Incest चोरी का माल

  • You need a minimum of 50 Posts to be able to send private messages to other users.
  • Register or Login to get rid of annoying pop-ads.

Lutgaya

Active Member
Messages
1,723
Reaction score
3,893
Points
143
Last edited:

Lutgaya

Active Member
Messages
1,723
Reaction score
3,893
Points
143
mast maal
धन्यवाद मित्र
साथ बने रहें
कहानी और भी मस्त होने वाली है
 

Lutgaya

Active Member
Messages
1,723
Reaction score
3,893
Points
143
तीन पत्ती गुलाब भाग -9
गौरी को उसके घर के पास ड्राप करने के बाद ऑफिस जाते समय मैं सोच रहा था ‘साली यह नौकरी भी एक फजीहत ही तो है। पता नहीं ये पढ़ाई-लिखाई, नौकरी चाकरी, घर-परिवार, रिश्ते-नाते, शादी-विवाह, बालिग-नाबालिग किस योनि निष्कासित (भोसड़ी वाले) का आइडिया था। आराम से जंगलों या गुफाओं में रहते, कंद-मूल-फल खाते, मर्ज़ी के मुताबिक मनपसंद चूत और गांड मारते, बच्चे पैदा करते और सुकून से मर जाते।’

मैंने बचपन में ‘अलादीन और जादू का चिराग’ नामक एक कहानी पढ़ी थी। जिसमें अल्लादीन जादू का चिराग लेने किसी गुफा में जाता है। वहाँ इंसानों के सिवा नदियाँ, झरने, तालाब, आलीशान मकान, फल और फूलों से लदे सुंदर बगीचे थे।
बस कोई ऐसी ही जगह हो जहाँ मैं गौरी और सुहाना को लेकर चला जाऊँ और फिर उन दोनों के साथ पूरी जिंदगी बिता दूँ। पूरी दुनिया में कितने भयंकर तूफ़ान और जलजले आते हैं। काश! भरतपुर में कोई सुनामी आ जाए। फिर तो मैं बस इस दीन दुनिया को छोड़कर गौरी और सुहाना के साथ किसी अज्ञात जगह पर चला जाऊं जहां हमारे सिवा और दूसरा कोई ना हो।

ऑफिस में किसी काम में मन लग रहा था। बस गौरी के ख्यालों में ही डूबा था। इस साली गुलाबो को भी आज ही बीमार पड़ना था। अगर आधा घंटा और मिल जाता तो बस गौरी फतह अभियान आज ही अपने मुकाम पर पहुँच जाता


कई बार तो मुझे डर सा लगता है और डर के कई वाजिब कारण भी हैं। कहीं मधुर को कोई शक तो नहीं हो जाएगा? कई बार यह भी ख्याल आता है कि कहीं मैं मधुर के साथ धोखा तो नहीं कर रहा हूँ? या गौरी की मासूमियत का नाजायज़ फ़ायदा तो नहीं उठा रहा?

हो सकता है गौरी अति उत्साह में या अनजाने में चुम्बन दे बैठी हो? बाद में उसे अपनी गलती का अहसास हुआ हो या उसे ख़याल आये कि यह सब गलत है तो क्या होगा? क्या पता अब गौरी वापस ही ना आये तो क्या होगा?
वैसे तो इस बात की उम्मीद कम है पर मान लो गलती से उसने मधुर को यह चुम्बन वाली बात बता दी तो? फिर तो निश्चित ही लौड़े लग ही जायेंगे!

मेरे प्रिय पाठको और पाठिकाओ! मैंने अपनी बहुत सी प्रेमिकाओं को खोया है उनको खोने का दर्द मैं ही जान सकता हूँ। जिस प्रकार मैंने अपनी प्रेमिकाओं को खोया है कई बार तो लगता है वास्तव में ही मैं कोई शापित व्यक्ति हूँ जिसे अपनी हर प्रेमिका को अंत में खोना ही पड़ेगा। मैं सच कहता हूँ अब मैं गुलाब के इस तीसरे कांटे की जुदाई का जख्म बर्दाश्त नहीं कर पाउँगा। या खुदा … सॉरी हे लिंग देव!!!! मदद कर!!! अब गौरी को खोने का हौसला मेरे अन्दर नहीं है।

वैसे ज़िन्दगी में परेशानियां ‘चुनौतियों’ की वजह से कम और ‘चूतियों’ की वजह से ज़्यादा होती हैं। साला ये भोंसले भी सुकून से जीने भी नहीं देता। उसे हर समय केवल सेल्स टारगेट्स की ही लगी रहती है। अब उसने एक हफ्ते के टूअर का प्रोग्राम बना दिया है। आप मेरी हालत समझ सकते हैं।

शाम के सात साढ़े-सात का समय रहा होगा। मैं गाड़ी सर्विस के लिए देना चाहता था पर बाद में मैंने अपना इरादा मुल्तवी (प्रोग्राम बदलना) कर दिया। सोचा आज लेट हो गई है कल सुबह टूअर पर जाते समय गाड़ी सर्विस स्टेशन पर छोड़ दूंगा।

रास्ते में मैं मधुर के बारे में सोच रहा था। आज मैं सारी रात मधुर को अपनी बांहों में भरकर हल्का हो लेना चाहता था पर लगता है इन बाबाओं के चक्कर में एक महीने की पनौती लग ही जायेगी। पता नहीं उसके दिमाग में क्या चल रहा है? इस शुक्र और राहू-केतु के चक्कर में किसी बाबा ने ठोक बजा दिया तो मैं तो गली-गली यही गाता फिरूंगा कि ‘मैं लुट गया … बर्बाद हो गया.’ और फिर लोग पूछेंगे ‘कितने आदमी थे?’

गाड़ी पार्क करने के बाद मैं घर की ओर मुड़ने ही वाला था कि सुहाना एक हाथ में टेनिस का रैकेट और दूसरे हाथ में अपने झबरे कुत्ते की जंजीर पकड़े आती दिखाई दी।

हे लिंग देव! आज की शाम को तो तुमने वाकई बहुत ही सुहाना बना दिया है आज तो बहुत अच्छा सगुन हो गया। पिछले 15-20 दिनों में तो इस फुलझड़ी के दर्शन ही दुर्लभ हो गए थे।

सिर पर वही नाईके की टोपी, झक सफ़ेद रंग की स्कर्ट और छोटी सी निक्कर पैरों में स्पोर्ट्स सूज पहने ऊपर से नीचे बस क़यामत। पतली कमर के ऊपर एक जोड़ी सुडौल सांचे में ढली नारंगियाँ और तीखे कंगूरे। कांख के पास पसीने से गीली हुई शर्ट।

मेरा अंदाज़ा है उसकी पिक्की और बगलों में अभी हल्के हल्के मखमली रोयें ही होंगे जिन्हें झांट तो बिलकुल नहीं कहा जा सकता। लम्बी छछहरी गुदाज़ बाहें। कन्धों के ऊपर तक कटे घने काले मुलायम रेशमी बाल और कानों में वही सोने की छोटी-छोटी जानलेवा बालियाँ।

हे भगवान् कितना नयनाभिराम दृश्य था। मेरी आँखें तो उसकी पुष्ट गुलाबी जाँघों से हट ही नहीं रही थी। मस्त हिरनी की तरह कुलाचें सी भरती जैसे ही वो मेरे पास से गुजरने लगी उसके अल्हड़, अनछुए, कुंवारे बदन से आती खुशबू मेरे स्नायु तंत्र को एक ठंडी मदहोश करने वाली फुहार से सराबोर करती चली गई। उसके छोटे-छोटे कसे हुए नितम्बों की थिरकन देखकर तो मेरे दिल की धड़कन बेकाबू सी होने लगी।

मेरा मन तो करने लगा इस फुलझड़ी को बस एक बार बांहों में भरकर चूम लूं! मैं सच कहता हूँ अगर मैं कोई 18 साल का लौंडा लपाड़ा होता तो कब का उसे बांहों में दबोच लेता पर मेरे जैसे सामाजिक प्राणी के लिए यह कैसे संभव हो सकता था? मैं तो बस टकटकी लगाए उसे देखता ही रह गया।

हे लिंग देव! मेरे ख़्वाबों की शहजादी केवल एक कदम के फासले पर थी। मेरा दिल जोर-जोर से धड़कने लगा था। मेरा लंड तो जैसे किलकारियां ही मारने लगा था। मैं सोच रहा था किसी बहाने से उसे थोड़ी देर रोक कर बात कर ली जाए और थोड़ा सा नयन सुख भोग लिया जाए। मैं अभी कुछ सोच ही रहा था कि उसका कुत्ता कुछ सूंघते हुए भों-भों करता मेरी ओर आने लगा।

“नो शुकु! नो!” सुहाना ने इसके गले से बंधी जंजीर से उसे अपनी ओर खींचा।

आज जिन्दगी में पहली बार मैंने सुहाना को इतनी नजदीक से देखा था और उसकी आवाज सुनी थी। आह … कितनी कोमल और सुरीली आवाज थी। जैसे कोई कोयल अमराई में कूकी हो या किसी ने जलतरंग पर कोई मीठी धुन छेड़ दी हो।

पर साले इस पिल्ले को उसकी नज़ाकत का अंदाज़ा कहाँ था? गौरी ने एक बार मुझे बताया था कि इस कुत्ते का नाम शाहरुख खान रखा हुआ है और ये लोग प्यार से इसे ‘शुकु’ बुलाते हैं।

इतने में अचानक कहीं से एक आवारा कुत्ता जोर से भोंकते हुए सुहाना और शुकु की ओर झपटा। उसने पहले तो एक झपट्टा शुकु की ओर मारा और फिर सुहाना के घुटनों और जाँघों पर पंजा मार दिया।
इस अप्रत्याशित घटना से उसके हाथ से जंजीर छूट गई और शुकु खान मियाँ प्यों-प्यों करते हुए कार के नीचे दुबक गए। इस आपाधापी में सुहाना के हाथ में पकड़ा टेनिस बैट भी गिर गया।

सुहाना की डर के मारे चीख सी निकल गयी- मम्मीईई ईईईइ …
उसकी घिग्गी सी बंध गई और वह दौड़ कर मेरे से लिपट गई।

यह सब घटनाक्रम इतनी तेजी से हुआ था कि एक पल के लिए तो मुझे भी कुछ समझ नहीं आया कि यह सब क्या हो गया है।
मुझे तो तब ध्यान आया जब उसने कसकर मुझे पकड़ लिया और उसके दोनों उरोज मेरे सीने से आ लगे। उसकी गर्म साँसें मेरे गले पर महसूस होने लगी थी। उसके दिल की धड़कन इतनी तेज थी कि मैं उसे साफ सुन सकता था।

मैंने अपने एक हाथ से सुहाना की कमर को पकड़े अपने सीने से लगाए रखा और दूसरे में पकड़े बैग से उस कुत्ते को मारते हुए हटाया। इस आपा-धापी में मेरे हाथ में पकड़ा बैग भी गिर गया फिर मैंने ‘हट! हट!’ करते हुए उस कुत्ते को थोड़ा हड़काया।
बैग की मार और उसके गिरने से वह कुत्ता भाग गया।

अब मुझे सुहाना का ख़याल आया। सुहाना अभी भी सुबक रही थी। मैंने धीरे से उसे पुचकारा- अरे कुछ नहीं हुआ डरो नहीं, तुम तो बहादुर लड़की हो.
मेरा एक हाथ उसकी कमर पर था और मेरा दूसरा हाथ अपने आप उसके खरबूजे जैसे नितम्बों पर सरक गया।

हे भगवान् कितनी मादकता भरी हुई थी इन दो गुदाज़ गुम्बदों में। उसके कमसिन और अल्हड़ बदन से पसीने और किसी बॉडी स्प्रे (परफ्यूम) की मिली जुली खुशबू मेरे नथुनों में समा गई। मिक्की और सिमरन के बाद कोई किशोरी लड़की आज मेरे बाहुपाश में सिमटी हुई थी।
मैं सोच रहा था काश! वक़्त थम जाए और मैं सुहाना को इसी तरह अपने आगोश में लिए बाकी की जिन्दगी बिता दूं!

“बस … बस … डरो नहीं यू आर अ ब्रेव गर्ल!” मैंने उसके गालों पर लुढ़क आये आंसुओं को पोछा और फिर उसके गालों पर थपकी सी लगाई।

रुई के फोहे जैसे नर्म गुलाबी गालों पर किसी शबनम की बूंदों की तरह लुढ़क आये आंसू तो रुकने का नाम ही नहीं ले रहे थे। उसके लाल गुलाबी फड़कते होंठ जैसे संतरे की फांक हों। मैं सच कहता हूँ मेरा मन तो उनपर एक चुम्बन ले लेने का करने लगा था।

इतने में आस पास के लोग शोर सुनकर आ धमके। सभी पूछने लगे ‘क्या हुआ? क्या हुआ?’
“कुछ नहीं वो … वो … कुत्ते के कारण थोड़ा डर गई है।”

इतने में संजीवनी बूंटी (सुहाना की मम्मी श्री) आ गई। वह भी थोड़ा घबराई हुई थी। अपनी माँ को देखकर सुहाना मेरी बांहों से निकल कर अपनी मम्मी से जा लिपटी और जोर-जोर से रोने लगी।

“की होलो बेबी?” (क्या हुआ बेबी) शायद उसने बंगाली भाषा में पूछा था।
“से … से … कुकुरा” (वो… वो… डॉगी?)
“आपनी कोथा ओ बीतेंन ना? दिखाबे ना?” (कहीं काट तो नहीं लिया? दिखाओ?” संजया ने घबराए हुए फिर पूछा।

फिर संजया ने उसकी स्कर्ट को थोड़ा ऊपर करते हुए उसके घुटनों और जाँघों को देखा। पता चला कुत्ते के पंजों से सुहाना के घुटनों और जाँघों पर खरोंच सी आयी है और उससे खून भी निकल रहा है। हे भगवान्! रोम विहीन, नर्म, मुलायम, भरी-पूरी पुष्ट स्निग्ध जांघें जैसे उनपर गुलाब का मुलम्मा (परत) चढ़ा हो। जाँघों के संधि स्थल का उभरा हुआ भाग तो जैसे स्पर्श और चुम्बन का का निमंत्रण ही दे रहा था। मैं सच कहता हूँ ऐसी खूबसूरत जांघें तो सिमरन की भी नहीं थी।

“ओह… कामता बा नाखा थेके?” (ओह… मुंह से काटा या पंजों से?)
“आमि … जानि ना?” (मुझे… पता नहीं?)
“ओह… गोड अब क्या होगा? वो मिस्टर बनर्जी भी यहाँ नहीं हैं?” संजया ने बेचारगी से मेरी ओर देखा।
“क… कोई बात नहीं … मैम … आप चिंता ना करें। मैं हूँ ना? गाड़ी निकालता हूँ, अभी डॉक्टर को दिखा देते हैं।” मैंने उसे दिलासा देते हुए कहा।

“नो… मोम… आमि इंजेक्शन पाबेना ना.” (नो… मोम… मैं इंजेक्शन नहीं लगवाऊँगी.) कहकर सुहाना फिर जोर-जोर से रोने लगी।
“इट्स ओके बेबी… प्लीज… कूल डाउन” (ठीक है बेटा … हौसला रखो)

और फिर सुहाना को पास के नर्सिंग होम में दिखाया। डॉक्टर ने अपना उपचार कर दिया था। वापस लौटते समय संजया तो आज संजीवनी बूंटी के स्थान पर शहद की डली ही बन गई थी। उसने हाथ मिलाते हुए इस आपात स्थिति में किये गए इस सहयोग के लिए मेरा धन्यवाद किया और मुझे ‘कभी घर आने का न्योता’ भी दिया।

जिस प्रकार से उसने ‘कभी घर आने का’ न्योता दिया था मैं बाद में कई दिनों तक इस मनुहार भरे न्योते पर गंभीरता पूर्वक विचार करता रहा था। अलबत्ता अगले 5-6 दिन टूअर के चुतियापे में ही निकल गए।

दोस्तो! आप क्या सोचते हैं संजवानी बूंटी ने शिष्टाचारवश (औपचारिकता) ऐसा कहा था या कोई और बात हो सकती है? आप मुझे मेल करेंगे तो मुझे बड़ी ख़ुशी होगी।

मैं जब टूअर से वापस आया तब तक कई चीजें बदल गई थी। मधुर का पुत्रयेष्टि प्रोग्राम शुरू हो चुका था। उसने पास के मंदिर में रोज सुबह-शाम एक-एक घंटे शुक्र के पाठ करने शुरू कर दिए थे और दिन में केवल एक बार हल्का भोजन लेकर व्रत भी करने चालू कर दिए थे। पिछले 5-7 दिनों से शुद्धता की तो वैसे भी कोई समस्या थी ही नहीं और अब उसकी हिटलरशाही के सामने मेरी औकात और हिम्मत उसे अशुद्ध करने की कहाँ थी। हमारे बेडरूम में ही उसने अपने सोने के लिए एक फोल्डिंग बेड अलग से डाल लिया था। शाम को नियमित रूप से गौरी को पढ़ाना भी चालू हो गया था।

ऑफिस में बहुत दिनों बाद कोई ढंग की लड़की ने ज्वाइन किया है। भरी हुई मांग और माथे की बिंदी दर्शाती है कि नई-नई शादी हुई है। रंग रूप तो ठीक-ठाक है पर उसकी लगभग 36-24-36 की फिगर दिलकश ही नहीं जानलेवा है। चलते समय जिस प्रकार उसके नितम्ब थिरकते हैं आप जैसे अनुभवी लोग अच्छी तरह समझ सकते हैं कि यह साली गांड बाजी का मज़ा जरूर लेती होगी वरना इतने खूबसूरत नितम्बों का क्या फायदा।
भोंसले एक हफ्ते के लिए पूना गया हुआ है तो ऑफिस में शांति का माहौल है।

ओह … मैं भी क्या फजूल की बातें ले बैठा। मैं गौरी के बारे में तो बताना ही भूल गया!
गुलाबो की तबियत अब सुधरने लगी थी तो गौरी वापस आ गई है।

गौरी का तो रंग रूप ही निखर सा गया है। अगर मैं कहूं कि अब तो वह रूपगर्विता बन गई है तो अतिशयोक्ति नहीं होगी। अब उसे अपनी सुन्दरता का अहसास होने लगा है और थोड़ी नाजुकी के साथ नखरे भी आने लगे हैं। अब यह उस चुम्बन का असर है या कोई दीगर बात है पता नहीं?

लगता है मधुर ने उसे सजना संवारना सिखा दिया है। वैसे भी नखरे तो जवान लड़की अपने आप सीख ही लेती हैं। कमर तक झूलते बालों को थोड़ा सा ट्रिम करवा दिया है और अब चोटी के बजाय बाल खुले रखने लग गई है। शर्ट या कुर्ते के ऊपर के बटन खुले रखने में अब वो ज्यादा नहीं शर्माती है। माथे पर एक छोटी से लाल बिंदी, कानों में सोने की छोटी-छोटी बालियाँ। साली पूरी मुज्जसमा बनी है।

दोस्तो! आप जरूर सोच रहे होंगे इन छोटी-छोटी बातों का यहाँ लिखने का क्या औचित्य है? क्यों हमारे और अपने लंड को तड़फा रहे हो? साली को पकड़ कर रगड़ क्यों नहीं देते? एक बार थोड़ा सा कुनमुनाएगी और बाद में अपने आप समर्पण कर देगी।
अब वो इतनी लोल भी नहीं है कि तुम्हारी मनसा और नियत अबतक ना समझ पायी हो। स्त्री तो एक नज़र में ही आदमी की नीयत और मनसा दोनों जान लेती है। और फिर अब इस इश्क की आग तो वह भी झेल ही रही होगी।
उसने जिस प्रकार उस दिन चुम्बन में इतनी दिलचस्पी दिखाई थी लगता है अब उससे अपनी जवानी का बोझ संभाला नहीं जा रहा है। तुम मानो या ना मानो उसके मन में भी प्रेम अंकुरित हो चुका है और वह भी इस नैसर्गिक सुख को भोग लेने के लिए उत्सुक और बेजार (आतुर) हो चुकी है। क्यों बेचारी कमसिन बुर को तड़फा रहे हो?

आप अपनी जगह सही हो सकते हैं पर मेरी सोच अलग है। मैं जानता हूँ वह मानसिक रूप से अपने आप को इसके लिए तैयार कर चुकी है। अगर मैं उसे बांहों में भरकर प्रणय निवेदन करूं तो उसके लिए मना करना अब संभव नहीं होगा। वह बहुत ही कम समय में अपना सर्वस्व मुझे बेझिझक सौम्प देगी। वह इस समय तन और मन की एक अजीब सी कश्मकश (धर्मसंकट) में फंसी है। उसका तन इस नैसर्गिक आनंद को भोग लेना चाहता है पर उसका अवचेतन मन और संस्कार उसे ऐसा करने से रोके हुए हैं।

मेरे प्रिय पाठको! आप नारी मन के अन्तःकरण में छिपी भावनाओं को नहीं समझ सकते? मेरी पाठिकाएं इसे बखूबी जानती और समझती हैं। स्त्री जब किसी से प्रेम करती है तो उसमें अपने प्रेमी को अपना सब कुछ सौम्प देने की चाहत सर्वोपरि होती है जबकि पुरुष के मन में प्रथम ख़याल सिर्फ उसे भोग लेने का रहता है। वह सब कुछ पा लेने की चाहत रखता है और स्त्री अपनी सबसे बड़ी ख़ुशी अपने प्रेमी की चाहत को परिपूर्ण करने में महसूस करती है। एक स्त्री और पुरुष की भावनाओं में यही बुनियादी फर्क है।

दोस्तो! मैं गौरी को भोगना तो जरूर चाहता हूँ क्योंकि यह तन और मन दोनों की ही आवश्यकता है। पर मैं इसके लिए किसी भी प्रकार की जोर-जबरदस्ती या जल्दबाजी के पक्ष में बिलकुल नहीं हूँ। मैं कोई उज्जड़, जंगली, गंवार, वहशी या अमानुष व्यक्ति नहीं हूँ जो किसी भी प्रकार का बलात्कार जैसा कृत्य करने पर आमादा हो। मैं तो गौरी के साथ अपने प्रथम मिलन को एक मिसाल और यादगार बनाना चाहता हूँ। मैं चाहता हूँ उसे अपने प्रथम चुम्बन की तरह प्रथम मिलन के अनुभव की स्मृतियाँ भी जीवनपर्यंत रोमांचित करती रहें। और एक सबसे अहम् (विशेष) बात यह भी है कि जब भी वह मेरी पूर्ण समर्पिता बने उसके मन में लेश मात्र भी शंका, झिझक, अपराधबोध महसूस ना हो और ना ही उसके बाद भी पश्चाताप की कोई गुंजाइश ना रहे।

ओह… मैं भी कहाँ दार्शनिक बातें ले बैठा? आइए ‘गौरी फ़तेह अभियान’ का अगला सोपान को शुरू करते हैं। हे लिंगदेव! इस बार इस अभियान के बाकी के सोपान (पायदान) निर्विघ्न सम्पूर्ण कर देना।

प्यारी पाठिकाओ! क्या आप आमीन (तथास्तु) नहीं बोलेंगी???
कहानी जारी रहेगी.
 

Lallu

Dil mai
Messages
642
Reaction score
2,356
Points
123
तीन पत्ती गुलाब भाग -9
गौरी को उसके घर के पास ड्राप करने के बाद ऑफिस जाते समय मैं सोच रहा था ‘साली यह नौकरी भी एक फजीहत ही तो है। पता नहीं ये पढ़ाई-लिखाई, नौकरी चाकरी, घर-परिवार, रिश्ते-नाते, शादी-विवाह, बालिग-नाबालिग किस योनि निष्कासित (भोसड़ी वाले) का आइडिया था। आराम से जंगलों या गुफाओं में रहते, कंद-मूल-फल खाते, मर्ज़ी के मुताबिक मनपसंद चूत और गांड मारते, बच्चे पैदा करते और सुकून से मर जाते।’

मैंने बचपन में ‘अलादीन और जादू का चिराग’ नामक एक कहानी पढ़ी थी। जिसमें अल्लादीन जादू का चिराग लेने किसी गुफा में जाता है। वहाँ इंसानों के सिवा नदियाँ, झरने, तालाब, आलीशान मकान, फल और फूलों से लदे सुंदर बगीचे थे।
बस कोई ऐसी ही जगह हो जहाँ मैं गौरी और सुहाना को लेकर चला जाऊँ और फिर उन दोनों के साथ पूरी जिंदगी बिता दूँ। पूरी दुनिया में कितने भयंकर तूफ़ान और जलजले आते हैं। काश! भरतपुर में कोई सुनामी आ जाए। फिर तो मैं बस इस दीन दुनिया को छोड़कर गौरी और सुहाना के साथ किसी अज्ञात जगह पर चला जाऊं जहां हमारे सिवा और दूसरा कोई ना हो।

ऑफिस में किसी काम में मन लग रहा था। बस गौरी के ख्यालों में ही डूबा था। इस साली गुलाबो को भी आज ही बीमार पड़ना था। अगर आधा घंटा और मिल जाता तो बस गौरी फतह अभियान आज ही अपने मुकाम पर पहुँच जाता


कई बार तो मुझे डर सा लगता है और डर के कई वाजिब कारण भी हैं। कहीं मधुर को कोई शक तो नहीं हो जाएगा? कई बार यह भी ख्याल आता है कि कहीं मैं मधुर के साथ धोखा तो नहीं कर रहा हूँ? या गौरी की मासूमियत का नाजायज़ फ़ायदा तो नहीं उठा रहा?

हो सकता है गौरी अति उत्साह में या अनजाने में चुम्बन दे बैठी हो? बाद में उसे अपनी गलती का अहसास हुआ हो या उसे ख़याल आये कि यह सब गलत है तो क्या होगा? क्या पता अब गौरी वापस ही ना आये तो क्या होगा?
वैसे तो इस बात की उम्मीद कम है पर मान लो गलती से उसने मधुर को यह चुम्बन वाली बात बता दी तो? फिर तो निश्चित ही लौड़े लग ही जायेंगे!

मेरे प्रिय पाठको और पाठिकाओ! मैंने अपनी बहुत सी प्रेमिकाओं को खोया है उनको खोने का दर्द मैं ही जान सकता हूँ। जिस प्रकार मैंने अपनी प्रेमिकाओं को खोया है कई बार तो लगता है वास्तव में ही मैं कोई शापित व्यक्ति हूँ जिसे अपनी हर प्रेमिका को अंत में खोना ही पड़ेगा। मैं सच कहता हूँ अब मैं गुलाब के इस तीसरे कांटे की जुदाई का जख्म बर्दाश्त नहीं कर पाउँगा। या खुदा … सॉरी हे लिंग देव!!!! मदद कर!!! अब गौरी को खोने का हौसला मेरे अन्दर नहीं है।

वैसे ज़िन्दगी में परेशानियां ‘चुनौतियों’ की वजह से कम और ‘चूतियों’ की वजह से ज़्यादा होती हैं। साला ये भोंसले भी सुकून से जीने भी नहीं देता। उसे हर समय केवल सेल्स टारगेट्स की ही लगी रहती है। अब उसने एक हफ्ते के टूअर का प्रोग्राम बना दिया है। आप मेरी हालत समझ सकते हैं।

शाम के सात साढ़े-सात का समय रहा होगा। मैं गाड़ी सर्विस के लिए देना चाहता था पर बाद में मैंने अपना इरादा मुल्तवी (प्रोग्राम बदलना) कर दिया। सोचा आज लेट हो गई है कल सुबह टूअर पर जाते समय गाड़ी सर्विस स्टेशन पर छोड़ दूंगा।

रास्ते में मैं मधुर के बारे में सोच रहा था। आज मैं सारी रात मधुर को अपनी बांहों में भरकर हल्का हो लेना चाहता था पर लगता है इन बाबाओं के चक्कर में एक महीने की पनौती लग ही जायेगी। पता नहीं उसके दिमाग में क्या चल रहा है? इस शुक्र और राहू-केतु के चक्कर में किसी बाबा ने ठोक बजा दिया तो मैं तो गली-गली यही गाता फिरूंगा कि ‘मैं लुट गया … बर्बाद हो गया.’ और फिर लोग पूछेंगे ‘कितने आदमी थे?’

गाड़ी पार्क करने के बाद मैं घर की ओर मुड़ने ही वाला था कि सुहाना एक हाथ में टेनिस का रैकेट और दूसरे हाथ में अपने झबरे कुत्ते की जंजीर पकड़े आती दिखाई दी।

हे लिंग देव! आज की शाम को तो तुमने वाकई बहुत ही सुहाना बना दिया है आज तो बहुत अच्छा सगुन हो गया। पिछले 15-20 दिनों में तो इस फुलझड़ी के दर्शन ही दुर्लभ हो गए थे।

सिर पर वही नाईके की टोपी, झक सफ़ेद रंग की स्कर्ट और छोटी सी निक्कर पैरों में स्पोर्ट्स सूज पहने ऊपर से नीचे बस क़यामत। पतली कमर के ऊपर एक जोड़ी सुडौल सांचे में ढली नारंगियाँ और तीखे कंगूरे। कांख के पास पसीने से गीली हुई शर्ट।

मेरा अंदाज़ा है उसकी पिक्की और बगलों में अभी हल्के हल्के मखमली रोयें ही होंगे जिन्हें झांट तो बिलकुल नहीं कहा जा सकता। लम्बी छछहरी गुदाज़ बाहें। कन्धों के ऊपर तक कटे घने काले मुलायम रेशमी बाल और कानों में वही सोने की छोटी-छोटी जानलेवा बालियाँ।

हे भगवान् कितना नयनाभिराम दृश्य था। मेरी आँखें तो उसकी पुष्ट गुलाबी जाँघों से हट ही नहीं रही थी। मस्त हिरनी की तरह कुलाचें सी भरती जैसे ही वो मेरे पास से गुजरने लगी उसके अल्हड़, अनछुए, कुंवारे बदन से आती खुशबू मेरे स्नायु तंत्र को एक ठंडी मदहोश करने वाली फुहार से सराबोर करती चली गई। उसके छोटे-छोटे कसे हुए नितम्बों की थिरकन देखकर तो मेरे दिल की धड़कन बेकाबू सी होने लगी।

मेरा मन तो करने लगा इस फुलझड़ी को बस एक बार बांहों में भरकर चूम लूं! मैं सच कहता हूँ अगर मैं कोई 18 साल का लौंडा लपाड़ा होता तो कब का उसे बांहों में दबोच लेता पर मेरे जैसे सामाजिक प्राणी के लिए यह कैसे संभव हो सकता था? मैं तो बस टकटकी लगाए उसे देखता ही रह गया।

हे लिंग देव! मेरे ख़्वाबों की शहजादी केवल एक कदम के फासले पर थी। मेरा दिल जोर-जोर से धड़कने लगा था। मेरा लंड तो जैसे किलकारियां ही मारने लगा था। मैं सोच रहा था किसी बहाने से उसे थोड़ी देर रोक कर बात कर ली जाए और थोड़ा सा नयन सुख भोग लिया जाए। मैं अभी कुछ सोच ही रहा था कि उसका कुत्ता कुछ सूंघते हुए भों-भों करता मेरी ओर आने लगा।

“नो शुकु! नो!” सुहाना ने इसके गले से बंधी जंजीर से उसे अपनी ओर खींचा।

आज जिन्दगी में पहली बार मैंने सुहाना को इतनी नजदीक से देखा था और उसकी आवाज सुनी थी। आह … कितनी कोमल और सुरीली आवाज थी। जैसे कोई कोयल अमराई में कूकी हो या किसी ने जलतरंग पर कोई मीठी धुन छेड़ दी हो।

पर साले इस पिल्ले को उसकी नज़ाकत का अंदाज़ा कहाँ था? गौरी ने एक बार मुझे बताया था कि इस कुत्ते का नाम शाहरुख खान रखा हुआ है और ये लोग प्यार से इसे ‘शुकु’ बुलाते हैं।

इतने में अचानक कहीं से एक आवारा कुत्ता जोर से भोंकते हुए सुहाना और शुकु की ओर झपटा। उसने पहले तो एक झपट्टा शुकु की ओर मारा और फिर सुहाना के घुटनों और जाँघों पर पंजा मार दिया।
इस अप्रत्याशित घटना से उसके हाथ से जंजीर छूट गई और शुकु खान मियाँ प्यों-प्यों करते हुए कार के नीचे दुबक गए। इस आपाधापी में सुहाना के हाथ में पकड़ा टेनिस बैट भी गिर गया।

सुहाना की डर के मारे चीख सी निकल गयी- मम्मीईई ईईईइ …
उसकी घिग्गी सी बंध गई और वह दौड़ कर मेरे से लिपट गई।

यह सब घटनाक्रम इतनी तेजी से हुआ था कि एक पल के लिए तो मुझे भी कुछ समझ नहीं आया कि यह सब क्या हो गया है।
मुझे तो तब ध्यान आया जब उसने कसकर मुझे पकड़ लिया और उसके दोनों उरोज मेरे सीने से आ लगे। उसकी गर्म साँसें मेरे गले पर महसूस होने लगी थी। उसके दिल की धड़कन इतनी तेज थी कि मैं उसे साफ सुन सकता था।

मैंने अपने एक हाथ से सुहाना की कमर को पकड़े अपने सीने से लगाए रखा और दूसरे में पकड़े बैग से उस कुत्ते को मारते हुए हटाया। इस आपा-धापी में मेरे हाथ में पकड़ा बैग भी गिर गया फिर मैंने ‘हट! हट!’ करते हुए उस कुत्ते को थोड़ा हड़काया।
बैग की मार और उसके गिरने से वह कुत्ता भाग गया।

अब मुझे सुहाना का ख़याल आया। सुहाना अभी भी सुबक रही थी। मैंने धीरे से उसे पुचकारा- अरे कुछ नहीं हुआ डरो नहीं, तुम तो बहादुर लड़की हो.
मेरा एक हाथ उसकी कमर पर था और मेरा दूसरा हाथ अपने आप उसके खरबूजे जैसे नितम्बों पर सरक गया।

हे भगवान् कितनी मादकता भरी हुई थी इन दो गुदाज़ गुम्बदों में। उसके कमसिन और अल्हड़ बदन से पसीने और किसी बॉडी स्प्रे (परफ्यूम) की मिली जुली खुशबू मेरे नथुनों में समा गई। मिक्की और सिमरन के बाद कोई किशोरी लड़की आज मेरे बाहुपाश में सिमटी हुई थी।
मैं सोच रहा था काश! वक़्त थम जाए और मैं सुहाना को इसी तरह अपने आगोश में लिए बाकी की जिन्दगी बिता दूं!

“बस … बस … डरो नहीं यू आर अ ब्रेव गर्ल!” मैंने उसके गालों पर लुढ़क आये आंसुओं को पोछा और फिर उसके गालों पर थपकी सी लगाई।

रुई के फोहे जैसे नर्म गुलाबी गालों पर किसी शबनम की बूंदों की तरह लुढ़क आये आंसू तो रुकने का नाम ही नहीं ले रहे थे। उसके लाल गुलाबी फड़कते होंठ जैसे संतरे की फांक हों। मैं सच कहता हूँ मेरा मन तो उनपर एक चुम्बन ले लेने का करने लगा था।

इतने में आस पास के लोग शोर सुनकर आ धमके। सभी पूछने लगे ‘क्या हुआ? क्या हुआ?’
“कुछ नहीं वो … वो … कुत्ते के कारण थोड़ा डर गई है।”

इतने में संजीवनी बूंटी (सुहाना की मम्मी श्री) आ गई। वह भी थोड़ा घबराई हुई थी। अपनी माँ को देखकर सुहाना मेरी बांहों से निकल कर अपनी मम्मी से जा लिपटी और जोर-जोर से रोने लगी।

“की होलो बेबी?” (क्या हुआ बेबी) शायद उसने बंगाली भाषा में पूछा था।
“से … से … कुकुरा” (वो… वो… डॉगी?)
“आपनी कोथा ओ बीतेंन ना? दिखाबे ना?” (कहीं काट तो नहीं लिया? दिखाओ?” संजया ने घबराए हुए फिर पूछा।

फिर संजया ने उसकी स्कर्ट को थोड़ा ऊपर करते हुए उसके घुटनों और जाँघों को देखा। पता चला कुत्ते के पंजों से सुहाना के घुटनों और जाँघों पर खरोंच सी आयी है और उससे खून भी निकल रहा है। हे भगवान्! रोम विहीन, नर्म, मुलायम, भरी-पूरी पुष्ट स्निग्ध जांघें जैसे उनपर गुलाब का मुलम्मा (परत) चढ़ा हो। जाँघों के संधि स्थल का उभरा हुआ भाग तो जैसे स्पर्श और चुम्बन का का निमंत्रण ही दे रहा था। मैं सच कहता हूँ ऐसी खूबसूरत जांघें तो सिमरन की भी नहीं थी।

“ओह… कामता बा नाखा थेके?” (ओह… मुंह से काटा या पंजों से?)
“आमि … जानि ना?” (मुझे… पता नहीं?)
“ओह… गोड अब क्या होगा? वो मिस्टर बनर्जी भी यहाँ नहीं हैं?” संजया ने बेचारगी से मेरी ओर देखा।
“क… कोई बात नहीं … मैम … आप चिंता ना करें। मैं हूँ ना? गाड़ी निकालता हूँ, अभी डॉक्टर को दिखा देते हैं।” मैंने उसे दिलासा देते हुए कहा।

“नो… मोम… आमि इंजेक्शन पाबेना ना.” (नो… मोम… मैं इंजेक्शन नहीं लगवाऊँगी.) कहकर सुहाना फिर जोर-जोर से रोने लगी।
“इट्स ओके बेबी… प्लीज… कूल डाउन” (ठीक है बेटा … हौसला रखो)

और फिर सुहाना को पास के नर्सिंग होम में दिखाया। डॉक्टर ने अपना उपचार कर दिया था। वापस लौटते समय संजया तो आज संजीवनी बूंटी के स्थान पर शहद की डली ही बन गई थी। उसने हाथ मिलाते हुए इस आपात स्थिति में किये गए इस सहयोग के लिए मेरा धन्यवाद किया और मुझे ‘कभी घर आने का न्योता’ भी दिया।

जिस प्रकार से उसने ‘कभी घर आने का’ न्योता दिया था मैं बाद में कई दिनों तक इस मनुहार भरे न्योते पर गंभीरता पूर्वक विचार करता रहा था। अलबत्ता अगले 5-6 दिन टूअर के चुतियापे में ही निकल गए।

दोस्तो! आप क्या सोचते हैं संजवानी बूंटी ने शिष्टाचारवश (औपचारिकता) ऐसा कहा था या कोई और बात हो सकती है? आप मुझे मेल करेंगे तो मुझे बड़ी ख़ुशी होगी।

मैं जब टूअर से वापस आया तब तक कई चीजें बदल गई थी। मधुर का पुत्रयेष्टि प्रोग्राम शुरू हो चुका था। उसने पास के मंदिर में रोज सुबह-शाम एक-एक घंटे शुक्र के पाठ करने शुरू कर दिए थे और दिन में केवल एक बार हल्का भोजन लेकर व्रत भी करने चालू कर दिए थे। पिछले 5-7 दिनों से शुद्धता की तो वैसे भी कोई समस्या थी ही नहीं और अब उसकी हिटलरशाही के सामने मेरी औकात और हिम्मत उसे अशुद्ध करने की कहाँ थी। हमारे बेडरूम में ही उसने अपने सोने के लिए एक फोल्डिंग बेड अलग से डाल लिया था। शाम को नियमित रूप से गौरी को पढ़ाना भी चालू हो गया था।

ऑफिस में बहुत दिनों बाद कोई ढंग की लड़की ने ज्वाइन किया है। भरी हुई मांग और माथे की बिंदी दर्शाती है कि नई-नई शादी हुई है। रंग रूप तो ठीक-ठाक है पर उसकी लगभग 36-24-36 की फिगर दिलकश ही नहीं जानलेवा है। चलते समय जिस प्रकार उसके नितम्ब थिरकते हैं आप जैसे अनुभवी लोग अच्छी तरह समझ सकते हैं कि यह साली गांड बाजी का मज़ा जरूर लेती होगी वरना इतने खूबसूरत नितम्बों का क्या फायदा।
भोंसले एक हफ्ते के लिए पूना गया हुआ है तो ऑफिस में शांति का माहौल है।

ओह … मैं भी क्या फजूल की बातें ले बैठा। मैं गौरी के बारे में तो बताना ही भूल गया!
गुलाबो की तबियत अब सुधरने लगी थी तो गौरी वापस आ गई है।

गौरी का तो रंग रूप ही निखर सा गया है। अगर मैं कहूं कि अब तो वह रूपगर्विता बन गई है तो अतिशयोक्ति नहीं होगी। अब उसे अपनी सुन्दरता का अहसास होने लगा है और थोड़ी नाजुकी के साथ नखरे भी आने लगे हैं। अब यह उस चुम्बन का असर है या कोई दीगर बात है पता नहीं?

लगता है मधुर ने उसे सजना संवारना सिखा दिया है। वैसे भी नखरे तो जवान लड़की अपने आप सीख ही लेती हैं। कमर तक झूलते बालों को थोड़ा सा ट्रिम करवा दिया है और अब चोटी के बजाय बाल खुले रखने लग गई है। शर्ट या कुर्ते के ऊपर के बटन खुले रखने में अब वो ज्यादा नहीं शर्माती है। माथे पर एक छोटी से लाल बिंदी, कानों में सोने की छोटी-छोटी बालियाँ। साली पूरी मुज्जसमा बनी है।

दोस्तो! आप जरूर सोच रहे होंगे इन छोटी-छोटी बातों का यहाँ लिखने का क्या औचित्य है? क्यों हमारे और अपने लंड को तड़फा रहे हो? साली को पकड़ कर रगड़ क्यों नहीं देते? एक बार थोड़ा सा कुनमुनाएगी और बाद में अपने आप समर्पण कर देगी।
अब वो इतनी लोल भी नहीं है कि तुम्हारी मनसा और नियत अबतक ना समझ पायी हो। स्त्री तो एक नज़र में ही आदमी की नीयत और मनसा दोनों जान लेती है। और फिर अब इस इश्क की आग तो वह भी झेल ही रही होगी।
उसने जिस प्रकार उस दिन चुम्बन में इतनी दिलचस्पी दिखाई थी लगता है अब उससे अपनी जवानी का बोझ संभाला नहीं जा रहा है। तुम मानो या ना मानो उसके मन में भी प्रेम अंकुरित हो चुका है और वह भी इस नैसर्गिक सुख को भोग लेने के लिए उत्सुक और बेजार (आतुर) हो चुकी है। क्यों बेचारी कमसिन बुर को तड़फा रहे हो?

आप अपनी जगह सही हो सकते हैं पर मेरी सोच अलग है। मैं जानता हूँ वह मानसिक रूप से अपने आप को इसके लिए तैयार कर चुकी है। अगर मैं उसे बांहों में भरकर प्रणय निवेदन करूं तो उसके लिए मना करना अब संभव नहीं होगा। वह बहुत ही कम समय में अपना सर्वस्व मुझे बेझिझक सौम्प देगी। वह इस समय तन और मन की एक अजीब सी कश्मकश (धर्मसंकट) में फंसी है। उसका तन इस नैसर्गिक आनंद को भोग लेना चाहता है पर उसका अवचेतन मन और संस्कार उसे ऐसा करने से रोके हुए हैं।

मेरे प्रिय पाठको! आप नारी मन के अन्तःकरण में छिपी भावनाओं को नहीं समझ सकते? मेरी पाठिकाएं इसे बखूबी जानती और समझती हैं। स्त्री जब किसी से प्रेम करती है तो उसमें अपने प्रेमी को अपना सब कुछ सौम्प देने की चाहत सर्वोपरि होती है जबकि पुरुष के मन में प्रथम ख़याल सिर्फ उसे भोग लेने का रहता है। वह सब कुछ पा लेने की चाहत रखता है और स्त्री अपनी सबसे बड़ी ख़ुशी अपने प्रेमी की चाहत को परिपूर्ण करने में महसूस करती है। एक स्त्री और पुरुष की भावनाओं में यही बुनियादी फर्क है।

दोस्तो! मैं गौरी को भोगना तो जरूर चाहता हूँ क्योंकि यह तन और मन दोनों की ही आवश्यकता है। पर मैं इसके लिए किसी भी प्रकार की जोर-जबरदस्ती या जल्दबाजी के पक्ष में बिलकुल नहीं हूँ। मैं कोई उज्जड़, जंगली, गंवार, वहशी या अमानुष व्यक्ति नहीं हूँ जो किसी भी प्रकार का बलात्कार जैसा कृत्य करने पर आमादा हो। मैं तो गौरी के साथ अपने प्रथम मिलन को एक मिसाल और यादगार बनाना चाहता हूँ। मैं चाहता हूँ उसे अपने प्रथम चुम्बन की तरह प्रथम मिलन के अनुभव की स्मृतियाँ भी जीवनपर्यंत रोमांचित करती रहें। और एक सबसे अहम् (विशेष) बात यह भी है कि जब भी वह मेरी पूर्ण समर्पिता बने उसके मन में लेश मात्र भी शंका, झिझक, अपराधबोध महसूस ना हो और ना ही उसके बाद भी पश्चाताप की कोई गुंजाइश ना रहे।

ओह… मैं भी कहाँ दार्शनिक बातें ले बैठा? आइए ‘गौरी फ़तेह अभियान’ का अगला सोपान को शुरू करते हैं। हे लिंगदेव! इस बार इस अभियान के बाकी के सोपान (पायदान) निर्विघ्न सम्पूर्ण कर देना।

प्यारी पाठिकाओ! क्या आप आमीन (तथास्तु) नहीं बोलेंगी???
कहानी जारी रहेगी.
Nice
 

Lutgaya

Active Member
Messages
1,723
Reaction score
3,893
Points
143

Radika Thakur

New Member
Messages
57
Reaction score
137
Points
33
लव यू कम्मों

मैं उन दिनों गांव में अपनी दीदी के घर आया हुआ था. उनके पास काफ़ी जमीन थी, जीजा की उससे अच्छी आमदनी थी. उनकी लड़की कमली भी जवान हो चली थी. कमली बहुत तेज लड़की थी, बहुत समझदार भी थी. मर्दों को कैसे बेवकूफ़ बनाना है और कौन सा काम कब निकालना है वो ये अच्छी तरह जानती थी.

एक दिन सवेरे जीजू की तबीयत खराब होने पर उन्हें दीदी शहर में हमारे यहाँ पापा के पास ले गई. हमारे गांव से एक ही बस दोपहर को जाती थी और वही बस दूसरे दिन दोपहर को चल कर शाम तक गांव आती थी.

कमली और मैं दीदी और जीजू को बस पर छोड़ कर वापस लौट रहे थे. मुझे उसे रास्ते में छेड़ने का मन हो आया. मैंने उसके चूतड़ पर हल्की सी चिमटी भर दी. उसने मुझे घूर कर देखा और बोली- खबरदार जो मेरे ढूंगे पर चिमटी भरी…’

‘कम्मो, वो तो ऐसे ही भर दी थी… तेरे ढूंगे बड़े गोल मटोल है ना…’
‘अरे वाह… गोल मटोल तो मेरे में बहुत सी चीज़ें है… तो क्या सभी को चिमटी भरेगा?’
‘तू बोल तो सही… मुझे तो मजा ही आयेगा ना…’ मैंने उसे और छेड़ा.
‘मामू सा… म्हारे से परे ही रहियो… अब ना छेड़ियो…’
‘कमली! थारे बदन में कांई कांटा उगाय राखी है का’
‘बस, अब जुबान बंद राख… नहीं तो फ़ेर देख लियो…’

उसकी सीधी भाषा से मुझे लगा कि यह पटने वाली नहीं है. फिर भी मैंने कोशिश की… उसकी पीठ पर मैंने अपनी अन्गुली घुमाई. वो गुदगुदी के मारे चिहुंक उठी.

‘ना कर रे… मने गुदगुदी होवे…’
‘और करूँ कई… मने भी बड़ो ही मजो आवै…’ और मैंने उसकी पीठ पर अंगुलियाँ फिर घुमाई. उसकी नजरे मुझ पर जैसे गड़ गई, मुझे उसकी आँखों में अब शरारत नहीं कुछ और ही नजर आने लगा था.
‘मामू सा… मजा तो घणो आवै… पर कोई देख लेवेगो… घरे चाल ने फिर करियो…’

उसे मजा आने लगा है यह सोच कर एक बार तो मेरा लण्ड खड़ा हो गया था. उसका मूड परखने के लिये रास्ते में मैंने दो तीन बार उसके चूतड़ो पर हाथ भी लगाया, पर उसने कोई विरोध नहीं किया.

घर पहुंचते ही जैसे वो सब कुछ भूल गई. उसने जाते ही सबसे पहले खाना बनाया फिर नहाने चली गई. मैंने बात आई गई समझते हुये मैंने अपने कपड़े बदले और बनियान और पजामा पहन कर पढ़ने बैठ गया. पर मन डोल रहा था. बार बार रास्ते में की गई शरारतें याद आने लगी थी.

इतने में कमली ने मुझे आवाज दी- मामू सा… ये पीछे से डोरी बांध दो…’

मैं उसके पास गया तो मेरा शरीर सनसनी से भर गया. उसने एक तौलिया नीचे लपेट रखा था मर्दो वाली स्टाईल में… और एक छोटा सा ब्लाऊज जिसकी डोरियाँ पीछे बंधती हैं, बस यही था. मैंने पीछे जा कर उसकी पीठ पर अंगुलियाँ घुमाई…

‘अरे हाँ मामू सा… आओ म्हारी पीठ माईने गुदगुदी करो… मजो आवै है…’
‘तो यह… ब्लाऊज तो हटा दो!’
‘चल परे हट रे… कोई दीस लेगा!’ उसकी इस हाँ जैसी ना ने मेरा उत्साह बढ़ा दिया.
‘अठै कूण है कम्मो बाई… बस थारो मामू ही तो है ना… और म्हारी जुबान तो मैं बंद ही राखूला!’
‘फ़ेर ठीक है… उतार दे…’

मैंने उसका छोटा सा ब्लाउज उतार दिया. फिर उसकी पीठ पर अंगुलियों से आड़ी तिरछी रेखाएँ बनाने लगा. उसे बड़ा आनन्द आने लगा. मेरा लण्ड कड़क होने लगा.

‘मामू सा, थारी अंगुलियों माणे तो जादू है…’ उसने मस्ती में अपनी आंखें बंद कर ली.

मैंने झांक कर उसकी चूचियाँ देखी. छोटी सी थी पर चुचूक उभार लिये हुये थे. अभी शायद उत्तेजना में कठोर हो गई थी और तन से गये थे. मैंने धीरे से अंगुलियाँ उसके चूतड़ों की तरफ़ बढा दी और उसके चूतड़ों की ऊपर की दरार को छू लिया. उसे शायद और मजा आया सो वह थोड़ा सा आगे झुक गई, ताकि मेरी अंगुलियाँ और भीतर तक जा सके. उसका बंधा हुआ तोलिया कुछ ढीला हो गया था. मैंने हिम्मत करके अपना दूसरा हाथ उसकी पीठ पर सरकाते हुये उसकी चूंचियों की तरफ़ आ गया और उसकी एक एक चूची को सहला दिया. कमली ने मुझे नशीली आंखों से देखा और धीरे से मेरी अंगुलियाँ वहाँ से हटा दी. मैंने फिर से कोशिश की पर इस बार उसने मेरे हाथ हटा दिये.
कुछ असमंजस में मुझे घूरने लगी .
‘बस अब तो घणा होई गयो… अब… अब म्हारी अंगिया पहना दो…’
‘अह… अ हाँ लाओ’

मुझे लगा कि जल्दबाजी में सब कुछ बिगड़ गया. उसने अपने चूतड़ तक तो अंगुलियाँ जाने दी थी… अब तो वो भी बात गई… उसने अपना ब्लाऊज ठीक से पहना और भाग कर भीतर कमरे में बाकी के कपड़े पहनने चली गई.

रात को मैं कमली के बारे में ही सोच रहा था कि वो दरवाजे पर खड़ी हुई नजर आ गई.
‘आओ कम्मो… अन्दर आ जाओ!’ उसकी आँखों में जैसे चमक आ गई. वो जल्दी से मेरे पास आ गई.
‘मामू सा… आपरे हाथ में तो चक्कर है… मने तो घुमाई दियो… एक बार और अंगुलियाँ घुमाई दो!’ उसकी आँखों में लगा कि वासना भरी चमक है. मेर लण्ड फिर से कामुक हो उठा.
‘पर एक ही जगह पर तो मजो को नी आवै… जरा थारे सामणे भी तो करवा लियो…’ मैंने अपनी जिद बता दी. यदि चुदाई की इच्छा होगी तो इन्कार नहीं करेगी. वही हुआ…
‘अच्छा जी… कर लेवो बस…’

उसकी इजाजत लेकर मैंने उसे बिस्तर पर बैठा दिया और अपनी अंगुलियाँ उसके बदन पर घुमाने लगा. उसका ब्लाऊज मैंने उतार दिया और अपनी अंगुलियाँ उसकी चूचियों पर ले आया और उससे खेलने लगा. मेरे ऊपर अब वासना का नशा चढ़ने लगा था. उसकी तो आंखें बंद थी और मस्ती में लहरा रही थी. मेरा लण्ड कड़ा हो कर फ़ूल गया था. जब मुझसे और नहीं रहा गया तो मैंने दोनों हाथों से उसके बोबे भींच डाले और उसे बिस्तर पर लेटा दिया.
‘ये कांई करो हो… हटो तो…’ उसे उलझन सी हुई.
‘बस कमली… आज तो मैं तन्ने नहीं छोड़ूंगा… चोद के ही छोड़ूंगा!’
‘अरे रुक तो… यु मती कर यो… हट जा रे…’ उसका नशा जैसे उतर गया था.
‘कम्मो… तु पहले ही जाणे कि म्हारी इच्छा थारे को चोदवां की है?’
‘नहीं वो आप, मणे अटे दबावो, फ़ेर वटे दबावो… सो मणे लागा कि यो कांई कर रिया हो, फेर जद बतायो कि चोदवा वास्त कर रिओ है तो वो मती करो… माणे अब छोड़ दो… थाने म्हारी कसम है!’

मैंने तो अपना सर पकड़ लिया, सोचा कि मैं तो इतनी कोशिश कर रहा हू और ये तो चुदना ही नहीं चाहती है. मैंने उसका घाघरा और ब्लाऊज उतारने की कोशिश की. पर वो अपने आप को बचाती रही.

‘मामू सा… देखो ना कसम दी है थाणे… अब छोड़ दो!’

पर मेरे मन में तो वासना का भूत सवार था. मैंने उसका घाघरा पलट दिया और उसके ऊपर चढ़ गया और अपने लण्ड को उसकी चूत पर रगड़ने लगा. अब मैंने उसे अपनी बाहों में दबा कर चूमना चालू कर दिया. मेरा लण्ड उसकी चूत पर बहुत दबाव डाल रहा था. छेद पर सेटिंग होते ही लण्ड चूत में उतर गया. कमली ने तड़प कर लण्ड बाहर निकाल लिया.

‘मां… मने मारी नाक्यो रे… आईईई…’ मैंने फिर से उसे दबाने की कोशिश की.
‘देख कमली , थाने चोदना तो है ही… अब तू हुद्दी तरह से मान जा…’
‘और नहीं मानी तो… तो महारा काई बिगाड़ लेगो…’
‘तो फिर ये ले…’ मैंने फिर से जोर लगाया और लण्ड सीधा चूत की गहराईयों में उतरता चला गया…
‘हाय्… मैया री माने चोद दियो रे… अच्छा रुक जा… मस्ती से चोदना!’

मैं एक दम से चौंक गया. तो ये सब नाटक कर रही थी… वो खिलखिला कर हंस पड़ी.
‘कम्मो, जबरदस्ती में जो मजा आ रहा था… सारा ही कचरो कर मारा!’
‘अबे यूं नहीं, म्हारे पास तो आवो, थारा लवड़ा चूस के मजा लूँ… ध्हीरे सू करो… ज्यादा मस्ती आवैगी!’

उसने मुझे अपने पास खींचा और मेरा फ़नफ़नाता हुआ लण्ड अपने मुँह में ले लिया और चूसने लगी. मैं मस्ती में झूम हो गया, मैं अपनी कमर यूं हिलाने लगा कि जैसे उसके मुँह को चोद रहा हूँ. मेरे लण्ड को अच्छी तरह चूसने के बाद अब वो लेट गई. उसने अपनी योनि मेरे मुँह के पास ले आई और अपनी टांगें ऊपर उठा दी… उसकी सुन्दर सी फ़ूली हुई चूत मेरे सामने आ गई. हल्के भूरे बाल चूत के आस पास थे… उसकी चूत गीली थी… मैंने अपनी जीभ उसकी भूरी सी और गुलाबी सी पंखुड़ियों पर गीलेपन पर रगड़ दी, मुझे एक नमकीन सा चिकना सा अहसास हुआ… उसके मुख से सिसकारी निकल गई.
‘आह्ह्ह मामू सा… मजो आ गयो… और करो…’ कमली मस्ती में आ गई.

मैंने अपनी जीभ उसकी गीली योनि में डाल दी. उसकी चूत से एक अलग सी महक आ रही थी. तभी उसका दाना मुझे फ़ड़फ़ड़ाता हुआ नजर आ गया. मैं अपने होठों से उसे मसलने लगा.
‘ओई… ओ… मेरी निकल जायेगी… धीरे से…चूसो…!’ वो मस्ती में खोने लगी थी. हम दोनों एक दूसरे को मस्त करने में लगे थे…
तभी कमली ने कहा- मामू सा लण्ड में जोर हो तो म्हारी गाण्ड चोद ने बतावो!’
‘इसमें जोर री कांई बात है… ढूंगा पीछे करो… और फ़ेर देखो म्हारा कमाल…!’

कम्मो ने पल्टी मारी और बिस्तर पर कुतिया बन गई. उसके दोनों सुन्दर से गोल गोल चूतड़ उभर कर मेरे सामने आ गये. मैंने उन्हें थपथपाया और दोनों चूतड़ हाथों से और अधिक फ़ैला दिए. उसका कोमल सा भूरा छेद सामने आ गया. मैंने पास पड़ी कोल्ड क्रीम उसकी गाण्ड के छेद में भर दिया और अपना मोटा सा लण्ड का सुपाड़ा उस पर रख दिया.

‘मामू सा नाटक तो मती करो… म्हारी गाण्ड तो दस बारह मोटे मोटे लण्ड ले चुकी है… बस चोदा मारो जी… मने तो मस्ती में झुलाओ जी!’

मैं मुस्करा उठा… तो सौ सौ लौड़े खा कर बिल्ली म्याऊँ म्याऊँ कर रही है. मैंने एक ही झटके में लण्ड गाण्ड में उतार दिया. सच में उसे कोई दर्द नहीं हुआ, बल्कि मुझे जरूर लग गई. मैं उसकी गाण्ड में लण्ड अन्दर बाहर करने लगा. मुझे तो टाईट गाण्ड के कारण तेज मजा आने लगा. मेरी रफ़्तार बढ़ती गई.

फिर मुझे उसकी चूत की याद आई. मैंने उसी स्थिति में उसकी चूत में लण्ड घुसेड़ दिया… सच मानो चूत का में लण्ड घुसाते ही चुदाई का मधुर मजा आने लगा. चूत की चुदाई ही आनन्द दायक है… कम्मो को भी तेज मजा आने लगा. वो आनन्द के मारे सिसकने लगी, कभी कभी जोर का धक्का लगता तो खुशी के मारे चीख भी उठती थी. उसके छोटे छोटे स्तनो को मसलने में भी बहुत आनन्द आ रहा था.

‘मामू… ठोको, मने और जोर सू ठोको… म्हारी तो पहले सु ही फ़ाट चुकी है और फ़ाड़ नाको…’
‘म्हारी राणी जी… मजो आ रियो है नी… उछल उछक कर थारे को ठोक दूंगा… पूरा के पूरा लौड़ा पीव लो जी!’
‘मैया री… लौड़ो है कि मोटो डाण्डो लगा राखियो है… मजो आ गियो रे… दे मामू सा…चोद दे!’

मेरा लण्ड उसकी चूत में तेजी से अन्दर बाहर हो रहा था. मेरा लण्ड में अब बहुत तरावट आ चुकी थी. वह फ़ूलता जा रहा था. उसकी चूत की लहरें मुझे महसूस होने लगी थी. उसने तकिया अपनी छाती से दबा लिया और मेरा हाथ वहाँ से हटा दिया.

तभी उसकी चूत लप लप कर उठी… ‘माई मेरी… चुद गई… हाई रे… मेरा निकला… मामू सा… मेरा निकला… गई मैं तो… उह उह उह.’

उसका रज छूट पड़ा. मेरा भी माल निकला हो रहा था. मैंने समझदारी से लण्ड बाहर निकाला और मुठ मारने लगा. एक दो मुठ मारने पर ही मेरा वीर्य पिचकारी के रूप में उछल पड़ा. लण्ड के कुछ शॉट ने मेरा वीर्य पूरा स्खलित कर दिया था. मैं पास ही में बैठ गया.

‘तू तो लगता है खूब चुदी हो…’
‘हाँ मामू सा… क्या करूँ… मेरे कई लड़के दोस्त हैं… चुदे बिना मन नहीं लागे… और वो छोरा… हमेशा ही लौड़ा हाथ में लिये फिरे… फिर चुदने की लग ही जावे के नहीं!’
‘तब तो आपणे घणी मस्ती आई होवेगी…’ मैंने उसकी मस्ती के बारे पूछा.
‘छोड़ो नी, बापु और बाई सा तो काले हाँझे तक आ जाई, अब टेम खराब मती कर… आजा… लग जा… फ़ेर मौका को नी मिलेगा!’ उसके स्वर में ज्वार उमड़ रहा था.

अब हम दोनों नंगे हो कर बिस्तर पर लेट गये थे और प्यार से धीरे धीरे एक दूसरे को सहला रहे थे. जवान जिस्म फिर से पिघले जा रहे थे… जवानी की खुशबू से सरोबार होने लगे थे… नीचे छोटा सा सात इंच का कड़क शिश्न योनि में घुस चुका था. हम दोनों मनमोहक और मधुर चुदाई का आनन्द ले रहे थे. ऐसा लगता था कि ये लम्हा कभी खत्म ना हो… बस चुदाई करते ही जायें…
नयी कहानी जल्दी ही
आपके स्नेह का इन्तजार रहेगा।🙏
Chudi chudai chinaal hi nakhre dikha rhi thi
 

Lutgaya

Active Member
Messages
1,723
Reaction score
3,893
Points
143
Chudi chudai chinaal hi nakhre dikha rhi thi
रंडिया ही चुदवाते समय ज्यादा नखरा दिखाती है राधिका जी
 

Lutgaya

Active Member
Messages
1,723
Reaction score
3,893
Points
143
Top

Dear User!

We found that you are blocking the display of ads on our site.

Please add it to the exception list or disable AdBlock.

Our materials are provided for FREE and the only revenue is advertising.

Thank you for understanding!