Abhay Sharma
Reaction score
2,974

Profile posts Postings About

  • ढूढ़ना ही है तो परवाह करने वालों को ढूंढ़िये साहेब,
    इस्तेमाल करने वाले तो ख़ुद ही आपको ढूंढ लेंगे।
    मज़ा देती हैं उनको ज़िन्दगी की ठोकरें मोहसिन,
    जिनको नाम-ए-खुदा लेकर संभल जाने की आदत हो।
    उल्फत बदल गई कभी नीयत बदल गई,
    खुदगर्ज़ जब हुए तो फिर सीरत बदल गई,
    कुछ लोग अपना कसूर दूसरों पे डाल कर,

    ये सोचते हैं कि उनकी हकीक़त बदल गई।
    गुजरे हुए लम्हों में सदियाँ तलाश करता हूँ,
    प्यास गहरी है कि नदियाँ तलाश करता हूँ,
    यहाँ सब लोग गिनाते है खूबियां अपनी,

    मैं अपने-आप में कमियाँ तलाश करता हूँ।
    मुझको मेरे वजूद की हद तक न जानिए,
    बेहद हूँ बेहिसाब हूँ बेइन्तहा हूँ मैं।
    लहरों को साहिल की दरकार नहीं होती,
    हौसला बुलंद हो तो कोई दीवार नहीं होती,
    जलते हुए चिराग ने आँधियों से ये कहा,

    उजाला देने वालों की कभी हार नहीं होती।
  • Loading…
  • Loading…
Top

Dear User!

We found that you are blocking the display of ads on our site.

Please add it to the exception list or disable AdBlock.

Our materials are provided for FREE and the only revenue is advertising.

Thank you for understanding!