• If you are trying to reset your account password then don't forget to check spam folder in your mailbox. Also Mark it as "not spam" or you won't be able to click on the link.

Adultery जय हो लॉकडाउन!!

a_girl

New Member
31
288
54
हम उत्तर प्रदेश के एक छोटे से शहर बस्ती के रहने वाले है, हमारा शहर एक आम छोटे शहर की तरह था न बहुत उन्नत न बहुत पिछड़ा। और हां एक और बात ये जो ऊपर उम्र लिखी है न वो इसलिए है क्योंकि गांव वगैरह में काफी कम उम्र में ही शादी हो जाती थी। जब मेरी मां की शादी हुई वो 18 साल की थी और पापा 20 के, मां 19 की थी जब मैं पैदा हुई। पापा और चाचा मिल कर एक कपड़ो की दुकान चलाते थे जो काफी अच्छी चलती थी। हमारी खेती भी थी जो सब लोग मिल कर देख लेते थे। खेती में इसलिए और भी आसानी होती थी क्योंकि मां और चाची दोनो का संबंध गांव से था सो वो लोग काफी हद तक खेती के विषय में सब कुछ जानती थी।
मेरी शादी को कुछ ४ साल हो चुके है खैर ये कहानी या यूं कहे की ये घटना मेरे भाई के साथ हुई थी सो आगे की कहानी रवि की जबानी जो की उसने मुझे बताई थी और फिर मैं भी हो गई उसमें शामिल।
 
Last edited:

Anyone

Active Member
1,958
3,011
144
अब आप लोगो की प्रतिक्रिया के अनुसार कहानी आगे बढ़ती रहेगी।
Nice hai dear age likhe aap
 
  • Like
Reactions: Punnu

Rinkp219

Well-Known Member
2,992
4,453
158
मैं एक शादीशुदा लड़की हूं और ये यहा पर मेरी पहली कहानी या कहे मेरे जीवन का एक अंश है। कृपया आप लोग बताए की स्टोरी के साथ फोटो डालू या नहीं।।
Apne papa ko chance dena
 

a_girl

New Member
31
288
54
हमारा घर शहर के लगभग आखरी छोर पर है हमारे घर के पीछे ही सटा हुआ हमारा एक खेत भी है। हमारे घर में एक तरफ किचन बना था बीच में आंगन और दूसरी तरफ हम लोगो के रहने के कमरे नीचे वाली मंजिल में मम्मी पापा का कमरा बीच में एक बैठक और फिर चाची चाचा का कमरा था। ऊपर वाली मंजिल में मेरा कमरा और दो कमरे और थे जिसमे से एक दीदी का था और एक कोई मेहमान वगैरह आया तो उसके लिए पर अब बंद ही रहते थे वो दोनो कमरे।


mils-home
कुछ इस तरह है हमारा घर बस वो जो किनारे चापकल लगा हुआ है उसके ऊपर कोई छत नही है।
आंगन में ही किचन से सटकर चपाकल लगा हुआ था जो बर्तन - कपड़े धुलने व नहाने के काम आता था। पहले हम लोग संडास वगैरह के लिए घर के पीछे की तरफ खेतो में हो लेते थे पर दीदी की शादी के बाद से घर के पीछे ही बाहर की तरफ एक शौचालय बनवा दिया गया था। मैंने जब अपना इंटर कर लिया तो पापा ने मेरा एडमिशन इलाहाबाद विश्वविद्यालय में करवा दिया। मैं बीच में सिर्फ दीदी की शादी में घर आया कुछ दिन के लिए फिर चला गया वापस।
 

a_girl

New Member
31
288
54
अब इतने साल से था बड़े शहर में, मोबाइल था दोस्त थे सो हर चीज के बारे में पता लगा। ऐसा कोई दिन नही बीतता था जब हम दोस्त लोग आपस में सेक्स चूत चूची लन्ड ये सब बातें न करे। एक चीज जरूर हुई थी मेरे साथ, समय के साथ मुझे भरे बदन की औरतें लड़कियों से ज्यादा आकर्षित करने लगी थी यह तक की हमारी मकान मालकिन जब सुबह नहा कर अपने कपड़े फैला कर चली जाती थी तो भरी दोपहर उसकी ब्रा और चड्डी उठाकर मैं मुठ मरता था।


IMG-20210925-210024
 
Top