Incest शहनाज़ एक मजबूर औरत की दास्तान

  • You need a minimum of 50 Posts to be able to send private messages to other users.
  • Register or Login to get rid of annoying pop-ads.

Unique star

Active Member
Messages
631
Reaction score
7,740
Points
123
दोस्तो मैं ये कहानी एक पाठक के बहुत ज्यादा आग्रह करने पर लिख रहा हूं जो कि एक गूंगी और बहरी औरत की कहानी है।

शहनाज़ नाम का मतलब होता है परियों की राजकुमारी यानी कि बहुत ज्यादा सुंदर। इस कहानी की नायिका शहनाज़ बिल्कुल परियों की तरह ही खूबसूरत हैं।

पात्र परिचय:

शहनाज़:" एक करीब 39 साल, दूध सी गोरी और सुंदर, बदन में मानो सांचे में ढला हुआ और शरीर के कटाव बेहद जानलेवा।


f783c75aaa8f9017bc455641737fdf8a

शाहिद:" उम्र 18 साल, शहनाज़ का बेटा। बेहद ताकतवर और खूंखार नौजवान। छोटी सी उम्र में ही चट्टानों की तरह मजबूत जिस्म का मालिक।

फिजा:" शहनाज़ की नौकरानी और उसकी सबसे अच्छी सहेली।

राशिद:" शहनाज़ के बाप का सबसे खास और विश्वसनीय मंत्री।

शहनाज़ एक बहुत बड़े राज घराने में पैदा हुई और उसके जन्म पर बहुत ज्यादा खुशियां मनाई गई क्योंकि नवाब बहादुर खान के कोई औलाद नहीं थी। लड़की के रूप में ही सही आखिरकार उन्हें राज्य का वारिस तो मिला। शहनाज़ धीरे धीरे बड़ी होने लगी और जैसे जैसे उसकी उम्र बढ़ती जा रही थी वैसे वैसे नवाब और उसकी बीवी की चिंता भी बढ़ रही थी क्योंकि शहनाज़ के मुंह से ना कोई आवाज निकल रही थी और ना ही वो किसी कि आवाज या पुकारने पर कोई प्रतिक्रिया देती थी। जैसे ही उसकी उम्र दो साल हुई तो ये बात जंगल में आग की तरह फ़ैल गई कि राजकुमारी गूंगी और बहरी हैं।
 
Last edited:

Rachit Chaudhary

B a Game Changer ,world is already full of players
Messages
1,031
Reaction score
2,242
Points
143
Messages
177
Reaction score
668
Points
93
शुक्रिया आपका फ़िर से एक और नई कहानी शुरू करने के लिए। उम्मीद है ये भी एक एहसास और लज्जत से भरी हुई कहानी होगी। गूंगी और बहरी शहनाज़
 
Messages
177
Reaction score
668
Points
93
Bhai pahele mangliki bahen to Puri Karo firr dusari likho yaar 1 pe to update de Nahi pa rahe ho aoor dusari Suru kardi yaar chahete keya ho ham log kab se intejar Kar rahe hai ki bhai firi ho ke update dega par aap to dusari Suru kardi par us pe koyi update Nahi aayesa keyi

हा हा हा। दोनो पूरी हो जाएगी। पढ़ो तुम भी। लेखक पर भरोसा रखो यार शाहिद साहब
 
Last edited:

Unique star

Active Member
Messages
631
Reaction score
7,740
Points
123
Bhai pahele mangliki bahen to Puri Karo firr dusari likho yaar 1 pe to update de Nahi pa rahe ho aoor dusari Suru kardi yaar chahete keya ho ham log kab se intejar Kar rahe hai ki bhai firi ho ke update dega par aap to dusari Suru kardi par us pe koyi update Nahi aayesa keyi

इसकी मैंने बस घोषणा की है। इसमें अब कोई अपडेट नहीं आएगा। पहले मांगलिक बहन ही पूरी होगी, लेकिन उसमें अभी थोड़ा समय लग सकता है
 
Top

Dear User!

We found that you are blocking the display of ads on our site.

Please add it to the exception list or disable AdBlock.

Our materials are provided for FREE and the only revenue is advertising.

Thank you for understanding!