• If you are trying to reset your account password then don't forget to check spam folder in your mailbox. Also Mark it as "not spam" or you won't be able to click on the link.

Adultery बीवी के कारनामे (Completed)

Chutiyadr

Well-Known Member
16,889
41,096
259
14
जब मेरी नींद खुली तो मैं एक बड़े से बेड में सोया हुआ था,पता नही साला किसका घर था,डॉ का हो सकता है ,पर इतना शानदार घर ,मैं उठकर बाहर गया देखा तो घर नही बड़ा सा बंगला जैसी जगह थी,एक नोकर ने मुझे देखा और तुरंत मेरे लिए एक चाय ले आया …
“ये किसका घर है और मैं यहां कैसे आया “

“सर ये टाइगर साहब का घर है और आपको डॉ साहब यहां छोड़ के गए रात में कहा था की आप जब जागे तो उनसे मिल लीजियेगा “
मैंने डॉ को फोन लगाया उसने कहा की यार मेरा घर दूर था तो तुझे यहां ले के आ गया तू आजा मेरे पास पर मुझे आफिस में भी काम था मैं घर जाने की बोल वहां से निकल गया,
वहां से मैं सीधे ही ऑफिस गया और तभी मेरा फोन बजता है ,स्क्रीन को देखकर मेरे दिल की धड़कने रुक सी गयी नाम था ,जान और काजल की तस्वीर वहां पर दिखाई दे रही थी ,मैंने काँपते हुए हाथो से फोन रिसीव किया,
“हैल्लो जान कहा हो आप “
“मैं आफिस में हु और तुम कैसी हो ,”मेरी आवज की थकान को जैसे वो पहचान गयी थी ,
“क्या हुआ आपको मैं कल से आपको काल कर रही हु पर आप जवाब ही नही दे रहे हो ,मैंने प्यारे काका को भी काल किया तो पता लगा की आप बिना कुछ बताये ही कही गए हो ,जानते हो कल से कितनी परेशान हु ,अब जल्दी से घर आ जाओ मैं घर आ गयी हु ,”
काजल घर आ गयी है ,क्या वो घर में अकेले है ,मेरे दिमाग में एक ही बात गूंज गयी ,
“हा जान आ रहा हु “
मैंने तुरंत रघु को काल किया वो वो गाड़ी लेकर आफिस आ जाए मैं जल्द ही अपने घर पहुचा वहां देखा तो 2 बड़ी suv खड़ी थी मैंने उन्हें पहचान लिया ये मेरे ससुराल की गाड़िया थी,घर के बाहर के गार्डन में कुछ गार्ड खड़े थे वो भी मेरे ससुराल के थे ,सबने मेरा अभिवंदन किया ,मैं जब अंदर गया तो वहां काजल के बड़े भैया और भाभी जी भी थी मुझे समझ आ गया की ये काजल को छोड़ने को ही यहां आये है मैंने सबका अभिनदंन किया काजल मुझसे तब तक बात भी नही कर रही थी ,वो बड़े ही सलीके से वहां खड़ी थी पास ही प्यारे खड़ा था जिसे मैंने गुस्से से देखा वो बेचारा किचन में चला गया,कुछ देर में काजल मेरे लिए चाय ले आयी और मुझे देखकर एक मुस्कान बिखरा गयी ,वो शरारत भरी मुस्कान मासूम सी मेरी प्यारी काजल ,वाह जैसे कुछ हुआ ही ना हो मैं अपने सभी गम भूलकर बस उसे देखने लगा की काजल की भाभी जी ने हल्के से खासते हुए हमे फिर से होश में लाया ,काजल तो शर्म से पानी पानी हो गयी और फिर किचन के दरवाजे के पास चली गयी वही भाभी और भैया दोनो ही हसने लगे …
“क्यो दमांद जी कहा चले गए थे आप,काल रात से काजल का रो रो कर बुरा हाल है ,आप फोन उठा नही रहे थे और घर में भी नही थे रातो रात हमे यहां आना पड़ा “मैंने काजल की तरफ निगाह घुमाई उसके मासूम से चहरे को देखा उसकी आंखे सचमे थोड़ी सूजी हुई थी मानो रात भर वो रोइ हो ,वो अपना सर झुककर खड़ी थी ,पता नही क्यो कहना तो वो बहुत कुछ चाहती थी पर जैसे अपने भैया भाभी की उपस्थिति में कुछ नही कह पा रही थी ,मैं कुछ बोलने ही वाला था की भैया बोल पड़े
“देखो आकाश हमारी एक ही बहन है और हमने इसे बड़े ही प्यार से पाला है ,इसको की बात का दुख ना हो जाय ,ये तुमसे बहुत प्यार करती है और कल से ये तुम्हारे लिए ही परेशान है ,इसमें हम सबकी जान बसती है ,तुमसे हाथ जोड़कर विनती है इसका खयाल रखना “भैया ने अपने हाथ मेरे सामने जोड़ लिए ,मैंने तुरंत ही उनका हाथ पकड़ लिया,उनकी आंखे कुछ नम थी ,
“भैया ये आप क्या कह रहे है ,मुझसे सचमे कल गलती हो गयी असल में मैं कल अपने एक दोस्त के पास चला गया था और रात भर उसके ही साथ था,मैं काजल का काल देख ही नही पाया था,मुझे माफ कर दीजिये और आप यू हाथ जोड़कर मुझे शर्मिंदा मत करे आप तो बड़े है आपका तो हक है की आप हमे डांटे …”अब भैया के चहरे में कुछ मुस्कान आ गयी थी ,पर वो मुस्कान अब भी फीकी ही थी ,
“आप लोग बातें करे मैं और काजल मिलकर खाना बनाते है,”भाभी जी इतना कहकर वहां से चले गयी और भैया ने मुझे बाहर आने को कहा
हम दोनो गार्डन में बैठे थे
“देखो आकाश काजल अभी भी बच्ची है ,और अगर उससे कोई गलती हो जाए तो हमे बताना हम उसे समझायेंगे लेकिन इस तरह रुठ जाना सही नही है ना “भैया की बात से मेरी भवे चढ़ गयी
“मैं काजल से नाराज नही हु भैया “
“ह्म्म्म देखो काजल ने अपनी भाभी को बताया था की तुम कुछ दिनों से थोड़े खोये खोये रहते हो और काजल के जाने के बाद से तुमने उससे फोन पर भी बात नही की ,और ये कल का किस्सा तुम एक क्लब में जाकर दारू पी रहे थे ,ये सब क्या है ..”मैंने उन्हें आश्चर्य से देखा
“हा कल मेरा एक दोस्त वही था जहा बैठकर तुम दारू पी रहे थे ,और साथ में वो तुम्हारा दोस्त भी था ,उसने मुझे ये बताया तो मुझे समझ आ गया की काजल और तुम्हारे बीच कुछ ठीक नही है ,क्योकि जहा तक मैं तुम्हे जनता हु तुम तो शराब को हाथ भी नही लगाते क्यो सही हैहै ना “
मुझे समझ नही आ रहा था की मैं क्या कहु
“भैया वो दोस्त ने मुझे जबरदस्ती पिला दी थी “
“उसने ये भी बताया की तुम दोनो में कुछ झगड़ा हो रहा था,और तुम पहले से वहां बैठे थे ,मैंने ये बात काजल को नही बताई पर तुम मुझे सच सच बताओ सब ठीक तो है ना “
“हा भैया सब ठीक है ,डरने वाली कोई भी बात नही है और रही काजल की बात तो मैं उसे अपनी जान से भी ज्यादा प्यार करता हु ,मैं कभी उसे दुखी नही करूँगा,और रही काल की बात तो वो कुछ अलग मेटर है ,मेरे और मेरे दोस्त के बीच की आप को चिंता की जरूरत नही है वो कल ही हमने सॉल्व कर लिया था,”
“तुम्हे अगर कभी भी हमारी जरूरत पड़े तो बिना झिझक कहना यहां हमारी बहुत पहचान है और तुम अब हमारे परिवार हो ठीक है ,किसी नेता या अधिकारी कोई दिक्कत देता है तो उसे हम सम्हाल लेंगे “भैया को मैंने बड़े प्यार से देखा
“नही भैया सब कुछ ठीक है यहां काम संबंधित कोई भी परेशानी मुझे नही है ,आप चिंता ना करे “
भैया अब थोड़े से निश्चिंत दिख रहे थे ,हम बैठे युही इधर उधर की बाते करने लगे ………..
 

Chutiyadr

Well-Known Member
16,889
41,096
259
15
भैया भाभी के जाने के बाद काजल और मैं एक अजीब सी और अनकही सी खामोशी का जन्म हो गया,मैं कुछ बोल नही पा रहा था और काजल अपनी नम आंखों से मुझे देखे जा रही थी….उसका भोलापन साला दिल को चीरने वाला होता है..वो कभी भी मेरे सामने किसी को भी तजव्वो नही देती,यही मुझे उसे प्यार करने पर मजबूर कर देता है.प्यारे की आंखों में एक चमक मैंने देखी थी,जो काजल के आने पर थी ,पर काजल अभी भी उसे कोई भी भाव नही दे रही थी,वो उससे बात करने की कोशिस करता पर वो मेरे बारे में ही पूछे जा रही थी…उसने काजल को सब बाता दिया की कैसे मैं आजकल ज्यादा गुस्सैल हो गया हु ,कैसे मैं उसे बिना बात भी चिल्ला देता हु…
प्यारे मेरी शिकायत कर रहा था पर काजल के लिए ये एक गंभीर बात थी वो मेरी चिंता में थी की आखिर इसे हुआ क्या है……..
मिया बीबी के बीच खामोशी रहे भी तो कब तक,जबकि वो एक दूजे को प्यार करते हो ,ये खामोशी हम दोनो के लिए ही जानलेवा थी…खाना हैम खा चुके थे,प्यारे सभी काम कर जा चुका था,काजल बिना बोले मेरे पास आकर खड़ी हो गयी ,हमारी नजर मिली उसके आंखों का आंसू मेरे दिल को पिघलने के लिए काफी था..
वो कैसे दिख रही थी?????

भीगी हुई आंखों के साथ मासूम काजल अग्रवाल को देख लो..चहरे से मासूमियत टपकती हुई सी,वो मुह खोले तो कोयल बोले,वो हँसे तो मोती शरमाये,प्यारे से चहरे पर मायूसी भी बड़ी प्यारी लग रही थी…
मुझसे रहा नही गया और मैं हाथ फैला कर उसे अपने पास आने को कहा,वो जोरो से रोती हुई मेरे सीने से लिपट गयी….
इतनी शांति….इतना प्यार ……इतनी कोमलता…..waaaahhhhhhh
वो मुझे प्यार से मारने लगी,
“क्या हो गया था आपको,क्यो कर रहे थो इतना गुस्सा…और जब से आयी हु प्यार से बात भी नही की,और ना ही काल न msg क्या हो गया…..”
अब इस पगली को क्या बताता की क्या हो गया है,जिसके कारण इतना तकलीफ में हु वही पूछ रही है की क्या हुआ…
लेकिन पूरा नही आधा सच तो बोल गया…
“तुम नही थी ना मेरे पास इसलिए…बेचैन हो गया था ,कही मन नही लग रहा था”
काजल ने मेरे आंखों में देखा,साला प्यार तो सच्चा था मेरा जो मेरी आंखों से भी उसे दिखता था…उसके आंखों में रुके आंसू फिर से हल्के हल्के से बहने लगे..वो मुझे बस थोड़ी देर देखती रही और मेरे ऊपर कूद पड़ी…मेरे गालो को होठो को ऐसे चूमना शुरू कर दिया जैसे मानो जन्मो की प्यासी है,
“अब कही नही जाऊंगी मेरी जान आपको छोड़कर “
उसके बच्चों वाली हरकत से मुझे हसी आ गयी,वो मेरे कंधे पर सर रखकर बैठ गयी…मैंने भी उसे अपनी बांहो में समा लिया…
मैं पुरानी बाते बस एक ही पल में भूल गया,मुझे पता था तो बस काजल का प्यार…
मैं उसके बालो को सहलाता हुआ वहां बैठा था की एक हल्की सी आहट ने मेरा ध्यान खिंचा…
msg का छोटा सा रिंगटोन..काजल का मोबाइल मेरे बाजू में ही पड़ा था,काजल ने उसे उठाया देखा और बिना किसी भी एक्सप्रेशन के ही उसे फिर से अपने बाजू में फेक दिया…वो पहले के ही तरह अपनी आंखे बंद कर मेरे बाजुओ में खुद को छोड़ गयी,
पर मैं अब वो नही था जो कुछ ही पलो पहले था मेरा ध्यान उस मोबाइल की तरफ गया…वो फिर कुछ जला इसबार टोन नही बजा शायद काजल ने उसे साइलेंट में डाल दिया था,वो बस जलता और बज जाता,मुझे आभस हो गया की लगभग 5 msg आ चुके थे…पर काजल का ध्यान वहां नही था..
थोड़ी देर में काजल और मुझे प्यार दे देखने लगी,उसकी आंखे कह रही थी की वो क्या चाहती है,प्यार ..?????
या सेक्स..?????
जो भी हो बस मुझे ये समझ आ चुका था की उसकी वो नशीली आंखे अब मुझे अपनी ओर खिंच रही है,उसके देह से उठाने वाली महक बता रही थी की वो मुझे आकर्षित कर रही है…वो मेरे गालो को प्यार से सहलाई फिर मेरे होठो के पास अपने होठ लाकर रुक गयी,शायद उसे मेरे एक्शन का इंतजार था…पर मैं बस मुस्कुरा दिया…
“क्या हुआ आप ……..”काजल बस इतना कह मुझसे दूर हो रही थी पर मैंने उसकी कमर को जकड़ लिया और अपनी ओर खिंचा…
“आउच “वो शरारती नजरो से मुझे देखने लगी,दोनो के ही होठो पर एक मुस्कान थी जैसे की हम दोनो ही जानते थे की आगे क्या होने वाला है…बड़े धीरे से उसके होठो तक अपने होठ लाये और उसके होठो को अपने दांतो में जकड़ कर खिंच दिया…
“आआआआआआहहहहहहहह “मुझे मजा आने लगा,काजल ने शिकायत भरे लहजे से मुझे देखा
मैं उसके नितंबो के नीचे अपना हाथ डालकर उसे उठा लिया और बेडरूम की तरफ जाने लगा ,वो मेरे होठो अपने होठो से भरकर चूसने लगी…दोनो ही अब डूबना चाहते थे कोई भी सब्र अब नही था,….हम दोनो साथ ही पलंग पर लुडकगये
किस ने उत्तेजना को बढ़ाया और मैं उसके बड़े बड़े स्तनों को दबाने लगा,उसकी आहो की मधुरता ने हमारे जिस्म की आग को भड़का दिया था,मैं अपने कपड़े उतारने लगा पर वो मेरा हाथ खिंच कर अपने स्तनों पर ले आयी और खुद मेरे कपड़े खोलने लगी,उसकी बेताबी देखकर मुझे हसी आ गयी और वो मुझे देखकर शर्मा गयी…पर उसने मेरे कपड़े नही छोड़े और मेरे जीन्स के ऊपर से दिखते मेरे कसे हुए लिंग को अपने हाथो से दबा दिया…..
“ooooohhhh आआआआहहहह “अब मेरी बड़ी थी सिसकी लेने की ,उसने जल्दी ही मुझे नंगा कर दिया था मेरे लिंग को अपने हाथो से छोड़ ही नही रही थी उसकी बेताबी ने मेरा हाल बुरा कर दिया था,वो अपने होठो को खोलकर मेरे लिंग को अपने होठो से रगड़ने लगी……हे भगवान ये क्या कर रही है,,,…मेरी हालात इतनी खराब थी की मैं अब ही निकल जाऊ पर वो तो पागलो की तरह उसे चूमे जा रही थी…उसने मेरे सुपडे की चमड़ी को पीछे खिंचा और उसे अपने मुह में लेकर चूसने लगी,
“मादरचोद….”मेरे मुह से अनायास ही निकल गया ,इतना मजा तो मैंने फील ही नही किया था,मैं लगभग छटपटा रहा था और वो मुझे देखकर एक स्माइल देती है,मैंने प्यार से उसे देखा उसका सर सहलाया और उसने फिर से मेरे लिंग को चुसान शुरू कर दिया…ये असहनीय था,मेरे सब्र की इन्तहां हो चुकी थी और में इतने दिनों से भरा हुआ सीधे अपनी धार उसके मुह में छोड़ता गया,मैं हफ्ता हुआ उसके सर को नीचे कर उसे देखा एक बून्द भी उसके मुह के बाहर नही था,यानी सब उसने पी लिया था…क्या हो गयी है मेरी काजल मुझे होश आया पर उसके चहरे पर आयी एक चमक………..
वो मुझे नीचे खीचने लगी और मेरे होठो से अपने होठो को मिला दिया मैं अपने ही वीर्य के बदबू या खुसबू जो भी कह लो को महसूस कर पा रहा था,साथ ही उसके स्वाद को भी जो उसके होठो पर अब भी लगा था………
थोड़ी ही देर में मेरे लिंग ने फिर से एक फुंकार मेरी इसबार मैं बिल्कुल भी बेताब नही था पर काजल थी…उसकी बेताबी मुझसे छिपी नही थी …मै उसे चिढ़ाने के लिए वहां से उठाने लगा वो मुझे खिंच कर अपने ऊपर ले आयी और अपनी साड़ी को घुटनो के ऊपर तक ले आयी मैं उसे खोलने की कोशिस कर रहा था पर काजल मुझसे खिंच कर अपने ऊपर ले आयी
“अभी मत खोलो न अभी जल्दी करो “
वो अपनी पेंटी भी नही उतारना चाहती थी उसने उसे साइड कर दिया और मेरे लिंग को अपनी गुफा के पास लाकर टिका दिया…
वो जैसे आग की भठ्ठी हो ,इतनी गर्म लेकिन इतनी गीली थी की मुझे आभस हो चुका था की काजल की हालात क्या है ,मेरा लिंग बिना किसी भी ज्यादा मेहनत के ही उसके अंदर जाने लगा,गुफा की गर्मी ने मेरे लिंग को और भी कड़ा कर दिया था,मैं स्पीड पकड़ कर उसे किसी पिस्टन से पिसे जा रहा था….
“आह जान आ आ आ आ जान ओ ओ हो “
सिसकिया,और कामरस की थपथप,चूड़ियों की एक ही लय में खनकार,उनके माथे का मोटा सिंदूर अब उसके पसीने से फैल गया था ,माथे की बिंदिया कुछ टेढ़ी सी हो चली थी ,ब्लाउज़ को अब भी उतारा नही गया था जिससे उसके ऊपर गहरे सिलवट पड़ रहे थे……मैं एक बार झड़ चुका था मैं एक खिलाड़ी सा खेल रहा था पर काजल को तो प्यास बुझाने की ऐसे बेताबी थी की वो जोरो जोरो से चीखने लगी थी…उत्तेजना उसके शिखर पर पहुची और वो अपने चिरपरिचित अंदाज में मेरे पीठ पर अपने नाखुनो से गहरे घाव करते हुए झाड़ गयी……
ऐसी बरसात उसके योनि से हुई की जैसे सदियों से पानी भरा हो और आज बांध टूट गया….मैं अब भी अपना पिस्टन जारी रखे था,कुछ देर में वो भी थोड़ी सी एक्टिव हुई और दोनो ही साथ झाड़कर एक दूसरे से लिपट गए…….
इतने दिनों के बाद ऐसा सकून मिल रहा था…शायद दोनो ही ऐसे तड़फ रहे थे….दोनो ही इस घमासान प्यार की लड़ाई से थककर चूर हो चुके थे ….हम दोनो एक दूजे से लिपटे हुए थके से बस सो गए……मीठी नींद थी आज.. मेरी काजल मेरे बांहो में थी ………..
 

Chutiyadr

Well-Known Member
16,889
41,096
259
16
जब मेरी नींद खुली तब भी काजल मेरी बांहो में थी मैं तो खुस था बहुत खुस था,मैं उसे हल्के से अपने से अलग किया और बाहर आया देखा तो काजल का मोब अभी भी वैसे ही पड़ा था,मुझे बहुत ही खुशी हुई और मैं जल्दी से उसे उठा लिया,देखा तो कुछ msg आये थे .मैंने उसे खोला तो ये प्यारे के msg थे…
“बहुरानी आज आओ ने मेरे पास चाय पीने”
“बाहुरानी जवाब क्यो नही दे रही हो<”
“क्या हुआ गुस्सा हो क्या”
“क्या हुआ”
“अगर मुझसे कुछ गलती हुई है तो मुझे माफ़ कर दो”
इतने msg तो काजल ने पड़ लिए थे ,पर कोई भी रिप्लाई नही था,लेकिन एक और नंबर से कुछ msg आये थे नाम था रॉकी…
अब ये साला कौन है,अगर मैं उसे खोलता तो काजल को पता चल जाता इसलिए मैंने उसे नही छेड़ा बस जो आखिरी msg था वो दिखा रहा था,कॉल मी टुमारो….
चलो एक बार काजल के पड़ने के बाद मैं पड़ लूंगा…..
मैं जाकर फिर से सो गया…..
सुबह वही पुराना काम धाम…आज फिर मैंने अपने लेपटॉप को ऑन कर छोड़ दिया और वीडियो रेकॉर्डर ऑन कर दिया…
आफिस में जाकर थोड़ा सा मन भागता रहा पर क्या कर सकता है….तभी काजल के भैया का काल आ गया…
“हैल्लो आकाश कैसे हो “
“अच्छा हु भैया आप बताइये”
“अरे यार तुमसे एक बात करनी थी जल्दीबाजी में भूल ही गया था…”
“हा बोलिये ना”
“असल में बात ऐसी है की काजल सोच रही थी की वो शहर में अपना काम शुरू कर दे,तुम्हारे क्वाटर से लगभग 25 किलो मीटर की दूरी होगी वो रोज कार से आ जा सकती है,और वो वहां घर में अकेले भी बोर हो जाती होगी,तो मैं भी उसे हामी भर दिया है…मैं वहां एक पुराना होटल पसंद किया है अभी तो वो घाटे में है,पर काजल का मानना है की वो उसे फिर से फायदे में ला सकती है…तो अगर हम उस होटल को खरीद कर उसे चलाये तो कैसा रहेगा…और ऐसे भी काजल की होटल मैनेजमेंट की डिग्री कब काम आएगी…”
मैं तो सोच में ही पड़ गया,कभी सोचा भी नही था की कोई होटल खोलूंगा,साला मैं ठहरा मिडिल क्लास और सर्विस क्लास का आदमी मेरे पास इतने पैसे भी कहा की मैं ये सब सोच सकू…
“भैया पर होटल खरीदना मतलब…….यानी की इतना पैसा मेरे पास…”
“अरे यार तुम भी ना….पैसा मैं लगाऊंगा काजल को बस वहां का काम देखना है…”
“हा भैया वो तो ठीक है पर शहर यहां से दूर है और काजल कार से …”
“हा तुम फिकर मत करो एक कार खरीद लेंगे और तुम्हारे ही इलाके में हमारा एक पुराना बाँदा रहता है ,काजल को कहा था की उससे मिल कर सब सेट कर ले,शायद वो आज उससे मिलने जाय हो सके तो तुम भी साथ चल देना,एक बार होटल को देख भी लो ,उस बंदे का नाम है रॉकी वो भी वही अपने मा बाप के साथ रहता है और शहर में एक जिम चलाता है,उसके चाचा हमारे खास दोस्त है तो अगर वो भी हमारे साथ आ जाए तो काजल को भी सहूलियत हो जाएगी ठीक है ना…..बाकी तुम्हारे ऊपर है की क्या करना है…कम से कम जाकर एक बार मिल तो लो….”
“हूमममममम ठीक है भैया…”
मैंने फोन रखा ही था की काजल का भी काल आ गया..
“सुनिए ना आज थोड़ा जल्दी आ सकते है क्या “
“क्यो”
“अरे भैया आपको फोन नही किये थे क्या…होटल के बारे में”
“हा किये थे पर तुम नही बता सकती थी “
मैंने झूठे गुस्से में कहा,लेकिन वहां से एक हल्की हसी आयी
“आप ने बताने कहा दिया” अब वो मुस्कान मेरे भी होठो पर थी
“आज जल्दी आ जाइये वो भैया किसी को हमसे मिलने को भेज रहे है हो सके तो आज होटल भी देखने चले जाएंगे”
“ओक्के जान “
“ऊऊऊमम्ममआआआ “
“लव u बेबी ऊऊऊमम्ममआआआ”
मैं जल्दी इस घर पहुचा पहले तो अपना वीडियो बंद करके उसे अपने मोबाइल में रख लिया फिर काजल के रॉकी को काल करके जल्दी आने को कहा आखिर थोड़ी ही देरमें रॉकी वहां आ गया……….
दिखने में 6 फुट लंबा और मसलमेंन रॉकी किसी हीरो से काम नही लग रहा था ,मुझे तो यकीन नही आ रहा था की ये हमारे इलाके का लड़का है,किसी मॉडल की तरह उसकी पर्सनाल्टी देख कर मैं थोड़ा सा घबरा भी गया क्योकि काजल उसके साथ काम करने वाली थी…वो बड़े ही नम्रता के साथ हम दोनो से मिला,

“तो काजल मेडम कब जाना है होटल देखने “
काजल उसकी बातो से हस पड़ी
“अरे तुम मुझे मेडम क्यो बोल रहे हो,तुम तो उम्र में भी मुझसे बड़े हो,जस्ट काल मि काजल ओके “
रॉकी के चहरे पर एक मुस्कान आ गयी
“ओके “
मैं थोड़ा से नर्वस था,पर क्या करता जैसे तैसे अपने अंदर के उस भाव को छुपा रहा था,
“हमे आज ही चलना चाहिये वहां,क्या ही फिर मुझे भी टाइम नही मिल पायेगा “
दोनो ने मुझे देखा और अपनी हामी भरी
“ओक्के सर “
:”अब यार मुझे भी तुम आकाश ही कहो “
“नही सर आप तो मुझसे बड़े भी है ,आपका नाम लेना ठीक नही लगेगा मैं आपको सर ही कहूंगा “
रॉकी के यू मुझे तजब्बो देने से मेरे अंदर की इन्फिरियरटी थोड़ी काम हुई…
हम शहर पहुचे,होटल सच में बहुत ही बड़ा था पर शायद कई दिनों से बन्द पड़ा था.
“अच्छा तो इसे बन्द करने की क्या जरूरत पड़ गयी,”
एक स्वाभाविक से प्रश्न मेरे मन में आ गया
“वो हुआ यू की मालिक ने इसपर खर्च तो बहुत किया पर ये छोटा सा शहर है और यहां लोग सुविधाओ से ज्यादा पैसे की किफायत देखते है ,ऐसे भी यहां मार्किट इतने बड़े होटल के लिए नही है”
रॉकी ने अपनी बात रखी ,लेकिन काजल शायद इस बात से सहमत नही थी
“नही असल में ऐसे जगहों पर होटल की डिमांड ही नही होती ,हमे इसे नए तरीके से चलना पड़ेगा,और इसपर ज्यादा खर्च नही करना है ,हमे यहां ऐसा हेल्थ सेंटर खोलना चाहिए जिसमे सभी लोग आ सके मतलब जो यहां के लोकलर है,वैसे ही यहां का खाना ऐसा हो और बजट में हो ,बार की सुविधा हो और बजट में हो तो लोग यहां रुकने के लिए शायद नही आएंगे पर ये उनके लिए अच्छा स्टैंडर का और किफायती साबित होगा….
धीरे धीरे लोगों को अगर अच्छे चीज की आदत लग गयी तो हम अपना दाम भी बढ़ा सकते है….”
काजल बिल्कुल ही उस जगह पर रम गयी थी और अच्छे से एक एक चीजो को देख रही थी मुझे तो ऐसे भी बिजनेस की कुछ भी समझ नही थी तो मै वहां से अलग ही रहने की सोची ,रॉकी और काजल दोनो ही एक दूसरे में मस्त थे और एक दूसरे को बहुत कुछ समझा रहे थे…मैं उन्हें देखे जा रहा था ,शायद ये पहली बार था जब मेरे रहते भी काजल मुझसे ज्यादा किसी और को तजब्बो दे रही थी पर ये बिज़नेस की बात थी और मैं था इसमें कच्चा तो मुझे सब ठीक ही लगा…….
 

Chutiyadr

Well-Known Member
16,889
41,096
259
17
मैं वापस आकर बीडीओ को देखने लगा ,कुछ खास था ही नही काजल की वही बात पर वो आज दिन भर से कमरे में ही थी ,यानी वो प्यारे के पास नही गयी ये बात दिल को बहुत ही सुकून देने वाली थी….काजल आकर मुझसे लिपट गयी,
“जान तुम्हे वो साइट कैसी लगी”
“अरे जान मुझे तो इसके बारे में कुछ भी नही पता मैं क्या बताऊ “
काजल के आंखों में शरारत थी मुझे पता था की क्या होने वाला था,वो मुस्कुराते हुए मुझे देखने लगी,
“अच्छा सुनो ना मेरा काम करना आपको पसंद है ना ,आप बोलोगे तो मैं इस प्रोजेक्ट को बन्द करवा दूंगी “
वो सच में बहुत ही सीरियस थी
“पागल हो गयी हो क्या,तुम यहां बैठे बैठे ऐसे भी बोर हो जाती होगी वहां तुम्हारा टाइम पास भी हो जाएगा ,और ऐसे भी रॉकी भी तो तुम्हारे साथ बहुत ही हेंडसम है साला ,देखो कही उससे प्यार ना हो जाय तुम्हे “
मैं तो मजाक में कहकर हसने लगा लेकिन जब मेरी नजर काजल पर पड़ी तो मेरा दिल घबरा गया उसकी आंखे लाल थी जैसे वो मुझे गुस्से से घुरि जा रही हो,

“क्या हुआ जान “
“आप ऐसे सोच भी कैसे सकते है की मैं आपके सिवा किसी से भी प्यार करूँगी ,मेरे ऊपर आपका बिल्कुल भी भरोसा नही है क्या…”वो रोने लगी मैंने तो बस मजाक किया था और वो लड़की ऐसे बोल रही थी जो कभी मेरे ही नॉकर से साथ …..
“अरे नही जान मैं तो बस मजाक कर रहा था तुम तो “मै काजल के होठो को चुमने लग उसके गालो से गिरने वाले एक एक बून्द आंसुओ को पीने लगा…
“सॉरी मेरी जान “मैंने काजल के होठो में अपने होठो को भरकर एक जोरदार किस किया और तबतक किया जबतक की उसका रोना बंद नही हो गया वो भी मेरे बालो पर अपना हाथ रखकर उसे सहलाने लगी…..
थोड़ी देर में जब हम दोनो अलग हुए
“जान एक बात पुछु इसबार बुरा मत मानना “
“हा बोलो पर याद रखना प्यार तो आपसे ही किया है और हमेशा आपसे ही करूँगी “
“अच्छा लेकिन अगर मानो वो पसंद आ गया तो “
“पसंद तो वो मुझे अब भी है ,पसंद और प्यार में बहुत फर्क होता है समझे “
काजल ने मेरे नाक को पकड़कर हिला दिया ,पर मैं थोड़ा गंभीर था
“और सोचो अगर तुम्हारे बीच कुछ हो गया तो “
काजल ने मुझे घूर कर देखा ,
“जान मैं आपकी बीबी हु,और मैं सिर्फ और सिर्फ आपसे ही प्यार करती हु,और रही कुछ होने की बात तो मैं भी एक इंसान हु हो सकता है की मुझसे कुछ गलती कभी हो भी जाय तो भी मैं आपसे ही प्यार करूँगी कभी भी आप ये मत सोचना की मैं आपसे प्यार नही करती ……………..मैं आपकी हु जान सिर्फ आपकी हो सकता ही कोई मेरा जिस्म ले ले पर मेरा मन हमेशा आपका ही रहेगा और वो आपसे कोई भी नही छीन सकता ……….”काजल मुझसे ऐसे लिपट गयी जैसे किसी पेड़ से कोई लता लिपटी हो…वो मेरे सीने से अपने सर को रगड़ने लगी…
मेरा मन उसकी बातो से बहुत हल्का हो चुका था पर एक सवाल मेरे दिल में था..काजल की बात का मतलब क्या हुआ,क्या वो अब भी किसी के साथ …मतलब की वो मुझसे दिल से प्यार करती है पर वो सो किसी के भी साथ सकती है ……
मेरा दिमाग फिर से काम करना बन्द कर रहा था मैंने सोचा की छोड़ो यार पहले तो खुद अपनी जान का मजा लिया जाय बाद में जो लेता है लेने दो ऐसे भी अगर उसे कुछ परेशानी नही है तो मैं उसे क्यो रोकू ऐसे भी प्यार तो वो हमेशा मुझसे ही करती है …………..
18
दिन बीते पर प्यारे और काजल के बारे में कोई भी सुराग हाथ नही आया,प्यारे के चहरे पर ऐसे तो कोई दुख का भाव नही दिख रहा था वो भी मेरे सामने अच्छे से ही व्यवहार करता था,और काजल भी सुबह से शाम तक काम मे ही व्यस्त रहती थी।
सुबह मेरे जाने से पहले ही रॉकी के साथ निकल जाती ,कभी जल्दी आ जाती तो कभी मेरे आने के बाद आती,थोड़ी थकी सी भी दिखती थी पर जो चीज उसमे नही बदली थी वो था उसका मेरे प्रति प्यार और समर्पण,,,,

कुछ दिन बीते थे कि डॉ का काल आया,
“कैसे हो दोस्त आ गयी भाभी”
“हा यार वो तो उसी दिन आ गयी थी जब मैं वहां से आया था,”
“अच्छा है साले तभी मैं बोलू साल कोई फोन कैसे नही कर रहा है,अभी क्या हालत है ,सब कुछ ठीक ही होगा तभी तो तेरा कोई पता नही है अभी तक,,”
“हा भाई सब ठीक ही लग रहा है,कोई भी ऐसी बात तो नही हुई जिससे मुझे कुछ शक हो,”
मैंने पूरी बात डॉ को बता दी,,,
“हूमममममम ये तो अच्छा है कि तू भी समझ गया कि प्यार तो तुझसे ही करती है ,ऐसे मैं उसके कॉलेज इसे कुछ इनफार्मेशन निकले थे ,शायद अब तुझे उसकी जरूरत नही है,”
साला चुतिया फिर से दिल की धड़कने बड़ा गया
“क्या पता चला तुझे”
“वही तेरे बीबी के कारनामे”
अब मेरे माथे में पसीना था पता नही ये डॉ क्या बताने वाला था,मैंने मन मे सोचा की यार ठीक है वो मुझसे ही प्यार करती है ,और हिम्मत कर कह गया
“बता दे यार अब मुझे डर नही वो मुझसे ही प्यार करती है और अब जो भी हो जाय,मैंने फैसला कर लिया है,उसकी खुसी में ही मेरी खुशी है”
मुझे डॉ की जोरो की हँसी की आवाज सुनाई दी,
“मादरचोद तू भी आखिर बन ही गया ना cuckold ,मुझे तो बहुत ही ज्ञान दे रहा था”
डॉ की बात का मुझे बिलकुल भी बुरा नही लगा,
“बे चुतिया,तू चूतिया ही रहेगा….मुझे नही पता कि मैं क्या था और क्या बन गया हूं …पर भाई अब उसके चहरे पर बस खुशी देखना चाहता हु,चाहे वो कुछ भी करे ,फर्क तो मुझे पड़ेगा ही पर क्या पता शायद मुझे भी इसमें वैसे ही मजे आने लगे जैसा उस क्लब वाले बंदे को आया था”
मैंने एक गहरी सांस छोड़ी साथ ही डॉ ने भी ..अब हम दोनों के मन शांत थे,,,
“अच्छा है यार ऐसे भी तेरा दुख देखा नही जा रहा था,तो सुन क्या पता चला है मुझे”
मैं उसकी बातों को ध्यान से सुनने लगा,उसकी हर बात के साथ मेरी आँखें नाम होते जा रही थी और काजल के लिए सम्मान और भी बढ़ने लगा था ,मुझे अब पता था कि वो ये सब क्यो कर रही है,लेकिन फिर भी वो मुझसे इतना प्यार करती है इस अहसास से मेरा दिल बाग बाग हो गया….
“चुतिया तूने जो बात मुझे बताई है उससे मेरा दिल बहुत ही हल्का हो गया है मेरे दोस्त,मेरी काजल का प्यार सच्चा है पर सेक्स की आग उसकी मजबूरी है,कोई बात नही मेरे दोस्त मैं अपनी जान का पूरा ख्याल रखूंगा,पर ये कब तक रहेगा…”
“मुझे नही पता पर मैं काजल से बात कर रहा हु इस बारे में ,मैं उसे नही बताऊंगा की तुझे पता है,अगर वो मेरा साथ दे तो शायद जल्द ही हम किसी ठोस नतीजे में पहुच सकते है”
मेरे दिल का एक बड़ा बोझ हल्का हो गया था ,अब मुझे पता था कि काजल मुझे कितना प्यार करती है और उसकी क्या मजबूरी है,पर एक अजीब सी झुनझुनाहट भी मेरे शरीर मे दौड़ गयी ये सोचकर कि काजल दूसरे मर्दो के साथ….साला क्या मैं सच मे cuckold हो रहा हु…
डॉ से बात करके काजल के लिए दिल मे इज्जत जागी, पर साथ ही एक डर भी था,क्या मैं काजल को संतुष्ट नहीं कर पा रहा,शायद हा भावनात्मक रूप से तो काजल मेरी है पर शायद शारिरिक रूप से उसे और ज्यादा की जरूरत है जो मैं उसे नही दे पाता,या शायद कॉलेज के वो दिन जिसमे काजल ने बहुत ही मजे किये थे या दर्द झेला था (वो तो वही जानती है) ने उसे इस कदर सेक्स के प्रति पागल बना दिया है कि वो अपनो मर्यादाओ से बाहर जाने से नही कतराती…
आखिरकार डॉ ने मुझे फिर से टोका
“क्या हो गया बे किस सोच में पड़ा है”
“यार काजल की खुशी में मेरी खुशी है पर…..”
“पर अब क्या चाहिए तुझे”
“मैं चाहता हु की वो जो भी करे वो कम से कम मुझे पता तो रहे,मैं नही चाहता कि वो किसी मुसकिल में पड़े”
“अच्छा मुश्किल में न पड़े इसलिए या …मजे लेना चाहता है…”
डॉ की तो जोरो से हँसी छूट गयी और मुझे भी बड़ी शर्म महसूस हुई..
“साले मादरचोद “मैंने धीरे से कहा पर डॉ ने इसे सुन के अनसुना कर दिया,
“सुन एक काम कर मैं तुझे कुछ लिंक्स भेजता हु वहां से तू कुछ एप्प्स डाऊनलोड कर ले और ***** इन तरीकों से तू उसके अपने मोबाइल पर पड़ पायेगा,और अपने लेपटॉप से उसके मोबाइल की एक्टिविटी भी देख पायेगा “
वाह ये तो मेरे लिए कमाल ही हो गया
“थैंक्स यार डॉ”
“कोई बात नही बेटा तू भी मजे ले अपनी बीवी के….”
इतना कहकर डॉ जोरो से हसने लगा,साला बड़ा कमीना था पर आज ना जाने क्यों उसके कमीनेपन में मुझे गुस्सा नही आ रहा था,,,,
डॉ के रखने के बाद से ही मैं काम मे भीड़ गया मुझे वो एप्पस अपने मोबाइल लेपटॉप और काजल के मोबाइल में इंस्टॉल करने थे ,काजल के आने के बाद चुपके से सभी काम पूरे कर लिए और उन्हें रन कर दिया,मैंने चेक भी कर लिया कि सभी कुछ ठीक काम कर रहा है या नही,
अब कल की सुबह से ही मुझे मेरी बीवी के कारनामो की खबर रहेगी,सोच के ही मैं बहुत उत्तेजित ही गया और सीधे काजल पर जैसे हमला बोल दिया,आज मेरे उतावले पन से काजल भी चकित थी पर उसे भी इसे देख बहुत मजा आ रहा था….
 

Chutiyadr

Well-Known Member
16,889
41,096
259
19
मैं अपने एडवेंचर से बहुत खुश था है ये मेरे लिए किसी एडवेंचर से कम भी नही था कि अपनी ही बीवी की जासूसी करना वो भी ये जानते हुए की वो किसी और के साथ अपने जिस्म का मजा ले रही होगी या लेने वाली होगी ये अजीब सी चुभन थी और अजीब सा नशा मेरे अंदर भर रहा था मुझे नही पता कि मैं क्या और क्यो कर रहा हु पर ये तो बात पक्की थी कि मुझे इसमें बहुत ही मजा आ रहा था ,
अभी तक जो बात मुझे जल रही थी आज वही बात में मैंने खुशी और खुशी से बढ़कर मजा खोज लिया था ,

ये बदलाव एक दिन में नही आया था इसके लिए कई दिन लगे थे और खासकर डॉ ने जो मुझे दिखाया और समझाया था और काजल की वो प्यार भरी बातें और उसका अतीत ये अभी एक साथ मिलकर मुझे मजबूर कर दिए कि मैं ऐसा ही जाऊ और अपने प्यार को दूसरों के साथ मजे लेते देखु,
शायद उस लड़के की बात सच ही थी कि जब उसे कोई प्रॉब्लम नही है तो आपको क्यो हो रही है,
काजल का मेरे लिए प्यार और सम्मान भी एक कारण था ,अगर वो ये सब ना भी करे तो भी क्या फर्क पड़ता अगर वो मुझे वो प्यार और सम्मान नही देती,मैने अपने कई दोस्तो के मुह से सुना था कि शादी के बाद जिंदगी झंड हो जाती है,पत्नियां प्यार की जगह बात बात पर झगड़े करतीं है,कई तरीकों से मर्द को बांधने की कोसिस करती है और मर्दो का भी इंटरेस्ट अपनी पत्नी पर से उठाना शुरू हो जाता है,और वो दोनो बाहर मुह मरते है,शायद समाज के बंधनों की फिक्र के कारण वो एक दूसरे से जुड़े रह भी जाय तो क्या ,,जिंदगी तो उनकी नरक की तरह हो जाती है,
लेकिन मेरे साथ ऐसा नही था ,बड़ी अजीब बात थी कि जिसे समाज शायद रंडी का दर्जा देता को मेरी पत्नी थी,जिसे बदचलन कहता वो मुझे इतना प्यार और सम्मान देती हैं जो मैंने कभी बजी किसी औरत को अपने पति को देते नही देखा,वो फूल सी खिली हुई और अपनी खुसबू सब तरफ फैला रही थी,मेरे पास दो ही ऑप्शन थे या तो उस फूल को कुचल कर अपना बना कर रखु और उसकी खुसबू को खो जाने दु या उसे युही महकने दु,,,
हा उसकी खुसबू सिर्फ मेरी नहीं रह जायेगी पर वो सदा ही महकेगी,,,, मैंने तो चुन लिया मैं उसे सदा महकता देखना चाहता हु…
काजल के जाते ही मैं ऑफिस पहुचा ज्यादा काम तो नही था इसलिए अपने मोबाइल में उस एप्प को खोलकर देखने लगा कि काजल क्या कर रही है,उसके मोबाइल का एक डुप्लीकेट मेरे मोबाइल में था जिसे मैं चला सकता था,मैं पहले उसके वाट्सअप मेसेज पड़ने की सोची,
प्यारे के कुछ मेसेज थे ,प्यारे से तो पता नही क्यो मुझे छिड़ सी थी पर साले की किश्मत बहुत ही बुलंद थी कि काजल जैसी हसीन परी उसे लाइन दे रही थी,
प्यारे रोज काजल को मनाने की कोसिस कर रहा था पर काजल कोई भी जवाब उसे नही दे रही थी,आख़िरकार उसने अपना दुखड़ा रोना सुरु कर दिया और काजल भी थोड़ी पिघल गयी पर काजल ने उसे सेक्स के लिए साफ मना किया हुआ था,काजल आज रात ही उससे मिलने जाने वाली थी,इसकी मा का साली काजल भी क्या चुतिया वाले काम कर रही है,मेरे दिमाग ने कहा पर साला चड्डी के नीचे से कुछ और ही आवाज आई एक जोरदार झटका मेरे लिंग ने मारा और मेरे होठो में एक मुस्कुराहट सी आ गयी…
दूसरा msg था रॉकी का अभी तो उसके साथ ही था पर ये msg उसने रात में और सुबह किये थे ,कोई प्रॉब्लम वाली बात तो कही दिखाई नही दी पर काजल की तारीफों के पुल उसने बांधे थे,जैसे आप बहुत सुंदर हो,आपका काम करने का तरीका बहुत अच्छा है वगैरह ,मतलब साफ था उसने काजल को लाइन मरना शुरू कर दिया है बस बात थी काजल के हा की ,काजल रिप्लाई में बस कुछ स्माइल लिखकर भेज देती या बस कल मिलते है,….
अब आगे क्या होगा ये तो मुझे नही पता था बस आज शाम का इंतजार जरूर था….
काजल और प्यारे की रंगीन शाम देखने को मैं बेताब हो रहा था मैंने लेपटॉप काजल के आने से पहले ही अपने कमरे के बाहर लेकर उसे ड्राइंगरूम में ऐसे रख दिया कि मुझे किचन का भी कुछ नजारा दिख जाय, लेकिन अगर काजल उसके कमरे में गयी तो….तब तो बस बाते ही सुन पाऊंगा…
जो भी हो मुझे मजा आ रहा था और यही सबसे चौकाने वाली बात थी…
 
Top