Recent content by Lovely Anand

  • You need a minimum of 50 Posts to be able to send private messages to other users.
  • Register or Login to get rid of annoying pop-ads.
  1. L

    Incest आह..तनी धीरे से.....दुखाता.

    अधूरी कहानी अधूरा भाग १२६ सुगना ने जिस संजीदगी से सोनू से प्रश्न पूछा था उसका सच उत्तर दे पाना कठिन था आखिर सोनू किस मुंह से कहता है कि वह अपनी बड़ी बहन की बुर देखना चाह रहा है। सोनू को कोई उत्तर न सूझ रहा था आखिरकार वह अपने हाथ जोड़कर घुटनों के बल जमीन पर बैठ गया..उसका चेहरा सुगना की नाभि...
  2. L

    Incest आह..तनी धीरे से.....दुखाता.

    आप सभी पाठकों को बहुत-बहुत धन्यवाद यह देखने में आया है कि कुछ पाठक आपस में विचार विमर्श करते करते उग्र हो रहे हैं उम्मीद करता हूं यहां आप सब भी आनंद के लिए आते होंगे और कोई भी व्यक्ति यहां से तनाव लेकर जाए यह मुझे भी अच्छा नहीं लगता शब्दों का फेर है कभी भी किसी को कोई बात बुरी लग सकती है यथासंभव...
  3. L

    Incest आह..तनी धीरे से.....दुखाता.

    आप सरयू सिंह के दाग की कहानी भी ध्यान से पड़ेंगे तो आपको अंदाजा होगा कि यह दाग शुरुआत से ही है हां इस भाग के बढ़ने और घटने का क्रम है जो आपको इस कहानी में विधिवत दिखाई पड़ेगा और रही बात सरयू सिंह की जान जाने की वह शायद दाग की वजह से न था अपितु शिलाजीत का आवश्यकता से अधिक सेवन और सुगना के दूसरे...
  4. L

    Incest आह..तनी धीरे से.....दुखाता.

    Thanks Yah baat to sahi hai kabhi Na kabhi sugna ko is bat ka pata jarur chalega ki vah Apne pita se hi vasna ka Sukh le rahi thi...jaane us par kya bitegi... Thanks Welcome ji मुझे तो पता भी नहीं कि आप इंतजार कर रही हैं... अपने पुराने एपिसोड ध्यान से नहीं पढ़े यह दाग सरयू सिंह को भी आया था...
  5. L

    Incest आह..तनी धीरे से.....दुखाता.

    Thanks Aapko kya lagata hai vidhwa to ek hi hai Thanks Thanks Tk इंतजार करिए....
  6. L

    Incest आह..तनी धीरे से.....दुखाता.

    निश्चित ही यह दाग सोनू के जीवन पर असर डालेगा आखिर जिसे सोनू स्वयं प्रतिबंधित मानता था उसे भोगने का फल तो उसे भुगतना ही पड़ेगा... पर अभी उसे न तो इसका इल्म है और न हीं पश्चाताप... जैसे सरयू सिंह सुगना के बारे में जानने के बाद अपनी पश्चाताप की आग से गुजर रहे हैं वैसा कभी न कभी सोनू को भी भुगतना है...
  7. L

    Incest आह..तनी धीरे से.....दुखाता.

    यह दाग कहानी का एक अहम हिस्सा है...और विद्यानंद जो सरयू सिंह के बड़े भाई हैं.उनकी भी कहानी में मुख्य भूमिका है...जुड़े रहे आनद लेते रहें। मैंने पहले भी कहा है पाप पुण्य आपकी सोच पर निर्भर करता है..जो समाज की सोच से भिन्न हो सकता है... मैंने उस समय के समाज की बात कही है.... आप द्वारा दी गई...
  8. L

    Incest आह..तनी धीरे से.....दुखाता.

    आप सभी को धन्यवाद...
  9. L

    Incest आह..तनी धीरे से.....दुखाता.

    थैंक्स.. It is available on index
  10. L

    Incest आह..तनी धीरे से.....दुखाता.

    निश्चित ही इस दाग का संबंध सुगना से ही है... आपने सही पहचाना... लाली और सोनू का मिलन .... वह भी विवाह के रूप में... देखिए क्या होता है जब सोनू इस दाग का रहस्य जानेगा तब ना सोनू और सुगना ने एक ही मां की कोख से जन्म लिया है... अलग-अलग पिता होने के बावजूद उन्हें भाई बहन माना भी जा सकता है और...
  11. L

    Incest आह..तनी धीरे से.....दुखाता.

    भाग 125 अब तक आपने पढ़ा. भाई बहन दोनों एक दूसरे की आगोश में स्वप्नलोक में विचरण करने लगे.. तृप्ति का एहसास एक सुखद नींद प्रदान करता है आज सुगना और सोनू दोनों बेफिक्र होकर एक दूसरे की बाहों में एक सुखद नींद में खो गए। नियति यह प्यार देख स्वयं अभिभूत थी…शायद विधाता ने सुगना और सोनू के जीवन...
  12. L

    Incest आह..तनी धीरे से.....दुखाता.

    थैंक्यू जी...
  13. L

    Incest आह..तनी धीरे से.....दुखाता.

    Thanks अगला अपडेट कहानी को गति प्रदान करेगा और इस कहानी की दशा दिशा तय करेगा... आपके प्रश्नों के लिए धन्यवाद... Thanks Thabks आपकी सराहना के लिए धन्यवाद...आपके सारगर्भित कमेंट पढ़ कर आनंद आता है...जुड़े रहे Thanks धन्यवाद आपकी लेख पसंद आया .. निरुत्तर कर दिया आपने...जुड़े रहें
  14. L

    Incest आह..तनी धीरे से.....दुखाता.

    Thabks True Thanks Jaroor Thanks Okkkkk thanks Thanks
Top

Dear User!

We found that you are blocking the display of ads on our site.

Please add it to the exception list or disable AdBlock.

Our materials are provided for FREE and the only revenue is advertising.

Thank you for understanding!