Romance मोक्ष : तृष्णा से तुष्टि तक .......

  • You need a minimum of 50 Posts to be able to send private messages to other users.
  • Register or Login to get rid of annoying pop-ads.

रागिनी की कहानी के बाद आप इनमें से कौन सा फ़्लैशबैक पहले पढ़ना चाहते हैं


  • Total voters
    27

kamdev99008

FoX - Federation of Xossipians
Messages
6,560
Reaction score
22,618
Points
143
मोक्ष : तृष्णा से तुष्टि तक

प्रिय मित्रो मेंने आप सब की बहुत सी कहानियाँ पढ़ीं और बहुत सारी कहानियाँ आपके साथ पढ़ीं... हर किसी के मन मे एक कहानी होती है..... ज़िंदगी की कहानी

लेकिन अपने मन की बात को शब्दों मे उतारना सभी के बस की बात नहीं... मेरे भी नहीं... अब आप सब के प्रोत्साहन और प्रेरणा से में अपनी कहानी शुरू करने जा रहा हूँ.... ये कहानी आपको जीवन के रास्ते पर पड़ने वाले सभी मोड़ों से होते हुये मंजिल तक लेकर जाने वाली यात्रा की तरह लगेगी.... कहीं आपको अपनी सी लगेगी तो कहीं पराई सी ..... लेकिन आपके दिल तक पहुंचे.... यही मेरा प्रयास रहेगा.....

साथ बने रहें

 
Last edited:

kamdev99008

FoX - Federation of Xossipians
Messages
6,560
Reaction score
22,618
Points
143
मोक्ष
मोक्ष वास्तव में हमारी आत्मसंतुष्टि है... जब हमारी कामनाएं आनंद की अनुभूति करने लगती हैं इसको हम अपनी सुविधानुसार आनंद, सुख, संतुष्टि या समाधि भी कहते हैं. मोक्ष सम्पूर्ण तृष्णाओं के भोग अर्थात सम्पूर्ण भोग या सम्भोग से ही प्राप्य है.
 
Last edited:

kamdev99008

FoX - Federation of Xossipians
Messages
6,560
Reaction score
22,618
Points
143
त्याग

मोक्ष की एक नकारात्मक अवधारणा त्याग है अर्थात समस्त तृष्णाओं का त्याग कर देना इसे भी कुछ व्यक्ति मोक्ष ही मानते हैं किन्तु ऐसा सत्य नहीं है.... त्याग एक भ्रम है जो आपकी नियति को नकारात्मक निर्धारित करता है. आपने जिस वस्तु को पूर्णतः प्राप्त ही नहीं किया उसका त्याग कैसे कर पायेंगे. त्याग केवल उसी का हो सकता है जिसको अपने प्राप्त कर लिया हो...जिस पर आपका अधिकार हो...जिस पर आपका स्वामित्व हो...
 
Last edited:

kamdev99008

FoX - Federation of Xossipians
Messages
6,560
Reaction score
22,618
Points
143
तृष्णा

अनादि काल से संसार के जीव विभिन्न प्रकार की तृष्णाओं में जीवन जीते हुए तुष्टि की कामना करते रहे हैं और करते रहेंगे. संसार में 5 रूप में तृष्णा को परिभाषित किया गया है :-

१- काम

२- क्रोध

३- मद

४- लोभ

५- मोह

यही पांचों तृष्णायें जीवन को जीने के लिए प्रोत्साहित करती हैं और सभी जीवों को परस्पर सामंजस्य से रहने को प्रोत्साहित करती हैं क्योंकि सभी को अपनी तृष्णा की पूर्ति के लिए अन्य के सहयोग की लालसा ही समाज का निर्माण करती है.
 
Last edited:

kamdev99008

FoX - Federation of Xossipians
Messages
6,560
Reaction score
22,618
Points
143
भय

इसके साथ ही एक अन्य शक्ति भी जो इन सब को नियंत्रित करती है :- भय

भय तृष्णा की पूर्ति की मानसिकता और प्रयासों को विकृत और निकृष्ट होने से रोकता है जिससे किसी एक या अधिक के हित साधने में सार्वजनिक अहित न हो.
 
Last edited:

kamdev99008

FoX - Federation of Xossipians
Messages
6,560
Reaction score
22,618
Points
143
धर्म

तृष्णा के भोग पर नियंत्रण करने वाला भय इसे कभी सम्पूर्ण रूप से भोगने नहीं देता इस बाधा को दूर करने के लिए चिंतन-मनन-अध्ययन के द्वारा ज्ञानी-विज्ञानियों जिन्हें ऋषि कहा गया, ने एक प्रकृति आधारित व्यवस्था का निर्माण किया जिसे हम धर्म कहते हैं. साधारणतः हम धर्म को पूजन पद्धति, पंथ, संप्रदाय, मजहब या रिलिजन समझते हैं लेकिन "धर्म" का अभिप्राय व्यवस्था या जीवन पद्धति धारण करने से है. अर्थात भय मुक्त व्यवस्था ही धर्म है.
 
Last edited:

kamdev99008

FoX - Federation of Xossipians
Messages
6,560
Reaction score
22,618
Points
143
भगवन या भगवान्

भगवान् ही हैं जो समस्त सृष्टि को संचालित करते हैं, लेकिन भगवान क्या हैं... ???

भगवान् = भ + ग + व् + अ + न अर्थात पंचवर्ण या पंचतत्वो का संयोजन

भ = भूमि

ग = गगन

व = वायु

अ = अग्नि

न = नीर

इन्ही पंचतत्वों से सम्पूर्ण सृष्टि का सञ्चालन होता है
 
Last edited:

kamdev99008

FoX - Federation of Xossipians
Messages
6,560
Reaction score
22,618
Points
143
तो मित्रो इन्हीं सब जीवन के पहलुओं को इस कथा के माध्यम से आप सबके सामने रखने का प्रयास करूंगा...... इस कहानी के पात्रों का परिचय उनके कहानी मे प्रवेश और उनके व्यवहार व कर्मों द्वारा होगा.... कोई अन्य परिचय नहीं दिया जा सकेगा

अपडेट का इंडेक्स भी नहीं हो सकेगा.... क्योंकि केवल अपडेट पढ़ने से आप केवल कहानी को ही पढ़ पाएंगे लेकिन अनवरत रूप से सभी पाठकों के कमेंट्स के साथ पढ़ने से कहानी के विभिन्न पहलुओं को समझने में आपको आसानी रहेगी
 
Last edited:

kamdev99008

FoX - Federation of Xossipians
Messages
6,560
Reaction score
22,618
Points
143
अनुक्रमणिका
कहानी के पात्रों का परिचय ....
प्रथम खंड : जीने की राह
द्वितीय खंड : रास्ते और मंज़िलें (पूर्वार्ध)
अध्याय 1अध्याय 2अध्याय 3अध्याय 4अध्याय 5अध्याय 6अध्याय 7अध्याय 8अध्याय 9अध्याय 10
अध्याय 11अध्याय 12अध्याय 13अध्याय 14अध्याय 15अध्याय 16अध्याय 17अध्याय 18अध्याय 19अध्याय 20
अध्याय 21अध्याय 22अध्याय 23अध्याय 24अध्याय 25अध्याय 26अध्याय 27अध्याय 28अध्याय 29अध्याय 30
अध्याय 31अध्याय 32अध्याय 33अध्याय 34अध्याय 35अध्याय 36अध्याय 37अध्याय 38अध्याय 39अध्याय 40
अध्याय 41अध्याय 42अध्याय 43अध्याय 44अध्याय 45अध्याय 46अध्याय 47अध्याय 48अध्याय 49अध्याय 50
द्वितीय खंड : रास्ते और मंज़िलें (उत्तरार्ध)
अध्याय 1अध्याय 2अध्याय 3अध्याय 4अध्याय 5अध्याय 6अध्याय 7अध्याय 8अध्याय 9अध्याय 10
अध्याय 11अध्याय 12अध्याय 13अध्याय 14अध्याय 15अध्याय 16अध्याय 17अध्याय 18अध्याय 19अध्याय 20
अध्याय 21अध्याय 22अध्याय 23अध्याय 24अध्याय 25अध्याय 26अध्याय 27अध्याय 28अध्याय 29अध्याय 30
अध्याय 31अध्याय 32अध्याय 33अध्याय 34अध्याय 35अध्याय 36अध्याय 37अध्याय 38अध्याय 39अध्याय 40
अध्याय 41अध्याय 42अध्याय 43अध्याय 44अध्याय 45अध्याय 46अध्याय 47अध्याय 48अध्याय 49अध्याय 50
 
Last edited:
Tags
adultery incest romance thrill
Top

Dear User!

We found that you are blocking the display of ads on our site.

Please add it to the exception list or disable AdBlock.

Our materials are provided for FREE and the only revenue is advertising.

Thank you for understanding!