladki1 achi ladki nhi he kisi aur ke sath chaker he aur wo larke se larti larke per shak karti aur khud ko nuksaan pochati us ko khud per bhi bhot guroor ho gya tha

ke is larke ke sath rishta ho gya to rani ban gay dosro ke sath attitude ma bat karna mujhe ye passand nhi aya aur us ki in adato se mera dil aur toot gya feeling khatam kar di us ne.

Larka dono se bhot pyar karta tha per ak ne apni dost ke liya chor diya to dosry ne larke ka dil tor ker larka akela per gya ase hy kuch mahine nikal gay larka ke ka jis ke sath rishta howa wo na use tor pah rha tha na use apna pah rha tha

phir ak din larke ko us larki ki bhot yaad ai larke ne us se bat karna chay aur bat phir hone lagi kuch larki2 phir us larke ke zindagi ma ane lagi 2 mahine bad phir chor diya ase hy bhot time nikal gya us larki2 ka bar bar meri zindagi ma ana jana asa lag rha tha ke

koi mera dil ko bar bar chaku maar rha he time pass ke liya a rahi ho

Wo larki2 jis larke se pyar karti thi us ne us chor diya aur larki akele ho gay per us ne larke kuch nhi bola na use yaad kiya per ak din larke ko pata nhi q dil ma takleef ho rahi thi us ki yaad a rahi thi to larke use call ki

larka...... Helooo

Larki.... Jawab nhi mila......

Larka...... Hello bolo na cutiee kiya howa chup q ho

Larki ka phir bhi jawab nhi mila

Larka...... Plzzz na cutiee jawab de do pata nhi q bhot tajleef ho rahi mujhe teru bhot yaad a rahi he bolo na werna ma ro paro gaa

larki Rone lagi

larka......plzzzz bolo na cutiee roo q rahi ho kiya howa (larke ne bhi rote howe pucha )

larki(rote howe).....sorry

Larka (rote howe)...... Kiya howa bolo na dekho ase sorry na bolo apke moo se sorry acha nhi lagta aur ro q rahi ho

Larki(rote howe)...... Tum itne ache q ho meri her galti ko maaf q kar deta

Larka...... Mujhe nhi pata

larki(rote howe)...... Tume maine itni takleef di he kitni bar chora he kitni bar pass a ker door gay hun phir bhi tum mujhe bhool nhi pah rahe ho aur ma hun ke takleef hy de rahi hun tujhe per phir bhi tuu meri her takleef dard samjh lata he q karta ho itna pyar mujhsee

larka......sab se pla tum chup ho jao aur saf saf bolo howa kiya he

larki...... Wo ma jis larke se pyar kartu thi us ne mujhe chor diya

larka...... Han to maine mna kiya tha na anjan larko ke chaker ma na paro wo apne matlab ke liya larki ko istmal karte he

Larki...... Sorry ma kiya karo apka rishta kisi aur ke sath howa para he uper see mera maa baap bhai kasa he tume pata he

Larka...... Cutieee maine bola na ma her waqt apke sath hun ma apke her kadam ma sath hun ma apko kabi chor nhi sakta

larki..... Per

Larka...... Ma manta hun mushkile bhot he per ma un ka samna karne ke liya tyar hun aur tujhe pata ager tujhe thora bhi dard hota he dukh hota he takleef mujhe hoti he tere sath mara dil jura he ase kasa chor dun tume

larki..... Han pata he tumre elwa mujhe koi nhi samjh ta tume mera dard meri pareshani sab nazer a jati he dil jo bhi chata he mera wo tume pata lag jata he to aur kiya chaye ak larki ko

larka..... Han

larki...... Mujhe pata he maine apko bhot takleef di he per kiya karo der jati hun werna ak larki ko samjhne wale larka ko q chore gi

Larka....... Ma hun na tumre sath q darti ho tum ma hamesha apke pass raho ga

larki...... I love you so much i love you so much. Mujhe kabi chor kar mat jana

larka...... I love to so much ma hamsha apka sath hun zindagi ka nhi bol sakta per apke sath hun jab tak zindagi he

phir ase hy larke life ma khusiya a gay bich bich ma phir larkia asa karne lagi per larka use wapis la ata larki ko gosa ata to rooth kar chali jati takleef larke ko hoti ase hy life chal rahi he

Ye jo bhi bat likhi wo such he asa mera sath howa he aj bhi ma is ma us larki se bhot pyar karta hun wo bhi bhot karti he per mera rishte ki waja se main kuch nhi kar pah rha itni himmat nhi ka maa baap ka samna kar saku

ma bus ap logo ko ak bat bolna chao ga

larki ko samjho larki ko jo chaye wo do mhenge gift nhi pyar doo us time do. Ak larki pyar ki bukhi he us time chaye wo time ki bukhi he larki ko samjho use istmal na karo larki ak pyara tofa he use apne seena saa laga kar rakho aj ma jab us larki se alag hota hun to asa lagta he jism ma jaan hy nhi he

Maine us larki ko is liya chor diya ke wo sai nhi thi per us larki ko is liya nhi chor pah rha hun ke is se sacha pyar karta hun aur ma is khona nhi chata mujheap log bata na kasy lagi mari ye story ur ye bhi bata na ka maine sai kiya ya galat mujhe nhi pta shadi hogi ya nhi per ma is larki ke sath zimdagi bitna chata hun

ye ak true story he meri life ki

last ma yahi khao ga meri story Zindagi ke anlkhe rang us ko pyar do ma phir aj se us ki update dena wala hun aur reaques he use bhi apna pyar do take mujhe likhne ma himmat mile umeed he ye story bhi passand ai bakhi milte he dosto aona khayal rakhna


Ap ka writer. Lucky boy
 

nain11ster

Prime
Messages
20,131
Reaction score
58,083
Points
173
परा विद्या

शिमला का मशहूर इलाका मशबोरा की एक सोसायटी में कौतूहल का माहौल था। ग्रीनरी नाम की सोसायटी में पुलिस चहल कदमी करती बड़ी तेजी से तीसरी मंजिल की ओर बढ़ रही थी, जिसके एक फ्लैट में रह रहे पति-पत्नी का कत्ल कर दिया गया था। सोसायटी की भीड़ को हटाते हुए पुलिस की टीम के साथ पुलिस अधीक्षक माथुर मौके पर पहुंचे और वहां का मुआयना करने लगे। पुलिस अधीक्षक थोड़ी देर मुआयना करने के बाद, मशोबरा चौकी के सर्कल इंस्पेक्टर कालिका को ढूंढने लगे। कालिका को मौके पर ना पाकर साहब बहुत गुस्से में आ गए |

कुछ ही समय पश्चात कालिका सोसाइटी में पहुंची। जैसे ही वह अपने स्कूटी से उतरी, वहां के भीड़ का आकर्षण कालिका ही थी। और हो भी क्यों ना, बला की खूबसूरत लड़की जो सर से लेकर पाऊं तक सजि थी। उसके श्वेत से बदन पर लिपटी लाल साड़ी जो नाभि के नीचे कमर पर बंधी थी, उसके शरीर के मनमोहक आकार में चार चांद लगा रही थी। काले घने खुले हुए गेसूवें, जिसकी कुछ लड़ियां जब उसके माथे से हो कर गाल को टकराती, ऐसा लगता मानो दिल में ज्वार भटा उठ गया हो।

जैसे ही कलिका स्पॉट पर पहुंची, उसे देख कर माथुर और भी गुस्से में आ गए। "नाटक चल रहा है क्या यहां या मिस वर्ल्ड या मिस यूनिवर्स के प्रतियोगिता में हिस्सा लेने आई हो".... कालिका धीमे-धीमे बड़बड़ाने लगी "चिर-शांति, चिर-शांति"। कालिका का इतना बोलना था और माथुर का मन बिल्कुल शांत हो गया।…

कालिका:- सर आज मैंने हाफ डे लीव लिया हुआ था। कल बताई तो थी लड़के वाले देखने आ रहे है।

"इट्स ओके" कहते हुए माथुर साहब उसे कुछ समझा कर वहां से चले गए। उनके जाने के बाद कालिका अपनी ड्यूटी में लग गई। पुलिस की पूरी टुकड़ी एक-एक सुराग को ढूंढ़ने में लग गई और कालिका एक-एक कर के सब के बयान दर्ज करने लगी। पूछताछ के दौरान कुछ चौंकाने वाले तथ्य भी सामने आए।

सोसायटी के लोगों के बयान दर्ज करने के क्रम में मिथलेश नाम का एक युवक काफी क्रोधित हो कर खून का इल्ज़ाम वहां के एमएलए पर लगा रहा था। उसके अनुसार बीती रात एमएलए का झगड़ा इन दोनों पति-पत्नी के साथ हुआ था।

वहां की सारी फॉर्मेलिटी पूरी करने के बाद कालिका अपने घर लौट आईं। जब वो घर लौटी तबतक लड़के वाले जा चुके थे। देखा-सुनी के बीच में उठ कर जाने से उसकी मां सोभा काफी गुस्से में थी और कालिका के आते ही उस पर चिल्लाने लगी।

कालिका मुस्कुराती हुई केवल इतना ही कही… "धात्री जाने दो ना, वैसे भी वो लड़का मुझे पसंद नहीं था"।

"छह रिश्ते पहले ही ठुकरा चुकी है और अब ये सांतवा, पता नहीं कब तुझे कोई पसंद आएगा"

"ये सब बाद में देखेंगे, पहले ये देखो"… कालिका कत्ल कि तस्वीर अपने मां के पास रख दी। तस्वीरें देखते-देखते सोभा के चेहरे की रंगत उड़ने लगी.... पंजे से पूरा बदन उधेरा हुआ, गले पर बड़े-बड़े दातों के निशान।अस्चर्य से फटी आखें जब ये तस्वीरें देख रही थी तो मुख से अनायास ही निकल गया "एक अल्पसर का हमला"।

कालिका:- जी हाँ धात्री एक अल्पसर का हमला।

सोभा:- मुझे गुरु जी से मिलने तुरंत ही जाना होगा। तबतक तुम पता लगाओ की ये किसने किया। किन्तु संभलकर।

हिमाचल के शांत और घने जंगलों वाला ये क्षेत्र अपने अंदर कई राज समेट हैं, उन्हीं में से एक था यहां का मग्स समुदाय। जादूगरों का यह समुदाय हिमाचल के मूल निवासी थे जो अपने कई पीढ़ियों से यहां रह रहे थे।इनके हिसाब से समाज 2 वर्गों में बंटा हुआ है.. एक जादू करने वाले जिसे मग्स कहते है और दूसरा आम इंसान जिसे श्रेष्ठ कहते है।

सोभा एक ऊंचे कुल कि मग्स थी, जो मुख्यरूप से मग्स के द्वारा कि जाने वाली गतिविधियों पर नजर बनाए रखती थी। इनका मुख्य कार्य अपने क्षेत्र में मग्स कानून को बनाए रखना तथा शक्ति के खोज में भटके हुए मग्स को सही रास्ता दिखाना। और जो सही रास्ते पर ना आए उन्हें दंड देना। मग्स में कुछ भटकी प्रजाति भी थी जिन्हे विकृत बुलाते थे। इनके नाम के पीछे अल्प भी लगाया जाता था क्योंकि इनका शरीर आंशिक रूप से किसी जानवर में बदल जाता था जो इनके वास्तविक स्वभाव को दर्शाता था जैसे कि अल्पशेर, अल्पशियार। और इन्हीं विकृत में सबसे ऊपर था अल्पसर, जो खुद को मग्स समुदाय में सबसे शक्तिशाली मानते थे।

अल्पसर का यूं सहरी क्षेत्र में हमला करना काफी चिंता का विषय था इसलिए सोभा तुरंत ही गुरु जी से मिलने के लिए रवाना हो गई। इधर कालिका ने सारा दिन हर सुराग के पीछे भागती रही ताकि किसी भी तरह से कातिल का पता चल सके। थका देने वाला दिन था, कालिका बिस्तर पर जाते ही सो गई। सुबह जब उसकी आंख खुली तब चेहरे पर एक प्यारी सी मुस्कान थी, शायद किसी हसीन सपने से अभी-अभी जागी थी।

उठते ही फिर से वही ड्यूटी और पुलिस चौकी। कालिका पोस्टपार्टम रिपोर्ट लेने सीधा डॉक्टर से मिलने चली गई। डॉक्टर से मिलकर कई बातों का खुलासा हुआ जिसके मुख्य बिंदु थे…. दोनों दंपत्ति के रक्त में सांप का जहर पाया गया जिस वजह से दोनों परालाइज्ड हो गए। उन के शरीर पर पंजों से वार कर से पूरे शरीर को उधेड़ कर रख दिया गया। सभी वाइटल ऑर्गन डैमेज और नतीजा मौत। बदन पर जो डीएनए सैंपल मिले है वो किसी इंसान के थे।

कालिका पूरी रिपोर्ट लेकर सीधा पुलिस अधीक्षक के ऑफिस पहुंची। वहां माथुर ने इसे किसी साइको किलर का केस मानकर, ये केस स्पेशल टीम को सौंप दिए और कालिका को अपने स्तर से छानबीन जारी रखने कहा।

थाने में बैठ कर कालिका कत्ल के बारे में सोच ही रही थी कि एक और कांड कि सूचना आने लगी। किसी ज्वेलरी शॉप का तला तोड़ कर लाखों के जेवरात कोई चुरा ले गया था। कालिका अपनी टीम के साथ पहुंचकर तुरंत जाँच शुरू कर दी। पूछताछ के सिलसिले में कलिका शॉप ओनर से मिलने गयी जहां एक मिनट के इंतज़ार के बाद शॉप ओनर अपनी जगह पर आ कर बैठ गया।

कालिका उसे सामने बैठते देख, उसे एक नजर देखी…. और एक बार जब नजर पड़ी तो वो उसके चेहरे को बड़े गौर से देखती रही।

"किसी का किया किसी और पर थोपा गया। भरी सभा में इतनी बेज्जती हुई कि उसे अपना घर और सहर छोड़कर जाना पड़ा। और विडम्बना देखिए मैडम अब भी पहचान ना पाई"

कालिका एकदम से हैरान होती हुई… "अरे संदीप तुम"

संदीप बेल बजा कर एक लड़के को बुलाया और उसे ये कहकर शिकायत वापस लेने कह दिया "कि कहीं इस बार भी कोई निर्दोष कालिका मैडम के हत्थे ना चढ़ जाए"… अब आलम ये रहा की कालिका, संदीप से सीधे-सीधे बात कर रही थी और संदीप अपने स्टाफ को जवाब देता वो भी उल्टे और शब्दों में इतने ताने भरे की दिल में छेद कर जाए। कालिका बेज्जती सी महसूस करने लगी और उठ कर वहां से चली गई। लौटते वक़्त कालिका के दिमाग में बस संदीप के ताने ही चल रहे थे और याद आ रही थी 8 साल पहले की वो छोटी सी घटना ।

कालिका इस वक़्त कॉलेज में थी और संदीप वहां का सीनियर हुआ करता था। दोनों के बीच की कहानी इतनी सी थी कि कालिका की सहेली को किसी ने बुरी तरह रैगिंग कर दी और नाम उछल आया संदीप का। कालिका बिना सच का पता लगाए अपनी पूरी पलटन के साथ रात भर में, पूरे सहर में उसके बड़े बड़े पोस्टर लगवा दी … "सहर के सब से बड़े सेठ अमृत लाल का बेटा अपनी दुल्हनिया ढूंढ़ने के लिए जगह-जगह मुंह मार रहा है। संभालो अपने लौंडे को"

संदीप के पिताजी को कौन नहीं जानता था, इस बेइज्जती के बाद संदीप को सहर छोड़ना पड़ गया। कुछ दिनों बाद सब को सच का पाता चला, लेकिन जब फेक न्यूज फैलाना होता है तो बड़े-बड़े होर्डिंग लग जाते हैं किंतु जब सच सामने आता है तो कोई छोटा माफीनामा भी नहीं डालता। वैसे कालिका को जब सच पता चला, तब उस वक़्त उसे कोई फर्क नहीं पड़ा था, पछतावा तो दूर की बात थी। लेकिन अपने कर्मा से कौन बच पाया है। जो पछतावा तब नहीं हुआ वो अब हो रहा था। उस केबिन में बिताए 5 मिनट और संदीप द्वारा दिए गए ताने कालिका को किसी तीर की तरह चुभ रहे थे।

आत्मग्लानि और पछतावा के कारण कालिका किसी ना किसी बहाने संदीप से मिल रही थी, अपने किए की माफी भी मांग रही थी, किन्तु इतना पुराना ज़ख्म केवल माफी से कहां ठीक होने वाला था। लेकिन कालिका भी कहां हार मानने वाली थी। वो लगातार मानती रही, संदीप लगातार बेरुखी दिखाता रहा। कालिका कुछ भी कहती वो चिढ़ कर उल्टा ही जवाब देता और होता ये की उसका चिढ़ा हुआ चेहरा देख कर कालिका उसे थोड़ा और चिढ़ा दिया करती थी। गुस्से में जब वो फुफकार मार कर इधर-उधर देखता और किसी तरह अपने गुस्से को काबू करने की कोशिश करता तो ये नजारा देख कर कालिका मुस्कुरा देती।

इतना हट इतना जिद देखकर, कालिका ने एक दिन संदीप को अगवा ही कर लिया और उसे अगवा करके जंगल में ले आयी। संदीप वही अपना चिड़चिड़ापन दिखाते कहने लगा… "व्हाट्स दी हैल, आर यू मैड"

कालिका उसका ऐसा चिढ़ा हुआ चेहरा देख कर ही हसने लगी और उसे ऐसे हंसते देख संदीप चिढ़ कर जीप से उतरा और पॉकेट से सिगरेट निकाल कर जला लिया।

कालिका:- सॉरी मुझे हंसना नहीं चाहिए था, पर क्या करूं तुम्हारा चिढ़ा हुआ लाल टमाटर जैसा चेहरा देख कर हंसी आ गई।

"लाल टमाटर" सुन कर संदीप को भी इतनी तेज हंसी आयी की उसके मुंह से सिगरेट दूर जा गिरा…. "16 रुपया बर्बाद"

"इतने बड़े सेठ हो कर एक सिगरेट गिरने का अफसोस कर रहे, कंजूस कहीं के"

"हुह.. कोई मुफ्त में 16 रुपए देता है क्या, कमाने पड़ते हैं। वैसे मैं तुम से बात ही क्यों कर रहा"

"बस भी करो संदीप, एक ही बात के लिए कितना कसूरवार महसूस करवाए जा रहे हो। तुम्हारा चिढ़ना तो एन्जॉय कर लेती हूं पर तुम्हारे ताने चुभते हैं। अब भूल भी जाओ पुरानी बातों को"

कालिका की बात सुन कर संदीप का चेहरा छोटा पर गया और इत्तू सा मुंह बना कर शुरू किया अपना राग …. "कहना आसान होता है भूल जाओ"….

कालिका अपना सिर पीट लेती है… "इसकी तो, रीपिटेड कैसेट..... जब देखो इसके चैनल पर एक ही गाना बजता "

कालिका तेजी से संदीप के पास पहुंची, उसका कॉलर पकर कर उसके चेहरे को झुका दी… खुद अपनी ऐरियों को ऊपर कर, होंट के बचे फासले को मिटाती हुई, छोटी पर जहरीली चुम्बन दे कर वो पीछे हट गई। उस जहरीली चुम्बन का असर ऐसा था कि संदीप के तन बदन में सुरसुरी दौड़ गई। वो कुछ कह पाता उससे पहले ही कालिका जीप उठा कर निकाल ली और जाते-जाते कहती गई…

"एक पुराना कांड है और दूसरा ये अभी का नया कांड। पदयात्रा करते आओ और तय कर लेना मुझसे किस कांड पर झगड़ा करने वाले हो। मैं चली"….

उफ्फ क्या अदा थी, दीवाना बना गई। ऐसा दौड़ शुरू हो रहा था जब देखने को दिल ललचा जाए। बात करने को मन व्याकुल हो जाए और एक बार जो मुस्कुरा दे तो दिल में बाहर छा जाए। अब तो मिलने के बहाने पैदे किए जाने लगे। दोनों के लिए एक पल कि मुलाकात भी बड़ी मीठी होती थी। होटों पर मुस्कान और चेहरे से झलकती खुशी।

रातें अब फोन कॉल पर बित रही थी। जब दोनों अपरिपक्व उम्र में थे तब कभी भी, किसी से, फोन पर दिलकश और लुभावनी बातें नहीं हुई, किंतु आज पूरी-पूरी रात इन्हीं सब बातों में गुजर रही थी।

प्यार अपने पूरे परवान पर था। अपने प्रियसी को बाहों में भरने का एहसास और अपने प्रेमी द्वारा बदन का स्पर्श दोनों में एक अलग ही रोमांच पैदा कर रहा था। मन में फुट रही तम्मनाएं और तेज धड़कनों के साथ, एक दूसरे को आलिंगन में भर कर चूमना और चूमते हुए एक दूसरे के बदन को स्पर्श करने की अनुभूति, तन और मन को एक अलग ही उड़ानों पर ले जाती।

एक दूसरे को स्पर्श करना और उस स्पर्श में बदन का टूट कर बाहों में जा गिरना। फिर प्यार के एक अलग आनंद में जब एक दूसरे के कपड़े, एक-एक कर चूमते हुए निकालना, बदन को उस प्यार के एहसास में डुबो देती जिसमें प्यार की अनंत उन्माद ऐसे उत्पन्न होती, जो बदन को एक अलग ही एहसास में झुलसा देती। फिर तो नजरों से नजरें मिलती और समर्पण की भावना छा जाति।

उन अनुभवों के साथ तन का मिलन होना जिसमें बदन पर स्पर्श मात्र से ही सिहरन का एहसास हो, और रोमांच से खड़े रौंगटे, बदन पर साफ देखे जा सकते थे। फिर डूब कर उस मिलन कि अनुभूति करना और उस अनुभूति में डूब कर अपने चरम पर पहुंचने का अनुभव जिसमें चरम पर पहुंचते-पहुंचते, बदन पर चूमने और काटने से बने वो लाल निशान प्यार की कहानी बयां कर जाती थी।

डूब कर प्यार करना और प्यार में डूब जाना बस यही चल रहा था। कभी चूमते-चूमते शरारत में कालिका के योवन को अपने हाथों से निचोड़ देना, जिसकी गवाही उसके छाती के ऊपर के कपड़ों कि सिलवटें दे जाती, तो कभी-कभी शरारत में संदीप के होटों को इस कदर काट लेना कि सुजे होंठ की कहानी किसी को पता ना चल जाए इसलिए चेहरा छिपा कर घूमना।

प्यार का नशा भी अजीब होता है.. जब प्यार होता है तो सारी दुनिया प्यारी लगने लगती है। बातों में मिठास और काम करने के तरीके में नजाकत अपने आप ही आ जाती है।

एक तरफ प्यार अपने परवान पर था तो दूसरी तरफ इनकी अपनी-अपनी ज़िन्दगी। सोभा, लगभग एक महीने बाद लौट चुकी थीं। लौटने के तुरंत बाद ही कालिका से कुछ बातें साझा करना चाहती थी, किंतु कालिका के हाव-भाव देख कर उसे समझते देर ना लगी की कालिका किस दुनिया में खोई है। और ऐसा ही कुछ संदीप के घरवाले उसके हाव-भाव से समझ रहे थे। दोनों के रवैए को देखकर इनके घरवाले मन बना चुके थे कि अब इनकी जल्द शादी करवा देनी चाहिए। इसी क्रम में सोभा अपनी बेटी को बिठा कर उससे साफ-साफ शब्दों में पूछ लेती है "कि वो किसके ख्यालों में डूबी है"?

और जवाब सुन कर तो मानो जैसे उसपर बॉम्ब गिर गया हो। आश्चर्य से मुंह बस खुला रह गया…"क्या, एक श्रेष्ठ से प्यार"। किंतु कहानी केवल कालिका के घर में ही नहीं फसी थी, बल्कि संदीप के घर में भी बॉम्ब फूटा था… संदीप से उसके प्रेम कहानी के बारे में पूछने पर जब कालिका का नाम निकल कर आया तब उसके सभी घरवालों के मुंह खुले के खुले रह गए… " क्या…. वो पुलिसवाली, जिसने तुम्हारा पोस्टर लगवाया था"

फिर क्या था कहानी का पेंच ऐसा उलझा की दोनों के घरवाले अपने-अपने बच्चे से नाराज़ हो गए। घर में तू-तू मैं-मैं का माहौल शुरू हो गया। एक तरफ संदीप और कालिका अरे हुए थे तो दूसरी ओर इमोशनल ड्रामा से ले कर घर से निकल जाने कि धमकियां भी मिल रही थी। लेकिन इन सबके बीच दोनों का मिलना-जुलना और प्यार कभी कम ना हुआ। 10 दिनों के लगातार ड्रामे के बाद दोनों परिवार उनकी शादी की बात को लेकर राजी हुए। फिर वक़्त आया दोनों परिवारों के लोगों के मिलने का।

उफ्फ क्या मीटिंग थी…. लड़केवालों को लड़की पसंद नहीं, लड़कीवालों को लड़का पसंद नहीं.. फिर तो केवल जहर ही उगल रहे थे दोनों परिवार। कुत्ते-बिल्लियों कि भांति, भरी सभा में ही लड़ने लगे। लेकिन इस तूफानी माहौल में भी दोनों कोने में बैठकर इश्क़ फ़रमा रहे थे। एक ही कुर्सी पर दोनों बैठे, एक ही आइसक्रीम के कप से एक दूसरे को आइसक्रीम खिलाते हुए…

"तुम्हे क्या लगता है कालिका और कितनी देर लड़ेंगे"……

"लड़ने दो जितनी देर तक लड़े तुम अंगूठी तो लाए हो ना"…

संदीप गालों को चूमते… "अंगूठी तो लाया हूं पर तुम्हारी चमक के आगे आज इस हीरे की चमक भी फीकी पर गई। हाय.. आज तो तुम घायल कर रही हो"…

"बेशर्म कहीं के सब के सामने ऐसे कोई चूमता है क्या"

"सब के सामने हूं इसलिए संयम में हूं … अकेले होता तो क्या केवल गाल चूमता"

"आ हां .. तो और क्या-क्या चूमते"

"वो तो जब अकेले होते तो ना"

"तो चले अकेले में, दिखा ही दो"

"हट पागल… तुम भी ना"

"मैं भी ना क्या?… क्या केवल मुझे देखकर तुम्हे ही उत्तेजना महसूस होगी, मै तुम्हे देख कर उत्तेजित नहीं हो सकती क्या?… या एक लड़का और लड़की के रिश्ते में केवल उत्तेजित होने का अधिकार लड़के को ही है"

"कृपया इस विषय पर आप मेरी क्लास बाद में ले लेना.. फिलहाल चलकर उधर सँभालते हैं"

अब दोनों पहुंच चुके थे बीच मैदान में। फिर बातों का सिलसिला शुरू हुआ… लगभग ½-1 घंटे की माथापच्ची के बाद दोनों परिवार इनके एंगेजमेंट के लिए मान गए। मान तो गए लेकिन खुन्नस कम नहीं हुई। और इसी खुन्नस की वजह से माहौल ऐसा हो गया कि कालिका और संदीप एक दूसरे को अंगूठी पहना रहे थे। कालिका का परिवार बाएं दीवार को तो संदीप का परिवार दाएं दीवार को देख रहे थे।

अगली सुबह फिर बुरी खबर लेकरआई। इस बार घटना न्यू शिमला थाना क्षेत्र की थी जहां रह रहे एक विवाहित युगल को ठीक वैसा ही कत्ल किया गया जैसे ग्रीनरी सोसायटी में हुआ था। कालिका इस कत्ल से काफी आहत थी, क्योंकि उसके पास वक़्त तो था लेकिन उसने इस केस पर कुछ किया नहीं… इसी बीच संदीप का फोन आने लगा। कालिका का जरा भी मन नहीं था बात करने का इसलिए वो फोन उठा कर संदीप को मना कर दी

अभी वो संदीप को माना कर ही रही थी और सामने से मिथलेश पहुंच गया। कालिका उसे देखती ही कहने लगी… "मिथलेश बाद में आना, अभी मैं व्यस्त हूं"

"मैडम 45 दिन में ये दूसरा बड़ा मर्डर हो गया और आप ना जाने कहां व्यस्त है"

"मिथलेश मै इस केस को ले कर पहले ही परेशान हू, प्लीज़ तुम मेरा दिमाग मत खाओ"

"मैडम आप इतनी ही चिंतित होती तो अब तक वो कातिल पकड़ा जाता और दूसरी वारदात को अंजाम भी नहीं दे पाता"

"मैं तुम्हे ध्यान से सुन रही हूं। रखो अपनी बात"....

"मैडम पहला केस अर्जुन और संगीता, दूसरा केस अभय और रागनी। और ये वहीं लोग हैं जो जमीन अधिग्रहण को लेकर एमएलए के खिलाफ मोर्चा खोले हुए थे"

"ठीक है मिथलेश तुम जाओ मै इसकी तह तक छानबीन करती हूं। और हां तुम जरा संभलकर रहना"

जब कालिका मिथलेश को सुन रही थी तब भी बार-बार संदीप का कॉल आ रहा था और इस बात से खफा हो कर कालिका, संदीप को उल्टा-सीधा सुना दी। सुनाने के बाद वो कुछ दिनों कि छुट्टी लेकर, अपने साधना कि जगह पहुंची और वहां जा कर ध्यान में लीन हो गई।

लगभग 1 घंटे के ध्यान के बाद कालिका ने अपनी आंखें खोली। आखें खोलते ही सबसे पहले उसने सम्मोहन मंत्र का उच्चारण किया और अपने एक अंश को पूरे इलाके में भ्रमण के लिए भेज दी। 2 ऐसे मामले सामने आए जहां कालिका का अंश आगे बढ़ नहीं पाया, बाकी जगहों के सम्मोहन को समाप्त करता हुआ उसका अंश वापस चला आया।

जादूगरी द्वंद छिड़ चुकी थी। जिन 2 मगस के सम्मोहन मंत्र को कालिका भेद ना पायी उन दोनों को पता था कि कालिका का अगला हथियार क्या होगा… अचल अस्त्र, एक ऐसा मंत्र जो एक बार जादू कि जगह पहुंच गया तो वो पता लगा कर ही लौटेगा कि किसने जादू किया।

मगस की दुनिया में सब को पता था कि कालिका की क्या हस्ती है। उसके अचल अस्त्र को रोक पाना अच्छे-अच्छे जादूगरों के बस की बात नहीं, फिर चाहे 10 जादूगर एक साथ मिल कर भी "क्षम्य" मंत्र का प्रयोग क्यों ना करे।

कालिका ने केवल एक कोशिश की और अपने अचल अस्त्र का प्रयोग किया। अचल अस्त्र क्षम्य मंत्र के जाल में उलझ कर रह गया। एक कुटिल हसी कालिका के चेहरे पर थी और वहां से उठ कर वो अपने रास्ते चल पड़ी।


_________________________________________________________________________

सोभा अपने सभी अनुयाई को बुला कर हालिया हुए घटनाओं पर चर्चा कर आगे कि रणनीति तय कर रही थी। तय ये हुआ कि हर जादूगर अपने चारो ओर "दिशा शांति" मंत्र का प्रयोग करेगा, जो आनेवाले खतरे से सब को आगाह करता है। सभा को वो संबोधित कर ही रही थी कि उसके पास एक संदेश पहुंचा। संदेश पढ़ते ही सभा को जल्दी समाप्त वो अंधेरे जंगलों के ओर निकाल गयी।अंधेरी रात में घने जंगलों के बीच सोभा कुछ मंत्र जाप कर रही थी, तभी वहां एक जीप आकर रुकी…

माथुर:- कालिका को शक हो गया है।

"बेवकूफ, अब बात शक कि तो रही ही नहीं। अब बात शक्ति प्रदर्शन की है। क्योंकि कालिका जानती है कि उसका अचल अस्त्र कोई साधारण जादूगर नहीं तोड़ सकता"

"अब हम क्या करे"

"एक बार कदम बढ़ा लिया तो पीछे नहीं ले सकते। अब द्वंद होगा"

तो ठीक है मैं अपने लोगों को इक्ताला कर देता हूं"

"माथुर ध्यान रखना, मेरी बेटी इन सब से दूर ही रहे"

"जी आप निश्चिंत रहें"
____________________________________________________________________________

संदीप के चेहरे से हसी ने मानो साथ छोड़ दिया हो। पहले-पहल तो उसने ये सोचा कि कालिका को कॉल कर के परेशान किया जाए और शायद सफल भी हो गया। उसे लगा कि अब थोड़ा रूठना-मानना होगा और फिर प्यार भारी बातें। किंतु 3 दिन हो गए थे उसका कहीं कोई पता नहीं। संदीप इन तीन दिनों में हर संभव जगह कोशिश कर के देख लिया, किंतु कालिका के बारे में कुछ पता नहीं चला। कहते हैं जुदाई का एक लम्हा कई साल बराबर होता है यहां तो कालिका का 3 दिनों से कुछ अता पाता नहीं था। अपने विरह के गम भुलाने के लिए संदीप उसी जगह पहुंच गया जहां कालिका उसे अगवा कर लाई थी।

___________________________________________________________________________

इधर कलिका अपने पथ पर अग्रसर थी। ऊंचे ऊंचे पर्वतों के बीच खड़ा वृक्षों का घनघोर जंगल, जिसके अंदर रहते थे विकृत मग्स। रास्ते में कालिका को अप्लसियार और अल्पशेर के 2 समूह मिले जो नतमस्तक हो गए उसकी शक्तियों के आगे। किंतु जंगल के जिस भाग में कालिका जा रही थी वहां जाने से सबने माना किया क्योंकि वहां अल्पसर की पूरी समुदाय थी। लेकिन कालिका भी दृढ़ निश्चय करके निकली थी। दूसरे दिन शंध्या का समय था जब कालिका उस जंगल के मध्य में थी। यूं तो शाम का वक्त था लेकिन उस जगह पर इतना अंधेरा था की खुद का हाथ ना दिखे। कालिका को किसी बड़े खतरे कि अनुभूति होने लगी….

पूरे जोड़ से उसने मंत्र उच्चारण किया … "प्रज्वलित"… और जिस जगह खड़ी थी वहां के भूमि पर अपना हाथ तेजी से मारी। देखते ही देखते चारो ओर शोले उठने लगे… और उन शोलो कि रौशनी में चारो ओर भूखी नजरें, नजर आने लगी। लगभग 60 लोग कालिका को घेरे खड़े थे।

"तुम्हारा ये मंत्र उच्चारण व्यर्थ है लड़की… ये तुम्हे बचा नहीं सकता"… उनमें से किसी एक ने कहा…..

"कौन है तू ए विकृत अपनी पहचान बता"... कालिका का रौद्रा रूप और तेज हुंकार सुन कर वहां के अल्पसर क्रोधित हो उठे। देखते ही देखते कई मानव अजीब से प्राणी का रूप ले लिया, जिसका सिर अजगर का और पंजे इतने बड़े की एक ही पंजे में सामने वाला मूर्छित।

उन अल्पसर ने हुंकार भरते हुए मंत्र पढ़ा और चारो ओर से हमले कि कोशिश शुरू हो गई। लेकिन कालिका तो जैसे आज कुछ ठान कर आई थी। उसने अपने शरीर को हवा में परिवर्तित किया और मंत्र पढ़ती हुई ऊपर गई और फिर तेजी से नीचे आते हुए उसने अपना हाथ फिर से भूमि पर दे मारी।

ऐसा लगा मानो जमीन में कोई बड़ा कंपन हुआ हो। सभी अल्पसर इसे महसूस कर सहम गए। कालिका लहूलुहान और घायल अवस्था में थी। खून में लथपथ कालिका पुनः हुंकार भरी… "विकृत ये आखरी बार है, अपनी पहचान बताओ वरना अग्नि और भूमि का आवाहन मैंने कर दिया।"

अल्पसर एक अभिमानी मग्स थे, कालिका की हुंकार पर एक बार फिर वो हमले के लिए तैयार हो गए। लेकिन उन सब को पीछे हटने का आदेश देते हुए एक व्यक्ति सामने आया… "मैं इनका मुखिया अग्रजन हूं। आप कौन हैं और आप के यहां आने का प्रयोजन क्या है"

कालिका की अट्टहास भरी आवाज़… "स्वयं काली को गुरु मान कर, विराल योग में, पंचभूत समर्पित शिक्षा प्राप्त करने वाली कालिका हूं मै। तुम्हे जब अपने अल्पसर होने पर इतना अभिमान है तो मुझे कितना होगा" पंचभूत समर्पित किसी मग्स की दहाड़ सुनकर सब के रोंगटे खड़े हो गए। अग्रजन के साथ-साथ पूरा समुदाय कालिका के आगे सिर झुका लिया। अग्रजन तुरंत ही कालिका के स्वागत में खास पेय का इंतजाम किया और फिर उसका सेवन करते-करते दोनों बात करने लगे।

"अग्रजन तुम्हारा समुदाय किसी पर भी ऐसे ही हमला कर देता है"

"सर्वा, कुछ तो हमारा अभिमान और बीते कुछ दिनों में हमारे समुदाय पर हुए हमलों ने हमे इतना आक्रोशित किया है"

"हम्म.. किसने हमला किया था"

"सर्वा किसने हमला किया वो तो नहीं पता किंतु हमलवर मग्स शिमला से आए थे। 2 बार तो हमने उनकी कोशिशें नाकाम कर दी, लेकिन 5 दिन पहले हुए हमले के बाद अब हम भी उनके क्षेत्र भेदने की तैयारी में हैं "

"तुम तो अल्पसर हो फिर हमले के लिए इतनी प्रतीक्षा क्यों"


"सर्वा, बाकी 2 हमले तो हमारे लिए ऐसे थे मानो हमारे बच्चे केवल अभ्यास मात्र कर रहे हो। किंतु आखरी टोली ने हमारा बहुत नुकसान किया। सभी उत्तम किस्म के मग्स का समूह था और अलग ही रणनीति का प्रयोग कर रहे थे"

"कैसी रणनीति"

"दिशा विघ्न से भ्रमित कर, हमारे एक एक अल्पसर पर 3-3 मग्स हमला कर रहे थे, और उन सब का मुखिया एक विशेष अल्पसर था"

"विशेष अल्पसर, मतलब"

"ऐसे अल्पसर जिनके माता पिता श्रेष्ठ हो और बच्चा अल्पसर। ऐसे अल्पसर को विशेष अल्पसर कहते है। हम समुदाय से बंधे हैं पर वो एक अल्पसर हो कर दूसरे अल्पसर समुदाय पर हमला कर रहा है। लगता है शिमला के मग्स ने भी उसकी गुलामी कबूल कर ली इसलिए उसके साथ मिल कर हम पर हमले कर रहे। किंतु वो भूल गए कि हमारा पूरा समुदाय अल्पसर है"

"अग्रजन तुम्हारे इस विशेष पेय का धन्यवाद। अब मेरी बात ध्यान से सुनो"… कालिका उसे कहीं भी हमला ना करने की हिदायत देती वहां से चलते बनी। कालिका अपने तय समय से लौट रही थी। लौट कर वो सबसे पहले एमएलए से मिली, जिसके मिलने का स्थान और समय सब पहले से तय था।

कालिका जब वहां पहुंची तो एमएलए राज किशोर और उसकी पत्नी वर्षा उसका पहले से इंतजार कर रही थी। कालिका आते ही वर्षा को एक सुरक्षा घेरा बनाने को बोली और राज का हाथ अपने हाथ में थाम कर कहने लगी… "पुकारो उसे"

एक अल्पसर को बुलाने के नाम से ही राज के माथे पर पसीना आने लगा और वो बात को टालने की कोशिश में कहने लगा…. "जो छिप कर हमले कर रहा है वो मेरे बुलाने से कैसे आएगा"

कालिका अपनी आखें दिखाती हुई उससे कहने लगी… "अपने फायदे के लिए तुमने एक विकृत को हमारे बीच पलने दिया और आज उसे बुलाने में तुम्हारी फट रही है"

"कालिका मुझे सच में नहीं पता था कि वो ऐसा कुछ करेगा। मेरा विश्वास करो। मैं तुम सब को उसके विषय में बताने ही वाला था"

"मूर्ख कहीं के, उसने तुम्हे 3 दिन पहले ही मार दिया होता। मेरे ही कारण तुम दोनों की जान बची है। अब पुकारो उसे"

इधर विरह की आग में झुलस रहा संदीप भी उसी जगह भटक रहा था जहां ये सब हो रहा था। संदीप की नजरें तो केवल कालिका और राज को ही देख सकी जो एक दूसरे का हाथ थामे थे… फिर दिमाग तो सुन्न होना ही था….

"वाह कालिका वाह, 3 रोज में मेरी हालत मरने जैसी हो गई और तुम यहां इश्क़ फरमा रही हो।अब ऐसे खड़ी क्यों हो, इसे भी चूम लो"… सामने संदीप को देख कर कालिका हैरान रह गई। लेकिन ये वक़्त कुछ भी समझने या समझाने का नहीं था।… "वर्षा, संदीप को अपने साथ लो और हमारे पीछे आ जाओ"…..

राज को पुकारते ना देख, कालिका की अट्टहास भड़ी हंसी उस माहौल में गुंजनी शुरू हो गई.. फिर गूंजी उसकी तेज आवाज… "आओ-आओ मिथलेश.. चलो अब आ भी जाओ… आज ये खेल खत्म करें"

कालिका की आवाज़ शांत होते ही माहौल भी पूरा शांत हो गया। इतना शांत की भूमि पर गिरते पत्ते की आवाज़ भी सुनी जा सकती थी। और थोड़े ही देर बाद वहां की हवाओं ने शोर मचाना शुरू कर दिया... आस पास चेहरे बनने शुरू हो गए... कई सारे चेहरे जो सुरक्षा घेरे को लांघ तो नहीं पा रहे थे किंतु उसके चारो ओर मंडरा रहे थे.. और फिर चेहरा दिखा मिथलेश का…

"हा हा हा … तुम्हारा सुरक्षा घेरा व्यर्थ है। तुम हमे रोक नहीं सकती। मैंने तुम्हे थोड़ा कम आंका उसके लिए मुझे माफ करना। वैसे मुझे आश्चर्य है कि तुम्हे मेरे बारे में पता कैसे चला। और तुम ने इस एमएलए को मेरी भ्रमित श्राप से मुक्त कैसे किया"

"माफ़ी मांगने का अवसर मिलेगा विकृत फिलहाल तुम्हारी ये आखरी इक्छा मान कर सब बताती हूँ । तुमने जब देखा कि मेरा सम्मोहन अंश 2 जगह से टकरा के वापस आ गया तो तुम्हे भी मेरी मां की तरह ही भ्रम हुआ कि, क्षम्य मंत्र के इस्तेमाल से तुम लोगों का पता नहीं लग सकता… बेवकूफ, उच्चारित मंत्र पता करने के 4 काट है… तुम ने तो पहले में ही सोच लिया कि मै हार गई… वो तो मुझे बस अपने कुछ सवालों के जवाब चाहिए थे इसलिए तू कुछ दिन और जी गया"

इतना कह कर कालिका अट्टहास भरी और अग्नि आवाहन करती भूमि पर एक हाथ मारी… चारो ओर तेज शोलों की लपटे जलने लगी। हवा में नजर आ रहे चेहरे इधर उधर भागने लगे।

अट्टहास भरी हंसी मिथलेश की भी … "सिर्फ इतना ही आता है".. वायु वेग से ऊपर गया और आसमान के ओर अपने दोनो हाथ किए… "अति मेघ गर्जन" और हाथ को कालिका के ऊपर..… बिजली का तेज प्रहार, सीधा सुरक्षा घेरा को भेद कर कालिका और बाकी सब के ऊपर… कालिका, राज और वर्षा तीनों अपने हाथ को गोल घुमा कर एक बड़ा सा मजबूत ढाल बनाया, फिर हाथ ऊपर के ओर करके बिजली को वापस भेजने लगे।

लेकिन कालिका के पास हाथ कम थे और मिथलेश के पास ज्यादा.. तीनों नीचे दबते जा रहे थे और उनके साथ संदीप भी नीचे बैठते जा रहा था। …. "यहां क्या हो रहा है पता नहीं, ऐसा लग रहा है जैसे मैं किसी पौराणिक कथा में पहुंच गया हूं जहां सभी पात्र जादूगर है। हम मरने वाले है क्या कालिका"… कालिका संदीप की ओर देखी और मुस्कुरा कर उसके होटों पर एक छोटा सा चुम्बन देती हुई बोली…. "किसी और दिन मारेंगे जानेमन, अभी तो ठीक से तुम्हारे साथ प्यार भी नहीं किया"…

अब तक सिर्फ खेल चल रहा था.. अब आई कालिका अपने रौद्र रूप में। मंत्रों का उच्चारण किया कड़कती बिजली को जमीन के अंदर घुसा दी। मंत्र जाप करते ही उसने अपने दोनो हाथ को गोल-गोल घुमा कर बड़ा सा बवंडर उठा दिया और छोड़ दिया आसमान में… इस बवंडर की चपेट में सभी आए .. तभी फिर से मिथलेश ने भी मंत्र उच्चारण करते अपना वार कालिका पर किया.. कालिका उस वार को झेल गई किंतु वो अंदर से थोड़ी घायल हो गई थी।

लड़ाई भीषण हो गई… मिथलेश और उसके साथी एक साथ वार कर रहे थे और कालिका सबके वार को झेलती, साथ में संदीप, राज और वर्षा को बचाती हुई पलटवार भी कर रही थी। २०० से ज्यादा लोग सब एक साथ हमला कर रहे थे और कालिका अकेली अपने परा विद्या का परिचय देती सबका सामना कर रही थी। किन्तु वो अकेली थी और घायल भी। लेकिन तभी वायु वेग के साथ सोभा और उसके सभी अनुयाई भी वहां सायं-सायं करते पहुंच गए। मिथलेश के हर एक आदमी के पीछे 2 आदमी पड़ गए... और सोभा जा कर कालिका के पास खड़ी हो गई।

"आप देर से आ रही हो धात्री"… सोभा अपनी बाएं ओर हमला करती.... "दिशा विघ्न में फसा दिया था .. मंत्र काट करते-करते समय लग गया"। …. "आपको पता है ना आप ने क्या किया है?"…. "उसपर बाद में बात करते हैं पहले ये बताओ, ये श्रेष्ठ यहां क्या कर रहा है"…..

दोनों बात करती हुई लगातार हमला भी कर रहीं थी। मिथलेश के पास सभी उत्तम जादूगर थे किन्तु सोभा और उसके अनुयाई आने के बाद सब लाचार से हो गए थे। अब तो हारने कि स्तिथि आ गई थी और हार होते देख मिथलेश और उसके लोग भागने लगे…

"धात्री आज इन में से एक भी बचना नहीं चाहिए.. तुम इन्हे संभालो मैं उस विकृत को संभालती हूं.. और हां साथ में अपने जमाई कि रक्षा भी करना"….

सोभा थोड़ा चिंता जताती हुई… "मैं और माथुर जाते हैं ना उसके पीछे"

कालिका हंसती हुई… "रहने दो जैसे वहां पहुंची थी आप अल्पसर की बस्ती में। वैसे आप के आने से पहले इन सबको मैं अकेली ही देख रही थी फिर अब तो ये अकेला है"।

इतना कह कर कालिका मिथलेश के पीछे उड़ चली… हमला दोनों ओर से होता रहा… दोनों मंत्र उच्चारण करते रहे और हवा में ही हमला चलता रहा। कभी तेज गरज होती तो कभी बादलों के बीच तेज बिजली… फिर कालिका ने मंत्र उच्चारित किया और सदमे की लहर मिथलेश के ऊपर छोड़ दी…

वो हवा से सीधा जमीन में जा गिरा। कालिका भी नीचे आई। मितलेश अल्पसर बनते हुए अपने पंजे से कालिका पर हमला किया.. कालिका ने उसका पंजा झटक दिया।उसने अपना सर्प दंत उसके हाथों पर इस्तमाल किया। कालिका पूरा दांत अंदर तक जाने दी फिर एक ही झटके में तोड़ दी।

लहूलुहान स्तिथि में वो पुनः मानव रूप में आया और अपने घुटने के बल बैठ कर दोनों हाथ जोड़ लिए… "तुम किस श्रेणी की मग्स हो.. अल्पसर के विष का भी कोई असर नहीं"

कालिका उसके समीप जा कर, उसका गर्दन पकड़ कर उल्टा घूमती हुई… "मैं कालिका हूं, स्वयं काली मेरी गुरु"… कालिका जब मिथलेश को दंड दे रही थी, ठीक उसी वक़्त सोभा और उसके सभी अनुयाई वहां पहुंच गए। एक अल्पसर को इस प्रकार मारते देख सभी की आखें आश्चर्य से फटी रह गई। सबको पता चल चुका था पंचभूत समर्पित एक मग्स उनके बीच है।

माहौल बिल्कुल शांत था और सभी एकदम खामोश। कालिका की नजरें बस संदीप को ढूंढ रही थी जो सोभा के पास खड़ा था। दोनों की नजरें मिलते ही कालिका दौड़ कर संदीप के पास पहुंच गई और व्याकुलता से उसे देखते हुए पूछने लगी.. "कहीं चोट तो नहीं लगी तुम्हे"… खुद घायल थी, पूरा बदन लहूलुहान नजर आ रहा था फिर भी व्याकुलता से उसकी आंखें नम थी और बार-बार संदीप के बदन को देख रही थी।

संदीप बस उसका प्यार देख भाव-विभोर हो गया और उसे अपने बाहों में भर लिया। तभी पीछे से कालिका के कंधे पर कोई हाथ थपथपा रहा था… "अभी तेरी मां यहीं है"…. कालिका जो संदीप में खोई थी वास्तविक स्तिथि में लौट आईं।

सोभा नम आंखों से अपने बेटी के ज़ख्म पर अपने हाथ फेरती हुई पूछती है… "तुम्हे सब पहले से ही पता था क्या"

कालिका थोड़ा मुस्कुराती हुई… "जब आप साल भर पहले मरे गुरु जी के पास जाओगी तो मुझे शक होगा ही ना। किंतु आप का अप्लसर समुदाय पर हमला करने सब को बड़े खतरे में डाल सकता था"…

"क्या करूं, 2 मग्स की हत्या हुई थी बदला तो लेना ही था ना.. तुझे कैसे पता कि हमारे खिलाफ साजिश हो रही है"..

"धात्री शक्ति का पास में होना और उन शक्तियों का सही उपयोग एक बहुत बड़ा सवाल है। 8 साल पहले मेरे पास शक्ति थी मैंने उसे संदीप के खिलाफ इस्तमाल किया बदले में पछतावा मिला। आप के पास शक्ति थी आप ने अल्पसर पर हमले करवाया, बदले में आप को बड़ा खतरा मिला। मिथलेश के पास शक्ति थी उसने पूरे समुदाय को लड़ाने की कोशिश की बदले में उसे मौत मिला। मुद्दा ये नहीं की हम क्या कर सकते है.. मुद्दा ये है कि योग्यता होने के बावजूद हमे क्या नहीं करना चाहिए"..…
 

Sweet_Sinner

Member
Messages
161
Reaction score
559
Points
93
~~~~~~ वो मुलाकात ~~~~~~

मैं अपने एक दोस्त की बहन की शादी में शरीक होने के लिए दूसरे शहर गया था। शादी बड़ी धूमधाम से हुई थी और अब मेरे घर वापस जाने का वक्त था। मैंने पहले ही आने और जाने की रेल टिकट आरक्षित कर वाली थी। मेरी रेलगाड़ी यहां से प्रात: सुबह सात बजे के करीब प्रस्थान करने वाली थी, इसलिए मैंने रात को ही अपनी सारी तैयारी कर ली थी।


सुबह चार से साढ़े चार बजे के करीब दोस्त कि बहन कि विदाई हो गई। विदाई के बाद मैं पहले उसके परिवार वालों से मिला और फिर अपने दोस्त से मिला। उसने मुझे कुछ और दिन रुकने का आग्रह किया, मैंने उसे किसी तरह समझा दिया कि मैं यहां नहीं रुक सकता हूं। फिर वो मेरी बात मान गया और मुझे रेल स्टेशन तक छोड़ने का कहने लगा, लेकिन मैंने उसे यह कह दिया कि मैं खुद ही चला जाऊंगा। तुम मेरी फ़िक्र ना करो, यहां अपने परिवार और परिवारजनों के साथ ही रहो। वो भी मेरी बात मान गया और मुझे दुबारा यहां अपने घर आने का न्योता दिया। मैंने भी उसे अपने घर आने का आग्रह किया, तो उसने कहा, "अब तुम्हारी शादी में ही आऊंगा"। मैं भी उसकी बात पर मुस्कुरा दिया और उसके गले लगकर "अलविदा!" कहा और वहां से रेल स्टेशन जाने के लिए बाहर आकर ऑटो रिक्शा देखने लगा।


शादी का आयोजन एक बड़े से मैरिज गार्डन में किया गया था। जो कि रेल स्टेशन से करीब आधे घंटे की दूरी पर था। मैंने वहां से एक ऑटो रिक्शा किया और रेल स्टेशन के लिए निकल गया।


सर्दी का मौसम था और सूरज के निकलने का वक़्त भी हो चला था, साथ ही चारों और घना कोहरा छाया हुआ था। रिक्शा वाले भैय्या मुझे संगीत प्रेमी लगे, क्योंकि उनकी रिक्शा में मौसम के अनुरूप ही गाने बज रहे थे।


मैं भी उन गानों को सुनते हुए बाहर की ओर उगते सूरज कि किरणों से मौसम के मिजाज के बदलाव को निहार रहा था। अब मौसम में थोड़ी ठंडक कम होने लगी थी, किन्तु फिर भी सर्दी का मौसम था तो ठंड लग रही थी।


थोड़ी देर में ही हम रेल स्टेशन पहुंच गए। मैंने रिक्शा वाले को पैसे दिए और उसके गानों के चयन की भी तारीफ की। वो इसलिए कि इस मौसम में उन गानों को सुन मुझे एक अलग ही तरह का आनंद मिला था।


फिर में रेल स्टेशन में अंदर पहुंचा और एक कुर्सी जो कि रेल स्टेशन पर लगी होती है। उस पर बैठ गया और अपना बैग भी पास में ही रख दिया।


सुबह का वक़्त था, इसलिए ज्यादा लोग नहीं थे केवल कुछ ही लोगों थे। नहीं तो रेल स्टेशन पर भीड़ देखकर ही मेरा दिमाग़ ख़राब हो जाता था।


एक चाय की दुकान के बाहर कुछ लोग गर्मागर्म चाय की चुस्की लेते हुए, बातचीत कर रहे थे। एक-दो सफाईकर्मी स्टेशन कि सफाई कर रहे थे। कुछ लोग अपने बच्चों कि शरारत से परेशान थे और वहीं वे बच्चे खुश हो रहे थे। कुछ लोग अपनी कुर्सी पर चादर ओढ़ सोये भी थे और मैं अपनी कुर्सी पर बैठ अपनी रेलगाड़ी आने का इंतज़ार कर रहा था।


मौसम की सबसे बड़ी विशेषता यह है कि वो आपके मन को भी प्रभावित कर देता है और ऐसा ही कुछ मेरे साथ हो रहा था। मैं भी मौसम के मिजाज में रमने लगा और रिक्शा वाले की तरह ही गाने सुनने की सोची। फिर मैंने अपने मोबाइल में हैंड्सफ्री लगाई और यूट्यूब पर धीमी आवाज में गाने सुने लगा, क्योंकि मुझे पुराने गाने धीमी आवाज में और भी अधिक अच्छे लगते हैं।


ऐसे ही मैं गाने सुन रहा था कि मुझे पायल कि झनकार की आवाज़ आने लगी और धीरे-धीरे वो तेज़ होने लगी।


अचानक से वो आवाज बंद हो गई। आवाज कहां से आ रही थी, मैंने यह देखने के लिए जैसे ही अपनी गर्दन ऊपर की ओर की मेरी आंखें बिना पलकें झपकाएं सामने वाले को देखे जा रही थी।


एक बहुत ही खूबसूरत लड़की जिसने फुल स्लीव का सफेद रंग का सलवार सूट पहन रखा था और ऊपर से एक शाल ओढ़ रखी थी। उसने दोनों हाथों कि कलाई में दो-दो चूड़ियां पहन रखी थी। उसके घने सुनहरे बालों की कुछ जुल्फें उसके चेहरे के ऊपर लहरा रही थी। उसके कानों में गोल मध्यम आकार की सोने की बाली लटक रही थी। माथे पर एक छोटी सी काली टिकी और आंखों में काजल कि एक पतली सी परत चढ़ी हुई थी। नाक में एक छोटे से मोती की नथ पहन रखी थी। उसके अधर की लालिमा उसके चेहरे की खूबसूरती को बढ़ा रहे थे। उसके चेहरे से एक अलग ही तरह का नूर बरस रहा था।


मैंने आजतक उसके जैसी सुंदर लड़की कभी नहीं देखी । ये सब मैं कुछ ही पल में ही देख चुका था।


तभी उसने मुझसे कुछ पूछा तो मैं अपने ख्यालों से बाहर आया, लेकिन उसकी बात नहीं सुन पाया।


मैंने उसे कहा कि "माफ करना में आपकी बात नहीं सुन पाया।" (अपनी हैंड्सफ्री अपने कानों से निकालते हुए। जबकि मैं उसकी बात अपने ख्यालों में खोने की वजह से सुन नहीं पाया था।)


तब उसने अपने चेहरे पर आ रही जुल्फें पीछे करते हुए कहा, "क्या आप बता सकते है कि **** जाने वाली ट्रेन कब तक आयेगी ?"


उसकी बात सुनकर मैंने कहा, "मैं भी उसी का इंतज़ार कर रहा हूं, सात बजे का समय है उसका यहां से निकलने का तो उसके पांच सात मिनट पहले ही आयेगी।"


मेरी बात सुनकर उसने केवल इतना ही कहा कि "अच्छा!" और मेरी कुर्सी से कुछ ही दूर जाकर अपने दोनों हाथों को आपस में रगड़ते हुए खड़ी हो गई। उसके पास कोई सामान नहीं था। सिवाय एक लेडीज पर्स के जो उसने अपने कंधे पर लटका रखा था। वो भी मुझे अभी ही दिखाथा


मैं तो उसकी खूबसूरती में पहले से ही खोया हुआ था, लेकिन उसकी आवाज सुनकर तो मैं किसी और ही दुनिया में चला गया। कितनी मधुर वाणी थी मानो किसी से उसमें शहद घोल दिया हो।


मैं सोचने लगा कि आज का दिन कितना अच्छा है, पहले दोस्त की बहन की विदाई, फिर रिक्शा वाले भैय्या के गानों और मौसम की इस ऋतु का आनंद और अब इतनी खूबसूरत लड़की का दीदार हो गया।


मैं उसकी खूबसूरती पर एक तरह से मोहित हो गया था। मैं वहीं बैठे-बैठे उसे ही देखें जा रहा था, लेकिन मन में कहीं ना कहीं यह भय भी था कि कहीं वो लड़की मुझे ऐसे देखते या घूरते हुए ना देख लें, इसलिए मैं उसे चोर नजरों से देख रहा था।


लेकिन कहते है ना कि लड़कियों के पास एक छठी इंद्री भी होती है, जिससे उसे पता चल ही जाता है कि कोई उसे देख रहा है। ऐसा ही कुछ मेरे साथ भी हुआ। जब मैं उसे चोर नजरों से देख रहा था, तभी उसने मेरी तरफ देखा और मुझे उसे देखते या यूं कहें कि घूरते हुए देख लिया। मैं भी हड़बड़ा गया और अपने मोबाइल में देखने लगा।


अब मेरी हिम्मत ही नहीं हो रही थी कि उसकी तरफ देखूं, इसलिए अपने मोबाइल में ही देखता रहा। कुछ देर बाद उसकी पायल की छन-छन की आवाज फिर से मेरे कानों में पड़ी, लेकिन मैंने अपनी नज़र मोबाइल में ही गड़ा के रखी।


उसकी पायल की झंकार की आवाज बंद हुई ही थी कि उसकी मधुर वाणी मेरे कानों में पड़ी।


उसने मुझसे कहा, "क्या मैं यहां बैठ सकती हूं ?" (बड़ी ही विनम्रता से उसने मुझे से पूछा।)


मैंने इधर उधर देखा और फिर उसे कहा, "जी, क्यों नहीं।" फिर उसके बैठने के लिए जगह बनाई, क्योंकि मेरा बैग मैंने अपनी कुर्सी पर ही रखा था।


वो वहां पर बैठ गई और मुझे "शुक्रिया!" कहा।


थोड़ी देर बाद उसने कहा, "साढ़े छः से भी अधिक समय हो गया है, लेकिन ट्रेन अभी तक नहीं आई।"


फिर मेरी तरफ देख कहा, "आप कब से यहां ट्रेन का इंतजार कर रहे हैं ?"


उसका सवाल सुन मैंने कहा, "सवा छ: बजे से, लेकिन ये आप क्यों पूछ रही है ?"


मेरे सवाल पर उसने कहा कि "मुझे लगा कहीं ट्रेन जल्द ही तो नहीं चली गई।"


मुझे उसके जवाब से हंसी आ गई और वो मुझे यूं हंसता देख थोड़ा हैरान! हो गई।


फिर भी उसे मेरी हंसी का कारण जानने की जिज्ञासा थी, इसलिए उसने मुझे कहा, "क्या मैं आपके हंसने का कारण जान सकती हूं ?"


मैंने अपनी हंसी को रोककर उसे कहा, "रेल कभी भी जल्दी नहीं जाती है बल्कि हमेशा अपने समय पर या उसके बाद ही जाती है। क्या आपको यह नहीं पता है ?"


वो भी मेरे जवाब सुनकर थोड़ा सा मुस्कुरा दी और मेरे सवाल का जवाब देने के लिए बोली, "दरसअल, बात यह है कि मैंने आज से पहले कभी भी ट्रेन से सफर नहीं किया है, इसलिए मुझे पता नहीं था।"


मैं उसकी बात सुनकर आश्चर्य! में पड़ गया था कि इसने आज से पहले कभी भी रेल का सफर ही नहीं किया है।


उसने भी मेरे चेहरे पर उत्पन्न आश्चर्य! के भाव शायद! देख या समझ लिए थे, इसलिए उसने मुझे से पूछा, "आप ऐसे हैरान! क्यों हो गए ?"


मैं अब उसके सवाल का क्या जवाब देता, इसलिए मैंने सिर्फ इतना कहा, "कुछ नहीं।"


कुछ देर तक हम दोनों में से कोई भी कुछ नहीं बोला। तभी हमारे सामने से एक चायवाला, चाय की केतली और कुल्हड़ (मिट्टी के गिलास) लेकर जा रहा था। मैंने चायवाले को आवाज देकर अपने पास बुलाया और दो चाय देने को कहा ही था कि लड़की ने कहा, "नहीं, आप मेरे लिए मत लीजिए।"


मैंने उसकी तरफ देखकर कहा, "एक चाय ही तो है, वैसे भी इस मौसम में गर्मागर्म चाय से बेहतर कुछ भी नहीं।"


मेरी बात सुनकर उसने "ठीक है" कह दिया।


चाय वाले ने दो कुल्हड़ में चाय भरी, एक कुल्हड़ उसे दिया और दूसरा मुझे देने लगा, तभी मैंने उसे रुकने का इशारा किया और अपने पर्स से दस रुपए का नोट निकालकर उस चायवाले को दिये और उससे चाय का कुल्हड़ ले लिया।


हम दोनों ही ठंडे के मौसम में गर्मागर्म चाय की चुस्की लेते हुए चाय का लुफ़्त उठा रहे थे। कुछ ही देर में हमारी चाय खत्म हो गई।


उसने मेरी तरफ देख के कहा, "शुक्रिया!, चाय के लिए।" (एक मुस्कान के साथ)


मैंने उससे कहा, "आपको शुक्रिया! कहने की कोई जररूत नहीं है, बल्कि मुझे आपको शुक्रिया! कहना चाहिए। मेरी बात मानने के लिए।" और उसे कुल्हड़ मांगा जो उसने अपने हाथों में पकड़ रखा था।


तो उसने कहा कि "आप रहने दीजिए, मैं खुद ही इसे कूड़ेदान में फेंक दूंगी और आपका कुल्हड़ भी मुझे दे दीजिए। उसे भी कूड़ेदान में फेंक दूंगी।"


उसकी बात पर मैंने कहा, "नहीं, इसकी कोई जरूरत नहीं है आप मुझे अपना कुल्हड़ दे दीजिए। मैं दोनों कुल्हड़ को कूड़ेदान में फेंक देता हूं।"


उसने मेरी बात को ना मानते हुए कहा, "क्या आप मेरी इतनी सी बात नहीं मानेंगे ?" (बड़ी ही विनम्रता से उसने कहा)


मैं उसके इस प्रश्न पर कुछ भी नहीं कह पाया था और उसे अपना कुल्हड़ दे दिया। मेरा और अपना कुल्हड़ वो थोड़ा दूर रखे कूड़ेदान में फेंकने के लिए चली गई।


मैं उसको जाते देख सोचने लगा कि जितनी अच्छी उसकी सूरत है उसे कहीं अधिक अच्छी उसकी सीरत है। उसके बात करने का लहजा भी इतना सभ्य और सलीकेदार है और साथ ही उसकी समझदारी भी काबिले तारीफ है।


काश! इसके जैसी ही कोई लड़की मेरी जिंदगी में आ जाए। बड़ा ही खुशनसीब हैं वो इंसान जिससे इसकी शादी होने वाली है।


अरे!, मैं यह बताना ही भुला गया, मुझे कैसे पता चला कि वो लड़की की शादी होने वाली जबकि उसने तो कुछ कहा ही नहीं। दरसअल, बात यह थी कि जब उसने मुझसे कुल्हड़ लेने के लिए अपना हाथ आगे बढाया तो मेरी नज़र उसके हाथ में पहनी हुई अंगूठी पर गई। जो अंगूठी उसने पहनी हुई थी, उसमें की अधिकांशत अंगूठी सगाई के वक़्त लड़कियों को पहनाई जाती हैं या फिर यह मेरी गलतफमी भी हो सकती थी।


वो कुल्हड़ फेंक कर वापस आईं और कुर्सी पर बैठते ही बोली, "सात बजने वाले है, लेकिन ट्रेन अबतक नहीं आई।"


मैंने भी उसकी बात सुनकर उससे कहा, "आने ही वाली ही होगी, कभी-कभी कुछ देर भी हो जाती है।"


मेरी बात सुनकर उसने कहा, "अच्छा!, वैसे भी मुझे इस बारे में ज्यादा जानकारी नहीं है।"


मैंने कहा, "आप ज्यादा चिंता ना करें, आती ही होगी।"


तभी स्टेशन पर घोषणा हुई, "यात्रीगण कृपया ध्यान दें! ***** से चलकर ***** को जाने वाली रेल क्रमांक ***** कोहरे की वजह से अपने निर्धारित समय से एक घंटे विलंब से यहां पहुंचने की उम्मीद है....।"


घोषणा सुनकर मेरे मुंह से अनायास ही "सत्यानाश!" निकल गया।


वो मेरे मुंह से निकला शब्द सुन बोली, "क्या हुआ ?"
(थोड़ा चिंता भरे स्वर में बोली)


मैंने कहा, "हमारी रेलगाड़ी कोहरे के कारण देरी से आयेगी।"


मेरी बात सुन वो थोड़ा मायूस होकर बोली, "ट्रेन को आज ही देरी से आना था, अब इस ठंड में यहां कितनी देर और इंतज़ार करना पड़ेगा ?"


मैंने कहा, "एक घंटा और इंतज़ार करना पड़ेगा शायद!"


तो वो बोली, "अब एक घंटा कैसे कटेगा यहां ?" (थोड़ा और मायूस हो गई जो उसके चेहरे पर साफ दिख रहा था।)


उसे मायूस देख मैंने कहा, "आप फ़िक्र मत कीजिए, एक घंटा ऐसे ही बीत जायेगा।"


उसने मेरी तरफ देख कहा, " आप के लिए यह कोई बड़ी बात नहीं होगी, लेकिन मुझे यूं इंतज़ार करना पसंद नहीं है, बोरियत महसूस होने लगती हैं।"


मैंने कहा, "तो ऐसा करते हैं कि हम बातचीत करते हैं तो आपको बोरियत महसूस नहीं होगी।"


मेरी बात सुनकर वो बोली, "क्या बातचीत करेंगे ?"


मैंने कहा, "अगर आप मेरी बात का बुरा ना माने तो क्यों ना हम एक-दूसरे की बारे में कुछ जान लेते है, जिससे हमारा समय भी कट जाएगा और आपको बोरियत भी महसूस नहीं होगी।"


मेरी बात सुनकर वो थोड़ा सकोंच में पड़ी गई, लेकिन फिर कुछ सोचकर बोली, "ठीक है, बोर होने से अच्छा! है कि हम एक-दूसरे के बारे में कुछ जान ले।"


उसकी तरफ से स्वीकृति मिलते हैं, मैंने कहा, "अच्छा!, पहले मैं अपने बारे में आपको बताता हूं, फिर आप अपने बारे में।"


उसने भी शायद यही उचित समझा, इसलिए वह बोली, "जैसी आपकी मर्जी।"


फिर मैं उसे अपने बारे में बताने लगा।


मेरा नाम रोहन है। मैं इंदौर में रहता हूं और एम. बी. ए. की पढ़ाई कर रहा हूं। यहां अपने एक दोस्त की बहन की शादी में शरीक होने आया था और अब वापस अपने घर जा रहा हूं।


मेरी बात सुनकर वो बोली, "अच्छा!, आप भी एम. बी. ए. की पढ़ाई कर रहे हैं।"


उसकी बात सुनकर मैंने कहा, "क्या आप भी एम. बी. ए. कि पढ़ाई कर रही है ?"


वो बोली, "जी, मैं भी एम. बी. ए. कि पढ़ाई कर रही हूं। इसी साल मैंने इंदौर के कॉलेज में एडमिशन लिया है।"


फिर मैंने कहा, "अच्छा!, क्या आप भी इंदौर की रहने वाली है ?"


तो वो बोली, " जी नहीं, मैं इसी शहर की रहने वाली हूं।"


उसकी बात सुनकर मैं थोड़ा हैरान! रह गया, क्योंकि वो जिस शहर में रहती है; वो भी बड़ा शहर है। फिर पढ़ाई इंदौर से क्यों कर रही है, इसलिए मैंने उसे पूछा, "तो आप इंदौर से पढ़ाई क्यों कर रही हैं ?"


तो वो बोली, "मुझे पता था कि आप ये सवाल जरूर करेंगे। दरसअल, वहां पर मेरी मौसी रहती हैं। फिलहाल तो मैं अपनी मौसी के पास रहती हूं, लेकिन कुछ दिनों बाद मुझे हमेशा के लिए वहीं रहना है, इसलिए मैंने इंदौर में एडमिशन लिया है।"


उसके जवाब से मैं फिर से आश्चर्य! में पड़ गया, इसलिए उससे दोबारा पूछा, "आप हमेशा के लिए इंदौर रहने वाली हैं, ऐसा क्यों कहा आपने ?"


मेरे सवाल पर वो थोड़ा सा मुस्कराई और बोली, "दरसअल, मेरी शादी इंदौर में तय हुई है और कुछ दिनों बाद ही मेरी शादी भी होने वाली है। फिर तो मुझे वहीं रहना पड़ेगा, इसलिए मैंने यह बात कही थी।"


मैं यह बात तो पहले ही जान गया था कि उसकी सगाई हो गई है, लेकिन पक्का यकीन नहीं था।


उसकी बात सुनकर मन में थोड़ा दुःख ज़रूर हुआ, लेकिन फिर भी उसके लिए खुशी की बात थीं तो उसे बधाई देना भी ज़रूरी था।


मैंने कहा, "बधाई हो!!" (ख़ुशी जाहिर करते हुए..)


उसने भी मुझे "शुक्रिया!" कहा। (एक मुस्कान के साथ)


तभी उसके मोबाईल की रिंगटोन बजने लगी। जो उसने अपने लेडीज पर्स में रखा था,उसने मोबाइल को निकाला और देखा। उसके चेहरे पर एक बड़ी सी मुस्कान बिखर गई। फिर वो कुर्सी से उठकर दूर जाने लगी।


अचानक से वो रुकी और मेरे तरफ देख बोली, "रोहन जी, मैं अभी बात कर के आती हूं।"


मैंने कहा, "ठीक है।"


करीब पंद्रह से बीस मिनट बाद वो बात करके वापस आईं और कुर्सी पर बैठते हुए बोली, "रोहन जी, माफ करना वो बात करने में वक़्त का पता ही नहीं चला।"


उसकी बात सुनकर मैंने कहा, "आप माफ़ी क्यों मांग रही है इसमें आपकी कोई गलती नहीं है। बातों में समय का पता ही नहीं चलता है।"


तो वो बोली, "आपको इंतज़ार करना पड़ा, इसलिए।"


उसकी बात सुनकर मुझे ख़ुशी हुई। फिर मैंने कहा, "इंतज़ार के लिए भी आपको माफ़ी मांगने की कोई जरुरत नहीं थी, क्योंकि वैसे भी हम यहां रेल के आने का इंतज़ार ही कर रहें हैं।"


मेरी बात सुनकर वो खुशी जाहिर करते हुए बोली, "आप से मिलकर और बात कर मुझे अच्छा! लगा।"


मैंने कहा, "मुझे भी आपसे मिलकर और बात कर बहुत अच्छा! लगा।"


फिर वो बोली, "अच्छा!, अब मैं चलती हूं।"


उसकी ये बात सुनकर मैं आश्चर्य! में पड़ गया और उससे बोला, "अभी तो हमारी रेलगाड़ी आई ही नहीं है तो आप कहां जा रही हैं ?"


तो वो बोली, "अब मुझे रेलगाड़ी के इंतज़ार कि कोई जरुरत नहीं है, क्योंकि अब मैं इंदौर नहीं जा रही हूं।"


मेरे मुंह से अनायास ही "क्या ?" निकल गया।


वो भी मेरे मुंह से अनायास निकले शब्द पर चौक्क! गई, क्योंकि मेरे मुंह से थोड़ा तेज स्वर में वह शब्द निकला था।


फिर मैंने अपनी गलती को सुधारने के लिए उसे कहा, "माफ करना, मैं आपकी बात सुनकर थोड़ा-सा चौक्क! गया, इसलिए वो मेरे मुंह से वो शब्द निकल गया।


मेरी बात सुनकर वो बोली, "कोई बात नहीं, कभी-कभी ऐसा हो जाता है।" (एक मुस्कान के साथ)


फिर मैंने उसे पूछा, "लेकिन आप इंदौर क्यों नहीं जा रही हैं ?"


मेरे प्रश्न पर वो बोली, " वो इसलिए कि अभी मेरे मंगेतर का फोन आया था और उनसे ही बात कर रही थी। तब उन्होंने कहा, "शादी के सिलसिले में मेरे परिवार से कुछ बातचीत करनी है तो वो यहीं आ रहे हैं और मुझे भी यहीं रुकने का कहा है।"


मैंने उसकी बात सुनकर बोला, "अच्छा, तो ये बात है।" (एक मुस्कान के साथ)


वो भी एक मुस्कान के साथ बोली, "जी अच्छा!, अब में चलती हूं।"


जब उसने जाने का कहा मेरा मन उदास हो गया, लेकिन फिर भी चेहरे पर खुशी जाहिर करते हुए कहा, "ठीक है, लेकिन आपसे एक बात कहना चाहता हूं ?"


तो वो बोली, "कहिए, क्या कहना चाहते है आप ?" ( थोड़ा असमंज में होकर।)


मैंने उसे यूं असमंज में देख कहा, " यही की आज अपना पहला रेलगाड़ी के सफर का अनुभव नहीं ले पाएगी।" (मजाकिया अंदाज में)


मेरी बात सुनकर उसके चेहरे मुस्कान छा गई और वो बोली, "हो सकता है कि मेरी किस्मत में अभी रेलगाड़ी का सफ़र करना लिखा ही ना हो!" (मुस्कराते हुए)


मैंने उसे पूछा, "क्या आप किस्मत पर यकीन करती हैं ?"


मेरे प्रश्न पर उसने अपने विचार मेरे सामने रखने के लिए बोली, "मुझे तो किस्मत पर पूर्ण विश्वास है। मेरा मानना है कि क़िस्मत में जो लिखा होता है, वो होकर रहता है उसे आप किसी भी परिस्थिति में बदल नहीं सकते है। जैसे आज का उदाहरण देख लीजिए। मेरी किस्मत में आपके साथ मुलाकात होनी थी, इसलिए मैं यहां आईं और फिर रेल का देरी से आना जिससे हमारे बीच बातचीत भी हो गई। रेल का सफ़र करना अभी मेरी किस्मत में नहीं लिखा है तो मेरा इंदौर जाना ही रद्द हो गया। ये सब मेरी किस्मत में लिखा था, इसलिए ऐसा हुआ। यदि ये सब किस्मत में नहीं लिखा होता तो रेल समय पर आती और मैं इंदौर के लिए रवाना हो जाती और आपके साथ बातचीत भी नहीं हो पाती।"


उसकी बात सुनकर मुझे भी लगा कि उसकी बात में दम है, लेकिन मैं किस्मत को नहीं मानता था।


इसलिए मैंने कहा, "मुझे किस्मत में भरोसा नहीं है, क्योंकि हम कैसे कह सकते है कि ये सब किस्मत में लिखा है, इसलिए ये सब हो रहा है।"


तो वो बोली, "आपकी बात सही है, लेकिन विश्वास भी कोई चीज होती है। क्या आप ईश्वर को मानते हैं ?"


मैंने कहा, "हां"।


मेरी "हां" सुनकर वो मुस्कराई और बोली, "क्या आपने कभी ईश्वर को देखा है ? मेरे ख्याल से आपका जवाब "नहीं" होगा। फिर भी आप उनको मानते है, क्योंकि आपको उनमें विश्वाश है। इसी तरह मुझे भी किस्मत पर पूर्ण विश्वास है।"


मैं उसके तर्क के आगे नतमस्तक हो गया और सोचने लगा।


मुझे यूं सोचता देख वो बोली, "रोहन जी, क्या सोचने लगे ?"


मैंने कहा, "कुछ नहीं, बस आपकी बात पर विचार कर रहा था।"


फिर वो मुस्कराते हुए बोली, "रोहन जी, अब मुझे चलना चाहिए। वैसे भी आपकी रेल आने ही वाली होगी।"


मैंने भी उसकी बात पर सहमति जताई और उसे कहा, "अच्छा!, यदि किस्मत में लिखा होगा तो फिर से कहीं ना कहीं आपकी और मेरी मुलाकात होगी।"


मेरी बात सुनकर वो मुस्कुराते हुए बोली, "जी, यदि लिखा होगा तो ज़रूर दोबारा मुलाकात होगी। अलविदा!"


मैंने भी उसे "अलविदा!" कहा और वो जाने लगी तो मेरे मन मैं ना जाने कहां से ये ख्याल आया कि उससे उसका नाम तो पूछ ले, क्योंकि अभी तक उसने अपना नाम बताया ही नहीं और ना मैंने पूछा।


मैंने धीरे से कहा, "आपने मुझे अपना नाम तो बताया ही नहीं ?"


मेरी बात सुनकर वो रुकी और मेरी तरफ देख कहा, "अब आप मेरा नाम जानकर क्या करेंगे ?" (एक मुस्कान के साथ)


मैंने थोड़ा डरते हुए कहा, "वो इसलिए कि यदि भविष्य में कभी मुझे यह मुलाकात याद आई तो मेरे मन में हमेशा यह बात रह जाएगी कि मैंने आपसे आपका नाम तक नहीं पूछा।"


मेरी बात सुनकर वो थोड़ा-सा मुस्कराई और जाने लगी।


मैं मन में सोचा, इसने अपना नाम क्यों नहीं बताया, जबकि दूसरी कितनी बातें बता दी। फिर सोचा ये तो उसकी अपनी मर्जी उसे क्या बताना है और क्या नहीं।


थोड़ी दूर जाकर वो अचानक से रुकी और मेरी तरफ देख कहा, "मेरे दोस्त मुझे नूपुर कहकर बुलाते हैं।" ( एक मुस्कान के साथ )


मैं भी उसका नाम जानकर खुश हो गया और एक मुस्कान के साथ उसे कहा, "बहुत ही प्यारा नाम है आपका।"


मेरी बात सुनकर वो मुस्कुराते हुए बोली, "शुक्रिया!" और बाहर जाने लगी, मैं उसे जाते हुए देखता रहा। कुछ ही पलों में वो मेरी नज़रों से ओझल हो गई।


मैं वहीं बैठकर उसके ख्यालों के सागर में डूबने लगा।


करीब पांच मिनट बाद ही फिर से स्टेशन पर फिर से घोषणा होने लगी, जिसकी आवाज से मैं अपने ख्यालों से बाहर निकला और घोषणा सुनने लगा। घोषणा सुनने के बाद में थोड़ा दुखी हो गया, क्योंकि रेल एक घंटा और लेट आने वाली थी।


करीब पांच मिनट बैठने के बाद मैंने सोचा कि बाहर जाकर कुछ खा लेता हूं। जिससे पेट भी भर जाएगा और समय भी कट जाएगा।


मैंने स्टेशन से बाहर आया और स्टेशन के आसपास खाने पीने की दुकान देखने लगा। तभी मेरी नज़र वहीं पर कुछ दूरी पर लगी भीड़ पर पड़ी तो मैं सोचने लगा कि इतनी भीड़ क्यों जमा है ?


इंसान की यहीं खूबी यह है कि वो एक जिज्ञासु प्रवृत्ति वाला प्राणी होता है। इसी प्रवृत्ति के चलते मैं भी यही सोचने लगा कि चलकर देखते हैं क्या माजरा है।


फिर मैं उधर जाने लगा ही था कि मैं रुक गया। वो इसलिए की फिर मैंने सोचा मुझे क्या लेना-देना कुछ भी हो, पहले पेट पूजा फिर काम दूजा।


फिर वापस मैं खाने कि दुकान देखने लगा, लेकिन ना जाने कहां से मेरे मन में ख्याल आया कि एक बार भीड़ क्यों लगी देखा जाएं।


तो मैं फिर से भीड़ के करीब जाने लगा। जैसे-जैसे मैं भीड़ के करीब जा रहा था, मुझे लोगों के बोलने की आवाजें आने लगी। कोई बोल रहा था, "ये किसने किया ?", कोई बोल रहा था, "पुलिस को बुलाओ।", कोई बोल रहा था, "हमें इन्हें अस्पताल ले जाना चाहिए।" तो कोई बोल रहा था, "ना भाई, हमें इन्हें हाथ नहीं लगाना चाहिए, नहीं तो हम लोग फंस जायेंगे।"


ये बातें सुनकर मुझे यह तो पता चल गया था कि वहां पर किसी के साथ कुछ हादसा हुआ है, इसलिए मुझे भी उसे देखने की इच्छा हुई और साथ ही यह ख्याल भी आया कि कहीं किसी को मदद कि जरूरत तो नहीं है।


भीड़ बहुत थी तो आसानी से देख नहीं पा रहा था, लेकिन
फिर भी जैसे-तैसे में देखने में कामयाब हो गया।


जैसे ही मेरी नज़र उस पड़ी, मेरे पैरों तले ज़मीन खिसक गई। वो और कोई नहीं बल्कि नूपुर थी। मैं भीड़ में घुसा और उसके पास गया। उसका पूरा शरीर खून में सना हुआ था और उसके पेट में एक चाकू घुसा हुआ था। मैंने लोगों को कहा कि "इसे अस्पताल लेकर चलें, तभी एक व्यक्ति बोला कि अब कोई फायदा नहीं है, वो मर चुकी है।


मैं उसकी बात सुनकर गुस्से से बोला, "तुम क्या बकवास कर रहे हो, नूपुर मर नहीं सकती है। हम उसे बचा सकते हैं।"


वो व्यक्ति बोला, "मैं एक डॉक्टर हूं और मैंने उसके हाथ की नब्ज देखी थी, वो अब नहीं चल रही हैं। सॉरी, शी इज नो मोर!"


मैं वहीं पर नूपुर के पास बैठा रोए जा रहा था।


कुछ देर में पुलिस भी वहां आ गई और सभी से पूछताछ करने लगी। मुझे उसके पास बैठा देख मुझसे एक पुलिस वाले ने पूछा, "क्या तुम इसे जानते हो ? क्या लगती हैं ये तुम्हारी ?"


मैंने उसकी बात सुनकर कहा, "हां, जानता हूं, हमारी थोड़ी देर पहले ही मुलाकात हुई थी।"


तब तक दूसरे हवलदारों ने भी पूछताछ कर ली थी। वो भी वहां आ गए। पुलिस वाले ने उनसे भी पूछा, क्या पता चला ?"


तो एक हवलदार बोला, "कुछ लोगों ने देखा था कि एक आदमी इस लड़की का पर्स छीनने की कोशिश कर रहा था और फिर उस आदमी ने इनको चाकू मार दिया और पर्स लेकर भाग गया।"


मैं भी उस हवलदार कि बात सुनकर दंग रह गया।


फिर एम्बुलेंस आईं और नूपुर कि लाश को उसमें डालकर ले गई। पुलिस ने मुझे से भी थोड़ी पूछताछ कि और मेरा पता और नंबर लिया और मुझसे कहा कि जब भी कोई जानकारी लगेगी तो तुम्हें फोन करेंगे और यदि यहां आना पड़ा तो तुम्हें आना होगा।


मैंने कहा, "ठीक है।"


फिर मैं वहां से वापस रेल स्टेशन आ गया और बैठ गया।


मुझे तो कुछ समझ ही नहीं आ रहा था कि अचानक ये सब कैसे हो गया ? उसके साथ ही ये सब क्यों हुआ ? कितनी मासूम और प्यारी लड़की थी ? और आज कितनी खुश भी थी, अभी कुछ देर पहले वो मुस्कराते हुए यहां से गई थी।


ये सोचते-सोचते समय का पता ही नहीं चला और मेरी रेलगाड़ी आ गई।


मैं पूरे रास्ते नूपुर के बारे में ही सोचता आया। कि उसकी शादी होने वाली थी, कितने सपने देखे होंगे उसने अपनी शादी को लेकर और भी बहुत से सपने देखे होंगे।


ऐसे ही मैं उसके बारे सोचते हुए घर आ गया। कई दिनों तक में सिर्फ उसके बारे में ही सोचता रहा। जिसके कारण मेरे घर वाले भी परेशान रहने लगे।


फिर मुझे उसकी कही बात याद आई कि "क़िस्मत में जो लिखा होता है, वो होकर रहता है उसे आप किसी भी परिस्थिति में बदल नहीं सकते है।"


फिर मैंने सोचने लगा क्या उसकी कही बात सही थी।

यदि उसकी किस्मत में और जीना लिखा होता तो वो उस दिन रेलगाड़ी में बैठ गई होती, लेकिन उसकी किस्मत में उस दिन उसकी मौत लिखी थी, इसलिए ही वो रेलगाड़ी देर से आई और फिर उसके मंगेतर का फोन आया। जिसने उसे इंदौर जाने से मना कर दिया। फिर वो वहां से वापस घर जाने के लिए निकल गई और उसकी वहीं स्टेशन के बाहर उसकी हत्या हो गई। ये सब किस्मत का खेल ही तो है।

कुछ घंटो तक सोचने के बाद में नतीजे पर पहुंचा।


मुझे उसकी बात सही लगीं, इसलिए तब से मैं भी किस्मत को पूर्ण रूप से मानने लगा हूं।


समझे! मेरे दोस्त, तुम्हें तुम्हारे सवाल का जवाब मिल गया।

"हां, भाई मिल गया। अब मुझे पता चला कि जो कभी किस्मत को नहीं मानता था, अब क्यों इतना किस्मत को मानने लगा।"

सही समझे।

"वो मुलाकात" ही थी जिसने मुझे इतना बदल दिया। मेरे जीने, रहने और सोचने का तरीका बदल गया। जो कभी किस्मत को नहीं मानता था। आज वो किस्मत को पूर्ण विश्वास के साथ मानता है।

मेरा भी अब यही मानना है कि

"क़िस्मत में जो लिखा होता है, वो होकर रहता है उसे आप किसी भी परिस्थिति में बदल नहीं सकते है।"
[s
/spoiler]
 
Messages
200
Reaction score
455
Points
63
Nauk-Rani
(erotica, servent, cheating)

Nauk-Rani

vah saphaee mein buri hai, lekin seks mein mahaan hai.

Disclaimour - This is a short sex story, everyone in this is fictional and has no real life semblance.

tez awaz me ..Sonali Bai, Sonali Bai, idhar jaldi aao kamra saaf karke, ..aati hun memsab, abhi saaf nahi hua hai kamara, ..kya karti hai sonali, 10 minute me tere se jhadu nahi lag raha hai, ..are memsab gandagi jam gaya hai, time to lage ga na, ..achcha tu use chor ke idhar jaldi aa, jaruri kaam hai, baad me tu jadhu laga dena, ..achcha memsab, aur sonali waha se uth jati hai, aur dheere se bolati hai.. aha kitani manhoos hai ye teri bibi, sahi se safai bhi nahi karane deti hai, kyu hai na kamal babu, aur kamal apne nam ankhon se sonali ko ghur rahe the, aur man hi man arzi laga rahe the ki wo chali jaye, lekin sonali bai abhi bhi apna ek hath kamal babu ke lungi me daale uska lund kisi pilas ke tarah pakad rakha tha, tabhi gusse se awaz aata hai.. sonali, ..aati hu mem sab, aur sonali jhuk ke kamal ke kale, vishal aur sakth lund ko chumati hai.. abhi aati hun mere dilbar, aur sonali waha se turant kamare bahar chali jati hai.

Kamal babu bilkul pasine pasine the, unka pura sarir dar se kanmp raha tha, aur pasine se unka pura pith geela ho gaya tha, wo nahi chahta tha ki sonali bai uske sath ye kare, aur wo ek bahut patni vatra aadami tha, lekin sonali bai ne use jaise dara dhamka ke use apne kabu me kar rakha tha, kamal babu bachpan se hi sarmile the, aur shadi se pehale tak kisi ladaki se baat tak nahi ki thi, aur wo achchi sarkari naukari me the isliye unke ghar wale, ek bahut hi sundar Daya Panwar se ho gayi thi, daya ne uski jindagi me char chand laga diye, usse beintehaan muhabbat karane wali thi, jisne uski khusi ke liye sabkuch kiya, use teen bachche diye, aur kamal babu ne bhi daya ka hamesa pyaar aur sath diya, lekin ye sab us din badal gaya jab daya is naye naukrani ko lagwaya, kamal babu ko pata nahi tha ki naurani lagwaya gaya hai, aur unke sare bachche bahar ko rahte the, isliye wo bina kuch soche nagn ho kapare badal rahe the ki kamal babu ko kisi ke aah bharane ki awaz aayi, kamal babu ko laga ki ye unki bibi thi, lekin phir achchanak se kamal babu ko yaad aata hai, unki bibi bahut rudwadi hai, aur wo kabhi apne muh se aisha sabd nahi nikalane degi, khaskar ab, jab un dono ka yon zindagi bilkul naa ke barabad ho gaya tha, kamal babu jhat se darwaza ke taraf mudate hai, aur unka kaleja muh me aa jata hai, waha pe ek aurat khadi thi, uska rang unki bibi se sanwala tha, aur wo lagatar unke lungi ke taraf ghurate jaa rahi thi, aur uski kajrare tikhi ankhe kamal babu ko jaise nanga kar rahi thi, aur wo aurat apne honth chaba rahi thi, aur wo kamal babu ke taraf aane lagi, jise dekh kar kamal babu ghabra gaye, aur swabhawik piche bhadhane lage, aur darwaje me jaa lage, aur wo aurat kamal babu ke ekdam nazdik aa gayi, aur kamal babu kuch kehana chahte the, lekin unke muh se ek sabd nahi nikal raha tha, aur wo aurat bilkul kamal babu se sat ke khadi ho gayi, kamal babu ko us aurat ke sarir ki garmi mehsoos ho rahi thi, aishi tapah unhone kabhi daya ke sarir me nahi dekha tha, aur kamal babu aur sammohan me chale gaye, aur wo aurat apna hath kamal babu ke tabale jaise pet pe rakh di, aur kamal babu se bilkul sat gayi, kamal babu uska mamme mehsoos kar rahe the, aur unka pair kamjor hone laga, wo aurat apna chehra sidhe kamal babu ke ankhon me ghur rahi thi, aur kamal babu ka sans kafi tez chalane laga tha, unhone apne zindagi me kabhi aisi sthti me nahi gaye the, aur saktihin ho gaye the, aur wo aurat apna hath kamal babu apna ek hath kamal babu ke land pe rakh diya jo ki bilkul dhila tha, aur hath mehsoos karate hi kamal babu ka pair jawab de diya aur wo wahi pe gir gaye, aur wo aurat ke muh pe ek katilana muskan aa gaya, aur wo wahi kamal babu ke bagal me baith gayi, aur kamal babu ko apne gale laga liya, kamal babu ne jab is aurat ka sarir ko apne tan me mehsoos kiya to jaise apne aap ko kosane lage, apni kamjori pe, lekin sath sath wo is anjaan aurat ke sarir ko apne bibi ne milane lage, jaha unki bibi me mamme dhal gaye the, is aurat ke kisi churi ki tarah sakht the, aur ye mehsoos kar kamal babu ka lund jagane laga, aur wo apne aap ko kosane lage, ki kaise wo apni jiwan sathi ko is is iske sath milan kar rahe the, lekin unka dimag kuch aur kah raha tha, aur unka sarir kuch aur jawab de raha tha, aur tabhi kamal babu ko apne lund pe kisi garam lawa rakhate hue mehsoos hua, aur wo niche dekhe, ye anjaan aurat unke lund ko apne hath me jakad rakha tha, aur uske muh pe katilana muskaan tha, tabhi awaz aata hai.. sonali bai, ghar dekh liya to jaldi idhar aao, thoda pagar ki baat kar lete hain, ..achcha mem sab, aur kamal babu ke lund pe sonali bai apne hath hata ke apne muh pe laya aur chhat liya, jise dekh na chahte hue bhi kamal babu andar se sihar jaate hain, aur sonali bahar chali jaati hai, aur paisne pasine is pure dharawahik ko kisi sapane ki tarah sochane lagate hain, us din aur aaj ke din me koi farak nahi tha bus baat bahut badh gaya tha aur kamal babu ko darr tha, badnami ka nahi, unhe darr tha ki kahin wo daya aur apne bachche ko na kho de is naukrani ki wajah se, aur sonali abhi abhi kamare me uska lund chus ke bahar gayi thi.

daya.. kitana der lagata hai, tujhe chote chote kam karane me sonali bai, sonali.. are mem sab bahut bada kaam tha, waha pe ek bahut sanm ko maar rahi thi. daya.. kya bolati hai sonali bai, yaha kahan sanp aa gaya, aur hasane lagati hai, aur sonali bai ek katilana muskan deti hai. daya.. sonali bai tum ye dekh, sonali.. kya hai memsab, daya.. andhi hai kya sonali bai, ye maine dudh rakhe hain, rabri ke liye dudh patile me chadha rakha tha, sonali.. achcha, mere ko kya karana hai mem sab, daya.. main niche jaa rahi hun, sharain se kuch bat karna hai, tu ise chalate rahane, waise lagbhag ban gaya hai, bas thoda der chalana hoga, sonali.. kitana der lagega mem sab, daya.. adha ghanta lag jayega, tum iske baad sare kaam kar lene, aur daya waha pe rakhe kuch bartan utha ke bahar jane lagati hai, aur sonali bai wahi pe khada hoke rabari chalane lagati hai, aur dusare hath se apna saree dheela karane lagati hai, sonali bai ke dimag me ek bahut kamsin aur ghinauna khayaal aaya tha.

kamal babu bahut muskil se apne aap ko sambhala tha, kamal babu kisi bhgwn, alh ya kda ko nahi manate the, lekin wo apne pariwar ki khair sab se mangane lage the, aur apna kapada sahi karke wahi pade kursi pe baith ke padhane ke liye akhbaar utha lete hain, phir wahi bjp-inc ka ghisa pita news dek ke wo panne badal ke manorajan wale hisse me jate hain, aur waha pe ek bahut bada sa beyonce ka tasweer laga hua tha, aur use ghurane lagate hain, aur unka khyaal sonali bai pe jaane lagata hai, lekin apne aap ko jankhjhor ke bahar nikalane lagate hain ki, koi unke akhbaar ko upar niche karate hai aur ek jhatake me akhbaar ka panna panna pure kamare me bikhar jata hai, aur waha pe sonali bai khadi thi, ekdam nangi, uske sarir pe kuch nahi tha, aur kamal babu ise dekh ke pagal se ho jaate hain, aur kisi mantramugdha hiran ki tarah sonali bai ko ghure jaa rahe the, mamme aise jaise koi narangi ho, pet bilkul sapat, aisi lachakati kamar ki duniya hil jaye ek jhatake me, aur lambe hirane jaise pair, lekin sonali bai ka tabale jaise, ekdam golakar gaand, jise dekh naa chah ke kamal babu sonali bai ki tulana apne bibi daya se karane lagate hai, kaha uska dheela sarir, uske naam ke barabar gaand, aur uska pet, jo ab dheela pad gaya tha, aur kamal babu ka lund sakht ho gaya tha, jise mehsoos kar kamal babu apne lund ko jabardasti baithane ki kosis karane lage, sonali khade lund ko dekh muskane lagi aur aage badhi.. kya karate ho mere raja, tere ko kya lagata hai, ye naag ka sir dabane se mar jayega, iska to pura sarir todana padega, aur sonali bai pna muh kamal babu ke muh pe rakh deti hai, aur kamal babu apne aap sonali bai ka muh chusane lagate hai, wo kisi kayar ki tarah bina kisi ladai ke hathiyaar daal diya tha, aur ek taraf sonali bai me mithe thuk ko chat rahe the, aur dusari taraf uske dimag me unka pariwar tha, aur tabhi sonali kamal babu ka naag jaisa lund apne changul me kar liya, aur unke supade ko masalane lagi, aur kamal babu vichalit hone lage aur apna muh sonali ke muh se hata ek lambi siskari li.. aaaaaaaaaaaaahhhhhhhhhhhhhh, aur sonali sun ke jhat se baith jati hai aur kamal babu ka vikral lund apne muh me thus leti hai, aur kamal babu albalane lagate hai.. sona daya son daya bach aaaaahhhhhh, lekin sonali bai kisi ajgar ki tarah kamal babu ka lund apne muh me bhar liya, aur dheere dheere apne kanth me dalane lagi, kamal babu ki bibi daya ne kabhi unka lund muh me nahi liye tha, aur ye ahsas kamal babu ek jahan se daya ko jaise kisi rubbar ki tarah mita deta hai, aur kamal babu pe pagalpan sawar hone laga, aur wo sonali bai ka sir palad ke apna lund jad tak dene lage, aur sonali bai jawab me kamal babu ka gaand pakad ke lund muh me lene lagi, aur kamare me kuch gila gila chip chip awaz gunzane laga.

Karib dus minute tak sonali bai kamal babu ka lund apne kanth me liye rakha, aur kamal babu ka pran unka sarir chodane laga aur wo chatpate lage, lekin sonali bai chatpatahat me bhi unka lund nahi hilane de rahi thi, aur kamal babu apna lawa nikalane lage, ki sonal apna muh bahar khinchati hai aur kamal babu apna lund ka pani sonali bai ke muh me girane lagate hai, aur sonali unka sara pani apne muh se ikhata kar leti hai, aur kamal babu wahi pe hanfane lagate hai, aur jamin pe let jaate hain, aur sonali bai kamal babu ka tabale jaise pet me apne hath chalane lagati hai, aur kamal babu me itana bhi takat nahi tha ki wo uth ke sonali bai ko dekhe, aur sonali bai waha se uth jati hai, aur nange rasoi jati hai aur waha pade rabri ka bartan ko pakadati hai, aur usme kamal babu ke lund ka pani aur apna thuk ugal deti hai, aur wahi pade chamach se chalane lagati hai, aur rabri me achche se mila deti hai aur us garam bartan ko hath se utha ke wapas kamal babu ke kamare me le jati hai, aur waha pe kamal babu abhi bhi hanf rahe the, aur unhe dekh ke sonali bai wo bartan kamal babu ke pet pe rakh deti hai, aur garmi mehsoos kar ke kamal babu jhatake se uthate hain, lekin sonali bai bartan girane nahi deti hai, ..kya karati ho, garam tha jal jaunga, ..are mere raja, tujhe to sirf main jala dakti hun, aur sonali bai apne sarir ko kamal babu ke sarir me lapet lete hai, aur chamach se wo pani mila rabri apne muh me leti aur kha jati hai, au phir dusara chamach apne muh me le ke, kamal babu ke muh me apna muh laga deti hai, aur kamal babu ko sonali bai rabri khilane lagati hai, aur dusare hath se kamal babu ka lund sahlane lagati hai, aur dheere dheere 1/4 rabri khali ho jata hai, aur kamal babu ka lund bhi kadak ho jata hai, aur sonali musakane lagati hai, aur wo bartan bagal me khiska deti hai, aur sonali bai apna pura sarir kamal babu ke sarir me ragadane lagati hai, aur kamal babu ke sarir me phir jaan aane lagata hai aur wo sonali bai ko apne upar masalane lagate hain aur uske mamme ko apne hanth me bhar lete hain, sonali.. hai mere raja, uuuiiiii maaaaaa, aur jod se mere raja, pura ye tera hi to hai, aur sonali bai apna apna pet kamal babu ke bade pe ragad rahi thi lekin, lund ka sir hi uske pet se lag raha tha, aur sonali bai waha se uth jati hai, aur komal babu ke upar se uth jati hai, aur uska pair fair faila deti hai, aur sonali bai ka nazar sidhe lund pe jata hai,aur use phir chuppa lagane ka karata hai, lekin wo ruk jati hai, kyuki abhi samay thoda kam tha, aur sonali bai apna chut kamal babu lund se upar lagati hai, aur apne dono hanth se kamal babu ka hath pakad leti hai, aur uski chut bahut hi asani se kamal babu ka lund kha jati hai, aur kamal babu aur sonali bai dono chain ki sans lete hain.. aaaah aaah aaaaah, aur sonali apna gand utha utha ke kamal babu ka lund ka sawari karane lagati hai, aur kamal babu ye dekh sochane lagate hai, daya ne kabhi unke sath ye nahi kiya tha, bus raat ke andhere me kuch der, lekin sonali ki chut daya ka uske dimag se mita raha tha, lekin daya ka gussa nahi mita tha, aur kamal babu jod se sonali bai ko khinchate hain aur uske muh me apna muh lagate hai, aur niche ke jod dar jhataka dete hain, jis se sonali bai andar se hil jati hai, aur sonali madmast ho jati hai, lekin kamal babu ko niche se ban nahi rahi tha, aur sonali ko wo utha lete hain aur use bistar pe patak dete hain, aur sonali wahi pe lete lete ek madmast hanthi jaise mard ko hunkar lete hue dekh uski chut paniya jaati hai, aur wo apne pair masalane lagati hai, aur kamal babu sonali bai ke upar aa jate hain, aur apne lund ko sonali bai ke chut me lagane lagate hain, aur sonali bai bhi apna pura pair khole rakhati hai, aur kamal babu ka lund ka supara sonali bai ke chut pe lagata hai, aur kamal babu apna 90 killo ka sarir ka pura bhar 50 killo ke sonali bai ke sarir pe daal deta hai, aur sonali bahut jod se chikhati hai.

Lekin kamal babu ko koi farak nahi padata hai, ab ye kamal babu nahi the, ye koi haiwaan tha jise sonali ne khud jagaya tha, aur sonali bai yahi to chahti thi, aur kamal babu ne sonali bai ke sarir ka ek ek haddi hila diya tha, aur kamal babu ka vikral lund sonali ke kokh ke jad tak gad gaya tha, aur kamal babu ka jhaat ka baal, sonali ke jaant ko chum raha tha, aur kamal babu ko yaad aata hai, ki daya ke andar apna adha lund tak itane salo me nahi daal paya tha, aur ye gussa use aur pagal bana deta hai, aur wo apna bharibharkam sarir uthata hai, aur sonali pe patak deta hai, sonali.. hai, ma, uuuufffff, tod diya julmi ne, lekin sath sath apna pair utha ke kamal babu ke kamar pe apna pair kas leti hai, aur kamal babu apne pure taqat se sonali ke chut me apna lund dene lage, ..ye le sali, yahi na tere ko, ..sali nahi raja, rani............ aaaahhhh, ..tu koi nahi hai, saali, aur kamal babu sonali ke gaal pe jodar thappad marate hain, sonali.. hai mere raja, main tu hun teri rani, aur sonali apna gaand gol gol hilane lagati hai, ..sali wo daiyan na hoti to din bhar tere lund pe jhulate rahati, ..chup ho ja, mere bibi ke bare me aise mat bolo, ..kon si bibi, itane din se to dekh rahi hun, chune bhi nahi deti hai tere ko, ..please chup ho jao, daya ke bare me, ..are kyu chup hun, waise bhi sali bhudhiya, kya tera lund ko aise masal sakti hai, aur sonali bai apna chut ko kamal ke lund pe kas deti hai, ..nahi, ..ha ha ha ha, aur kya hai wo mere samane, tu mujhe apni bibi banale, puri jindagi tere lund ko sukhane nahi dungi, ..nahi daya meri bibi, please santh ho jao, sonali.. to tu ise chor dega, apni widhwa jaisi bibi ke liye, is mamme ko us sukhi aam ke liye chod dega, ye gol gaand us sapat sarak ke liye, agar tu apna baat pe bharosa hai to abhi apna lund mere se nikal, aur sonali bai ke is baat ko sunke kamal babu ke ankh me anshu aa jata hai, aur wo sonali bai ke upar se uthake bagal me baith jate hain unka lund abhi bhi hinkar mar raha tha, sonali bhi wahi uth jati hai aur jaldi jaldi rabri ka bartan uthati hai, aur bahar jake apna kapare pehane lagati hai.. madar chod mere ko samajhata kya hai, sale is sarir ka tu majak udane le layakh nahi hai, kamal babu wahi pe naam ankhon se sonali ko bahar jate hue dekhate rahe, ..ja rahi hai main, malkin ko bata dena sonali bai yaha nahi aayegi.

sonali bai jaise bahar darwaje pe jaati hai, aur apna sandil pehane lagati hai ki, use hath mehsoos hota hain, apne gaand pe, aur uska muh pe ek katilana muskaan aa jata hai, ..kyu be tujhe, to is se jyada teri bibi pasand thi, lekin kamal babu kuch nahi sunata hai, aur sonali ka bai saree aur peticot utha ke apna lund uske gilli chut pe laga deta hai, sonali bai kachchi nahi pehanati thi, aur kamal babu ka lund ghar ke darwaje pe sonali bai ke chut ko chum rahi thi aur sonali wahi rok deti hai, ..kyu be, ye sarir bada ki teri bibi, ..ye sarir, ..agar tune ye chut me apna lund dala to aaj se tu mera yaar, aur wo chinaal meri saut, ..thik hai, ..aur tu mujhe achche se rakhega, daaru pike marega nahi, ..main daaru nahi pita, ..hai mere raja, tu kitana achcha aadami hai re, ..sayad utha bhi achcha nahi hun, aur kamal babu sonali bai, ke hath ko ulta pakad lete hain, aur apna lund sonali ke chut me ek ghusa dete hain,.. hai mere raja, aur kamal babu ek hath se sonali ka hath pakad lete hain aur dusare hath se sonali ke baal pakad leta hai, aur uska bada sa pet sonali bai ke bade se gaand pe paakata hai, aur thaap ka awaz pure kamare me gunj jata hai, .. thaaaaaap
.. thaaaaaap,
aur sonali bai ko kamal babu kisi pagal janwar ki tarah chodane lagata hai, aur sonali bhi kisi pagalo ki tarah apne gaand pe hamale jhel rahi thi, aur dolo janwaro ki tarah girgirgada rahe the.

.. ye sonali phir se sare bartaan chod di hain gandi, kamal dekho na, ekdam paresaan kar diya hai, ..are to is me main kya karu, tumhi ne to use lagwaya tha, ..tum ho na, main uski kal class lagati hun, aur daya waha rakhe rabari chamach se uthati hai, aur apne muh me leti hai, ..chii ye kaisa kasila swad hai, maine use bola tha, normal dudh do, pata nahi ye kaisa swad aa raha hai, aur daya kamal babu ke bagal me baith jati hai, ..are tumhare gale wala, sone ka haar kaha gaya, kho to nahi diya, kamal babu sonali ko khayalo me late hue bolate hai.. nahi maine use daan kar diya hai, daya.. aap bhi na kamal, 500-1000 de dete, itana mehnga.
 

DiNu DraCula

Active Member
Messages
729
Reaction score
1,155
Points
123
Jehad(ek insan ki kahani)
(Note:- dosto ye ek kalpnik kahani he.. Iska asliyat se koi Lena Dena nahi he.. Ye kahani ka kahi kisi se kisi tarah ka match ho to vo sirf sanyog hoga.. Mai mafi chahta hu.. Agar kisiko meri ye kahani buri lage to.. Ye kisi dharam ya kisi desh ke prati bhedbhav se nahi likh raha hu..bs isse sayad kus raah bhatke huye log sahi rasto pe aa Jaye)

Mera naam faruk ahemad he.. Aur ye meri kahani he...is waqt Mai ek jail me hu.. Jaha ye likh raha hu...ab kahani pe aate he...

"Jehad"

Kya he iska mtlb.???? Koi nahi janta.. Bs kus aese swarthi Aur lalchi log he jinhine jehad ka mtlb insano ko marna he aesa kaha..

Ab un logo KO kaun smjaye jehad ka mtlb insaniyat he..

Aur bhot se log in swarthi Aur lalchi logo ki bato me aakar vo ghinona kaam kar bethte he.. Jiske liye unhe bhagvan ya khuda kabhi maaf nahi kar sakta..

Na mera rahim maaf kar sakta he nahi ram maaf kar sakta he..

Mera janam Gujarat ke ek chote se sahar me hua tha.. Ammi Aur aabu bachpan se mujse bhot pyar karte the.. Meri ek bahan bhi thi.. Vo bhi mujse bhot pyar karti thi..

Padhayi me bhot hosiyar tha.. Aur hume peso ki bhi koi kami nahi thi.. Bhot amir to nahi the.. Lekin fir bhi achi khasi kamayi thi...

Meri jindgi me bhuchal us din aaya jab mere ammi abbu ki maut ho gayi..

Aur unki maut huyi komi ramkhan me.. Jisme na Jane kitne log aanath huye the meri tarah..

Mere parivar KO maar diya Aur me kus n kar paya.. Aur isi vajah se mere dimag ne sochne smjne ki shakti khatam kardi..

Pura din bs aapne aami abu ko yaad karke rota rahta tha.. Appi hamesha muje sambhalne ki kosis karti thi.. Lekin fir bhi yaden to aati rahti he..

Us waqt meri mulaqat huyi shabir Nam ke ek ladke se...

Jo hamesha vaha aakar sab musalmano ki help karta tha.. Aur uski yahi vajah muje uski Aur khinch rahi thi..

Aur fir humari dosti bhi ho gayi.. Usne bhot baar meri madad ki.. Har taraf se usne meri help ki..

Bato bato me ek din mene aapne dil Aur dimag chal rahe gusse Aur dard KO uske samne rakh diya..

Tab usne muje kaha ki isse kus nahi ho sakta.. Tumhe aapni com ke liye ladna chahiye.. Jarurat padne par hathiyar bhi uthana chahiye..

"Tuje jehad karna chahiye"

Jehad bs ab muje yahi Karna tha.. Muje aapni ammi-Abu ki maut ka badla Lena he... Muje aapni com ke sath huye har jurm ka badla Lena he..

Jab mene aapni bahan KO kaha to unhone muje thappad mar diya.. Aur muje rokne lagi.. Lekin appi ki bato ka kus asar nahi hua mujpe...

Aur aagle din me Aur kus Aur ladke shabir ke sath Bharat-Pakistan baurdar ki Aur ravana ho Gaye...jaha dono sima ke bich ek bhut bada jungle tha...

Aur us jungle me Hume vaha ke commander se milaya shabir ne..

Ek tarah se dekhta Jaye to puri bataliyan thi vaha.. Sab aapni aapni training kar rahe the..

Dusre din se humari bhi training suru ho gayi... Hume ek commando ki tarah train kiya ja raha tha..

Aur sab kaam bhi humse karvate the... Unke kapde dhona aur khana banana jese kaam bhi hum hi logo se karvate the..

Ek tarah se dekha Jaye to nokar banakar rakh diya tha..

Is bare me mene shabir se baat ki..

To usne kaha.." Ye bhi ek tarah se training he tumhari... Aur bhulo mat ki tum yaha q aaye the"

Vo to chala gaya.. Lekin humari halat din pratidin Aur bigdti ja rahi thi.. Aur ab to vo log hume ek tarah se torcher karne lage the.. Har baat pe Hume kosne lage the..

Jab me Aur ek ladka bartan saaf kar rahe the...

Tab vaha se unka ek aadmi pass se jate huye..

" ae Hindustani jaldi jaldi hath chalao.. Khate to pet bharke ho.. Aur kaam kus nahi"

Tab pahli baar mere dimag me khayal aaya ki agar me Hindustani ho to fir meri com kaha gayi.. Mtlb in logo ke liye com mayne nahi rakhti.. Inke liye bs hum ek nokar he.. Jo ye kahe vo Karo.

Fir ek din Hume road pe ja rahi bus KO lutne KO kaha gaya..

Aur order bhi diya ki sabko maar Dena ... Kisiko bhi zinda mat sodna...

Aur ye humara pahla mission tha.. Jo naye the un sab yani 10 ladko ke liye.. Aur humare sath commander bhi aane vala tha...

Humne bich raste pe patthar rakh diye the... Jese hi
bus najdik huyi vo ruk gayi..

Aur humne goliya chalani suru kardi.. Aur bus me se chikhne ki aavaze aane lagi...

Kus der baad humne goliya chalani band ki..
Fir commander ne muje aandar Jane ko kaha Aur Jo jinda ho un KO Marne KO kaha.....

Fir bus me Jake dekhne laga sab mar Gaye the.. Tabhi ek avaz mere kano me padi.. Vo ek bache ke Rone ki thi...

Me jab uske pass gaya to vo 10 saal ka bacha tha...

Mene gun uski Aur ki.. Lekin me goli nahi chala pa raha tha... Qki ek chote bache KO me kese maar sakta hu..

Isliye mene gun niche ki.. Aur bache ke pass chala gaya Aur vo abhi bhi dar raha tha..

Mene pyar se uska naam pusa!! To usne darte huye aapna naam Ali bataya...

Tabhi commander vaha aaya.. Aur muje bache se baat karte dekh gussa ho gaya.. Aur muje bache KO Marne KO kahna laga...

Mene commander se kaha ye aapni com ka he fir is KO q marna.. Sod dete he..

Lekin commander ne kaha.. Ye ek Hindustani he.. Aur tu bhi dur hat Hindustani chuse.. Ye tere bas ki baat nahi he.. Aur usne bache KO maar diya...

Tabhi pata nahi kaha se police aa gayi.. Aur un logo ne goliya chalani suru kardi.. Idhar se humne bhi goliya chalayi..

Tabhi ek goli commander ki Aur aa rahi thi.. Lekin usne humare hi sathi KO aapne aage kar diya.. Jisse commander to Bach gaya lekin humara sathi Mara gaya...

Aur fir samne se bhi goliya chalni band ho gayi.. To commander ne Hume sabko check karne KO kaha ki dekho koi zinda to nahi..

Hum ek ek KO check kiya sab mar Gaye the... Lekin jab un Marne vale police ke name plate ki aur dekha to 2 police vale mere hi com ke the..

Aaj mere sath huye in tin hadso ne muje aandar tak hila diya tha...

Aaj muje meri didi ke kahe huye vo shabd yaad aa rahe the...

" ohhh to tu jehad Karna chahta he... Thik he tu jehad kar.. Lachar Aur besahara logo ki madad ka jehad kar.. Bhukhe KO khana Aur pyase KO pani pilane ka jehad kar.. Ek acha insan bankar aapne ammi-Abu ka naam roshan Karen ka jehad kar..."

" tu jo jehad Karna chahta he usse insaniyat ki maut hogi... Bekasur logo ki maut hogi.. Aur tu bada aapni com aapni com kar raha he.. Us me aapne com ke log bhi mare jayenge"

" Aur jin logo ke bahkave aakar tu ye karne ja raha he.. Vo hi log jarurat padne par tum logo ko kurabani ke naam pe maar denge..."

" Aur jab tere sath ye sab hoga tab tuje Mari baten yaad aayegi"

Aur sach puso to aaj muje pata chal gaya tha... Ye log jehad ke naam pe aajke yuva ladko KO bahlakar unki kurbani dete he lekin aapni kurbani nahi dete..

Aur ab mene faisla kar liya tha ki ab in KO bataunga ki Hindustani kya karte he.. Bhot shock he in KO baat baat pe Hindustani cause bolne ka ab me dikhaunga ki ek Hindustani chusa kya karta he..

Itna to pata chal gaya tha ki ye koi jehad nahi he.. Ye ek tarah ka game he.. Ab bas muje kisi tarah parde ke pise rahne valo ke chahere se naqab hatana hoga tabhi is game ka end hoga... Varna kus nahi hoga..

Aur itne waqt me ye bhi jaan gaya tha ki ye commander to sirf mohra he... Bs ab intzaar tha muje sare sabut dhudhne ka...

Us din se mera ek hi maksad ban gaya.. Aur fir mene pure 1 month me sare sabut dhundh liye the.. Jisse ye jehad naam ka kida khatam ho Jaye...

Aur aese bhot se se logo ke khilaf sabhut the.. Jo mere desh ke kus bade politions bhi samil the.. Kus bade adhikari to kus bade log bhi the...

Lekin ye sab bade log the me inka kus bigad nahi sakta tha... Muje 1 aese insan ki talash thi Jo meri madad kare... Aur muje pata tha ki vo kaun he.. Bs ab kisi tarah muje yaha se bhagna tha..

Aese hi ek din me pani lene ke liye nikal ke thodi hi dur aaya tha ki.

Muje goliyo ki avaz sunayi Dene lagi.. Isliye me camp ki Aur Jane laga.. To dekha ki commander Aur uske log bhag rahe the... Me bhi unke pise bhagne laga...

Thodi hi dur gaya tha ki vo log kaha gayab ho Gaye pata nahi chala..

To me vapas camp ki taraf aane laga..

Lekin jese vaha ka haal dekha to zatka laga.. Qki vaha Indian army khadi thi.. Aur vo baat kar rahe the..

To mene jaha sare sabut 6upaye the.. Vaha gaya Aur sar
e sabut nikalne laga.. Is baat se aanjan ki dur se koi muje dekh raha he..

Tabhi muje army valo ki aavaz aane lagi isliye me 6up gaya...

Aur jab unki baate suni to muje zatka laga ki.. Jo ladke mere sath yaha aaye the vo sab mar chuke the.. Aur commander Aur uske log hi sabko markar bhag Gaye the...

Fir me 6upte2 jungle se bahar aa gaya. Lekin jese hi thoda aage chala to ek goli mere kaan se najdik se nikal thi.. Me turant ek ped ki aad me sup gaya...

Fir jis Aur se goli aayi thi mene us taraf goli chaldi is KO meri kismat kaho ya us goli chalane vale ki badkismati ki vo bhi us waqt bahar aaya Aur goli sidha uske sir se aarpar ho gayi..

Jab mene najdik Jake dekha to vo commander ka aadmi tha.. Aur sayad vo muje hi marne aaya tha.. Qki uske pass night vision durbin tha.. Jisse raat me bhi insan ko pahchana Jaye... To isne muje pahchan ke hi goli chalayi thi..

Me vaha se vahi gaya jaha se is kahani ki suruast huyi thi.. Yani mere saher..

Mene vaha Jake mere Abu ke purane dost Jo police me the.. Un KO call kiya...naam tha Mahmud khan...

Jab mere sath hadsa hua tab ye dusre city me the.. Mene yaha aake jiske paas Jane ki soch raha tha.. Vo mere hi city me the...

2 ring ke baad unhone call risive kiya..

Jese hi mene aapna naam bataya.. To pahle to vo muje dantne lage ki koi aapni bahan KO aese sidkar jata he..

Tab mene didi ke bare me pusa to un hone bataya ki vo unke sath hi rahti he ab..

Fir mene uncle KO aapni baat batayi Aur unko Milne KO kaha... Aur ye bhi kaha ki agar muje kus ho Jaye to sare sabut ki ek copy jaha supayi thi vo jagah se sare sabut vo collect karle..

Unhone muje vahi rahne KO kaha.. Aur ye bhi kaha ki vo khud aa rahe he...

Me intzaar kar hi raha tha ki ek goli aake sidhe mere hath pe lagi Aur me gir gaya.. Vo sab mere pass aaye. Pahle unhone muje Mara Aur fur mujse sabut magne lage..

Mene Dene se mana kar diya to Marne ki dhamki Dene lage.. Aur gun mere sir ke pass rakhdi.. Abhi kus bolta usse pahle hi uncle vaha aa Gaye ayr turant goliya chalane lage jusme 2 to mare Gaye baki bhag Gaye...

Fir muje hospital laya gaya.. Jaha mera ilaj hua..jese hi hish aaya uncle Milne aaye.. Fir mene unko sare sabut kaha he vo bataya.. Aur ye bhi ki vo commander kaha mile ga...

Uncle Jane lage to mene kaha.. Uncle jab vo commander mile to us KO hum Hindustani chuse ki kya taqat he jarur dikhana.. Usko bhi pata chale ki ek Hindustani chusa bhi un jese 10 par bhari pad sakta he...

Uncle haskar chale Gaye...

Uske dusre hi din commander Aur uske aadmiyo KO Indian police Aur Indian army sath milkar khatam kar diya...

Aur fir suru hua un sab bade logo KO hirasat me lene ka kaam.. Aur yaha bhi Indian police Aur Indian army do no ne sath milkar kiya tha...

Is waqt mere pass didi bhi bethi huyi thi... Pahle to un hone muje bahut danta fir maaf bhi kar diya..

Aur is waqt do no TV dekh rahe the.. Jaha har taraf meri hi bate ho rahi thi... Sab vahvahi kar rahe the.. Aur mere ammi-Abu ka naam bhi sanman ke sath liya ja raha tha..

Tab didi ne kaha yahi he asli jehad... Aaj Teri vajah se kitne logo ki jaan Bach gayi.. Aur ab tera ye kaam raah bhatke ladko sahi raah dikhayega... Aur vo sab bhi galat rasta sidke sahi raste KO apnakar sacha jehad karenge...

Aaj jail me hu to mene khud kaha ki muje saza milni chahiye... Qki gunah to mene bhi kiya tha...

Aadalat ne muje gunehgar to mana lekin sarkar ki madad ki isliye meri saza kam karke 2 saal ki saza di..

(Note:- dosto kahani kesi lagi batana jarur.. Aur like bhi Karna.. Aur ha agar aap bhi "Jehad" karna chahte he to jis tarah farukh ne kiya vesa "Jehad" Karna)
 

Chutiyadr

Well-Known Member
Messages
16,788
Reaction score
40,146
Points
173
हवस से प्रेम तक
डराने वाली रात थी , पास में बहती हुई नदी भी डरावनी लग रही थी , बारिश तेज होने लगी और दोनों का जिस्म उस बारिश में बुरी तरह से भीग चूका था ,

तूफ़ान की तेज हवाओ ने पूरी झोपड़ी को ही तहस नहस कर दिया था , फिर भी हरिया और सुनीता ने हिम्मत नहीं हारी थी , वो जैसे तैसे एक पेड़ का सहारा लेकर अपने आशियाने को बर्बाद होता देख रहे थे, सुनीता के पास यही तो बस एक साड़ी थी जो उसे पिछले साल सेठानी जी ने दी थी , पुरानी साड़िया भी झोपड़े के साथ हवाओ में उड़ चुकी थी, लेकिन अब भी सुनीता को उन साड़ियों की नहीं बल्कि अपने मंदबुद्धि भाई की चिंता थी जो उसके पास खड़ा हुआ काँप रहा था।

"तू ठीक तो है ना हरिया ?"

हरिया कांपते हुए अपनी बहन के निकट आया और उसके जिस्म से चिपक गया , सुनीता ने भी अपने भाई को अपने जिस्म से चिपका लिया और वही पेड़ के निचे सिमट कर बैठ गई।

"सुनीता ये तूफान कब रुकेगा ,और हम अब कहा रहेंगे "

हरिया के प्रश्न ने सुनीता के दिल को दहला दिया था

ऐसे तो हरिया उससे उम्र में २ साल बड़ा था लेकिन बचपन से ही मंदबुद्धि का था , उनकी मानसिक उम्र किसी बच्चे की तरह थी ,सुनीता का बाप तो बचपन में चल बसा था और माँ ने भी ज्यादा साथ नहीं दिया, सुनीता अभी जवान ही हुई थी की उसकी माँ ने भी उसका साथ छोड़ दिया और साथ छोड़ दिया हरिया की जिम्मेदारी।

जिस उम्र में वो नए सपने बुनती और अपना घर बसती उस उम्र में वो लोगो के घरो में काम कर अपने और अपने भाई का गुजरा करती थी, गांव के बाहर एक छोटा सा झोपड़ा उसकी माँ ने बनाया था बस वही सुनीता का सहारा था ,भाई तो बस पास के ही माता के मंदिर में पड़ा रहता वंहा रहने वाले बाबा की सेवा करता और बदले में वो उसे कुछ खाने को दे देते।

ऐसे गांव के लोग सुनीता के दर्द को जानते थे , उसकी सेठानी जी भी उसे खाने पिने का सामान देती रहती थी लेकिन जंहा अच्छे लोग होते है वंहा बुरे भी तो होते है , और सुनीता की जवानी भी तो ऐसी थी की किसी भी मर्द में हवस की चिंगारी को आग बना दे।

इन्ही में एक सेठ का बेटा आनंद भी था,सेठानी को भी पता था की आनंद दिन भर सुनीता पर डोरे डालता है, उसे छेड़ता है लेकिन सेठानी के रहते आनंद की इतनी हिम्मत नहीं थी की वो सुनीता से कोई बत्तमीजी कर सके, सुनीता की जवानी को सेठानी जी ने अभी तक बचा कर रखा था वरना गांव के भेड़िये तो उस मादक जिस्म को कब का नोच कर खाने को आतुर खड़े रहते थे।

ऐसा नहीं था की उन्होंने कोशिस नहीं की थी ,लेकिन सुनीता हर बार ही बच जाती , कभी सेठानी के कारण तो कभी मंदिर वाले बाबा के कारण।

मंदिर वाले बाबा भी सुनीता के झोपड़े के पास ही पीपल के पेड़ के पास आकर सोया करते थे और काम से आने के बाद सुनीता उनके लिए खाना बना ले जाती ,अब वही उनके लिए पितातुल्य थे वो दोनों भाई बहनो को अपने पास बिठा कर कहानिया सुनाते की कैसे माँ की भक्ति से लोगो का जीवन सफल हुआ है , सुनीता के भाई हरिया को भी बस इसी का सहारा था की एक दिन माँ उनके जीवन की कठिनाइयों को भी दूर कर देगी ,

आज सुनीता के आँखों में पानी था , तूफ़ान और बारिश ने उनके एक मात्रा सहारे को भी बर्बाद कर दिया था , बाबा आज तूफान के कारण नहीं आये थे हरिया काँप रहा था ,सुनीता को डर था की कहि उसे बुखार ना हो जाये , वो उसे अपने जिस्म से चिपका कर सिमटी हुई बैठी थी,उसके मन में कई सवाल थे की आखिर उसका भविष्य क्या होगा।

जंहा ये बारिश और तूफान किसी के लिए दर्द और बेबसी का सबब बन गई थी तो वही दूसरी और कोई इसमें मौज में था

"आज तो मजा ही आ गया ,बारिश में विस्की अपना ही मजा देती है "

आनंद 4 दोस्तों के साथ अपने खेतो में बने घर में बैठा विस्की और गर्म गर्म मुर्गे का आनंद ले रहा था ,

"हा भाई लेकिन इसके साथ कोई गर्म गर्म माल भी हो जाये तो मजा दुगुना हो जाये,बारिश में किसी गदराई माल को नंगी कर दौड़ा दौड़ा कर करने का मजा ही अलग है "

सभी दोस्त हंस पड़े थे

"मुझे तो बस एक जिस्म चाहिए लेकिन साली कभी हाथ ही नहीं लगती , कितना बहलाया फुसलाया पैसे का लालच दिया लेकिन "

आनंद बस इतना बोल कर रुक गया

लेकिन उसके दोस्त समझ चुके थे की वो किसकी बात कर रहा है

"अरे तो उठा लाते है साली को "

मंगलू बोल उठा , मंगलू ऐसे भी औरतो के नाम से बदनाम था, कई बलात्कार के आरोप उसपर लग चुके थे लेकिन राजनितिक ताकत ने हमेशा ही उसे बचा लिया था ,

"अबे तुम लोग समझते नहीं मेरी माँ मुझे मार डालेगी "

आनंद की बात सुनकर सभी हँस पड़े

"साले अपनी माँ से इतना क्यों डरता है ,उस साली के ऊपर तो मेरी भी नजर है लेकिन साली हाथ ही नहीं लगती आज मौका है और दस्तूर भी है ,ऐसा गायब करेंगे उसे की किसी को पता भी नहीं लगेगा ,बोल देंगे की साली का अपने ही भाई के साथ चक्कर था "

मंगलू की शैतानी हंसी निकल पड़ी

"लेकिन मंदिर वाले बाबा ?"

आनंद अभी भी डरा हुआ था

"इस तूफान और बारिश में वो बुढ्ढा कहा पेड़ ने निचे सोने जायेगा ,रहा उसका भाई तो उससे हम निपट लेंगे , बारिश में सुनीता के भीगे नंगे जिस्म से आज रात भर खेलेंगे और उसे उठा कर मंत्री जी के फॉर्महाउस में फेक आएंगे ताकि जब मन करे तब उसके जिस्म का स्वाद ले सके "

मंगलू की बात से सभी की आंखे चमक गयी थी..

इधर

"बोल ना सुनीता अब हम कहाँ रहेंगे "

हरिया ने अपना प्रश्न फिर से दोहराया

"माँ सब ठीक करेगी भईया "

सुनीता ने अपने भाई के बालो में हाथ फेरा

"हा माँ सब ठीक करेगी , सबका करती है तो हमारा भी करेगी ,क्यों नहीं करेगी ,मैं रोज उनकी पूजा जो करता हु, वो जल्दी ही तेरी शादी अच्छे घर में करवाएगी "

अपने बड़े भाई की इस भोली बातो को सुनकर सुनीता इस दर्द में भी मुस्कुरा उठी थी ,

"मेरी शादी की बड़ी चिंता है तुम्हे "

उसने मजाक किया

"मैं तेरा बड़ा भाई जो हु आखिर तेरी शादी की जिम्मेदारी मुझपर ही है ना "

सुनीता उसकी बात को सुनकर हँसते हुए भी रो पड़ी थी।

शादी जैसी चीजे उस जैसी अभागन के लिए नहीं थी ,लेकिन वो अपने भाई को कुछ बोलकर दुखी भी नहीं करना चाहती थी ,

तभी एक कार की तेज लाइट दोनों पर पड़ी , तूफ़ान तो हम हो चूका था लेकिन बारिश अभी भी हो रही थी ,

"हाय क्या भीगा हुआ जिस्म है साली का "

एक बोल उठा सभी की नजर सामने पेड़ के नीचे बैठी हुई सुनीता पर गयी , सुनीता पूरी तरह से भीग चुकी थी और उसके यौवन का हर एक कटाव उसके उस पुरानी साड़ी से साफ़ साफ़ झलक रहा था ,

"साला इस मादरचोद हरिया के ही मजे है देख कैसे अपनी बहन से लिपटा हुआ बैठा है "

एक फिर बोला और सभी हंस पड़े ,

"भाई आसपास देख लो कोई है तो नहीं "

आनंद ने डरते हुए कहा

"साले डरपोक कोई होगा भी तो क्या बिगाड़ लेगा "

मंगलू ने हाथो में अपनी पिस्तौल थाम ली थी ,गाड़ी रोक कर सभी उतर गए

गाड़ी की तेज रौशनी ने सुनीता को थोड़ी देर के लिए चौका दिया लेकिन वो जल्द ही समझ गयी की ये आनंद की गाड़ी है , एक अनजाना डर उसके मन में समा गया था

"भईया यंहा से चलो हम मंदिर में जाते है "

सुनीता तुंरत ही खड़ी हो गयी थी ,लेकिन तब तक सभी लोगो ने उन्हें घेर लिया था

"अरे मेरी रानी कहा चली ,आओ तुम्हे गाड़ी में छोड़ देते है "

मंगलू सुनीता के पास आने लगा

"तुम लोग यंहा क्या कर रहे हो "

सुनीता घबराई जरूर थी लेकिन आज तक के जीवन ने उसे थोड़ा हिम्मतवाला भी बना दिया था,ऐसी परिस्थितियो का उसने कई बार सामना किया था जब हवस के प्यासे उसके जिस्म के मोह में उसे पाने के लिए सुनीता पर दबाव बनाये ,लेकिन आज परिस्थिति कुछ लग थी आज उसने खुद को अकेला महसूस किया था , ये दिन नहीं था ये रात थी और उसे बचाने वाले उससे दूर थे ,लेकिन सुनीता जानती थी की अगर उसने हिम्मत खोई तो इसका जुर्माना उसे अपनी आबरू को लुटा कर देना होगा।

"हम तो बस तुम्हारी सलामती देखने आ गए "

किसी ने कहा

"हम ठीक है तुम लोग जाओ यंहा से "

सुनीता ने थोड़े दृढ़ आवाज में कहा ,लेकिन उसकी बात सुनकर मंगलू जोरो से हँस पड़ा था

"इसीलिए तो मैं इसे रोंदना चाहता हु ,साली के तेवर तो देखो , जब इसे रगड़ेंगे और ये चिल्लायेगी तो बड़ा मजा आएगा "

मंगलू की बात सुनकर जंहा सुनीता कांप उठी वही बाकि के दरिंदे जोरो से हँस पड़े

सुनीता की नजर आनंद पर पड़ी जो अभी भी चुप था

"सेठ जी आप कुछ बोलते क्यों नहीं , अगर सेठानी जी को ये पता चला तो "

सुनीता ने आनंद को डराते हुए कहा लेकिन उसने बस अपनी नजरे नीची कर ली

"अरे ये क्या बोलेगा इसी ने हमे यंहा लाया है "

सुनीता ने एक बार गुस्से से आनंद की ओर देखा , वो उसका जिस्म चाहता है ये तो सुनीता जानती थी लेकिन इसके लिए वो इतना गिर जायेगा ये उसने नहीं सोचा था

"मेरी बहन को अकेला छोड़ दो "

हरिया चिल्लाया लेकिन उससे सभी और भी जोरो से हँस पड़े

"साले तू जैसे अपनी बहन से चिपका हुआ था हमें भी बस वैसे ही चिपकना है "

मंगलू बोल कर हँस पड़ा ,और उसने सभी को इशारा किया

"नहीं नहीं "सुनीता चिल्लाती रही और वो लोग उसके ऊपर टूट पड़े।

बारिश और तेज होने लगी थी ,हरिया अपनी बहन को बचाने के लिए उनसे भीड़ गया

लेकन 5 लोगो के सामने उसकी एक ना चली ,उन्होंने हरिया पर डंडे से वार कर दिया ,हरिया के सर से खून बहने लगा था,लेकिन वो फिर भी भिड़ा रहा

"पहले इस मादरचोद को मारो "

मंगलू चिल्लाया और सभी ने हरिया पर डंडे बरसाने शुरू कर दिए , हरिया जमीन में पड़ा बेसुध हो चूका था,मंगलू ने अपनी पिस्तौल हरिया के ऊपर तान दी

"नहीं इसे छोड़ दो "

सुनीता अपने भाई को बचाने की गुहार लगाने लगी

लेकिन हरिया ने पिस्तौल लोड कर ली

"पहले तो इस मादरचोद को मरूंगा "

मंगलू चिल्लाया

"नहीं नहीं ऐसा मत करो मैं हाथ जोड़ती हु "

सुनीता रोने लगी थी , हरिया का दर्द उससे देखा नहीं जा रहा था ,मंगलू समझ चुका था की सुनीता की कमजोरी क्या है

"अगर अपने भाई को जिन्दा देखना चाहती है तो जो बोल रहे है वो चुप चाप कर "

सुनीता के पास अब इनके बात को मानने के सिवा कोई चारा नहीं बचा था

"जो बोलोगे वो करुँगी लेकिन इसे छोड़ दो "

सुनीता गिड़गिड़ाने लगी ,वो घुटनो के बल हरिया के पास ही बैठ गयी

उसी बेबसी देख कर सभी के होठो में मुस्कान आ गयी थी

मंगलू ने उसकी साडी का पल्लू उसके सीने से हटा दिया ,सुनीता के ब्लाउस में कसे यौवन के उभार अब सभी के हवस की आग को हवा देने लगे थे , सुनीता अब जिन्दा लाश सी बस अपने भाई को देख रही थी जो उसे बचाने के कारण अभी बेसुध पड़ा था,

आँखों में बेबसी के आंसू थे,

अब बारिश में भीगा जिस्म ठंडा हो चूका था लेकिन फिर भी माथे पर पसीने की बुँदे आ गयी थी

"वाह सच में क्या माल है , बारिश में भीगा हुआ जिस्म चखने में मजा ही आ जायेगा "

एक बोल उठा और सभी ने अपने होठो पर अपनी जीभ फेर ली

"अभी तो आधा ही देखा है "

मंगलू आगे बढ़ा और खींच कर सुनीता का वो पुराना ब्लाउज फाड़ दिया , सुनीता का रोना और भी तेज हो गया था वो अपने यौवन से भरे वक्षो को छुपाना चाहती थी लेकिन मंगलू के इशारे पर उसके एक दोस्त ने सुनीता के हाथो को पकड़ कर अलग कर दिया और सुनीता के वक्षो को जोरो से मसल दिया

"नहीं भगवान के लिए दया करो "

सुनीता अपनी बेबसी पर चिल्ला उठी लेकिन वंहा उसकी सुनने वाला कोई भी तो नहीं था

सभी उसकी इस बेबसी पर हँस रहे थे और ना सिर्फ हँस रहे थे बल्कि सुनीता की दर्द भरी आवाज ने सभी के हवस को और भी हवा दी थी

बारिश के पानी से भीगा सुनीता का जिस्म कार की लाइट में चमकने लगा था ,बारिश की बूंदो ने उसके जिस्म को और भी कोमल बना दिया था

इधर लाओ इसे

मंगलू चिल्ला उठा अब उससे सहन नहीं हो रहा था वो उस जिस्म से अपनी हवस की प्यास बुझना चाहता था जिसको पाने की ख्वाहिस उसने कई बार की थी वो वो लोग उसे घसीटते हुए कार की लाइट के सामने ले गए , सुनीता छटपटा रही थी ,दर्द में चिल्ला रही थी ,जमीन में बिछे कंकड़ पत्थर से सुनीता का जिस्म छिलता चला गया लेकिन आज उसके दर्द की परवाह किसे थी , आज तो हवस की आग ने सभी को शैतान बना दिया था

"साड़ी खोल इस रंडी की "

एक आदेश और जैसे सभी को बस इसी की तलाश थी , सभी एक साथ उसपर झपट पड़े और उसके जिस्म का हर कपडा उतार फेका।

बारिश को भी ना जाने क्या हो गया था , वो और भी तेज हो गयी थी , हवाएं तेज होने लगी थी सभी का जिस्म ठण्ड से कांपने लगा था लेकिन परवाह किसे थी , शराब का नशा और जिस्म की आग दोनों ने सभी को पागल बना दिया था , सुनीता बस किसी मुर्दे के जैसे पड़ी हुई थी और बारिश की बुँदे उसके शरीर को भिगो रही थी ,

सभी कुत्ते उस मांस से भरे जिस्म को देखकर अपनी लार टपका रहे थे और उस मांस को नोचने के लिए तैयार हो रहे थे , सुनीता के जिस्म पर हर जगह उनके हाथ और मुँह चल रहे थे सुनीता का भी विरोध ख़त्म हो चूका था , वो हालत से हार मान चुकी थी, रोना बंद हो चूका था या ये कहो की आंसू ही सुख चुके थे

तभी बिजली की एक तेज चमक से पूरा माहौल रौशनी से भर उठा और एक जोरो की गड़गड़ाहट हुई जैसे आसमान ही फट जायेगा , थोड़ी देर के लिए सभी की रूह ही काँप उठी और फिर से सन्नाटा पसर गया

“अयि गिरिनन्दिनि नन्दितमेदिनि विश्वविनोदिनि नन्दिनुते
गिरिवरविन्ध्यशिरोऽधिनिवासिनि विष्णुविलासिनि जिष्णुनुते । “

हरिया को पास ही खड़ा आंखे बंद कर कुछ फुसफुसा रहा था , सभी की निगाहे उसपर जा टिकी

"ये साला फिर से होश में आ गया मारो इसे "

मंगलू चिल्लाया

"भगवति हे शितिकण्ठकुटुम्बिनि भूरिकुटुम्बिनि भूरिकृते

जय जय हे महिषासुरमर्दिनि रम्यकपर्दिनि शैलसुते ॥"

हरिया जोरो से गाने लगा

"महिषासुर मर्दिनी " आनंद की आवाज कांपने लगी थी

"क्या ??"

मंगलू ने आनंद को देखते हुए कहा

"ये महिषासुर मर्दिनी का स्रोत है "

आनंद फिर से कांपते हुए आवाज में बोल उठा

"तो इससे क्या होता है , मारो इसे "

मंगलू का गुस्सा तेज हो गया था लेकिन आनंद पीछे हटने लगा ,जिसे देखकर मंगलू ने अपनी पिस्तौल हरिया पर तान दी

"सुरवरवर्षिणि दुर्धरधर्षिणि दुर्मुखमर्षिणि हर्षरते

त्रिभुवनपोषिणि शङ्करतोषिणि किल्बिषमोषिणि घोषरते

दनुजनिरोषिणि दितिसुतरोषिणि दुर्मदशोषिणि सिन्धुसुते

जय जय हे महिषासुरमर्दिनि रम्यकपर्दिनि शैलसुते ॥ "

हरिया और भी जोरो से बोलने लगा , कनकमंजरी छंद पर बने इस स्रोत का एक एक शब्द सभी के दिल में डर का संचार करने लगा था

तभी मंगलू ने ट्रिगर दबा दिया

"धाय " एक जोरो की आवाज गूंज उठी गोली सीधे हरिया के कंधे पर लगी थी , लेकिन वो खड़ा था रहे कोई पर्वत हो

"माँ जागो माँ... जागो माँ "

हरिया रोते हुए चिल्लाया

सुनीता के कानो में ये स्रोत गूंज गया था जो मंदिर में उसका भाई रोज गया करता था , उसका मृत जैसे शरीर में जैसे ऊर्जा का संचार होने लगा ,माथे पर पसीने की बुँदे आने लगी

सभी बस आंखे फाडे हरिया को ही देख रहे थे ,सभी का ध्यान सुनीता से हट चूका था

इधर सुनीता के कानो में मंदिर वाले बाबा की बात गूंज उठी

"बेटी जब महिषासुर नाम के असुर ने खुद को ताकतवर समझ कर अत्याचार किया तब ममतामयी माँ ने अपना रौद्र रूप दिखाया "

"लेकिन बाबा माँ कहा रहती है "सुनीता ने पूछा था

"सबके अंदर माँ है बस उन्हें जानना है अब उन्हें जगाना है "

सुनीता की आंखे झट से खुल गयी थी

"माँ जागो माँ जागो, हे महिषासुर मर्दिनी जागो "हरिया रोते हुए बोला

"बहुत हुआ साले का नाटक "

मंगलू ने निशाना सीधे हरिया के सर में जमाया , वो ट्रिगर दबाने ही वाला था की

फटाक

एक डंडा जोरो से उसके सर में पड़ा और खून की धार बह गयी

बारिश तेज थी और सुनीता का भीगा हुआ जिस्म कार की रोशनी में चमक रहा था , इस ठण्ड में भी वो बारिश के पानी के साथ साथ पसीने से भी भीगी हुई थी

वो काँप रही थी

हरिया उसे देख कर अपने घुटनो में बैठ गया था

"माँ माँ, तू जाग गयी माँ "वो हाथ जोड़े रोने लगा

सुनीता ने फिर से डंडा घुमाया इस बार फिर किसी का सर फूटा ,

तब तक सभी चौकन्ने हो गए थे सभी ने दौड़ कर अपने हथियार उठा लिए , सुनीता का नग्न जिस्म अभी भी बारिश में भीग रहा था लेकिन अब किसी के हवस को नहीं जगा रहा था , वही हरिया जोरो से स्रोत गा रहा था उसने जीवन भर माँ की भक्ति की थी और आज माँ उसके सामने साक्षात् खड़ी थी वो प्रेम में मग्न हो चूका था आल्हादित हो चूका था ,

वही सुनीता का रूप और हरिया का गया हुआ स्रोत से सभी के रूह तक काँप रहे थे , सुनीता के चेहरे में कोई डर नहीं थे वो उन लोगो को गुस्से से देख रही थी और उसकी आँखों में देखने का साहस भी किसी के पास नहीं था

"मारो इसे "

एक हिम्मत करके चिल्लाया वो लोग सुनीता की ओर दौड़े लेकिन सुनीता ने घूमकर सीधे एक के गले में वार कर दिया , उसका गला ऐसे टुटा जैसे ककड़ी हो ,

सुनीता ने पास पड़े पिस्तौल को उठा लिया और 'धाय धाय '

गोली सीधे एक के सर में लगी ,बाकि के लोग ये देख कर वही रुक गए थे , आनंद हाथ जोड़कर अपने घुटनो के बल बैठा था , मंगलू जमीन में पड़ा तड़फ रहा था सुनीता ने पिस्तौल उसकी ओर की और दो गोलिया सीधे उसके खोपड़ी को तोड़ कर अंदर चली गयी।

माहौल में जैसे शमशान सी शांति फ़ैल गयी थी चार जिस्म सामने पड़े थे , एक का गाला टुटा था , दो की खोपड़ी में गोली लगी थी और एक की खोपड़ी डंडे से तोड़ दिया गया था जो अभी अभी तड़फता हुआ अपनी अंतिम साँस ले रहा था

सुनीता ने पिस्तौल की नोक आनंद पर टिका दी ,लेकिन आनंद घुटनो पर बैठा हुआ हाथ जोड़े माफ़ी मांग रहा था

";मुझे माफ़ कर दो माँ मुझसे गलती हो गयी , मैं हवस की आग में अँधा हो गया था मुझे माफ़ कर दो "

वो रो रहा था , सुनीता को सेठानी की याद आ गयी आनंद उनकी एकलौती औलाद थी।

थोड़ी देर तक वंहा बस सन्नाटा पसरा रहा

गोलियों की आवाज सुनकर वंहा मंदिर वाले बाबा भी आ गए थे , बिजली की तेज गड़गड़ाहट ने उनकी नींद खोल दी थी फिर गोली की आवाज सुनकर वो दौड़ पड़े थे,

****************

"मेरे बेटे की गलती के लिए मैं क्षमा मांगती हु बेटी "

सेठानी सुनीता के सामने रो रही थी ,4 मौते हुई थी लेकिन सेठ जी के पैसे और मंदिर वाले बाबा के दिमाग से इसे महज 4 लोगो का झगड़ा बना दिया गया था जिसका चश्मदीद गवाह खुद आनंद था , पुलिस से कहा गया की सुनीता और हरिया तूफ़ान के कारण मंदिर में ही रुके थे क्योकि उनकी झोपडी तूफान में बर्बाद हो गयी , वो लोग नशे में थे और वंहा सुनीता का बलात्कार करने ही आये थे आनंद ने इन सबका विरोध किया था लेकिन वो उसे भी जबरदस्ती वहाँ ले गए और वंहा पहुंचकर सब के बीच झगड़ा हो गया सभी एक दूसरे से लड़कर ही मर गए ,

सभी को पता था की सच क्या था लेकिन किसी ने भी इसपर आपत्ति नहीं जताई , ऐसे भी सभी मंगलू के उत्पात से परेशान थे ,

सेठानी को ये सब सुनकर दर्द तो हुआ वो आनंद को सजा देना चाहती थी लकिन वो उनका एकलौता बेटा था पुत्र मोह में बेचारी के पास बस सुनीता से माफ़ी मांगने के अलावा कोई रास्ता भी बचा था

"छोटे सेठ जी ऐसे नहीं है सेठानी लेकिन उन्हें बहका दिया गया था , शायद शराब का नशा , हवस की आग और जिस्म की चाह आपके दिए संस्कारो से ज्यादा ताकतवर निकल गए "

सुनीता ने अपने दिल की बात उन्हें कह दी , आनंद हमेशा से सुनीता को पाना चाहता था लेकिन सुनीता जानती थी की वो इतना भी गिर नहीं सकता था की सुनीता का बलात्कार कर दे , वो उसे पैसो का लालच दे चूका था हर समय उसे छेड़ता रहता था ,लेकिन फिर भी सेठानी के संस्कारो से बंधा हुआ था

सुनीता की बात सुनकर सेठानी ने उसके सर पर प्यार से हाथ फेरा उनकी आँखों में आंसू थे

*****************

एक साल बाद

सुनीता की शादी एक अच्छे घर में हुई , पूरा खर्च सेठ जी वहन किया था

सुनीता आज लाल जोड़े में दुल्हन बनी बैठी थी तभी हरिया वंहा आया

"देखो भईया आखिर मेरी शादी हो गयी ,और अब तुम्हारी बारी है "

सुनीता ने हरिया को छेड़ते हुए कहा जिसे सुनकर वंहा बैठे सभी हँस पड़े

"मैं मंदिर छोड़ कर कही नहीं जाऊंगा "

"अच्छा और मुझे छोड़कर ?"

सुनीता के आँखों में पानी था

"तुम तो हमेशा मेरे साथ रहती हो ,उसी मंदिर में मेरी माँ के रूप में "

हरिया की बात सुनकर सुनीता ने उसे अपने गले से लगा लिया

वही

मंदिर में आनंद हाथ जोड़े खड़ा था

"माँ , मुझे समझ आ गया है की हर औरत तेरा ही रूप है , तू ही सबमे है ,जिस्म का भोग महज मन का वहम है , अगर मन हवस के अधीन हो तो जिस्म भोग की वस्तु लगती है लेकिन तेरा प्रेम हो तो सबमे बस तू ही तू है "



समाप्त
 

Soldier Boy

Sigma Male
Prime
Messages
9,917
Reaction score
8,285
Points
143
हीरो
आधी रात से ऊपर हो चुकी थी। मैं अपनी कार से दूर के एक जिले कुछ काम से जा रहा था। रास्ता बेहद सुनसान था और अगल-बगल जंगल था। यह मार्ग काफी खतरनाक माना जाता था। आपराधिक तत्व रात के अंधेरे में अक्सर यहाँ से गुजरने वाले लोगों को लूट लेते व हत्या कर देते थे। कई कांड होते रहते थे इस 50 किमी0 लम्बे जंगल से घिरे सुनसान मार्ग पर। मैं बड़ी रफ्तार से गाड़ी चला रहा था। तभी मुझे तभी मुझे एक दुर्घटनाग्रस्त कार दिखी। मैंने अपनी कार की रफ्तार धीमी करी, मैंने सोचा की कार के अन्दर कोई घायल भी हो सकता है। लेकिन मन में यह ख्याल भी था की यह किसी की चाल हो सकती है क्योंकि यह इलाका लुटेरों के लिये कुख्यात है। लेकिन अगर कोई घायल है तो उसकी मदद करना मेरा फर्ज है फिर चाहे वो अपनी जान पर खेल के ही करनी पड़े। मैं सोच विचार करते थोड़ा आगे निकल आया था। मैंने इरादा कर लिया की जा के देखता हूँ। अगर वहाँ कोई मृत होगा तो कोई बात नहीं मैं वापस कार में बैठकर चला जाउँगा, पर अगर कोई घायल होगा तो पुलिस व एम्बुलेंस को सूचना दे दूँगा। मैंने अपनी लाइसेंसी बंदूक लोड करी और कमर में खोसी और कार वापस ली। हिम्मत करके मैंने उस कार के अन्दर झांका तो उसमें एक लगभग 50 के आस पास उम्र का व्यक्ति काफी घायल अवस्था में पड़ा था। मैंने उसकी नब्ज टटोल के देखी। वह जिन्दा था। मैंने एम्बुलेंस को फोन करने के लिये फोन जेब से निकाला लेकिन उसमें नो सिग्नल लिख के आ रहे थे। आस-पास कोई भी टावर नहीं था शायद इसीलिये सिग्नल नहीं आ रहे थे। उस व्यक्ति का काफी खून बह चुका था और अभी-अभी बह रहा था। मैंने जल्दी से अपनी कार से फर्स्ट एड किट निकाल कर जहां जहां से खून ज्यादा बह रहा था वहां उसकी मरहम पट्टी की फिर उसे अपनी कार में लाद कर तेज स्पीड से कार चलाने लगा। और जल्द ही जंगल का रास्ता पार कर एक गाँव बीच से गुजर रहा था मैंने देखा मोबाइल में अब सिग्नल व इंटरनेट भी आ रहा था। मैंने झट से नेट से नजदीकी अस्पताल की लोकेशन देखी तथा उस व्यक्ति को लेकर उस अस्पताल पहुँचा जहाँ कुछ औपचारिकतायें पूरी करने के बाद मैं उसको वहाँ भर्ती करा कर चला गया। आदमी के इलाज में कोई कमी न आये इस लिये मैंने अस्पताल प्रशासन को मैंने दस हजार रुपये भी दे दिये।

1 महीने बाद

सुबह-सुबह मेरे फोन की घण्टी बजी और दूसरी तरफ से आवाज आयी

‘‘अमन बोल रहे हैं?‘‘

‘‘जी हाँ........आप कौन?’’ मैंने जवाब दिया।

‘‘देखिये अमन जी मैं वही बोल रहा हूँ जिसकी आपने जान बचाई थी, ज्यादा बात फोन पे नहीं कर पाउँगा....आपसे मिलना चाहता हूँ। कल रात सात बजे बेस्ट ब्रू कैफे में मेरा इंतेजार कीजियेगा......और हाँ अकेले ही आईयेगा.....वैसे आप मुझे पहचान जायेंगे क्योंकि आप ने मुझे देखा है जब मैं घायल था.......आईयेगा जरूर’’

मैं कुछ पूछ पाता इससे पहले ही उसने फोन काट दिया। उसने अपना नाम भी नहीं बताया था। मैंने नाम पूछने के लिये दोबारा उसके नम्बर पे फोन लगाया तो स्विच आॅफ बता रहा था। मुझे थोड़ा गुस्सा भी आया। मैंने ट्रू कालर पे भी चेक किया पर इस नम्बर पे ‘अननोन’ ही शो हो रहा था। मैंने सोचा कहीं ये किसी की कोई चाल तो नहीं। काफी सोच विचार के बाद मैंने तय किया की उससे मिलने जाउँगा वैसे भी कल छुट्टी का दिन था और मेरा कोई खास प्लान नहीं था कहीं और जाने का।
अगले दिन 7 बजे से 1 घण्टा पहले ही मैं अपने घर से निकल गया। मन में थोड़ा डर भी था इसलिये अपनी गन साथ में रख ली और उस कैफे पहुँच गया। और वहाँ काफी आर्डर करके काफी की चुस्की के साथ उस शख्स का इंतेजार करने लगा। मैंने घड़ी देखी घड़ी में 7 बज कर 2 मिनट हो चुके थे। मैं थोड़ा घबरा भी रहा था। मैंने कमर पे अपने गन टटोल के देखी जो की मेरी जैकेट के नीचे छुपी थी। तभी करीब एक लगभग 50 साल की उम्र का शख्स मेरे करीब आया। मैं उसे देख के पहचान गया। यह वही व्यक्ति था जो मुझे उस सुनसान रोड पे घायल अवस्था में मिला था। उसने अपना हाथ मेरी तरफ बढ़ा के कहा ’’हैल्ले मिस्टर अमन, मैं ही हूँ वह जिसका आप वेट कर रहे हैं।’’

‘‘देखिये आपको मुझसे मिलना था तो फोन पे ठीक से बात तो कर लेते आप ने अपना नाम तक नहीं बताया मुझे।’’ मैंने नाराजगी जताते हुए उस शख्स से कहा।
‘‘जरूर बताता पर मजबूरी थी, वैसे मेरा नाम डाक्टर सुरेश कुमार है। मैं एक मेडिकल डाक्टर, रिसर्चर और साइंटिस्ट हूँ।.....तुम कार से आये हो ना?’’
‘‘जी...पर क्यों?’’
‘‘चलो उसी में चलकर बात करते हैं। यहाँ बैठकर बात करना हमारे लिये सेफ नहीं है।’’
उसके यह कहने पर मैंने तुरन्त बिल पे किया और उस शख्स के साथ आकर अपनी कार में बैठ गया और ड्राइव करते हुए हमने बात करनी चालू की।
‘‘तुम वास्तव में एक हीरो हो मिस्टर अमन’’ उसने बोला
‘‘तारीफ के लिये शुक्रिया, वैसे आपको मेरा नम्बर और पता कहाँ से मिला?’’
‘‘देखो जब मैं ठीक हो गया तो मैंने उस अस्पताल से जहाँ तुमने मुझे भर्ती कराया था वहाँ के रजिस्टर में तुमने अपना नाम और मोबाइल नम्बर दर्ज करवाया था, मैंने उसी से तुम्हारा नाम और मोबाइल नम्बर पता किया। तुमने मेरे इलाज में कोई कमी न आये इसलिये कुछ पैसे भी जमा करवा दिये थे। मैं तुमसे किसी तरह मिलना चाहता था। मैंने तुम्हारे नाम और नम्बर के जरिये तुम्हारे बारे में पता किया, मुझे पता चला कि तुम एक यहाँ के जाने माने बिजनेस मैन अमन मलिक हो। इतने पैसेवाले होकर भी तुम इतने बेहतर इन्सान हो यह जानना मेरे लिये सुखद था। मुझे यकीन था तुम मेरे बुलाने पर जरूर आओगे वह भी बिना किसी डर के क्योंकि तुम एक हीरो हो’’
‘‘तारीफ के लिये शुक्रिया वैसे मैं कोई हीरो-वीरो नहीं हूँ मैंने वही किया जो सही था, और हाँ पैसे वाले लोग भी बेहतर इन्सान हो सकते हैं’’ मैंने मुस्कुराते हुए कहा।
‘‘देखो मेरी जान खतरे में है क्योंकि मैंने एक ऐसा आविष्कार किया है जिसे हर कोई हासिल करना चाहता है पर मैं चाहता हूँ वह आविष्कार गलत हाथों में न पहुँचे। इसिलिये मैंने फोन पर तुम्हे अपना नाम भी नहीं बताया था और फोन भी नये नम्बर से किया था ताकि किसी को भी हमारी मुलाकात के बारे में पता न चले। तुम अच्छे इन्सान हो मुझे यकीन है कि उस चीज के तुम्हारे पास जाने से कोई खतरा नहीं होगा’’
‘‘ऐसा क्या है उस आविष्कार में?’’ मैंने उत्सुकतावश पूछा।
‘‘देखो, मैंने एक एैसी दवा बनायी है जिसे पीने के बाद मनुष्य की शक्तियाँ कई गुना बढ़ जाती हैं। मैंने आर्मी को मजबूत करने के उद्देश्य से यह दवा बनायी थी परन्तु इसको बनाना बहुत महँगा पड़ रहा था। मैंने एक पैसे वाले और पावरफुल पाॅलीटीशियन-बिजनेसमैन अशोक राय उर्फ नेता से बात करी और उसने मुझे फाइनेन्शियली सपोर्ट भी किया पर उसके इरादे नेक नहीं थे उसने वह दवा बन जाने के बाद और जानवरों पर सक्सेसफुल टेस्ट हो जाने के बाद उसे चुराने के लिये गुण्डों को भेजा मेरी लैब में, मेरे सिक्योरिटी सिस्टम ने जब मेरी लैब में घुसपैठियों के प्रवेश की सूचना दी तो मैंने फौरन उस दवा को जो बनकर तैयार होकर लाॅकर मंे रखी थी, उसे नष्ट कर दिया और बेहोश करनी वाली गैस का फैलाकर उन घुसपैठियो को बेहोश कर भाग निकला, मैं दुसरे जिले एक जा रहा था जहाँ पर मैं कुछ दिन छुप के रह सकूँ, पर दुर्भाग्य से रास्ते में मेरा एक्सीडेण्ट हो गया। ठीक होने के बाद मैंने उस नेता से बात करी उसने यह बात नहीं कबूली की उसी ने हमलावर भेजे थे पर मुझे पूरा यकीन है कि उसी ने वह दवा पाने के उद्देश्य से हमलावर भेजे होंगे। ताकि यह दवा वह दूसरे देश को बेच सके। उस नेता के अलावा इस दवा के प्रोजेक्ट और इसके असर के बारे में किसी को पता नहीं था। मेरे ठीक होने पर उस नेता ने मुझे फोन किया और मेरे साथ जो हादसा हुए उसपे दुख प्रकट किया और उसने कहा कि वह मुझे फाइनेन्शियल सपोर्ट जारी रखेगा मैं फिर से दवा बनाऊँ पर अब मुझे उस पर भरोसा नहीं था तो मैंने उसे साफ मना कर दिया। तब से मैं अपनी पहचान छुपा के रह रहा हूँ क्योंकि वह नेता मुझे किडनैप कर के मुझसे जबरदस्ती वह दवा बनवा सकता है।’’
‘‘ऐसा क्या है उस दवा में.........कितना बढ़ा देती है वह इन्सान की ताकत को........क्या किसी इन्सान पर टेस्ट किया गया है उसे?’’ मैंने कई सवाल एक साथ पूछ लिये उत्सुकतावश।
‘‘देखो उसको अभी तक किसी इन्सान पर टेस्ट नहीं किया गया है......उसको मेरी उम्र के अधेड़ और कमजोर इन्सान पर टेस्ट करना काफी खतरनाक है और जान भी जा सकती है इसीलिये मैंने खुद पे टेस्ट नहीं करी वो दवा। और किसी जवान और तन्दरुस्त इन्सान पर टेस्ट करने की हिम्मत नहीं हुई। पर मैं दावे के साथ कह सकता हूँ कि जवान इन्सान पर वह पूरी तरह काम करेगी। जिस इन्सान पर इसे इस्तेमाल किया जायेगा उसकी प्रतिरोधक क्षमता काफी बढ़ जायेगी.....और उमर भी। घाव बेहद तेजी से भरने लगेंगे और वह काफी चुस्त फुर्त हो जायेगा। उसकी लगभग सारी शारीरिक शक्तियाँ कई गुना बड़ जायेंगी। एक तरह से कह सकते हो सुपर हीरो बन जायेगा।’’
‘‘तो आप मुझसे क्या चाहते हैं? मैं आपकी मदद कैसे कर सकता हूँ?’’
‘‘देखो मैने वह दवा पूरी नष्ट कर दी पर मैने एक खुराक की बचा के अलग रख दी थी जो अब भी मेरे पास सुरक्षित है। तो मैं चाहता हूँ कि उसका परीक्षण किसी मानव पर किया जा सके और वह दवा भारतीय सेना के पास पहुँचे, लेकिन बहुत गोपनीय तरीके से, उसका फार्मूला लीक न हो और दवा गलत हाथों में न पहुँचे, और दवा फिर से बनाने के लिये मुझे फाइनेन्शियल सपोर्ट की भी जरूरत होगी, और मुझे सुरक्षा और सुरक्षित जगह भी चाहिए होगी ये सब मुझे तुम ही उपलब्ध करा सकते हो क्योंकि तुम शहर के सबसे रईस लोगों में से एक हो। अमन तुमने मेरी जान बचा कर मुझपे एक एहसान कर ही दिया है प्लीज मुझ पर यह दूसरा एहसान भी कर दो। उस दवा को सरकार को बेचकर मैं जो कुछ भी कमाऊँगा वह तुम रख सकते हो।’’
‘‘बात पैसे की नहीं है सर, लेकिन मैं इस तरह की दवाओं को सपोर्ट नहीं करता....आगे चलकर यह चीजें इन्सानियत के लिये खतरा साबित हो सकती हैं। जैसे बन्दूक, बम और परमाणु बम के आविष्कार के साथ हुआ।’’ मैंने डाक्टर को जवाब देते हुए अपनी चिन्तायें ज़ाहिर की और उससे कहा जैसे पहले एक नेता के इरादे ठीक नहीं थे उसी तरह आगे भी इस तरह के नेता जो कि सरकार में मौजूद हैं उनसे यह दवा गलत हाथों में जाने का खतरा पैदा हो सकता है।
लेकिन डाक्टर ने मुझे काफी भरोसा दिलाया की दवा बन जाने के बाद वो सीधे रक्षा मन्त्री से बात करेंगे और रक्षा मन्त्री पर उन्हें पूरा भरोसा है। डाक्टर के काफी समझाने और रिक्वेस्ट करने बाद मैंने न चाहते हुए भी हामी भर दी और अपने बंगले के एक तहखाने में उनके लिये सीक्रेट लैब बनवा दी। अपने घर में मैं अकेला ही रहता हूँ, मेरा परिवार साथ नहीं है। पिता का अमेरिका में बिजनेस है सारा परिवार वहीं रहता है। यहाँ का बिजनेस मैं देखता हूँ। यहाँ भारत में हमारा रेस्टोरेण्ट्स, इलेक्ट्रानिक्स, ट्रैवेलिंग, फूड्स और प्राॅपर्टीस का बिजनेस है जिसे कई मैनेजर सम्भालते हैं यह बिजनेस आस पास के शहरों में भी फैले हैं जिन्हें मैं हेड होने के नाते ओवरव्यू करता रहता हूँ।
खैर सबकुछ ठीक चल रहा था। डाक्टर ने दवा तैयार कर ली थी लेकिन अभी तक हमने किसी को भनक नहीं लगने दी थी। डाक्टर गुपचुप रूप से मेरे घर में रह रहा था और वहीं उसने दवा तैयार कर ली थी। अब हमें सरकार से बात करनी थी। पर उससे पहले हमें इस दवा को टेस्ट करना था इन्सानों पर। पर सवाल यह था कि इसे टेस्ट किस पर करें? कौन राजी होगा? डाक्टर खुद पे कर नहीं सकता था उम्र ज्यादा होने की वजह से? यह टेस्ट किसी जवान और तन्दरुस्त शख्स पर ही किया जा सकता था। पर राजी कौन होता? वैसे तो मेरे तमाम नौकर और जानने वाले हैं पर मैं भी किसी की जान खतरे में डालने से डर रहा था। हम खुले तौर पर यह प्रचार भी नहीं कर सकते थे कि हमें यह दवा टेस्ट करने के लिये कोई वालण्टियर चाहिए क्योंकि बाहरी लोगों से भी खतरा था।
कुछ दिन ऐसे ही बीत जाने के बाद मैंने डाक्टर से पूछा, ‘‘डाक्टर साहब......क्या आपको पूर भरोसा है कि यह दवा 100ः काम करेगी? क्या आप को यकीन है कि उसे जिस पर टेस्ट किया जायेगा उसकी जान नहीं जायेगी?’’
‘‘हाँ मुझे पूरी भरोसा है यह दवा 100ः काम करेगी।’’
‘‘तो फिर इसे मुझ पर ही टेस्ट कर लीजिये। आपको जवान और सेहतमन्द शख्स चाहिए 18-30 के बीच की उम्र का, मेरी उम्र 27 है, मैं स्वस्थ हूँ, मुझे कोई बीमारी भी नहीं है।’’
‘‘क्या......देखो अमन मुझे भरोसा है यह दवा काम करेगी लेकिन फिर भी मैं तुम्हे खतरा में नहीं डाल सकता किसी भी कीमत पर, तुम्हारा इतना बिजनेस है, लोगों को तुम्हारी जरूरत है, मुझे भी तुम्हारी जरूरत है, तुम्हे कुछ हो गया तो नुकसान बहुत बड़ा होगा’’
मेरे काफी कहने के बाद भी डाक्टर राजी न हुआ। खैर अब हमारे पास कोई विकल्प नहीं था तो मैं एक अस्पताल गया जहाँ मैं अक्सर फाइनेन्शियल मदद करता था गरीब मरीजों के इलाज के लिये और अस्पताल प्रशासन मुझे अच्छे से जानता था, मैंने उनसे कहा कि मुझे एक दवा के परीक्षण के लिये एक सेहतमन्द शख्स की जरूरत है 18-30 के बीच की उम्र का, मैं काफी पैसे देने को तैयार हूँ, मैं वालण्टियर को भी पैसे दूँगा और आप लोगो को भी कमीशन दूँगाू, आप लोगों को कोई वालण्टियर मिले तो मुझे बतायें। हाँलाकि उन लोगों ने मुझसे उस दवा और उसे बनाने वाले के बारे में भी पूछा लेकिन मैंने उन्हे इस बारे में कोई जानकारी नहीं दी। इसी तरह मैं 2-3 अस्पताल और गया जहाँ का मैनेजमेण्ट मेरे परिचय का था। सभी ने मुझसे कहा कि वह जल्द ही किसी वालण्टियर को ढूँढ कर मुझसे सम्पर्क करेंगे।
कुछ दिन बाद........
मैं रात में गहरी नींद में सो रहा था कि तभी सिक्योरिटी अलार्म बज उठा मैं तुरन्त अपने फोन पर सीसीटीवी कैमरे की फुटेज देखी 2 बुलेरो सवार मेरे बंगले के सामने आये और अन्धाधुन फायरिंग करते हुए मेरे घर के अन्दर दाखिल हो गये। मैं फौरन उस अण्डरग्राउण्ड लैब में दाखिल हुआ और ऊपर से रास्ता बन्द कर दिया। पर मैं जानता था कि वह लोग हमे ढूँढ लेंगे। डाक्टर लैब के बगल में बने कमरे में ही सोते थे रात में अलार्म की वजह से वह भी जग कर लैब में आ गये थे। मैंने डाक्टर से कहा कि यह सारी दवा लाॅकर से निकाल कर साथ लेकर अण्डरग्राउण्ड रास्ते से भाग चलते हैं नहीं तो हमलावर हम तक पहुँच जायेंगे, दवा बहुत ज्यादा मात्रा में नहीं है बस एक 2 ली0 थी एक सील्ड बर्तन में जिसे ले जाना मुश्किल नहीं था। मैंने अपने बंगले में बनी उस अण्डरग्राउण्ड लैब में गुप्त सुरंग बनवा रखी थी सुरक्षा के उद्देश्य से, ताकि अगर कोई हमला होता है तो हम उस रास्ते से भाग निकले। मैंने एक लैब की अलमारी के अन्दर बने गुप्त फिंगरप्रिंट स्कैनर पर अपना हाथ लगाया और लैब की दीवार में एक जगह से रास्ता खुल गया, यह अण्डरग्राउण्ड रास्ता था। डाक्टर ने इसी बीच लाॅकर खोल कर दवा को बोतल में रख के बोतल को अपने साथ ले लिया और हम उस रास्ते को पर कर सुरंग में आ गये। मैंने दूसरी तरफ लगे फिंगरप्रिंट्स स्कैनर पे राथ रख कर वह रास्ता बन्द कर दिया पहले की तरह और हम सुंगर से भागने लगे।
‘‘मुझे तो पता भी नहीं था कि तुमने यहाँ भागने का गुप्त रास्ता भी बनवा रखा मुझे तो लगा था अब तो हम गये।’’ डाक्टर ने भागते और हाँफते हुए कहा।
‘‘जी यह रास्ता तो काफी पहले से है मेरे पिता ने हिफाजत के लिये बनवाया था ताकि कभी कोई लूट वगहरा होने पर यहाँ से भागा जा सके।’’
‘‘कहाँ जाता है यह रास्ता और कितना लम्बा है?’’
‘‘यह करीब 1 किमी0 लम्बा रास्ता है और पास की एक सुनसान जमीन पर निकलता है, वह जमीन भी हमारी ही प्राॅपर्टी है।’’ मैंने जवाब दिया।
अभी हम कुछ ही मी0 आये थे भागते हुए की एक बाइक खड़ी हुई दिखी।
‘‘अरे यहाँ ये बाइक किसकी है?’’ डाक्टर ने चैंक कर पूछा।
‘‘मेरी ही है कभी ऐसा कोई मौका हो तो भागने में आसानी हो इसीलिये इसे यहाँ सुरंग में रखा है’’
यह कह कर मैं फौरन बाइक पर बैठ गया और डाक्टर मेरे पीछे बैठ गया और मैंने तेज रफ्तार में बाइक चला कर सुरंग पार की और जब हम सुरंग के आखिरी छोर पे पहँुचने वाले थे तो मैंने बाइक पे लगा बटन दबा दिया जिससे दूसरी तरफ जमीन पर घास के नीचे रास्ता खुल गया और हम बिना रुके आसानी से बाइक समेत सुरंग से बाहर निकल आये। मैंने अब बाइक का वही स्विच दबा कर रास्ता बन्द कर दिया ताकि किसी को वह रास्ता खुला न दिखे और हम बाइक पे सवार तेजी से भाग रहे थे। यह इलाका सुनसान था इसलिये कोई हमें यूँ जमीन से निकलते देख न सका और अब हम काफी आगे निकल आये थे।
हम तेजी से भाग रहे थे कि तभी हमें लगा कुछ कार और बाइके हमारा पीछा कर कर रही हैं।
‘‘ओह नो! लगता है उनको हमारा पता चल गया’’ मैंने घबराहट में कहा।
‘‘हाँ लग रहा है उनके गुण्डे काफी दूर तक फैले थे उन्होंने हमे देख लिया अब वह हमे पकड़ लेंगे। अब क्या करें अमन?’’ डाक्टर ने घबराते हुए कहा।
‘‘अब बस एक ही रास्ता है’’ मैंने कहा और बगल में बने सुनसान जंगल टाइप एरिया में बाइक मोड़ ली और थोड़ा आगे जाकर बाइक रोकी। ‘‘अब भागने से फायदा नहीं है अब मुझे इन गुण्डों से मुकाबला करना होगा......आप ये दवा का इंजेक्शन मुझ पर लगायें?’’ मैंने डाक्टर से कहा।
‘‘क्या?....अच्छा ठीक है लेकिन यहाँ इंजेक्शन तो है नहीं......’’ डाक्टर ने जवाब दिया।
‘‘इंजेक्शन है मेरे पास.......जब मैंने अलार्म सुना था तभी अपनी पाॅकेट में इंजेक्शन और सुई रख ली थी। मैं जानता था कि इसका इस्तेमाल करने की जरूरत पड़ सकती है।’’ मैंने कहा और इंजेक्शन और सुई डाक्टर को दी जिसमें डाक्टर ने वह दवा भरी और मेरी बाँह में इन्जेक्शन लगाया। डाक्टर ने कहा इसका असर शुरू होने मंे थोड़ा वक्त लग सकता है।
‘‘डाक्टर अब बेहतर यह है कि यह बची हुई दवा हम नष्ट कर दें वरना जल्द ही वो गुण्डे हमें ढूँढ लेंगे और यह दवा उनके हाथ लग जायेगी।’’ मैंने डाक्टर से कहा।
‘‘ठीक है अमन......यही ठीक है, यह दवा ज्वलनशील भी है, बस चिंगारी दिखाओ और यह जल के खुद ही नष्ट हो जायेगी।’’ डाक्टर ने कहा।
मैंने लाइटर से उस बची हुई दवा में आग लगा दी। तभी शायद उस दवा का असर शुरु होने लगा, मेरा बदन काँपने लगा, मेरी आँखों के आगे अन्धेरा छाने लगा, मेरे लिये खड़ा रहना भी मुश्किल लग रहा था, मैं जमीन पे गिर पड़ा।
‘‘डा..डाक्टर साहब ये चाबी लीजिये मेरी बाइक का लाॅकर खोल लीजिये उसमें गन रखी है, अपनी हिफाजत के लिये उसे लेकर भाग जाइये.....मेरे लिये न रुकिये। वह लोग आपको मारेंगे नहीं.....उन्हें आप जिन्दा चाहिये। लेकिन आप उनके हाथ न आइयेगा....उन पर फायरिंग कर दीजियेगा.....’’ मैंने किसी तरह डाक्टर से कहा। मेरा जिस्म अभी भी काँप रहा था।
अब मेरा होश खो रहा था और मैं बेहोश हो गया।
‘‘सर इसे होश आ रहा है’’
मेरे कानों में आवाज गयी। मुझे होश आ रहा था।
‘‘हेल्लो मिस्टर अमन मलिक। बहुत चालाक हो तुम मानना पढ़ेगा।’’
किसी आदमी की आवाज मेरे कानों में पड़ी। मैंने आँखें खोल के देखा तो ये वही नेता अशोक राय था। मैं बेड पर बन्धा हुआ था लोहे की जंजीरों से। मैं एक कमरे में था जिसके चारों ओर मजबूत दीवारें थीं। उस कमरे में मैं, आशोक और उसके 3-4 बाॅडीगार्ड थे।
‘‘मैं कहाँ हूँ? और डाक्टर सुरेश कहाँ हैं?’’ मैंने उससे पूछा।
‘‘तुम फिलहाल मेरे चंगुल में हो मिस्टर अमन पर तुम्हारा दोस्त डाक्टर सुरेश हमारी पकड़ में आने ही वाला था कि उस कमीनें ने खुद को गोली मार कर आत्महत्या कर दी ताकि वह हमारी पकड़ में न आ सके। कमीने ने दवा भी जला कर खत्म कर दी और सारी मेहनत पर पानी फेर दिया। अब अगर वह दवा कहीं बची रखी है तो तुम हमें बताओगे। हमें यह भी पता चला है कि उसने दवा का डोज तुमको दिया था इसिलिये तुम बेहोश हो गये थे। हमारे आदमियों को वहाँ पे सीरिन्ज भी मिला था। उस कमीने डाॅक्टर की दवा अब तेरे ऊपर टेस्ट हो चुकी है, देखते हैं क्या असर करती है।’’ अशोक ने गुस्से से कहा।
‘‘वह दवा अब नष्ट हो हो चुकी है......और डाक्टर भी अब नहीं रहे। अब तुम्हारा मकसद कभी कामयाब नहीं होगा।’’ मैंने उसे जवाब दिया।
‘‘मारो इसे.......अगर दवा के बारे में न बताये तो जान से मार देना।’’ अपने आदमियों से यह कह कर अशोक उस कमरे से चला गया।
पर मैं बहुत गुस्से में था क्योंकि एक काबिल साइंटिस्ट की जान इस कमीने की वजह से चली गयी थी। और इस कमीने के कराये हमले की वजह से ही मेरे बंगले के कुछ सिक्योरिटी गाडर््स मारे गये थे और जख्मी भी हुए थे। मुझे अपने अन्दर काफी ताकत का एहसास हो रहे थे। अशोक के गुण्डों ने मुझे डण्डों से मारना शुरु कि पर मुझे जैसे असर ही नहीं हो रहा था। मैं गुस्से से उठा और थोड़ी ताकत लगाने से जंजीरें टूट गयी, मैं इस ताकत पर हैरान हो रहा, मुझे पीट रहे गुण्डे भी जंजीरों की यह दुर्दशा देख कर घबरा गये और उन्होंने बन्दूकें निकाल कर मुझ पर तान दी, एक ने बन्दूक चला दी जो मेरी बाह में लगी। मैं घबराकर गिर पड़ा मुझे दर्द महसूस तो हुआ लेकिन उतना नही जितना मैंने सोचा था। मुझे जमीन पर पड़ा देख उन लोगों को लगा शायद अब मैं घायल हो गया हूँ पर मैं दूसरे ही क्षण फुर्ती से उठा और एक-एक जोरदार वार उन गुण्डों पर कर के उन्हें ढेर कर दिया। इतनी फुर्ती मैंने पहली बार महसूस की थी। डाक्टर की दवा काम कर गई थी। मैं अब कमरे से बाहर निकल कर अशोक के पीछे जाना चाहता था लेकिन लोहे का दरवाजा बन्द था। मैं पूरी ताकत लगा कर दरवाजे को खींचा और दरवाजा टेढ़ा हो गया बाहर कुछ और गुण्डे मौजूद थे जो मुझ पर गोलियाँ चलाने लगें मैं फुर्ती से उन गोलियों से बचा और कुछ ही सेकेण्ड्स के अन्दर कुछ गुण्डों पे एक-एक तगड़ा वार कर उन्हें बेहोश कर जमीन पर गिरा दिया यह देख बाकी गुण्डे भागने लगे मैंने तेजी से भागकर उनमें में से 1 को पकड़ा ‘‘बता अशोक कहाँ है....और मैं अभी कहाँ पर हूँ...बता वरना मार दूँगा’’ मैंने उस गुण्डे से कहा मैं अब किसी भी तरह अशोक को पकड़कर उसका काम तमाम करना चाहता था।
‘‘वो...वो अपने घर कमला स्ट्रीट की तरफ जा रहे हैं.......यह....यह उनका गोदाम है डाउनटाउन में’’ उस गुण्डे ने जवाब दिया।
‘‘तू ले चल मुझे उस तक वरना तेरी खैर नहीं’’ मैंने उससे कहा और और वहाँ पड़ा एक मास्क अपने चेहरे पे पहन लिया और वहीं गोदाम में खड़ी एक बाइक का हैण्डललाॅक तोड़ा और उसे लेकर अशोक के बंगले के रास्ते चल दिया। वह गुण्डा मेरे पीछे बैठा मुझे रास्ता बता रहा था जिस रास्ते से अशोक जाता था, वह अशोक की गाड़ी को पहचानता था। मैं काफी तेजी से बाइक चला रहा था। जल्दी ही उसे अशोक की गाड़ी दिख गई उसने मुझ से कहा यही गाड़ी है। मैंने बाइक रोकी और उससे कहा ‘‘तुम उतर जाओ तुमने मेरी मदद की है इसलिये छोड़ रहा हूँ, आगे से कोई गलत काम मत करना, और हाँ अगर वह गाड़ी अशोक की न हुई तब तो तुम गये समझो’’
‘‘जी...जी....वो उन्हीं की गाड़ी है मैं सच बोल रहा हूँ’’ उस गुण्डे ने कहा।
मैंने उसको उतारा और पर तब तक अशोक की गाड़ी काफी आगे निकल गयी थी। उसे शायद भनक लग गई थी कि मैं वहाँ से भाग निकला हूँ और उसके पीछे हूँ इसीलिये उसने रास्ता चेन्ज कर दिया और अब वो अपने घर के बजाय कहीं और के रास्ते की तरफ मुड़ गया था। शायद सुरक्षा के लिये वह किसी नजदीकी पुलिस स्टेशन जा रहा था। मैंने भी अपनी गाड़ी तेज स्पीड में बढ़ाई....शायद यह डाक्टर की दवा का ही असर था कि मैं इतनी रफ्तार से बचते-बचाते मुस्तैदी से बाइक चला पा रहा था। मैं अशोक की कार के करीब पहुँचा। अशोक का एक आदमी गाड़ी चला रहा था, एक बाॅडीगार्ड आगे बैठा था और अशोक एक दूसरे बाॅडीगार्ड के साथ पीछे बैठा था। उसके बॉडीगार्ड्स ने मुझे करीब देखकर मुझपर गोलियाँ चलाने के लिये कार के शीशे खोल लिये और कार की स्पीड बढ़ा दी। मैंने बाइक कार के करीब ले गया और बाइक से जम्प मार कर बाइक छोड़ अशोक की कार के ऊपर कूदा। मुझे कार की छत से गिराने के लिये ड्राइवर कार लहराने लगा पर मैंने कार की छत पकड़ी और उसे ताकत लगा कर आधा उखाड़ दिया। अशोक के बाॅडीगाडर््स मुझ पर फायरिंग करने लगे कुछ गोलियाँ मेरे हाथ, और पैर में लगी, पर मुझे हल्का सा ही दर्द महसूस हुआ। मैंने लात मार कर पहले पीछे बैठे बाॅडीगार्ड को कार से बाहर फेंका फिर आगे बैठे हुए बाॅडीगार्ड की गन छीन कर उसे कार की टूटी छत से बाहर फेंका यह सब देख ड्राइवर ने घबराकर कार रोक दी और भाग गया। मैंने बिना देर किये अब अशोक पर बन्दूक तान दी ‘‘मैं हत्यारा नहीं हूँ, तेरे हत्यारे गुण्डों पर भी मैंने जान लेने के मकसद से हमला नहीं किया है। पर तेरे जैसे देश के गद्दार और बुरे इन्सान का जिन्दा रहना बेहद खतरनाक है। तुझे मरना पड़ेगा अशोक राय’’ मैंने उससे कहा।
‘‘म...मुझे छोड़ दो.......तुम जो मांगोगे मैं वो दुंगा....’’ अशोक इतना ही कह पाया था कि मैंने उसके 2-3 गोली मार कर उसका काम तमाम कर दिया और वहाँ से निकल गया।
आज इस घटना को 6 महीन से ज्यादा हो चुके हैं। उस दिन मेरे हाथ और पैरों में कई गोलियाँ अभी भी लगी थीं पर मैंने किसी डाक्टर के पास जाने के बजाये खुद ही उन्हें निकाल दिया था। किसी डाॅक्टर पास जाता तो वह हैरान रह जाता कि मैं गोलियाँ लगने के बाद भी चल फिर कैसे पा रहा हूँ। उस दवा की वजह से मेरी प्रतिरोधक क्षमता, घाव भरने की क्षमता, चुस्ती-फुर्ती, शारीरिक शक्ति काफी बढ़ गई थी जैसा डाक्टर सुरेश ने बताया था वैसा ही असर हुआ दवा का। इतना ही नहीं मेेरे सुनने देखने, सोचने, समझने, सूंघने और प्रतिक्रिया करने की शक्ति भी काफी बढ़ गई है। एक तरह से सुपरहीरो बन गया हूँ मैं। पर मुझे अफसोस है कि यह देखने के लिये डाक्टर सुरेश अब इस दुनिया में नहीं थे, उनकी दवा काम तो कर गई थी पर सेना को देने का उनका मकसद पूरा नहीं हो पाया। पर कहते हैं जो भी होता है अच्छे के लिये होता है। शायद यह शक्ति ज्यादा लोगों के पास जाती तो मानवता के लिये अच्छा नहीं होता इसीलिये ऐसा नहीं हुआ।
खैर उस घटना के बाद से मैं सामान्य जिन्दगी ही जी रहा हूँ। पहले की तरह बिजनेस चला रहा हूँ। शक्तियाँ बड़ गई हैं पर इनके दोबारा इस्तेमाल करने की जरूरत नहीं पड़ी मुझे। किसी की पता भी नहीं है कि मुझमें शक्तियाँ आ गई हैं। पर क्या पता आगे जरूरत पड़ जाये और फिर से जगाना पड़े मुझे अपने अन्दर का हीरो।
 

Adirshi

You want to play? Let's play.
Staff member
Moderator
Messages
24,093
Reaction score
30,153
Points
173
Pyaar karti ho mujhse.....
Apne kamre ki khidki ke paas baithi Ragini ka man aasman se jhak rahe chandrama ki tarah adhura sa ho raha tha. Chah kar bhi wo apne man ko nahi mana pa rahi thi. maa ne puch liya to kya kahungi? na jane kya ho gaya hai is man ko jo itna udas ho raha hai yah soch use khud se khij ho uthi. fir teji se uth kar kamre se bahar chal di. maa ke samne wo oshish kar chahakti rahi par neend uski aankhon se koso door thi. Ragini pareshan thi lekin is chatpatahat ke karan ko swikarne ke liye bhi wo tayar nahi thi.

Padhai puri karne ke sath hi Ragini ko naukri lag gayi thi. ek nami advertising company main graphics designer ki naukri pakar wo bahut khush thi. puri lagan se kaam karti thi. Ragini apni or uthti parusho ki najro se usi prakar anjan thi jaise nayinaveli kali bhawre ke sparsh se anjan hoti hai tabhi to jab aanchal ne use Jafar ki bhavnao se avgat karaya to wah hairani se use takti reh gayi thi.

aanchal office main premiyo ki masiha ke roop main jani jati thi. dilo ko milane main mahir. Jafar ki aankhon main Ragini ke liye ud rahe panchi ke par bhi pehli baar aanchal ne hi gine the.

"Jafar bahut acha ladka hai dear.....ek successfull designer.....arre us par mandrane wali titliyo ki kami nahi hai...par in 3 salo me maine pehli baar uski aankhen kisi ka picha karte pakdi hai" aanchal boli. aanchal ko apne hunar par naaj tha

"dekho aanchal main yaha kuch sekhne aayi hu apna career banana chahti hi meri in sab bato main koi dilchaspi nahi hai" aanchal ko sidha jawab dekar Ragini chali to aayo thi lekin ab wahi sab bate use pareshan kar rahi thi. sari raat karwate badalte huye beet gayi. agle din fir office pahuchi

chuki ab Jafar ke dil ki baat Ragini tak panuch chiki thi to dono main ek ajeeb ka takalluf aa gaya tha par ekdusre se kab tak asahaj rehte akhir kaam to sath hi karna tha na. ek sath kaam karte karte jane anjane Ragini bhi Jafar ke shant vyaktitva ke prati akarshit ho kar us or khichne lagi.

akhir dono main dosti ho gayi. dono sath kaam nibtate sath khana khate, baki coligues ke sath movie dekhne ghumne firne bhi jane lage...

us raat bhi Jafar aur Ragini aanchal ke sath raat ka show dekhne jane wale the ki ain mauke par aanchal mukar gayi " bhai apna program to dinner ka ban gaya hai shantanu ke sath tum dono chale jao

"a....." Jafar ki sawaliya najro se Ragini sakpaka uthi " sirf hum dono"

"mujhe koi aitraz nahi hai main tumhe ghar chod dunga mera ghar bhi usi raste main padta hai" Jafar ne shant swar main kaha

"nakhre to aise kar rahi hai jaise aaj pehli baar mil rahi ho Jafar se ," aanchal boli "jao aur kal mujhe sari kahani jarur suna dena"

picture ke baad Jafar Ragini ko chhodne uske ghar tak bhi gaya. maa ne darwaja khola to Jafar aur maa ka parichay kara kar Ragini chai banane chal di. thodi der gupshup kar Jafar ghar laut aaya

"yah ladka tumse uccha padasin hai kya ?" Jafar ke jane ke baad maa ne pucha

"ha.... mujhse 3 saal pehle se naukri kar raha hai"

"acha ladka hai," keh kar maa chai ke pyale utha kar chali gayi

fir to ye niyan sa ban gaya. Jafar roj Ragini ko us ke ghar chhod apni bike apne ghar ki or badha deta. kabhi kabhar Ragini ke ghar khana bhi kha leta. halanki Jafar ka ghar kuch hi doori par tha uske ghar main mata pita bhai behan sab the..

"kitna maja aata hoga jab aap ghar jate hai..bharapura pariwaar...." us shaam Ragini ke muh se nikla, "jab tak didi ki shadi nahi huyi thi tab tak hamare ghar main bhi khub raunak rehti thi"

"banna chahogi mere bharepure pariwaar ka hissa?"

Jafar ke prashna ka arth Ragini abhi samajh hi rahi thi ki usne aage kaha, "Ragini ab sahi samay ki aur pratiksha mujh se nahi hoti. hum film dekhne gaye lekin waha mujhe mera dost mil gaya, pichle hafte restaurant main maine tumse apne dil ki baat kehni chahi par waha tumhare padosi aa gaye, mujhe laga aaj hi sahi samay hai. kya tum mujhse shadi karogi?"

"ye kaise ho sakta hai Jafar? mera matlab hai ki...aur hamare gharwale?" Jafar ki baat par Ragini stabdh thi wo itna bada kadam uthane se darti thi

"wo sab baad main dekh ajayega pehle tum batao tumhare man main kya hai ? pyaar karti ho mujh se?" Jafar ne Ragini ka hath tham liya

Jafar ki aankhon ne Ragini main ek himmat bhar di. usi pal jivan sath sath bitane ka faisla ho gaya. sabse pehle ye khabar Ragini ki didi ko dene ka nirnay liya gaya...

Jafar ka parichay karane ke baad Ragini didi ke piche piche rasoi main chali gayi.

"kya baat hai ?" ragini ko duvidha main dekh kar didi ne pucha fir koi uttar na pane par wo pani ke glass tray main rakh kar drawing room main badh chali

jafar ke paas baith kar ragini boli "didi mai aur jafar ekduse se...hum shadi karna chahte hai."

kuch der ke liye kamre main sannata fail gaya fir jafar ne khamoshi todne ki himmat ki aur bola, " didi, hum ekdusre ko pasand karte hai. pyaar karte hai. jivan sath bitane ka faisla humne bahut soch samajh kar kiya hai. main manta hu ke hamare beech dharm ki diwar hai lekin main ye bhi janta hu ke ye dharm, jati main insan ko sirf isiliye bata gaya hai taki ye samaj sucharu roop se chal sake."

"hame ek jivan mila hai. didi hum usi ko salike jine ke liye hum sanskaro ki baat karte hai par agar jivan hi na raha to kya majhab aur kya sanskriti? aise samaj le niyamo ka kya fayda jisse usi samaj ke log dukhi ho ?"

"lekin jafar kya tumhe lagta hai ki tumhare gharwale maan jayenge?" didi chintit thi

"mujhe yakin hai maan jayenge. aaj hamara samaj ek naye daur se gujar raha hai anterjatiya vivah ek aam baat hai aur us ki safalta bhi sab ne dekh li hai fir aaj aisa kon hai jo aise kisi pariwar ko na janta ho jaha anterdharm vivah hua ho. asli mudda to is jindagi ko hasi khushi bitana hi hai na."

jafar ki dalilo ne didi ko apne paksh main kar liya. maa ko bhi didi ne yahi sab samjhaya. apni jaan pehchan ke kai aise safal udaharan bhi ginaye

"par hamare sanskar, hamare tyohar?"

"maa, jafar aur ragini ki grihasti main dono ke tyohar, dono sanskritiyo ke gum honge. un dono main se koi bhi apna dharm parivartan nahi kar raha hai. court main shadi karenge" didi ne akhir maa ko raji kar hi liya lekin isi baat ne jafar ke ghar main musibat khadi kardi

"dekho jafar, hum tumhari pasand ka khayal kare waha tak to soch bhi le par wo nikah ke baad bhi apna dharm nahi chodegi is baat ko main bilkul gawara nahi karunga" abbu narajgi bhare swar main bole

"abbu main ragini se shadi isiliye karna chahta hu kyuk wo mujhe insan ke roop main pasand hai na ki wo ek dusre dharm ki hai aur na mera dharm apnayegi. agar aisa hota to main apna dharm main hi shadi kar leta. jaise main apne majhab ki ijjat karta hu waise hi ragini ke bhi. uske pariwar wale bhi to ye shart rakh sakte the ki hamari ladki se shadi karna hai to hamara dharm apnao, nahi abbu main ragini ko dharm badalne ko nahi kahunga" jafar bola

bade bhai ne bhi abbu ko samjhaya " ek baar un logo sae mil lete hai. jafar apna faisla badlega nahi ye baat aap jante hai. jaha tak biradri ka sawal hai yah hum par hai ki biradari ke logo se kis tarah pesh aana hai agar hum apne ladke ke faisle main uska sath de to koi kuch nahi kahega abbu"

ghar main tanav ka mauhal bana hua tha jafar ne apne abbu ke khas dosto se madad mangi. un ke samjane par baat karne se mamla kuch patri par aaya jafar tatha ragini ke gharwalo ki mulakat ka din pakka ho gaya

"sab thikthak ho raha tha magar pichle hafte gadbad ho gayi. jab didi aur mummy shadi ke bare main baat kar rahe the tabhi hamare kul panditji aa gaye sari baat pata chalte hi unhne wo shor machaya ki pucho hi mat" restaurant main coffee pite huye ragini jafar ko bataye ja rahi thi "jaat biradarika vasta dete huye unhone ek jid pakad li ki shadi vaidik riti rivajo ke sath ki jaye yani ladka apna dharm badal le"

"acha? shukra hai abhi hamare maulvi sahab ko bhanak nahi padi hai magar kab tak bachenge hum. iska matlab hamare yaha fir wahi behas chidegi " jafar ke mathe par bal uth aaye

aakhri jafar aur ragini ke pariwaar wale mile. dono ko ekdusre se mil kar acha laga. bhale hi dharm alag alag ho magar rehan sahan samajik tehjib, din raat ke mudde dono pariwaro main ek saman the. hamara samajh kuch is tarah vaishvikaran ke sanche main dhal raha hai ki hum har parva usi ullahas se manate hai aur fir riti rivaj ki sakht lakir bhi dhundhli padti ja rahi hai. hamara najariya kafi sehaj ho gaya hai. dono pariwar is baat ke liye raji ho gaye ki dharm parivartan ke bina hi special marriage act ke tahat jafar aur ragini court man shadi kar lenge aur baad main dono pariwar mil kar ek reception de denge..

jab ye bate tay ho hi rahi thi tabhi gali main pandit ji aur maulvi sahab mil gaye

"aap to bahut khush hone ki hamari ladki aapke ladke se shadi kar rahi hai " panditji ne tana kasa

"aji kaunsa hamara dharam apna rahi hai. nikah to ho nah raha . court main jarahe hai. par aap itne nakhush kyu dikh rahe hai? rahegi to aap hike dharam main" maulvi sahab bole

"kya fayda yajmani to jati rahi na. agar apne dharam main shadi hoti to ek ghar aur milta ritirivaj karane ko" panditji mayus hokar bole

"pata nahi kya rivaj chal pada hai ye log apne liye hi jahannum ke darwaje khol rahe hai, nuksan to apna hi hua na" maulvi sahab bole

"aur sakht karna padega dharam ki bhavna ko," dono ek swar main bole aur fir apne apne raste chal diye........


The end......
 

Rebel.desi

Active Member
Messages
918
Reaction score
3,273
Points
123
Behan kii Nath kii thirkan......


Kumar bachpan se ek shaitan Baccha tha ... Aur wo jaise jaise bada hone laga uski shararrat badmashi , badtamizi main parivartit hone lagi ....
Uske parivar main uske pita aur us se do Saal badi behan Phulwa hai uski MAA Kii bachpan main hee death ho gayi thi use unki yaad bhi nahi thi ..... Haan use MAA ka Pyar use apni bua Rati se Mila tha .....
Uske pita gaon ke school ke head Master the ....aur uski bua sehar ke hospital main nurse thi....
Uske pita kafi puja path karte the isliye Ghar ka mahol bahut dharmik tha ....

Kumar apne Ghar ke mahol se bilkul alag tha ....hud se jyada shaitan aur badtamiz ladka tha .....
Jab wo 14 Saal ka tha ek din uski behan rote hue Ghar aayi .... Kumar ne poocha Kya hua par usne kuch nahi bataya ....

Kumar ne uski sahelion se poocha Kya hua hai ...to usne bataya ki isko ek ladka roj pareshan karta Hai aur aaj usne iska ( Phulwa) ka dupatta kheench diya aur badtamizi kii ....
Ye sun kar Kumar kaa dimag ghoom Gaya ....
Wo ek hockey stick le Kar Gaya aur us ladke ko dhoondh Kar itna Mara ....itna Mara ....ki us ladke ne dum tod Diya .......
Kumar ko.police arrest Kar le gayi .... ..
Lekin wo abhi minor( Na-balig) tha isliye use Baal sudhargraha main daal Diya...use teen Saal kii saja Hui .... Par Baal sudhargraha main use aur bhi bigade hue bacche mile jis se use bigadne ka poora Mauka Mila .....
Wahan roj ladai jhagde hote they aur usi mahol main uski grooming ho rahi thi ...usne wahan se hii 10th aur 12th kii padhai kii ....
Wahan uski dosti ek bahut hii kharab ladke Abdul se Hui Jo ek chori ke jurm main aaya tha aur ek numbers ka jue baaz aur jeb katra tha .....
Abdul us se umra main bada tha aur Bahar uska poora gang tha .....
Kumar ek intelligent ladka tha ....
Abdul ne us se kaha kii jab wo Bahar aaye to use mil .....
Kyonki Abdul par keval chori ka jurm tha wo jaldi Choot Gaya .....
Wo Kumar ko apna number de Kar Gaya .....
Kuch dino main Kumar ki bhi rihai ho gayi ......
Uska gaon Jane ka bilkul man nahi tha ....ek baar Uski behan aur Bapu us se Milne aaye the to wahan ke ladko ne Phulwa ko bahut gandi gandi najron se dekha is liye usne apne Bapu ko Mana Kar Diya kii wo us se Milne na aaya karein ....
Uske rihai kii unhain khabar bhi nahi Hui ....
Jail se Choot Kar Kumar seedha Abdul ke pass Chala Gaya Delhi main .....aur uske saath hee jeb katra aur chori chakari ke kaam main lag Gaya .....aur dheere dheere ek shaatir apradhi ban Gaya ........
Dono Delhi main Kalyanpuri slum area main rehane lage ...... Abdul ka Ghar bhi wahin tha ....
Usne uske Ghar ke pass hii Kumar ne ek kamra le liya .....
Dekhate dhekhate hii Kumar gajab ka chor ho Gaya aur bade si badi tijori / vault's wo minton main khol deta ....
Abdul aur Kumar kii Jodi ek hit Jodi ho gayi aur wo nit Nayi vardaat ko anjaam dete ..... Kumar ke pass paise ki koi kami nahi thi ...aur saath hi saath wo bahut dusahasi tha ..,..
Aur jaldi hii wo Crime kii dunia ka ek badnaam naam ho Gaya .....
Uski intelligence aur fitness ke sab kayal the ......
Wo kuch dino main hii Delhi ka Super Chor ho Gaya .....
Aur idhar Gaon main .... Bapu ne Phulwa ki Shaadi Kar di par badkismati se uske pati ki ek durghatna main maut hi gayi ..... Aur Phulwa apne Maike main aa gayi .... Ghar ka mahol bahut Gam geen tha .... Dono Baap beti din raat puja path main lage rehate ..... Kumar to waise hee salon se gayab tha ....aur idhar vidhwa beti ka bhaar uska pita utha Raha tha .... Vidhwa beti ek patthar ki sil ki tarah hoti hai .... Aur idhar Birju Bapu ke Seene par to do-do sil thi vidhwa behan aur vidhwa beti .....

Aur idhar Delhi main in sab baaton se anbhing Kumar apni masti aur vardaton main mashgool tha ....
Idhar ek chori ke silsile main Daroga Happu Singh ne Kumar ko dhar liya aur jubardust tudai kii ..
Par kuch saboot nahi Mila to chod Diya ....
Buri tarah pita hua aur bhookh se behaal Kumar Thane se choot te hii seedha Abdul ke Ghar kii taraf Chala aaya ......



Kumar Abdul ke Ghar Gaya ...usne do- teen baar awaaj lagai jab darwaja Nahin khula ..
To bagal SE diwar faand Kar Ghar main ghus Gaya ....
Aangan main use koi Nahi dikahi Diya...

Tabhi use ander ke kamre SE Kuch awwaj sunai di Aur wo usee awaaj ki disha main chal Diya ...

Aur Aur .....


aur

Kumar ne Jo dekha wo dekh Kar uske to hosh ud Gaye ....!!!!!
...
Kumar jadwat ho Gaya aur aisa laga Jaise us ko lakwa maar Gaya ho ...
Usne dekha ki Abdul ki behan Bilquis ki dono taang Abdul ke kandhe par thi aur aur Abdul ka Lund Bilquis ki choot main satasat ander Bahar ho Raha Tha .....
Sach main Kumar ne tab tak kabhi sex Nahin kiya Tha aur ye pehali baar Tha ki jab wo pehali baar live chudai Dekh Raha Tha...dono chudai main itne magan the ki unhain pata hi Nahin Tha ki koi Sara khel live Dekh Raha hai ....
Abdul ke har shot par Bilquis Hai Hai Kar rahi thi aur Abdul Apne vikraal Lund SE Bilquis ki choot ka dohan Kar Raha Tha ...
.. Bilquis ek Randi ki tarah Apne Bhai kaa Lund le rahi thi ...

Ye drashya Dekh Kar Kumar ko Abdul aur Bilquis SE Bahut grahana Hui ....wo kabhi soch bhi nahi sakta Tha ki Bhai behan ye khel bhi khel sakte Hain ...
Usne nafrat SE dono ko dekha aur mudne laga ... Tabhi Abdul ki Nazar us par pad gayi ....
Wo ek dum SE bola Kumar....
Us ne Abdul ki nahi suni aur kamre SE Bahar aa Gaya ....
Kumar ke peeche peeche wo bhi aa Gaya ....
Are dost sun to Sahi ...
Mat keha mujhe dost mujhe Tere SE nafrat ho gayi Hai aur Aaj ke baad mujh se nahin milna ...
Par Abdul uske peeche chalta Raha ...
Wo uska Sabse accha dost Tha ...Kuch door chalne ke baad wo use bar main le Gaya ...dono Bahut der Tak behas main uljhe rahe ..

Abdul ne bataya uska aur Bilquis ka chakkar kafi purana hai ....aur ye baat uski Ammi bhi jaanti Hain .... Kumar aakhein faad Kar sab sun Raha tha ....
Abdul aage bola aajkal ye common hai .... Bahut gharon kii dewaron main ye sab chalta hai ....
Uski samajh main nahi aa Raha tha wo Kya kahe ....apni life ka pehala real Incest case wo live dekh Raha tha .... Kuch der baad wo apne room main aa Gaya....

Kuch din aise hee gujre .... Yahan Delhi main Kumar ne graduation main bhi admission le rakha tha private se .... Kabhi kabhar wo evening classes bhi jata tha .....
Ek din Abdul ne bataya kii ek mukhbir Jo ki security guard tha usne bataya ki ek Ghar Khali hai aur usmain tijori main bahut maal hai ....
Par tijori digital hai aur kafi Hi-Tech hai ..... Aur sab log America Gaye hue Hain ......
Kumar to tijori ka expert tha ......
Unhone uss kothi kii reki Kari .....
Aur raat main hee dhaava bol Diya .....
Tijori kafi digital thi jismain aisa system laga tha ...
Agar koi tijori kholega to uska SMS automatically owner ke pass Chala jayega aur aisa hiii hua ....
Aur idhar Kumar aur Abdul ne jaldi se tijori kaa maal bag main bharna Shuru Kiya tabhi siren bajne laga ....
Abdul Bahar kii taraf Gaya dekhane to usne paya kii police kii gypsy gate par thi ....
Tabhi Kumar kii najar ek choti sii theli main gayi ....usmain diamonds the usne wo diamonds apni Jeb main daal liye ....
Abdul chillaya ....
Kumar police .....
Dono peeche Kee taraf se bhaag liye .....
Unki bike gate par thi ......wo use nahi le sakte the ....
Road par pahunch Kar unhain ek auto Mila ....
Aur wo usmain baith kar rafuchakkar ho Gaye ....
Par chori kaafi badi thi isliye police Investigation main lag gayi .....
Aur Abdul CC TV camera main aa Gaya tha .....

Wo dono Ghar nahi Gaye balki wo UP main chale Gaye aur jab Abdul ne bag khola to usmain ....koi dus kg ki sone ki jwellery thi ..... Aur koi 50 Lacs cash tha .....booti kafi badi thi aur unhain pata tha kii police ab unke peeche thi ....
Is ke alawa Jo Diamonds the uska to pata Abdul ko bhi nahi tha ....
Dono raat main hotel room main rehate Hain ....
Subah ka news paper padhate Hain par us main Kal kii chori ka koi jikra nahi tha ......
Iska Matlab shayad income tax kii vajah se owner ne report hii nahi kii ......
Iska Matlab wo to yaa poore safe Hain yaa koi badi musibat aane Wali hai ....?

Asal un ne jis ke yahan chori kii thi wo khud ek bada bank fraud Kar ke Bahar bhaga hua tha ....
Aur tijori main Sara maal do number ka tha ....
Par us ke underworld se bhi strong contacts the ....
Tabhi Aslam ka phone Baja ....dusri taraf ek police ka khabri tha Saleem langda .....
Saleem bola Bhai Kahan gayab ho bahut khoja ho Raha hai tumhara .....
Aslam: kon hamara khoja Kar Raha hai be ....
Saleem: Underworld ke log high alert par khoj rahe Hain .... Tumhare Ghar par nazar gadha ke baithe Hain .....
Aur intelligence department ke log bhi dhoondh rahe Hain .....
Intelligence ke log ...Aslam chonkate hue bola ....
Haan .... Unka ek officer Kumar ko dhoondh Raha hai ....
Asal main chahe iss chori kii police report nahi Hui ho par .....ye chori crime kii dunia kii ek badi chori thi .... Ek to jiss digital vault ko khola tha wo hii ek ajooba tha .....
Aur usmain multi millions ke diamonds the .....is Karan underworld sakriya ho Gaya tha .....

Intelligence wale is liye sakriya the unko uss Chor ko dekhana tha kii wo intelligent Chor kon hai jisne itna Hi-Tech vault ko khol Diya ....

Underworld mafia se takrana Matlab maut ....
Ye baat Aslam acchi tarah jaanta tha ....
Usne sari baat Kumar ko batai ....
Aur bola kuch dino ke liye hamein underground hona padega .....
Yaar apne pass khoob maal hai .....
Kuch din hum underground ho jate Hain ....nahi to uda Diye jaayegein ....
Aur sun apna number band Kar Dena ....aur mobile instrument bhi phenk de nahi to IMEI number se hamein dhoondh legein ....
Aur pata nahi ye intelligence wale kyon hamare peeche Hain ....? Abdul bola ...

Kumar bola theek hai par Mera ek last paper hai Kal ..... Main wo de Kar kahin nikal jaaungaan ...
Dekh kahin pakada nahi jaaye ....
Nahi I manage .... Kumar bola .....
Asal main uska graduation final year ka last paper tha ....wo use Dena har halat main chahta tha ....

Ok main nikalta hun ..... Take care ..... Aur zarroorat padi to hum .... mail draft se touch main rahegein aur Naya number exchange Kar legein ....
Ok bye ...aur Abdul nikal gaya .....

Next day .... Kumar apna paper Dene nikal Gaya ....
Usne Sara maal ek safe locker main daal Diya ...Jo us ne pehale se le rakha tha ....

Kumar paper dekar jaise hi nikala achanak uss per Ek hamla hua aur usko pakad kar Ek gadi mein Dal liya usko Charon taraf se char logon ne pakad rakha tha tabhi Ek shaks ne use injection Diya aur vah behosh Ho Gaya...
Jab hosh aaya to usne apne aap ko Ek andhere kamre mein paya......
Usne dekha ki uske pass koi saman nahin Hai tabhi ek shaks aaya aur usne poochha kuchh khaega use sach mein bahut bhookh lagi thi usne haan main sar hilaya wo usko do sandwich dekar chala Gaya , sandwich khane ke baad ....
Us ke room main ek aur shaks aaya .....
Kafi smart aur young tha .....
Cigarette ka Kash lete hue usne poochha kaisa hai Kumar theek hon Sir mere ko yahan kyon laya gaya hai usne poochha ....
Relax batata hun
Kumar: aap log mere ko kyon laaye aur aap log kaun ho
Mera naam ACP Sharma hai aur main intelligence bureau ka unit chief hun ....
Hamein pata Chala Hai ki Teri ungaliyon mein Jadu Hai Koi bhi vault ya tijori kholna Tere Bain hath ka khel hai ....
Fir usne aage bolna shuru Kara dekh tune Jo Kal chori ki Hai tujhe pata nahin tum logon ne kis ke upar hath dala hai vah shaks underworld ka bahut Bada khiladi hai ....
Shuruaat tune kii hai ab ant main karungaa ....
Ya to tu mere liye kaam Kar nahi to jail ya underworld kii goli .....
Marji Teri hai ....
ACP Sharma bola .....
Mujhe Kya Karna hoga .....
Tere ko hamari unit join karni padegi as a secret agent .....
Main tujhe training dungaan .....
Soch ye tu Kya chori chakari kii Zindagi kaat Raha hai ..... Hamare saath kaam Kar Desh ke liye .....
Ek izzat kii Zindagi milegi .... Aur Tera telent bhi Desh ke kaam aayega ....
Kuch sochate hue .... Kumar bola ....
Theek hai Sir ....
Main karoonga aapke liye kaam ......
That's like my Boy .....
Tumhain special training ke liye Chennai Jana hoga ......
Dus dino ke baad ..... Tum chaho dus din holiday par chale jao ...aur haan take care my boy kyonki tumhare peeche underworld wale ghoom rahe Hain ....
Ok sir... I will take care my self ...main kuch dino ke liye underground ho jata hun .....
Theek hai theek dus dino ke baad Airport par milte Hain ....tumhari ticket mil jayegi .....aur pls ye kisi ko mat batana kyonki tum aaj se ek secret mission par ho .....
Ok sir ......
Kumar wahan se nikal Kar Bahar aaya aur usne socha kii wo Kahan jaaye ....
Phir usne socha wi apne gaon Chala jaata hai ....
Saalon ho Gaye the gaon Gaye bina ....
Usne train board kii gaon Jane ke liye

Kumar ko apne gaon pahunchate pahunchate shaam ho gayi .....
Us samay light chali gayi thi ....Ghar main keval laltain ki roshani thi .....
Darwaja uske pita ne khola .....
Apni boodhi aakhon se usne dekha aur andhere
Main bhi Kumar ko pehachaan Gaya ....
Kumaaaaaaar ...... Mera Baccha .......
Usne Kumar ko gale se laga liya .....
Pita kii awaaj sun Kar uski behan Phulwa bhi darwaje par aa gayi aur usne dheemi laltain ki roshani main Kumar ko dekha to uske chehre par Khushi aa gayi ....wo muskai aur Kumar ka abhivadan Kiya ....
Ghar ka mahol bahut gamgeen tha .....
Ander aa Kar usne apna saman rakha ....aur uska pita Bahar mandir main aarti Karne Chala Gaya ....
Phulwa Ghar main Diya baati Karne chali gayi ....



Phulwa kii roj ki dincharya subah 5 baje se shuru ho jaati thi ....subah wo Nadi par snaan karti phir geele kaodon main ek gagar(matke) main Pani le Kar mandir main jal chadhati ....
Phir mandir main puja aur Ghar main puja saaf safai ke baad hii wo chulha jalati ....

Kumar ko aaye Kai din ho Gaye the ....
Ek subhah uski neend jaldi khul gayi ....abhi Surayodaya bhi nahi hua tha ...wo utha Kar fresh ho kar wo Bahar aaya use Nadi kii taraf kuch halchal sii sunai di ....
Usne us taraf dekha .....
Phulwa snaan Kar rahi thi .... Andhera tha ....
Par bhor Shuru ho chuki thi .....
Safed saree main Phulwa ka geela gadraya badan jagah jagah se dikhai de Raha tha .....
Phulwa ne paani main ek gehari dubaki lagai .....
Aur jaise hee Bahar nikali .....
Usne ghuma ke apne baalon ko jhatka ....uske lambe lambe Baal uske chehre par aa Gaye the ....
Usne ek haath se Baal apne chehre se hatae aur tabhi Suraj kii pehali Kiran Phulwa ke chehre par padi ....Suraj ki chamak se uska gora kundan (sone) jaisa chehra aur chamak Gaya ........
Aisa prateet ho Raha tha jaise koi sone kii Murat Nadi main khadi ho .....
Kumar kuch pal ko Phulwa ke iss mohak Roop ko dekh Kar stabdh (statue) ho Gaya ......
Aur ek vidambana ke saath dunia kii sabse Sunder krati ( murti) ko dekahne laga .....
Ab kuch pal aur beet chuke the .... Suraj kii kuch aur kiranein Phulwa par aa gayi thi aur saath saath Kumar kii nazarein .....
Suraj kii Kiran ab Phulwa ke vaksh sthal par damak rahi thi .... Saree geeli hone kii vajah se uska Vishal ubhri huai chaatian saaf saaf dikhaii de rahi thi ...... safed Saree geeli ho Kar Phulwa ke shareer se chipak gayi thi .....aur uska gora gora Ang ander se jhaank Raha tha ....
Tabhi wo mudi ..... Aur apne baalon ko jhatka Mara aur apni gaagar main Pani bharne lagi .....
Aur badi Ada se gaagar apni Kamar ke bagal main apne haat main le Kar Nadi se Bahar aa gayi ......
Uski lachakdaar Kamar aur ubhri Hui Gaand gajab ka Kadam taal Mila rahe the .... Saree uski geeli hone me Karan poori paardarshi ( transparent) ho chuki thi ....Apni matakti Gaand ke saath wo chadhai chadh Kar Mandir kii taraf badhi aur Mandir main jal chadha Kar bhagwan ka snaan Kara Kar wo Bahar aayi ....

Wo Ghar kii taraf chali ....
Kumar ne jab use apni taraf aate dekha to wo ped kii aad main ho Gaya wo aisa sunder avismarniya palon ka poora Anand Lena chahta tha ....
Phulwa Gaand matkati Hui uske Samne se nikal gayi ......Aur Phulwa kii uthe jowan dekh Kar Kumar ko usko paane kii iccha bekaboo ho gayi .....
Apne khusbudar badan kii khilti jawani ke bageeche main Phulwa kii gadrai jawani usi ke Bhai ko chubhe jaa rahii thi .....
Kumar hatprat sa use ghoore jaa Raha tha.....
Man main jabardast kashmakash ( dellima) chal rahi thi ....
Iss asmanjash kii sthithi main use apna Lund phoolta hua mehasoosh hua .....
Ye uske saath pehali baar ho Raha tha itni uttezana ,itni teevrata ( temptation) .....
Temptation for his sister ......
Behan ko paane kii teevra iccha ......
Ab wo bas Phulwa ko bhogna chahta tha .....
Uske gadrai badan se khelna chahta tha ......
Uske pita tabhi apne School ko nikal gaye .....
Ghar main wo aur Phulwa akele the ....
Wo Kya kare ...Kya na Kare .... Wali sthithi main tha ....aur usmain apne dost Abdul ki baatein use yaad aa Rahi thi ....
Udhar Phulwa aangan main khade go Kar apni geeli Saree utarti hai ..... Safed saree utarte hee Phulwa ka gora badan anavrat ho jaata hai ....
Khuli khidaki se ye scene bade gaur se Kumar dekh Raha tha ..... Phulwa Kee peeth Kumar kii taraf thi uske chaude chaude chootar Kumar ko pagal Kar rahe the .....
Tabhi wo mudi tauliya uthane ko aur ek pal ko Phulwa ki gadrai badi badi choochian Kumar ke Samne nangi thi ..... Iss scene ne Aag main ghee ka kaam Kiya .....
Wo jaanta tha .... Phulwa itni sanskari ladki hai wo kabhi iss kaam ke liye taiyàr nahi hogi .....
To wo Kya kare ....
Yahan se Chala jaaye ....?
Aur wo ye bhi jaanta tha kii ye Pyar nahi hai !
Ye bas vasana hai .....
Bas Phulwa ko bhogne kii !
Uska dimag vicharon ke manthan se fata jaa Raha tha ....

Tabhi uske kaano main Phulwa koi misri jaisi Madhur awaaj aayi .... Bhai Chai ! .....
Kumar jaise neend se utha ho ....
Aur hadbadata hua .... Haan !
Aur wo varande kii taraf badha ....aur wahin seedhion ke pass baith Gaya .....
Aur Phulwa ke hath se Chai ka cup pakda ....
Uski ungaliyan ... Roop ke haath se takrai aur use current sa mehasoos hua .......
Jab dimag main itni gandagi bhari ho to aisa hota hai .....
Usne Chai ka ek ghoont liya ....aur chuski le Kar chai peene laga .....
Chai khatam ho chuki thi .....wo ek soch main baitha hua tha ....
Tabhi Phulwa peeche se aayi aur Chai ka cup uthane ke liye jhuki .....
Aur usi pal ...... kumar ke dimag main Aar ya Paar ka vichar aa Gaya .....aur wo ab apni gandi soch ko amli jaama pehanana chahta tha ....aur wo faisla Kar chuka tha ..... Vasna kii Aag main jalte hue .....
Phulwa cup utha Kar mudi aur usi pal Kumar ne lapak ke uska haath pakad liya .....
Uske haat se cup chitak ke door jaa gir pada ....
Usne gusse se Kumar ko dekha .... Aur use samajh main nahi aaya Kumar ne aisa kyon Kiya ?
Dusre hee pal Kumar ne Laghbagh kheenchte hue use apni goad main kheech liya .....
Usne safed rang ka kurta aur salwar pehani Hui thi .....
Kya Kar Raha hai ..... Usne Kumar ko bola ....
Use samajh main nahi aa Raha tha ki wo aise kyon Kar Raha hai.....wo sapne main bhi aisa nahi soch sakti thi ek din uska Bhai uske saath aisa karega ...wo to kabhi ye bhi nahi soch sakti ki koi bhi Bhai aisa Kar sakta hai apni behan ke saath .....

Ab to Kumar ke liye karo ya Maro ki situation thi Samne .....
Aur usne faisla liya jaise America ne Hiroshima Nagasaki main atom bomb daal Diya ho ....
Usne Phulwa kii dono zabar choochion ko apne haathon main bhar liya .....
Ye dekh Kar Phulwa kaa bura haal ho Gaya ....
Ab to Phulwa ke saath Jo ho Raha tha wo apritashit (unexpected) ho Raha tha ....Jo usne sapne main bhi nahi Socha tha ...
Kumar balisth tha jawaan tha usne Phulwa ko goad main uthaya aur Ghar ke ander le aaya .....
Aur Phulwa ko bister par daal Diya .......
Phulwa Kee aakhon main aasun the ....
Jo Bhai uski raksha main jail Chala Gaya tha aaj wo hee uski asmat se khilwaad Kar Raha tha .....
Jahaan Phulwa kii aakhon main aasun the wahin Kumar Kee aakhon main Vasana aur nirdayita thi ....
Phulwa fafak fafak ke ro rahi thi par uss virane Ghar main Jo gaon se door tha door door Tak koi insaan nahi ....virane main kho gayi .....
Kumar ne Phulwa ka kurta gale se pakda aur use gale ke beech se neeche Tak fadata Chala Gaya .....

Ek pal main hee Phulwa aadhi nangi ho gayi .....
Phulwa kii badi badi choochian brassier main kaid thi .....
Phulwa kii vikraal choochian dekh Kar Kumar pagla sa Gaya ......
Usse ab ruka nahi jaa Raha tha .....
Usne jaldi se bra ko kholne kii koshish kii par us se nahi khuli usne jaldi se apni Jeb se chaku nikala Jo wo hamesha emergency ke liye rakhta tha ....

Us chaku se Phulwa ki bra kaat ke phenk dii ......
Aur dusre hii pal usne usi chaaku se usne Phulwa kii salwar ka naada kaat Diya .....
Salwar neeche sarak gayi .... ...
Phulwa ka khajana ab keval ek chaadi main chupa hua tha ..... Aakhir wo aakhri Kila kab Tak uski raksha karta ...... Jab Ghar ka bhedi hee Lanka dhaa Raha tha .....
Kumar ne uski chaddi utari nahi use bhi chaku se kaat ke phenk Diya .....
Kumar ka ye raudra Roop dekh Kar Phulwa bhayabheet ho gayi thi .....

Apni gadrai behan ka nanga badan paa Kar kumar pagal saa ho Gaya .....
Usne Phulwa kii dono choochion ko apne muhan main bhar liya aur jubardust chusai shuru Kar di ....
Phulwa shram se Mari jaa rahi thi aur ro ro ke uska bura haal tha .....
Wo roti gidgidate hue boli Bhai .... Tu to Meri izzat ka rakhwala hai aaj tu Meri izzat ko taar taar Kar Raha hai .....
Chup Sali ..... Itne gadraya badan wale maal ko koi aur bhoge .....aisa main hone nahi dungaan .....
Sali tujhe to main ab apni Randi bana ke rakhungaan ......
Itna keha Kar usne apne kapde bhii kholna chalu Kar Diye .....
Khud madarjaat nanga ho Kar .....
Kumar Laghbagh koodta hua ek Josh main bed par chadha .....
Uska fhanfanata hua Lund poore aakaar main tha ....
Usne Phulwa ke mast gaalon ko muhn main bhar ke unhain bethasha choomne laga ....
Aur uske hothon ko apne muhan main bhar ke smooching kiss Karne laga ....
Kumar bahut violent tarike se Phulwa ka Balatkar Kar Raha tha .....
Haan ye Balatkar hee tha ...jahan Phulwa ka koi sahyog nahi tha .....
Kumar ka Lund Phulwa kii jhanghon ke ird gird machal Raha tha ....Jo Phulwa ke hilne dulne se Choot par ruk nahi paa Raha tha ....
Kumar ne apna Lund Phulwa kii phooli Hui Choot par Tikane kii koshish Karne laga ....
Par Phulwa bahut virodh Kar rahi thi iss vajah se Kumar ko laga wo apne mansube main safal nahi ho payega .....
Usne apna muhan Phulwa Kee paav roti kii tarah phooli Hui Choot par rakh Diya aur use choomne laga chatne laga ....Sach main wo bahut badhawas ho chuka tha ab Tak ....
Use laga Phulwa aasani se nahi manegi ....
Udhar Phulwa ko laga kii ab wo nahi bachegi ....
Usne gid-gidate hue Kumar se boli Bhai daya Kar main Teri vidhwa behan hun .....
Mere saath aisa anachaar mat Kar ....main mar jaaungein ..... Wo ro ro Kar Kumar se vinti Karne lagi .....
Par Kumar ab itna aage badh chuka tha jahan se peeche aana asambhav tha ....
Kumar ne ab nischay Kar liya kii wo aaj Phulwa kii Choot main jhanda gadh Kar hee manega ....
Wo ek behad jiddi aur kamina kisam ka tha ....
Use pata tha yahan se vapas chod Kar Jane se wo ab kabhi Phulwa se aakhein nahi Mila payega aur phir kabhi unke rishte normal nahi ho payegein ....
Yahi sochate hue usne Phulwa ko apne vajan se dabana shuru Kiya .... Ek haath se uske dono haath uski bra se baandh Kar usne uski Kamar aur jhaanghon ko pakda aur apna Mota Lund Phulwa kii Choot ke muhane par tikaya ....
Aur agle hee pal wo anarth hua .....jiski kabhi usne Kalpana bhi nahi kii thi ....

Kumar ka Lund Phulwa kii Choot ko cheerta hua uski geharaion main ghus Gaya ......

Bhaaaaaaaaaaai ....... Phulwa Ke muhan se ek dardnaak cheekh nikali ......
Phulwa rote rote Kumar ko kose jaa rahi thi aur udhar Kumar ....uski Choot ka mardan Karne laga .......wo itna jyada excited uttezit ho Gaya tha ....wo ander jaate hee jhad Gaya ......
Thodi der main hee uska Lund murjhaya hua uski Choot se Bahar aa Gaya .....
Kamre main ek sannataa sa chaaa Gaya .....
Keval Phulwa kii siskion kii awaaj aa rahi thi ....
Phulwa Ke hothon ke pass se khoon beha Raha tha ....... Jagah jagha uske shareer main laal nishaan pade hue the .......
Uske gaalon par Kumar ke daaton ke nishaan the ....
Wo aakhein band kiye nangi bister par padi sisak rahi thi ....
Kumar ko kuch bhi accha nahi laga .....
Asal main cheena jhapti main sex ho hee nahi paya ..... Kumar ko kuch der gilani kaa Anubhav hua ....aur agle hee pal uski nazar nangi aakhein band kiye Phulwa par padi ......
Ye usne Kya Kiya apni hee behan ke saath ....
Par agle hee pal uska Lund dunia kii sabse khoobsurat ladki ko dekh Kar phir aakaar main aane laga ....
Kaamvasna se aut prot Kumar phir Phulwa par chadh gya ....
Phulwa me aakhein kholi aur Kumar ko ooper dekh Kar grihna se nazarein dusri taraf pher lii ....
Kumar ne besharmi se apna khada Lund Phulwa kii Choot main ghused Diya .....

ek baar jhadne Kee vajah se uska Lund Phulwa kii Choot kii geharaion main jaane laga ....
Aur udhar luti piti Phulwa ne bhi khud ko dheela chod Diya ....... Chud to chuki thi wo ..... Ab uska virodh khatam ho chuka tha bas sisak rahi thi .....

Aur idhar nature ne bhi apna kaam Shuru Kar Diya .... Phulwa ko pata tha Kumar uska Bhai hai .....
Kumar ko pata tha kii Phulwa uski behan hai .....
Par kambhakth Lund aur Choot ko nahi pata tha ....
Ek kahawat hai Gud Pyar se khilaya Jaye yaa jabardasti khilaya Jaye ....par lagega to meetha hee ....
Yahi haal yahan Phulwa ka tha ......
Kumar ke lagataar maithun se uski Choot main ....
Uski Yoni main nami aane lagi .....
Pehale jahan usne apne ko tanaav (tension) main rakha tha ab usne apne ko dheela chod Diya .....
To Phulwa kii body relax (vishram) main aa gayi ....
Aur idhar Kumar bhi paramanand main dhakke pe dhakka marne laga .....

Majboori main sahi par Phulwa ko Lund ka swad Milne laga .... Kumar ka Lund Phulwa kii bacchedani main thokar maar Raha tha .....
Aur Phulwa Ke jawaan sakri Choot me Kumar ke Lund ko vaccum pump kii tarah kas liya ......aur apne aap na chahte hue bhi Phulwa kii Kamar apne aap chalne lagi .....
Aur natural Choot Lund ka samagam hone laga .....
Phulwa kii siskiyan ab aahon main badal gayi ....
Aur kuch pal pehale kii sanskari ladki ......
Ek sasti chudasi Randi kii tarah apni taangein faila ke Lund ka Anand lene lagi .....
Kumar ko chodte chodte koi Aadha ghanta ho chuka tha aur wo shikhar ke kareeb tha .....
Phulwa ne aakhein band Kar lii thi ....par Kamar Chala rahi thi.....
Ohh aaaha ....hai Kar rahi thi .......
Kumar ne dhakko kiii speed badha dii .....
Ab kumar jhadne Wala tha ...aur yahi haal Phulwa ka tha .....
Kumar ne tabad tod dhakke marna shuru Kar Diya ....
Jo kaam ek Jung se shuru hua tha par ant shayad Jung se nahi ho Raha tha .....
Aur unhi paramanand ke palaon main ...... Kumar ne apne Lund SE Phulwa kii Choot ko sinchit Kar Diya .....aur Phulwa kii bacchedani ka muhan khul Gaya aur kumar ka virya aur uske raj ka Milan uski Choot main ho Gaya ......

Ek jordaar chudai ke baad Kumar jhad ke Phulwa ke bagal main let Gaya .....
Aaj Phulwa Ke jeevan main Mansoon kii pehali barsaat aayi thi .....Yovan Kee boondein use pukar rahi thi ..... Phulwa Ke ander kaa Toofan ....Aaj aayi Bahar kii aandhi he jyada bhayanak thaa ....
Aur udhar Kumar Vasna ke bavandar main ghoom Raha tha .......
Udhar Phulwa ka man vathith ho Raha tha ....
Vasna ka bavandar nikalne ke baad Sanskaron ka samunder muhan baaye khada tha ....
Aatmgilani aur Balatkar kii peeda se wo gujar rahi thi aur khud ko apmanit mehasoos Kar rahi thi ..... apne Bhai ke ISS sansarg ko wo bhula nahi payegi ......halanki samagam ant main ananadayak ho Gaya tha ..... Kumar kaa virya aur khud ke raj ka Milan uski jhaanghon par abhi bhi chipka hua tha .... Usne uthane kii koshish kii par Kumar kii Kamar tod chudai se uska anag anag dard se pira raha tha .....par dusre hee pal usne takat laga Kar uthi ....aur aangan main lage hand pump Tak Gayi .....
Pump Chala Kar usne paani dala apne upar .... apna shareer dhoya .....aur khadi Hui ....wahan lage darpan ( Mirror) main apne aap ko dekha ......
Use laga jaise Samne khadi ladki mirror main koi aur hai ..... Wo Phulwa nahi hai ....
Kumar ulte muhan abhi bhi bister par pada tha ...

Usne remote uthaya TV on kiya ....
TV bar behano bhaiyo ho raha tha .....
Pradhan mantri ne lockdown kii Ghosh na kar di ....
Oh my God .... Uske muhan se nikla ...
Sab kuch band ab kya hoga uske dimaag main aaya .....
Tabhi Phulwa ka phone baja .....
Phone Bapu ka tha unhonne bataya ...
Kii wo lockdown main phas gaye hain....
Aur ab jaise hi khulega wo vapas aaegein ...unhone bataya ki wo Bua ke yahan aa gaye hain .... phir Phulwa ne phone Kumar kii taraf badha diya ....
Bapu ne phir wohi baat doharai aur Kumar se kaha kii wo ghar ka aur Phulwa ka dhyan rakhe ... Aur unhone phone kaat diya ...

Ab to Kumar ko poori ajadi mil gayi .....
Usne Phulwa ko phir pakad liya ....
Aur Ek baar phir ....phir .....phir .....
Ye un dono ka poore lockdown main ek hee kaam reha gaya dono ek doosre ki baahon main samaye rehate .....
Koi mahine bhar main undono ka 3000 baar samagam kiya hoga .....
Mahine bhar baad Kumar ka Phone baja ...
Samne se ACP Sharma kaa awaaj aayi ....
Unne kaha ki use kal airport par aana hai mission on ho chuka hai ...
Sir yahan to sab band hai no moment hai ...
You are smart enough to tackle situation ....
Kuch bhi karo kal 12.00 baje Delhi Airport par report karo hum private plane se Mission par niklegein ....

Oh my God ......uske muhan se nikla ...
Kya hua Phulwa ne poocha ....
Mujhe abhi nikalna hoga
Kahan ?
Duty join karni hai ...
Abhi itni jaldi wo boli
Haan mujhe abhi nikalna hoga

Tabhi Phulwa ko ulti vomate aane lagi ....
Kya hua ...?
Kumar uske peeche aaya ....
Kuch nahi sab theek hai na ....
Mera period miss ho raha hai
Wo boli
Oh my God ..... Kumar ne sar pakda ....
Don't worry main dekh lugein ......
Tumne jo karna tha wo tum kar chuke ho !
Usne Kumar ko ek taana dete hue kaha ....
Ek kaam kar sakte ho ....
Tum jaa rahe ho to mujhe kya Sehar Bua ke ghar tak chod sakte ho .....
Haan kyon nahi .....
Aur usne apne Pita ki Bullet motorcycle nikali aur Phulwa ko bitha kar nikal pada .....
Bua ke yahan pahunch kar usne Phulwa ko choda .....
Uske pita kahin bahar gaye hue the ....

Usne kaha mujhe ab chalna hoga ...
Usne ek Nazar Phulwa ko dekha uske gore mukhade ko ek baar nihara ..... Uska man bhaari ho raha tha .....
Iss kalpana se kii wo usse juda ho jayega ....
Phulwa ki kajraari aakhon main aason the uske naak kii Nath main ek thirkan hui aur wo hili ....

Kumar ka dil bahut bhaari ho raha tha use laga ki agar wo ek pal bhi ruk gaya to phir wo kabhi nahi jaa payega ......

Usne Bike main kick maari aur bina peeche dekhe nikal gaya apni manjil kii aur ....



Screenshot-2020-02-14-11-31-22-207-com-google-android-googlequicksearchbox
 
Last edited by a moderator:
Status
Not open for further replies.
Top

Dear User!

We found that you are blocking the display of ads on our site.

Please add it to the exception list or disable AdBlock.

Our materials are provided for FREE and the only revenue is advertising.

Thank you for understanding!