Adultery तेरे प्यार मे....

  • You need a minimum of 50 Posts to be able to send private messages to other users.
  • Register or Login to get rid of annoying pop-ads.

Sanju@

Well-Known Member
Messages
2,792
Reaction score
11,286
Points
143
#



धरती की गहराई में मेरे सामने एक बेहद पुराना गड्ढा था जो ईंटो से बनवाया गया था मेहराबदार जैसे की छोटा कुवा हो. उसकी गहराई तो मैं नहीं जानता था पर इतना जरुर था की वो चाहे जितना गहरा हो . उसमे जो सामान था उसकी कीमत बहुत थी . वो गड्ढा ऊपर तक सिर्फ और सिर्फ सोने से भरा था .मैंने अनुमान लगाया यदि ये गड्ढा पांच-छ फूट गहरा भी हुआ तो भी हद, मतलब हद से जायदा सोना था यहाँ पर .



मेरा दिमाग और घूम गया . जंगल में जगह जगह सोना बिखरा हुआ था और दुनिया बहन की लौड़ी चूत के चक्कर में जंगल नाप रही थी . उस दिन मैंने जाना की सबसे बड़ा लालच इस दुनिया में चूत का ही है . बाकी सब उसके बाद . यहाँ पड़े सोने ने अंजू की बात की तस्दीक कर दी थी . पर मेरे सामने एक ऐसा यक्ष प्रशन खड़ा हो गया था की क्या पाने में पड़ा सोना इसका ही हिस्सा था या फिर दो अलग अलग खजाने थे .



मैंने गड्ढे को बंद किया और सुनैना की समाधी के टुकडो पर अपना सर रख कर इस कार्य के लिए माफ़ी मांगी .

“जब यहाँ तक आ ही पहुंचे तो फिर रुक क्यों गए . सोना सामने है ले क्यों नहीं जाते. ”

मैंने पलट कर देखा , राय सहाब खड़े थे.

मैं- ये सोना दुर्भाग्य है , अगर ये शुभ होता तो मुझसे पहले ही कई दावेदार थे न इसके, सुनैना की समाधी के लिए मैं शर्मिंदा हूँ , बाकि ये सोना न पहले मेरा था न आज है जिसका है वो ले जाये .

मैंने राय साहब की आँखों में आँखे मिला कर कहा.

पिताजी- अगर तुम्हे इसकी चाह नहीं तो फिर क्या चाहते हो तुम

मैं- जो मैं चाहता हूँ जल्दी ही ये सारा जमाना जान जायेगा. पर आज अभी इसकी वक्त मैं राय साहब ने जो मुखोटा ओढा हुआ है उस नकाब के पीछे क्या है वो जरुर जानना चाहूँगा.

पिताजी- लफ्जों पर लगाम लगाओ बरखुरदार

मैं- आपने रिश्तो को तार तार कर दिया , हमारे लफ्जों पर भी काबू ये तो नाइंसाफी है राय साहब.

पिताजी- हमारा बेटा हमारी ही आँखों में आँखे डाल कर खड़ा है , जिसके आगे दुनिया झुकती है तुम उस से आँखे मिला रहे हो.

मैं- दुनिया कहाँ जानती है की गरीबो का मसीहा , गरीबो की इज्जत अपने बिस्तर पर लूट रहा है . चंपा के साथ आपने जो भी किया न , मैं कभी नहीं भूलूंगा. आप जानते थे चंपा क्या है मेरे लिए इस घर में केवल दो बेटे ही नहीं थे ,एक बेटी भी थी जिसका नाम चंपा था और उसी बेटी के साथ आपने जो किया न मुझे शर्म है की मैं इस घटिया आदमी का खून हूँ .



“घर में चंपा, बाहर रमा और न जाने कितनी उसके जैसी औरतो ने आपके बिस्तर की शोभा बढाई होगी. जिस चाचा को आपने ये सब करने से रोका था आप भी उसके ही नक़्शे कदम पर चल निकले क्या फर्क रह गया . अरे मैं भी फर्क कैसे होगा, खून तो शुरू से ही गन्दा रहा है हमारा ” मैंने कहा .

राय साहब खामोश खड़े रहे .

मैं- ये ख़ामोशी कमजोरी की निशानी है राय साहब . मैं नहीं जानता आप किस रिश्ते को थाम रहे है किसको छोड़ रहे है पर मैं इतना जानता हूँ किसी भी रिश्ते को आपने इमानदारी से नहीं निभाया . सुनैना से लेकर रमा तक सबको आपने छला है . जो इन्सान खुद राते काली रहा है वो पंचायत में लाली को फांसी की सजा देता है , धूर्तता का चरम इस से ज्यादा क्या होगा.

पिताजी- उस पंचायत में ही हमने तुम्हारे अन्दर के विद्रोह को देख लिया था .हम जान गए थे की आने वाला वक्त मुश्किलों से भरा होगा. हम जो भी कर रहे है , हमने जो भी क्या उसके पूर्ण जिम्मेदार हम है सिर्फ हम और हमें नहीं लगता की हमें तुम्हे या किसी और को सफाई देने की जरूरत है .

मैं- सफाई नहीं मांग रहा मैं, बता रहा हूँ आपको की यदि आज के बाद मुझे भनक भी लगी न की आपने चंपा की तरफ नजर भी उठाई तो मेरा यकीं मानिए वो नजर, नजर नहीं रहेगी फिर.

पिताजी- अपनी औकात मत भूलो कबीर,

पिताजी जैसे दहाड़ उठे.

मैं- ये खोखला रुतबा मैं नहीं डरता इस से. मेरे शब्द अपने कानो में घोल लीजिये . वो दिन कभी नहीं आना चाहिए की मुझे अपने बाप का प्रतिकार करना पड़े.

“कबीर,,,, ” पिताजी ने अपना हाथ उठा लिया गुस्से से पर मारा नहीं मुझे , हल्का सा धक्का दिया और फिर वापिस मुड गए. मैं जान गया था की चोट गहरी लगी है बाप को . पर मैं कितना टालता इस दिन को ये आना ही था .

वहां से आने के बाद मैं सीधा रमा के पुराने घर गया पर वहां भी कोई नहीं था . मैं अन्दर गया . सब कुछ वैसा ही था . अलमारी में मुझे सोने के वो गहने मिले जो कल रात वो पहने हुई थी, पास में ही नोटों की गड्डी पड़ी थी. ये साला हो क्या रहा था इस गाँव में बहनचोद किसी को भी सोने से लगाव नहीं था . और जब जमीन , पैसे, गहनों का लालच न हो तो कारन सिर्फ एक ही हो सकता था नफरत या फिर मोहब्बत.

घर गया तो देखा की पुजारी आया हुआ था . मैंने उसे नमस्ते की और उसके पास बैठ गया .

भैया-भाभी-चाची सब कोई बैठे थे.मैं सोच रहा था की ये रात को क्यों आया था . मालूम हुआ की पुजारी फेरो में लगने वाला सामान लिखवाने आया था . तमाम चुतियापे के बीच मैं भूल ही गया था की ब्याह सर पर है . थोड़ी देर बाद पुजारी चला गया भैया ने मुझसे कहा की दो पेग लेगा पर मैंने मना किया .

“इतनी गहराई से क्या सोच रहे हो ” भाभी ने मेरे हाथ में खाने को कुछ दिया और मेरे पास ही बैठ गयी.

मैं- सोच रहा हूँ की इतने मेहमान आयेंगे शादी में , एक मेहमान मैं भी बुला लू क्या.

भाभी- वो नहीं आएगी

मैं- आप आज्ञा दे तो मैं ले आऊंगा उसे

भाभी- ठीक है , आती है तो ले आ. पर सिर्फ मेहमान की हसियत से. पर दुनिया से क्या कहोगे किस हक़ से लाओगे उसे यहाँ पर .

मैं- आप पूछ रही है ये. उसका हक़ नहीं तो फिर किसका हक़ . वो नहीं तो फिर और कौन . मैं आप से पूछता हूँ, आप हसियत की बात करती है उसे आने के लिए किसी हक़ की क्या जरुरत. वो जिन्दगी है मेरी .

भाभी ने अपना सर मेरे काँधे पर टिकाया और बोली- ले आना उसे, मेरी तरफ से न्योता देना उसे.

मेरी नजर आसमान में धुंध से आँख-मिचोली खेलते चाँद पर गयी. सीने में न जाने क्यों बेचैनी से बढ़ गयी....................
अंजू ने जो कहा था वो सच है कबीर समझदार है और वो समझता है इसलिए सोने का मोह नहीं है बड़े बुजुर्ग लोगो ने सही कहा है कि मिला हुआ सोना दुर्भाग्य लाता है अब ये प्रश्न है कि पानी में जो सोना है वो इसका भाग है या अलग है इन दोनो के बारे में राय साहब को मालूम है लगता है ये सब किसी सिद्धि के लिए तो नही रखा है कबीर ने जो भी राय साहब से कहा है वो सही कहा है क्योंकि वो हमेशा से सब के सामने अच्छे आदमी बनकर अपना रोब जमाए हुए थे । दोनो के रिश्ते पहले जैसे नहीं होने वाले हैं राय साहब ने अपनी बाते मानी है और उनका खुद को जिम्मेदार ठहराया है देखते हैं इनकी भी कोई तो वजह रही होगी
भाभी ने निशा को बुलाने कि हामी भर दी है देखते हैं वो आती है या नही
 
Last edited:
Messages
317
Reaction score
1,569
Points
123
#97

भाभी- कितना चाहते हो उसे.

मैं- जितना तुम भैया को.

भाभी ने मेरे हाथ को अपने हाथ में लिया और बोली- निभा पाओगे उस से. उम्र के जिस दौर से तुम गुजर रहे हो कल को तुम्हारा मन बदल गया तो. मोहब्बत करना अलग बात है कबीर और मोहब्बत को निभाना अलग. तुम जिसे मंजिल समझ रहे हो वो ऐसा रास्ता है जिस पर जिन्दगी भर बस चलते ही रहना होगा. कभी सोचा है की किया होगा जब तुम्हारे भैया को मालूम होगा, जब राय साहब को मालूम होगा.

मैं- भैया को मैं मना लूँगा, और राय साहब को मैं कुछ समझता नहीं

भाभी- अच्छा जी , इतने तेवर बढ़ गए है , डाकन का ऐसा रंग चढ़ा है क्या.

मैं- जो है अब वो ही है .

भाभी- पुजारी से पूछा था मैंने कहता है कोई योग नहीं

मैं- उसके हाथो की लकीरों में मेरा नाम लिखा है , और कितना योग चाहिए पुजारी को .

भाभी- पर मेरा दिल नहीं मानता

मैं- दिल को मना लेंगे भाभी ,

“दिल ही तो नहीं मानता देवर जी ” भाभी ने अपनी गर्म सांसे मेरे गालो पर छोड़ते हुए कहा

मैं- भूख लगी है , कुछ दे दो खाने को .

भाभी- भैया को बुला लाओ मैं परोसती हूँ.

भाभी रसोई की तरफ बढ़ गयी मैं ऊपर चल दिया भैया के कमरे की तरफ. देखा भैया कुर्सी पर बैठे थे.

मैं- खाना नहीं खाना क्या

भैया- आ बैठ मेरे पास जरा

मैं वही कालीन पर बैठ गया .

मैं- क्या आप को मालूम है की सुनैना अंजू के लिए कितना सोना छोड़ कर गयी है .

भैया- क्या तू जानता है की मेरा छोटा भाई, जिसके कदमो में मैं दुनिया को रख दू, वो खेतो पर पसीना क्यों बहाता है .

मैं- क्योंकि मेरे पसीने की रोटी खा कर मुझे सकून मिलता है . मेरी मेहनत मुझे अहसास करवाती है की मैं एक आम आदमी हूँ , ये पसीना मुझे बताता है की मेरे पास वो है जो दुनिया में बहुत लोगो के पास नहीं है .

भैया- अंजू समझती है की वो सोना उसका नहीं है , वो जानती है की वो सोना अंजू को कभी नहीं फलेगा.

मैं-तो उस सोने की क्या नियति है फिर.

भैया- माटी है वो समझदारो के लिए और माटी का मोल मेरे भाई से ज्यादा कौन जाने है

मैं- दो बाते कहते हो भैया

भैया- सुन छोटे, कल से तू ज्यादा समय घर पर ही देना, ब्याह में कोई कसर नहीं रहनी चाहिए .बरसों बाद हम कोई कारण कर रहे है .

मैं- जो आप कहे, पर मैं कुछ कहना चाहता हूँ

भैया- हा,

मैं- ब्याह की रात पूनम की रात है

मैंने जान कर के बात अधूरी छोड़ दी.

भैया - तू उसकी चिंता मत कर , तेरा भाई अभी है . चल खाना खाते है भूख बहुत लगी है .

हम दोनों निचे आ गए. खाना खाते समय मैंने महसूस किया की भैया के मन में द्वंद है , शायद वो मेरी बात की वजह से थोड़े परेशान हो गए थे. मैं भी समझता था इस बात को . उस रात परेशानी होनी ही थी मुझको . पर मैंने सोच लिया था की मैं दिन भर रहूँगा और रात को खेतो पर चला जाऊंगा, यही एकमात्र उपाय था मेरे पास.

खाना खाने के बाद मैं चाची के पास आ गया . मैंने बिस्तर लगाया और रजाई में घुस गया . थोड़ी देर बाद चाची भी आ गयी . और मेरे सीने पर सर रख कर लेट गयी .

चाची - क्या सोच रहा है कबीर

मैं- राय साहब के कमरे में कोई औरत आती है रात को उसी के बारे में की कौन हो सकती है

चाची- शर्म कर , क्या बोल रहा है तू अपने पिता के बारे में

मैं - पिता है तो क्या उसे चूत की जरूरत नहीं

चाची- कुछ भी बोलेगा तू

मैं- मैंने देखा है पिताजी को उस औरत को चोदते हुए

चाची- बता फिर कौन है वो

मैं- चेहरा नहीं देख पाया.

मैंने झूठ बोला.

चाची- घर में इतना कुछ हो रहा है और मुझे मालूम नहीं

मैं- पता नहीं तेरा ध्यान किधर रहता है.

मैंने चाची का हाथ पकड़ा और निचे ले जाकर अपने लंड पर रख दिया.चाची ने मेरे पायजामे में हाथ डाल दिया और अपने खिलोने से खेलने लगी. मैंने चाची के चेहरे को अपनी तरफ किया और उसके होंठ चूसने लगा. आज की रात चाची की ही लेने वाला था मैं पर नसीब देखिये, बाहर से दरवाजा पीटा जाने लगा ये भाभी थी जो रंग में भंग डालने आ पहुंची थी .

हम अलग हुए और चाची ने दरवाजा खोला भाभी अन्दर आई और बोली- चाची , अभिमानु कही बाहर गए है मैं आपके पास ही सोने वाली हूँ. मैंने मन ही मन भाभी को कुछ कुछ कहा .मैं बिस्तर से उठा और बाहर जाने लगा.

भाभी- तुम कहाँ चले

मैं- कुवे पर ही सो जाऊंगा. वैसे भी अब इधर नींद कम ही आती है मुझे.

मैंने कम्बल ओढा और बाहर निकल गया चूत से ज्यादा मैं ये जानना चाहता था की भैया रात में कहा गए. मैंने एक नजर बाप के कमरे पर डाली जिसमे अँधेरा छाया हुआ था , सवाल ये भी था की बाप चुतिया कहा रहता था रातो को .

सोचते सोचते मैं पैदल ही खेतो की तरफ जा रहा था . पैर कुवे की तरफ मुड गए थे पर थोडा आगे जाकर मैंने रास्ता बदल दिया मैंने खंडहर पर जाने का सोचा. हवा की वजह से ठण्ड और तेज लगने लगी थी . मैंने कम्बल कस कर ओढा और आगे बढ़ा. थोडा और आगे जंगल में घुसने पर मुझे कुछ आवाजे आई. आवाज एक औरत और आदमी की थी . इस जंगल में इतना कुछ देख लिया था की अब ये सब हैरान नहीं करता था.

झाड़ियो की ओट लिए मैं उस तरफ और बढ़ा. आवाजे अब मैं आराम से सुन पा रहा था .

“मुझे जो चाहिए मैं लेकर ही मानूंगा, तुम लाख कोशिश कर लो रोक नहीं पाओगी मुझे ”

“मुझे रोकने की जरुरत नहीं तुमको, तुम्हारे कर्म ही तुमको रोकेंगे. ” औरत ने कहा

इस आवाज को मैंने तुरंत पहचान लिया ये अंजू थी पर दूसरा कौन था ये समझ नहीं आया फिर भी मैंने कान लगाये रखे.

“तुम कर्मो की बात करती हो , हमारे खानदान की होकर भी तुमने एक नौकर का बिस्तर गर्म किया , घिन्न आती है तुम पर मुझे ”

“जुबान संभाल कर सूरज , ” अंजू ने कहा.

तो दूसरी तरफ सूरजभान था जो अपनी बहन से लड़ रहा था .

सूरजभान- शुक्र करो काबू रखा है खुद पर वर्ना न जाने क्या कर बैठता

अंजू- क्या करेगा तू मारेगा मुझे, है हिम्मत तुजमे तू मारेगा मुझे. आ न फिर किसने रोका है तुझे .

सूरज- मारना होता तो कब का मार देता पर तुम्हारे गंदे खून से मैं अपने हाथ क्यों ख़राब करू.

अंजू- मेरा सब्र टूट रहा है सूरज. मुझे मजबूर मत कर की मैं भूल जाऊ की तू मेरा भाई है .

सूरज- तुम हमारी बहन नहीं हो. कभी नहीं थी तुम हमारी, तुम बस हमारे बाप की वो गलती हो जिसे हम छिपा नहीं सकते.

तड़क थप्पड़ की आवाज ने बता दिया था की सूरजभान का गाल लाल हो गया होगा.

अंजू- तेरी तमाम गुस्ताखियों को आज तक मैंने माफ़ किया, पर आज इसी पल से तेरा मेरा रिश्ता ख़तम करती हूँ मैं. और मेरा वादा है तुझसे, अगर मेरा शक सही हुआ तो तेरी जिन्दगी के थोड़े ही दिन बाकी रह गए है. दुआ करना की तू शामिल ना हो मेरे दर्द में .


कुछ देर ख़ामोशी छाई रही और फिर मैंने गाड़ी चालू होते देखि . मैं तुरंत झाड़ियो में अन्दर को हो गया की कही रौशनी में मुझे न देख लिया जाए. कुछ देर मैं खामोश खड़ा सोचता रहा की अंजू के सामने जाऊ या नहीं .
Behtareen update...finally Bhabhi ne kuwanr ki KLPD kr hi di...🤣🤣🤣
 

Game888

Active Member
Messages
1,206
Reaction score
3,583
Points
143
भैया- क्या तू जानता है की मेरा छोटा भाई, जिसके कदमो में मैं दुनिया को रख दू, वो खेतो पर पसीना क्यों बहाता है .

मैं- क्योंकि मेरे पसीने की रोटी खा कर मुझे सकून मिलता है . मेरी मेहनत मुझे अहसास करवाती है की मैं एक आम आदमी हूँ , ये पसीना मुझे बताता है की मेरे पास वो है जो दुनिया में बहुत लोगो के पास नहीं है .
heart touching words :cheersbeer:
 

Mr. Unique

New Member
Messages
56
Reaction score
237
Points
34
भाभी ने मेरे हाथ को अपने हाथ में लिया और बोली- निभा पाओगे उस से. उम्र के जिस दौर से तुम गुजर रहे हो कल को तुम्हारा मन बदल गया तो. मोहब्बत करना अलग बात है कबीर और मोहब्बत को निभाना अलग.
Bhabhi ke saath kuch hua hai kya jo Kabir ko gyan pel rahi hai...Abhimanu nahi nibha paya kya pyar ke vaade jo vo kabir ko samjhane lagi hai.

Aur ye saala bhabhi ka character achanak se kaise badal gaya..kyu vo garam saanse chhorne lagi kabir par.
 

Luckyloda

Active Member
Messages
1,653
Reaction score
5,561
Points
143
बहुत ही शानदार अपडेट bhabhi ka acche se Samjhana aur Jab Bhi donon bhaiyon Ki Baat hoti hai To vah Somwar Din Ko Chhu jata hai ab bahan Chod yah Suraj aur ham Jo ka kya Chakkar hai aur bhabhi kyon janbujhkar
 
Tags
adultery romance suspense thriller
Top

Dear User!

We found that you are blocking the display of ads on our site.

Please add it to the exception list or disable AdBlock.

Our materials are provided for FREE and the only revenue is advertising.

Thank you for understanding!